Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

Hyperdontia: Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

Posted 14 July, 2022

Hyperdontia: Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

Hyperdontia is an oral condition characterized by the development of an excess number of teeth. The standard number of primary teeth is 20 and permanent teeth is 32. The primary teeth, also known as the deciduous teeth, are the first set of teeth that grows in a person’s mouth. The permanent teeth then replace them, usually erupting completely at age of 21. Affected individuals can have extra primary or permanent teeth.

These extra teeth are sometimes called supernumerary teeth and can appear in any area of the dental arch (the curved area where the teeth attach to the jaw). The additional teeth may be small in number or many, and their arrangement may be symmetrical or non-symmetrical.

Types of Hyperdontia

Supernumerary teeth are categorized based on their shape and position in the mouth.

Following is the classification based on its shape-

  • Supplemental-the tooth is shaped similarly to the type of tooth it grows near.
  • Tuberculate- the tooth has a barrel-like shape.
  • Conical-the tooth is shaped like a peg, with a wide base and narrows out at the top.
  • Compound odontoma- the tooth consists of multiple small, tooth-like growths near each other.
  • Complex odontoma-a disorganized mass of tooth-like tissue growth.

Following are the types of extra supernumerary teeth based on their location-

  • Paramolar-An extra tooth at the back of the mouth that grows next to a molar.
  • Distomolar-The tooth grows in line with your other molars, not around them.
  • Mesiodens-This is the most common type of tooth for people with hyperdontia. This indicates that extra tooth growing behind or around the incisors (the four teeth at the front of the mouth that are used for biting).

Symptoms of Hyperdontia

The main symptom of hyperdontia is the growth of additional teeth just behind or near the primary or permanent teeth.

When the extra teeth put pressure on the jaw and gums, following symptoms may occur-

  • Pain and swelling.
  • Formation of cysts and polyps.
  • Teeth crowding.

Causes of Hyperdontia

The exact cause of hyperdontia is unknown. However, it is believed that there may be a genetic factor along with some evidence of environmental factors leading to the condition.

Another possible cause is an over activity of the dental lamina during development. The dental lamina is the area of ​​cells that initiates the formation of the tooth germ that forms the tooth. Hyperdontia appears to be associated with several hereditary diseases, including-

  • Fabry disease.
  • Gardner’s syndrome.
  • Ehlers- Danlos syndrome.
  • Cleft palate and lip.
  • Cleidocranial dysplasia.
  • Marfan syndrome.
  • Sturge-weber syndrome.
  • Orofaciodigital syndrome.

Risk Factors of Hyperdontia

Genetic disorders are common risk factors, and even in the absence of genetic disorders, hyperdontia can occur in many family members.

It occurs more often in permanent teeth than in primary teeth and is twice as common in men than in women. 98% of hyperdontia is usually seen in the upper jaw than in the lower jaw. The front teeth are affected more often than the side teeth or the molar teeth region.

Diagnosis for Hyperdontia

If the extra teeth have already erupted or grown, diagnosing the condition is very easy.

  • A routine dental X ray is a must if they are in a primary stage.
  • The doctor may also use a CT scan to get a more detailed look at your mouth, teeth and jaw.

Treatment for Hyperdontia

Since the majority of supernumerary teeth will cause clinical problems, detecting and treating them as soon as possible is very important.

Treatment generally consists of removing the teeth. Treatment depends on whether hyperdontia causes complications such as-

  • Difficulty in eating or chewing.
  • In case of gingivitis, problems in brushing teeth.
  • Crooked teeth or overcrowding of teeth.
  • Delayed eruption of permanent teeth.
  • In case of unerupted damage to permanent teeth.
  • Discomfort due to the extra teeth.

When to visit a dentist?

The best time to visit the dentist is when you have-

  • Swelling or pain in the mouth.
  • Extra teeth not in line with the surrounding teeth.
  • Delayed eruption of permanent teeth.
  • Any discomfort in the mouth.
  • Crooked teeth.
Read More
Sleep Apnea: Types, Symptoms, Causes and Treatment

Posted 07 July, 2022

Sleep Apnea: Types, Symptoms, Causes and Treatment

Sleep apnea is a serious sleep disorder characterized by repeated episodes of stopping and starting a person's breath while asleep. If you snore loudly and feel tired even after a good sleep, you may have sleep apnea. If left untreated, sleep apnea can lead to many health problems, including hypertension (high blood pressure), stroke, cardiomyopathy (enlarged heart muscle tissue), congestive heart failure and diabetes.

What happens when you stop breathing?

When you stop breathing, your heart reduces the supply of oxygen. Then your unconscious reflex will wake you up and the episode of shortness of breath will end. When this happens, your heart rate tends to increase rapidly along with blood pressure.

Types of Sleep Apnea

The main types of sleep apnea are:

  • Obstructive Sleep Apnea (OSA):OSA occurs when the airways in the throat are physically blocked. This defect causes a temporary pause in breathing. OSA affects more men than women. It can occur in people of any age but is more common in older ones.
  • Central Sleep Apnea(CSA):CSA occurs when there is a problem with the brain system that controls the muscles involved in breathing, resulting in slower and shallower breathing. CSA has been found to affect approximately 0.9% of adults over the age of 40 years. It is more common in men than women. CSA affects breathing differently than OSA. Instead of the obstruction causing breathing to stop, the problem arises in the way the brain communicates with the muscles responsible for breathing.
  • Mixed Sleep Apnea (MSA):When a person has both OSA and CSA, it is referred to as mixed sleep apnea or complex sleep apnea.

Symptoms of Sleep Apnea

Common signs and symptoms of obstructive and central sleep apnea are:

  • Heavy snoring.
  • Intervals in which you stop breathing during sleep that will be reported by another person.
  • Inhaling air while sleeping.
  • Waking up with a dry mouth.
  • Headache in the morning.
  • Difficulty in sleeping (insomnia).
  • Difficulty in paying attention when awake.
  • Irritability.
  • Night sweats.
  • Frequent urination at night.
  • Sexual dysfunction.

Causes of Sleep Apnea

Multiple causes have been identified that increases the risk of blockage and Obstructive Sleep Apnea (OSA):

  • ObesityObesity is a major cause of OSA and can be a major risk factor in up to 60% of cases.
  • Use of sedativesUse of sedative drugs, including alcohol, can cause the tissues in the throat to relax, facilitating airway blockage.
  • Family historyPeople who have close relatives suffering from OSA are more likely to develop OSA.
  • Nasal congestionThose who breathe through their nose due to congestion are more likely to develop OSA.
  • Sleeping on your backThis sleeping position facilitates contraction of the tissues around the airways, thereby causing blockage.
  • SmokingIt has been found that people who smoke, especially heavy smokers, have a higher rate of OSA than non-smokers.

Treatment for Sleep Apnea

Lifestyle changes

Lifestyle changes are essential to normalize breathing and are important in treatment. These include

  • Taking a heart healthy diet.
  • Developing healthy sleeping habits.
  • Limiting alcohol consumption.
  • Quitting smoking.
  • Doing exercise.
  • Sleeping on the side.

Continuous positive airway pressure (CPAP) therapy

This is the main treatment for sleep apnea. A CPAP machine is a device that uses a tube and a nose cover or an airtight mask to constantly circulate air while you sleep. Air pressure helps keep the airways open by preventing pauses in breathing.

