Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

मटर के अनसुने और अनदेखे फायदे एवं उपयोग

Posted 29 November, 2022

मटर के अनसुने और अनदेखे फायदे एवं उपयोग

सर्दियों का मौसम आते ही बाजारों में कई तरह की सब्जियां देखने को मिलती हैं। मटर भी ठंड के समय मिलने वाली लोकप्रिय सब्जियों में से एक हैं। इसका उपयोग कई प्रकार के स्वादिष्ट एवं लजीज व्यंजन बनाने में किया जाता है। चाहे मटर पनीर हो या वेज बिरयानी, पुलाव या पराठा। इन सभी पकवान का स्वाद बढ़ाने के लिए थोड़ी सी मटर ही काफी है । लेकिन ऐसा कतई नहीं है कि मटर का इस्तेमाल सिर्फ खाने तक सीमित है। क्योंकि मटर कई तरह की शारीरिक समस्याओं से निजात दिलाने में भी मदद करता है। इसमें कई ऐसे औषधीय गुण मौजूद है जो शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं। आयुर्वेद में भी इसके पौष्टिक गुण हमारे शरीर को कई तरह की बीमारियों से बचाते हैं।

मटर क्या है?

मटर दाल की श्रेणी में आता है और विश्व भर में इसका सेवन किया जाता है। इसलिए जायकेदार एवं स्वादिष्ट व्यंजनों में मटर का अहम स्थान है। इसके पत्ते बड़े आकार के होते हैं। मटर की फली आकार में लगभग 2-4 इंच लंबी होती है जिसमें कई सारे बीज लगे होते हैं। इसके अंदर के दानों का उपयोग खाने के रूप में किया जाता है।

मटर के पौष्टिक तत्व-

मटर में तमाम एंटीऑक्सीडेंट, फाइबर और खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं। साथ ही हरी मटर में प्रोटीन, सोडियम, विटामिन सी, आयरन, विटामिन बी6, मैग्नीशियम और कैल्शियम होता है। इसके अलावा मटर में पाए जाने वाले कुछ फाइटोन्यूट्रिएंट जैसे कैटेचिन और एपिकेचिन, फेनोलिक एसिड और सैपोनिन जैसे फ्लेवनॉल्स पाए जाते हैं। यह सभी तत्व शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं। इन्हीं गुणों के कारण हरी मटर को सुपर फ़ूड कहा जाता है।

मटर के फायदे

वजन कम करने के लिए-

फाइबर युक्त आहार को भोजन का अपचनीय हिस्सा माना जाता है। क्योंकि इसे पचने में अधिक समय लगता है। दरअसल मटर में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। साथ ही इसमें कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है। इसलिए इसके उपयोग से पेट लंबे समय तक भरा-भरा सा लगता है और व्यक्ति को भूख का अहसास भी नहीं होता है। यहीं कारण है कि मटर वजन घटाने में मदद करता है। इसके अलावा, उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ वसा के जमाव को रोककर चयापचय में सुधार करता है।

मधु शर्करा को नियंत्रित रखने में सहायक-

मटर में कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं, जो मधुमेह की समस्या में फायदेमंद होते हैं। इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट (मुक्त कणों के प्रभाव को रोकने वाला) गुण संयुक्त रूप से बढ़े हुए ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए मधुमेह रोगियों के लिए मटर बहुत ही लाभकारी भोजन माना जाता है।

प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में कारगर-

मटर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाते हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट प्रतिरक्षा कोशिकाओं को मुक्त कणों से बचाने का काम करते हैं। इसके अतिरिक्त हरा मटर आयरन, जिंक, कॉपर और मैंगनीज से समृद्ध हैं। यह सभी तत्व शरीर को तमाम रोगों से बचाने में सहायता करते हैं।

आंखों की सेहत के लिए फायदेमंद

मटर विटामिन ए से भरपूर हैं, जो बेहतर दृष्टि के लिए एक प्रमुख तत्व माना जाता है। यह विटामिन आंख की सतह को हानिकारक मुक्त कणों से बचाने और म्यूकोसल स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।

रक्तचाप को करे नियंत्रित-

रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए अपने आहार में हरा मटर को शामिल करना बेहद फायदेमंद होता है। क्योंकि यह फास्फोरस, पोटैशियम, मैग्नीशियम जैसे खनिजों से भरपूर होता है। यह सभी तत्व रक्त वाहिकाओं की अंदरूनी परत को चौड़ा करने में मदद करते हैं। साथ ही इसे संकुचित होने से बचाते हैं। जिससे रक्तचाप कम करने में मदद मिलती है।

हड्डियों की मजबूती के लिए

हड्डियों के निर्माण के लिए विटामिन डी की आवश्यकता होती है। साथ ही विटामिन K हड्डियों संरचना को बनाए रखने का काम करता है। यह सभी विटामिन मटर में प्रचुर मात्रा में होती है। इसमें मौजूद विटामिन K शरीर की हड्डियों के संरचनात्मक घनत्व को बढ़ाने के लिए कैल्शियम के साथ मिलकर काम करता है। यह हड्डियों में कैल्शियम की मरम्मत में मदद करता है। जिससे शरीर से कैल्शियम का निष्कासन कम हो जाता है।

पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद-

हरा मटर फाइबर से समृद्ध है जो भोजन को पचाने में मदद करता है। यह डाइजेस्टिव जूस को उत्तेजित कर पाचन क्रिया में सकारात्मक प्रभाव डालता है। जिससे शरीर के पाचन तंत्र के कार्य में सुधार होता है।

बालों के विकास के लिए-

हरा मटर का सेवन बालों के विकास के लिए अच्छा होता है। क्योंकि इसमें विटामिन सी, प्रोटीन, आयरन और जिंक पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। यह सभी तत्व बालों को मजबूत बनाने और उनके विकास को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

ब्रोंकाइटिस के इलाज में सहायक-

मटर एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद हैं जो ब्रोंकाइटिस के इलाज में उपयोगी होते हैं।

मटर के हानिकारक प्रभाव

मटर के अधिक सेवन से शरीर पर कुछ हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है। जिसमें शामिल निम्नलिखित हैं:

  • मटर विटामिन K का अच्छा स्त्रोत है। चूंकि विटामिन K स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखने के लिए आवश्यक होता है। लेकिन शरीर में विटामिन K के उच्च स्तर से रक्त का पतलापन और प्लेटलेट की संख्या कम हो सकती है। जिससे धीमी गति से घाव भरने और अत्यधिक रक्त स्राव का कारण बन सकता है।
  • मटर में उच्च फाइबर होता है जो स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। अधिक फाइबर युक्त भोजन करने से वजन बढ़ जाता है।
  • कच्चे हरे मटर में लेक्टिन नामक पदार्थ होता है, जो गैस और सूजन का कारण बनता है।

यह कहां पाया जाता है?

हरा मटर नम और ठंडी जलवायु में सबसे अच्छी तरह से फलती-फूलती है। भारत में यह महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान, पंजाब और बिहार में पाया जाता है।

Read More
10 Interesting Health Benefits and Side Effects of Turnip

Posted 14 September, 2022

10 Interesting Health Benefits and Side Effects of Turnip

Turnip is an apple-sized round root-vegetable belonging to the Brassicaceae family. When the plant is exposed to sunlight, a light purple hue appears at the top. The inner flesh of the turnip is white with a purple, reddish or pinkish tinge and the vegetable is usually conical in shape. The sprouts and leaves of this vegetable are edible and are widely used in European, Asian, and Eastern American cuisine.

Turnip is a cool weather vegetable that can be grown both in autumn and in spring. Cool climate is essential for its proper growth i.e. temperature range of 10-16 degrees centigrade is required.

Nutritional Values of Turnip

Turnip contains a number of essential nutrients that help our body function properly and even protect us from the harmful effects of various microbes. These are low-calorie vegetables which contain a significant amount of minerals.

It is packed with essential vitamins and minerals like vitamin C, vitamin E, vitamin K, iron, folic acid and fiber which perform various functions in the body and support overall health.

Health Benefits of Turnip

  • Good for heart health-Turnip contains potassium, which is a vasodilator. Potassium helps reduce strains on blood vessels and arteries by lowering blood pressure. It helps to prevent problems like atherosclerosis and also reduces the risk of heart attacks and strokes. This vegetable also contains dietary fiber, which removes excess cholesterol from the heart and keeps your heart in good shape.
  • Improves memoryTurnip contains choline which plays a vital role in performing various functions in the body as it is an essential component of neurotransmitters and a primary component of the cell membrane that forms the major part of memory.
  • Prevents body odour and aids in weight lossDrinking turnip juice helps prevent body odour. Turnips are high in fiber, which helps regulate bowel movement and makes it easier for our body to absorb nutrients. It protects us from overeating, thus helps in weight loss.
  • Fights cancerTurnip contains a number of antioxidants such as vitamin C, vitamin E, manganese and beta-carotene, all of which helps prevent the harmful effects of free radicals in our body. As a cruciferous vegetable, turnip contains a compound called sulforaphane, which has anti-cancer properties. Including turnips in your diet can help prevent cancer.
  • Good for digestive problems-Turnip contains dietary fiber which increases the volume of stool and facilitates its easy movement through our digestive system. In this way, the stools are easily expelled and various digestive problems such as constipation, diarrhea, flatulence and cramps are eliminated.
  • Strengthens body immunityसTurnip has vitamin C and ascorbic acid, which are powerful antioxidants that protect the body from the harmful effects of foreign microbes. Vitamin C stimulates the formation of white blood cells, which helps in boosting immunity.
  • Good for bones-The presence of calcium and potassium in turnip keeps your bones healthy. Turnips are rich in calcium, which helps in the formation of connective tissue in the body. Therefore, including turnip in your diet helps reduce joint damage and even prevents osteoporosis and rheumatoid arthritis.
  • Improves metabolism-Turnip contains vitamin B complex which helps to regulate the hormonal and enzymatic processes in our body and ensures our body to function properly.
  • Good for eyesTurnip helps to keep your eyes healthy due to the presence of lutein. The carotenoid helps to prevent eye diseases such as macular degeneration and cataracts.
  • Treats lung diseasesTurnips help overcome vitamin A deficiency in smokers caused by carcinogens of cigarettes. Thus, it helps prevent serious conditions like pneumonia, emphysema, and other lung problems.

Side Effects of Turnip

  • If you are suffering from thyroid disease, you should avoid turnip, as this vegetable contains certain compounds that can affect the thyroid gland and interfere with hormone functioning.
  • If you are taking nitrate drugs, it is advisable not to eat this vegetable because of its high nitrate content.

Where is it found?

Turnips are commonly grown in temperate regions all over the world. In India, Bihar, Haryana, Punjab, Himachal Pradesh and Tamil Nadu are main turnip growing states.

Read More
Are Tomatoes Good for You? Its Benefits and Side Effects

Posted 14 September, 2022

Are Tomatoes Good for You? Its Benefits and Side Effects

Tomatoes have vital nutrients which are beneficial for the body, but excessive consumption of this vegetable can have some adverse effects on our body. Let’s understand the importance of tomatoes in our life through this blog.

Tomato is one of the most versatile fruits used as a vegetable all over the world, belonging to the nightshade family of Solanaceae. Some people prefer it raw, while others like to cook it with vegetables and spices. It grows in clusters of small to medium, round, and red fruits. The flesh of this vegetable is soft and pinkish red and has a slightly sweet taste. Tomatoes are known as “Tomate” in French, “Tamatar” in Hindi and “Pomodoro” in Italian. Its scientific name is Solanum lycopersicum.

Nutritional Values of Tomato

Tomatoes contain 95% of water content and the remaining 5% is carbohydrates and fiber. It has a good amount of vitamin A, vitamin C, and vitamin K, while other vitamins such as vitamin B6, folate and thiamine are also present. Minerals such as potassium, manganese, magnesium, copper and phosphorus are found in tomatoes. This vegetable also contains fiber and protein as well as a number of other organic compounds such as lycopene which is very beneficial for our health.

