Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

Causes, Symptoms and Treatment of Pericarditis

Posted 20 August, 2022

Causes, Symptoms and Treatment of Pericarditis

Pericarditis is a heart disorder characterized by inflammation of the pericardium. It develops suddenly in the body. Symptoms such as burning in the chest, heaviness, sharp or recurring pain in the chest and prickling may occur. In some people, this pain extends to the neck and jaw along with the chest.

Pericarditis resolves on its own in most cases and may be cured by using some home remedies. But the chances of this disease reoccurring are high. In certain cases, this problem can be very painful and last for several weeks or months. In such a situation, people should immediately contact the doctor without ignoring it. Let us know about the causes, symptoms and treatment of pericarditis through this article.

What is Pericardium?

The pericardium is a sac-like membrane that surrounds the heart. This membrane is usually filled with fluid. Normally it contains 50 ml but when more fluid than normal starts forming in this sac, the condition is called pericarditis in medical language. This results in persistent pain in the chest. Apart from this, some other symptoms also appear in this condition.

Causes of Pericarditis

According to doctors, no known causes of pericarditis are clear. However, the main reasons for this are as follows

  • Autoimmune disease.
  • Heart surgery.
  • Any type of viral, bacterial and fungal infection in the pericardium.
  • Radiation treatment for cancer.
  • Genetic diseases.
  • Trauma or heart attack.
  • Waste material present in the blood due to kidney failure.

Other risk factors for pericarditis-

The following factors can increase the risk of pericardial disorder:

  • Smoking.
  • High cholesterol.
  • Virus infection etc.

Symptoms of Pericarditis

The most common symptom of pericarditis is chest pain. This pain feels like a heart attack and occurs suddenly due to which severe pain arises in the chest. Apart from this, the symptoms of pericarditis also depend on what is causing the patient to have pericarditis which are the following:

If a person has pericarditis due to an infection, he may experience high fever, chills, or shakiness.

  • Persistent chest pain.
  • Pain in the shoulders, neck, back and abdomen as well.
  • Pain when taking long or deep breaths.
  • Difficulty swallowing food.
  • Difficulty sitting and bending forward.

Some other rare symptoms of pericarditis are as follows:

  • Chest heaviness.
  • Anxiety or restlessness.
  • Difficulty in breathing while sleeping.
  • Worrying too much.
  • Swelling in the ankles or feet.
  • Dry cough.
  • Diagnosis of Pericarditis-To diagnose pericarditis, the doctor first examines the patient's symptoms through which the reasons for pericarditis can be known. On this basis, he advises to conduct several types of tests, which are as follows:
  • Physical examination-The doctor examines the patient physically. In this, along with the medical history of the patient, their symptoms are also noted and the doctor may ask the patient some questions related to the heart.
  • Imaging test-These tests include X-rays, MRIs, and CT scans. These are used to look for the size of the heart and any problems or fluid in the lungs. It is also used to obtain images of other internal organs and to check for signs of infection damage.
  • Electrocardiogram (ECG)-The doctor may recommend an ECG test to check the heartbeat. Through this test, the heartbeat is monitored to assert the functioning of the heart. It is also used to check for fluid or pericardial effusion around the heart.
  • Catheterization-Catheterization is a medical procedure in which a thin, flexible tube, known as catheter, is inserted in a blood vessel of the heart to diagnose constrictive pericarditis.
  • Blood tests-Certain blood tests help to detect the presence of any type of bacteria or parasites in the blood causing pericarditis.
  • Treatment of pericarditisPericarditis can be treated in several ways because before treating it, it is very crucial to know the cause. When the cause is detected, it can be treated with ease. For example, if the main cause of pericarditis is a bacterial infection, he is treated with antibiotics. In most cases it can be treated with medicines.
  • Colchicine-Colchicine is a type of anti-inflammatory drug which helps reduce symptoms and prevent pericarditis from recurring.
  • NSAIDs-Over-the-counter Non-Steroidal Anti-Inflammatory Drugs (NSAIDs) to treat pericarditis are beneficial for both pain and inflammation. Apart from this, taking ibuprofen or aspirin also provides quick relief.
  • Surgery-Surgery is generally considered the last treatment for pericarditis. It is recommended by the doctor when the effect of medicines is not on the health of the patient.

How to prevent Pericarditis?

This condition is not completely curable. Steps can be taken to relieve the symptoms.

Home remedies for Pericarditis

  • Reduce alcohol consumption-It is very important to reduce alcohol intake or switch to healthier alternatives. To get rid of alcohol or tobacco, drink water mixed with lemon and mint.
  • Control high blood pressure-Reduce sodium intake and eat more nutritious foods and green leafy vegetables. By doing this, the blood pressure remains under control.
  • Reduce cholesterol level-Cholesterol levels can be reduced by switching saturated fats (dairy products, biscuits, etc.) for non-saturated fats (olive oil and avocados, nuts).
  • Try to reduce stress-Focus on diverting the mind from tense situations and take time to rest. This helps in reducing stress.
  • Regular exercise-Walk for an hour every day and add some cardio-related exercise to your daily routine.

When to go to the doctor?

If you suffer from one or more symptoms or signs related to pericarditis, consult your doctor immediately.

Read More
Atherosclerosis Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

Posted 06 August, 2022

Atherosclerosis Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

Atherosclerosis is considered a heart problem as it can affect arteries anywhere in your body. It is a specific type of arteriosclerosis, in which the wall of the artery develops abnormalities, called lesions. These lesions may lead to narrowing due to the buildup of atheromatous plaque. Plaque is made up of fat, calcium, cholesterol and other substances which are found in the blood. It can cause your arteries to narrow, blocking blood flow and leading to a blood clot.

Symptoms of Atherosclerosis

You may not have any symptoms until your arteries are nearly closed or until you have a heart attack or stroke. Signs can also depend on which arteries are narrowed or blocked.

Symptoms related to coronary arteries include

  • Arrhythmia, an unusual heartbeat.
  • Pain or pressure in your upper body, including chest, arms, neck or jaw.
  • Shortness of breath.

Symptoms related to the arteries that carries blood to the brain include

  • Numbness or weakness in arms or legs.
  • A hard time speaking or understanding someone who’s talking.
  • Paralysis.
  • Severe headache.
  • Drooping facial muscles.
  • Trouble seeing in one or both eyes.

Symptoms related to the arteries of arms, pelvis and legs include

  • Leg pain when walking.
  • Numbness.

Symptoms related to the arteries that carries blood to kidneys include

  • High blood pressure.
  • Kidney failure.

Causes of Atherosclerosis

The exact cause is unknown, but atherosclerosis may start with damage or injury to the inner layer of an artery. Damage may be caused by

  • High blood pressure.
  • High cholesterol.
  • High triglycerides (a type of fat in the blood).
  • Smoking and other sources of tobacco.
  • Insulin resistance.
  • Obesity.
  • Diabetes.

Inflammation from other diseases like

  • Arthritis.
  • Lupus (inflammation of the skin).
  • Psoriasis.
  • Inflammatory bowel disease.

Risk factors of Atherosclerosis

Risk factors that can contribute to atherosclerosis include

  • Family historyPeople with a family history of heart disease or atherosclerosis are at an increased risk of developing the medical condition.
  • Age.
  • Cardiovascular diseases.
  • Smoking history.

How to Prevent Atherosclerosis?

Although some causes and risk factors, such as age and heredity, cannot be controlled, there are some ways to prevent atherosclerosis

  • Eat a healthy diet, exercise, and avoid smoking.
  • If you have high blood pressure, high cholesterol, or diabetes, be sure to take your prescribed medication as directed.

Diagnosis of Atherosclerosis

Your doctor will start with a physical exam. He or she will listen to the pulse and check for weak or absent pulses. You might need tests including

  • Ankle brachial index testIn this test, blood pressure cuffs are placed on the arms and ankles. A handheld ultrasound machine, or Doppler, is used to listen to blood flow and measure blood pressure. This helps the doctor determine if there is decreased blood flow to the lower legs and feet.
  • Blood testThis checks the levels of certain fats, cholesterol, protein and sugar in the blood.
  • CT scanX rays and computers used to provide a more detailed picture of the aorta, heart and blood vessels.
  • Electrocardiogram (ECG) This test measures the electrical activity of the heart and can help determine whether parts of the heart are enlarged, overworked, or damaged. The heart's electrical currents are recorded through 12 to 15 electrodes that are attached to the arms, legs, and chest.
  • Stress testingThis test is carried out during training. If a person is unable to exercise, medication is given to increase the heart rate. When combined with an ECG, this test can show changes in heart rate, rhythm or electrical activity, and blood pressure.
  • UltrasoundAn ultrasound device can measure blood pressure at various points on your arms or legs, allowing your doctor to determine if you have a blockage and how fast the blood is flowing through your arteries.

Treatment for Atherosclerosis

  • MedicationDrugs for high cholesterol and high blood pressure will slow down and may even halt atherosclerosis. This could also lower your risk of heart attack and stroke. Medicines like blood thinners, aspirin, beta blocker medications, angiotensin-converting enzyme (ACE), diuretics and other cholesterol medications are helpful in this condition.
  • Maintain a better lifestyleEating healthy, doing physical exercises etc. can be effective in treating atherosclerosis. In case of severe symptoms or organ dysfunction, the following procedures may be performed.
  • AngioplastyIn this procedure, the blocked artery is widened with a balloon and a stent that pushes plaque against the artery.
  • Bypass surgerySurgeons can transplant healthy blood vessels from other parts of your body to bypass blockages in narrowed arteries. This allows blood to flow around blocked or narrowed arteries.
  • EndarterectomySometimes fatty deposits can be surgically removed from the walls with an endarterectomy.

When to see a doctor?

If you experience symptoms of atherosclerosis like inadequate blood flow, chest pain, leg pain and numbness, then you should immediately consult your doctor.

Read More
कार्डियोमायोपैथी के प्रकार, कारण और उपचार

Posted 13 July, 2022

कार्डियोमायोपैथी के प्रकार, कारण और उपचार

कार्डियोमायोपैथी है क्या ?