  • HumidifierA humidifier adds moisture to the air. It is ideal for anyone with sleep apnea because dry air can irritate the respiratory tract and body.
  • SurgerySurgery can harden or shrink the tissue causing the obstruction, or remove excess tissue or enlarged tonsils.
  • Mandibular repositioning device(MRD)This is a special oral device suitable for people with mild or moderate OSA. The mouthpiece keeps the jaw in a forward position during sleep to expand the space behind the tongue. This helps keep the upper airway open by preventing apnea and snoring.
  • MedicationSome medications can help with CSA but should only be used after consulting a sleep specialist. Examples include
  • Acetazolamide
  • Zolpidem
  • Triazolam

However, it can have serious side effects and may not be suitable for everyone.

Home Remedies for Sleep Apnea

  • HoneyHoney has anti-inflammatory properties due to its high content of phenolic compounds that can act as antioxidants. Patients with sleep apnea appreciate its beneficial effects on the throat.

Before going to bed, drink a glass of warm water or tea and add a teaspoon of raw honey.

  • LavenderLavender has a soothing scent that reduces anxiety and provides better sleep.

Apply a few drops of lavender essential oil to the towel. Then place the towel under your pillow or on your pillowcase.

You can also add lavender to hot water and inhale the steam, or use an oil diffuser to scent your bedroom.

When to see a doctor?

Heavy snoring can indicate a potentially serious problem, but not everyone who has sleep apnea, snores. Consult your doctor if you have signs or symptoms of sleep apnea. Ask your doctor about sleep problems that make you tired, sleepy, and irritable.

Read More
Mumps: Symptoms, Causes and Treatment

Posted 08 June, 2022

Mumps: Symptoms, Causes and Treatment

Mumps is a highly contagious viral infection of the salivary glands that is transmitted from person to person through saliva, nasal secretions and close contact. The most commonly affected age group in children is between 5 and 15. A common symptom of mumps is swelling of the salivary glands, making the patient's face look like a hamster.

How is Mumps transmitted?

Once the mumps virus enters the upper respiratory tract, it is spread from one infected person to another through contact with saliva or respiratory secretions (such as mucus). Mumps can also spread through contact with objects, such as toys or water drinking glasses that have been infected by a sick person.

Symptoms of Mumps

Once a person is infected with the virus, mumps symptoms usually develop within 14 to 25 days.

The most common symptom of mumps is swelling of the parotid glands, a pair of glands that are responsible for producing saliva. Parotid glands are located just below the ears, on either side of the face. The swelling usually affects both glands which can cause pain, tenderness, and difficulty in swallowing.

Other symptoms are–

  • Feeling unwell
  • Fever
  • Difficulty in chewing
  • Headache
  • Joint pain
  • Dry mouth
  • Mild stomach ache
  • Fatigue
  • Loss of appetite

What causes Mumps?

It may be transmitted through respiratory secretions (such as saliva) from people who already have the disease. The virus travels from the airways to the salivary glands and multiplies, causing the glands to swell.

Causes of mumps are-

  • Sneezing or coughing.
  • Using and eating on the same person's tableware.
  • Sharing food and drink with someone who is infected.
  • Physical contact.
  • An infected person touches their nose or mouth and then transfers it to a surface for others to touch.

Individuals infected with the mumps virus are infectious for about 15 days (6 days before symptoms begin and up to 9 days after onset). The mumps virus belongs to the paramyxovirus family, a common cause of infection, especially in children.

How is Mumps diagnosed?

Doctors can usually diagnose mumps by swelling of the salivary glands. If the glands are not swollen and doctors suspect mumps based on other symptoms, they culture the virus. The culture is done with swabbing in the inside of the cheek or throat. The swab collects mucus and cells and sends it to a lab to be tested for the mumps virus. Other than mumps, any other infection can also cause swelling of the salivary glands.

How to prevent the spread of Mumps?

There are a number of precautions that must be taken to prevent the spread of infection-

  • Wash your hands frequently with soap and water.
  • Do not go to work/school until 5 days after symptoms appear.
  • Cover nose and mouth with a tissue when sneezing or coughing.
  • Get vaccinated.

Who must take the MMR (measles-mumps-rubella)vaccine?

You should be vaccinated if you do not meet the criteria-

Pregnant women of childbearing age.

Attending another college or high school.

Work in hospitals, medical facilities, children's centers or school.

Planning a trip abroad.

Side effects of MMR vaccine

The MMR vaccine is very safe and effective.

Most of the people do not experience any side effects from the vaccine. However, some people may have a mild fever, rash or joint pain.

In rare cases, seizures caused by fever may occur in children receiving the MMR vaccine. However, these seizures are not associated with long-term problems.

Home remedies for Mumps

Ginger-

Ginger has anti-inflammatory, antibacterial and antiviral properties. Make a paste of dry ginger powder and water and apply it on the area that looks swollen.

Aloe vera-

Aloe Vera is an excellent remedy for mumps as it has antioxidants and antibacterial properties. Peel off a fresh aloe vera leaf and rub the gel over the affected area to reduce swelling and pain.

Warm or cold compress-

Using hot or cold compress is an effective way to relieve swollen gland pain caused by mumps.

Fenugreek seeds-

Fenugreek seeds have antioxidants. Grind the fenugreek seeds along with the asparagus seeds until they form a thick paste. Applying this paste to the affected area provides relief in pain.

Neem leaves-

Neem works very well in treating mumps. Crush the leaves and mix an equal amount of turmeric powder to make a paste with a little water and apply it on the swollen area. This will provide great relief from the mumps.

Avoid citrus foods-

Stay away from citrus fruits and cottage cheese. Instead, drink water and vegetable soup.

Proper rest-

Get enough rest and relaxation until the fever goes away.

When to see a doctor?

See your doctor if you or your child have signs and symptoms of mumps. Tell your doctor beforehand that you suspect mumps so that steps can be taken to prevent the virus from spreading to other people.

Read More
Causes, Precautions and Home Remedies for Bad Breath

Posted 05 April, 2022

Causes, Precautions and Home Remedies for Bad Breath

You must have often felt that while talking to some people, their mouth smells bad due to which they are neither able to talk properly nor can they laugh openly. Bad breath often instills low self confidence in people and they hesitate to talk openly.

Bad odor from the mouth is a common problem that people are worried about, but they do not get treatment or do not have the right information about it. Apart from this, some people do not even cure this problem for fear of being made fun of themselves. Usually this problem occurs among people who do not clean their mouth properly and do not maintain oral hygiene but it does not mean that other people do not or cannot have this problem. There are mainly three reasons for bad breath, oral, non-oral and other reasons.

Causes of Bad Breath

Oral Causes-                                                                                                                                                               

  • As the temperature of the mouth rises, bacterial growth occurs which leads to bad breath.
  • While eating something, the fibrous food gets stuck in the teeth and causes infection in the mouth which further leads to bad odor from the mouth. This makes it imperative to clean the mouth properly.
  • Pyorrhea disease has a counter effect on the gums which causes the mouth to stink.
  • Saliva keeps moisture in the mouth and helps in keeping the mouth clean. Dead cells accumulate in a dry mouth. These cells also produce bad odour.
  • Sometimes bad odor in the mouth occurs due to sores and blisters.
  • It is natural to notice bad odor from the mouth if the cap on the teeth is not cleaned properly.

Non oral Causes-

Some diseases also cause bad breath from the mouth like-

  • Kidney or lung disease.
  • Diabetes.
  • Nasal problems or sinus.
  • When there is bacterial activity in the lungs.

Other causes of bad breath are-

  • The bad smell also occurs with consumption of food that contains onions, garlic and spices in large quantities but this smell subsides automatically in no time.
  • Consumption of products like tobacco and cigarettes is also a big reason for bad smell in the mouth. Apart from this, the chances of getting cancer also increase by consuming them.

