Cart
जानें, चावल भूसी का तेल और इसके फायदों के बारे में

जानें, चावल भूसी का तेल और इसके फायदों के बारे में

24 May, 2022

चावल व्यापक रूप से उपलब्ध और लोकप्रिय खाद्य पदार्थों में से एक है। चावल की भूसी का तेल चावल के अंदर के छिलकों से निकाला गया तेल होता है। इस तेल को विलायक प्रक्रिया (solvent process) से या सीधा चावल की भूसी को दबाकर निकाला जाता है। आम बोलचाल की भाषा में चावल की भूसी के तेल को “राइस ब्रान ऑयल” के नाम से जाना जाता है। देखने में चावल भूसी का तेल बिल्कुल मूंगफली तेल की तरह होता है, लेकिन इसके फायदे मूंगफली की तुलना में अधिक हैं। राइस ब्रान ऑयल में विटामिन-ई, प्रोटीन और फैटी एसिड पाए जाते हैं। इसलिए इसका उपयोग शारीरिक स्वास्थ्य के रूप में, आयुर्वेदिक दवाओं के रूप में, खाद्य पदार्थ के रूप में और सौंदर्य उपचार के रूप में किया जाता है। खाना पकाने के अन्य तेलों की तुलना में यह तेल सस्ता है और भारत में इसका उत्पादन किया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम 'ओरिज़ा सैटिवा' है। इन्हीं गुणों की वजह से बहुत से एशियाई देशों में इसका इस्तेमाल कुकिंग ऑयल के तौर पर किया जाता है। यह विशेष रूप से बांग्लादेश, भारत, जापान और चीन में लोकप्रिय खाना पकाने का तेल है।

 

चावल भूसी तेल के फायदे-

चावल भूसी तेल के एक नहीं अनेक फायदे होते हैं। जिन्हें हम स्वास्थ्य के आधार पर, त्वचा के आधार पर, बालों के आधार पर देख और समझ सकते हैं। इस तेल में मौजूद एंटीसेप्टिक, एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी माइक्रोबियल आदि गुण स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होते हैं। इसी वजह से इस तेल का इस्तेमाल टूथपेस्ट, खाद्य पदार्थ और आयुर्वेदिक दवाइयों में किया जाता है। इस तेल का प्रयोग चेहरे के मुंहासे और दाग-धब्बों को हटाने अर्थात फेस को साफ करने के लिए भी किया जाता है। इसके अतिरिक्त गिरते बालों को रोककर, उन्हें घना और खूबसूरत बनाने के लिए भी चावल की भूसी तेल का इस्तेमाल किया जाता है। आइए जानते हैं चावल की भूसी तेल के कुछ फायदों के बारे में;

 

सेहत हेतु चावल भूसी तेल के फायदे-

कोलेस्ट्रॉल का स्तर संतुलित करने में मददगार-

ओमेगा 3 फैटी एसिड और फाइटोस्टेरॉल से समृद्ध, चावल की भूसी का तेल शरीर में इष्टतम कोलेस्ट्रॉल स्तर को बनाए रखने में सहायक होता है। साथ ही उपचार के लिए शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल स्तर (एचडीएल) को बढ़ाते हुए खराब कोलेस्ट्रॉल स्तर (एलडीएल) को कम करने और इसके अवशोषण को बाधित करने में मदद करता है। इसके अलावा चावल की भूसी तेल में ऑरिजोनाल पाया जाता है जो शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। यह एक स्वस्थ हृदय के लिए जरूरी होता है।

 

प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में कारगर-

चावल की भूसी तेल में पर्याप्त मात्रा में विटामिन-ई होता है। इस तेल के सेवन से शरीर की इम्यूनिटी में सुधार होता है। यह तेल एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि के रूप में काम करता है। इसमें पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड होने के यह बॉडी को ऑक्सीकरण से भी बचाता है। इसलिए चावल की भूसी के तेल को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए।

 

मधुमेह के लिए लाभदायक-

चावल की भूसी तेल को डायबिटीज से जुड़ी समस्याओं का समाधान करने के लिए भी जाना जाता है। क्योंकि कई शोध से पता चलता है कि डायबिटीज में इस तेल का सेवन करने से लगभग 30% ब्लड ग्लूकोज कम होता है। चावल की भूसी का तेल शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मददगार साबित होता है। इसके अलावा चावल की भूसी तेल में मौजूद मैग्नीशियम कार्बोहाइड्रेट चयापचय को नियंत्रित करता है। इस तरह से डायबिटीज के लक्षणों को कम करने के लिए नियमित रूप से चावल के भूसी तेल का सेवन खाद्य पदार्थों के द्वारा किया जा सकता है।

 

ओरल हेल्थ के लिए-

चावल की भूसी तेल में एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी-फंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो मुंह में संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया के विकास को धीमा करके मुंह को लंबे समय तक साफ-सुथरा और ताजा रखते हैं। इसके लिए राइस ब्रान ऑयल की थोड़ी मात्रा मुंह में लेकर थोड़ी देर बाद कुल्ला करें। ऐसा करने से मुंह से आ रही दुर्गंध की समस्या दूर हो जाती है।

 

