Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

What is Jaw Pain & Why does it happen?

Posted 22 August, 2022

What is Jaw Pain & Why does it happen?

Pain in any body part is an indication of something not right in the body. Jaw pain is a sharp or consistent pain that may cause problems in the ability to eat or speak. Jaw pain is often considered a normal medical concern that may result from toothache, sinusitis, jaw issue or can be a result of a serious heart problem. It sometimes spreads to other areas of the face.

Jaw pain can also result from reasons that are not due to a serious underlying disease for eg. aggressive chewing, jaw trauma or opening the mouth too wide for eg. yawning or a dental procedure.

Symptoms of Jaw Pain

  • Pain or tenderness in the jaw that may radiate to the face.
  • Pain in temporomandibular joints.
  • An aching pain in and around your ear.
  • Facing difficulty or pain while chewing.
  • Tenderness in the joints and muscles.
  • Limited range of motion.
  • Issues in jaw alignment.
  • Feeling a burning sensation in the mouth.
  • locking of the jaw, which makes opening and closing of the mouth difficult.
  • Clicking, popping, or grinding sounds when you open your mouth or chew.
  • Tooth sensitivity.

Causes of Jaw Pain

  • Trigeminal Neuralgia
  • Broken or dislocated jaw.
  • Toothache.
  • Ear or dental infections.
  • Arthritis.
  • Teeth injuries.
  • Tooth grinding and clenching.
  • Periodontal disease.
  • Problems with your jaw or the temporomandibular joint.
  • Tetanus

Some rare causes of jaw pain include

  • Disorders of the salivary gland.
  • Stress, fatigue, and anxiety.
  • Insomnia.
  • Formation of tumors in or around the jawbones.
  • Heart attack.
  • Autoimmune conditions, such as lupus.
  • Obstructive sleep apnea.
  • Fibromyalgia.
  • Sinusitis.
  • Ear infections.
  • Some mental health conditions.

How is Jaw Pain diagnosed?

A doctor will inquire about the symptoms and conduct a physical examination of facial reflexes . In certain cases, they may also recommend certain tests such as a blood test, an imaging study, x rays or a combination of these two.

If a doctor doubts about the cause of jaw pain they may recommend tests pertaining to that certain disease. In some rare cases, the doctor might also ask for a psychological or psychiatric screening.

Treatment Methods for Jaw Pain

Treating the root cause of jaw pain may include therapies like medication, self-care, or surgical procedures.

  • Medications and Self-Care-Specific medications are prescribed for certain jaw pains. If the pain is caused by an infection, antibiotics will be prescribed, while in the case of teeth grinding, a mouthguard may come to the rescue.
  • Surgical Procedures-If the jaw pain is due to a tooth problem, then surgical treatments such as root canal treatment, periodontal treatment, or tooth extraction may be done.

Home Remedies for Jaw Pain

  • Warm Compress-Placing a heating pad/warm compress outside the jaw joint helps to provide relaxation to the surrounding muscles by releasing the tension between muscles & improves blood circulation. If this is the major cause of jaw pain, using a heating pad to warm up the area for 15-20 minutes at a time provides relief.
  • Cold Compress-Ice is a great measure that helps to numb pain and reduce inflammation. Therefore, cold compressing for 15 to 20 minutes would help relieve swelling and pain.
  • Nutritional supplements-Foods rich in magnesium helps to reduce muscle tension. Therefore, including almonds, spinach, pumpkin seeds, black beans, dark chocolate, and bananas might be of help in relieving jaw pain.
  • Omega-3 fatty acid rich food-Omega-3 fatty acids have anti-inflammatory properties that help to reduce inflammation of the jaw. Food items such as salmon, walnuts, cod liver oil, flax seeds, chia seeds, and soybeans are high in omega-3 fatty acids and prove to be beneficial in jaw pain.
  • Turmeric-Turmeric helps to decrease inflammation due to its anti-inflammatory properties. Including turmeric in diet is very beneficial for relief in jaw pain.
  • Face massage-Face massage can be of great help in relieving jaw pain as it helps to relax the muscles around the temporomandibular joint. If the cause of pain is temporomandibular joint then massaging is extremely helpful. For this, massage the jaw and temples with light hands and in a circular motion for about 30 seconds. Then. The face massage can be performed every 4 hours to minimize jaw pain.
  • Facial exercises may help-Certain facial exercises such as stretching the jaw, opening and closing the mouth with multiple repetitions may help by strengthening the muscles of the jaws, and relaxing the jaw for an increased mobility.
  • Mind calming techniques-Managing stress is one of the key solutions to relieving jaw pain as a tensed mind also leads to pain. Trying certain mind calming techniques such as deep breathing, meditation, yoga, and exercise can be of great help. These activities help to lower the resting heart rate, maintain ideal blood pressure, and can calm the nervous system.
  • Soft food diet-In case of intense or recurring jaw pain, consuming a soft food diet for five to seven days would help. This diet can include soup, pasta, pudding, yogurt, and soft breads.

Prevention methods for Jaw Pain

The following are some of the methods that can be included in one’s daily routine to avoid jaw pain

  • Avoid eating crunchy or foods that are hard to chew.
  • Take small bites to avoid continuous chewing.

There are some long-term strategies as well for preventing jaw pain. These include:

  • Practice good oral hygiene.
  • Regular checkups by a dentist.
  • Correct sitting posture and do not bear weight for too long on one shoulder.

When to see a doctor?

Jaw pain usually subsides on its own or with some home remedies within a few days without medical treatment. However, if the pain doesn’t go away or worsens, it is always a safe option to consult a doctor in order to rule out the possibility of serious health problems.

Immediate medical attention should be given if there is severe or prolonged discomfort accompanied by symptoms such as troubled breathing, chest pain, sweating, or dizziness.

Read More
क्या होता है दांत का फोड़ा?जानें इसके कारण,लक्षण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

क्या होता है दांत का फोड़ा?जानें इसके कारण,लक्षण और घरेलू उपचार

दांत का फोड़ा पस (Tooth Abscess) का समूह होता है। जो जीवाणु संक्रमण के कारण होता है। यह विभिन्न कारणों से दांत के विभिन्न क्षेत्रों में फोड़ा हो सकता है। जाड की टिप पर पेरिअपिकल फोड़ा होता है, जबकि दांत की जड़ के बगल के मसूड़ों मे पेरिओडोन्टल फोड़ा होता है। पेरिअपिकल दांत का फोड़ा आमतौर पर एक अनुपचारित दांत की कैविटी, चोट या पहले कभी दांत में होने वाले बदलाव के कारण होता है। दंत चिकित्सक दांत के फोड़े को हटाने के लिए उस जगह को साफ करते हैं और संक्रमण से छुटकारा दिलाने के लिए उसका इलाज करते हैं। डॉक्टर रुट कैनाल के इलाज द्वारा भी दांत ठीक कर सकते हैं।लेकिन कुछ स्थितियों में दांत को बाहर निकालने की आवश्यकता भी पड़ जाती है। दांत के फोड़े का इलाज न कराना कई बार गंभीर और जानलेवा भी हो सकता है।

 

दांत में फोड़े के लक्षण-

दांत में जब फोड़ा होता है, तो दांत और मसूड़ों का दर्द धीरे-धीरे जबड़ा, कान और गर्दन तक पहुंच जाता है। जिससे दांत या मसूड़े में फोड़ा निकल जाता है। अत:उसमें तेज दर्द होता है।

 
  • कुछ भी खाने पर संक्रमित जगह पर दर्द होना।
  • संवेदनशील दांत।
  • मुंह में गंदे स्वाद वाले तरल पदार्थ का स्त्राव।
  • सांसों में बदबू।
  • मसूड़ों में लालिमा और दर्द।
  • अस्वस्थ महसूस करना।
  • मुंह खोलने में तकलीफ होना।
  • प्रभावित क्षेत्र में सूजन।
  • चेहरे पर सूजन।
  • दांतों में अनपेक्षित दर्द होना।
  • अनिद्रा की समस्या।
  • कुछ निगलने में परेशानी होना।
  • बुखार।

दांत में फोड़ा के कारण-

  • मसूड़ों की बीमारी।
  • मुंह की सफाई ठीक से न करना।
  • प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होना।
  • टूटा हुआ दांत।
  • मसूड़ों में सूजन और जलन।
  • दांतों में संक्रमण बैक्टीरिया।
  • कार्बोहाइड्रेट युक्त तथा चिपचिपे पदार्थ को अधिक मात्रा में खाना।

दांत के फोड़े का इलाज-

दांत के फोड़े के लक्षण दिखते ही डेंटिस्ट को दिखाएं।उसी से पता चलेगा कि फोड़े और संक्रमण की स्थिति कैसी है और किस विधि से दंत के फोड़े को ठीक किया जाएगा। डॉक्टर दांत के फोड़े का इलाज निम्नलिखित प्रक्रियाओं द्वारा करते हैं।

 
  • रूट कैनाल ट्रीटमेंट (Root canal treatment) से दांत या मसूड़े के अंदर की खाली जगह को भरते हैं।
  • अगर खाली जगह नहीं भरी जा सकती तो डॉक्टर उस दांत या मसूड़े को निकाल कर इलाज करते हैं।
  • इनिशिएशन और ड्रेनज (Initiation and drainage) विधि अपनाई जाती है। इससे मसूड़े में एक छोटा सा कट लगाते हैं और पस को बाहर निकालते हैं। लेकिन यह एक अस्थायी समाधान है।

दांत में फोड़े का घरेलू उपचार-

लहसुन

लहसुन बैक्टीरिया को मारने के लिए एक प्राकृतिक हथियार है। कच्चे लहसुन का रस संक्रमण को मारने में मदद करता है। यदि दांत में बहुत अधिक दर्द हो रहा हो तो कच्चे लहसुन की एक कली लें। इसे पीसें और निचोड़करइसका रस निकालें। इस रस को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। यह घरेलू उपचार दांत के दर्द में जादू की तरह काम करता है।

 

लौंग का तेल

लौंग का तेल भी संक्रमण रोकने में सहायक होता है।यहदांतों के दर्द में तथा मसूड़ों की बीमारी में अच्छा उपचार है। उपयोग हेतु थोड़ा सा लौंग का तेल लेकर धीरे धीरे ब्रश करें। प्रभावित क्षेत्र में इसे लगाते वक्त अतिरिक्त सावधानी रखें। बहुत अधिक दबाव न डालें तथा अपने मसूड़ों पर धीरे धीरे मालिश करें अन्यथा अधिक दर्द होगा। मसूड़ों पर लौंग के तेल की कुछ मात्रा लगाएं तथा धीरे धीरे मालिश करें।

 

आईल पुलिंग

यह घरेलू उपचार बहुत ही सहायक होता है। इसमें आपको सिर्फ नारियल के तेल की आवश्यकता होती है। इस्तेमाल हेतु एक टेबलस्पून नारियल का तेल लें और इसे मुंह में चलाएं। इसे निगले नहीं, इसे लगभग 30 मिनिट तक अपने मुंह में रखें रहें। फिर इसे थूक दें और मुंह धो लें। ऐसा करने पर निश्चित रूप से आराम मिलता है।

 

पेपरमिंट आईल

दांत के दर्द में पेपरमिंट आईल जादू की तरह काम करता है। उपयोग हेतु पहलेअपनी उंगलियों के पोरों पर कुछ तेल लें और फिरइसे धीरे-धीरे प्रभावित क्षेत्र पर मलें। इससे दांत के दर्द से तुरंत आराम मिलेगा।

 

नमक

तुरंत आराम पाने के लिए थोड़ा सा नमक गुनगुने पानी में मिलाएं और इस पानी से गरारे करें। ऐसा करने पर पहले थोड़ा दर्द महसूस होगा परंतु उसके बाद कुछ आराम मिलेगा। इसे कई बार दोहराएं। इससे दर्द लगभग 90% तक कम हो जाएगा।

 

टी बैग

टी बैग एक अन्य घरेलू उपचार है। हर्बल टी बैग को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। इससे पस के कारण होने वाले दर्द से तुरंत आराम मिलेगा।

 

ओरेगानो आईल

ओरेगानो आईल में एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल, एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी वायरल गुण होते हैं। यह घरेलू उपचार में बहुत प्रभावकारी होता है विशेष रूप से दांतों और मसूड़ों की बीमारियों में।

 

ऐप्पल सीडर विनेगर (एसीवी)

दांतों में पस होने पर ऐप्पल सीडर विनेगर एक अन्य प्रभावशाली उपचार है। इसके लिए एक टेबलस्पून एसीवी लें। इसे कुछ समय के लिए अपने मुंह में रखें और फिर इसे थूक दें। इसे निगलें नहीं। इससे प्रभावित क्षेत्र रोगाणुओं से मुक्त और दर्द कम हो जाएगा।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

दांत और मसूड़ों का दर्द धीरे-धीरे जबड़ा, कान और गर्दन तक पहुंचने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

Read More
Toothache- Know its Causes and Preventive measures

Posted 08 December, 2021

Toothache- Know its Causes and Preventive measures

Toothache is a common problem, but this pain is extremely unbearable, leading to swelling on the face, and sometimes there is also a headache. Toothache can occur at any age. Usually, toothache occurs due to eating too hot or cold food, not keeping the teeth clean, calcium deficiency, bacterial infection, or weakening the teeth’ roots. Apart from this, there is severe pain in the teeth even during the removal of the wisdom tooth. This pain is considered one of the most dangerous pains. If it is ignored at the initial stage, then it progresses to the gums after which the effect of this pain does not remain only till the teeth because of this, the ears, mouth, head and neck also become vulnerable to pain. According to experts, instead of taking pain killer or antibiotic medicine immediately after a toothache, home remedies should be adopted. According to Ayurveda, a toothache can be relieved by improving diet, cleanliness and home remedies.

 

Types of Toothache

There are two types of tooth pain-

 

Sharp Tooth Pain-

There is severe pain in the teeth that's why it is called a sharp tooth pen. This happens very quickly while eating or talking.

 

Dull Tooth Pain-

The pain is caused by eating too hot or cold food. This pain is called Dull Tooth Pain. It is light but lasts longer.

 

Causes of toothache

Following are the main causes of toothache-

 
  • Taking care of teeth is essential for healthy teeth. If the teeth are not taken care of properly, then worms get in the teeth. This causes cavities in the teeth which causes toothache.
  • The weakening of the roots of the teeth is also the cause of pain in the teeth. The roots of the teeth become weak due to improper teeth cleaning. This causes pain in the teeth.
  • There is unbearable pain in the teeth during the removal of the wisdom tooth.
  • Eating too much sweet food also causes toothache. After eating sweets, the food particles remain in the teeth and gums. These bacteria produce acids that damage the teeth. This infection reaches the roots of the teeth and causes pain in the teeth.
  • Teeth become weak due to a lack of calcium due to which there is pain in the teeth.
  • Bacterial infection in the teeth also causes pain.

Home remedies for Toothache

It is beneficial to adopt home remedies to get instant relief in toothache, such as-

 

Clove-

The use of cloves is considered very effective in toothache. Pressing clove under the tooth provides relief in pain. Clove oil is also beneficial in toothache.

 

Garlic-

Anti-bacterial agents are found in garlic which provides relief from toothache and sensitive teeth. For this, grind a clove of garlic and add some water and salt. After that apply it to the affected area. After leaving on for 10-15 minutes, rinse off with lukewarm saltwater.

 

Saltwater-

 

Gargling with salt water is considered to be the best way to eliminate the tingling of teeth. By doing this, the pH balance of the mouth is balanced. For this, gargle with one teaspoon of salt in a cup of lukewarm water. Try to hold water in your mouth for a while and gargle.

 

Turmeric-

 

Turmeric has anti-oxidant, anti-bacterial properties which can help to get rid of every problem of teeth. To use it, make a thick paste by mixing salt and mustard oil in half a teaspoon of turmeric powder. Use it on the affected area. Do this twice a day to get rid of the tingling of teeth quickly.

 

Asafoetida-

 

Asafoetida is used for flavour and aroma in food but it is also beneficial in many types of home remedies. If there is a pain in the teeth, mixing a pinch of asafetida with lemon juice and applying it on the tooth with cotton, reduces the pain.

 

Raw onion-

 

Onions have anti-inflammatory, anti-allergic, anti-carcinogenic and antioxidant properties which destroy the bacteria in the mouth. Chewing a piece of onion slowly gives relief from tooth pain.

 

Black pepper-

 

Black pepper provides instant relief in toothache caused by eating too hot or cold. For this, mix an equal quantity of black pepper powder and salt. Now add few drops of water to it and make a paste. Apply this paste on the painful area and leave it for some time. This cures toothache quickly.

 

Guava leaves-

 

Along with guava, guava leaves are also very beneficial, these have antibacterial properties. Chewing fresh leaves of guava in toothache provides relief from pain or boil these leaves in water and cool and add salt to it and gargle with it. This method also gives relief to toothache.

 

Apply baking soda-

Baking soda has antibacterial, antifungal and antiseptic properties. Rinse the affected tooth by adding baking soda to lukewarm water. This reduces toothache. Apart from this, you can also sprinkle a little baking soda in wet cotton and apply it to the painful tooth.

 

Teabag-

 

Teabags are also used to relieve toothache and inflammation. The antiseptic present in it also removes inflammation and pain. Apart from this, it also cures problems related to teeth and gums.

 

How to keep your diet and lifestyle in toothache-

People suffering from toothache should -

 
  • Minimize the consumption of sweet and sticky foods.
  • Do not eat very cold and very hot things.
  • Rinse thoroughly after eating anything.
  • Brush your teeth regularly in the morning and before going to bed.
  • Have a dental checkup with your dentist every 6 months.

When to go to the doctor if you have a toothache?

Most people start taking painkillers as soon as there is pain in the tooth whereas you should first try the above-mentioned home remedies. If even after these home remedies, a toothache is not relieved, then contact the nearest doctor. You can contact the doctor in the following situations-

 
  • If the toothache persists for more than a day and home remedies are not giving relief.
  • Blood and smell coming from the gums.
  • If the pain caused by the wisdom teeth is getting worse.
Read More
Symptoms, Causes and Home Remedies of Cavity

Posted 14 December, 2021

Symptoms, Causes and Home Remedies of Cavity

Nowadays people are becoming health conscious due to increasing diseases but many people do not pay that much attention to oral health due to which problems like cavity gradually make the teeth their victim and start worsening the condition of the teeth. The main reason for this includes modern lifestyle, wrong eating habits and changes in routine etc. For example, many people forget to rinse after having a meal and clean their mouth well before going to sleep at night. As a result, they have to face many problems related to the mouth including worms (cavities) in the teeth. According to experts, if there is a cavity in the teeth, instead of taking antibiotics immediately, home remedies should be adopted. According to Ayurveda, a cavity can be got rid of by improving diet, cleanliness and home remedies.

 

What is a Cavity?

There are many bacteria present in the mouth, some of which are beneficial for keeping the mouth healthy whereas some bacteria are harmful to oral health. These harmful bacteria form acid in the mouth and begin to destroy the hard enamel of the teeth. As a result, tooth decay begins due to which small pores are formed in the teeth which we call a cavity. This problem can arise in people of any age but it is mostly seen in children. If it is not treated in time, it can cause pain, decay and many oral problems.

 

Types of Cavity

Segmentation on the basis of places-

The cavity is divided into two parts depending on the location which is as follows-

 

Primary cavity-

The primary cavity is mainly divided into three parts which are-

 
  1. Smooth cavity- In this type of cavity, worms are found on the smooth surface of the teeth.
  2. Pit cavity- This cavity is also called the Fissure cavity. In this type of cavity, worm pits and fissures (the teeth in which there are cracks and holes in the deep groove) are found at the place.
  3. Root surface cavity- In this, worms are found in the roots of the teeth. Apart from this, these insects hollow the teeth from the roots.

Secondary cavity-

The secondary cavity is also called the recurrent cavity. Even after filling the teeth, worms start appearing in the teeth. This type of cavity is called a secondary cavity.

 

Segmentation on the basis of direction-

  1. Backward cavity- In this type of cavity, the worms move from the inner surface to the outer surface. In this, the worms spread from the dental enamel junction to the enamel.
  2. Forward cavity- In this type of cavity, the worms spread from the enamel to the root of the teeth.
 

Segmentation on the basis of speed-

  1. Acute cavity- In this type of cavity, the worms spoil the teeth very fast.
  2. Chronic cavity- Its process is very slow which stops after a while.

Segmentation on the basis of phase-

  1. Reversible- In this, the activity of the worm occurs only till the enamel.
  2. Irreversible- In this, the enamel breaks down and the worms reach the inner surface.

Symptoms of Cavity

Initially, there are no symptoms of the cavity but as the problem progresses, some symptoms are visible. Let us discuss these symptoms-

 
  • Mild or severe pain in the tooth.
  • Sensitivity from food or beverages.
  • Holes or pits appearing in the teeth.
  • Tingling in the teeth.
  • The appearance of black or brown spots on the surface of the teeth.
  • Feeling of pain while chewing.
  • Swelling of the mouth, gums, or face.

Causes to Cavity

  • Long sticking of sweet or sticky foods on the teeth.
  • Not rinsing the mouth after eating anything while sleeping at night.
  • Not cleaning the mouth and teeth properly.
  • Bacterial infection of the teeth.
  • Weakening of the roots of the teeth.
  • Less production of saliva in the mouth.
  • Mouth dryness.
  • Heartburn i.e, burning in the chest.
  • Not getting enough fluoride in the teeth.
  • Frequent eating or drinking etc.

Make the following changes in your diet and lifestyle when you have a Cavity

In case of tooth decay, people should follow the following-

 
  • Minimize the consumption of sweet and sticky foods.
  • Stay away from tobacco containing substances.
  • Do not eat too much cold and hot things.
  • Rinse thoroughly after eating anything.
  • Brush your teeth regularly in the morning and before going to bed.
  • Get your teeth checked from time to time by the dentist.
  • If possible, get a sealant (a ceramic powder that is filled in the grooves) of your child's molar teeth. By doing this, the food item does not stick to the teeth.

Home remedies for tooth Cavity

To get instant relief, it is beneficial to adopt home remedies such as-

 

Clove-

Clove oil is used to reduce the pain caused by the cavity because it contains a compound called eugenol which helps to remove toothache. For this, take two to three drops of clove oil on a piece of cotton and apply it to the affected tooth. By doing this, all dental problems get relief. In addition, the eugenol compound is also used by dentists to temporarily fill the cavity with zinc oxide.

 

Garlic-

Anti-bacterial agents are found in garlic which relieves the problem of tooth decay and pain as well as sensitive teeth. For this, grind a clove of garlic and add some water and salt. After that apply it to the affected area. After leaving on for 10-15 minutes, rinse off with lukewarm saltwater.

 

Saltwater-

Cavities are also treated with a solution of saltwater. It acts as an antiplaque agent when used regularly. In this way, the saltwater solution prevents the cavity by eliminating the plaque. For this, gargle with one teaspoon of salt in a cup of lukewarm water. Try to hold water in your mouth for a while before gargling.

 

Turmeric-

Turmeric has anti-oxidant, anti-bacterial properties which can get rid of every problem of teeth. To use it, make a thick paste by mixing salt and mustard oil in half a teaspoon of turmeric powder and use it on the affected area.

 

Asafoetida-

Asafoetida is used for flavour and aroma in food but it is also beneficial in many types of home remedies. In case of tooth decay, mixing a pinch of asafoetida with lemon juice and applying it on the tooth with cotton, destroys harmful bacteria.

 

Liquorice root-

Liquorice root is very effective in every problem of teeth because it has effective anti-microbial properties which kill harmful bacteria. For this, gargle with the root of liquorice and then rinse it.

 

Neem-

Soft brushing of neem removes all the problems related to teeth. Neem has anti-microbial properties which destroy cavity-causing bacteria.

 

Aloe vera gel-

Aloe vera gel also proves beneficial for home treatment of cavities. The antimicrobial properties present in aloe vera destroys the harmful bacteria that cause the cavity. For this, apply half a teaspoon of aloe vera gel on a toothbrush and clean the teeth thoroughly with this for a few minutes. After that rinse off with water.

 

Toothpaste containing fluoride-

Toothpaste containing fluoride is effective in removing cavities because the fluoride present in this toothpaste is easily absorbed in the tooth due to which the teeth become strong. Research on this shows that daily brushing with fluoridated toothpaste can prevent tooth decay.

 

Apply baking soda-

Baking soda also has antibacterial, antifungal and antiseptic properties. Rinse it off by adding baking soda to lukewarm water. This reduces tooth decay. Apart from this, sprinkle a little baking soda in wet cotton and apply it to the cavity tooth.

 

Teabag-

Teabags are also used to relieve toothache and inflammation. The antiseptic present in it relieves inflammation and pain. Apart from this, it also cures problems related to teeth and gums.

 

When to go to the Doctor if you have a Cavity?

Most people start taking painkillers or antibiotic medicine when they have any kind of problem in the tooth like decay, pain. Whereas at first, the above-mentioned home remedies should be done. In case the problem persists even after these home remedies, then contact the nearest doctor. Apart from this, a doctor must be contacted in the following conditions-

 
  • If the toothache persists and home remedies are not providing relief.
  • There is blood and smell coming from the gums.
Read More
कैविटी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

कैविटी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

आजकल बढ़ती बीमारियों के चलते लोग सेहत के प्रति जागरूक तो हो रहे हैं। लेकिन बहुत से लोग ओरल हेल्थ पर उतना ध्यान नहीं देते। जिसके कारण कैविटी जैसी समस्याएं दातों को धीरे-धीरे अपना शिकार बनाती हैं और दातों की स्थिति खराब करने लगती हैं। इसका मुख्य कारण आधुनिक जीवन शैली, गलत खान-पान और दिनचर्या में होने वाला बदलाव आदि शामिल हैं। उदाहरण के तौर पर कई लोग भोजन करने के बाद कुल्ला करना और रात में सोने से पहले मुंह की अच्छे से सफाई करना भूल जाते हैं। नतीजन उन्हें आगे चलकर मुंह से संबंधित तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिसमें दांतों में कीड़े लगना (कैविटी) भी शामिल है। विशेषज्ञों के अनुसार दातों में कैविटी (सड़न) होने पर तुरंत एंटीबायोटिक दवा खाने की बजाय घरेलू उपचार अपनाने चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार खानपान में सुधार, साफ-सफाई एवं घरेलू नुस्खों से दांतों की सड़न से छुटकारा पाया जा सकता है।  

 

क्या है कैविटी?

मुंह में कई सारे बैक्टीरिया (जीवाणु) मौजूद होते हैं। इनमें से कुछ जीवाणु मुंह को स्वस्थ्य रखने के लिए लाभकारी होते हैं। लेकिन कुछ बैक्टीरिया मौखिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी होते हैं। यह हानिकारक बैक्टीरिया मुंह में अम्ल (एसिड) बनाते हैं और दांतों की कठोर परत (एनामेल) को नष्ट करने लगते हैं। परिणामस्वरूप  दांतों का क्षय (Tooth decay) होने लगता है। जिसके कारण दांतों में छोटे-छोटे छिद्र हो जाते हैं। जिन्हें हम कैविटी कहते हैं। यह समस्या किसी भी उम्र के लोगों में उत्पन्न हो सकती है। लेकिन ज्यादातर यह बच्चों में देखने को मिलती है। यदि समय रहते इसका इलाज नहीं किया जाए तो इसके कारण दर्द, सड़न और न जाने कितनी मौखिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

 

कैविटी या दांतो में कीड़े के प्रकार-

जगहों के आधार पर विभाजन-

जगहों के आधार पर कैविटी को दो भागों में विभाजित किया गया है। जो इस प्रकार हैं-

 

प्राइमरी कैविटी-

प्राइमरी कैविटी को मुख्य रूप से तीन भागों में बाटा गया हैं। जो निम्नलिखित हैं:

 
  1. स्मूथ कैविटी- इस प्रकार के कैविटी में कीड़े दातों के चिकनी सतह पर लगते हैं।
  2. पिट कैविटी- इस कैविटी को फिशर कैविटी भी कहा जाता है। इस प्रकार की कैविटी में कीड़े पिट और फिशर (वह दांत जिसके गहरे खांचे में दरार एवं छिद्र हो जाय) जगह पर लगते हैं।
  3. रूट सरफेस कैविटी- इसमें कीड़े दातों के जड़ों में लगते हैं। इसके अलावा यह कीड़े जड़ों से दातों को खोखला कर देते हैं।

सेकंडरी कैविटी-

सेकेंडरी कैविटी को रिकरंत अर्थात बार-बार होने वाली कैविटी भी कहा जाता है। दातों की भराई करने के बाद भी दातों में कीड़े लगने लगते हैं। इस तरह के कैविटी को सेकेंडरी कैविटी कहते हैं।

 

दिशा के आधार पर विभाजन-

  1. बैकवर्ड कैविटी- इस तरह की कैविटी में कीड़े भीतरी सतह से बाहरी सतह की ओर लगते हैं। इसमें कीड़े डेंटिल एनामेल जंक्शन से एनामेल तक फैल जाते हैं।
  2. फॉरवर्ड कैविटी- इस तरह की कैविटी में कीड़े एनामेल से दातों के जड़ तक फैल जाते हैं।
 

गति के आधार पर विभाजन-

 
  1. एक्यूट कैविटी- इस प्रकार के कैविटी में बहुत तेजी से कीड़े दांतो को खराब कर देते हैं।
  2. क्रोनिक कैविटी- इसकी प्रकिया बहुत धीमी होती है। जो थोड़े समय बाद रुक भी जाती है।
 

चरण के आधार पर विभाजन-

 
  1. रिवर्सेबल- इसमें कीड़े की गतिविधि केवल एनामेल तक होती है।
  2. इर्रिवर्सेबले- इसमें एनामेल टूट जाता है और दातों के कीड़े भीतरी सतह तक पहुंच जाते हैं।  
 

क्या होते हैं कैविटी के लक्षण?

शुरूआत में कैविटी के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन परेशानी बढ़ने पर कुछ लक्षण नजर आते हैं। आइए चर्चा करते हैं इन्ही लक्षणों के बारे में :

 
  • दांत में हल्का या तेज दर्द होना।
  • खाद्य या पेय पदार्थों से दांतों में ठंडा या गर्म का आभास होना।
  • दांतों में छिद्र या गड्ढे दिखाई देना।
  • दातों में झनझनाहट होना।
  • दांतों की सतह पर काले या भूरे रंग के धब्बों का दिखना।
  • चबाते समय दर्द का अनुभव होना।
  • मुंह, मसूड़ों या चेहरे पर सूजन होना।

कैविटी होने के कारण-

  • मीठे या चिपचिपे खाद्य पदार्थों का दातों पर लंबे समय तक चिपकना।
  • रात को सोते समय कुछ भी खाकर कुल्ला न करना।
  • सही तरीके से मुंह और दांतों की सफाई न करना।
  • दातों में बैक्टीरिया का इन्फेक्शन होना।
  • दातों की जड़ों का कमजोर होना।
  • मुंह में लार का कम बनना।
  • मुंह का सूखापन ।
  • हार्ट बर्न यानी सीने में जलन होना।
  • दातों को पर्याप्त मात्रा में फ्लोराइड न मिलना।
  • बार-बार खाना या पीना आदि।

कैविटी होने पर करें अपने खान-पान और जीवनशैली में बदलाव-

दांत के सड़न होने पर लोगों को अपना खान-पान ऐसा रखना चाहिए-

 
  • मीठे और चिपचिपे पदार्थ का सेवन कम से कम करें।
  • तंबाकू युक्त पदार्थों से दूर रहें।
  • बहुत ज्यादा ठंडा और गरम चीजें न खाएं।
  • कुछ भी खाने के बाद अच्छे तरीके से कुल्ला करें।
  • नियमित रूप से सुबह और सोने से पहले ब्रश से दांतों की सफाई करें।
  • दन्त चिकित्सक से दांतों का समय-समय पर चेकअप कराएं।
  • संभव हो तो अपने बच्चों के दाढ़ के दांतों में सीलेंट (एक सिरेमिक पाउडर, जो दांतों के खांचों में भरा जाता है) लगवाएं। ऐसा करने से खाद्य पदार्थ दांतों पर चिपकता नहीं है।

दांत दर्द के घरेलू उपचार-

दातों की हर समस्या में तुरंत आराम पाने के लिए घरेलू उपचार अपनाना फायदेमंद होता है, जैसे-

 

लौंग-

कैविटी के कारण होने वाले दर्द को कम करने के लिए लौंग के तेल का इस्तेमाल किया जाता है। क्योंकि इसमें यूजेनॉल नामक यौगिक पाया जाता है। जो दांत के दर्द को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए रूई के टुकड़े पर दो से तीन बूंद लौंग का तेल लेकर प्रभावित दांत पर लगाएं। ऐसा करने से दांत संबंधी सभी समस्याओं में आराम मिलता हैं। इसके अलावा यूजेनॉल यौगिक का प्रयोग दन्त चिकित्सक जिंक ऑक्साइड के साथ कैविटी को अस्थायी रूप से भरने के लिए भी करते हैं।    

 

लहसुन-

लहसुन में एंटी बैक्टीरियल एजेंट पाए जाते हैं। जो दांतों की सड़न और दर्द के साथ-साथ सेंसिटिव दांतों की समस्या से भी छुटकारा दिलाते हैं। इसके लिए एक लहसुन की कली को पीस लें और थोड़ा सा पानी और नमक डाल लें। इसके बाद इसे प्रभावित जगह पर लगा लें। 10-15 मिनट तक लगा रहने के बाद गुनगुने नमक वाले पानी से कुल्ला कर लें। 

 

नमक का पानी-

नमक पानी के घोल से भी कैविटी का उपचार किया जाता है। इसका नियमित रूप से उपयोग करने पर यह एंटीप्लाक एजेंट की तरह काम करता है। इस प्रकार से नमक पानी का घोल प्लाक को खत्म करके कैविटी से बचाव करता है। इसके लिए एक कप गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक डालकर गरारे करें। गरारे करते समय थोड़ी देर तक मुंह में पानी रोकने की कोशिश करें।

 

हल्दी-

हल्दी में एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। जो दांतों को हर समस्या से छुटकारा दिला सकते हैं। इसे इस्तेमाल करने के लिए आधा चम्मच हल्दी पाउडर में नमक और सरसों का तेल मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। इसका इस्तेमाल प्रभावित हिस्से पर करें।

 

हींग- 

हींग का इस्तेमाल खाने में स्वाद और खुशबू के लिए किया जाता है। लेकिन यह कई तरह के घरेलू उपचार में भी फायदेमंद है। दांतों में सड़न होने पर चुटकी भर हींग को नींबू के रस में मिलाकर इसे रूई से दांत पर लगाने से हानिकारक बैक्टेरिया नष्ट हो जाते हैं। 

 

मुलेठी की जड़-

मुलेठी की जड़ दांत की हर समस्या में बेहद कारगर होती है। क्योंकि इसमें प्रभावशाली एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं। जो हानिकारक जीवाणुओं का खात्मा करते हैं। इसके लिए मुलेठी की जड़ से दातुन करके उसके बाद कुल्ला करें।

 

नीम की दातुन करें-

नीम की नर्म दातुन करना दांत संबंधी तमाम परेशनियों को दूर करता है। नीम में एंटी-माइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं। जो कैविटी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करते हैं।

 

एलोवेरा जेल-

कैविटी का घरेलू उपचार करने के लिए एलोवेरा जेल भी लाभदायक साबित होता है। एलोवेरा में मौजूद एंटी माइक्रोबियल गुण कैविटी पैदा करने वाले हानिकारक जीवाणुओं को नष्ट करता है। इसके लिए आधा चम्मच एलोवेरा जेल को टूथब्रश पर लगाएं। अब कुछ मिनट इससे दांतों को अच्छे से साफ करें। उसके बाद पानी से कुल्ला कर लें।

 

फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट-

फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट कैविटी को दूर करने में कारगर होता है। क्योंकि इस टूथपेस्ट में मौजूद फ्लोराइड दांत में आसानी से अवशोषित होता है। जिससे दांत मजबूत होते हैं। इस पर किए गए शोध से पता चलता है कि रोजाना फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट से ब्रश करने पर दांतों के क्षय को रोका जा सकता है।

 

बेकिंग सोडा लगाएं- 

बेकिंग सोडा में भी एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। गुनगुने पानी में बेकिंग सोडा डालकर इससे कुल्ला करें। इससे दांतों की सड़न कम होती है। इसके अलावा गीली रुई में थोड़ा सा बेकिंग सोडा छिड़क कर इसे कैविटी वाले दांत पर लगाएं। 

 

टी बैग-

टी बैग का इस्तेमाल दांत के दर्द और सूजन को दूर करने के लिए भी किया जाता है। इसमें मौजूद एंटीसेप्टीक सूजन और दर्द को दूर करता है। इसके अलावा यह दांत और मसूड़ों से जुड़ी समस्याओं को भी ठीक करता है। 

 

कैविटी होने पर कब जाएं डॉक्टर के पास?

ज्यादातर लोग दांत में किसी भी तरह की परेशानी जैसे सड़न, दर्द होने पर पेनकिलर या एंटीबायोटिक मेडिसिन लेने लगते हैं। जबकि सर्वप्रथम उपरोक्त बताए गए घरेलू उपाय करना चाहिए। यदि इन घरेलू उपायों के बाद भी परेशानी बनी रहे तो नजदीकी डॉक्टर से सम्पर्क करें। इसके अलावा निम्न अवस्था में डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करना चाहिए।

 
  • यदि दांत का दर्द लगातार बना रहे और घरेलू उपचार करने से आराम न मिल रहा हो।
  • मसूड़ों से खून एवं बदबू आ रही हो।
 
Read More
क्यों होता है दांतों में दर्द? जानें, इसके कारण और बचाव के उपाय

Posted 24 May, 2022

क्यों होता है दांतों में दर्द? जानें, इसके कारण और बचाव के उपाय

दांत में दर्द होना एक आम समस्या है, लेकिन यह दर्द बेहद असहनीय होता है। इसकी वजह से न केवल चेहरे पर सूजन आ जाती है। बल्कि कई बार सिर में दर्द भी हो जाता है। दांत का दर्द किसी भी उम्र में हो सकता है। आमतौर पर दांतों में दर्द ज्यादा गरम या ठण्डा खाना खाने, दांतों की सफाई न रखने, कैल्शियम की कमी, बैक्टीरियल इंफेक्शन या फिर दांतों की जड़ों के कमजोर होने से होता है। इसके अलावा, अक्ल दाढ़ (Wisdom Tooth) निकलने के दौरान भी दांतों में तेज दर्द होता है। यह दर्द सबसे खतरनाक दर्दों (Pain) में से एक माना जाता है। अगर इसको शुरुआती स्तर पर अनदेखा किया जाए तो यह बढ़कर मसूड़ों तक पहुंच जाता है। जिसके बाद इस दर्द का असर केवल दांतों तक ही नहीं रहता। इसकी वजह से कान, मुंह, सिर और गर्दन भी दर्द की चपेट में आ जाते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो दांत दर्द होने पर तुरंत पेन किलर या एंटीबायोटिक दवा खाने की बजाय घरेलू उपचार अपनाने चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार खानपान में सुधार, साफ-सफाई एवं घरेलू नुस्खों से दांत के दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।

दांत दर्द के प्रकार:

दांत दर्द (Teeth pain) दो तरह के होते हैं-

शार्प टूथ पेन (Sharp Tooth Pain)

इसमें दांतों में तेज दर्द होता है। जिस कारण इसे शार्प टूथ पेन कहते हैं। यह कुछ खाते समय या बात करते समय एकदम तेजी से होता है।

डल टूथ पेन (Dull Tooth Pain)

इसमें दर्द ज्यादा गरम या ठंडा खाना खाने के कारण होता है। इस दर्द को डल टूथ पेन (Dull Tooth Pain) कहा जाता है। यह हल्का लेकिन ज्यादा लम्बे समय तक रहता है।

दांत दर्द के कारण

दांत में दर्द होने के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं-

  • स्वस्थ दांतों के लिए दांतों का ध्यान रखना जरूरी होता है। अगर दांतों का ख्याल सही तरीके से न रखा जाए तो दांतों में कीड़े लग जाते हैं। इससे दांतों में कैविटी हो जाती है। जो दांत के दर्द का कारण बनती है।
  • दांतों की जड़ों का कमजोर होना भी दांतों में दर्द का कारण होता है। गलत तरीके से दांतों की सफाई करने से दांतों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं। इससे दांतों में दर्द होता है।
  • अक्ल दाढ़ (Wisdom Tooth) निकलने के दौरान दांतों में असहनीय दर्द होता है।
  • अधिक मीठा खाना खाने से भी दांत दर्द होता है। मीठा खाने के बाद, खाने के अंश दांतों और मसूड़ों में रह जाते हैं। यह कीटाणु अम्ल पैदा करते हैं। जो दांतों को नुकसान पहुंचाता है। यह संक्रमण दांतों की जड़ों तक पहुंच कर दांतों में दर्द पैदा करता है।
  • कैल्शियम की कमी के कारण दांत कमजोर पड़ जाते हैं। जिस कारण भी दांतों में दर्द होता है।
  • दांतों में बैक्टीरिया के इंफेक्शन के कारण भी दर्द होने लगता है।

दांत दर्द के घरेलू उपचार

दांत दर्द में तुरंत आराम पाने के लिए घरेलू उपचार अपनाना फायदेमंद होता है, जैसे-

लौंग

दांत दर्द में लौंग का उपयोग बहुत कारगर माना जाता है। लौंग को दांत के नीचे दबाकर रखने से दर्द में आराम मिलता है। लौंग का तेल भी दांत दर्द में फायदेमंद है।  

लहसुन

लहसुन में एंटी बैक्टीरियल एजेंट पाए जाते हैं। जो दांतों के दर्द के साथ-साथ सेंसिटिव दांतों की समस्या से भी छुटकारा दिलाते हैं। इसके लिए एक लहसुन की कली को पीस लें और थोड़ा सा पानी और नमक डाल लें। इसके बाद इसे प्रभावित जगह पर लगा लें। 10-15 मिनट तक लगा रहने के बाद गुनगुने नमक वाले पानी से कुल्ला कर लें।

नमक का पानी

दांतों की झनझनाहट को खत्म करने के लिए नमक के पानी के गरारे करना सबसे अच्छा तरीका माना जाता है। ऐसा करने से मुंह का पीएच बैलेंस हो जाता है। इसके लिए एक कप गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक डालकर गरारे करें। गरारे करते समय थोड़ी देर तक मुंह में पानी रोकने की कोशिश करें।

हल्दी

हल्दी में एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। जो दांतों की हर समस्या से छुटकारा दिला सकते हैं। इसे इस्तेमाल करने के लिए आधा चम्मच हल्दी पाउडर में नमक और सरसों का तेल मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। इसका इस्तेमाल प्रभावित हिस्से पर करें। दांतों की झनझनाहट से जल्द छुटकारा पाने के लिए दिन में 2 बार ऐसा करें।

हींग

हींग का इस्तेमाल खाने में स्वाद और खुशबू के लिए किया जाता है। लेकिन यह कई तरह के घरेलू उपचार में भी फायदेमंद है। दांतों में दर्द होने पर चुटकी भर हींग को नींबू के रस में मिलाकर इसे रूई से दांत पर लगाने से दर्द कम हो जाता है। 

कच्चा प्याज

प्याज में एंटी-इन्फ्लामेट्री, एंटी-एलर्जिक, एंटी-कार्सिनोजेनिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह मुंह के बैक्टीरिया को नष्ट करता है। जिस दांत में दर्द हो रहा हो उससे प्याज के टुकड़े को धीरे-धीरे चबाने से आराम मिलता है।

काली मिर्च

ज्यादा गरम या ठंडा खाने की वजह से होने वाले दांत दर्द में काली मिर्च तुरंत आराम देती है। इसके लिए काली मिर्च पाउडर और नमक को बराबर मात्रा में मिलाएं। अब इसमें कुछ बूंद पानी की डालकर इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को दर्द वाली जगह पर लगाकर थोड़ी देर के लिए छोड़ दें। इससे दांत दर्द जल्दी ठीक हो जाता है।

अमरूद की पत्तियां

अमरूद के साथ ही अमरूद की पत्तियां भी बहुत फायदेमंद होती हैं। इनमें एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं। दांत दर्द में अमरूद की ताजी पत्तियां चबाने से दर्द से आराम मिलता है या फिर इन पत्तियों को पानी में उबालकर ठंडा करें और इसमें नमक मिलाकर इससे कुल्ला करें। यह तरीका भी दांत दर्द में राहत देता है।

बेकिंग सोडा लगाएं

बेकिंग सोडा में भी एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। गुनगुने पानी में बेकिंग सोडा डालकर इससे कुल्ला करें। इससे दांत का दर्द कम होता है। इसके अलावा आप गीली रुई में भी थोड़ा सा बेकिंग सोडा छिड़क कर इसे दर्द वाले दांत पर लगा सकते हैं।

टी बैग

टी बैग का इस्तेमाल दांत में दर्द और सूजन को दूर करने के लिए भी किया जाता है। इसमें मौजूद एंटीसेप्टीक सूजन और दर्द को भी दूर करता है। इसके अलावा यह दांत और मसूड़ों से जुड़ी समस्याओं को भी ठीक करता है।

दांत दर्द में कैसा रखें अपना खान-पान और जीवनशैली

दांत के दर्द से परेशान लोगों को अपना खान-पान ऐसा रखना चाहिए-

  • मीठे और चिपचिपे पदार्थ का सेवन कम से कम करें।
  • बहुत ज्यादा ठण्डा और बहुत ज्यादा गरम चीजें न खाएं।
  • कुछ भी खाने के बाद अच्छे प्रकार से कुल्ला करें।
  • नियमित रूप से सुबह और सोने से पहले ब्रश से दांतों की सफाई करें।
  • हर 6 महीने में अपने दन्त चिकित्सक से दांतों का चेकअप कराएं।

दांत दर्द होने पर कब जाएं डॉक्टर के पास?

अधिकांश लोग दांत में दर्द होते ही दर्द वाली दवा खाने लगते हैं। जबकि आपको पहले ऊपर बताए गए घरेलू उपाय आजमाने चाहिए। अगर इन घरेलू उपायों के बाद भी दांत दर्द से आराम न हो तो नजदीकी डॉक्टर से सम्पर्क करें। आप निम्न अवस्था में डॉक्टर से सम्पर्क कर सकते हैं-

  • यदि दांत का दर्द एक दिन से ज्यादा दिन तक बना रहे और घरेलू उपचार करने से आराम न मिल रहा हो।
  • मसूड़ों से खून एवं बदबू आ रही हो।
  • अक्ल दाढ़ के कारण होने वाला दर्द यदि बहुत अधिक हो रहा हो।
Read More
दांतो का पीलापन

Posted 24 May, 2022

दांतो का पीलापन

दांतो का पीलापन – आज हर कोई व्यक्ति सुंदर और स्मार्ट दिखना चाहता है। फिर चाहें वो कोई महिला हो या पुरूष। खूबसूरत दिखने के लिए लोग अपने चेहरे पर तरह-तरह के एक्सपेरिमेंट करते है। लेकिन खूबसूरत या सुंदर दिखने के लिए सिर्फ आपका चेहरा ही सुंदर नहीं होना चाहिए बल्कि उसके साथ आपकी मुस्कान, आपकी हंसी भी सुंदर होनी चाहिए, क्योंकि ये हमारी पर्सनालिटी (व्यक्तित्व) का अहम हिस्सा है। पर मुस्कुराते समय यदि आपके दांतो का पीलापन सामने वाले को नजर आ जायें तो ऐसे में न सिर्फ आप स्वयं हंसी के पात्र बनेंगे बल्कि साथ में आपका पूरा व्यक्तित्व भी नेगेटिव हो जायेगा। इसलिए हमें अपने दांतों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए और उनके पीले पड़ने के कारणों को जानना चाहिए-

 

पीले दांतों का कारण;

 
  • दांतों की ठीक से सफाई न हो पाना।
  • गुटखा-तंबाकू का सेवन करना।
  • बीड़ी-सिगरेट का सेवन करना।
  • चाय-काफी का अधिक सेवन करना।
  • लगातार उम्र का बढ़ना।
  • किसी बीमारी के होने पर अधिक एंटीबायोटिक खा लेना।
  • शरीर में खराब मेटाबॉलिज्म (भोजन को ऊर्जा में बदलने की प्रक्रिया) का होना।
  • कुछ लोगों के दांतों का पीला होना जेनेटिक होता है।
  • कुछ लोगों के दांतों की हड्डी भी पीली होती है। जोकि इस समस्या का अन्य कारण है।

पीले दांतों से बचने के लिए बरतनी होंगी ये सावधानियां;

 
  • तंबाकू, धुम्रपान और शराब का सेवन न करें।
  • चाय-काफी का सेवन कम-से-कम करें।
  • मुहं की सफाई का विशेष ध्यान रखें और अच्छे से टूथब्रश करें।
  • खाने के बाद कुल्ला करने की आदत डालें।
  • पान का सेवन कम करें।
  • संभव हो पाए तो दिन में एक बार दातून आवश्य करें।
  • पीने वाले पदार्थों का सेवन स्ट्रॉ के माध्यम से करें। क्योंकि ऐसा करने से उस पदार्थ का रंग आपके दांतों पर नहीं चढ़ेगा।
  • दूध से बनने वाले पदार्थों (दही, पनीर, मक्खन) का अधिक सेवन करें।
  • चीनी रहित (बिना चीनी की) च्युइंगम पीले दांतों से छुटकारा दिलाने में मदद करती है। इसलिए इसका उपभोग जरूर करें।
  • दिन में दो से तीन बार ब्रश करने की आदत डालें।

 पीले दांतों को साफ करने के घरेलू उपाय;

 
  • रात को सोने से पहले संतरे के छिलके से दांतों को साफ करने से पीलापन काफी हदतक कम हो जाता है।
  • नींबू दांतो को साफ करने के लिए काफी लोकप्रिय है। इसके रस को पानी में मिलाकर, उससे कुल्ला करना दांतों के लिए अच्छा माना जाता है।
  • नींबू के छिलके को दांतों पर रगड़ने से भी दांत साफ होते हैं।
  • स्ट्रॉबेरी भी नींबू की तरह विटामिन-सी का एक अच्छा सोर्स है। स्ट्रॉबेरी का पेस्ट बनाकर उसको दांतों पर रगड़ने से दांतों का पीलापन हटने लगता है।
  • जैतून का तेल और सेब के सिरके का मिश्रण टूथपेस्ट के साथ इस्तेमाल करने से पीले दांतों से छुटकारा पाया जा सकता है।
  • गाजर के टूकड़े को नींबू के रस में भिगोकर दांतों पर रगड़ने से दांतों का पीलापन कम होता है।
  • अदरक के पेस्ट को दांतों पर घिसकर कुछ देर के लिए ऐसा ही छोड़ दें और कुछ समय बाद कुल्ला करें। नियमित रूप से ऐसा करने से दांतों की पीली परत हटने लगती है।
  • नारियल के तेल से दांतों को दस-पंद्रह मिनट तक रगड़कर थूक दें। इस प्रक्रिया को दो-तीन सप्ताह तक लगातार करने से दांतों का पीलापन हटने लगेगा।
  • नीम का तेल और दांतून, दोनों ही दांतों को साफ करने के बेहतर उपाए हैं।
  • बेकिंग सोड़े को टूथपेस्ट के साथ मिलाकर इस्तेमाल करने से दांतों में चमक आने लगती है।
  • टूथपेस्ट में नमक डालकर, उससे ब्रश करने से भी दांतों का पीलापन साफ होता है।
Read More