Precautions required to avoid bad breath-

  • Drink optimum amount of water.
  • Do not smoke, use tobacco and alcohol.
  • Reduce the intake of coffee and tea.
  • Brush regularly and make it a habit to gargle with clean water after eating.
  • If possible, use dantun at least once a day because it removes the bad odor of the mouth and also strengthens the gums.
  • Avoid eating spicy food and reduce the consumption of onion, garlic, ginger, etc.
  • Consume less sweets because it might lead to tooth decay which leads to bad breath.
  • Digestive problems also lead to bad breath. That's why it is important to make a habit of walking for some time after eating.
  • Chewing gum and consumption of sugar free sweets helps in the formation of saliva. So, both of these can also be consumed.
  • Visit the dentist regularly for dental check-ups.

Home remedies to get rid of bad breath

  • Odor and other diseases are cured by gargling with mint solution.
  • Mixing one teaspoon of ginger juice in a glass of water and gargling with it two to three times a day reduces bad breath.
  • Chewing licorice two to three times a day does not cause bad breath.
  • Gargling with salt in warm water also reduces bad breath.
  • Drinking green tea reduces bad breath. It contains anti-bacterial components which remove the odor.
  • Chewing guava leaves also reduces bad breath.
  • Mixing a pinch of salt in a spoonful of mustard oil, rubbing it on the gums keeps the gums healthy and also reduces the risk of bad breath.
  • Fennel, cardamom, licorice, roasted cumin, coriander etc. are natural mouth fresheners, chew them after meals and at other times. This will reduce the bad smell of the mouth.
  • Chewing cloves is also beneficial for eliminating bad breath. Apart from this, clove also benefits in other problems of the mouth.
  • Boiling pomegranate peel in water and rinsing with it also reduces the smell of the mouth gradually.

When to go to the doctor?

If you have any of the following problems along with bad breath, go to the doctor without delay-

  • Loss of teeth along with bad breath.
  • Blood pouring from the mouth with a foul smell.
  • Swelling and pain in the gums.
  • Fever.
  • In case of a cold and runny nose.
  • When coughing up mucus.
  • On having a sore throat.

 

Read More
What is a Tooth abscess? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 04 April, 2022

What is a Tooth abscess? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

A tooth abscess is pus that is caused by a bacterial infection. It can cause abscesses in different areas of the tooth for various reasons. A periapical abscess occurs at the tip of the jaw, while a periodontal abscess occurs in the gums adjacent to the root of the tooth. A periapical tooth abscess is usually caused by an untreated tooth cavity, injury, or previous tooth change. Dentists clean the area to remove the abscess and treat it to get rid of the infection. The doctor can also repair the tooth by the treatment of the root canal but in some cases, there is a need to take out the tooth. Left untreated, a tooth abscess can sometimes be serious and even fatal.

Symptoms of Tooth abscess

When there is an abscess in the tooth, the pain of the tooth and gums gradually reaches the jaw, ear and neck due to which the abscess in the tooth or gum comes out. Therefore, there is severe pain in it. The symptoms are-

  • Pain at the infected area after eating anything.
  • Sensitive teeth.
  • Bad-tasting fluid discharge in the mouth.
  • Bad breath.
  • Redness and pain in the gums.
  • Feel uneasiness.
  • Difficulty opening the mouth.
  • Swelling in the affected area.
  • Swelling on the face.
  • Unexpected pain in the teeth.
  • Insomnia.
  • Having trouble swallowing something.
  • Fever.

Causes of abscess in a tooth

  • Gum disease.
  • Not cleaning the mouth properly.
  • Weakening of the immune system.
  • Chipped tooth.
  • Swelling and burning in the gums.
  • Tooth infection bacteria.
  • Eating a large amount of carbohydrate-rich and sticky foods.

Treatment of Tooth abscess

See the dentist as soon as you see the symptoms of a tooth abscess. From that, it will be known how the condition of the abscess and infection is and by which method the dental abscess will be cured. Doctors treat tooth abscesses with the following procedures:

  • Root canal treatment fills the gap inside the tooth or gum.
  • If the gap cannot be filled, the doctor treats the tooth or gum by removing it.
  • Method of Initiation and drainage is also adopted. With this, a small cut is made in the gum and the pus is taken out. However, this is a temporary solution.

Home remedies for Tooth abscess

Garlic-

Garlic is a natural weapon to kill bacteria. Raw garlic juice helps to kill the infection. If there is a lot of pain in the tooth, then take a bud of raw garlic. Grind it and squeeze it to extract its juice. Apply this juice to the affected area. This home remedy works like magic in toothache.

Clove oil-

Clove oil is also helpful in preventing infection. It is a good remedy for toothache and gum disease. For use, take a little clove oil and brush it slowly. Be extra careful while applying it to the affected area. Do not apply too much pressure and massage your gums slowly or else it will hurt more. Apply some amount of clove oil on the gums and massage gently.

Oil pulling-

This home remedy is very helpful. All you need is coconut oil for this. For use, take a tablespoon of coconut oil and run it in the mouth. Do not swallow it, keep it in your mouth for about 30 minutes. Then spit it out and wash your mouth. Doing so definitely gives relief.

Peppermint Oil-

Peppermint oil works like magic in toothache. To use, first, take some oil on the tips of your fingers and then gently rub it on the affected area. This will give instant relief from toothache.

Salt-

To get instant relief, mix some salt in lukewarm water and gargle with this water. Doing this will be painful in the beginning but after that, you will get some relief. Repeat this several times. This will reduce the pain by about 90%.

Teabag-

Teabags are another home remedy. Apply the herbal tea bag to the affected area. This will give instant relief from the pain caused by pus.

Oregano oil-

Oregano oil has anti-bacterial, anti-fungal, antioxidant and antiviral properties. It is very effective in home remedies especially in diseases of teeth and gums.

Apple Cedar Vinegar-

Apple cider vinegar is another effective treatment for pus in the teeth. For this take one tablespoon of Apple cider vinegar and keep it in your mouth for some time and then spit it out. Don't swallow it. This will make the affected area free of germs and reduce pain.

When to go to the doctor?

See a doctor immediately if the pain in the teeth and gums gradually reaches the jaw, ear and neck.

Read More
जानें, मुंह सूखने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

जानें, मुंह सूखने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

प्यास की वजह से मुंह का सूखना आम बात है। लेकिन मुंह का बार-बार और लगातार सूखना  शरीर की किसी समस्या का संकेत देता है। आमतौर पर मुंह सूखने का वैज्ञानिक कारण मुंह में लार बनने की प्रक्रिया का धीमा होना है। जिसकी  मुख्य वजह शरीर में पानी की कमी होना, भूखे रहना एवं पानी में फ्लोराइड की मात्रा की कमी होना आदि होती  है। यह सभी लक्षण मुंह सूखने (Dry mouth) की ओर संकेत करते हैं। यह समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। विशेषज्ञों के अनुसार आजकल लगभर हर छठा व्यक्ति इस समस्या से जूझ रहा है। इसलिए इसे आम समस्या समझकर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से इसके कई दुष्परिणाम देखे जा सकते हैं।

 

क्या होता है मुंह का सूखना?