कार्डियोमायोपैथी एक ऐसी बीमारी है जो हृदय की मांसपेशियों को प्रभावित करती है। इस स्थिति में हृदय शरीर में रक्त का संचार ठीक प्रकार से नहीं कर पाता है। जिसके कारण शरीर को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जिसमें मुख्य रूप से हर समय थकान महसूस करना, सांस लेने में समस्या होना और दिल की धड़कन तेज होना आदि शामिल हैं। जिसे नजर अंदाज कर देना या समय रहते इलाज न करवानेपर इसकी स्थिति दिन पर दिन खराब होती जाती है। ज्यादातर मामलों में यह समस्या इतनी जटिल हो जाती है कि दिल के दौरेका कारण बन जाती है।

कार्डियोमायोपैथी के प्रकार

  • डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी कार्डियोमायोपैथी के इस प्रकार में हृदय के प्राथमिक पंपिंग कक्ष अर्थात बाएं वेंट्रिकल आकार में बड़ा और मांसपेशियां पतली यानी कमजोर हो जाती हैं। जिसके कारण शरीर में रक्त के परिसंचरण में दिक्कत होती है। इस स्थिति में जैसे-जैसे हृदय कक्ष (लेफ्ट वेंट्रिकल) फैलता है, हृदय की मांसपेशी सामान्य रूप से सिकुड़ नही पाती। इस स्थिति को बढ़ा हुआदिल भी कहा जाता है। जिसके कारण हृदय रक्त को ठीक से पंप नहीं कर पाता । परिणामस्वरूप कई जटिल समस्याएं उत्पन्न हो जाती है। आमतौर पर यह प्रकार कोरोनरी धमनी रोग के कारण होता है। इसे आगे वर्गीकृत किया गया है।
  • अल्कोहलिक कार्डियोमायोपैथीब यह लंबे समय तक अधिक शराब पीने के कारण होता है। यह हृदय को कमजोर करता है, जिससे आगे चलकर हृदय रक्त को प्रभावी ढंग से पंप करने में असमर्थ हो जाता है। इससे हृदय का आकार बढ़ जाता है। यह एक प्रकार का पतला कार्डियोमायोपैथी है।
  • हाइपरट्रॉफिक कार्डियोमायोपैथीहाइपरट्रॉफिक कार्डियोमायोपैथी हृदय की मांसपेशियों की असामान्य वृद्धि का कारण बनती है जिससे रक्त पंप करना मुश्किल हो जाता है। यह आमतौर पर हृदय के मुख्य पंपिंग कक्ष (बाएं वेंट्रिकल) की मांसपेशियों को प्रभावित करता है। यह मधुमेह या थायराइड विकार के कारण भी हो सकता है।
  • सिरदर्द के लिएसिरदर्द से राहत पाने के लिए कटेरी का प्रयोग सालों से किया जाता रहा है। इसके लिए कटेरी का काढ़ा बनाकर पी लें। ऐसा करने से सिर दर्द की समस्या से तुरंत राहत मिलती है। इसके अलावा कटेरी के फल के रस को माथे पर लेप की तरह लगाने से भी दर्द से राहत मिलती है।
  • प्रतिबंधात्मक कार्डियोमायोपैथीयह बीमारी का सबसे आम प्रकार होता है। इसका कोई मुख्य कारण नहीं होता है। यह किसी कारण (अज्ञातहेतु) के विभिन्न तरीकों से विकसित होती है। इसके अलावा यह शरीर के अंदर किसी स्थिति के कारण हो सकती है जो हृदय को प्रभावित करती है। उदाहरण के लिए एमाइलॉयडोसिस।
  • एर्रीथेमोजेनिक राइट वेंट्रिकुलर डिसप्लेसिया (एआरवीडी)यह कार्डियोमायोपैथी का एक दुर्लभ प्रकार होता है। यह स्थिति तब होता है, जब फैट और टिश्यू ह्रदय के दाएं वेंट्रिकल में मांसपेशियों को प्रतिस्थापित कर देते हैं। जो हृदय के लिए समस्या पैदा कर सकता है। यह आमतौर पर आनुवंशिक परिवर्तनों के कारण होता है।
  • पेरिपार्टम कार्डियोमायोपैथीपेरिपार्टम कार्डियोमायोपैथी बच्चे के जन्म के दौरान या बाद में हो सकती है। यह दुर्लभ स्थिति तब होती है जब प्रसव के बाद पहले पांच महीनों के अंदर या गर्भावस्था के आखिरी महीने में दिल कमजोर हो जाता है। यदि यह प्रसव के बाद होता है, तो इसे अक्सर प्रसवोत्तर कार्डियोमायोपैथी कहा जाता है। यह एक प्रकार का फैला हुआ कार्डियोमायोपैथी है। इसका कोई खास वजह नहीं है।
  • इस्केमिक कार्डियोमायोपैथीइस्केमिक कार्डियोमायोपैथी कोरोनरी धमनी की बीमारी के कारण होती है। जो हृदय वाहिकाओं को रक्त की पूर्ती करने वाले रक्त वाहिकाओं को संकीर्ण करनेका कारण बनती है। जिससे हृदय को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है। परिणामस्वरूप दिल का दौरा पड़ सकता है। जिसके कारण व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।
  • नॉन कंपैशन कार्डियोमायोपैथी-इसे स्पॉन्गी फॉर्म कार्डियोमायोपैथी के रूप में भी जाना जाता है। यह एक दुर्लभ स्थिति है जो गर्भ में होती है। यह गर्भ में हृदय की मांसपेशियों की असामान्य वृद्धि के कारण होता है।

कार्डियोमायोपैथी के कारण

कुछ चिकित्सीय स्थितियों या व्यवहार जो कार्डियोमायोपैथी को जन्म दे सकते हैं। वह निम्नलिखित हैं

  • लंबे समय तक उच्च रक्तचाप।
  • हार्ट अटैक के रूप में दिल के ऊतकों को नुकसान।
  • लंबे समय से हृदय गति का तेज होना।
  • हृदय वाल्व की समस्या होने पर।
  • कोविड -19 संक्रमण।
  • कुछ विशेष संक्रमण, जो हृदय में सूजन का कारण बनते हैं।
  • चयापचय संबंधी विकार, जैसे थायराइड रोग, मोटापा, या मधुमेह।
  • दैनिक आहार में महत्वपूर्ण खनिजों या विटामिनों की कमी होना।
  • गर्भावस्था की जटिलताएं।
  • हृदय की मांसपेशियों में आयरन का निर्माण (हेमोक्रोमैटोसिस) होने पर।
  • फेफड़े और हृदय (सारकॉइडोसिस) या शरीर के किसी आतंरिक हिस्सों में सूजन या कोशिकाओं (ग्रैनुलोमा) मेंछोटी गांठों का बनना।
  • अंगों के अंदर असामान्य प्रोटीन का संचय (एमाइलॉयडोसिस) होना।
  • संयोजी ऊतक विकार।
  • लंबे समय तक अधिक शराब का सेवन।
  • एम्फ़ैटेमिन, कोकीन या एनाबॉलिक स्टेरॉयड का उपयोग।
  • कैंसर से लड़ने के लिए कुछ कीमोथेरेपी दवाओं के साथ-साथ विकिरण का उपयोग।

कार्डियोमायोपैथी के लक्षण

आमतौर पर कार्डियोमायोपैथी के सभी प्रकार के लक्षण समान होते हैं। सभी मामलों में, हृदय मानव शरीर के अंदर अंगों और ऊतकों को रक्त प्रवाह प्रदान करने में सक्षम नहीं होता है। जिसके कारण कई अन्य लक्षण देखने को मिलते हैं। जो निम्नलिखित है

  • लगातार अधिक थकान और कमजोरी होना।
  • सांस फूलना, विशेष रूप से परिश्रम या व्यायाम के दौरान।
  • चक्कर आना।
  • छाती में तेज दर्द होना।
  • दिल की घबराहट होना।
  • उच्च रक्त चाप होना।
  • बेहोशी का दौरा पड़ना।
  • टखनों, पैरों और घुटनों की सूजन।

कार्डियोमायोपैथी के लिए उपचार

कार्डियोमायोपैथी का उपचार इसके लक्षणों के कारण हृदय और शरीर को हुए नुकसान की डिग्री पर निर्भर करता है। कुछ लोगों को लक्षण प्रकट होने तक उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। जिन लोगों को सांस फूलने लगती है या सीने में दर्द होने लगता है, उन्हें अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव या घरेलू उपचार करके ठीक किया जा सकता है।

कार्डियोमायोपैथी से कैसे उबरें?

यह स्थिति इलाज योग्य नहीं है, हालांकि, उपचार के साथ, लक्षणों को कम किया जा सकता है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

यदि आप कार्डियोमायोपैथी से संबंधित एक या अधिक लक्षणों या संकेतों से पीड़ित हैं, तो तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श लें।

  • स्वस्थ्य ह्रदय के लिए जीवन शैली में परिवर्तन पर्याप्त नींद लें। विभिन्न प्रकार के पौष्टिक युक्त फलों, सब्जियों और साबुत अनाज का सेवन करें।
  • दवाइयां उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं लें। जल प्रतिधारण को रोकें, हृदय को स्वस्थ्य बनाए रखें, रक्त के थक्कों और सूजन को रोकें।
  • शल्य चिकित्सा द्वारा प्रत्यारोपित उपकरणइम्प्लांटेबल कार्डियोवर्टर-डिफाइब्रिलेटर (ICD), वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस (VAD) और पेसमेकर को हृदय के कार्यों में सुधार के लिए शल्य चिकित्सा द्वारा हृदय में प्रत्यारोपित किया जा सकता है।
  • हृदय प्रत्यारोपणहृदय प्रत्यारोपण का उद्देश्य हृदय को यथासंभव कुशल बनाने में मदद करना है। साथ ही किसी और क्षति या कार्यक्षमता के नुकसान को रोकना होता है।
  • घरेलू उपचारशराब का सेवन कम करें या स्वस्थ विकल्पों पर स्विच करें। शराब या तंबाकू से छुटकारा पाने के लिए पानी में पुदीना और नींबू मिलाकर सेवन करें।
  • उच्च रक्तचाप को नियंत्रित रखनासोडियम का सेवन कम करके और अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थ जैसे लीन मीट, ग्रिल्ड सब्जियोंका सेवन करें।
  • कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करें।गैर-संतृप्त वसा (जैतून का तेल और एवोकाडो, नट्स) के लिए संतृप्त वसा (डेयरी उत्पाद, बिस्कुट, आदि) को स्विच करके कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम किया जा सकता है।
  • तनाव कम करने की कोशिश करेंमन को केन्द्रित करें। साथ ही आराम करने के लिए समय निकालें । जिससे तनाव कम करने में मदद मिलती है।
  • नियमित व्यायाम करेंरोजाना एक घंटा पैदल चलें और लिफ्ट लेने की बजाय सीढ़ियों का सहारा लें।
Read More
Emphysema: Causes, Symptoms and Treatment

Posted 03 June, 2022

Emphysema: Causes, Symptoms and Treatment

Emphysema is a type of COPD (Chronic Obstructive Pulmonary Disease). COPD is a group of lung diseases whichmakes breathing difficult thatworsen over time. Most people with COPD have emphysema and chronic bronchitis (another major form of COPD), but the severity of this disease can vary from person to person.

Emphysema affects the air sacs in the lungs. These sacs are usually elastic or stretchy. As you inhale, each air sac fills with air like a small balloon. When you exhale, the air sacs deflate and air is released.

In emphysema, the walls of the air sacs in the lungs are damaged. As a result, the air sacloses its shape and becomes less flexible. This makes it difficult for the lungs to perform oxygen and carbon dioxide exchange .

What causes Emphysema?

The cause of emphysema is usually long-term exposure to irritants that damage the lungs and airway passage. Cigarette smoke is one of the major causes of it. Pipes, cigars, and other types of tobacco smoke can also cause emphysema, especially if you inhale it.

Exposure to other inhalation irritants can cause emphysema. This includes passive smoke, air pollution and chemical fumes or dust from the workplaces.

Risk Factors of Emphysema

Risk factors of Emphysema include-

Smoking-This is a major risk factor. Up to 75% of patients with emphysema had a habitto smoke.

Exposure-Long-term exposure to other lung irritants such as  smoke, air pollution, and chemical fumes.

Age-People of age group 40 years or more, are likely to develop emphysema due to degenerative changes in lung and the tissues within. .

Genetics-These include alpha-1 antitrypsin deficiency, which is a genetic condition. In addition, smokers who develop emphysema are more likely to develop it, if they have a family history of COPD.