Health Benefits of Tomato

  • Good for skin-Lack of vitamin C can be bad for your skin, making it vulnerable to sun damage, pollution, and smoke. Vitamin C prevents skin disorder from developing as it facilitates the production of collagen, which is an essential component of skin, nails, hair and connective tissue.
  • Helps in Type1 diabetesPeople with type 1 diabetes have lower blood sugar levels when they eat high-fiber foods such as tomatoes.
  • Reduces high blood pressureTomatoes contain potassium, a vasodilator that lowers pressure in blood vessels and arteries. It helps in increasing blood flow and reduces stress on your heart. Thereby eliminating the risk of high blood pressure.
  • Prevents urinary tract infectionTomatoes have diuretic properties which facilitate the formation of urine in our body. It helps remove toxins, as well as excess water, salt, and uric acid. This reduces the occurrence of diseases such as urinary tract infection and bladder cancer.
  • Prevent gallstonesIncluding tomatoes in your diet helps prevent gallstones. This is due to the presence of a number of essential vitamins and minerals in this vegetable.
  • Improves digestive healthTomatoes contain a healthy amount of fiber, which adds bulk to stool, allowing it to move more smoothly through the digestive tract. This prevents constipation and other complications. The fiber content aids in the secretion of gastric and digestive juices which helps stimulate peristaltic motion in the smooth digestive muscles.
  • Improves visionVitamin A is a powerful antioxidant that fights harmful free radicals that can damage our eyes. Vitamin A in tomatoes protects against macular degeneration and night blindness, and improves our vision.
  • Good for heart-Consuming tomatoes is good for the heart due to the presence of fiber, choline, potassium and vitamin C. Maintaining a high potassium to sodium ratio is helpful in preventing cardiovascular disease. Regular consumption of tomatoes helps reduce triglycerides and low-density lipoprotein (LDL) cholesterol in the blood.
  • Eliminates the bad effects of smoking-Smoking can cause lung cancer. Including tomatoes in your diet will help prevent this dangerous disease due to the abundance of vitamin A. Nitrosamines are the main carcinogens in cigarettes. The coumaric acid and chlorogenic acid found in tomatoes help eliminate the harmful effects of these carcinogens.

Uses of Tomato

  • Applying tomato juice to the skin helps remove oil and keeps it fresh for longer.
  • Applying tomato juice to the scalp and hair helps to get rid of itchy scalp and dandruff.
  • This vegetable is widely used in the preparation of salads and sauces.
  • Fruit, leaf and vine of tomatoes are used to make medicine.

Side Effects of Tomato

  • Tomatoes are naturally acidic. So, after eating too many tomatoes, you may experience acid reflux or heartburn.
  • Excessive consumption of tomatoes can cause swelling and joint pain because they contain an alkaloid called solanine.
  • A compound called histamine in tomatoes can cause skin rashes or allergic reactions. So, if you are allergic to tomatoes, you may experience swelling of the mouth, tongue and face, sneezing and sore throat.
  • Tomatoes contain lycopene. Lycopene is good for your body, but if more than 75 mg is taken per day, a person can suffer from lycopenodermia. Lycopenodermia is a skin disease that occurs when excess lycopene causes skin discoloration.

Where is it found?

Tamil Nadu, Maharashtra, Andhra Pradesh, Karnataka, Madhya Pradesh, Odisha, West Bengal, Bihar, Gujarat, Telangana, Uttar Pradesh, Chhattisgarh, Himachal Pradesh and Haryana are major tomato producing states in India.

Read More
उड़द दाल के पोषक तत्व और अद्भुत फायदे

Posted 30 August, 2022

उड़द दाल के पोषक तत्व और अद्भुत फायदे

सेहत के दृष्टिकोण से दाल का सेवन बहुत जरुरी होता है। इन्हीं दालों की श्रेणी में से एक उड़द भी हैं। जिसका सेवन भारत के साथ-साथ अन्य देशों में भी किया जाता है। उड़द दाल को विभिन्न भाषाओं में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। इसे काली दाल, मटपे बीन्स और मुंगो बीन्स के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा उड़द को अंग्रेजी में ब्लैक ग्राम (Black Gram) कहते हैं और इसका वैज्ञानिक नाम विग्ना मूंगो (Vigna Mungo) होता है।

उड़द की दाल का उपयोग सिर्फ खाने भर तक सीमित नहीं है। क्योंकि उड़द कई तरह की शारीरिक समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है। इसमें कई तरह के खनिज पदार्थ, एंटीऑक्सीडेंट और प्रोटीन मौजूद होते हैं। जो शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं। आयुर्वेद में भी इसके पौष्टिक गुण कई तरह की बीमारियों को दूर एवं ठीक करने में सहायता करते हैं। उड़द दाल के सेवन से पाचन संबंधी समस्या, मधुमेह, ऊर्जा और हड्डियों को मजबूती बनाने में मदद मिलती है।

उड़द के पोषक तत्व-

उड़द दाल प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का समृद्ध स्त्रोत मानी जाती है। जो सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद होते हैं। इसमें विटामिन, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, सोडियम, पोटेशियम आदि शामिल होते हैं। इसके अलावा उड़द दाल में ऊर्जा, आयरन, कैलोरी, फाइबर और फैटी एसिड भी मौजूद होते हैं। यह सभी पोषक तत्व हमारे शरीर को रोगों से बचाते हैं।

उड़द दाल के फायदे-

  • पाचन के लिए-उड़द की दाल सेहत के लिए अच्छी होती है क्योंकि इसमें घुलनशील और अघुलनशील फाइबर होता है। या फाइबर पाचन तंत्र और सकरात्मक प्रभाव दिखाता है। यह पाचन में मदद करता है और शरीर में गैस को बनने से रोकता है। इसमें मौजूद सभी तत्व पाचन तंत्र में सुधार कर, शरीर में मौजूद टॉक्सिक पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। इस आधार पर उड़द दाल का सेवन, पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में सहायता करता है।
  • अस्थि खनिज घनत्व को बढ़ाने के लिए-उड़द की दाल मैग्नीशियम, आयरन, पोटेशियम, फास्फोरस और कैल्शियम जैसे आवश्यक खनिजों से भरपूर होती है। यह सभी खनिज अस्थि घनत्व को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। दरअसल उम्र बढ़ने के साथ-साथ हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। जिससे फ्रैक्चर और ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या होने की संभावना बढ़ जाते हैं। ऐसे में खनिजों से भरपूर आहार का सेवन स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखने में मदद करता है।
  • मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए-मधुमेह वाले लोगों के लिए अक्सर उच्च फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। क्योंकि यह पाचन तंत्र द्वारा अवशोषित पोषक तत्वों की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा उड़द की दाल रक्त में मौजूद ग्लूकोज की मात्रा को कम करने का काम करते हैं। इस प्रकार यह मधुमेह के रोगियों के लिए फायदेमंद है।
  • त्वचा के लिए-उड़द की दाल का इस्तेमाल त्वचा से संबंधित लगभग हर आयुर्वेदिक दवा में किया जाता है। दरअसल यह खनिजों और विटामिनों से समृद्ध है। यह त्वचा की सूजन को कम करता है। यह दाग-धब्बों को दूर करने में भी मदद करता है। इस प्रकार उड़द की दाल त्वचा को चमकदार बनाने और मृत कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने में मदद करता है।
  • हृदय स्वास्थ्य के लिए-ह्रदय स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए अपने आहार में उड़द की दाल को शामिल करना बेहद फायदेमंद होता है। क्योंकि इसमें उच्च मात्रा में फाइबर, मैग्नीशियम और पोटेशियम पाया जाता है। यह सभी तत्व कई लाभ प्रदान करते हैं जो हृदय प्रणाली को स्वस्थ रखते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल को संतुलित करता है, जो एक स्वस्थ्य दिल के लिए जरुरी होता है। इसके अतिरिक्त उड़द की दाल एथेरोस्क्लेरोसिस को रोकने में मदद करता है।
  • ऊर्जा प्रदान के लिए-उड़द की दाल में आयरन की अधिकता होती है। यह शरीर में समग्र ऊर्जा स्तर को बढ़ाने के लिए अच्छी होती है। दरअसल आयरन शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है जो लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को उत्तेजित करता है। यह कोशिकाएं शरीर के सभी अंगों तक ऑक्सीजन पहुंचाती हैं। इस प्रकार, यह शरीर में ऊर्जा को बढ़ाता है।
  • उड़द दाल के नुकसान-यूं तो उड़द दाल के सेवन से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। लेकिन इसके सेवन से शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ता है। इसलिए गाउट, गुर्दे एवं पित्त के पथरी से ग्रसित लोगों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह शरीर में यूरिक एसिड की अधिक मात्रा होने से कैल्सिफिकेशन बढ़ता है।
Read More
अरहर (तुअर) दाल के फायदे और नुकसान

Posted 29 August, 2022

अरहर (तुअर) दाल के फायदे और नुकसान

भोजन की थाली में यदि एक कटोरी दाल न रखी हो, तो भोजन अधूरा-सा लगता है। है, खासकर भारतीय भोजन में दाल की अहम भूमिका होती है। इसके अलावा सेहत की दृष्टि से दाल का सेवन करना बेहद जरुरी है। इन्हीं दालों की श्रेणी में ‘अरहर’ या ‘तूर’ की दाल आती है। जिसका सेवन भारत के साथ-साथ अन्य देशों में भी किया जाता है। तूर दाल को विभिन्न भाषाओं में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। इसे तमिल में थुवरम परुप्पु, कन्नड़ में तुवरा परुप्पु, कन्नड़ में थोगरी बेले, हिंदी और गुजराती में अरहर की दाल और तेलुगु में कंडिप्पु के नाम से जाना जाता है। लेकिन ऐसा कतई नहीं है कि अरहर की दाल का उपयोग सिर्फ खाने भर तक सीमित है। क्योंकि अरहर कई तरह की शारीरिक समस्याओं को दूर करने में भी मदद करती है। अरहर में तमाम प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट और खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं। जो शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं। आयुर्वेद में भी इसके पौष्टिक गुण कई तरह की बीमारियों को दूर एवं ठीक करने में सहायता करते हैं। अरहर के सेवन से ह्रदय संबंधी रोग, पाचन और कमजोरी जैसे तमाम रोगों में आराम मिलता है।

आयुर्वेद में अरहर दाल का महत्व-

आयुर्वेद के अनुसार अरहर दाल विभिन्न प्रकार के खनिजों और पौष्टिक तत्वों से समृद्ध होता है। यह पित्त और कफ दोष को संतुलित करता है। यह समग्र त्वचा टोन में सुधार करता है। अरहर या तूर दाल का उपयोग पारंपरिक तौर पर आंतरिक रूप से सूप और बाहरी रूप से पेस्ट या मलहम के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसके पत्ते लीवर को स्वस्थ रखने और शरीर को हल्का महसूस कराने के लिए उपयोगी होते हैं। इसकी पत्तियों का उपयोग रक्तस्राव विकारों, कृमि संक्रमणों और प्राकृतिक रेचक के रूप में भी किया जाता है। तूर दाल के पेस्ट को नासूर घावों और सूजन के इलाज के लिए लगाया जाता है।