 

 मुंह सूखने की समस्या को मेडिकल की भाषा में जेरोस्टोमिया (Xerostomia) के नाम से जानते है। जब मुंह में लार ग्रंथियां (Salivary glands) लार बनाना बंद कर देती है, तो इस स्थिति में मुंह सूखने की समस्या उत्पन्न हो जाती है। मुंह में बनने वाली यह लार दातों के जीवाणुओं द्वारा बनाए गए एसिड को खत्म करती है। जिससे दांतों में कीड़े नहीं लगते और लार की वजह से भोजन को आसानी से चबाने और निगलने में मदद मिलती है। अतः मुंह सूखने की समस्या होने पर व्यक्ति को भोजन करने में भी दिक्कत होती है।

 

मुहं सूखने के लक्षण

 

  • मुंह और गले में खुश्की रहना।
  • लार (saliva) का काफी गाढ़ा होना।
  • मुंह से दुर्गंध आना।
  • भोजन को चबाने एवं निगलने में कठिनाई होना।
  • भोजन का स्वाद पता न चलना या फीका पड़ना।
  • भोजन करने की इच्छा न होना।
  • बार-बार दांतों में कीड़े लगना।
  • मसूड़ों में खुजली और इससे संबंधित विकार होना।

 

मुहं सूखने के कारण

 

मुंह सूखने के पीछे कई कारण होते हैं। जिनमें प्रमुख कारण निम्नलिखित है :-

 

किसी दवाई का दुष्प्रभाव होना

 

बीमार होने पर डॉक्टर हमें कुछ दवाईयां देते हैं। जो हमें ठीक होने में सहायता करती हैं। लेकिन साथ में इन दवाईयों के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। जिसके कारण मुंह सूखने जैसी कई शारीरिक समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती हैं। इसके अलावा बिना डॉक्टर के परामर्श लिए हम और आप कुछ आम दवाईयों का सेवन करते हैं तो उनसे भी मुंह सूखने की समस्या अधिक होती है। एलर्जी ठीक करने वाली दवाइयां, डिप्रेशन, चिंता, नसों एवं मांसपेशियों के दर्द ठीक करने वाली दवाइयां आदि मुंह सूखने का कारण बनती है।

 

बढ़ती उम्र

 

मुंह सूखने के सबसे बड़े कारणों में से एक बढ़ती उम्र का होना भी होता है। यह समस्या ज्यादातर बुजुर्गों में देखने को मिलती है। हालांकि बुजुर्ग लोग अधिक दवाइयों का उपयोग करते हैं। जिनसे मुंह सूखने की समस्या हो सकती है।

 

तंत्रिकाओं को हानि पहुंचना

 

 किसी व्यक्ति के सिर या गर्दन के किसी हिस्सों में चोट या सर्जरी होने से तंत्रिकाओं को हानि पहुंचती है। जिससे मुंह सूखने की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

 

कैंसर थेरेपी

 

कीमो थेरेपी ड्रग्स लार के प्रकार और उसके बनने की मात्रा को बदल सकते हैं। इसके अलावा रेडिएशन से इलाज करने पर गर्दन एवं सिर में उपस्थित लार ग्रंथियों को हानि पहुंचती है। जिससे लार बनने की मात्रा घट जाती है।

 

धूम्रपान और तंबाकू का सेवन

 

धूम्रपान करने और तंबाकू का सेवन करने से मुंह सूखने की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

 

मेटामफेटामीन

 

यह एक तरह का नशीला पदार्थ (ड्रग) होता है। जिसके सेवन से मुंह सूखने के लक्षण नजर आते हैं। इस अवस्था को मेथ माउथ (meth mouth) भी कहा जाता है।

 

मुहं सूखने के अन्य कारक

 

  • डिहाइड्रेशन (निर्जलीकरण) होने पर।
  • पेट में किसी भी तरह की गड़बड़ी होने पर।
  • अनियमित दिनचर्या होने पर।
  • भूखे रहने पर।
  • देर रात तक जागने या कई दिनों तक नींद न आने पर।
  • लार के निर्माण करने वाली नसों में इंजरी होने पर।
  • शरीर में किसी तरह का संक्रमण एवं ट्यूमर होने पर।
  • ऑटोइम्यून की समस्या, मधुमेह, पार्किंसंस रोग, एड्स एवं अल्जाइमर बीमारी जैसी स्वास्थ्य समस्याएं होने पर।

 

मुंह सूखने से बचने के लिए बरतें यह सावधानियां

 

  • तरल पदार्थों का अधिक सेवन करें।
  • ताजे फलों एवं सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें।
  • ऐसे फलों एवं सब्जियों का सेवन करें जिसमें जलीय अंश अधिक हो जैसे तरबूज, ककड़ी खीरा इत्यादि।
  • चाय एवं काफी का सेवन कम से कम करें।
  • मौखिक स्वास्थ्य बनाए रखें।
  • भोजन के पश्चात दांतों की अच्छी से सफाई करें।
  • भोजन को चबाकर खाएं और बीच-बीच में थोड़ी मात्रा में पानी पीते रहे। ताकि मुंह सूखने की समस्या न हो सके।
  • चिंता, तनाव और अवसाद से दूर रहे।
  • धूम्रपान, तंबाकू एवं नशीली पदार्थों का सेवन कतई न करें।
  • प्रतिदिन सुबह टहलें और नियमित रूप से व्यायाम करें।

 

मुंह सूखने के घरेलू उपाय

 

 

मुंह सूखने के इलाज में फायदेमंद है लाल मिर्च

 

लाल मिर्च ड्राई माउथ के लिए अच्छा घरेलू उपचार है। इसके लिए लाल मिर्च के पाउडर को सूप या सलाद में डालकर सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके अलावा लाल मिर्च पाउडर को अंगुली के माध्यम से जीभ पर लगाएं। ऐसा करने से कुछ समय तक जीभ जलती है। लेकिन हमारी लार ग्रंथियां सक्रिय हो जाती हैं।

 

सौंफ है फायदेमंद

 

मुंह सूखने के इलाज में सौंफ का सेवन बेहतर होता है। दरअसल,सौंफ में फ्लेवनॉयड्स पाए जाते हैं, जो लार के उत्पादन में मदद करते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में एक चम्मच सौंफ एवं मिश्री डालकर उबालें। अब इस मिश्रण को ठंडा करके पीएं। ऐसा करने से मुंह के सूखेपन में लाभ मिलता है।

 

नींबू और शहद है कारगर

 

मुंह के सूखेपन के इलाज में नींबू और शहद को कारगर उपाय माना जाता है। इसके लिए एक गिलास पानी में नींबू के रस की कुछ बूंदे एवं एक चम्मच शहद लेकर अच्छे से मिलाएं। अब इस मिश्रण को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पूरे दिन पीते रहें। ऐसा करने से मुंह में लार बनती है और मुंह नहीं सूखता है।

 

अदरक है लाभप्रद

 

अदरक मुंह के सूखेपन के लिए लाभप्रद होता है। इस पर किए गए एक वैज्ञानिक शोध के मुताबिक, अदरक का उपयोग जेरोस्टोमिया के लक्षण को दूर करने के लिए किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से जिंगिबर ऑफिसिनेल पाया जाता है, जो लार के उत्पादन को उत्तेजित करता है। इससे मुंह सूखने की समस्या कुछ हद तक कम हो जाती है। इसके लिए अदरक का एक छोटा टुकड़े को मुंह में लेकर चबाएं।

 

दालचीनी है कारगर

 

दालचीनी में लार उत्पादन की क्षमता होती है। इसलिए इसका प्रयोग करने से मुंह की सूखेपन की समस्या से छुटकारा मिलती है। इसके लिए दालचीनी के एक टुकड़े को मुंह में रखकर चबाएं।