Symptoms of Emphysema

Symptoms and signs of emphysema may not appear for years because it develops gradually. Shortness of breath and difficulty in breathing are the two main symptoms that start gradually. The other symptoms include-

  • Continuous cough.
  • Wheezing.
  • Shortness of breath, especially during physical activity.
  • Fatigue.
  • Chest tightness.
  • Increased production of mucus.

How is Emphysema diagnosed?

Doctors usually diagnose emphysema through tests including-

Chest examination/Stethoscope examination-A simple test in which the doctor places the steth on your chest as well as upper back to listen to the hollow sound with a stethoscope. This can mean that air is trapped in your lungs.

Pulse oximetry examination-It is used to measure the level of oxygen in the blood and is often done by attaching the monitor to a finger, forehead or earlobe.

Spirometry test- This isone of the most useful tests that evaluates lung function by taking deep breaths and then blowing it into a tube connected to a device that measures airflow.

X-rays- Although x-rays are usually not helpful in detecting the early stages of emphysema, a plain chest X-ray or a CAT (computed tomography) scan can help diagnose moderate or severe cases.

Electrocardiogram (ECG)-An ECG checks the function of the heart and is used to determine if a heart condition is causing shortness of breath.

Arterial blood gas-This is often done when emphysema gets worse, it measures the amount of oxygen and carbon dioxide in the arterial blood. This can be used to determine whether you need supplemental oxygen or retain carbon dioxide.

Prevention for Emphysema

Eating a healthy diet-Your body uses food to fuel all of its activities, and that includes breathing. Talk to your doctor or a dietitian about dietary changes that can help relieve emphysema symptoms.

Increase water intake- A person with COPD should drink at least 8 to 10 glasses of water a day. This way, mucus doesn't thicken up and stick to the lungs. Thus, makes it easier for you to breathe.

Maintain your ideal body weight-Being overweight makes breathing more difficult and can make you feel weak or tired and also increases the risk of chest infections.

Avoid lung irritants-Smoking isn't the only thing that worsens emphysema. Avoid exposure to exhaust fumes, strong perfumes, detergents, paints and varnishes, excessive dust and other contaminants also.

Exercise-Regular exercise can reduce the risk of shortness of breath by increasing the body's use of oxygen and strengthening the respiratory muscles.

Vaccination-Take vaccination to prevent chest infections which can be dangerous, even life threatening for people with COPD.

Treatment for Emphysema

There is no cure for COPD, but avoiding causative factors  and medication can relieve symptoms and slow down the disease progression. Treatment includes-

Bronchodilators- These drugs relax the muscles around the airways and are given through an inhaler and sometimes through a machine called a nebulizer through which there is an easy passage of air from nose towards the lungs.

Anti-inflammatory drugs-These drugs reduceinflammation in the airways.

Oxygen therapy-It is prescribed for patients whose lungs do not receive enough oxygen to the blood (hypoxemia).

Lung volume reduction surgery-This can help relieve pressure on the respiratory muscles and improve lung elasticity and gas exchange.

Pulmonary Rehabilitation-A pulmonary rehabilitation program is a personal care program that includes exercises, breathing, and nutrition tips according to the COPD. The purpose of this program is to help you stay active and carry out your daily activities without any difficulty.

Home Remedies for Emphysema

Garlic-

Garlic has antibiotic, antiviral and antibacterial properties which helps to clear the mucusof the airway canal, thereby helpingto relieve emphysema.

Ginger-

Ginger has anti-inflammatory properties which helps to break down mucus by making it easier for your body to expel air. It also helps improve blood circulation in the lungs and reduce inflammation.

Turmeric-

The curcumin found in turmeric is known for its anti-inflammatory and antioxidant properties. It helps fight oxidative stress and reduces airway inflammation.

Eucalyptus oil-

Eucalyptus oil can help in opening up the airways canal and treat inflammation in COPD. It helps improve breathing and reduces the symptoms of emphysema.

When to see a doctor?

Anyone who experiencesany sign or symptom of COPD, should see a doctor as soon as possible.

Read More
Costochondritis: Symptoms, Causes & Treatment

Posted 02 June, 2022

Costochondritis: Symptoms, Causes & Treatment

Costochondritis is inflammation of the cartilage between one or more ribs and the breastbone (sternum). It is also known as anterior chest wall syndrome, costosternal syndrome or parasternal chondrodynia. It can affect people of all ages and will go away on its own over time. Although the symptoms may be uncomfortable, costochondritis is not dangerous.

Costochondritis usually gets better on its own, but the time it takes varies. Normally,  the pain takes a  few weeks to recover, while  in some cases, it may exceed  a  month or more.

Symptoms of Costochondritis

The main symptoms of costochondritis are pain and tenderness at the joint of the ribs and sternum due to inflammation of the cartilage tissue between the bones. The pain increases with movement and deep breathing and decreases with rest and even breathing. Pressure applied directly to the affected area also causes significant pain.

The pain may vary in frequency but is often severe. It can be described as pressure pain, or stabbing pain. It is usually in the chest but can also spread to the back, abdomen, arms or shoulders.

The pain is usually only on one side of the chest, most often the left side, but it can affect both sides of the chest at the same time.

Causes of Costochondritis

Often, there is no clear cause for costochondritis. It may be associated with a chest injury or with unusual or stressful physical activity (for example heavy lifting or profuse coughing). Costochondritis can occur in people  undergoing respiratory illness such as a cold or flu and underlying conditions, such as fibromyalgia, systemic lupus erythematosus and ankylosing spondylitis.

Costochondritis affects women more often than men and is more common in adolescents and young adults.

Risk Factors of Costochondritis

Those at higher risk of developing costochondritis include-

  • Women (70% of cases are women).
  • Those engaged in hard manual work.
  • People who do strenuous sports or high-impact activities.
  • People who tend to cough or sneeze frequently.

Medical conditions related to Costochondritis

Tietze syndrome has similar symptoms like costochondritis. However, Tietze syndrome involves swelling of the joints while costochondritis does not. Tietze syndrome occurs in people under the age of 40, while costochondritis can affect all age groups.

Chest wall pain can also occur with other conditions, such as-

Fibromyalgia-Fibromyalgia is a disease that causes widespread musculoskeletal pain and fatigue. Chest wall pain is more common in patients with fibromyalgia.

Arthritis-Inflammation of the chest wall may also be seen in rheumatoid arthritis or other inflammatory joint conditions such as ankylosing spondylitis, psoriatic arthritis or lupus.

Infection-Infection can cause pain and swelling in the joints, among other symptoms.

Tumors-Rarely, both cancerous and noncancerous tumors can develop on the chest wall.

How to diagnose Costochondritis?

To diagnose costochondritis, your doctor will first perform a complete medical examination by asking about your symptoms, recent activities or medical conditions that may be contributing to the cause. He or she then performs a physical examination by listening to heart and lungs, and palpating the ribs and chest wall.

If your doctor is concerned about something other than costochondritis that is causing chest pain then, he or she may recommend blood tests, electrocardiography, or a chest X-ray to gather more information.

Treatment for Costochondritis

Your doctor may prescribe the following medications-

Nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs)- NSAIDs prescribed by your doctor can help reduce inflammation and pain. These medications have potential side effects when used in excess or by someone with another health condition, so use them with caution. Side effects include damage to the kidneys, liver, and stomach or worsening of heart failure. You may also be prescribed a topical form that has fewer side effects.

Physical Therapy-Physical therapy, also known as physiotherapy can help relieve chest pain.

Muscle relaxants-Muscle relaxants, such as cyclobenzaprine (Flexeril) are sometimes used for pain relief.

Antidepressants-There are several prescribed antidepressants that help relieve pain from persistent costochondritis. If costochondritis is causing you constant pain, tricyclic antidepressants (such as amitriptyline) can help.

Anti-seizure drugs -Gabapentin, an epilepsy medication, can also help relieve persistent pain.

Injections-Topical injections of pain relievers/steroids into the joint are rarely used but can be helpful in very persistent and severe cases.

Home Remedies for Costochondritis

Heat-Try using a warm pad or hot compress on a low setting for short periods of time several times a day.

Rest-Avoid activities that cause pain, take more rest as possible if you can.

Over-the-counter (OTC) pain relievers-Over-the-counter pain relievers such as naproxen sodium (Aleve), ibuprofen (Advil), or acetaminophen (Tylenol) can help control pain. OTC pain relieving creams for topical use can also provide relief.

Avoid coughing-If coughing is causing your symptoms, over-the-counter cough suppressants can help prevent attacks.

Stretches-Simple stretches that help open your chest muscles a little can help you feel better.

When to see a doctor?

Whenever you experience chest pain, you should see a doctor immediately to rule out something more serious. For example, if you experience chest pain along with other symptoms such as shortness of breath, nausea, sweating, dizziness, or left arm pain, this may be a sign of a severe health disease and you should see a doctor immediately.

If you have been diagnosed with costochondritis, you should see a doctor if you experience any of the following symptoms-

  • Fever.
  • Nausea.
  • Difficulty breathing.
  • Swelling.
  • Signs of infection such as pus or redness.
Read More
सीने में दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू निदान

Posted 24 May, 2022

सीने में दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू निदान

सीने में दर्द अक्सर सीने में किसी प्रकार की समस्या की वजह से होता है। इस दौरान व्यक्ति को कई तरह के लक्षण जैसे सीने में भारीपन, सीने में तेज या कम दर्द एवं चुभन आदि महसूस होने लगते हैं। कुछ लोगो में  छाती में दर्द होने  का असर गर्दन एवं जबड़ों तक पंहुच जाता  है। आयुर्वेद के अनुसार कफ, पित्त या वात के असंतुलन के कारण सीने में दर्द होने लगता है। कुछ लोगो में किसी बड़ी बीमारी की वजह से सीने में भी दर्द होता है। ऐसे में लोगो को डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा  शुरूआती स्तर के सीने में दर्द को  कुछ घरेलू उपचार का उपयोग करके ठीक किया जा सकता है।आइए इस लेख के माध्यम से सीने में दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार के बारे में जानते हैं।

 

सीने में दर्द होने के कारण

 

 सीने में दर्द की समस्या कभी-कभी एक तरफ या दोनों हिस्सों में भी हो सकती है।यह दर्द कम या तेज भी हो सकता है। जिसके पीछे कई कारण होते हैं। आमतौर पर यह चेस्ट पेन गैस या एसिडिटी के कारण होता है और गंभीर मामलों में  ह्रदय संबंधी समस्याओं जैसे -फेफड़ों में संक्रमण, आहारनली, मांसपेशियों और पसलियों तंत्रिकाओं में किसी समस्या के कारण भी दर्द हो  सकता है। ।

 

 

पेट की समस्या होने पर

 

पेट में किसी भी प्रकार की  समस्या होने पर सीने में दर्द हो सकता है। । जब पित्ताशय की थैली में गैस बनती है तो यह गैस सीने की तरफ चढ़ती है सीने में दर्द होने लगता है। इस स्थिति में एंटासिड मेडिसिन का सेवन करने से दर्द घट जाता है। यह समस्या ज्यादातर सोते समय होता है।

 

फेफड़ा संबंधित रोग होने पर

 