अरहर दाल के फायदे-

  • मलेरिया के इलाज में सहायक-अरहर दाल के पत्ते चालकोन नामक घटकों से बने होते हैं। दरअसल चालकोन एक सक्रिय मलेरिया घटक है जिसका उपयोग पीलिया के इलाज के लिए किया जाता है। इस प्रकार अरहर या तूर दाल मलेरिया रोधी दवा के रूप में उपयोगी होती है।
  • घाव ठीक करने में कारगर-अरहर दाल का सूजन रोधी गुण प्रभावित ऊतक में सूजन को कम करने में मदद करता है। साथ ही यह ऊतक गठन को सक्रिय करता है। इस तरह, यह ऊतक रीमॉडेलिंग में सहायक है।
  • मधुमेह और कोलेस्ट्रॉल में उपयोगी-तुअर दाल प्रोटीन से भरपूर होती है जो टाइप 2 मधुमेह को रोकने में मदद करती है। इस पर किए गए शोध के मुताबिक मधुमेह और कोलेस्ट्रॉल के रोगियों में इसके नियमित सेवन से उनके रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में काफी कमी आती है। इसके अलावा अरहर दाल में मौजूद फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट एलडीएल (खराब कोलेस्ट्रॉल) को कम करने का काम करते हैं।
  • वजन कम करने में मददगार-अरहर दाल प्रोटीन से भरपूर होता हैं। जो भूख के अहसास को कम करके, वजन कम करने में मदद करता है। इसके अलावा अरहर दाल में फाइबर और लो ग्लाइसेमिया गुण मौजूद होते हैं। यह सभी गुण चयापचय को बढ़ाकर वजन कम करने में मदद करते हैं।
  • रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक-अरहर दाल पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है, जो एक शक्तिशाली वासोडिलेटर के रूप में काम करता है। यह रक्त के थक्के को कम करके रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। जिससे उच्च रक्तचाप को नियंत्रित किया जाता है। इसलिए उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगियों के लिए अपने दैनिक आहार में तुअर दाल का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।
  • हड्डियों को मजबूत करें-तुअर दाल, कैल्शियम, फास्फोरस और मैग्नीशियम का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं जो हड्डियों को मजबूती प्रदान करतीहै। यह बुजुर्गों में इष्टतम अस्थि घनत्व को भी पुनर्स्थापित करतीहै। जिससे ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम किया जा सकता है।
  • प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए-अरहर दाल में बड़ी मात्रा में मैग्नीशियम और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। जो संक्रमण से लड़ने में सहायक होते हैं। साथ ही यह शरीर को सुरक्षा प्रदान करते हैं। इस प्रकार यह रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यून सिस्टम) को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसलिए रोजाना अपने आहार में अरहर दाल को शामिल करें। ऐसा करने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है।
  • हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद-अरहर दाल पूरी तरह से संतृप्त वसा से मुक्त है। इसलिए यह हृदय की समस्याओं वाले लोगों के लिए एक बेहतरीन प्रोटीन माना गया है। इसके अतिरिक्त इसमें मौजूद फाइबर और नियासिन की प्रचुरता अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) के स्तर को बढ़ाने और खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) के स्तर को कम करने मदद करते हैं।
  • अरहर दाल के नुकसान-वैसे तो अरहर या तुअर दाल के सेवन से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। लेकिन यदि किसी को तुअर दाल से एलर्जी है तो उसे इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

एलर्जी के कारण होने वाले कुछ आम दुष्प्रभाव निम्नलिखित हैं-

  • एलर्जी की समस्या।
  • सांस लेने में समस्या।
  • एलर्जी प्रतिक्रियाओं के कारण पाचन तंत्र की सूजन।

अरहर दाल कहां पाई जाती है?

अरहर या तुअर दाल मुख्य रूप से भारत में उगाई जाती है। यह सूखा सहिष्णु पौधा है। आमतौर पर यह मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु, बिहार और कर्नाटक में उगाया जाता है।

Read More
मूंग दाल के पोषक तत्व और फायदे

Posted 17 August, 2022

मूंग दाल के पोषक तत्व और फायदे

स्वाद और सेहत की दृष्टि से दाल का सेवन बेहद जरुरी है। इन्हीं दालों की श्रेणी में मूंग दाल भी आती है। जिसका सेवन पूरे विश्व में कियाजाता है। इसलिए जायकेदार एवं स्वादिष्ट दालों में मूंग की दाल का अहम स्थान है। लेकिन ऐसा कतई नहीं है कि मूंग की दाल का इस्तेमाल सिर्फ खाने भर तक सीमित है। क्योंकि मूंग कई तरह की शारीरिक समस्याओं से निजात दिलाने में भी मदद करती है। मूंग में तमाम प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट और खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं। जो शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं। आयुर्वेद में भी इसके पौष्टिक गुण कई तरह की बीमारियों को दूर एवं ठीक करने में सहायता करते हैं। मूंग के सेवन से ह्रदय संबंधी रोग, कब्ज, पाचन, कमजोरी जैसे अनेक रोगों में आराम मिलता है।

मूंग दाल में मौजूद पौष्टिक तत्व-

मूंग दाल कई पौष्टिक तत्वों और खनिजों से भरपूर होता है। जो सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद होते हैं। इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, मैंगनीज, जिंक, प्रोटीन, विटामिन आदि शामिल होते हैं। इसके अलावा मूंग दाल में ऊर्जा, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, फाइबर और फैटी एसिड्स भी मौजूद होते हैं। यह सभी पोषक तत्व हमारे शरीर को रोगों से बचाते हैं।

मूंग दाल के फायदे-

  • कोलेस्ट्रॉल एवं वजन को कम करने में सहायक-मूंग की दाल में हाइपोकोलेस्ट्रोलेमिया अर्थात कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले गुण मौजूद है। जिसकी वजह से यह रक्त में मौजूद एलडीएल (खराब कोलेस्ट्रॉल) के स्तर को कम करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा मूंग में फाइबर और प्रोटीन भी पाए जाते हैं। जो भूख के एहसास को कम करके, वजन कम करने में मदद करते है। इसके लिए मूंग दाल का सेवन सूप और स्प्राउट के रूप में करना फायदेमंद होता है।
  • डायबिटीज के लिए-एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) के एक शोध के मुताबिक मूंग में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी डायबिटिक गुण मौजूद होते हैं। जो रक्त में मौजूद ग्लूकोज की मात्रा को कम करने का काम करते हैं। वहीं एक अन्य रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार मूंग दाल का नियमित सेवन, टाइप-2 डायबिटीज मरीजों के ब्लड शुगर में असरदार कमी करता है। इस संबंध में कुछ विशेषज्ञ भी कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, विटामिन और प्रोटीन से संपन्न होने के कारण मधुमेह में मूंग दाल का सेवन करने की सलाह देते हैं।
  • रक्त चाप को करे नियंत्रण-रक्त चाप को नियंत्रित करने के लिए अपने आहार में मूंग दाल को शामिल करना बेहद फायदेमंद होता है। क्योंकि यह मैग्नीशियम, पोटैशियम और फाइबर से भरपूर होता है। जो ह्रदय और रक्त वाहिकाओं की मांसपेशियों को आराम देता है। इसके अतिरिक्त मूंग दाल में एंटी हाइपरटेंसिव गुण मौजूद है, जो रक्तचाप को नियंत्रित करने के साथ उसे बढ़ने से रोकने का काम करता है। इसलिए मूंग दाल का उपयोग करके रक्त चाप से बचा जा सकता है।
  • हीट स्ट्रोक को दूर करने में मददगार-आमतौर पर हीट स्ट्रोक की समस्या गर्मियों के मौसम में देखने को मिलती है। जिसकी मुख्य वजह डिहाइड्रेशन एवं अधिक गर्मीं का होना है। इस पर किए गए एक शोध से पता चलता है कि मूंग दाल में विटेक्सिन (vitexin) और आइसोविटेक्सिन (isovitexin) नाम तत्व मौजूद हैं। जिसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं। जिसके कारण हीट स्ट्रोक के खतरे को दूर करने में मदद मिलती है। इसलिए, गर्मी के दिनों में मूंग दाल का सूप पीना फायदेमंद होता है।
  • गर्भावस्था में फायदेमंद-गर्भावस्था में मूंग दाल का सेवन करना लाभप्रद होता है। क्योंकि यह फोलेट से भरपूर है। जिसे गर्भावस्था के समय मां और शिशु दोनों के लिए जरुरी माना जाता है। दरअसल फोलेट भ्रूण के विकास, उसकी रीढ़ व मस्तिष्क के विकास में मदद करता है। वहीं शिशु में जन्म के दौरान होने वाली विकृतियों की संभावना को भी कम करता है। इस पर किए गए शोध से पता चलता है कि 100 ग्राम मूंगदाल में 625 माइक्रोग्राम फोलेट की मात्रा पाई जाती है। इसलिए गर्भावस्था में मूंग दाल का सेवन करना सेहत के लिए अच्छा होता है। इस समय कच्चे स्प्राउट्स की जगह स्प्राउट को उबालकर सेवन करना बेहतर होता है।
  • पाचन के लिए-पाचन शक्ति में सुधार करने में मूंग दाल का सेवन सकारात्मक प्रभाव दिखाता है। दरअसल मूंग दाल अन्य दालों की अपेक्षा हल्की एवं आसानी से पचने योग्य होती है। यह शरीर में फैटी एसिड ब्यूटेरेट के उत्पादन को बढ़ाती है। यह पाचन में मदद करता है और शरीर में गैस को बनने से रोकता है। इसके अलावा मूंग में फाइबर और प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो पाचन तंत्र को ठीक रखने के लिए बेहद जरूरी हैं। वहीं इसमें अन्य घटक जैसे ट्रिप्सिन इन्हिबिटर्स (trypsin inhibitors), हीमगलगुटिनिन (hemagglutinin), टैनिन (tannins) और फाइटिक एसिड (phytic acid) पाए जाते हैं । यह सभी तत्व पाचन तंत्र में सुधार कर, शरीर में मौजूद टॉक्सिक पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। इस आधार पर मूंग दाल का सेवन, पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में सहायता करता है।
  • स्वस्थ्य इम्यूनिटी के लिए-मूंग दाल में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। जो संक्रमण से लड़ने में सहायक होते हैं। साथ ही यह शरीर को सुरक्षा प्रदान करते हैं। इस प्रकार यह रोग-प्रतिरोधक क्षमता (इम्यून सिस्टम) को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसलिए रोजाना अपने आहार में मूंग दाल को शामिल करें। ऐसा करने से तमाम बिमारियों से बचा जा सकता है।
  • एनर्जी बढ़ाने में मददगार-ब्रेकफास्ट करना सबसे जरुरी इसलिए होता है, क्योंकि यह शरीर को पूरा दिन काम करने की एनर्जी देता है। इसलिए सभी लोगों को नाश्ता जरुर करना चाहिए। इस दौरान पौष्टिक आहार लेना बेहद जरुरी होता हैं। जो शरीर को ऊर्जा और स्फूर्ति प्रदान करता है। इसलिए सेहतमंद ब्रेकफास्ट में मूंग दाल शामिल करना अच्छा विकल्प माना गया हैं। इसमें मिलने वाली एनर्जी शरीर को पूरे दिन एक्टिव रखने में मदद करती है। क्योंकि मूंग दाल में विटामिन बी, ज़िंक, आयरन और मैग्नीशियम जैसे पौष्टिक आहार पाए जाते हैं जो शरीर में एनर्जी देने में सहायक होते हैं।
  • आयरन की कमी और एनीमिया के लिए-मूंग दाल शरीर में आयरन (लोहा) की कमी को पूरा करने में सहायता करता है। क्योंकि इसमें आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए इसके सेवन से शरीर में होने वाली आयरन की कमी को दूर किया जा सकता है। वहीं, शरीर में आयरन की कमी का होना एनीमिया (लाल रक्त कोशिकाओं की कमी) का मुख्य कारण माना जाता है। इसलिए मूंग दाल का सेवन एनीमिया के खतरे को दूर करने में भी मदद करता है।
  • बालों और त्वचा के लिए-विशेषज्ञों के अनुसार मूंग दाल में एंटी ऑक्सीडेंट एवं विटामिन बी मौजूद होता है। जो त्वचा और बाल दोनों के लिए भी लाभदायक साबित होता है। इसके अलावा मूंग दाल में विटामिन-ए, सी, ई, डी, आयरन और जिंक जैसे पोषक भी पाए जाते हैं। जिसमें विटामिन-ए, सी, ई, डी, को त्वचा के लिए और विटामिन सी, डी, आयरन एवं जिंक को बालों के लिए जरूरी माना जाता है।

मूंग दाल का उपयोग-

  • आमतौर पर मूंग दाल का उपयोग सूप और स्प्राउट बनाने के लिए किया जाता है।
  • यह जायकेदार दाल बनाने के लिए उपयोग की जाती है।
  • कई जगहों पर मूंग दाल का उपयोग स्वादिष्ट हलवा या लड्डू बनाने में किया जाता है।
  • दक्षिण भारत में इसका अधिकांश उपयोग सांभर और चटनी बनाने के लिए किया जाता है।
  • मूंग दाल का इस्तेमाल फेस मास्क के तौर पर किया जाता है।
  • बालों के लिए इसका उपयोग हेयर मास्क के रूप में किया जा सकता है।

मूंग दाल के नुकसान-

  • इसके सेवन से हाई ब्लड शुगर कम होती है। क्योंकि इसमें एंटी डायबिटिक गुण पाए जाते हैं। इसलिए लो ब्लड शुगर के मरीजों को इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • इसमें एंटी हाइपरटेंसिव गुण मौजूद है, जो उच्च रक्तचाप को कम करने में सहायक होते हैं। इसलिए निम्न रक्तचाप के रोगियों को इसका सेवन निषेध है।
  • जिन लोगों की त्वचा संवेदशील है या जिन्हें मूंग दाल से बने उत्पाद से एलर्जी है। उनके लिए यह नुकसानदायक हो सकता है।
Read More
Amazing Nutritional Facts of Urad Dal

Posted 16 August, 2022

Amazing Nutritional Facts of Urad Dal

Urad dal (Black gram) is one of the most nutritious grams and is often used in India for its wide range of health benefits. It has various other names such as black lentils, matpe beans and mungo beans. Its scientific name is Wigna Mungo.