 

बेकिंग सोडा का मिश्रण है लाभदायक

 

मुंह के सूखेपन के उपचार में बेकिंग सोडा का इस्तेमाल अच्छा उपाय माना जाता है। इसके लिए एक गिलास पानी में एक चौथाई चम्मच बेकिंग सोडा, एक-एक चम्मच नमक और शक्कर एवं नींबू के रस की कुछ बूंदों को मिलाकर पीएं। ऐसा करने से डिहाइड्रेशन ( निर्जलीकरण) नहीं होता और मुँह सूखने की समस्या से छुटकारा मिलती है।

Read More
Burning Mouth Syndrome- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 07 February, 2022

Burning Mouth Syndrome- Causes, Symptoms and Home remedies

Recurrent burning in the mouth without any reason is called the problem of burning in the mouth also known as burning mouth syndrome. When the problem of burning in the mouth arises, there is trouble in the tongue, gums, lips, inner cheeks, upper part of the mouth and the whole mouth. The problem of burning in the mouth emerges suddenly which can also become serious after some time. Usually, mouth irritation cannot be detected due to which it becomes a little difficult to treat this problem. However, it is possible to avoid it by following several precautionary measures.

Causes of Burning Mouth Syndrome

The following are the causes of burning sensation in the mouth which can be understood by dividing it into two parts-

Primary Causes-

When the cause of burning sensation in the mouth is not detected in a medical or laboratory examination, it is called a primary or idiopathic (abrupt disease of unknown cause) mouth irritation. According to some studies, the problem of burning in the mouth is also related to the problem of taste and sensory nerves of the brain or spinal cord (Peripheral or Central Nervous System).

Secondary Causes-

Burning in the mouth occurs due to other problems. For example, it may be due to nutritional deficiency such as lack of iron, zinc, vitamin B-9, vitamin B1, vitamin B2, vitamin B6 or vitamin B12 in the body.

 

Other causes of Burning Mouth Syndrome are-

●       Hormonal changes.

●       Stress, anxiety or depression.

●       Immune system problems.

●       Damage to the nerves that control taste or pain.

●       Reactions to certain types of toothpastes or mouthwashes.

●       Allergic to poorly fitted dentures or materials used to manufacture teeth.

 

Symptoms of Burning Mouth Syndrome

In general, a burning sensation in the tongue is felt when there is a problem of burning in the mouth which is sometimes felt in the lips, gums, palate, throat or even the whole mouth. The symptoms of Burning Mouth Syndrome are-

●       Dry mouth.

●       Redness of mouth.

●       Blisters on the lips and mouth.

●       White spots on the side of the mouth.

●       Burning sensation when you put anything in the mouth.

●       Stinging while eating.

●       Loss of taste of food.

 

Risk factors of Burning Mouth Syndrome

Mouth irritation is not a common problem but the following people may be at risk of exposure to it-

Women who have reached menopause.

Have had any dental treatment before.

Allergies from certain food items.

Infection in the upper part of the respiratory tract.

There must have been some incident in life that has shocked the person.

 

Treatment and Diagnosis of Burning Mouth Syndrome

Allergy Test -

Allergy test is done so that it can be found out whether the patient is allergic to any food item or denture.

Blood test-

Blood tests reveal the levels of various components of the blood, glucose levels, thyroid, nutritional factors, and the status of the immune system. This helps to recognise if the problem occurs due to deficiency of nutrients.

Saliva test-

Dry mouth occurs when there is a burning sensation in the mouth. Therefore, the examination of saliva shows if the production of saliva in the mouth has not reduced.

Biopsy -

In this, by taking out the skin of the mouth and examining it, it can be known that the patient does not have fungal, bacterial or viral infection.

Testing for gastric reflux-

This test shows whether the stomach acid of the patient is not coming into the esophagus, that is, he does not have GERD.

Mood check-

Some questionnaires are given so that from the patient's answer it can be ascertained whether he has depression, anxiety or any other mental problem.

 

Remedies to prevent Burning Mouth Syndrome

 

Fulfill the deficiency of nutrients-

According to doctors, this syndrome occurs mostly due to lack of nutrients in the body like vitamin B6, B12, B1 etc. People with iron deficiency also have a problem of burning in the mouth. In such a situation, eat foods which can fulfill this deficiency. These foods include curd, milk, soy, cheese, pistachios, beans etc. Apart from this, eating some multivitamin supplements is also beneficial in this problem.

Say no to tobacco-

Consuming tobacco products causes the mouth to peel from the inside due to which there is a burning sensation in the mouth after eating anything. People who are consuming tobacco and pan masala etc. for a long time are usually prone to this. Consuming tobacco for a long time causes sores in the mouth due to which there is more irritation in the mouth. Therefore, this problem can be avoided by quitting tobacco.

Take a balanced diet-

A balanced diet having vitamin B complex and iron provides relief in the problem of burning in the mouth. Adopting a healthy lifestyle does not cause problems like stress which is an important cause of burning in the mouth. Thus, adopting a healthy lifestyle relieves stress and helps to get rid of irritation/burning of the mouth.

Drink plenty of water-

Drink as much water as you can. This removes the risk of infection. Apart from this, by drinking water, the heat of the stomach is removed and saliva production increases. Due to excessive production of saliva, the mouth does not dry out and the problem of burning in the mouth is relieved.

Avoid alcohol-

Alcohol generates heat in the body due to which the problem of burning in the mouth can increase further. Therefore, it is beneficial not to consume alcohol when there is a burning sensation in the mouth.

Don't stress-

Anxiety, stress and depression are also one of the main reasons for the problem of burning in the mouth. So to avoid this, keep stress and anxiety away from yourself.

Avoid spicy food-

Avoid food that is spicy because such food also causes burning in the mouth. Burning mouth syndrome is a painful disorder. There is a severe burning sensation in the mouth after eating anything in it. Therefore, if you see its symptoms, you should definitely contact the doctor.

Read More
Symptoms and Diagnosis of Tonsillitis

Posted 21 December, 2021

Symptoms and Diagnosis of Tonsillitis

As the weather changes, people start complaining of a sore throat. This complaint is often due to a throat infection. When it increases, there is a risk of a disease called tonsils in the throat. This infection is common and can happen to anyone but it cannot be ignored as a sign of changing weather. The person suffering from this has difficulty in eating, drinking and swallowing.

 

What is Tonsillitis?

Tonsils are part of the lymphatic system of the body which is on both sides of the throat and behind the tongue. Where the glands of the mouth and nose meet, these glands prevent infection-causing bacteria from entering the body. In this way, tonsils play an important role in the defence mechanism of the body.

 

When there is any kind of infection in the tonsils due to which the size of the tonsils changes and swelling starts. Tonsillitis can happen to a person of any age but mostly it is seen in people from young children to adolescence (up to 5-15 years).

 

Symptoms of Tonsillitis

  • Feeling unbearable pain in the throat.
  • More difficulty in swallowing.
  • The appearance of swollen lymph gland of the throat.
  • High fever.
  • Persistent dry throat.
  • Pain in jaw and neck.
  • Pain in the lower part of the ear.
  • Feeling more tired, weak and irritable.
  • The appearance of white marks on tonsils.
  • Heaviness in the voice for more than two weeks.

Causes of Tonsillitis

There are two main causes of tonsillitis. First by bacteria and second by a virus. Apart from this, there are other reasons as well.