सीने में दर्द होने का एक कारण फेफड़ों में संक्रमण या फेफड़ों संबंधित बीमारी भी होती  है। इस दौरान दर्द सीने के बीच में न होकर बगल में होता है। सांस लेने या खांसने से यह दर्द और बढ़ जाता है। तपेदिक या निमोनिया आदि रोग होने की वजह से भी सीने में दर्द हो सकता है।

 

प्ल्यूराइटिस (छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन)

 

छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन भी सीने में दर्द होने का कारण बनता है। यदि फेफड़ों की ऊपरी सतह के झिल्ली में सूजन आ जाए तो छाती की अंदरूनी दीवार की सूजी हुई सतह से सांस लेने पर हवा रगड़ खाने लगती है। जिससे व्यक्ति के सीने में असहनीय दर्द होने लगता है। इस स्थिति को प्ल्यूराइटिस कहा जाता है।

 

एंजाइना पेक्टोरिस

 

एंजाइना कोरोनरी धमनी की बीमारी का एक लक्षण है। जब किसी व्यक्ति के दिल तक रक्त पहुंचाने वाली नसों में ब्लॉकेज हो जाता है या किसी भी कारण से दिल तक पहुंचने वाला रक्त प्रवाह (Blood Flow) धीमा पड़ जाता है। जिसके कारण सीने में दर्द या बेचैनी महसूस होती है।

 

 

कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन

 

कोरोनरी धमनी में किसी कारणवश छेद या खरोंच होने को कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन कहा जाता है। इस स्थिति में सीने में अचानक सनसनी के साथ तेज दर्द होता है, जो शरीर के कई अंगों जैसे गर्दन, पीठ या पेट को प्रभावित करते हैं।

 

पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज

 

दिल की धमनियों के दर्द को पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज (P.V.D) कहा जाता है। यह समस्या तब उत्पन्न होती है, जब दिल से जुड़ी शरीर के आंतरिक अंग एवं मस्तिष्क को रक्त पहुंचाने वाली धमनियों में रक्त का संचरण बाधित होने लगता है। जिससे सीने में दर्द होता है।

 

चेस्ट पेन के लक्षण

 

  • सीने में चुभन या खिंचाव का अनुभव करना।
  • सीने में भारीपन महसूस करना।
  • घबराहट या बेचैनी होना।
  • कमजोरी महसूस करना।
  • चक्कर आना।
  • सांस लेने में तकलीफ होना। 
  • शरीर के अन्य हिस्सों जैसे पीठ, गर्दन और हाथों तक दर्द का फैलना।
  • निगलने में परेशानी होना।
  • मुंह का स्वाद बिगड़ना।
  • उल्टी या मतली आना।
  • कोल्ड स्वेट अर्थात गर्मी की बजाय घबराहट या डर की वजह से पसीना आना।

 

सीने में दर्द से बचाव

 

  • अधिक ठंड वाले वातावरण से बचें।
  • भोजन करते समय अधिक नमक का सेवन न करें।
  • प्रतिदिन व्यायाम करें।
  • आहार में फाइबर युक्त पदार्थों का सेवन करें।
  • कैलोरी युक्त पदार्थो के सेवन से बचें।
  • धूम्रपान, तंबाकू एवं अलकोहल के सेवन से बचें।
  • प्रतिदिन ताजे अनार के जूस का सेवन करें।

 

सीने में दर्द के घरेलू उपचार

 

 

लहसुन है फायदेमंद

 

लहसुन सीने में दर्द के लिए उपायों में से एक है। इस पर किए गए एक शोध के मुताबिक, प्रतिदिन लहसुन के सेवन से हृदय रोग होने की संभावना कम होती हैं। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और प्लाक  को धमनियों तक पहुंचने से रोकता है। इसकी मदद से रक्त प्रवाह में सुधार आता है। इसलिए प्रतिदिन 1 चम्मच लहसुन  का रस गर्म पानी में डालकर सेवन करना सीने में उत्पन्न दर्द एवं ह्रदय रोगों में फायदेमंद हैं। इसके अलावा एक लहसुन की कली एवं 2 लौंग रोजाना चबाकर सेवन करना भी फायदेमंद होता है।

 

अदरक

 

अदरक का सेवन भी हृदय संबंधी बीमरियों  में उपयोगी होता है। अदरक में जिंजरोल नामक कंपाउंड पाया जाता है जो कोलेस्ट्राल के स्तर को कम करता है। इसके अलावा अदरक में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को खराब होने से बचाते है। इसके लिए आप रोजाना अदरक की चाय सेवन करना फायदेमंद है।

 

बादाम

 

बादाम में पॉली नेचुरल फैटी एसिड एवं मैग्नीशियम प्रचूर मात्रा में पाई जाती है। जो सीने में दर्द होने के खतरे को कम करता है। इसके अलावा सीने में दर्द होने पर बादाम का तेल और गुलाब के  तेल को समान मात्रा में मिला लें। अब इस मिश्रण को सीने पर हल्के हाथों से लगाएं।

 

हल्दी

 

हल्दी में करक्यूमिन (Curcumin) प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। जो थक्का बनाने एवं धमनी प्लाक का कम करने में सहायक होता है। इसके अलावा करक्यूमिन सीने की सूजन को भी कम करता है। जिससे सीने में दर्द से राहत मिलती है। इसके लिए रोजाना हल्दी को गर्म दूध में मिलाकर पिएं। ऐसा करने से सीने के दर्द में आराम मिलता है।

 

तुलसी

 

तुलसी के पत्ते विटामिनके और मैग्नीशियम से भरपूर होते  है। इसमें मौजूद मैग्नीशियम हृदय में कोलेस्ट्रॉल के निर्माण को रोकता है। साथ ही यह हृदय विकारों के अलावा सीने के दर्द में मददगार है। इसके लिए एक चम्मच तुलसी के रस को शहद के साथ या 8-10 तुलसी के पत्तियों को खाने से भी सीने के दर्द में आराम मिलता है।

 

एलोवेरा

 

एलोवेरा में कई ऐसे औषधीय गुण पाए जाते हैं। जो ह्रदय को स्वस्थ्य रखने, कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने एवं रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं। यह सभी कारक सीने के दर्द से राहत पहुंचाने का काम करते हैं। इसके लिए प्रतिदिन १/४ कप एलोवेरा जूस गर्म पानी के साथ सेवन करें।

 

Read More
क्या है एंडोकार्डाइटिस? जानें, इसके लक्षण, कारण और उपचार

Posted 24 May, 2022

क्या है एंडोकार्डाइटिस? जानें, इसके लक्षण, कारण और उपचार

एंडोकार्डाइटिस दिल से जुड़ी एक समस्या है। जो दिल में संक्रमण की वजह से होती है। जिसमें ह्रदय के भीतरी परत में सूजन आ जाती है। ह्रदय के इस भीतरी/अंदरूनी परत को एंडोकार्डियम कहा जाता है। जब इस परत में शरीर के किसी अन्य भाग से बैक्टीरिया, कवक या अन्य रोगाणु का संक्रमण हो जाता हैं। तो इस स्थिति को एंडोकार्डाइटिस कहते हैं। एंडोकार्डाइटिस को हिंदी में अन्तर्हृदय शोथ कहा जाता है। इसके अलावा यह संक्रमण मौखिक गतिविधिया एवं रक्तप्रवाह के जरिए भी फैलते हैं। जो हदय को प्रभावित करते हैं।  

 

आमतौर पर एंडोकार्डियम में हृदय के वाल्व शामिल होते हैं। इसके अलावा इसमें इंटरवेंट्रिकुलर सेप्टम (interventricular septum), म्यूरल एंडोकार्डियम (mural endocardium), कॉर्डे टेंडिने (chordae tendineae) एवं इंट्राकार्डिक उपकरणों की सतह  (surfaces of intracardiac devices) शामिल होते हैं। एंडोकार्टिटिस के घावों को वेजिटेशन ( vegetations) के रूप में जाना जाता है। जो फाइब्रिन, प्लेटलेट्स, माइक्रो ऑर्गेनाइज्म के माइक्रोकोलियनिज्म और इंफ्लेमेटरी सेल्स का एक भाग है।

 

क्या होते हैं एंडोकार्डाइटिस के लक्षण?

एंडोकार्डाइटिस या दिल में होने वाले संक्रमण के कुछ सामान्य लक्षण देखने को मिलते हैं। जो निम्न हैं-

 
  • फ्लू जैसी ठंड लगना और बुखार होना।
  • लगातार खांसी आना
  • तेज रक्त प्रवाह के कारण दिल से अलग तरह की आवाज (बदली हुई) आना।
  • अधिक कमजोरी एवं थकान महसूस करना।
  • जोड़ों और मांसपेशियों में तेज दर्द होना।
  • सोते समय रात में पसीना आना।
  • सांस लेने में तकलीफ महसूस करना।
  • सांस लेते समय सीने में दर्द होना।
  • पेट और पैरों में सूजन होना।

इसके अलावा एंडोकार्डाइटिस के कुछ असामान्य लक्षण भी नजर आते हैं। जो इस प्रकार हैं-

 
  • बिना किसी कारण तेजी से वजन घटना।
  • पेशाब में खून आना।
  • संक्रमण की वजह से प्लीहा (तिल्ली) में मुलायमपन होना।
  • हथेलियों और पैर के तलवों पर लाल चकते पड़ना।
  • ओसलर एवं अंगूठों की त्वचा पर लाल और मुलायम उभार होना।
  • पेटिकिआई (Petechiae), त्वचा, मुंह और आंखों पर लाल या बैंगनी रंग के धब्बे पड़ना।

क्या होते हैं एंडोकार्डाइटिस के कारण?

एंडोकार्डाइटिस होने के मुख्य कारण बैक्टीरिया और जर्म का ह्रदय की भीतरी परत (एंडोकार्डियम) तक पहुंचना होता है। जब यह कीटाणु रक्त की नसों में प्रवेश कर जाते हैं तो ह्रदय या शरीर के अन्य हिस्सों में खून के माध्यम से फैलते हैं। उसके बाद यह कीटाणु दिल के वाल्व या टिश्यू को डैमेज करने लगते हैं। इसके अलावा एंडोकार्डाइटिस होने के पीछे फंजाई यानी कवक या सूक्ष्मजीवों जिम्मेदार होते हैं। चलिए जानतें हैं किन-किन माध्यमों से यह कीटाणु शरीर में प्रवेश करते हैं:
 
  • मुंह को नियमित रूप से साफ न करने पर।
  • मसूड़ों से निकलने वाले खून के द्वारा दिल के अंदरूनी टिश्यू में चले जाने पर ।
  • टैटू कराने वाले सुई के इस्तेमाल करने पर।
  • संक्रामक सुई द्वारा अवैध दवाएं, हेरोइन, कोकीन जैसे मादक ड्रग्स लेने पर।
  • कुछ डेंटल प्रक्रिया की वजह से मसूड़ों के कट जाने पर।
 
 

एंडोकार्डाइटिस होने के जोखिम कारक-

आर्टिफिशल हार्ट वाल्व-

नार्मल हार्ट वाल्व की तुलना में आर्टिफिशल वाल्व लगाए हुए व्यक्तियों में रोगाणु फैलने की आशंका अधिक रहती है।

 

जन्मजात ह्रदय दोष-

 

जिन लोगों को जन्म से ही दिल संबंधित बीमारी होती है। अत: इस स्थिति में दिल, संक्रमण के लिए अधिक संवेदनशील हो सकता है।

 

पहले कभी एंडोकार्डाइटिस हुआ हो-

 

यदि किसी व्यक्ति को पहले कभी एंडोकार्डाइटिस हुआ हो तो ऐसे में उसे ह्रदय संबंधित संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। क्योंकि एक बार एंडोकार्डाइटिस होने पर व्यक्ति का हार्ट टिश्यू डैमेज हो चुका होता है। इसलिए यह भी एक  एंडोकार्डाइटिस होने का जोखिम कारक हो सकता है।

 

रयूमेटिक फीवर-

 

रयूमेटिक फीवर होने से हार्ट वॉल्व डैमेज हो जाते हैं। जिससे एंडोकार्डाइटिस होने का खतरा बढ़ जाता है।

 

एंडोकार्डाइटिस से बचाव-  

  • अपने दांतों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें।
  • भोजन करने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • दांतों और मसूड़ों को फ्लॉस (दांत साफ करने का धागा) की मदद से अच्छी तरह से साफ करें और नियमित रूप से दन्त चिकित्सक से परामर्श लें।
  • शरीर के किसी अंग पर छेद करवाना, टैटू बनवाना और अन्य तरह की त्वचा को संक्रमित करने वाले प्रक्रियाओं से बचें।
  • किसी भी प्रकार का त्वचा संक्रमण और घाव ठीक न होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

एंडोकार्डाइटिस की जांच-

ब्लड कल्चर-

एंडोकार्डाइटिस की जांच के लिए डॉक्टर ब्लड कल्चर टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। इस टेस्ट के जरिए बैक्टीरिया और फफूंद के बारे में पता लगाया जाता है। इसके अलावा ब्लड टेस्ट के माध्यम से एनीमिया आदि का भी पता चलता है।

 

इकोकार्डियोग्राम टेस्ट-

 

एंडोकार्डाइटिस (Endocarditis) के लिए इकोकार्डियोग्राम टेस्ट का प्रयोग किया जाता है। इस टेस्ट के जरिए ध्वनि तरंगों के माध्यम से दिल की तस्वीरें निकाली जाती हैं। जिससे दिल के टिश्यू (ऊतकों) में होने वाले संक्रमण के बारे में पता चलता है।

 

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम-

 

जब इकोकार्डियोग्राम से रिपोर्ट स्पष्ट नहीं होती तो इस स्थिति में डॉक्टर मरीज को इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम टेस्ट कराने का अनुरोध देते हैं। इस टेस्ट में डॉक्टर मरीज के दिल की धड़कनों की जांच करते हैं।

 

एक्स-रे-

 

डॉक्टर फेफड़े और दिल की स्थिति को जानने के लिए सीने का एक्स-रे करवाते हैं। जिससे दिल के बढ़े आकार और फेफड़ों में संक्रमण के बारे में पता लगाया जाता हैं।

 

सीटी स्कैन या एमआरआई-

 

डॉक्टर एंडोकार्डाइटिस की गंभीर समस्या होने पर सीटी स्कैन या एमआरआई  टेस्ट भी लिख सकते हैं। इसके द्वारा दिल के अलावा शरीर के अन्य अंगों में संक्रमण फैलने का भी पता चलता है।

 

एंडोकार्डाइटिस से जुड़ी जटिल समस्याएं-

स्ट्रोक और अंगो में क्षति होना-

 

एंडोकार्डाइटिस होने पर संक्रमण वाली जगहों पर कोशिका के टुकड़े और बैक्टीरिया के समूह बन जाते हैं। जब यह बैक्टीरिया टूटकर बिखरते हैं तो इस स्थिति में यह ब्लड के माध्यम से पेट, गुर्दे, मस्तिष्क एवं शरीर के विभिन्न हिस्सों में पहुंच जाते हैं। जिससे स्ट्रोक या अन्य ऊतकों या अंगो को नुकसान पहुंचता है। साथ ही विभिन्न शारीरिक और मानसिक परेशानियां उत्पन्न होने लगती हैं।

 

मांसपेशियों या अन्य भागों में संक्रमण-

 

एंडोकार्डाइटिस गुर्दे, मस्तिष्क, लिवर, तिल्ली सहित शरीर के अन्य हिस्सों में फोड़े वाले पस बनाता है। जिससे दिल की मांसपेशियों में भी फोड़ा बन सकता है। फलस्वरूप दिल की धड़कन असामान्य हो सकती है। ऐसे में गंभीर फोड़े के इलाज के लिए सर्जरी की आवश्यकता भी पड़ सकती है।

 

ह्रदय फेल हो जाना-

 

समय रहते एंडोकार्डाइटिस का इलाज न कराने पर दिल के वाल्व को नुकसान पहुंचता है। इलाज न होने की वजह से यह संक्रमण अंदरूनी परत को हमेशा के लिए नष्ट कर सकता है। जिससे वाल्व को रक्त पंप करने में कठिनाई होने लगती है। परिणामस्वरूप ह्रदय फेल होने की आशंका बढ़ जाती है।

Read More
Cardiomyopathy : Types, Causes, and Treatment

Posted 21 December, 2021

Cardiomyopathy : Types, Causes, and Treatment

There are certain conditions associated with the heart and cardiomyopathy is one of those. Cardiomyopathy is a disease that affects the heart muscles. In this condition, the heart is not able to transfer blood to the body. This further leads to various conditions such as feeling tired all the time, having breathing problems, and heart-Pilates. The condition, if not treated in time, gets worse. The treatment can slow the progress and impair the quality of life. In severe cases, Cardiomyopathy can lead to heart failure.

 

Types of Cardiomyopathy

Dilated cardiomyopathy

In this type of cardiomyopathy, the ability to pump blood of the heart's primary pumping chamber - the left ventricle - gets larger (dilated) and it isn't able to pump blood from the heart. This is also referred to as an enlarged heart. This type is possibly inherited or could be caused by coronary artery disease.

 

Hypertrophic cardiomyopathy

Hypertrophic cardiomyopathy causes the abnormal growth of the heart muscle that makes it difficult to pump blood. It most commonly affects the muscles of the heart's main pumping chamber (left ventricle). This may be caused due to Diabetes or thyroid disorder.

 

Restrictive cardiomyopathy

The heart muscle gets stiffer, becoming less elastic, which means it's unable to expand and fill up with blood in between heartbeats. The least well-known kind of cardiomyopathy can develop at any time, but it is most commonly seen in the elderly.

 

Restrictive Cardiomyopathy can develop in a variety of ways without any reason (idiopathic) or may be caused by a condition elsewhere within the body that impacts the heart, for example amyloidosis.

 

Arrhythmogenic Right Ventricular Dysplasia (ARVD)

In this uncommon type of cardiomyopathy, the muscle of the lower right chamber (right ventricle) of the heart is replaced with scar tissue that can cause problems with the heart's rhythm. It is usually due to genetic changes.

 

Ischemic cardiomyopathy

Ischemic cardiomyopathy is when the heart is unable to supply blood to the rest of the body because of coronary artery disease. The blood vessels to the heart muscle become narrowed and blocked. The heart muscle is deprived of oxygen. Ischemic cardiomyopathy is a frequent cause of heart failure.

 

Peripartum cardiomyopathy

Peripartum cardiomyopathy can occur during or after the birth of a baby. This rare condition occurs when the heart is weak within the first five months after delivery or in the last month of pregnancy. If it occurs after delivery, it's often referred to as postpartum cardiomyopathy. It's a kind of dilated cardiomyopathy, and it's a potentially life-threatening condition. There is no specific reason behind it.

 

Noncompaction Cardiomyopathy

It is also known as Spongiform Cardiomyopathy which is a rare condition that occurs in the womb. It is caused by an abnormal growth of heart muscles within the womb. Diagnosis may occur at any phase of life.

 

Alcoholic cardiomyopathy

It is due to drinking excessive alcohol for a long period of time. This could weaken the heart, which further leads to it being unable to effectively pump the blood. This results in heart enlargement. 

 

Causes of Cardiomyopathy

Certain medical conditions or behavior that could lead to cardiomyopathy are:

 
  • Long term high blood pressure.
  • Damage to the heart's tissue as a heart attack.
  • Long-term, rapid heart rate.
  • Heart valve problems.
  • COVID-19 infection.
  • Certain infections, specifically those that result in inflammation in the heart.
  • Metabolic disorders, like thyroid disease, obesity, or diabetes.
  • A lack of vital minerals or vitamins in daily diet for example Thiamin (vitamin B-1).
  • Pregnancy complications.
  • Iron buildup in heart muscle (hemochromatosis).
  • The formation of small lumps of inflammation cells (granulomas) anywhere in the body such as the lungs and heart (sarcoidosis).
  • The accumulation of abnormal proteins within the organs (amyloidosis).
  • Connective tissue disorders.
  • Alcohol consumption that is excessive over a long period of time.
  • The use of amphetamines, cocaine or anabolic steroids.
  • The use of certain chemotherapy drugs as well as radiation to fight cancer.

Symptoms of Cardiomyopathy

The symptoms of all types of cardiomyopathy are similar. In all instances, the heart isn't able to provide blood flow to organs and tissues within the human body. This can cause symptoms that include:

 
  • General fatigue and weakness
  • Breathlessness, especially during exertion or exercise
  • Dizziness and lightheadedness
  • Chest pain
  • Heart palpitations
  • High blood pressure  
  • Fainting attacks  
  • Swelling of your ankles, feet and legs

How to recover from cardiomyopathy?

This condition isn't curable however, with treatment, symptoms can be reduced and many people live active and healthy lives.

 

Treatment for Cardiomyopathy

The treatment for cardiomyopathy depends on the degree of damage to the heart due and body due to cardiomyopathy & its symptoms. Some people might not need treatment until symptoms appear.

 

People who start to feel breathless or chest pain could require some changes to their lifestyle or take medication.

 

Heart-healthy lifestyle changes

Should get enough sleep, eat a healthy diet including a variety of fruits and vegetables and whole grains.

 

Medicines

Take Medicines that are used for treating high blood pressure, prevent water retention, maintain the heart running at a normal rhythm, stop blood clots and inflammation.

 

Surgically implanted devices 

Implantable cardioverter-defibrillator (ICD), Ventricular assist device (VAD) and Pacemaker can be surgically implanted in the heart to improve its functions.

 

Heart transplant

The purpose of heart transplant is to help the heart be as efficient as possible, and also to stop any further damage or the loss of functionality.

 

Home Remedies for Cardiomyopathy

Reduce alcohol consumption or switching to healthier alternatives –

Try mint and lemon in sparkling water to get rid of alcohol or tobacco.

 

Controlling high blood pressure 

Through reducing sodium intake and eating more nutritious foods such as lean meats , grilled vegetables.

 

Lowering your cholesterol level 

By switching saturated fats (takeaways and dairy products, biscuits, etc.) for non-saturated fats (olive oil and avocados, nuts)

 

Work on lowering stress 

Meditation and taking time to relax whenever you're in need will aid in reducing stress.

 

Do regular exercise 

Take an hour of walking every day and also take the stairs instead of taking lifts.

 

When to see a doctor?

Consult your physician/doctor if you are suffering from one or more of the symptoms or signs that are related to cardiomyopathy.

 

Cardiomyopathy could be passed in the families (inherited). If you suffer from an illness, your physician/doctor may suggest that family members of yours be checked.

Read More
Heatstroke- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 17 March, 2022

Heatstroke- Causes, Symptoms and Home remedies

During summer, people have to face all kinds of problems- Heatstroke is also one of those problems. This problem is caused by rising temperature due to which people find it very difficult to get out of the house because these days very strong hot winds blow in the afternoon. Young children are the most sensitive to this. People with good immunity can tolerate these hot winds and temperatures but people who have weak immunity are not able to tolerate these hot winds. As a result, they fall ill.
 
Causes of Heatstroke
Working in harsh or bright sunlight.
Travelling to or living in a place with very high temperatures.
Lack of water in the body.
Going to crowded and hot areas.
Wearing excessive clothes during the hot summer days.
Consuming alcohol in excess.
Going near a big fire etc.
Symptoms of Heatstroke
Overheating or increased temperature of the body.
Pulse intensification.
Irritability in behaviour.
Pain in half head.
Being in a state of delusion or confusion.
Feeling of weakness.
Loss of mental balance.
Dry, red or scaly skin etc.
Effective home remedies for Heatstroke
Always keep in mind that do not give any liquids immediately to a person who has fainted due to heatstroke. Rather take him to a cool place. Also, to avoid heatstroke, take the help of the following home remedies.
 
Sandalwood powder-
 
Sandalwood has a cooling effect. Therefore, it works by reducing the temperature of the body, keeping it cool. For use, mix 3 to 4 spoons of sandalwood powder with a little water and make a paste. Then apply this paste on the forehead and chest and leave it for some time. After some time wash the coated area with cold water. By doing this the body gets relief from the heat.
 
Bathing with cold water-
 
The person who goes outside the house and does more laborious and hectic work should take bath with cold water to avoid heatstroke because the cold water helps to reduce the body temperature and protect the body from heatstroke.
 
Aam Panna-
 
Aam Panna acts as a tonic in case of heatstroke. It is prepared from raw mango and some spices (cumin, fennel, black pepper and black salt etc.). Its taste is sour-sweet. It helps to keep the body cool and provides energy and electrolytes. Therefore, it is very good to consume it in case of heatstroke.
 
Buttermilk-
 
Buttermilk works to keep the body hydrated and cool because it contains elements like proteins, vitamins, minerals and probiotics which helps to replenish the essential elements in the body. Therefore, in case of heatstroke, add a glass of water, a pinch of salt and a pinch of cumin powder to four spoons of curd, mix it well and consume one to two glasses of this drink daily. This gives a person relief from heatstroke.
 
Tamarind juice-
 
Tamarind fulfils the deficiency of essential nutrients and electrolytes in the body during dehydration due to which the body temperature remains normal. Therefore, it is good to use tamarind as a home remedy in case of heatstroke. For use, boil tamarind, extract the liquid from it and add a small amount of sugar or honey to it. Consume this herbal drink when it is cold. By doing this, heatstroke can be avoided.
 
Aloe vera-
 
Aloe vera works by keeping the body cool, eliminating the symptoms of heatstroke because it contains a high amount of vitamins and minerals. These naturally increase the body's ability to fight external changes and stimulate the body's defence mechanisms. Apart from this, aloe vera also proves helpful in stabilizing various systems of the body. Therefore, apply a paste of aloe vera gel on the body or consume aloe vera juice for use.
 
Onion juice-
 
Onion juice and paste are very popular remedies for heat stroke which helps in the relaxation of the body by eliminating the symptoms of heatstroke. Onion juice can be used in two ways in case of heatstroke. First- Apply onion juice behind the ears, on the chest and soles of the feet. Second- When the symptoms of heatstroke start to disappear from the body, take one spoon of onion juice mixed with one spoon of honey. It can also be consumed twice a day due to which the symptoms of heatstroke end more quickly.
 
Apple Cider Vinegar-
 
Many types of minerals and vitamins are present in Apple Cider Vinegar which work to overcome the lack of electrolytes in the body. Therefore, it is good to consume apple cider vinegar in case of heatstroke. For consumption, add a spoonful of apple cider vinegar to a glass of cold or plain water and mix it well. Then consume it. By doing this, the symptoms of heatstroke get relief.
Read More
Chest pain- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 13 December, 2021

Chest pain- Causes, Symptoms and Home remedies

The problem of chest pain is often due to some kind of problem in the chest. During this, the person starts feeling various symptoms such as heaviness in the chest, sharp or less pain in the chest and prickling etc. In some people, due to chest pain, its effect extends to the neck and jaw. According to Ayurveda, chest pain occurs due to an imbalance of Kapha, Pitta or Vata in a person. In some people, chest pain occurs due to some major disease. In such a situation, people should contact the doctor immediately. Apart from this, if chest pain is the initial symptom then it can be cured by using some home remedies. Let us know about the causes, symptoms and home remedies for chest pain through this article.

 

Causes of Chest pain

A person has chest pain from one side or someone starts having pain in one half. This pain may be mild or severe. There are many reasons behind this. In most cases, chest pain is caused by gas or acidity. Apart from this, heart problems, infection in the lungs, oesophagus, muscles and ribs can also be due to a problem in the nerves. Let us have a look at the reasons for chest pain which are-

 

Stomach problem-

If there is any kind of problem in the stomach, chest pain starts arising. When gas builds up in the gallbladder and this gas moves towards the chest, chest pain starts. In this condition, taking antacid medicine reduces the pain. This problem mostly occurs while sleeping.

 

Lung-related disease-

One of the reasons for chest pain is also a lung infection or lung-related disease. During this, the pain is not in the middle of the chest but in the side. This pain is aggravated by breathing or coughing. Chest pain can also occur due to diseases like tuberculosis or pneumonia.

 

Pleuritis (inflammation of the inner walls of the chest)-

Inflammation in the inner walls of the chest also causes chest pain. If the membrane of the upper surface of the lungs becomes inflamed, then the air starts rubbing on breathing through the swollen surface of the inner wall of the chest due to which unbearable pain occurs in the chest of the person. This condition is called pleuritis.

 

Angina pectoris-

Angina is a symptom of coronary artery disease. When there is a blockage in the veins carrying blood to a person's heart or due to any reason the blood flow to the heart slows down due to which pain or discomfort is felt in the chest.

 

Coronary artery dissection-

A hole or scratch in a coronary artery due to some reason is called coronary artery dissection. In this condition, there is a sudden sensation in the chest accompanied by severe pain, which affects many parts of the body such as the neck, back or abdomen.

 

Peripheral Vascular Disease-

Pain in the arteries of the heart is called peripheral vascular disease (P.V.D). This problem arises when the circulation of blood in the arteries that supply blood to the brain and the internal organs of the body connected with the heart starts getting obstructed which causes pain in the chest.

 
  • Symptoms of Chest pain
  • Feeling of prickling or twitching in the chest.
  • Feeling of heaviness in chest.
  • Anxiety or restlessness.
  • Feeling weak
  • Difficulty in breathing
  • Pain spreading to other parts of the body such as the back, neck and arms.
  • Having trouble swallowing
  • Bad taste in the mouth.
  • Vomiting or nausea.
  • Cold sweat i.e, sweating because of fear or anxiety rather than heat.

Prevention methods for Chest pain

  • Avoid extreme cold environments.
  • Do not consume too much salt while eating.
  • Exercise daily.
  • Eat fibre-rich foods in the diet.
  • Avoid consuming calorie-rich foods.
  • Avoid smoking, tobacco and alcohol consumption.
  • Drink fresh pomegranate juice daily.

Home remedies for Chest pain

Garlic-

According to research done on this, daily consumption of garlic reduces the chances of heart disease. It lowers cholesterol and prevents plaque from reaching the arteries. It also helps in improving blood flow. Therefore, taking 1 teaspoon of garlic juice in hot water every day is beneficial in chest pain and heart diseases. Apart from this, chewing one garlic bud and 2 cloves daily is also beneficial.

 

Ginger-

Consumption of ginger is also useful in heart-related diseases. Ginger contains a compound called gingerol which lowers cholesterol levels. Apart from this, antioxidants are present in ginger which protect the blood vessels from getting damaged. For this reason, it is beneficial to consume ginger tea daily.

 

Almond-

Almonds are rich in poly natural fatty acids and magnesium which reduces the risk of chest pain. Apart from this, mix almond oil and rose oil in equal quantities in case of chest pain. Now apply this mixture to the chest with light hands.

 

Turmeric-

Curcumin is found in abundance in turmeric which helps in clotting and reducing arterial plaque. Apart from this, curcumin also reduces swelling of the chest which provides relief from chest pain. For this, drink turmeric mixed with warm milk daily. By doing this, chest pain gets relief.

 

Basil-

Basil leaves are rich in vitamin K and magnesium. The magnesium present in it prevents the build-up of cholesterol in the bloodstream to the heart. It is also helpful in treating heart disorders as well as chest pain. For this, taking one spoon of basil juice with honey or eating 8-10 basil leaves also provides relief in chest pain.

 

Aloe vera-

Many medicinal properties are found in Aloe Vera which help to keep the heart healthy, control cholesterol and reduce blood pressure. All these factors work to provide relief from chest pain. For this, take 1/4 cup of aloe vera juice with warm water daily.

Read More
जानें, एंजाइना के प्रकार, कारण, लक्षण और घरेलू निदान

Posted 24 May, 2022

जानें, एंजाइना के प्रकार, कारण, लक्षण और घरेलू निदान

वर्तमान समय में गलत खान-पान एवं व्यस्त दिनचर्या के चलते लगभग हर तीसरा व्यक्ति हृदय संबंधित बीमारियों (Heart Diseases) का शिकार हो रहा है। जिसके कारण व्यक्ति अपने सेहत का ख्याल नहीं रख पाता और शुरूआती लक्षणों को नजरअंदाज करने लगता हैं। हमारा शरीर कुछ समय पहले ही हमें हार्ट अटैक (दिल का दौरा) के संकेत देना शुरू कर देता है। लेकिन हम व्यस्त दिनचर्या के चलते इसे नजरअंदाज कर देते हैं। जिसका परिणाम अक्सर जानलेवा साबित होता है। हार्ट अटैक आने से पहले सीने में जो दर्द उठता है, उसे एंजाइना  (Angina) कहा जाता है। जब दिल की नसों में रक्त प्रवाह ठीक तरह से नहीं हो पाता। जिससे हृदय को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता। जिससे एंजाइना का दर्द जबड़े, बांह और पीठ के ऊपरी हिस्से में उत्पन्न होने लगता है।

 

एंजाइना क्या है?