Urad dal is consumed in cooking and ayurvedic medicine, and is equally beneficial when used in both ways. It is considered a very rich source of protein and carbohydrates. It also contains vitamins, iron, calcium, magnesium, sodium, potassium and calories. It offers many health benefits. We will know more about the benefits of urad dal through the section of this blog.

Importance of Urad dal in Ayurveda

It is used for various Ayurvedic medicinal purposes. Adding Urad dal to your daily diet helps in weight gain due to its balya nature. It is a rich source of nutrients and helps increase energy.

Ayurvedic Properties of Urad dal

  • Sweet in taste.
  • Snigdha (unctuous).
  • Difficult to digest.
  • Hot in potency.
  • Best Vata dosha pacifier.
  • Increases Kapha, Pitta and Rakta dosha in the body.

Benefits of Urad dal

  • Improves digestion-Urad dal is good for health because it contains soluble and insoluble fiber which is good for digestion and also prevents constipation. This bulks up the stool in the digestive tract and stimulates peristalsis, contraction and relaxation of the abdominal muscles to expel waste materials. So if you are suffering from digestive problems like diarrhea, constipation, cramps or gas, urad dal can certainly be a good addition to your diet to help you out. It also helps you optimize the absorption of nutrients in your body.
  • Increases bone mineral density-Urad dal is packed with essential minerals like magnesium, iron, potassium, phosphorus and calcium. All play an important role in affecting bone mineral density. This is especially important because our bones weaken with age, making us more susceptible to fractures and osteoporosis. Eating a diet rich in minerals can help you maintain healthy bones.
  • Good in diabetics-High fiber foods are often recommended for people with diabetes because these help regulate the amount of nutrients absorbed by the digestive tract. Urad dal can help you maintain blood sugar and glucose levels, making your diabetes much more manageable. It also prevents drastic drops and spikes in sugar levels.
  • Skin effective-Urad dal is used in almost every Ayurvedic medicine that deals with your skin. As it is very rich in minerals and vitamins, it is great for reducing inflammation on your skin. It can also help remove scars and blemishes, bring more oxygenated blood to your skin to make it look glowing and radiant, and also help heal and exfoliate your skin.
  • Improves heart health-Urad dal is very good for your heart health as it contains high amounts of fiber, magnesium and potassium. It is known to provide many benefits that can keep your cardiovascular system healthy. It can balance your cholesterol, which is very good for your heart. It can also prevent atherosclerosis.
  • Boosts energy-Urad dal is very high in iron, it is good for increasing the overall energy level in your body. Iron is an important nutrient for your body because it stimulates the production of red blood cells. These cells carry oxygen to all your organs. Thus, it boosts energy in the body.
Read More
आखिर क्यों गेहूं को अनाज का राजा कहा जाता है?

Posted 08 August, 2022

आखिर क्यों गेहूं को अनाज का राजा कहा जाता है?

गेहूं अन्य अनाजों की तुलना में विभिन्न प्रकार की मिट्टी और जलवायु में उगाई जाती हैं। गेहूं का आटा पूरे विश्व में खाया जाने वाला अनाज हैं। यह भारतीय रसोईघरों में रोटी बनाने और मुख्य भोजन के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा गेहूं का उपयोग लगभग हर खाने की वस्तुओं जैसे पास्ता, सूजी, पेस्ट्री, मफिन, ब्रेड, बिस्किट्स और नूडल्स बनाने में किया जाता है। इस प्रकार गेहूं लगभग हर भोजन का एक अनिवार्य हिस्सा है। शायद इसलिए इसे अनाज के राजा के रूप में जाना जाता है।

गेहूं कई पौष्टिक तत्वों से समृद्ध हैं, जो शरीर केस्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। इसमें मुख्य रूप से प्रोटीन, विटामिन ई, विटामिन बी, खनिज लवण, तांबा, कैल्शियम, आयोडाइड, मैग्नीशियम, जस्ता, पोटैशियम, मैंगनीज, सल्फर, सिलिकॉन, क्लोरीन और आर्सेनिक पाए जाते हैं। यह सभी तत्व किसी भी आहार के लिए एक महत्वपूर्ण आधार होते हैं। इसका वैज्ञानिक नाम ट्रिटिकम एस्टिवम वल्गारे (Triticum aestivum vulgare) है।

आयुर्वेद में गेहूं का महत्व

आयुर्वेद में गेहूं का उपयोग एक महत्वपूर्ण भोजन के रूप में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। इसके पौष्टिक गुणों के कारण इसे असंतुलित वात और पित्त वाले लोगों को सेवन करने की सलाह दी जाती है। यह चावल की अपेक्षा अधिक प्रोटीन प्रदान करता है और ठंडी जलवायु या मौसम के लिए बेहतर अनुकूल होते हैं। हालांकि जिन लोगों में कफ की अधिकता होती है। खासतौर पर उन्हें गेहूं के सेवन से बचना चाहिए, जो मोटापे और धीमी पाचन का कारण बन सकता हैं।

गेहूं के फायदे

  • चयापचय में सुधार के लिएगेहूं का अधिक सेवन रक्तप्रवाह में ट्राइग्लिसराइड्स, या वसा को कम करता है। इसके अलावा, गेहूं इंसुलिन संवेदनशीलता और वसा चयापचय के लिए लाभप्रद होता है।
  • समोटापा नियंत्रित करने में सहायकचूंकि गेहूं में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए वजन कम करने के लिए अंकुरित गेहूं का उपयोग करना एक अच्छा उपाय है।
  • पमधुमेह के लिए फायदेमंदपगेहूं के सेवन से इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार होता है। इसके अलावा साबुत गेहूं में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो भोजन के बाद या पोस्ट्प्रैन्डीअल (postprandial) ब्लड ग्लूकोज़ की प्रतिक्रिया को कम करने में कारगर साबित होती है। इस प्रकार यह स्वस्थ्य रक्त शर्करा नियंत्रण को बढ़ावा देता है। इसलिए मधुमेह में गेहूं उपयोगी है।
  • पहृदय स्वास्थ्य के लिएगेहूं और उच्च फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक होता है। जिससे बार-बार होने वाले दिल के दौरे की संभावना कम हो जाती है। इस प्रकार गेहूं हृदय स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होता है।
  • ब्रेस्ट कैंसर से बचाता हैउच्च फाइबर युक्त आहार महिलाओं में स्तन कैंसर के खतरे को कम करने के लिए जाना जाता है। दरअसल साबुत अनाज बड़ी मात्रा में फाइबर प्रदान करते हैं। इसलिए ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम करने के लिए रोजाना 30 ग्राम गेहूं का सेवन करना बेहद लाभकारी होता है।
  • पाचन क्रिया में लाभदायकसाबुत अनाज अर्थात गेहूं मल को नरम करने और सुचारु रूप से पास करने में मदद करता है। यह आंत नियमितता में सुधार करता है और कब्ज को कम करता है। इस प्रकार यह बेहतर पाचन के लिए उपयोगी होता है।
  • पित्त पथरी को कम करता हैअधिक पित्त, अम्ल पित्त और पथरी का मुख्य कारण है। चूंकि गेहूं में पित्त संतुलन गुण पाया जाता है। इसलिए गेहूं का सेवन पित्त पथरी के गठन को कम करने में मदद करता है।
  • सूजन को कम करने में कारगरगेहूं में बायोएक्टिव यौगिक मौजूद हैं। दरअसल यह यौगिक पुरानी सूजन को कम करने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा गेहूं बीटानिन से भरपूर है, जो ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन को कम करने का काम करता है।

गेहूं के उपयोग

  • गेहूं का उपयोग विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को बनाने में किया जाता है। जिसका दैनिक जीवन में साबुत अनाज, आटे और ब्रेड के रूप में सेवन किया जाता है।
  • इसका उपयोग स्वादिष्ट सैंडविच बनाने के लिए कर सकते हैं।
  • इसे अपने नाश्ते में स्प्राउट,ओट्स या कॉर्न फ्लेक्स के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

गेहूं के दुष्प्रभाव

जिन लोगों को एलर्जी की समस्या होती है। उन्हें गेहूं के उपयोग से बचना चाहिए। क्योंकि इससे प्रतिक्रिया खराब हो सकती है। इससे एक्जिमा, दानें और त्वचा पर चकत्ते हो सकते हैं।

इसकी खेती कहां की जाती है?

गेहूं का सबसे बड़ा उत्पादक देश चीन है, इसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत और रूस हैं। कजाकिस्तान और कनाडा भी सूची में आते हैं। आमतौर पर भारत में, यह पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान में प्रमुख रूप से उत्पादित होता है।

Read More
Know the Benefits and Side effects of Spinach

Posted 05 August, 2022

Know the Benefits and Side effects of Spinach

Spinach (Spinacia oleracea) is a leafy green vegetable which is important for healthy skin, hair and bones as its leaves are loaded with many nutrients. It provides vitamin A, manganese, vitamin K, magnesium, folic acid, vitamin C, vitamin B2, protein and iron to the body.

Spinach has been used by various cultures throughout history, especially in Middle Eastern, Mediterranean and Southeast Asian cuisine. It can be easily included in any diet because it is cheap and easy to prepare.

Benefits of Spinach

  • Regulates blood sugarSpinach is said to be high in potassium that reduces the effect of sodium in the body, which is usually recommended for people with high blood sugar.
  • Prevents cancerSpinach is a high source of zeaxanthin and carotenoids, which can eliminate free radicals from your body. These free radicals make your body susceptible to various diseases, including cancer, so spinach is believed to prevent cancer.
  • Reduces weightSpinach leaves help you lose weight and are also low in calories. Consuming spinach once a day is beneficial for your health and weight.
  • Good for the eyesLutein and zeaxanthin are the antioxidants found in spinach along with Vitamin A that lowers the risk of macular degeneration and contributes to good eyesight.
  • Reduces hypertensionHypertension, also known as high blood pressure, is responsible for many heart diseases, kidney diseases and strokes. Spinach contains vitamin C, which helps lower high blood pressure. Also, Lutein present in spinach prevents thickening of arterial walls and helps in reducing the risk of high blood pressure and stroke.
  • Reduces inflammationSpinach contains neoxanthin and violaxanthin, which reduces inflammation due to their anti-inflammatory properties. Its high source of anti-inflammatory properties can help prevent migraines, osteoporosis, asthma, arthritis, and headaches.
  • Keeps the body relaxedSpinach puts your mind at ease so you can relax and live a stress-free life. Its high source of zinc and magnesium allows you to sleep well at night, and good sleep can help with all your mental illnesses. This will help your body relax and your eyes rest. So, eating spinach at least once a day can definitely have a positive impact on your health.
  • Boosts immunityVitamin A in spinach is believed to strengthen the human body parts such as the respiratory tract, intestinal tract and mucous membranes.
  • Prevents heart attackSpinach helps to remove excess fat stored in the arteries and prevent arteries from thickening. It also lowers the risk of developing heart diseases.
  • Helps to get rid of anaemiaSpinach is high in iron, which can protect you from the risk of anemia. Iron is also useful for women since it regulates menstruation. Iron also increases energy in the human body.
  • Prevents acne and provide glowing skinApply some spinach paste on the face by adding a little water to it or consume some spinach which helps to reduce acne and promotes glowing skin as vitamin A, vitamin C, vitamin E and vitamin K plays an important role in healthy skin.