 

Let us discuss these reasons-

 
  • Because of viral infection (common cold).
  • By shouting or suppressing voice.
  • By breathing in chemical fumes or air pollution.
  • Whooping cough and influenza.
  • Being allergic to a substance.
  • When the immune system is weak.
  • Lack of moisture in the throat.
  • On consuming more cold things like ice cream, cold drinks etc.
  • Upon entering the body of a bacterium called Streptococcus.
  • Excessive smoking.

Types of Tonsils

Acute tonsils-

In this type of tonsils, there is swelling. It is mainly caused due to throat infection and affects the pharynx i.e, the back part of the tongue (a part of the throat). It is mostly seen in youth.

 

Recurrent tonsils-

This problem of tonsils is seen in young children which are cured with the use of antibiotics. In some children, this problem is recurring.

 

Chronic tonsils-

This is a severe form of tonsils. Tonsil stones (a type of greasy substance) start forming in the throat of the person suffering from this.

 

Peritonsillar abscess-

This is also a type of tonsils that occurs due to more infection in the head and neck. This type of tonsils is also seen more in youth.

 

Things to keep in mind if you have tonsillitis-

  • Avoid smoking.
  • Gargle with lukewarm saltwater.
  • Drink plenty of fluids.
  • Do not consume cough enhancing substances like curd, ice water, cold milk, ice cream, rice etc.
  • Avoid consumption of stale food, junk food.
  • Wash hands thoroughly before eating to avoid any kind of infection.
Read More
क्या होता है नासूर? जानें, इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

क्या होता है नासूर? जानें, इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

मुंह में छाले होना कोई बड़ी बात नहीं है। लेकिन यदि किसी व्यक्ति को मुंह में छाले बार-बार या कई दिनों तक रहते हैं, तो यह कई स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत देते हैं। जिनमें मौखिक स्वास्थ्य भी शामिल हैं। इसलिए शरीर के अलावा मुंह को स्वस्थ रखना भी ज़रूरी है। यदि किसी व्यक्ति को मुंह में छाले हो जाएं, तो उसका सीधा असर खान-पान एवं बात-चीत पर पड़ने लगता है। खासतौर पर यदि नासूर की समस्या हो। नासूर हो जाने पर व्यक्ति को खाने-पीने या बात करने में असुविधा होती हैं। यहां तक कि व्यक्ति को पानी का एक घूंट भी पीना बेहद मुश्किल और कष्टदायक होता है। क्योंकि यह काफी दर्दनाक होता है। नासूर अक्सर शरीर की गर्मी बढ़ने की वजह से होते हैं। जो घाव के रूप में दिखाई देते हैं। जिसे अंग्रेजी में कैंकर सोर (canker sores) कहा जाता है। जिसे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

 

क्या होते हैं नासूर?

नासूर मुंह के कोमल उतकों और मसूड़ों पर होने वाला घाव होता है। जिसे एफथोउस अल्सर (Aphthous ulcers) भी कहते हैं। यह अल्सर पीले या सफेद रंग के और गोल या अंडाकार होते हैं। जिसमें घाव के किनारों पर लाल सीमा (Border) बनी होती है। यह अल्सर गाल के अंदर, जीभ या मसूड़ों के आसपास होते हैं। अल्सर या नासूर होने पर ज्यादा दर्द महसूस होता है। जिससे खाने, पीने और बोलने में परेशानी होती है। ज्यादातर नासूर के घाव 1 से 2 सप्ताह में ठीक हो जाते हैं। लेकिन जब यह घाव बड़े हो जाए तो इन्हें बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

 

नासूर के प्रकार-

मामूली नासूर (Minor Canker sore)-

यह नासूर का सामान्य प्रकार है। जिसमें मुंह के घाव या अल्सर का आकार 2 मिलीमीटर से लेकर 8 मिलीमीटर तक होता है। इसके घाव बिना किसी निशान पड़े एक से दो सप्ताह में ठीक हो जाते हैं।

 

गंभीर नासूर (Major Canker sore)-

इस प्रकार के नासूर मामूली नासूर से थोड़ा अधिक कष्टदायक होता है। गंभीर नासूर के आकार मामूली नासूर से बड़े और गहरे होते हैं। साथ ही यह घाव कुछ हफ़्तों तक रहता हैं। इनके ठीक हो जाने पर चेहरे पर निशान पड़ सकते हैं।

 

हर्पेटिफोर्म सोर (Herpetiform e sore)-

नासूर का यह प्रकार बहुत ही गंभीर और कष्टदायक होता है। इसके आकार लगभग 1 सेंटीमीटर के बराबर और 10 से 100 घावों के समूह में होते हैं। इस प्रकार के सोर यानी घाव से पीड़ित व्यक्ति को काफी दर्द का सामना करना पड़ता है। साथ ही यह दर्द किसी दवाई या क्रीम अदि से भी कम नहीं होता है।

 

नासूर के अन्य जोखिम लक्षण-

नासूर के लक्षण को इसके प्रकार के आधार पर उपरोक्त वर्गीकृत किया गया है। लेकिन इसके कुछ जोखिम लक्षण भी नजर आते हैं। आइए इस ब्लॉग के माध्यम से जानते हैं इन्हीं अन्य गंभीर लक्षणों के बारे में:

 
  • लिंफ नोड्स की सूजन होना।
  • मुंह के अंदरुनी हिस्सों में असहनीय दर्द होना।
  • मुंह की लाइनिंग पर उथले हुए घाव का दिखना।
  • नासूर के उभरने पर ज्यादा सिहरन का अहसास होना।
  • बुखार होना।
  • रैशेज पड़ना।
  • तेज सिर दर्द होना।

नासूर के कारण-

नासूर होने के पीछे अभी तक कोई वैज्ञानिक तर्क नहीं दिया गया है। लेकिन शोधकर्ताओं के अनुसार, नासूर होने के कुछ कारण निम्नलिखित बताए गए हैं-

 
  • मुंह में वायरल इंफेक्शन के कारण नासूर होता है। नासूर का दोबारा होने को रिकरंट ओरल एफथोउस अल्सर (aphthous ulcers) के नाम से जाना जाता है।
  • नासूर की समस्या कमजोर इम्यूनिटी, इनफ्लेमेटरी बाउल डिजीज, प्रतिरक्षा-तंत्र की समस्याएं, तनाव, चिंता या अवसाद के कारण भी होती है।
  • लिवर की किसी भी प्रकार की बीमारी और शराब के कारण होने वाला रोग लिवर के कार्यों में बाधा डालते हैं। जिससे मुंह में छाले या अल्सर होने लगते हैं।
  • यदि किसी व्यक्ति का पेट खराब रहता है। तो उसे नासूर होने की संभावना अधिक रहती है। इसलिए ऐसे व्यक्ति को अपने खान-पान में हेल्थी डाइट अपनानी चाहिए।
  • यदि कोई व्यक्ति अधिक मात्रा में तंबाकू का सेवन करता है। ऐसे लोगों में भी नासूर होने की संभावना काफी अधिक रहती है।
  • हार्मोन्स में बदलाव की वजह से भी नासूर की परेशानी हो सकती है।
  • कभी-कभी नासूर की समस्या डेंडल इलाज कराने वाले लोगों में भी देखने को मिलते हैं।
  • शरीर में फोलिक एसिड, आयरन, विटामिन बी12 और जिंक की कमी के कारण नासूर की समस्या होती है।
  • कई बार नासूर होने का अन्य कारक जेनेटिक हिस्ट्री भी होती है।

