Cart
cload
Checkout Secure
Welcome to Vedobi Store Mail: care@vedobi.com Call Us: 1800-121-0053 Track Order

सेब के फायदे, उपयोग और नुकसान

By Anand Dubey June 22, 2021

सेब के फायदे, उपयोग और नुकसान

सेब सबसे ज्‍यादा लो‍कप्रिय, स्वादिष्ट और पौष्टिक फलों में से एक है। इसलिए इसकी पौष्टिकता और सेहदमंद फायदों पर आधारित एक कहावत बेहद मशहूर है- 'एन एप्पल ए डे कीप्स द डॉक्टर अवे' (An apple a day keeps doctor away) यानि अगर एक सेब प्रतिदिन खाया जाए तो डॉक्टर की जरूरत नहीं पड़ेगी। कच्ची अवस्था में सेब हरे रंग और स्वाद में खट्टा होता है। जोकि पक जाने पर लाल और मीठा हो जाता है। सेब का पेड़ लगभग 3 से 7 मीटर तक ऊंचा होता है। इसकी छाल भूरे रंग की होती है। इसके फूल गुलाबी से सफेद रंग या लाल के रंग के होते हैं। यह मांसल और लगभग गोलाकार होता है। सेब में उपयोगी एंटीऑक्सिडेंट, फ्लैनोनोड्स (flavonoids) और फाइबर बहुत अधिक मात्रा में होते हैं। सेब में पॉलिफेलोल (polyphenols) भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। जो सेब के गूदे और छिलके दोनों में पाया जाता है। यह शरीर में एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करते हैं। वैज्ञानिक भाषा में इसे ‘मेलस डोमेस्टिका’ (Melus domestica) कहते हैं।

सेब को एंटी-एजिंग फल माना जाता है। इसके अलावा सेब में ढेर सारा क्वेरसेटिन होता है। जो मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर करने में मदद करता है। सेब से त्वचा सुंदर, मुलायम और चमकदार बनती है। सेब में प्रचुर मात्रा में एंथोसायनिन और टैनिन होता है। इस फल में खूब विटामिन, फाइबर और अन्य पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं। जिनमें भरपूर औषधीय गुण पाए जाते हैं। सेब खाने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है और दिल दुरुस्त रहता है। यह दांतों को भी मजबूती देता है। कैंसर से बचाने और डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए भी सेब लाभकारी है।

सेब के फायदे;

हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक है सेब-

सेब हृदय को स्वस्थ रखने में बेहद लाभदायक होता है। इसमें विविध प्रकार के फायटोन्यूट्रियन्ट्स पाए जाते हैं। जो हृदय प्रणाली की रक्षा करने में सक्षम होते हैं। यह हृदय पर ऑक्सीडेशन से होने वाली क्षति पर रोक लगा कर हृदय रोगों को बढ़ने से पहले ही रोक देते हैं। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को घटाते हैं और शुगर की मात्रा को भी कंट्रोल में रखते हैं। इस रूप में सेब रक्त के नियमित प्रवाह को बनाए रखने में भी अत्यंत सहायक है।

हड्डियों को मजबूत बनाता है सेब-

कैल्शियम उन प्रमुख पोषक तत्वों में से एक है। जो हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाता है। चूंकि सेब कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। इसलिए इसमें मौजूद कैल्शियम, ऑस्टियोपोरोसिस और रूमेटोइड गठिया जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट (antioxidants) भी निहित होते हैं। जो हड्डियों को मजबूती प्रदान करते हैं। सेब की त्वचा में पाए जाने वाला फेवोनोइड फ्लोरिज़िन ( favanoid phlorizin), रजोनिवृत्ति से जुड़ी हड्डियों की समस्या को भी रोकने में मदद करता है। इसके अलावा सेब का सेवन शरीर में सूजन और मुक्त कणों के उत्पादन को भी रोकता है। जो हड्डियों को नुकसान पहुंचाते हैं।

मजबूत एवं सफेद दांतों के लिए फायदेमंद है सेब-

सेब पानी और फाइबर का एक अच्छा स्रोत है। जो शरीर की आंतरिक सफाई करने का काम करता है। इसमें मैलिक एसिड (malic acid) होता है। जो लार के उत्पादन को बढ़ाता है। जिससे मुंह के बैक्टीरिया हट जाते हैं। सेब दांतों का पीलापन दूर करने एवं उन्हें स्वस्थ रखने में अत्यंत लाभदायक होता है। सेब को चबाकर खाने से दांत सफेद हो सकते हैं। सेब में विटामिन और खनिज की अच्छी मात्रा होती है। जो दांतों को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। वहीं, सेब में मौजूद फाइबर मसूड़ों के स्वास्थ्य में भी सुधार करता है।

अस्थमा से बचाव में सहायता करता है सेब-

सेब में फ्लैवोनॉइड्स एवं फेनालिक एसिड होता है। जो वायुयान में यात्रा करने पर फेफड़ों में आने वाली सूजन को कम करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ बनाता है। इसके अलावा सेब अस्थमा पीड़ित रोगी को भी स्वतंत्र रूप से सांस लेने में सहायता करता है।

मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है सेब-

सेब का रस उम्र के साथ बढ़ने वाले मानसिक रोगों के लिए भी प्रभावशाली होता है। एक शोध के अनुसार ऐसा पाया गया कि सेब का रस मस्तिष्क में ऑक्सीजन को बढ़ाने और मानसिक कमजोरी को कम करने का काम करता है। सेब अल्जाइमर (Alzheimer) यानि भूलने की बीमारी में भी बहुत लाभदायक माना गया है। इसके अलावा सेब में क्वैरसैटिन (quercetin) भी होता है। जो दिमाग को तेज करने और उसकी कोशिकाओं को स्वस्थ बनाने का काम करता है।

स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के लिए फायदेमंद है सेब-

सेब में पाए जाने वाला पेक्टिन (pectin) इन्सुलिन के उत्पादन को नियंत्रित कर स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल बनाए रखने में मदद करता है। पेक्टिन फाइबर और अन्य घटक जैसे एंटीऑक्सीडेंट पॉलीफेनॉल (antioxidant polyphenols) को "खराब" (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए प्रभावशाली माना जाता है। क्योंकि यह धमनियों को सख्त होने से रोकता है। वहीं, हृदय की मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाने के खतरे को भी कम करता है। सेब में मौजूद घुलनशील फाइबर शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। जिससे हृदय रोग का खतरा कम हो जाता है।

कैंसर से बचाव में असरदार है सेब- 

सेब एंटीओक्सीडेंट्स एवं फायटोकैमिकल्स का एक समृद्ध स्रोत है। कैंसर को शरीर पर कब्जा करने एवं ट्यूमर के विकास को रोकता है। साथ ही कैंसर की कोशिकाओं (cancer cells) को नष्ट भी करता है। सेब पेट, स्तन, जिगर और फेफड़ों के कैंसर को रोकने में विशेष रूप से फायदेमंद है। अमेरिका इन्स्टिट्यूट ऑफ कैंसर के अनुसार रोजाना एक सेब खाने से स्तन कैंसर (breast cancer) की आशंका को 23% तक रोका जा सकता है। सेब अपने एंटीऑक्सीडेंट और सूजन कम करने वाले गुणों की वजह से कैंसर के खतरे को कम करता है।

मधुमेह की समस्याओं का इलाज है सेब-

सेब न केवल रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रण में रखता है। बल्कि शुगर होने की संभावना को भी कम करता है। सेब पाचन प्रक्रिया और कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण (carbohydrate absorption) को प्रभावित करता है। यह रक्त प्रवाह में सुधार लाता है और इंसुलिन के उत्पादन को भी बढ़ाता है।

वजन घटाने में लाभदायक है सेब-

सेब में कैलोरी कम होती हैं। परन्तु यह फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है। चूंकि सेब में कोई फैट नहीं होता है। इसलिए अधिक वजन वाले लोगों को इसका सेवन जरूर करना चाहिए। फाइबर से समृद्ध होने के कारण, यह पेट को भरा हुआ महसूस कराता है और ज्यादा खाना खाने की आदत को कम करता है। इस प्रकार यह वजन कम करने में भी मदद करता है।

सेब के उपयोग-

  • सेब को सीधे तौर पर या काटकर खाया जाता है। स्वाद के लिए कुछ लोग इस पर काला नमक लगाकर खाना भी पसंद करते हैं।
  • सेब को अन्य फलों के साथ फ्रूट सलाद के रूप में खाया जाता है।
  • सेब का जूस निकालकर भी पिया जाता है।
  • सेब की स्मूदी बनाकर भी सेवन किया जाता है।
  • सेब का उपयोग एप्पल पाई, केक, फ्रूट कस्टर्ड, डोनट और एप्पल फ्रेंच टोस्ट बनाने में भी किया जाता है।

सेब के नुकसान-

कुछ लोगों को कुछ फलों के पराग (Pollen) से भी एलर्जी हो सकती है। जिसे चिकित्सकीय भाषा में पोलेन एलर्जी कहा जाता है। कई लोगों को सेब का अधिक सेवन करने से यह एलर्जी हो जाती है, जिसके लक्षण कुछ इस प्रकार हो सकते हैं-

  • होठों में सूजन
  • जीभ में सूजन
  • गले में सूजन
  • हे फीवर (एक प्रकार की एलर्जी। जिसमें आंखों और नाक से पानी आता है। साथ ही खुजली भी होती है)

Older Post Newer Post

Newsletter

Categories

Added to cart!
Welcome to Vedobi Store You're Only XX Away From Unlocking Free Shipping You Have Qualified for Free Shipping Spend XX More to Qualify For Free Shipping Sweet! You've Unlocked Free Shipping Free Shipping When You Spend Over $x to Welcome to Vedobi Store Sweet! You’ve Unlocked Free Shipping Spend XX to Unlock Free Shipping You Have Qualified for Free Shipping