एंजाइना कोरोनरी धमनी की बीमारी का एक लक्षण है। जब किसी व्यक्ति के दिल तक रक्त पहुंचाने वाली नसों में ब्लॉकेज हो जाता है या किसी भी कारण से दिल तक पहुंचने वाला रक्त प्रवाह (Blood Flow) धीमा पड़ जाता है। जिसके कारण सीने में दर्द या बेचैनी महसूस होती है। इसे ही एंजाइना कहते हैं। एंजाइना को मेडिकल भाषा में इस्केमिक चेस्ट पेन (Ischemic chest pain) कहा जाता है।

 

ब्लड के माध्यम से दिल तक ऑक्सीजन का संचार होता है। लेकिन कम मात्रा में ब्लड पहुंचने के कारण हार्ट तक ऑक्सीजन ठीक तरह से नहीं पहुंच पाती। जिसकी वजह से हार्ट ठीक से पंप नहीं कर पाता। ऐसे में दिल पर दबाव पड़ने लगता है और यह बाधित रक्त प्रवाह दिल की मांसपेशियों को कमजोर या पूरी तरह नष्ट कर देता है। इस दौरान व्यक्ति को दिल के दौरे पड़ सकते हैं। आमतौर पर, यह दर्द कुछ ही समय में ठीक हो सकता है। लेकिन कई बार यह काफी सारी परेशानियों का कारण भी बन सकता है।

 

एंजाइना के प्रकार-

स्टेबल एंजाइना (Stable Angina)-

यह एंजाइना का सबसे सामान्य प्रकार है। जो आवश्यकता से अधिक शारीरिक कार्य (Physical Activity) या अधिक तनाव लेने से होता है। हालांकि एंजाइना आराम करने और मेडिसिन लेने से ठीक हो जाता है।

 

अनस्टेबल एंजाइना (Unstable Angina)-

इसे एंजाइना के प्रकारों में सबसे गंभीर एवं खतरनाक माना जाता है। यह आराम करने या मेडिसिन लेने के बावजूद भी ठीक नहीं होता है। इसलिए इसे अनस्टेबल एंजाइना कहा जाता है। इस तरह के एंजाइना में काफी दर्द रहता है जो बार-बार होता है। ऐसी परिस्थिति में हार्ट अटैक यानी दिल का दौरा पड़ सकता है। ऐसे में डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए।

 

वेरिएंट एंजाइना (Varient Angina)-

वेरियंट एंजाइना काफी कम लोगों में देखने को मिलता है। यह समस्या आराम करने या सोते वक्त होता है। इस दौरान दिल की धमनियां अचानक सिकुड़ने लगती हैं। परिणामस्वरूप सीने में असहनीय दर्द होने लगता है। जिसे दवा से ठीक किया जा सकता है।

 

माइक्रो वैस्कुलर एंजाइना (Micro Vascular Angina)-

माइक्रो वैस्कुलर एंजाइना का अन्य प्रकार होता है। जब किसी व्यक्ति के दिल की सबसे छोटी धमनी में ब्लॉकेज उत्पन्न होने लगता है। जिसके कारण यह सही तरीके से काम नहीं कर पाता। परिणामस्वरूप दिल तक आवश्यक मात्रा में खून नहीं पहुंच पाता। यह समस्या ज्यादातर महिलाओं में देखने को मिलती है।

 

एंजाइना के लक्षण-

  • सीने में असहनीय दर्द होना।
  • बेचैनी महसूस करना।
  • हार्ट बर्न की समस्या महसूस करना।
  • बांहों, गर्दन, जबड़े ( jaw), कंधे और पीठ में दर्द होना।
  • चक्कर आना।
  • थकान महसूस करना।
  • सांस लेने में तकलीफ होना।
  • कमजोरी महसूस करना।
  • बार-बार पसीना आना।
  • जी मिचलाना या उल्टी होना।
  • खट्टी डकार आना।

एंजाइना होने के कारण-

एंजाइना होने के कई कारण होते हैं जिनमें से मुख्य कारण निम्नलिखित हैं-

 

धमनी में प्लाक का जमना (Arterial Plaque)-

धमनी में प्लाक का होना एंजाइना होने का मुख्य कारण होता है। इसमें धमनियों (Arteries) के भीतर प्लाक जम जाता है। जो ब्लॉकेज को जन्म देता है। यह ब्लॉकेज वसा (तरल पदार्थ), कॉलेस्ट्रॉल और अन्य तत्वों की कुछ मात्रा धमनियों की दीवार पर एकत्र होकर धमनी को संकुचित कर देती हैं। जिससे दिल में ब्लड सर्कुलेशन होने में परेशानी आती है। कारणवश सीने में दर्द और बेचैनी होने लगती है। यहां से हार्ट अटैक के खतरे की शुरूआत होती है। हालांकि इसका इलाज कोरोनरी एंजियोप्लास्टी नामक सर्जरी के द्वारा किया जा सकता है।

 

धूम्रपान करना-

ऐसे व्यक्ति को एंजाइना होने की संभावना अधिक रहती है, जो अधिक मात्रा में धूम्रपान करता है।

 

कॉलेस्ट्राल का अधिक मात्रा में होना- 

शरीर में कॉलेस्ट्राल की मात्रा अधिक होने पर भी एंजाइना का खतरा बढ़ जाता है।

 

उच्च रक्तचाप का होना-

एंजाइना उच्च रक्तचाप के कारण भी हो सकता है। इसलिए बी.पी की समस्या से ग्रस्त लोगों को उच्च रक्तचाप का इलाज जरूर कराना चाहिए।

 

तनाव पूर्ण जीवन-

ऐसा माना जाता है कि ज्यादा तनाव लेना भी कई बार एंजाइना या हार्ट अटैक जैसी गंभीर बीमारी को जन्म देता है। क्योंकि ऐसे में हम अपने स्वास्थ्य को नजर अंदाज करने लगते हैं।

 

डायबिटीज-

डायबिटीज यानी हाई शुगर एक समय के बाद हार्ट की नसों को डैमेज करने लगता है। इसके कारण भी एंजाइना हो सकता है।

 

एंजाइना से बचने के उपाय-

  • तैलीय एवं वसायुक्त भोजन का सेवन कम-से कम करें। इनका ज्यादा सेवन धमनियों के ऊपर एक परत के रूप में जम जाता है। जिससे रक्त के प्रवाह में रुकावट या अवरोध होता है।
  • मीठा का सेवन करने से शरीर में कोलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ जाता है। इससे रक्त के थक्के बन सकते हैं या रक्त गाढ़ा हो सकता है। जो आगे चलकर शरीर के लिए घातक साबित होता है।
  • उन बिमारियों का इलाज सबसे पहले करें। जो एंजाइना के खतरे को बढ़ाती हैं जैसे मधुमेह, उच्च रक्त चाप, और रक्त में उच्च कोलेस्ट्रॉल आदि।
  • चिंता, तनाव एवं अवसाद से बचें।
  • प्रतिदिन 7-8 घंटे की नींद लें।
  • धूम्रपान या अल्कोहल का सेवन बिल्कुल न करें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • संतुलित आहार का सेवन करें।

एंजाइना का ईलाज-

ईसीजी कराना- 

ईसीजी के द्वारा दिल की धड़कनों की स्थिति का पता लगाया जाता है। इसलिए हृदय संबंधी कोई दिक्कत होने पर इससे उसका पता लगाया जा सकता है।

 

दवाइयां लेना- 

टेस्ट कराने के अलावा एंजाइना का इलाज कुछ दवाईयों के द्वारा भी किया जा सकता है।

 

बाईपास सर्जरी कराना-

एंजाइना का इलाज बाईपास सर्जरी के द्वारा भी किया जा सकता है। इस सर्जरी में हार्ट की नसों में हुई ब्लॉकेज को खोल कर दिल तक पहुंचने वाले रक्त प्रवाह को ठीक किया जाता है।

 

एंजियोप्लास्टी-

एंजियोप्लास्टी को पीसीआई (percutaneous coronary intervention) भी कहा जाता है। इस सर्जरी में एक छोटा गुब्बारा, संकुचित कोरोनरी धमनी में डाला जाता है। अब इस संकुचित धमनी को चौड़ा करने के लिए गुब्बारे को फुलाया जाता है। तत्पश्चात धमनी को चौड़ा रखने के लिए एक छोटा तार का जाल (stent) डाला जाता है। ऐसा करने से दिल में रक्त के आवागमन में सुधार होता है। इस प्रकार एंजियोप्लास्टी, एंजाइना के इलाज का एक अच्छा तरीका है।

 

कोरोनरी एंजियोग्राफी-

जब एंजाइना का उपचार कई तरीकों से ठीक नहीं हो पाता। तब डॉक्टर मरीज को कोरोनरी एंजियोग्राफी कराने की सलाह देते हैं। कोरोनरी एंजियोग्राफी के दौरान दिल की रक्त वाहिकाओं के अंदर की जांच करने के लिए, एक्स-रे इमेजिंग (छबि) का उपयोग किया जाता है। इस प्रक्रिया को कार्डियक कैथीटेराइजेशन (cardiac catheterization) कहा जाता है।

 

एंजाइना को ठीक करने एवं इससे बचने के घरेलू उपाय-

एंजाइना का मुख्य कारण हार्ट ब्लॉकेज है। जिसे खोलने के लिए इन घरेलू तरीकों का प्रयोग लाभदायक होता है।

 

अर्जुन वृक्ष की छाल-

हार्ट से जुड़ी बीमारियों जैसे कि आर्टरी में ब्लॉकेज, हाई कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर और कोरोनरी धमनी की बीमारी (Coronary artery disease) के इलाज में अर्जुन वृक्ष की छाल बेहद फायदेमंद होती है। क्योंकि इसकी छाल में प्राकृतिक ऑक्सिडाइजिंग होता है। इसी कारण हार्ट अटैक से बचने के उपाय में अर्जुन वृक्ष की छाल से बने काढ़े का औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है।

 

नींबू पानी-

नींबू विटामिन-सी से भरपूर एक शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है। यह रक्तचाप में सुधार लाने और धमनियों की सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, नींबू ब्लड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और धमनियों को साफ करने में भी सहायता करता है। इसके लिए गुनगुने पानी के एक गिलास में थोड़ा-सा शहद, काली मिर्च पाउडर और एक नींबू का रस मिलाकर मिश्रण बना लें। अब इस मिश्रण को रोजाना दिन में एक या दो बार पिएं।

 

लहसुन है फायदेमंद-

लहसुन बंद धमनियों को साफ करने के लिए सबसे अच्छे उपायों में से एक है। यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है और रक्त संचार में सुधार करता है। इसके लिए कुछ लहसुन की कली को काटकर एक कप दूध में मिलाकर उबालकर थोड़ा ठंडा कर लें। अब इसे सोने से पहले पिएं।

 

अनार का जूस-

अनार में फाइटोकेमिकल्स पाया जाता है। जो एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में धमनियों की परत को क्षतिग्रस्त होने से रोकता है। इसके लिए प्रतिदिन एक गिलास  अनार के रस का सेवन करें। इस प्रकार धमनियां ब्लॉकेज के लक्षणों से राहत पाने में भी अनार फायदेमंद होता है।

 

लाल मिर्च का सेवन-

लाल मिर्च में मौजूद कैप्सेसिन नामक तत्व खराब कोलेस्ट्रॉल या एलडीएल से दिल को बचाता है। यह रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। जो धमनियों के बंद होने का मुख्य कारण हैं। इसके अलावा यह ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करके दिल के दौरे और स्ट्रोक के खतरे को भी कम करता है। इसके लिए गर्म पानी के एक कप में आधा या एक चम्मच लाल मिर्च मिला लें। अब इस मिश्रण को कुछ दिनों के लिए नियमित रूप से सेवन करें।

Read More
हार्ट अटैक

Posted 25 May, 2022

हार्ट अटैक

हार्ट अटैक – इन दिनों हार्ट अटैक जैसी जानलेवा बीमारी इतनी आम हो गई है कि हर चौथा व्यक्ति इससे पीड़ित है। दिल्ली के शालीमार स्थित मैक्स अस्पताल द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार, 21वीं सदी में 40 साल से कम उम्र के 40 प्रतिशत युवा इसके शिकार हो रहे हैं। जिसका मुख्य कारण है सेहत का ठीक से ख्याल न रखना तथा व्यस्त दिनचर्या के चलते इसके शुरूआती लक्षणों को नज़रअंदाज़ कर देना। जिसका परिणाम अक्सर जानलेवा साबित होता है।

 

क्या है हार्ट अटैक?