नासूर से बचाव के उपाय-

  • मौखिक स्वास्थ्य बनाए रखें।
  • चिंता, तनाव और अवसाद से बचें।
  • अच्छे व संतुलित भोजन का सेवन करें।
  • पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ और पानी पिएं।
  • अधिक गर्म या ठंडे खाद्य और पेय पदार्थों के प्रति सतर्क रहें।
  • तंबाकू उत्पादों का सेवन न करें।
  • धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें।
  • तले-भुने एवं जंक फूड के सेवन से बचें।
  • भोजन को चबाकर खाएं।
  • भोजन चबाते समय किसी से बात न करें।
  • भोजन करते समय पानी न पिएं।

नासूर के घरेलू उपाय-

फाइबर युक्त भोजन-

ज्यादातर नासूर यानी मुंह के अल्सर होने की मुख्य वजह पाचन तंत्र का खराब होना होता है। इसलिए पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए फाइबर वाली चीजों का सेवन करना चाहिए। वहीं, नासूर के दौरान मांसाहारी भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसे में फल-सब्जियां एवं साबुत अनाज आदि चीजों का सेवन ज्यादा करना चाहिए।

 

नमकयुक्त गुनगुने पानी से करें गरारे-

नासूर होने पर नमकयुक्त गुनगुने पानी से गरारे करना फायदेमंद होता है। गरारे करने से नासूर की सूजन एवं दर्द में राहत मिलती है। इसके अलावा गर्म पानी में बेकिंग सोडा या फिटकरी डाल कर प्रभावित हिस्से की सिकाई करने से नासूर की समस्या से निजात मिलती है।

 

बर्फ से करें सिकाई-

दिन में लगभग तीन से चार बार प्रभावित जगह पर बर्फ का टुकड़ा लगाएं। ऐसा करने से दर्द और सूजन दोनों से जल्द आराम मिलता है।

 

तुलसी है फायदेमंद-

तुलसी की पत्तियां घावों पर प्रभावी रूप से काम करते हैं। इसके पत्ते अल्सर से राहत दिलाने के साथ-साथ उसे दोबारा उभरने से भी रोकते हैं। इसलिए घावों से छुटकारा पाने के लिए, प्रतिदिन 4-5 तुलसी के पत्तियों को चबाएं।

 

हल्दी-

हल्दी नासूर से राहत दिलाने का एक प्रभावी प्राकृतिक उपाय है। क्योंकि यह एंटीसेप्टिक और एंटी इंफ्लेमेंटरी गुणों से समृद्ध होती है। इसके लिए हल्दी पाउडर में पानी मिलाकर पेस्ट बनाकर घावों पर लगाएं। इसके अलावा हल्दी पेस्ट में ग्लिसरीन मिलाकर घावों पर लगाने से भी फायदा होता है।

 

शहद-

शहद में एंटी बैक्टीरियल और एंटी इंफ्लामेंटरी गुण पाए जाते हैं। जो बैक्टीरिया का खात्मा करते हैं। साथ ही यह दर्द और सूजन से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं। वर्ष 2016 में पब्लिश एक रिपोर्ट के मुताबिक, शहद मुंह के अल्सर के दर्द के अलावा दाग को भी खत्म करता है। इसलिए शहद को नियमित रूप से रोजाना कम से कम 4 बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

 

लहसुन-

लहसुन एंटी बायोटिक गुण से समृद्ध है। यह नासूर को ठीक करने में मदद करता है। इसके लिए 4-5 लहसुन की कलियों को लेकर पेस्ट बनाकर प्रभावित स्थानों पर लगाएं। करीब 10-15 मिनट के बाद इसे साफ पानी से धो लें। ऐसा करने से दर्द एवं सूजन दोनों से राहत मिलती हैं।

 

एलोवेरा जेल-

एलोवेरा में एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण के अलावा कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं। जो दर्द से राहत दिलाने के साथ कैंकर सोर को खत्म करने में मदद करते हैं। इसके लिए एलोवेरा जेल को कैंकर सोर वाली जगहों पर लगाएं।

 

नारियल तेल-

कई रिसर्च के मुताबिक, नारियल तेल भी मुंह के नासूर या घावों से छुटकारा दिलाने में कारगर साबित होते हैं। क्योंकि इसमें एंटी माइक्रोबियल और एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पाए जाते हैं। जो घावों के दर्द से भी छुटकारा दिलाते हैं। इसके लिए दिन में 2-3 बार नारियल तेल को नासूर वाली जगहों पर लगाएं।

 
Read More
मुंह में जलन होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

मुंह में जलन होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

बिना किसी वजह के बार-बार मुंह में होने वाली जलन को चिकित्सकीय भाषा में मुंह में जलन की समस्या कहा जाता है। मुंह में जलन का दूसरा नाम “बर्निंग माउथ सिंड्रोम” है। मुंह में जलन की समस्या पैदा होने पर जीभ, मसूड़ो, होंठों, गालों के अंदर, मुंह के ऊपरी हिस्से और पूरे मुंह में परेशानी होती है। मुंह में जलन होने की समस्या अचानक उभरती है। जो कुछ समय के बाद गंभीर भी हो सकती है। अमूमन, मुंह कीजलन का पता नहीं लगाया जा सकता है। जिसके कारण इस समस्या का इलाज करना भी थोड़ा मुश्किल हो जाता है। लेकिन इससे बचाव संभव है।

 

मुंह की जलन (बर्निंग माउथ सिंड्रोम) के कारण?

मुंह में जलन होने के निम्नलिखित कारण होते हैं। जिन्हें दो हिस्सों में बांटकर समझा जा सकता है।

 

प्राथमिक-

मुंह में जलन के प्राथमिक कारण में जब चिकित्सकीय या लैब जांच में किसी वजह का पता नहीं चलता तो उसे प्राइमरी या "ईडीओपैथिक" (अज्ञात कारण से एकदम से होने वाली बीमारी) मुंह में जलन की समस्या कहा जाता है। कुछ अध्ययनों के मुताबिक मुंह में जलन होने की समस्या स्वाद और दिमाग या रीढ़ की हड्डी (Peripheral or Central Nervous System) की संवेदी नसों की समस्या से भी संबंधित होती है।

 

द्वितीयक-

मुंह में जलन के द्वितीयक कारण- मुंह में जलन अन्य समस्याओं की वजह से होती है। ऐसे में इसे "सेकेंडरी" मुंह में जलन कहा जाता है। उदाहरणके तौर पर, यह पोषण की कमी की वजह से हो सकती है। जिसमें शरीर में आयरन, जिंक, विटामिन बी-9, विटामिन बी1, विटामिन बी2, विटामिन बी6 या विटामिन बी12 की कमी जैसे कारण शामिल हैं।

 

मुंह कीजलन (बर्निंग माउथ सिंड्रोम) के अन्य कारण-

  • हार्मोन में परिवर्तन।
  • तनाव, चिंता या अवसाद।
  • प्रतिरक्षा-तंत्र की समस्याएं।
  • स्वाद या दर्द को नियंत्रित करने वाली तंत्रिकाओं का क्षतिग्रस्त होना।
  • कुछ प्रकार के दंतमंजनों या माउथवॉशों के प्रति अभिक्रिया।
  • खराब ढंग से फिट किए गए नकली दांत या दांतों के निर्माण में प्रयुक्त सामग्रियों से एलर्जी होना।