कैंसर को रोकने में सहायक-

चावल की भूसी के तेल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर विरोधी गुण प्रदर्शित करते हैं। साथ ही यह तेल हानिकारक या बाहरी जोखिम पैदा करने वाले कैंसर से शरीर की रक्षा करने में मदद करता है। इस प्रकार एंटीऑक्सीडेंट विभिन्न प्रकार के कैंसर जैसे प्रोस्टेट और स्तन कैंसर के इलाज और रोकथाम में प्रभावी रूप से सहायक होता है।

 

एलर्जी और इन्फेक्शन हेतु-

चावल की भूसी का तेल कई प्रकार की एलर्जी और इनफ़ेक्शन को दूर करने में मदद करता है। राइस ब्रान ऑयल में मौजूद हाइपोलर्गेनिक एलर्जी को कम करने का काम करता है जो अन्य वानस्पतिक तेल में नहीं पाया जाता है। इसलिए चावल की भूसी के तेल में पके हुए भोजन से किसी भी प्रकार का एलर्जी और इंफेक्शन नहीं होता है। इसके अलावा इसे नियमित इस्तेमाल करने से शरीर में अन्य तरह के एलर्जी की प्रतिक्रिया को भी शांत करता है।

 

पाचन शक्ति बढ़ाने हेतु-

चावल की भूसी के तेल का प्रयोग पाचन तंत्र को बेहतर कर दस्त, गैस, कब्ज जैसी पेट संबंधी समस्याओं का इलाज करने में सहायक होता है। इसमें फाइबर उच्च मात्रा में पाया जाता है, जो पाचन में सुधार करता है। इसके अलावा चावल भूसी के तेल का इस्तेमाल इर्रिटेबल बॉउल सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome) के उपचार हेतु भी किया जाता है।

 
 

त्वचा और बाल हेतु चावल भूसी का तेल-

स्वस्थ और दमकती त्वचा बनाए रखना-

चावल की भूसी में जिंक और विटामिन ई जैसे शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो त्वचा पर चमत्कारी प्रभाव डालते हैं। यह त्वचा को भीतर से साफ करने और त्वचा की टोन को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके अलावा चावल भूसी का तेल शरीर में हार्मोनल संतुलन बनाए रखने और त्वचा को दोष रहित बनाने के लिए फुंसियों और मुंहासों को रोकने में सहायता करता है।

 

त्वचा का रंग साफ़ करने के लिए -

कई बार धूप और यूवी किरणों के कारण त्वचा का रंग काला पड़ने लगता है। ऐसे में चावल भूसी का तेल इस्तेमाल करना त्वचा के लिए अच्छा होता है। क्योंकि इस तेल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट अत्यधिक यूवी किरणों से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। इसके अलावा चावल भूसी का तेल विटामिन ई का एक उत्कृष्ट स्रोत है। जो डिपिगमेंटेशन और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करने और त्वचा का रंग साफ करने में सहायता करता है। इसके लिए चावल भूसी तेल की कुछ बूंदों को हथेली में लेकर चेहरे और स्किन की अच्छे से मालिश करें।

 

एंटी एजिंग प्रभाव कम करने के लिए-

चावल की भूसी के तेल में विटामिन-ए पाया जाता है। जो झुर्रियों और महीन रेखाएं जैसे बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में सहायता करता है। इसके लिए चावल भूसी तेल की कुछ बूंदों को हथेली में लेकर चेहरे और स्किन की अच्छे से मालिश करें।

 

बालों को पोषण देने में-

चावल की भूसी का तेल विटामिन ए, ई, ओमेगा 3 और 6 जैसे आवश्यक फैटी एसिड जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। जो बालों को मजबूत और स्वस्थ तनाव पैदा करने में मदद करता है। यह शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट बाल और त्वचा को पोषण और मॉइस्चराइज करने में मदद करते हैं। क्षतिग्रस्त बालों की मरम्मत करने में चावल भूसी का तेल सहायक होता हैं। साथ ही यह तेल सिर पर खुजली, परतदारपन और रूसी का भी इलाज करता है। इस तेल का नियमित इस्तेमाल करने से बाल घने, मजबूत और लंबे होते हैं। ध्यान रखें इसका प्रयोग बाल धोने से पहले, हल्के हाथों से बालों की मालिश करने के रूप में करें।

 
 

चावल भूसी तेल का इस्तेमाल करते वक्त बरतें यह सावधानियां-

वैसे तो चावल की भूसी के तेल का कई स्वास्थ्य लाभ हैं। लेकिन इसका अनियमित या अत्यधिक इस्तेमाल करना कई प्रकार की स्वास्थ्य हानि पैदा कर सकता है। जोकि निम्न है;

  • चावल की भूसी के तेल का अत्यधिक सेवन करने से पेट से जुड़ी समस्याएं पैदा हो सकती हैं।
  • इसलिए पेट से जुड़ी कोई पुरानी बीमारी है तो इस तेल का इस्तेमाल न करें।
  • त्वचा पर इस तेल का इस्तेमाल करने से पहले हाथ पर थोड़ी मात्रा में तेल लगाकर देखें। यदि त्वचा में जलन होती है तो इस तेल का इस्तेमाल ना करें।
  • गर्भवती महिलाओं को चावल की भूसी तेल का सेवन करने से पहले चिकित्सक का सलाह जरूर लें।

Share: