Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

Causes, Symptoms and Treatment methods of Rabies

Posted 02 July, 2022

Causes, Symptoms and Treatment methods of Rabies

Rabies is a viral disease, treatment should not be delayed at all because doing so increases the risk of further spread. Rabies is transmitted to humans through bites or scratches from infected animals. It is generally believed that rabies is only caused by dog ​​bites but this is not the case.

Rabies virus can be found in the saliva of any warm-blooded animal. This virus is found especially in animals like dogs, cats, monkeys, bats etc. Apart from biting and scratching these animals, this virus can also affect the central nervous system by reaching the human body on licking due to which the body gets traumatized gradually. Rabies is called Jalantak and Alark in Hindi. Let's talk about how rabies affects a person and what are its symptoms, causes and home remedies.

What are the Causes of Rabies?

Rabies is caused by the Lisa virus. It is mainly a disease of animals which spreads from infected animals to humans. This virus lives in the saliva of infected animals and when these infected animals (especially dogs or bats) bite humans, the virus enters the human body. Apart from this, even if the saliva of an infected animal comes in contact with the human eye, mouth, nose or any wound on the body, the rabies virus starts growing in humans which affects the salivary glands and nervous system of humans.

What are the symptoms of Rabies?

Most symptoms of rabies take several years to appear but the initial symptoms begin to appear within 1 to 3 months after a bite or scratch from an infected animal. The initial symptom of rabies is feeling of tingling in the muscles of the area where the animal bites or scratches. After this the virus starts reaching the brain through the nerves in the body which causes the following symptoms:-

  • Constant headache.
  • Frequent fever.
  • Feeling exhausted.
  • Stiffness and pain in muscles and joints.
  • Irritability and fiery temper.
  • Constant disturbance.
  • Strange thoughts come to mind.
  • Loss of appetite.
  • Bad taste in mouth.
  • Excessive production of saliva and tears.
  • Irritation from bright light and sound.
  • Difficulty speaking.
  • Abnormal change in behavior.

When the infection increases, then the following symptoms start to appear:-

  • Multiple vision.
  • Difficulty moving the muscles of the mouth.
  • Excessive production of saliva and foam in the mouth.
  • Appearance of paranoid symptoms in the victim.

How to prevent or control Rabies?

  • Pets Vaccination: Animals such as dogs, cats and monkeys should be vaccinated against rabies.
  • Limit pet outings: Keeping pets indoors and supervising them when going out helps to avoid the pets coming in contact with wild animals.
  • Keep small pets safe: Small pets such as rabbits cannot be vaccinated against rabies. So keep these animals indoors and away from wild animals.
  • Report wild animals: Report feral dogs and cats to your local animal control authorities.
  • Do not contact with wild animals: Stay away from any animal that appears to be suffering from any kind of disease.
  • Rabies vaccination: Get vaccinated when traveling to a country or state where the risk of rabies is high or take the advice of your doctor.

Home remedies of Rabies

  • Tetanus injection: This is usually a simple and early treatment for rabies. In case of an animal bite or confirmation of rabies, a tetanus injection should be administered within 24 hours to control the infection.
  • Lukewarm water: In case of any animal bite and its saliva getting on the body, wash the affected area thoroughly with lukewarm water. This helps to remove the virus to a great extent.
  • Kiwi fruit: Kiwi fruit proves to be effective in rabies disease because vitamin C is found in this fruit, which is beneficial in rabies. For this, two to three kiwis should be consumed daily.
  • Cumin: Cumin also proves to be very effective when bitten by a dog or other animal. For this, grind two tablespoons cumin and twenty black peppercorns, mix light water in it and make a paste and apply on the affected area. Doing this helps the wound to heal faster.
  • Lavender: Lavender has antiseptic properties which proves beneficial in any type of wound. Infection can also be avoided by applying a paste of lavender on the bitten part.
  • Water and soap: First of all wash the affected area thoroughly with water and soap after coming in contact with an animal suffering from any type of disease. Apart from this, after washing the wound with soap and water, contact the doctor immediately if the animal has bitten and scratched, without delay.
  • Vitamin: Vitamin-rich foods are very beneficial in case of rabies infection. Therefore, consume a good amount of spinach, orange juice, tomato etc.
Read More
Know the Causes, Symptoms and Diagnosis of Leprosy

Posted 25 February, 2022

Know the Causes, Symptoms and Diagnosis of Leprosy

Infectious diseases should be treated without wasting time. Failure to do so may increase the risk of spreading diseases. One such infectious disease is leprosy which affects the person's skin, eyes, respiratory system and peripheral nerves. It is a disease that spreads through air or breathing which is caused by bacteria called Mycobacterium leprae. This bacterium was discovered in 1873 by a Norwegian physician Gerhard Hansen. It is also called 'Henson's disease' after his name.

How is Leprosy spread?

Leprosy is a disease that spreads through bacteria called Leprae present in the air. These bacteria come into the air only from a sick person. It takes about 4 to 5 years for this bacteria to grow in the body of a healthy person. In many cases it takes up to 20 years for the bacteria to grow (incubation). Ignoring the symptoms of leprosy at the primary stage can lead to disability. It is a contagious disease but it does not spread through human touch but staying with an infected person for a long time can cause this infection. If the patient is given medicine regularly, then there is no possibility of infection.

Causes of Leprosy

  • Weakening of the body's immune system.
  • Lack of nutritious food.
  • Long-term use of contaminated food and beverages.
  • Consuming spicy and oily food.
  • Loss of blood in the body.
  • Consuming drugs.

Symptoms of Leprosy

The most important identification of leprosy is that it causes white rashes on the body. These marks are numb i.e., they do not have any kind of sensation. Apart from this, there are some other symptoms as well. These other symptoms are listed below-

  • Change in skin color.
  • Loss of touch, pain and feeling on the skin.
  • Wounds do not heal for weeks and months.
  • Discharge of pus and fluid from the affected part.
  • Continuous bleeding.
  • Gradually wilting and destruction of organs and skin.
  • Muscle weakness.
  • Dry skin.
  • Stuffy and bleeding nose.
  • Ulcers on the soles of the feet.

Types of Leprosy

It is mainly of three types, which are as follows-

Tuberculoid Leprosy-

Tuberculoid Leprosy, also known as paucibacillary leprosy is a mild and less severe form of leprosy in which a person has only a few patches of pale and flat colored skin. The affected area of skin may have absence of sensation because of nerve damage. Tuberculoid leprosy is usually less contagious than the other forms of leprosy.

Lepromatous Leprosy-

Lepromatous Leprosy, also known as multibacillary leprosy, is a more severe form in which there are skin bumps and rashes on the whole-body including numbness and muscle weakness. It may also affect the nose, kidneys, and reproductive organs in men.

Borderline Leprosy-

This is a mixed form in which the symptoms of both the tuberculoid and lepromatous leprosy exist.

 

Ways to avoid Leprosy

  • Avoid coming in contact with a person infected with leprosy.
  • Keep yourself clean to avoid any kind of infection.
  • Eat nutritious food like pulses, gram, milk, green vegetables, and fruits which keeps the immunity of the body strong.
  • Do not take astringent things like potato, brinjal, lentils, red chili, kachalu, meat-fish etc.
  • To avoid leprosy, get the Bacillus Calmette-Guerin vaccine.

 

Home remedies for Leprosy

  • Taking bath after boiling neem leaves in water and grinding neem leaves in cow's milk and applying it on the infected area cures leprosy. Apart from this, sleeping under neem leaves is very beneficial for leprosy patients.
  • Taking the juice of henna leaves containing honey every morning purifies the blood. It is beneficial in skin diseases i.e., leprosy.
  • Taking Chaulmoogra oil regularly with hot milk is beneficial.
  • Mixing equal quantities of neem and chaulmoogra oil and applying it on the affected part cures skin diseases within a few days.
  • Leprosy is destroyed by regular consumption of decoction (Kwath) made from Vijayasar wood.
  • Grinding the leaves of Nirgundi and mixing it with water, taking it on an empty stomach in the morning is beneficial. Apart from this, applying the paste of its leaves on the affected area cures skin diseases.
  • Taking the powder made from the bark of Champa thrice a day helps in all types of skin disorders.
  • Taking equal quantities of amla and neem leaves with honey is beneficial in leprosy.
  • Grinding the bark of Aak root with vinegar and applying it on the affected part is beneficial in leprosy.

 

Read More
साइनसाइटिस के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

साइनसाइटिस के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

सर्दी लगना, सिरदर्द होना आमतौर पर कोई बड़ी समस्या नहीं है। लेकिन कभी-कभी यह समस्या किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकती है। इसमें से एक साइनसाइटिस भी है जो एक गंभीर समस्या की श्रेणी में आता है। साइनसाइटिस की समस्या कई कारणों से होती है जैसे- साइनस में संक्रमण, प्रदूषण, एलर्जी, सर्दी लगना और बैक्टीरिया संक्रमण आदि।

साइनसाइटिस या साइनस क्या है?

नाक के आसपास चेहरे की हड्डियों के अंदर हवा से भरी छोटी-छोटी गुहा रूपी संरचनाएं होती हैं। जिसे 'वायुविवर' या साइनस (sinus) कहते हैं। साइनस पर उसी श्लेष्मा झिल्ली की परत होती है। जब किसी व्यक्ति को जुकाम या एलर्जी होता है तो साइनस ऊतक यानी श्लेष्मा झिल्ली में सूजन आ जाती हैं। इस स्थिति को साइनसाइटिस कहा जाता है। यह सूजन किसी संक्रमण के कारण होती है। जो आम सर्दी-जुकाम के रूप में शुरू होता है। उसके बाद एक बैक्टीरियल, वायरल एवं फंगल इंफेक्शन के रूप में पूरी तरह से विकसित हो जाता है। जिससे व्यक्ति को सिरदर्द, चेहरे में दर्द और नाक बंद जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

साइनस के प्रकार-

वायुविवरशोथ यानी साइनस रोग को संक्रमण की  अवधि के आधार पर वर्गीकृत किया गया है,जो निम्नलिखित हैं :

तीव्र साइनस संक्रमण(Acute sinus infection)-   

साइनस का यह प्रकार सबसे कम अवधि वाला होता है। आमतौर पर यह संक्रमण वायरल इंफेक्शन की वजह से होता है। जो 3 से 4 हफ्तों तक या उससे कम समय तक ही रहता है।

कम तीव्र साइनस संक्रमण(Sub sinus infection)-

साइनस के इस प्रकार के लक्षण 3 महीने तक रहते हैं। इस प्रकार के संक्रमण होने की मुख्य वजह बैक्टीरियल इंफेक्शन या मौसमी एलर्जी होती है।

क्रॉनिक साइनस संक्रमण(Chronic sinus infection)-

साइनस का यह प्रकार लंबे समय तक रहता है। आमतौर पर क्रॉनिक साइनस के लक्षण लगभग 12 हफ्तों अर्थात 3 महीने तक रहते हैं। इसका मुख्य कारण एलर्जी, इंफेक्शन, म्यूकस एवं सूजन से होता है। 

रिकरंट एक्यूट साइनसाइटिस(Recurrent acute sinusitis)-

साइनस का यह प्रकार बार-बार होता है। यह संक्रमण एक साल में करीब 4 से 5 बार हो सकता है। साथ ही इसके लक्षण हर बार कम से कम 1 हफ्तों तक रहते हैं। बार-बार होने के कारण इसे रिकरंट एक्यूट साइनसाइटिस कहा जाता है।

साइनस के सामान्य लक्षण-

  •  बार-बार नाक बहना।
  • नाक बंद हो जाना। 
  • सांस लेने में तकलीफ होना।
  • गंध एवं स्वाद का पता न चलना।
  • नाक, आंख, गला, सिर के आसपास सूजन एवं दर्द का आभास होना।

साइनस के अन्य लक्षण-

  • कान दर्द होना।
  • दातों और ऊपरी जबड़ों की सतह पर दर्द महसूस करना।
  • गले में खराश होना।
  • रात में खांसी का बढ़ना।
  • सांसों से दुर्गंध आना।
  • थकान या कमजोरी महसूस करना।
  • जी मिचलाना।
  • चिड़चिड़ापन महसूस करना।

साइनस होने के कारण-

  • सर्दी-जुकाम का होना।
  • वायरस, फंगस एवं बैक्टीरिया संक्रमण का होना।
  • नाक में एलर्जी होना।
  • प्रदूषित वातावरण का होना।
  • रासायनिक धुआं एवं धूल के संपर्क में आना।
  • जानवरों के संपर्क में आना।
  • नाक की हड्डी का नुकीले आकार में बढ़ना।

साइनस होने पर बरतें यह सावधानियां-

  • अच्छे से आराम करें।
  • धूम्रपान करने से बचें।
  • खूब पानी पिएं।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • गुनगुने फेसियल पैक का उपयोग करें।
  • नियमित रूप से भाप लेते रहें।
  • धूल- मिट्टी जैसी जगहों पर जाने से बचें।
  • चिंता, तनाव और अवसाद से दूर रहें। 
  • भोजन करने से पूर्व हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • छींकने, खांसने के बाद या शौचालय से आने के बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • संक्रमित एवं प्रदूषित वातावरण में जाने से बचें।

साइनस के घरेलू उपाय-

एसेंशियल ऑयल-

साइनस होने पर एसेंशियल ऑयल का उपयोग अरोमा थेरेपी के रूप में करना लाभदायक होता है। यह थेरेपी साइनस रोग में होने वाली सूजन और बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करती है। इसके लिए तुलसी, पेपरमिंट, गुलमेहंदी, यूकलिप्टस,लोबान या इनमें  भी एसेंशियल ऑयल की 2 से 3 बूंदों को डिफ्यूजर में डालकर इसकी खुशबू को सूंघें। ऐसा करने साइनस में होने वाले सूजन से राहत मिलती है। इसके अलावा इसकी कुछ बूंदों को हाथों में लेकर नाक और सिर की हल्के हाथों से मसाज करने से भी लाभ मिलता है।

सेब का सिरका-

सेब का सिरका साइनस में होने वाले भारीपन के लिए अच्छी दवाओं में से एक है। क्योंकि इसमें एसिटिक एसिड होता है जिसमें एंटीमाइक्रोबियल होता है, जो बैक्टीरिया और वायरस संक्रमण से लड़ता है। इसके लिए एक चम्मच एप्पल साइड विनेगर को गर्म पानी में डालकर भाप लेने से आराम पहुंचता है।  

लेमन बाम-

लेमन बाम साइनस के इलाज में कारगर उपाय माना जाता है। दरअसल इसमें एनाल्जेसिक गुण पाया जाता है। जो साइनस के कारण होने वाले सिरदर्द से राहत दिलाने का काम करता है। इसके लिए लेमन बाम के तेल को हाथ में लेकर सिर,नाक और गले की मसाज करें। इसके अलावा लेमन बाम की कुछ पत्तियों को पानी में उबालकर काढ़े के रूप में इस्तेमाल करना भी फायदेमंद होता है।  

टी एवं हर्बल टी-

साइनस होने पर शहद युक्त चाय या हर्बल टी साइनस के लिए अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। क्योंकि यह साइनस के लक्षणों को कम करने में मदद करती है। इसलिए साइनस होने पर यह चाय कारगर साबित होती है।

अदरक चाय-

अदरक में एनाल्जेसिक और एंटी बैक्टीरियल गुण पाया जाता है। जो सूजन और दर्द को दूर करता है। इसलिए शहद युक्त अदरक चाय या किसी भी रूप में अदरक का इस्तेमाल करना साइनस के लिए फायदेमंद होता है।

लहसुन-

 लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो साइनस के लक्षणों को दूर करने में मदद करते हैं। इसके लिए लहसुन की 4 से 5 कलियों को पीसकर गर्म पानी में डालकर सूप बना लें। हल्का गुनगुना होने पर इस सूप को पिएं। इससे साइनस में आराम मिलता है। इसके अलावा लहसुन की 2 से 3 कलियों को अपने दातों के बीच रखकर इसका रस चूसने से फायदा होता है। 

टी ट्री ऑयल-

टी ट्री ऑयल में एंटीसेप्टिक, एंटी माइक्रोबियल एवं एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पाए जाते हैं। जो साइनस की वजह से होने वाले सिरदर्द को दूर करता है। इसके लिए टी ट्री ऑयल की 4 से 5 बूंदों को गरम पानी में डालकर भाप लें। ऐसा दिन में दो से तीन बार करने से राहत मिलती है।

दालचीनी-

दालचीनी साइनस के उपचार में प्रभावी होती है। यह साइनस पैदा करने वाले सूक्ष्मजीवों को नष्ट करती है। इसके लिए एक गिलास गर्म पानी में एक छोटा चम्मच दालचीनी चूर्ण को मिलाकर सेवन करें। ऐसा कुछ दिनों तक करने से राहत मिलता है।

मेथी दाना-

साइनस के इलाज में मेथी दाना भी कारगर होती है। इसके लिए मेथी के दानें को पानी में उबालें। उसके बाद उस मिश्रण को छानकर चाय की तरह दिन में दो से तीन बार पिएं। ऐसा नियमित रूप से कुछ दिनों तक करने से साइनस से छुटकारा मिलती है।

Read More
What is Cerebral Malaria? Know its Symptoms, Causes and Remedies

Posted 17 March, 2022

What is Cerebral Malaria? Know its Symptoms, Causes and Remedies

Cerebral Malaria is the most dangerous and deadly form of malarial fever that affects the brain. If malaria parasites reach the brain, they prove to be very fatal. This condition is called cerebral malaria or meningitis. According to the WHO (World Health Organization), there are five types of malaria parasites. The most deadly of these is falciparum malaria. If this parasite reaches the brain through blood circulation, then it can have fatal consequences. It is the most serious neurological complication caused by Plasmodium falciparum (a protozoan parasite). Plasmodium is transmitted to the human body through the bite of an infected mosquito. Patients suffering from this have neurological (nervous system), memory loss and behavioral difficulties. Apart from this, cerebral malaria is one of the main causes of neurological disability and epilepsy in children. However, it is not yet known how the parasite of blood vessels becomes lethal to the brain. Falciparum malaria is a leading cause of neuro-disability and death in tropical countries. Many children around the world are affected by it.

 

In cerebral malaria, fluid leaks from the brain of the infected person and the person slips into coma. It infects more than 575,000 people every year out of which 20 percent of people die and 80 percent of the survivors develop long-term neurodevelopmental symptoms including seizures and mental disorders. It affects young children more.

 

Symptoms of Cerebral Malaria

The symptoms of cerebral malaria are few that are common in both children and adults, such as-

 
  • Loss of consciousness.
  • Impulse and neurological abnormalities.
  • Coma (which can last up to three days)
  • Persistent orthostatic hypotension freezing.
  • Muscle pain.
  • Low blood pressure.
  • Mild jaundice.
  • Enlargement of liver and spleen.
  • Kidney damage.
  • Blood in urine.
  • Increase in intracranial pressure.
  • Confusion and seizures.
  • Increase in respiratory rate.

The symptoms usually occur in three stages:

Cooling stage:

It can last for 1-2 hours.

 

Hot stage:

It is characterized by headache, vomiting and seizures in young children and high fever up to 107°F. It can last for 3-4 hours.

 

Sweat phase:

It causes sweating and fatigue. This phase can last for 2-4 hours.

 

Causes of Cerebral Malaria

Malaria is caused by a type of parasite which is called plasmodium. There are several types of plasmodium parasites but only five of these parasites cause malaria in humans. Plasmodium parasites are mainly transmitted by female Anopheles mosquitoes. They bite mainly at dusk and at night. When an infected mosquito bites a human, it spreads the parasite into the bloodstream and as soon as it reaches the brain, the person becomes a victim of cerebral malaria.

 

Measures to Prevent Cerebral Malaria

  • Use a mosquito net while sleeping.
  • Do not use mosquito repellent coils in a closed room.
  • Do not allow water to accumulate in the house.
  • If there is standing water somewhere around, then spread it or put oil in it so that mosquitoes do not breed in it.
  • Consult a doctor if there is even a slight fever.

Treatment of Cerebral malaria

There are many medicines available in the market for Cerebral Malaria but do not take any medicine without the doctor's advice because taking medicine without the advice of a doctor can cause serious harm to health.

 
Read More
जानें, फंगल इंफेक्शन कारण, लक्षण और निदान

Posted 24 May, 2022

जानें, फंगल इंफेक्शन कारण, लक्षण और निदान

फंगल इंफेक्शन एक प्रकार की त्वचा संबंधी बीमारी होती है। जो शरीर के किसी भी हिस्से जैसे उंगलियों के बीच में, सिर पर, हाथों पर, बालों में, मुंह में या शरीर के गुप्तांगों में आसानी से हो सकता है। इसका मुख्य कारण किसी संक्रमित वस्तु या संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आना होता है। जब फंगस (कवक) शरीर के किसी क्षेत्र में आक्रमण करते हैं तो कुछ समय में ही वहां की त्वचा पर लाल धब्बे, दाद, त्वचा पर घाव और खुजली जैसे लक्षण दिखाई देने लगते है।

 

फंगल इंफेक्शन क्या है और कैसे फैलता हैं?

आस पास के वातावरण में कई तरह के फंगस विद्यमान रहते हैं। यह रोगाणुओं की तरह ही होते हैं। यह कवक (फंगस) हवा, पानी, मिट्टी आदि स्थानों पर विकसित एवं पर्यावरण के प्रभाव के कारण निरंतर बढ़ते हैं। वहीं कवक मानव शरीर में भी रहते हैं। जो शरीर को बिना नुकसान पहुंचाए बने रहते हैं। मशरूम, मोल्ड, फफूंदी आदि इसके उदाहरण है। इसके अलावा कुछ फंगस शरीर के लिए हानिकारक भी होते हैं। यही हानिकारक फंगस जब शरीर पर आक्रमण  करते हैं तो उन्हें खत्म करना मुश्किल होता है। क्योंकि वह हर तरह के वातावरण में जीवित रहने में सक्षम होते हैं। परिणामस्वरूप शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली इनसे लड़ने में कमजोर पड़ने लगती है। जिससे व्यक्ति फंगल इंफेक्शन से संक्रमित हो जाता है।

 

फंगल इन्फेक्शन के प्रकार और उनके लक्षण-

फंगल इंफेक्शन की सबसे अहम पहचान है, इससे शरीर के प्रभावित पर लाल रंग के धब्बे, दरारे, रैशेज, त्वचा में पपड़ी का जमना, खाल का झड़ना या सफ़ेद रंग के चूर्ण जैसे पदार्थ निकलने लगता है। इसके अलावा भी कुछ अन्य लक्षण होते हैं। जो फंगल इंफेक्शन के प्रकार पर आधारित होते हैं। आइए बात करते हैं फंगल इंफेक्शन के प्रकार एवं अन्य लक्षणों के बारे में;

 

एथलीट्स फुट-

यह पैरों में होने वाले संक्रमण है। जो पैरों के उंगलियों के बीच में होता है। यह कवक गरम एवं नम वातावरण में पनपते हैं। वहीं, मुख्य रूप से जूते, स्विमिंग पूल और सार्वजनिक नमी वाले वातावरण में तेजी से बढ़ते हैं। इसी कारण यह आमतौर पर गर्मियों में और नम जलवायु वाली जगहों पर पाए जाते हैं। इसके अलावा जूते पहनने वाले व्यक्तियों के पैरों में भी एथलीट्स फंगल को देखा जा सकता है। आइए बात करते हैं इनके लक्षणों के बारे में-

 
  • त्वचा का लाल होना या छिल जाना।
  • त्वचा पर खुजली और जलन होना।
  • पैरों के तलवों पर अल्सर होना।
  • घाव का ठीक न होना और लगातार खून का रिसाव होना।
  • प्रभावित अंग से मवाद जैसे द्रव का बहना।

नेल फंगल इंफेक्शन-

इस प्रकार का कवक संक्रमण नाखूनों में देखने को मिलता है। जिसे ओनिकों माइकोसिस (onychomycosis) के नाम से जाना जाता है। यह संक्रमण हाथ के नाखूनों के अलावा पैर के नाखूनों में भी हो सकता है।

 

नेल फंगल संक्रमण के लक्षण-

  • नाखून के रंग में परिवर्तन जैसे पीला, भूरा या सफेद होना।
  • नाखून की परत का मोटा होना।
  • टूटे या फटे हुए नाखूनों का होना।

फंगल स्किन इंफेक्शन-

फंगल स्किन इंफेक्शन को सामान्य भाषा में दाद कहा जाता है। इस तरह के फंगल लगभग गोल आकार की होता हैं। इसमें त्वचा लाल रंग के गोलाकार में ऊपर की ओर उठी हुई दिखाई देने लगती है। जिसके कारण इसे रिंगवर्म भी कहा जाता है। इस तरह के कवक संक्रमण होने पर त्वचा पर लाल और खुजलीदार चकत्ते पड़ जाते हैं। यह स्किन इंफेक्शन ज्यादातर हाथों-पैरों, गुप्तांगों और स्कैल्प में होता है। ऐसी मान्यता है कि फंगस की लगभग 40 ऐसी प्रजातियां हैं, जो स्किन इंफेक्शन की वजह होती हैं।

 

फंगल स्किन इन्फेक्शन होने के लक्षण-

  • त्वचा में तेज खुजली होना।
  • शरीर पर लाल और गोल चकत्तों का पड़ना।
  • पपड़ीदार एवं फटी त्वचा का होना।
  • बाल झड़ना आदि।

यीस्ट इंफेक्शन-

यह कैंडिडा एलबिकंस या कैंडिडायसिस फंगस के कारण होता है। यह एक प्रकार का संक्रमण है, जो मुंह, आंत पथ और योनि में पाया जाता है। कैंडिडायसिस संक्रमण ज्यादातर महिलाओं में देखने को मिलता है। जब योनि के अंदर कैंडिडा की संख्या बढ़ने लगती है तो महिलाएं इससे ग्रसित हो जाती है। इस अवस्था में ग्रसित महिलाओं को कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

 

यीस्ट फंगल इंफेक्शन के लक्षण-

  • गुप्तांगों में खुजली या दर्द का होना।
  • संभोग के दौरान दर्द होना।
  • पेशाब करते समय तकलीफ या दर्द होना।
  • योनि से अधिक रक्तस्राव का होना।

मुंह एवं गले में कैंडिडा संक्रमण-

यह संक्रमण भी कैंडिडा फंगस के कारण होता है। जब मुंह एवं गले में कैंडिडा की संख्या बढ़ जाती है, तो मनुष्य इस संक्रमण से पीड़ित हो जाते हैं। मुंह और गले के कैंडिडा संक्रमण को थ्रश या ऑरोफरीन्जियल कैंडिडिआसिस (oropharyngeal candidiasis) भी कहा जाता है।आम तौर पर यह समस्या एड्स या एचआईवी से संक्रमित लोगों में देखी जाती है। इस तरह फंगल इंफेक्शन से पीड़ित व्यक्तियों को अधिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है।

 

मुंह एवं गले में कैंडिडा संक्रमण के लक्षण-

  • मुंह में खटास महसूस होना।
  • मुंह के कोनों में रैशेज और लालपन होना।
  • मुंह में सूजन का अहसास होना।
  • स्वाद का पता न चलना।
  • भोजन करते या निगलते समय दर्द का अहसास होना।
  • मुंह की आंतरिक हिस्सों और गले में सफेद चकत्ते का होना।

फंगल संक्रमण होने के कारण-

  • फंगल इंफेक्शन होने का अहम कारण है गरम एवं नमीयुक्त वातावरण का होना।
  • जिन लोगों को पहले से ही फंगल संक्रमण है उनके संपर्क में आने पर।
  • अधिक वजन या मोटापा होने पर।
  • शरीर में अधिक पसीना होने पर।
  • लंबे समय तक साइकिल चलाने या जॉगिंग करने पर।
  • शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का किसी कारणवश कमजोर होना।
  • कैंसर, डायबिटीज, एड्स, एचआईवी, आदि जैसी बीमारियां होने पर।
  • महिलाओं का सेनेटरी पैड का ज्यादा देर तक इस्तेमाल करने पर।
  • बच्चों को अधिक समय तक गिले नैपी पैड या गीले कपड़े पहनाने पर।
  • मानसून के दौरान हल्की बूंदा-बांदी में भीगने और त्वचा को गिला छोड़ देने पर।
  • फंगस से प्रभावित पालतू जानवर जैसे बिल्ली, कुत्ता, बकरी, गाय, घोड़े या सूअर के संपर्क में आने पर।
  • अधिक धूम्रपान करने पर।
  • एंटीबायोटिक दवाओं का अधिक उपयोग करने पर।
  • गर्भनिरोधक दवाइयों का अधिक सेवन करने पर। 

फंगल इंफेक्शन से बचने के उपाय-

  • कवक संक्रमण से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें।
  • किसी भी तरह के संक्रमण से बचने के लिए स्वयं को साफ-सुथरा रखें।
  • फंगल संक्रमण से बचने के लिए त्वचा को सूखा और स्वच्छ रखें।
  • केवल सूती कपड़ों का प्रयोग करें।
  • बरसात के मौसम में बालों को गीला न छोड़े।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं।
  • पौष्टिक आहार जैसे दाल, चना, दूध, हरी सब्जियां और फल-फूल का सेवन करें। जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहती है।
  • आलू, बैंगन, मसूर की दाल, लाल मिर्च, कचालू, मांस-मछली आदि का सेवन न करें।

फंगल इंफेक्शन के घरेलू उपचार-

नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर स्नान करने और गाय के दूध में नीम की पत्तियों को पीसकर संक्रमित हिस्से पर लगाने से फंगल इंफेक्शन ठीक हो जाते हैं। इसके अलावा फंगल इंफेक्शन से पीड़ित व्यक्ति के लिए रात में नीम पेड़ के नीचे सोना बेहद फायदेमंद होता है।

 
  • चालमोगरा के तेल को गर्म दूध के साथ नियमतः सेवन करने से फंगल इंफेक्शन में फायदा होता है।
  • नीम और चालमोगरा के तेल को समान मात्रा में मिलाकर प्रभावित अंग पर लगाने से फंगल इंफेक्शन ठीक हो जाता है।
  • कपूर और केरोसिन का तेल मिलाकर प्रभावित हिस्सों पर लगाने से फंगल इंफेक्शन में आराम मिलता है।
  • हल्दी पाउडर में शहद मिक्स करके प्रभावित अंग का लेप करने से फंगल इंफेक्शन एवं सभी प्रकार के चर्म रोगों में फायदा होता है।
  • रोज़ाना दो या तीन लहसुन की कलियों का सेवन करने से सभी प्रकार के कवक संक्रमण नष्ट हो जाते हैं।
  • शहद युक्त मेहंदी पत्तों के रस का रोज सुबह सेवन करने से खून साफ होता है। इससे किसी भी हर प्रकार के कवक संक्रमण रोगों में लाभ मिलता है।
  • चंपा की छाल से बने चूर्ण का दिन में तीन बार सेवन करने से सभी प्रकार के चर्म विकार नष्ट हो जाते हैं।
  • पीपल की पत्तियों को थोड़े पानी में उबालकर, इससे प्रभावित हिस्सों को धोने से कवक संक्रमण विकार ठीक हो जाता है।
  • खुजली या फंगल इंफेक्शन होने पर प्रतिदिन सुबह एक कप पानी में ताजे नींबू का जूस निचोड़कर पीने से आराम मिलता है।
  • पुदीने की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बनाकर प्रभावित जगहों पर लेप करने से फंगल इंफेक्शन ठीक हो जाता है।
  • आंवला और नीम की पत्तियों को समान मात्रा में शहद के साथ सेवन करने से इस रोग में लाभ होता है।
  • सेब का सिरका खुजली के लिए बहुत ही पुराना उपाय है। इसके लिए एक चम्मच सेब के सिरका, शहद और नींबू को एक गिलास पानी में मिलाकर पीने से में फायदा होता है।
Read More
सोरायसिस के लक्षण, प्रकार और उपचार

Posted 24 May, 2022

सोरायसिस के लक्षण, प्रकार और उपचार

त्वचा शरीर के नाजुक हिस्सों में से एक है। जो दूषित वातावरण और गलत खानपान के चलते बहुत जल्दी संक्रमण की चपेट में आ जाती है। त्वचा संबंधी बहुत से रोग जल्दी ठीक हो जाते हैं तो कुछ रोग लंबे समय तक पीछा नहीं छोड़ते। इन्हीं रोगों में से एक रोग है सोरायसिस। यह चर्म रोग त्वचा को बुरी तरह प्रभावित करता है। इस रोग के दौरान स्किन लाल और पपड़ीदार हो जाती है। जिसमें कभी-कभी खुजली, जलन और सूजन भी देखने को मिलती है।

 
 

क्या है सोरायसिस?

सोरायसिस एक त्वचा संबंधी बीमारी है। जो त्वचा पर अधिक कोशिकाओं के बढ़ने के कारण होती है। यह कोशिकाएं नीचे से बढ़ती हुई पूरी त्वचा को घेर लेती हैं। त्वचा पर लगातार कोशिकाएं विकसित होने के कारण त्वचा की नमी कम होने लगती है और त्वचा रूखी हो जाती है। परिणामस्वरूप त्वचा में लालिमा, सूजन और जलन उत्पन्न होने लगती है। देखने में सोरायसिस लाल मोटे चकत्ते होते हैं। जिनमें कभी-कभी दरारें पड़कर खून भी आने लगता है। आम भाषा में सोरायसिस को छाल रोग भी कहा जाता है।

 
 

क्यों होता है सोरायसिस?

वैसे तो सोरायसिस हर उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है। लेकिन 15 से 35 और उससे अधिक उम्र के लोगों में इसके अधिक मामले देखे जाते हैं। सोरायसिस क्यों होता है? या कहें कि इस चर्म रोग के क्या कारण हैं? तो इसके लिए निम्नलिखित कारणों को शामिल किया जा सकता है-

  • शुष्क त्वचा और शुष्क हवा का होना।
  • अधिक धूप या सनबर्न।
  • वायरस और बैक्टीरिया संक्रमण।
  • त्वचा का कटना एवं त्वचा पर चोट लगना।
  • किसी कीड़े का काट लेना।
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली।
  • अधिक तनाव एवं चिंता।
  • किसी दवाई का साइड इफेक्ट।
  • एड्स जैसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त होना आदि।
 
 

सोरायसिस के लक्षण-

सोरायसिस या त्‍वचा संबंधी कई समस्‍याओं के लक्षण भिन्न-भिन्न लोगों में भिन्न-भिन्न तरह से दिखाई पड़ते हैं। कई बार यह लक्षण इस बात पर भी निर्भर करते हैं कि किस व्यक्ति को किस तरह का सोरायसिस है? शुरुआत में सोरायसिस सिर और कोहनी जैसे त्वचा के छोटे स्थानों को ही अपना शिकार बनाता है।

सोरायसिस के मुख्य लक्षण निम्नलिखित हैं;

  • त्वचा की सूजन और लाल चकत्ते।
  • लाल चकत्तों पर सफेद पपड़ी पड़ना।
  • त्वचा के लाल चकत्तों में दर्द होना।
  • चकत्तों पर या उसके आसपास खुजली और जलन होना।
  • त्वचा के रूखेपन के साथ उसमें दरारे पड़ना और उन दरारों से खून आना।
  • मोटे नाखून होना और उनमें दाग-धब्बों का पड़ना।
  • जोड़ों में सूजन और दर्द होना।
 
 

सोरायसिस के प्रकार

सोरायसिस रोग कई तरह का होता है। जोकि निम्नलिखित है-

एरिथ्रोडर्मिक- इसमें सोरायसिस त्वचा के बड़े क्षेत्र को कवर करता है। जिसकी लालिमा काफी तीव्र होती है।

पस्टुलर- इस स्थिति में त्वचा पर पीले मवाद से भरे छाले पड़ने लगते हैं।

प्लाक- इसमें त्वचा लाल धब्बेदार और सख्त हो जाती है। जिसपर एक समय बाद सफेद पपड़ी पड़ने लगती है।

इनवर्स- यह शरीर के सामान्य हिस्सों जैसे कोहनी और घुटनों की वजाय बगल और कमर जैसे हिस्सों में होता है। इसमें त्वचा लाल पड़ जाती है। जिसमें एक समय के बाद जलन भी होती है।

गुट्टेट- इसमें त्वचा पर छोटे लाल-गुलाबी धब्बे दिखाई पड़ते हैं। यह खासकर बच्चों में देखने को मिलता है। जोकि स्ट्रेप संक्रमण (बैक्टीरियल संक्रमण, गले में खराश व खरोंच के कारण) से संबंध रखता है।

 
 

सोरायसिस (छाल रोग) के घरेलू उपचार-

हल्दी-

 

सामग्री:

हल्दी पाउडर दो चम्मच

पानी एक चौथाई कप

कैसे करें इस्तेमाल?

पानी में हल्दी को मिलाकर गर्म करते हुए गाढ़ा पेस्ट बना लें।

पेस्ट को ठंडा करके प्रभावित हिस्से पर लगाएं।

पेस्ट के सूखने पर त्वचा को साफ करें।

कितनी बार प्रयोग करें?

हल्दी के इस पेस्ट का इस्तेमाल दिन में दो बार जरुर करें।

कैसे है लाभदायक?

हल्दी एक आयुर्वेदिक औषधि है। जो एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल, एंटीऑक्सीडेंट और घाव को जल्दी भरने वाले गुणों से संपन्न होती है। इसलिए इसका इस्तेमाल सोरायसिस से प्रभावित वाले हिस्से पर खुजली, जलन, बैक्टीरिया आदि को कम करने के लिए किया जाता है।

 
 

अदरक-

सामग्री:

जैतून का तेल

अदरक का तेल

कैसे करें इस्तेमाल?

अदरक तेल की कुछ बूंदों को हाथ पर लेकर प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

त्वचा के संवेदनशील होने पर अदरक तेल के साथ जैतून तेल को मिलाकर इस्तेमाल करें।

कितनी बार प्रयोग करें?

इस प्रक्रिया का दिन में दो बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक?

अदरक का तेल सोरायसिस रोग के इलाज में काफी मददगार साबित होता है। क्योंकि अदरक के तेल में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं। जो सोरायसिस पर प्रभावी असर डालने का काम करते हैं। जिससे यह समस्या जल्दी ठीक होती है।

 
 

ग्रीन टी-

 

सामग्री:

ग्रीन टी एक बैग

गर्म पानी एक कप

कैसे करें इस्तेमाल?

पांच मिनट के लिए ग्रीन टी बैग को गर्म पानी में डालकर रखें।

ग्रीन टी बैग को पानी में से निकाल दें और प्राप्त चाय का सेवन करें।

कितनी बार प्रयोग करें?

छाल रोग के समय दिन में दो से तीन कप ग्रीन टी का सेवन करें।

कैसे है लाभदायक?

ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं। जो छाल रोग के लक्षणों को दूर करने में सहायता करते हैं। दरअसल ग्रीन टी विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने का काम करती है। जो खुजली और जलन का कारण होते हैं।

 
 

एलोवेरा-

सामग्री:

एलोवेरा का पत्ता मध्यम आकार का

कैसे करें इस्तेमाल?

एलोवेरा के पत्ते को साफ पानी से धोकर कुछ समय के लिए फ्रिज में रख दें।

कुछ देर बाद फ्रिज से एलोवेरा को निकालकर चाकू की मदद से उसकी ऊपरी परत हटाकर जेल को किसी बाउल में निकाल लें।

अब इस जेल को प्रभावित त्वचा पर 20-25 मिनट तक लगाकर रखें। उसके बाद त्वचा को ठंडे पानी से धो लें।

कितनी बार प्रयोग करें?

इस प्रक्रिया को दिन में दो बार किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक?

एलोवेरा एक प्राकृतिक औषधि है। जो त्वचा की जलन को शांत करती है। एलोवेरा में मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण त्वचा को सूजन और जीवाणु संक्रमण से आजादी दिलाते हैं। इसके अतिरिक्त एलोवेरा में एक ब्रैडीकाइनस नामक एंजाइम भी पाया जाता है। जो स्किन की सूजन को ठीक करने का काम करता है। इसलिए एलोवेरा के इस्तेमाल को सोरायसिस का सफल माना है।

 
 

नीम-

सामग्री:

नीम तेल

कैसे करें इस्तेमाल?

नीम तेल की बूंदों को उंगलियों या रुई बॉल पर डालकर प्रभावित त्वचा पर लगाएं

कितनी बार प्रयोग करें?

इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहराया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक?

नीम तेल प्रयोग सोरायसिस की दवा के रूप में किया जा सकता है। नीम तेल में एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। जो त्वचा के जीवाणु संक्रमण को जल्दी ठीक करने का काम करते हैं।

 
 

नारियल तेल-

सामग्री:

नारियल का तेल

कैसे करें इस्तेमाल?

नारियल तेल की कुछ बूंदें हाथ पर लें और प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

कितनी बार प्रयोग करें?

यह प्रक्रिया को दिन में दो से तीन बार दोहराएं।

कैसे है लाभदायक?

आयुर्वेद में नारियल तेल को त्वचा के लिए बेहद अच्छा माना गया है। क्योंकि यह मॉइस्चराइजिंग गुण से संपन्न होता है। जो खुजली और पपड़ीदार त्वचा को शांत करते है। इसके अतिरिक्त नारियल तेल एंटीसेप्टिक ऑयल भी होता है। जो सोरायसिस संक्रमण को कम करता है।

 
 

टी ट्री तेल-

सामग्री:

एक चम्मच टी ट्री तेल

जैतून का तेल एक बड़ा चम्मच

कैसे करें इस्तेमाल?

टी ट्री तेल में जैतून तेल को मिलाकर प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

कितनी बार प्रयोग करें?

दिन में दो से तीन बार इस तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक?

टी ट्री ऑयल त्वचा पर एंटीसोरायसिस के रूप में कार्य करता है। यह एंटीइंफ्लेमेटरी गुण से भी भरपूर होता है। जो सूजन और जलन को शांत करने का काम करते हैं। इसके अतिरिक्त यह तेल चर्म रोगों से भी छुटकारा दिलाता है।

 
 

जैतून का तेल-

सामग्री:

जैतून का तेल

कैसे करें इस्तेमाल?

जैतून तेल की कुछ बूंदों को हथेली पर लेकर प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

कितनी बार प्रयोग करें?

इस तेल को दिन में तीन से चार बार त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक?

जैतून का तेल सोरायसिस के लिए एक प्रभावी विकल्प है। यह तेल में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों मौजूद होते हैं। जो घाव को शीघ्र भरने और त्वचा संबंधी समस्याओं से दूर करने का काम करते हैं।

 
 

अलसी का तेल-

सामग्री:

अलसी का तेल

कैसे करें इस्तेमाल?

तेल की कुछ बूंदों को हथेली पर लेकर प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

कितनी बार प्रयोग करें?

इस तेल को दिन में तीन से चार बार त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है लाभदायक?

अलसी के तेल का इस्तेमाल सोरायसिस की दवा के रूप में किया जा सकता है। अलसी का तेल ओमेगा-3 फैटी एसिड, अल्फा-लिनोलेनिक एसिड, बीटा-कैरोटीन और टोकोफेरोल जैसे एंटीऑक्सीडेंट से संपन्न होता है। यह त्वचा के पीएच को संतुलित और हाइड्रेट रखता है। इसके अतिरिक्त यह तेल सोरायसित के लक्षणों को शांत करने में भी मदद करता है।

 
 

सेब का सिरका-

सामग्री:

सेब का सिरका एक चौथाई कप

गुनगुना पानी तीन चौथाई कप

कॉटन बॉल

कैसे करें इस्तेमाल?

सिरके को गुनगुने पानी में अच्छी तरह मिलाएं।

प्रभावित हिस्से के अनुसार कॉटन बॉल का चुनाव करें।

अब कॉटन बॉल को सिरके वाले गुनगुने पानी में डुबोकर थोड़ा निचोड़ें और प्रभावित हिस्से पर लगाएं।

कॉटन बॉल को एक से दो मिनट प्रभावित हिस्से पर रखकर हटा दें।

कितनी बार प्रयोग करें?

बार-बार होने वाली खुजली और जलन से छुटकारा पाने के लिए इस प्रक्रिया को प्रतिदिन चार से पांच बार करें।

कैसे है लाभदायक?

सेब का सिरका एंटीएलर्जिक, एंटीफंगल, एंटीमाइक्रोबियल, एंटीवायरल और एंटीइंफ्लेमेटरी जैसे गुणों से भरपूर होता है। जो त्वचा से खुजली, जलन और चकत्तों को हटाने में मदद करते हैं। इसलिए सोरायसिस के इलाज लिए सेब के सिरके का इस्तेमाल किया जाता है।

 
 

वेदोबी सोरायसिस तेल-

 

वेदोबी सोरायसिस तेल त्वचा और छाल रोग आदि का इलाज करने के लिए तैयार किया गया एक आयुर्वेदिक ऑयल है। जिसमें जोजोबा तेल, करेले के तेल से प्रभावित जैतून का तेल, मैरीगोल्ड (गेंदे का फूल), केले के पत्ते, तेज पत्ता, तिल का तेल, नारियल का तेल, बावची (बाकुची) का तेल, काले जीरे का तेल, चालमोगरा (तुबरक या तुवरक) का तेल, करंज का तेल, तमानु का तेल और जुनिपर बेरी एसेंशियल ऑयल, लोबान का तेल, टी ट्री ऑयल, देवदार का तेल, लैवेंडर का तेल, अजवायन के फूल का तेल और नीम का तेल आदि प्राकृतिक अवयवों का संयोजन मौजूद है। यह तेल जीवाणुरोधी और कवक विरोधी है। जो खोपड़ी और त्वचा में सोरायसिस संक्रमण को ठीक करता है।

 
 

कैसे करें इस्तेमाल?

  • वेदोबी सोरायसिस तेल का इस्तेमाल स्नान करने के बाद, लोशन की तरह पूरे शरीर, चेहरे और खोपड़ी पर करें।
  • इसे तेल को नियमित मालिश के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • वेदोबी सोरायसिस तेल को सोते समय भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कितनी बार प्रयोग करें?

शीघ्र और बेहतर परिणामों की प्राप्ति के एस तेल को दिन में दो से तीन बार प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

 

कैसे है लाभदायक?

वेदोबी सोरायसिस तेल में उपयोग होने वाले विभिन्न तत्व त्वचा पर सुखदायक प्रभाव डालते हैं और त्वचा को सूखेपन और खुजली से राहत प्रदान करते हैं। यह तेल त्वचा को मुलायम बनाता है। क्योंकि इसके सलूशन में प्रयुक्त सामग्री सूखी और दरार वाली त्वचा को ठीक करने का काम करती है। यह तेल सोरायसिस के लक्षणों को कम करते हुए त्वचा की चमक को बढ़ावा देता है। जिससे त्वचा की हीलिंग होती है। वेदोबी सोरायसिस तेल 100% प्राकृतिक अवयवों के साथ तैयार किया गया है। इसलिए साइड-इफेक्ट्स की चिंता किए बिना इसका उपयोग किया जा सकता है।

 

सोरायसिस के समय बरतें यह सावधानियां-

  • तेज धूप से बचें। इसलिए सोरायसिस के समय बाहर जाने पर छतरी का इस्तेमाल करें।
  • त्वचा पर कोई घाव या संक्रमण होने पर उसे अनदेखा न करें अथार्त उसपर पूरा ध्यान दें।
  • प्रतिदिन नहाएं और त्वचा को अच्छे से साफ रखें।
  • खुजली होने पर त्वचा को खरोंचे से बचें।
  • सोरायसिस के समय घरेलू उपाय या डॉक्टर की सलाह जरुर लें।
 

सोरायसिस में आहार-

सोरायसिस के समय से भोजन में एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल, विटामिन-सी, विटामिन-ई और विटामिन-डी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें। फल और हरी-सब्जियों का अधिक सेवन करें। शरीर को हमेशा हाइड्रेट रखें। इसके लिए जूस और नारियल पानी का प्राप्त सेवन करें।

Read More