Side effects and Precautions

  • Regulates blood sugarSpinach is said to be high in potassium that reduces the effect of sodium in the body, which is usually recommended for people with high blood sugar.
  • Prevents cancerSpinach is a high source of zeaxanthin and carotenoids, which can eliminate free radicals from your body. These free radicals make your body susceptible to various diseases, including cancer, so spinach is believed to prevent cancer.
  • Reduces weightSpinach leaves help you lose weight and are also low in calories. Consuming spinach once a day is beneficial for your health and weight.
  • Good for the eyesLutein and zeaxanthin are the antioxidants found in spinach along with Vitamin A that lowers the risk of macular degeneration and contributes to good eyesight.
  • Reduces hypertensionHypertension, also known as high blood pressure, is responsible for many heart diseases, kidney diseases and strokes. Spinach contains vitamin C, which helps lower high blood pressure. Also, Lutein present in spinach prevents thickening of arterial walls and helps in reducing the risk of high blood pressure and stroke.
  • Reduces inflammationSpinach contains neoxanthin and violaxanthin, which reduces inflammation due to their anti-inflammatory properties. Its high source of anti-inflammatory properties can help prevent migraines, osteoporosis, asthma, arthritis, and headaches.
  • Keeps the body relaxedSpinach puts your mind at ease so you can relax and live a stress-free life. Its high source of zinc and magnesium allows you to sleep well at night, and good sleep can help with all your mental illnesses. This will help your body relax and your eyes rest. So, eating spinach at least once a day can definitely have a positive impact on your health.
Read More
आयुर्वेद में मसूर दाल का महत्व, स्वास्थ्य लाभ और दुष्प्रभाव

Posted 11 July, 2022

आयुर्वेद में मसूर दाल का महत्व, स्वास्थ्य लाभ और दुष्प्रभाव

लाल मसूर, जिसे मसूर दाल के नाम से भी जाना जाता है। यह भारत की लोकप्रिय दालों की श्रेणी में आती है। आमतौर पर मसूर दाल पूरे देश में उगाई जाती है। इसका सेवन करने से कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं। यह त्वचा के लिए लाभकारी और समय से पहले बुढ़ापा और मुंहासों जैसी समस्याओं से बचाती है। इसका उपयोग त्वचा को हल्का करने और टैन हटाने के लिए भी किया जाता है।

मसूर की दाल कई पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसलिए इसका सेवन स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता हैहै। मसूर दाल में प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और आयरन पाया जाता है। इसके अतिरिक्त मसूर पोटैशियम, विटामिन बी-1,2,3, विटामिन सी, फोलिक एसिड, कैल्शियम, मैग्नीशियम और जिंक का भी अच्छा स्रोत है।

आयुर्वेद में मसूर दाल का महत्व

मसूर दाल का प्राकृतिक स्वाद कुछ मीठा होता हैऔर यह अच्छी शोषक भी होती है। यह प्रकृति से शीतल या ठंडी होती है, जो पेट को ठंडा करने में मदद करती है। मसूर की दाल पाचन के लिए अच्छी होती है। साथ ही पेट संबंधी कई छोटी-बड़ी समस्याओं को ठीक करने में सहायता करती है। अपने वर्ण प्रकृति के कारण यह त्वचा के लिए बेहद लाभकारी होतीहै। यह त्वचा को नमी और शांति प्रदानकरती है, शरीर को मजबूत करती है और प्रतिरक्षा को बढ़ाती है। यह दाल एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध है। यही कारण है कि मसूर की दाल मोटापा, मधुमेह, कैंसर एवं हृदय संबंधी समस्याओं को कम करने में सहायक होती है। पोषक तत्वों की उच्च मात्रा, पॉलीफेनोल्स और अन्य बायोएक्टिव तत्वों से भरपूर होने के कारण मसूर दाल का उपयोग भोजन के साथ-साथ औषधि में भी किया जाता है।

मसूर दाल के फायदे

  • कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायकअतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल मानव जीवन के लिए हानिकारक साबित होता है। उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर, हृदय रोगों जैसी अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है। इसलिए शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए मसूर दाल को अपने आहार में शामिल करना चाहिए। दरअसल मसूर दाल में फाइबर की उच्च मात्रा पाई जाती है। एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, फाइबर बढ़ते कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करता है। क्योंकि फाइबर में मौजूद हाइपोकोलेस्टेरोलेमिक (Hypocholesterolemic) प्रभाव काम करता है, जो कोलेस्ट्रॉल को पचता है । वहीं, पॉलिफिनोल युक्त दाल में एंटी कोलेस्टेरोलेमिक प्रभाव भी पाया जाता है। इन तथ्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि मसूर दाल की रोजाना सेवन करने से बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है। जिससे हृदय रोग होने की आशंका कम होती है।
  • मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए लाभकारीअपने आहार में मसूर दाल को सही मात्रा में शामिल करने से शरीर को भरपूर प्रोटीन और फोलिक एसिड मिलता है। जिसके कारण अच्छे मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए भी मसूर दाल उपयोगी है। इसलिए मानसिक विकार से पीड़ित लोगों को अपने आहार में लाल मसूर की दाल को जरुर शामिल करना चाहिए।
  • पाचनतंत्र के लिए लाभकारीमसूर दाल पाचन क्रिया को सुधारने में बेहद लाभकारी होती है। दरअसल लाल दाल फाइबर से समृद्ध है, जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाता है। वहीं, विशेषज्ञों के मुताबिक फाइबर पाचन को मजबूत करता है और कब्ज़ को दूर करने में मदद करता है। इसलिए मसूर की दाल के उपयोग से पाचन संबंधी समस्याओं को कम किया जा सकता है।
  • वजन कम करने में कारगरमसूर दाल में कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं। साथ ही इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है, जो वसा की मात्रा को बढ़ने नहीं देती । जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है। इसके लिए प्रतिदिन मसूर की दाल का सेवन करें। इसके अलावा मसूर की दाल का सलाद के साथ सेवन करना बेहद फायदेमंद होता हैं।
  • मधुमेह में लाभकारीमधुमेह रोगियों के लिए मसूर की दाल का सेवन अच्छा होता है। इसमें कई पोषक तत्व और खनिज पदार्थ पाए जाते हैं। यह सभी तत्व शरीर को प्रोटीन प्रदान करते हैं। साथ ही इसमें मौजूद उच्च फ्लेवोनोइड और फाइबर रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ने से रोकते हैं। इस प्रकार मसूर दाल टाइप 2 मधुमेह के लक्षणों को कम करने में मदद करती है। इसलिए मधुमेह से पीड़ित लोगों को अपने आहार में मसूर दाल को शामिल अवश्य करना चाहिए।
  • हृदय को स्वस्थ्य बनाए रखने में लाभप्रदपहृदय को शरीर की एक महत्वपूर्ण अंग माना जाता है। जिसे स्वस्थ्य बनाए रखने के लिए अपने आहार में लाल मसूर को ज़रूर शामिल करें। क्योंकि लाल मसूर की दाल में पाया जाने वाला मैग्नीशियम और फोलिक एसिड हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखता है। साथ ही यह हृदय रोग के जोखिम को भी कम करता है। इसके अलावा मसूर दाल में मैग्नीशियम भी होता है जो शरीर में रक्त और ऑक्सीजन के प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद करता है। इसप्रकार मसूर की दाल एक स्वस्थ्य हृदय के लिए बेहद लाभप्रद है।

मसूर दाल का उपयोग करते समय बरतें यह सावधानियां

यूं तो मसूर की दाल के कई फायदे होते हैं। लेकिन अधिक मात्रा में मसूर की दाल का सेवन शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। जो निम्नलिखित हैं

  • अधपकी मसूर दाल के अधिक मात्रा में सेवन करने से गुर्दे की बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए इसे अच्छी तरह से पकाकर सेवन करें।
  • लाल मसूर की दाल का अधिक मात्रा में सेवन करने से कुछ लोगों को गैस की समस्या हो सकती है।
  • मसूर दाल के अधिक सेवन से पाचन संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।
  • यदि किसी व्यक्ति को गुर्दे की पथरी हैं, तो इस स्थिति में मसूर की दाल के सेवन से बचें।
  • नियमित दवा लेने वाले लोगों को मसूर दाल का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर लें।
  • स्तनपान के दौरान या गर्भावस्था के दौरान मसूर की दाल के सेवन डॉक्टर के परामर्शानुसार ही करें।
  • मसूर दाल पकने के बाद भी एलर्जेंस बना रहता है। इसलिए संवेदनशील लोगों को मसूर दाल का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

यह कहां पाया जाता है?

मसूर की दाल भारत में मुख्य रूप से मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, हरियाणा, पंजाब, महाराष्ट्र, राजस्थान आदि में उगाई जाती है।

Read More
Know the Medicinal Properties, Benefits and Uses of Pumpkin

Posted 18 July, 2022

Know the Medicinal Properties, Benefits and Uses of Pumpkin

Nature has provided many things to combat every small and big problem related to health. These contain many medicinal properties and provide many health benefits by their consumption. Pumpkin is one of these nature-given gifts, also known as Kadima or Kushmanda. This vegetable has the ability to cure many diseases ranging from the stomach to the heart and skin. Perhaps because of these qualities, pumpkin has been considered a mine of virtues since ancient times.

Importance of Pumpkin in Ayurveda

Pumpkin is good for the health of people of all ages. It works to increase the immunity of the body due to which helps in protecting the body from many diseases. It has the property to remove bad cholesterol from the body and controls diabetes. It also contains some antioxidants which protect the body from diseases like cancer. By consuming it, stomach worms, liver problems, cleaning the blood, skin related problems etc are cured. Pumpkin contains some useful components which include omega 3, omega 6 fatty acids, amino acids, zinc, and tryptophan etc. Apart from this, it is also rich in Vitamin A, C and E etc. Pumpkin peel also contains an antibacterial element that protects against infection-causing bacteria. Due to being full of these properties, pumpkin is considered an important medicine in Ayurveda.

Benefits of Pumpkin

  • Helpful in keeping the heart-healthy: Pumpkin is very beneficial in keeping the heart healthy. It has antioxidant properties which are able to protect the cardiovascular system. They prevent heart diseases before they progress by preventing the damage caused by oxidation on the heart. Apart from this, beta-carotene and polyunsaturated fatty acids present in it work to reduce the amount of bad cholesterol which is very important for a healthy heart.
  • Helpful in balancing cholesterol levels: Enriched with omega 3 fatty acids and phytosterols, pumpkin is helpful in maintaining optimum cholesterol levels in the body. These properties help in reducing the bad cholesterol level (LDL) and inhibiting its absorption while increasing the good cholesterol level (HDL) in the body for healing. Apart from this, consuming pumpkins is beneficial in obesity, diabetes, heart attack, high blood pressure and other heart diseases.
  • Beneficial for immunity: Pumpkin enhances immunity. According to a journal paper, pumpkin contains a substantial amount of vitamin C that plays an important role in boosting immunity. In addition to vitamin C, vitamins A and E present in it also help in increasing immunity. Therefore, to increase immunity, definitely include pumpkin in your diet.
  • For the digestive system: Consumption of pumpkin is good for the digestive system. It helps in increasing digestive power. A high amount of fibre is found in pumpkins that helps in the smooth functioning of the digestive system. Therefore, its regular consumption helps to overcome problems like constipation, diarrhoea and abdominal cramps.
  • Beneficial for eyes: According to research, the consumption of pumpkins is beneficial for the eyes. It mainly contains beta-carotene which acts as an antioxidant. It helps in keeping the eyes healthy. Pumpkin contains many vitamins and minerals which help protect against degenerative eye disease (symptoms that occur with ageing).
  • Helpful in controlling blood pressure: Pumpkin consumption is beneficial in controlling blood pressure. According to research published on the website of NCBI, 340 mg of potassium is found in 100 grams of pumpkin. Potassium acts as a balancing element in the body. It is an important component for the nervous activity of muscles and the brain. It also proves helpful in blood circulation and gives relief from muscle spasms. Consuming potassium on a regular basis prevents the risk of brain stroke as it lowers blood pressure. Thus, pumpkin is good for the prevention and treatment of high blood pressure.
  • Helpful in preventing cancer: The non-carcinogenic properties of pumpkin seeds help in combating the problem of cancer because the antioxidants present in pumpkin seeds exhibit anti-cancer properties. It also helps in protecting the body from cancer-causing harmful external exposures. Thus, these antioxidants are effectively helpful in treating and preventing various types of cancers such as prostate and breast cancer.
  • Improves kidney function: The antioxidants present in pumpkin seeds help in curing and preventing kidney-related problems like kidney stones, frequent urination, high bladder activity etc. due to which the proper functioning of the kidney is ensured.

Benefits of Pumpkin for skin

  • To reduce acne: Many types of vitamins are found in pumpkins. Vitamin B3 present in it exhibits anti-microbial properties in a way that help the skin get rid of pimples by fighting acne and its bacteria. Apart from this, the anti-inflammatory properties of pumpkin work to reduce the inflammation of acne. For this, pumpkin oil should be applied to the infected area with the help of cotton.
  • To reduce wrinkles: Vitamin A is found in pumpkins which helps in reducing the signs of ageing like wrinkles and fine lines. For this, make a paste of pumpkin and apply it on the face and after some time wash it with cold water. By doing this it opens the pores of the skin. It also helps in reducing the oxidative stress of the skin.
  • To clear skin colour: Sometimes due to sunlight and UV rays, the colour of the skin starts turning dark. In such a situation, using pumpkin paste is good for the skin because vitamin C present in the pumpkin helps to clean the skin. Vitamin C acts as an antioxidant on the skin which helps in reducing depigmentation and oxidative stress and clears the complexion of the skin. For this, take a few drops of pumpkin oil in the palm and massage the face and skin well.
  • For face mask: Pumpkin paste, lemon juice and honey can be used as a face pack. Pumpkin contains nutrients like vitamin C and vitamin-A which protect the skin from UV radiation, remove problems like dermatitis and inflammation, and keep it healthy for a long time.

Uses of Pumpkin

  • Pumpkin is used as a vegetable.
  • Pumpkin is used as a vegetable.
  • Some people mix pumpkin with milk and consume it in the form of kheer.
  • Pumpkin laddus are also made in some places.
  • Pumpkin is used as a chutney.
  • Cupcakes can be made for kids by adding jaggery to pumpkins.

Side effects of Pumpkin

  • Many people are sensitive to pumpkins. Therefore, they should avoid their consumption, otherwise, allergies may occur.
  • Pumpkin has diuretic properties, consuming it in excess can lead to a lack of water in the body.
  • Consuming pumpkins in excess may lead to problems such as stomach pain, cramps, diarrhoea etc. as a high amount of fibre is found in them.
  • Pregnant or lactating women should avoid consuming pumpkin or its seeds or consume it only after consulting a doctor.
  • Consumption of pumpkins is not suitable for patients with low blood pressure as it has properties that reduce high blood pressure.
Read More
Potatoes Benefits, Uses and Side Effects

Posted 29 June, 2022

Potatoes Benefits, Uses and Side Effects

Potatoes are underground plants as these are grown underground with leaves and branches above the ground. Potatoes are edible tubers, which means these are the fleshy stems of the potato plant. According to the facts, potatoes are the fourth largest root crop in the world. Theseare a special staple food because they combine the properties of starchy foods with vegetables.

The Word 'Potato' comes from the Spanish word “Patata”. Its scientific name is Solanum Tuberosum.  In India, it is commonly known as “Aloo”, whereas italso has some other regional names like  inTamil Nadu, it is known as “Urulai Kizhangu”.

Medicinal Values of Potatoes

Potatoes have many medicinal values-

  • Potatoes contain high levels of protein, carbohydrates, iron and copper. It also contains vitamin A, vitamin B and vitamin C in sufficient quantities.

  • Potatoes contain antioxidants that protect cells from free radical damage. Thus, it helps in preventing cancer.

  • Potatoes contain thiamine which is good for cardio-vascular metabolism, neurological and heart functions of the human body.

  • Vitamin B5 in Potatoes helps in reducing body tiredness and fatigue.

  • Due to the presence of potassium, potatoes help  in regulating the balance of fluids and minerals (sodium) inside and outside human cells. Further, it also helps to counter the negative effects of sodium.

  • Potatoes contain fiber, which is important for a healthy digestive system. It helps to regulate the  bowels and prevents constipation.

  • Potatoes contain a variety of phytonutrientssuch asphenolics, flavonoids, and carotenoids. These have anti-inflammatory effects & helpto promote digestive health, bone health  and reduce liver toxicity.

Benefits of Potatoes

Good for skin-

Due to the nutrients like potassium, zinc, vitamin C and vitamin B6,potatoes helpin protecting a person from acne, pimples and other skin problems.

Boosts immunity-

Vitamin C in potatoes strengthens one's immune system. Eatingboiled potatoes helps to increase immunity levels.

Improves digestion-

Due to the high fiber content in potatoes, it improves the digestive system.

Reduces inflammation-

Potatoes can help control and prevent inflammation in humans due to their healing properties.

Improves brain functioning-

Due to the presence of potassium and vitamin B6 in potatoes, it helps in improving the functioning of the brain and nervous system. It also helps to relievea person from stress and anxiety.

Strengthens bone density-

Potatoes contain minerals such as magnesium, iron, zinc, and phosphorus, which play an important role in maintaining bone structure and building bone strength.

Uses of Potatoes

  • If you have a minor burn, put a slice of raw potato in a compress to relieve it.

  • If you don't have a cucumber to put on your eyes, try raw potato wedges instead - they're just as good for reducing puffiness around your eyes.

  • If your hands get dirty while cooking, rub the stained skin with a piece of raw potato.

  • Rubbing utensils with potato wedges is a great way to clean. You can also soak utensils in the water left over from boiled potatoes.

  • Potatoes are also used to remove rust from metal. Just cut a piece of potato and rub to bring back shine.

  • Mash some raw potatoes with water to make a paste and then apply it on your face. Leave itfor half an hour, then rinse thoroughly.

Side effects of Potatoes

  • Excessive consumption of potatoes can lead to weight gain. Potatoes are rich in carbohydrates, and excessive amounts of carbohydrates can increase calorie intake, which can lead to obesity.

  • If you are a patient of blood pressure, then don't eat too many potatoes. This can make your problem worse. Excessive consumption of potatoes can increase blood pressure.

  • Not only excessive consumption of potatoes but eating blue potatoes can also cause great harm to the body. This can cause allergic problems in your body.

  • Consuming too many potatoes can be harmful for arthritis patients.

Where are Potatoes found?

Potatoes are majorly produced in China and India. China is the largest producer of Potatoes. In India, potatoes are found in West Bengal, Uttar Pradesh, Punjab, Bihar and Gujarat.

Read More
Benefits, Uses and Side effects of Kachur

Posted 26 May, 2022

Benefits, Uses and Side effects of Kachur

Many herbs have been used as medicine in Ayurveda science for centuries. Kachur is also included in these herbs. It is similar to turmeric or ginger in appearance but it is a special medicinal plant, which along with removing pain, inflammation, ulcers, also helps in removing many physical problems. It is used for a variety of medical purposes.

Kachur has anti-inflammatory, anti-fungal, antibacterial, anti-pain, antimicrobial and antioxidant properties. Due to all these properties, Kachur is widely used for its health benefits.

What is Kachur ?

Kachur is a medicinal plant belonging to the Zingiberaceae family whose botanical name is Curcuma zedoaria. It is usually a species of turmeric and its color is white. That's why it is also called white turmeric. Its stems grow on the ground. The length of this plant is about 3-4 feet and the leaves are smooth and pink in color from the central part. Its flowers are yellow in color. This herb is bitter in taste.

Benefits of Kachur

Helpful in reducing inflammation-

Kachur is a natural remedy for the problem of inflammation. According to research done on this, a compound called ethanolic extract is found in Kachur which exhibits anti-inflammatory properties and helps reduce the effects of inflammation. For this, grinding its leaves or rhizome and applying it on the affected parts is beneficial.

Effective in healing wounds-

Kachur's natural antiseptic and antibacterial properties make it an effective disinfectant. Research done on it shows that Kachur has wound healing properties, which is helpful in healing wounds therefore, by applying Kachur powder on the affected area, the wounds heal faster.

Effective in healing ulcers-

Kachur is effective in healing ulcers because it has anti-ulcer properties, which prevents this problem from growing. For this, rinse with a decoction made from the rhizome of Kachur.

For viral problems-

Kachur proves to be effective for viral problems as it is rich in antimicrobial and anti-viral properties which helps to prevent viral infection.

Effective in increasing immunity-

If a person is constantly ill, then the main reason for this may also be his weak immunity. In this case, consuming decoction of Kachur is very beneficial. There are immunomodulatory effects in Kachur which strengthens the body's immunity. Apart from this, the medicinal properties present in it work to purify the blood and increase healthy cells. Along with this, it fights against bacteria and free radicals that damage the body due to which the immunity of the body increases.

Useful in joint pain-

Kachur has anti-analgesic and anti-inflammatory properties and is effective in providing relief from pain and swelling especially for those who suffer from joint pain. For this, grind the rhizome of Kachur and alum together and make a paste to apply on the joints.

For diabetes-

Kachur is an effective medicine for diabetes patients. According to research published on this topic, Kachur has anti-hyperlipidemic effects which have a sugar lowering effect. Thus, it is useful for prevention of diabetes.

Uses of Kachur

  • The powder of Kachur is mixed with milk or lukewarm water and consumed.
  • Kachur can be included in your diet as a spice.
  • The powder made from it is consumed with honey.
  • A decoction made from its rhizome is used as a gargle or intake.
  • A paste made from its leaves is also used as a mask.
  • Oil made from kachur is applied on the skin.

Side effects & Precautions of using Kachur

  • Some people may have stomach problems due to its consumption.
  • Since Kachur lowers the blood sugar level, patients with low blood sugar should avoid its use.
  • Women should not consume it during periods.
  • Do not consume Kachur during pregnancy as it increases the risk of miscarriage.

Where is Kachur found?

Generally, Kachur is a self-growing plant in Northeast India and South Coastal regions but it is also cultivated in China, Sri Lanka and India.

Read More
Know about the unseen and unheard types and Benefits of Onions

Posted 09 May, 2022

Know about the unseen and unheard types and Benefits of Onions

Onions are used in almost every household to enhance the taste of vegetables, as a tempering and as salad. The description of properties of onions is also mentioned in ancient Ayurvedic texts. Onion is used as medicine for curing many diseases. Consuming it in summer does not cause heatstroke. Apart from this, onions are also capable of protecting against diseases like diabetes and cancer.

What are Onions?

Onion is a vegetable widely used in food, chutney, pickle and salads. Its taste is sharp and can be grown in all types of climates. Talking about its plant, scientists consider onion as a stem which grows inside the ground but onion has been used since ancient times as a medicine and ingredient of food.

The scientific name of onion is Allium cepa. It is known by different names in different languages. It is called Onion, Kanda and Dungri in Hindi, Ulligadda, Erulli and Neeruli In Kannada, Ullipayalu, Yera Gaddalu and Nirulli in Telugu, savanna in Malayalam, piyanaz in Bengali, vengayam in Tamil and kanda in Marathi.

Types of Onions

There are many varieties of onions found all over the world. We’ll talk about some major types-

Yellow onion-

Its pulp is white in color and its outer layer is brown in color. The aroma is like sulphur.

Red onion-

The outer layer of this onion is of magenta color. It is slightly sweet in taste. Therefore, its raw form is consumed in large quantities.

White onion-

It looks a little white when looking at this onion from outside while its taste is mildly sweet compared to other onions.

Green onion-

Green onions, also known as scallions, are under-developed variety of onion. The green leafy part has a great aroma and is used for garnishing a variety of dishes.

Sweet onion-

This onion is a little thick whose outer layer is lighter and less opaque.

Leek-

The underside of this onion is round and small while its stem is slightly longer. This onion is used in making sauces and soups.

Shallots-

The size of this type of onion is small. Its outer layer is brown and the inner flesh is purple in color.

Benefits of Onion

Good for the immune system-

The body needs vitamin C for a good immune system. Onions contain phytochemicals, which helps to increase the amount of vitamin C in the body. Apart from this, onions also contain selenium which works to make the body's immune system healthier and better.

Good for the digestive system and constipation-

The medicinal properties of onions help in improving the digestive system by curing constipation because onions contain a good amount of fiber which helps in constipation and gastritis which keeps the digestive system good.

For oral health-

It is true that eating raw onion causes bad breath but the consumption of raw onion proves to be very good for oral health. The compounds named thio-sulfonates and thio-sulfrates are present in onions which helps to eliminate the bacteria that cause tooth decay. Apart from this, vitamin-C is also found in onions which is essential for dental health.

For colic pain and worms-

Some elements called phytochemicals are found in onions which helps relieve gastric ulcer and its effects to a great extent. Apart from this, some natural probiotics are also present in onions. Onion is also helpful in relieving stomach ache and intestinal worms.

For bowel movement and diarrhea-

The fiber found in onions is called oligofructose which helps in the growth of good bacteria in the intestines that helps in the proper functioning of the intestines. In this form, the oligofructose property of onion is beneficial in the problem of diarrhea.

Read More
Radish (Mooli): Benefits, Uses and Side effects

Posted 02 May, 2022

Radish (Mooli): Benefits, Uses and Side effects

Radish, commonly known as Mooli, is a root vegetable which belongs to the Brassicaceae family. It contains a special oil that is the source of its strong flavor. There are a number of different varieties of radishes around the world- varying in size, color and weight such as Daikon White Radish, Pink Radish, Zlata Radish, and Watermelon Radish. Its scientific name is Raphanus Sativus.

Nutritional Values of Radish (Mooli)

Radish is a rich source of nutrients and vitamins and offers many benefits when included in diet. Radish is very low in calories and contains no cholesterol. It contains a large amount of protein and fiber.

Radish is high in vitamin C, which is important for boosting immunity and also serves a number of other health purposes. It contains minerals such as potassium, calcium, iron and manganese, as well as folate, present in abundance.

Benefits of Radish

Boosts immunity-

The presence of vitamin C in radish makes it an excellent choice to include in your diet to boost immunity. Vitamin C helps regulate the body's metabolism and increases collagen formation. Collagen helps strengthen the walls of blood vessels and prevents various cardiovascular diseases.

Regulates blood flow and treats diabetes-

Radish contains potassium, a vasodilator that helps relax blood vessels and increases blood flow. Thus it helps lower down the blood pressure by regulating blood flow.

Radish regulates the absorption of sugar into the bloodstream, eating it does not affect blood sugar levels because it has a low glycemic index, making it safe to consume in diabetes.

Helps in weight loss-

If you want to lose weight, you can include radish in your diet because it is low in digestible carbohydrates, high in fiber and water. As it is high in fiber, it adds bulk to your stool and facilitates its easy expulsion. The high fiber content also keeps you full and protects you from overeating. Thus, helping in weight loss.

Treats jaundice-

Radish is useful in controlling jaundice as it removes bilirubin and even regulates its production due to the presence of vitamin C and iron. Radish also helps in preventing the breakdown of red blood cells in people suffering from jaundice by increasing oxygen supply.

Treats cancer-

Including radish in your diet can help fight various types of cancers, such as colon, stomach, oral, and kidney cancer. This is due to the presence of folic acid, vitamin C and anthocyanins. In addition, radish contain isothiocyanates, which alter the genetic pathways of cancer cells, causing apoptosis, or cell death. This prevents cancer cells from multiplying.

Good for rheumatoid arthritis-

Vitamin C in radish acts against free radicals in our body and encourages the formation of collagen, a substance that builds cartilage in our bodies. Hence, eating radish helps prevent or delay the onset of conditions like arthritis.

Effective for skin-

Radish is good for the skin because it contains vitamin C, vitamin B, zinc, and phosphorus. The water content in this vegetable helps to keep your skin hydrated. Radish also has antimicrobial properties that prevent skin diseases such as dry skin, rashes and cracks.

Helps remove acne & pimples-

Radish has plenty of vitamins C, B complexes, Zinc and phosphorus which is helpful in removing acne and pimples. Apply radish juice on the face for 20 minutes, wash your face with cold water. Do it twice a week to remove acne and pimples from the face.

Side effects of Radish

Radish is a useful vegetable that can help get rid of various problems, but its excessive intake can also harm the body. As it is already said, radish is rich in vitamin C and an excess of vitamin C in the body can cause the following problems:

  • Stomach ache or burning
  • Diarrhea
Read More
जानें, विदारीकंद के आयुर्वेद में महत्व, फायदे एवं उपयोग

Posted 24 May, 2022

जानें, विदारीकंद के आयुर्वेद में महत्व, फायदे एवं उपयोग

विदारीकंद एक ऐसी जड़ी-बूटी है जिसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसका उपयोग रोगों से छुटकारा दिलाने और शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए सदियों से किया जाता रहा है। यह मुख्य रूप से स्त्री रोग, यौन संबंधी समस्याएं, शारीरिक कमजोरी और मूत्र संबंधित रोगों में काफी फायदेमंद है। औषधीय गुणों से भरपूर विदारीकंद खाने में मधुर एवं स्वभाव से ठंडी होती है। यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है और वात, पित्त कम करती है। इसमें  फोलिक एसिड प्रचूर मात्रा में पाया जाता है, जो रक्त विकारों को दूर करने में मदद करता है। इसलिए इसे आयुर्वेद में उत्तम दर्जे की औषधि माना गया है।

क्या होता है विदारीकंद?

विदारीकंद बेल या झाड़ के रूप में पाई जाने वाला एक बारहमासी औषधीय पौधा है। जिसका वानस्पतिक नाम प्युरॅरिआ ट्युबरोजा (Pueraria tuberosa) है। इसे इंडियन कुडजू के नाम से भी जाना जाता है। इसकी लता फैलने वाली और झाड़ीदार होती है। इसकी एक बेल के नीचे कई अधिक जड़ें लगी होती हैं। विदारीकंद के जड़ में इसके फल लगे होते हैं जो 1 से 2 फुट लंबे और 1 फुट मोटे होते हैं। इसके फल के छिलके हल्के भूरे रंग का और अंदर का गुदा सफेद रंग का होता है । इसके फल स्वाद एवं आकार में यष्टिमधु की तरह होता है। इसलिए इसे स्वादुकन्द भी कहा जाता है। इसके नवीन फल बाजारों में सुराल के नाम से बिकते हैं। इसकी लता घोड़े को अति प्रिय होती है। इसलिए इस जड़ी-बूटी को गज वजिप्रिया के नाम से भी जानते हैं। ज्यादातर यह जड़ी-बूटी नदी, नालों के किनारे एवं हिमालय के निचले पहाड़ों के लगभग 1300 मी ऊंचाई पर देखने को मिलती है।

आयुर्वेद में विदारीकंद के महत्व-

आयुर्वेद में विदारीकंद एक कायाकल्प औषधि है। आयुर्वेद में इस जड़ी-बूटी के कंद का ज्यादातर रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने एवं स्वास्थ्यवर्धक टॉनिक के रूप में किया जाता है। इसके अलावा विदारीकंद का उपयोग महिलाओं में प्रजनन टॉनिक के रूप में उपयोग किया जाता है, जो महिलाओं के लिए मासिक धर्म संबंधी समस्याएं, रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज़ सिंड्रोम) और गर्भाशय की कमजोरी का इलाज करता है। 

विदारीकंद की प्रकृति शीतल होने के कारण यह शरीर में जलन, अधिक गर्मी और रक्तस्राव विकारों में लाभकारी है। यह जड़ी-बूटी कामोत्तेजक भी है। इसमें मौजूद पौष्टिक तत्व शारीरिक एवं मानसिक कमजोरी को दूर करने, और मां के दूध को बढ़ाने में मदद करती हैं। विदारीकंद के फलों या कंदो का उपयोग सीने में दर्द, गठिया और बुखार के लिए भी किया जाता है।  -

विदारीकंद के फायदे-

मासिक धर्म संबंधी विकारों में लाभप्रद-

विदारीकंद का उपयोग महिलाओं में मासिक धर्म संबंधी विकारों के इलाज में किया जाता है। यह गर्भाशय की मांसपेशियों और एंडोमेट्रियम के लिए एक टॉनिक के रूप में कार्य करता है। मासिक धर्म के समय बहुत अधिक खून आने की समस्या मे विदारीकंद के चूर्ण का सेवन करना लाभप्रद होता है। इसके उपयोग से मासिक धर्म नियमित हो जाता है। साथ ही मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को भी कम करता है। 

स्तनों में दूध बढ़ाने में लाभप्रद-

विदारीकंद चूर्ण का सेवन माताओं के स्तनों का दूध बढ़ाने में फायदेमंद होता है। इसके लिए विदारीकंद चूर्ण का दूध के साथ सेवन करें। ऐसा करने से स्तनों में दूध की वृद्धि होती है। इसके अतिरिक्त विदारीकंद के जड़ का दूध के साथ पीसकर सेवन करने से स्तनों में दूध अधिक होता है। साथ ही दूध स्वादिष्ट और पौष्टिक होता है।

पौरुष शक्ति के लिए-

जो लोग शारीरिक कमजोरी या सेक्सुअल स्टेमिना की कमी महसूस कर रहे हैं, उनके लिए भी विदारीकंद का सेवन बेहद लाभदायक होता है। इसके लिए विदारीकंद के  चूर्ण को घी में भूनकर दूध के साथ प्रतिदिन सेवन करें। ऐसा करने से शीघ्रपतन, वीर्य की कमी और धातु दुर्बलता में लाभ मिलता है। इसके अलावा विदारीकंद चूर्ण, घी, और मधु को विदारीकंद स्वरस में मिलाकर सेवन करने से मनुष्य की शक्ति बढ़ जाती है। साथ ही वीर्य की भी वृद्धि होती है।

रक्त की कमी को दूर करने में कारगर-

विदारीकंद शरीर में रक्ताल्पता यानी रक्त की कमी को भी दूर करने की क्षमता रखता है। इसके लिए विदारीकंद के चूर्ण को दूध के साथ सेवन करें। ऐसा करने से शरीर में धीरे-धीरे रक्त निर्माण की प्रक्रिया में सुधार होता है। परिणाम स्वरूप शारीरिक कमजोरी दूर होने लगती है। इसके अतिरिक्त विदारीकंद का शाक बनाकर खाने से रक्त की शुद्धि होती है। जिससे रक्त विकार दूर होते हैं।

कमजोर बच्चों के लिए फायदेमंद-

शारीरिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए विदारीकंद एक फायदेमंद औषधि है। यह बच्चों के शरीर की दुर्बलता पर सकरात्मक प्रभाव डालता है। इसके लिए विदारीकंद के एक ग्राम चूर्ण को मुनक्का के साथ रोजाना देने से बच्चों का शरीर मजबूत होता है। इसके अलावा विदारीकंद चूर्ण को 1ग्राम की मात्रा में लेकर शहद के साथ सुबह-शाम सेवन करने से बच्चों की कमजोरी दूर होती है।

मूत्र संबंधित समस्याओं में लाभप्रद-

कई बार लोगों को पेशाब करते समय जलन, दर्द या बार-बार पेशाब होने जैसी समस्याओं से गुजरना पड़ता हैं। ऐसे में विदारीकंद इस समस्या से राहत पहुंचाने का काम करती हैं। इसके लिए विदारीकंद की जड़ के चूर्ण को शहद मिलाकर सेवन करें। ऐसा करने से इन समस्याओं से निजात मिलती हैं। 

गठिया एवं जोड़ों के दर्द में फायदेमंद-

विदारीकंद में कई तरह के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। जो गठिया के कारण होने वाले जोड़ों के दर्द एवं सूजन को कम करने में सहायक होते हैं। दरअसल, विदारीकंद में एंटी इंफ्लेमेंटरी और एंटी एनाल्जेसिक गुण मौजूद हैं। इस प्रकार विदारीकंद गठिया एवं जोड़ों के दर्द और सूजन के लिए उपयोगी माना जाता है। 

कैंसर रोधी गुण-

आयुर्वेदिक चिकित्सा में विदारीकंद का उपयोग कैंसर के इलाज में किया जाता है। क्योंकि इसमें एंटी कैंसर अर्थात कैंसर से लड़ने वाले पर्याप्त गुण मौजूद हैं। जो कैंसर कोशिकाओं से डी.एन.ए. को बचाते हैं और कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को भी कम करते हैं।

घाव को ठीक करने में सहायक-

विदारीकंद घावों को भरने के लिए बहुत ही लाभकारी औषधि है। क्योंकि इसमें वूंड हीलिंग और संक्रमण को नियंत्रित करने की क्षमता होती है। इसलिए विदारीकंद का इस्तेमाल किसी भी तरह की चोट, घाव, ब्लीडिंग और इंफेक्शन को ठीक करने में किया जाता है। इसके लिए विदारीकंद के जड़ के पेस्ट को घाव पर लगाएं। इससे घाव शीघ्र भरता है। साथ ही ऐसा करने से पुराना घाव भी ठीक हो जाता है।

विदारीकंद का उपयोग-

●विदारीकंद का कैप्सूल या टेबलेट के रूप में सेवन किया जाता है। 

●विदारीकंद के चूर्ण को गुनगुने पानी या दूध के साथ सेवन किया जाता है। 

●विदारीकंद को घी में रोस्टेड (भूनकर) इस्तेमाल किया जाता है। 

●इसकी जड़ से बने काढ़े का उपयोग किया जाता है। 

●विदारीकंद का सेवन ताजे जूस के रूप में कर सकते हैं। 

●इसकी जड़ का पेस्ट बनाकर बाहरी लेप के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

विदारीकंद का उपयोग करते समय बरतें यह सावधानियां-

●विदारीकंद के चूर्ण का अधिक मात्रा में सेवन न करें।    

●इसका सेवन करने से पहले चिकित्सक से सलाह जरुर लें। 

●लो ब्लड शुगर से पीड़ित व्यक्तियों को इसके सेवन से बचना चाहिए। 

●विदारीकंद का अधिक मात्रा में सेवन खुजली या किसी भी प्रकार की एलर्जी जैसी समस्याओं का कारण बन सकता हैं। 

 
 
 
Read More
What is Ragi? Know its Benefits and Uses

Posted 24 May, 2022

What is Ragi? Know its Benefits and Uses

Consuming nutritious grains is very important for health. Apart from nourishing the body, it helps in protecting against many physical and mental diseases. Ragi is also one of those healthy grains in which all the minerals, vitamins and many other essential nutrients are present, therefore ragi is considered good for many health problems.

Ragi plant grows up to 1 meter high. Its fruits are spherical, flat and wrinkled and the seeds are spherical, smooth and dark-brown in colour. Apart from this, Ragi is known by different names in different places Kejhavargu in Tamil, Ragi in Kannada and Telugu. Its botanical name is Eleusine coracana.

Benefits of Ragi

For bone development-

Ragi is considered a good source of calcium which strengthens the bones. Apart from this, the antioxidants present in it help in preventing diseases like osteoporosis and rheumatoid arthritis. Also, it promotes bone health. Therefore, it is beneficial to consume ragi in the form of porridge in your diet for the development and strength of bones.

To lose weight-

Consuming ragi porridge helps in controlling the increasing weight because tryptophan is an amino acid found in ragi. It has antiobesity (weight-reducing) properties. This amino acid works to control appetite by which weight gain can be prevented. Therefore, ragi is a good option for weight loss.

For diabetes-

Ragi flour proves beneficial to overcome the problem of type-2 diabetes. It has low glycemic and antidiabetic (blood sugar lowering) effects which work to provide relief in type-2 diabetes.

To reduce cholesterol-

Ragi is an effective medicine to reduce cholesterol because the amino acids present in ragi removes the excess fat stored in the liver due to which the amount of cholesterol present in the body is reduced. Apart from this, an amino acid called threonine is also found in ragi. It does not allow excess fat to accumulate in the liver. As a result, the cholesterol in the body remains under control.

Beneficial for anaemia

Anaemia (lack of red blood cells) is believed to be the main cause of iron deficiency in the body. It is considered to be a grain rich in iron, therefore, its consumption removes the risk of anaemia and fulfils the iron deficiency in the body. For this, ragi flour, porridge can be used in the form of other dishes.

For heart health-

Ragi is considered good for heart health because it contains special elements called iron, magnesium which works to reduce high blood pressure by controlling increased cholesterol. At the same time, it also reduces the risks of heart disease due to problems related to the arteries. Therefore, ragi is also considered beneficial for heart health.

Beneficial in digestion power and constipation-

Ragi porridge or flour proves beneficial in increasing digestive power. The dietary fiber present in ragi is good for intestinal health. At the same time, ragi has a laxative (relieves constipation) effect which works to remove the problem of constipation. Therefore, it is advised to consume ragi to increase digestion power and to remove the problem of constipation.

Helpful as Anti Cancer-

Consumption of ragi is beneficial for the prevention of cancer. Ragi has amino acid properties like methionine, cysteine ​​and lysine. All these properties work to protect against cancer. It also destroys cancer cells due to which the chances of getting cancer can be reduced to some extent.

Beneficial for lactating mothers-

Breastfeeding women must include ragi in their diet because the nutrients present in ragi are helpful in increasing the milk of the mother. It also provides essential iron, calcium and amino acids in milk. Apart from the mother, these nutrients are also very important for the children.

Beneficial for the brain-

The antioxidants and amino acids present in ragi work to relax the body. Also, the tryptophan amino acid found in it calms the mind. Apart from this, it helps to overcome problems like anxiety, stress, depression, headache and insomnia.

Beneficial for skin-

Apart from health, the consumption of ragi is very effective for the skin. It takes care of the skin perfectly. The ferulic acid present in it protects the skin from damage caused by ultraviolet rays. Apart from this, ragi has anti-ageing properties, which reduce the signs of premature ageing. For this, ragi can be used as a face mask.

Uses of Ragi

  • Rotis or parathas made from ragi flour are consumed.
  • Ragi porridge is eaten as breakfast.
  • It is also used to make Idli or dosa.
  • Ragi is used as a face mask.

Side effects of Ragi

  • Since ragi is a good source of calcium, excessive consumption can cause kidney stones.
  • It is rich in fiber content. Therefore, excessive consumption of it can cause stomach related problems like gas, flatulence or abdominal cramps.
  • People who are allergic to ragi or its products should avoid its consumption.

Where is Ragi found?

Ragi is generally the main crop grown in various places of India, Afghanistan. It is cultivated in mountainous areas in India. Apart from this, it is also found in high mountain regions.

Read More
Know about the Medicinal properties and Benefits of Lemon

Posted 28 March, 2022

Know about the Medicinal properties and Benefits of Lemon

The small-looking lemon is one of the popular fruits. Lemon is liked by almost everyone due to its sour taste and is full of juice. Often people use it in the form of lemonade, tea and chutney. Lemon juice is used to make a variety of refreshing drinks ranging from savoury dishes. This fruit is rich in vitamins, fibre and other nutrients. Apart from this, plenty of medicinal properties are also found in lemon. Therefore, by consuming lemon, the cholesterol of the body is controlled and the heart remains healthy. Therefore, adding lemon to the diet has a positive effect on physical and mental health.

What is Lemon?

Lemon is a fruit belonging to the Rutaceae family whose botanical name is Citrus Lemon. In India, many species like Kagji, Bijori, Jammari, Meetha etc. are found. Mostly Kagji lemon is used as medicine in Ayurveda. Its size is small or medium. Kagji lemon trees are thorny, bushy and evergreen which are up to 6 meters in height. Its flowers are small, white or pink in colour and the flowers give a strong aroma.

Medicinal importance of Lemon in Ayurveda

Lemon is an Ayurvedic medicine. Many types of nutritious substances are found in it which work to protect the body from diseases. In Ayurvedic medicine, lemon juice helps in fighting many diseases. It has antioxidant (reducing the effect of free radicals), anti-bacterial (fighting bacteria), anti-inflammatory (reducing inflammation) and antifungal (fighting fungus) properties.

Benefits of Lemon

To lose weight-

Lemon consumption is known to reduce weight. Vitamin C is found in abundance in lemon which helps to improve metabolism. Apart from this, the nutritious elements present in it, along with maintaining energy in the body, also controls hunger for a long time. It also prevents the accumulation of toxins in the body. For this, lemon juice and honey mixed with warm water should be consumed daily.

Helpful in controlling blood pressure-

It is believed that lemon juice is helpful in removing the problem of high blood pressure because the vitamin C present in it works to keep blood pressure balanced. The circulation of blood remains fine by its consumption. Apart from this, research done on this subject shows that consuming lemon in your diet every day and walking regularly keeps blood pressure under control.

Helpful in maintaining heart health-

Lemon is very beneficial in keeping the heart healthy. Many types of phytonutrients are found in it, of which, potassium and vitamin-C are able to protect the cardiovascular system. It prevents the progression of heart diseases by preventing the damage caused by oxidation on the heart. Apart from this, the polyunsaturated fatty acids present in it work to reduce the amount of bad cholesterol which is very important for a healthy heart.

To prevent anaemia-

There is a risk of anaemia due to a lack of iron in the body. In this case, the consumption of lemon is beneficial. According to the study published on the website of NCBI, if a diet rich in vitamin C is consumed along with iron-rich foods, it helps in the proper absorption of iron in the body. Therefore, consuming lemon with iron-rich food is beneficial because it is rich in Vitamin C which is helpful in preventing the risk of anaemia.

Effective in promoting immune health-

Lemon consumption improves the immunity of the body as it is rich in Vitamin C which acts as antioxidant activity in the body. Apart from this, the polyunsaturated fatty acids present in it also protect the body from oxidation.

Helpful in improving kidney function-

The antioxidants present in lemon help in curing and preventing kidney-related problems like kidney stones, frequent urination, high bladder activity etc. due to which the proper functioning of the kidney is ensured.

Effective in protecting from heat-

People often suffer from all physical and mental problems due to heatstroke during summers. In such a situation, they should include lemon in their diet to avoid this. Drinking lemon water twice a day proves beneficial for the body.

For cancer cells-

Anticancer properties are found in lemonade or its juice which help to keep the risk of cancer away and prevent cancer-causing cells from growing. Therefore, using lemon in your diet can prove beneficial to reduce the risk of cancer.

For Digestive Power-

Consuming lemon is a great remedy to overcome the problem of digestion and acidity. It helps in increasing digestive power. The anti-oxidant properties present in it protect against oxidative stress. Apart from this, the vitamin C found in it works to prevent other stomach problems. Sipping tea made from it improves digestion power.

For respiratory health-

Consuming foods rich in vitamin C is considered good for the prevention of asthma, cough, bronchitis, pneumonia and other respiratory and lung problems. In this case, the consumption of lemon is beneficial because it is rich in Vitamin C. Consuming lemon rich in vitamin C also helps in fighting inflammation and infection. Apart from this, home cough syrup is also prepared by mixing honey with lemon juice.

Helpful in removing bad breath-

Lemon tea works to maintain oral hygiene. For this, drinking a cup of lemon tea daily removes bad breath and improves oral hygiene.

For acne-

Lemon helps prevent the growth of acne-causing bacteria because it has anti-inflammatory and anti-bacterial properties which keep acne and pimples away from the face and skin. Use lemon juice or oil for this.

Beneficial for hair-

Lemon consumption is also beneficial for hair. The nutrients present in it work to make the hair healthy and strengthen them. The vitamins C and E present in it provide essential nourishment to the hair. It also works to promote hair growth. Apart from this, extract lemon juice and apply it to the hair roots and scalp with cotton. After this leave the hair for an hour and then wash it with water. Doing this also gets rid of dandruff.

Uses of Lemon

  • Lemon is used to make lemonade, soda, Mojito and lemon tea.
  • Lemon juice is also used in salads.
  • Many people consume lemon in the form of pickles.
  • Lemon juice or its oil is also used on acne or stretch marks.
  • Many people apply lemon juice to their hair for freedom from dandruff.
  • Lemon juice is used while applying henna to the hair.
  • Lemon juice is also used for cleaning and removing stains from clothes.

Side effects of Lemon

  • Vitamin C is found in abundance in lemon. Therefore, it should not be consumed in excess because excessive intake of vitamin C can cause problems like stomach cramps, pain and nausea.
  • If a person is allergic to lemon, then he should avoid its consumption. Otherwise, he may have to face the problems of oral allergy syndrome-like soreness, swollen lips and fever.
  • Teeth can become sour due to excessive consumption of lemon. Apart from this, consuming too much of it can also damage the tooth enamel (outer layer of teeth).
Read More