 

यह दिल से जुड़ी समस्याओं में से प्रमुख बीमारी है। जिसे दिल का दौरा भी कहते हैं। जब किसी व्यक्ति के दिल तक रक्त पहुंचाने वाली नसों में ब्लॉकेज हो जाता है या किसी भी कारण से दिल तक पहुंचने वाला रक्त प्रवाह (Blood Flow) धीमा पड़ जाता है। ऐसे में दिल पर दबाव पड़ने लगता है। यह बाधित रक्त प्रवाह दिल की मांसपेशियों को कमजोर या पूरी तरह नष्ट कर देता है। इसी स्थिति का परिणाम दिल का दौरा या हार्ट अटैक होता है।

 

हार्ट अटैक के कारण:

 

इसके आने के कई कारण होते हैं जिनमें से मुख्य कारण निम्नलिखित हैं-

 

धमनी में प्लाक का जमना (Arterial Plaque)-

 

धमनी में प्लाक का होना भी हार्ट अटैक आने का कारण होता है। इसमें धमनियों (Arteries) के भीतर प्लाक जम जाता है, जो ब्लॉकेज होने लगता है। यह ब्लॉकेज वसा (तरल पदार्थ), कॉलेस्ट्रॉल और अन्य तत्वों के बनने के कारण होती है। धमनियों में ठोस पदार्थ बनने के कारण ब्लड सर्कुलेशन होने में परेशानी आती है। यहां से इसके खतरे की शुरूआत होती है।

 

कॉलेस्ट्राल का अधिक मात्रा में होना- 

 

शरीर में कॉलेस्ट्राल की मात्रा अधिक होने पर भी हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। अत: ऐसे व्यक्ति को अपने स्वास्थ और शरीर द्वारा मिल रहे संकेतो पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

 

उच्च रक्तचाप का होना-

 

दिल का दौरा यानि हार्ट अटैक उच्च रक्तचाप का परिणाम भी हो सकता है। इसी कारण बी.पी. की समस्या से ग्रस्त लोगों को उच्च रक्तचाप का इलाज जरूर कराना चाहिए।

 

तनाव पूर्ण जीवन-

 

माना जाता है कि ज्यादा तनाव लेना भी कई बार हार्ट अटैक जैसी बीमारी को जन्म देता है। क्योंकि ऐसे में हम अपने स्वास्थ्य से नकारात्मक अथार्त विपरीत कार्य करने लगते हैं। 

 

जेनेटिक हार्ट अटैक- 

 

अगर परिवार में किसी को हार्ट अटैक आ चुका होता है। ऐसे में उस व्यक्ति के बाद परिवार के अन्य सदस्यों में भी हार्ट अटैक आने की संभावना बढ़ जाती है।

 

धूम्रपान एवं तंबाकू का सेवन करना-

 

ऐसे व्यक्ति को हार्ट अटैक आने की संभावना अधिक रहती है, जो अत्यधिक मात्रा में धूम्रपान एवं तंबाकू का सेवन करता है।

 

डायबिटीज-

 

डायबिटीज यानि हाई शुगर एक समय के बाद हार्ट की नसों को डैमेज करने लगता है। इसके कारण भी हार्ट अटैक आता है।

 

हार्ट अटैक के लक्षण:

 

हार्ट अटैक से पहले मानव-शरीर कुछ ऐसे लक्षण देता है, जो इसके घटने का संकेत देते हैं। इनपर अगर ध्यान दिया जाए तो समय रहते हार्ट अटैक को रोका सकता है।

 

छाती में तेज दर्द होना-

 

छाती में कहीं भी तेज दर्द होना दिल के दौरे का प्रमुख लक्षण है। बहुत बार हम इसे सामान्य दर्द समझ कर नज़रअंदाज़ कर देते हैं, जो आगे चल कर नुक्सानदायक साबित हो सकता है।

 

पसीना आना-

 

दिल का दौरा पड़ने पर अक्सर लोगों को बहुत पसीना आता है। इसके साथ ही उन्हें घबराहट भी महसूस होती है। जो हार्ट अटैक के मुख्य लक्षणों में से एक है।

 

सांस लेने में कठिनाई होना- 

 

लंबी सांस लेना, सांस लेने में कठिनाई होना या सांसे फूलना भी दिल का दौरा पड़ने का लक्षण हो सकता है।

 

उल्टी होना-

 

कुछ लोगों को दिल का दौरा पड़ने से पहले उल्टी भी होती है। इसलिए अगर किसी को छाती में दर्द के बाद उल्टी हो या उल्टी जैसा महसूस हो तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

 

सूजन-

 

शरीर के सभी आंतरिक अंगों में रक्त पहुंचाने के लिए जब दिल को अधि‍क मेहनत करनी पड़ती है तो शि‍राएं (veins) फूल जाती हैं और उनमें सूजन आने लगती है। इसका असर पैर के पंजे और शरीर के अन्य हिस्सों में सूजन के रूप में नजर आता है। यह भी हार्ट अटैक का एक मुख्य लक्षण है।

 

हार्ट अटैक को ठीक करने व इससे बचने के घरेलू उपाय:

 

हार्ट अटैक का मुख्य कारण हार्ट ब्लॉकेज है। जिसे खोलने के लिए इन घरेलू तरीकों का प्रयोग लाभदायक हो सकता है।

 

अनार का सेवन है फायदेमंद-

 

अनार में फाइटोकेमिकल्स होता है, जो एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में धमनियों की परत को क्षतिग्रस्त होने से रोकता है। रोजाना एक कप अनार के रस का सेवन करें। हार्ट ब्लॉकेज के लक्षणों से राहत पाने में भी अनार का घरेलू उपाय फायदेमंद होता है।

 

लहसुन का प्रयोग है लाभदायक-

 
  • लहसुन बंद धमनियों को साफ करने के लिए सबसे अच्छे उपायों में से एक है। यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है, और रक्त संचार में सुधार लाता है।
  • लहसुन की कुछ कली को काटकर एक कप दूध में मिलाकर उबाल लें। थोड़ा ठण्डा होने पर सोने से पहले पिएं। इसलिए हार्ट अटैक की बीमारी से ग्रस्त लोग अपने आहार में लहसुन को शामिल कर सकते हैं।
 

अर्जुन वृक्ष की छाल है मददगार-

 

हार्ट से जुड़ी बीमारियों जैसे कि आर्टरी में ब्लॉकेज, हाई कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर और कोरोनरी धमनी की बीमारी (Coronary artery disease) के इलाज में अर्जुन वृक्ष की छाल बेहद फायदेमंद होती है। इसकी छाल में प्राकृतिक ऑक्सिडाइजिंग होता है। इसी कारण हार्ट अटैक से बचने के उपाय में अर्जुन की छाल का औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है।

 

नींबू का उपयोग है आरामदायक-

 

नींबू विटामिन-सी से भरपूर एक शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट पदार्थ है। यह रक्तचाप में सुधार लाने और धमनियों की सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा नींबू ब्लड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और धमनियों को साफ करने में भी सहायता करता है। इसके लिए आप गुनगुने पानी के एक गिलास में थोड़ा-सा शहद, काली मिर्च पाउडर और एक नींबू का रस मिला लें। कुछ हफ्तों के लिए इसे दिन में एक या दो बार लेते रहें।

 

राहत दिलाती है लाल मिर्च-

 

लाल मिर्च में मौजूद कैप्सेसिन नामक तत्व खराब कोलेस्ट्रॉल या एलडीएल से दिल को बचाता है। यह रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है, जो धमनियों के बंद होने का मुख्य कारण हैं। इसके अलावा यह ब्लड सर्कुलेशन में सुधार कर, दिल के दौरे और स्ट्रोक के खतरे को भी कम करता है

 

हार्ट अटैक का आधुनिक ईलाज:

 

ईसीजी कराना-

 
ईसीजी के द्वारा दिल की धड़कनों की स्थिति का पता लगाया जाता है। ताकि अगर कोई दिक्कत हो तो उसे ठीक किया जा सके। इसलिए ईसीजी को हार्ट अटैक के इलाज का पहला बिंदु माना जाता है।
 

बाई पास सर्जरी कराना-

 

दिल के दौरे का इलाज बाईपास सर्जरी के द्वारा भी किया जाता है। इस सर्जरी में हार्ट की नसों में हुई ब्लॉकेज को खोल कर दिल तक पहुंचने वाले रक्त प्रवाह को ठीक किया जाता है।

 

पेसमेकर का इस्तेमाल करना–

 

हार्ट अटैक का इलाज पेसमेकर की सहायता से भी किया जाता है। क्योंकि पेसमेकर दिल की धड़कनों को नियमित करने में सहायक होता है।

 

ह्रदय प्रत्यारोपण सर्जरी कराना–

 

हार्ट अटैक का इलाज किसी भी अन्य तरीके से संभव न होने पर डॉक्टर ह्रदय प्रत्यारोपण सर्जरी (Heart Transplant  Surgery) करने की सलाह देते हैं। इस सर्जरी के जरिए मरीज को नई ज़िंदगी दी जाती है।

 

दवाइयां लेना- 

 

कई बार हार्ट अटैक का इलाज दवाईयों के द्वारा भी किया जाता है। इस दौरान डॉक्टर व्यक्ति को उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल लेवल आदि को नियंत्रित करने की दवाएं देते हैं। ये दवाईयां हार्ट अटैक की संभावना को काफी हद तक कम करने में मदद करती हैं।

 

हार्ट अटैक से बचने के लिए ध्यान रखें ये सावधानियां-

 
  • भोजन में कम से कम ऑयल और देशी घी का सेवन करें। इसके अलावा डाल्डा घी का सेवन कतई न करें। क्योंकि इनका अधिक सेवन धमनियों के ऊपर एक परत के रूप में जम जाता है और रक्त के प्रवाह पर बुरा असर डालता है।
  • मीठा सेवन करने से शरीर में कोलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ने लगता है। इससे रक्त की धमनियों में थक्के बन सकते हैं, जो आगे चलकर शरीर के लिए घातक साबित होता है।
  • चिंता, तनाव, अवसाद आदि से दूर रहें।
  • प्रतिदिन 7-8 घण्टे की नींद अवश्य लें।
  • धूम्रपान, तंबाकू, शराब आदि का सेवन न करें। क्योंकि इनका सीधा प्रभाव दिल की धमनियों पर पड़ता है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

 

हृदय रोग के इन लक्षणों के महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से बात करनी चाहिए। क्योंकि ये शुरुआती दौर के हार्ट अटैक के संकेत हो सकते हैं।

 
  • छाती के बीचों-बीच दर्द होना तथा समय के साथ उस दर्द के बढ़ते रहने पर।।
  • छाती पर असहज दबाव महसूस होने पर।
  • बेचैनी या ज्यादा पसीना आने पर।
  • छाती में दर्द के बाद उल्टी या दस्त होने पर।
Read More