मुंह कीजलन के (बर्निंग माउथ सिंड्रोम) लक्षण -

  • मुंह में जलन की समस्या होने पर सामान्य रूप से जीभ में जलन महसूस होती है। जोकई बार होठों, मसूड़ो, तालु, गले या पूरे मुंह में भी महसूस होती है।
  • मुंह का सूखना।
  • मुंह का लाल होना।
  • होठों में छाले दिखना।
  • मुंह में छाले होना।
  • मुंह पर साइड में सफेदी दिखना।
  • कुछ भी मुंह में डालने पर जलन होना।
  • खाना खाते समय चुभन होना।
  • खाने का स्वाद न आना।

मुंह में जलन (बर्निंग माउथ सिंड्रोम) की समस्या किनके लिए है जोखिम-

मुंह में जलन आम समस्या नहीं है लेकिन निम्नलिखित लोगों को इससे जोखिम का खतरा हो सकता है।

 
  • ऐसी महिलाएं जिनका मेनोपॉज आ चुका है।
  • दांतों का पहले कोई इलाज हुआ हो।
  • किसी खाद्य पदार्थ से एलर्जी हो।
  • श्वास नली के उपरी हिस्से में संक्रमण हो।
  • जीवन में ऐसी कोई घटना हुई हो जिससे व्यक्ति को सदमा लगा हो।

मुंह में छालों (बर्निंग माउथ सिंड्रोम) का इलाज एवं जांच-

एलर्जी टेस्ट -

एलर्जी टेस्ट इसलिए किया जाता है ताकि यह पता चल सके कि कहीं रोगी को यह समस्या किसी खाद्य पदार्थ या नकली दांतों से हुई एलर्जी तो नहीं है।

 

खून की जांच -

खून की जांच से रक्त के विभिन्न अवयवों के स्तर, ग्लूकोज के स्तर, थाइरॉयड, पोषण सम्बन्धी कारकों और रोग-प्रतिरक्षा प्रणाली की स्थिति के बारे में पता चलता है। इन सबसे मुंह की समस्या के कारणों का अंदाजा लगाया जाता है।

 

लार की जांच-

मुंह जलने की परेशानी होने पर मुंह सूखता है। इसलिए लार की जांच से पता चलता है कि मुंह में लार बनना तो कम नहीं हुआ है।

 

बायोप्सी -

इसमें मुंह की त्वचा निकालकर जांच करने से पता चल सकता है कि रोगी को फंगल, बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण तो नहीं है।

 

"गैस्ट्रिक रिफ्लक्स" की जांच -

इस जांच से यह पता चलता है कि रोगी के पेट का एसिड ग्रासनली में तो नहीं आ रहा अर्थात उसे गर्ड (GERD) तो नहीं है।

 

मनोदशा की जांच -

कुछ प्रश्नावलियां दी जाती हैं ताकि रोगी के जवाब से पता लगाया जा सके कि कहीं उसको अवसाद (डिप्रेशन), चिंता या कोई अन्य मानसिक परेशानी तो नहीं है।

 

मुंह में जलन (बर्निंग माउथ सिंड्रोम) से बचाव के उपाय-

पोषक तत्त्वों की कमी को पूरा करें-

चिकित्सकोंके अनुसार यह सिंड्रोम ज्यादातर लोगों को शरीर में पोषक तत्त्वों की कमी जैसे विटामिन बी6, बी12, बी1 आदि की कमी की वजह से होता है। साथ ही जिन लोगों में आयरन की कमी होती है, उनमें भी मुंह में जलन होने की समस्या होती है। ऐसे में उनखाद्य पदार्थ खाएं जिनसे यह कमी पूरी हो सके।इन खाद्य पदार्थों में दही, दूध, सोया, चीज़, पिस्ता, बीन्स आदि शामिल हैं। इसके अलावा कुछ मल्टीविटामिन सप्लीमेंट खाना भी इस परेशानी में फायदेमंद होता है।

 

तंबाकू को न कहें-

तंबाकू के उत्पादों का सेवन करने से मुंह अंदर से छिल जाता है। जिस वजह से कुछ भी खाने पर मुंह में जलन होती है। जो लोग लंबे समय से तंबाकू औरपान मसाला आदि का सेवन कर रहे हैं। उनमें यह परेशानी और गंभीर हो जाती है। क्योंकि लंबे समय तक तंबाकू खाने से मुंह में घाव हो जाते हैं। जिस वजह से मुंह में जलन ज़्यादा होती है। इसलिए तंबाकू की लत छोड़कर इस परेशानी से बचा जा सकता है।

 

संतुलित डाइट लें-

डाइट में विटामिन बी कॉम्लेक्स और आयरन को शामिल करके डाइट को संतुलित बनाएं। इससेमुंह में जलनहोने वाली परेशानी से निजात मिलती है। क्योंकि हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाने से तनाव जैसीदिक्कतेनहीं होती। जो मुंह में जलन का एक अहम कारण होता है। इस प्रकार हेल्दी लाइफस्टाइल अपनानेतनाव दूर होता हैऔर मुंह कीजलन से निजात मिलती है।

 

अधिक पानी पिएं-

जितना ज़्यादा हो पानी पिएं।इससे संक्रमण होने का खतरा दूर होता है। इसके अलावा पानी पीने सेपेट की गर्मी दूर होती है और लार भी अधिक बनती है। लार अधिक बनने पर मुंह नहीं सूखता और मुंह में जलन की समस्या काम होती है। अतः मुंह में जलन होने की समस्या सेराहत मिलती है।

 

एल्कोहल के सेवन से बचें-

शराब का सेवन करने से शरीर में गर्मी उत्पन्न होती है।  जिस कारण मुंह में जलन की समस्या और अधिक बढ़ सकती है। इसलिए मुंह में जलन होने पर एल्कोहल का सेवन न करना फायदेमंद होता है।

 

तनाव में न रहें-

चिंता, तनाव और अवसाद भी मुंह में जलन की समस्या का एक मुख्य कारण है। इसलिए इससे बचने के लिए तनाव और चिंता को खुद से दूर रखें।

 

मिर्च मसालों से बचें-

ऐसा खाना जिसमें ज्यादा मसाला हो उससे बचें। क्योंकिऐसा खाना भी मुंह में जलन का कारण बनता है। चूंकि बर्निंग माउथ सिंड्रोम एक दर्द भरा डिसऑर्डर है। इसमें कुछ भी खाने पर मुंह में तेज जलन होती है। इसलिएइसके लक्षण दिखाई देने पर डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करना चाहिए।

Read More
Know the Causes, Symptoms and Home remedies for Dry mouth

Posted 08 December, 2021

Know the Causes, Symptoms and Home remedies for Dry mouth

Dry mouth due to thirst is common but frequent and persistent dryness of the mouth indicates some problem of the body. Generally, the scientific reason for dry mouth is the slowing down of saliva production in the mouth. The main reason for this is lack of water in the body, being hungry and lack of fluoride in the water, etc. All these symptoms point towards dry mouth. According to experts, almost every sixth person is facing this problem nowadays. Therefore, it should not be ignored as a common problem.

 

The problem of dry mouth is known as Xerostomia in the medical language. When the salivary glands in the mouth stop producing saliva, dry mouth occurs in this condition. This saliva produced in the mouth eliminates the acid made by the bacteria of the teeth due to which there are no insects in the teeth and saliva helps in easy chewing and swallowing of food. Therefore, if there is a problem of dry mouth, then the person also has difficulty in eating food.

 

Symptoms of dry mouth

  • Dryness in the mouth and throat.
  • Thickening of saliva.
  • Bad breath.
  • Difficulty in chewing and swallowing food.
  • Loss of taste or discoloration of food.
  • Lack of desire to eat.
  • Frequent worms in the teeth.
  • Itching of gums and related disorders.

Causes of Dry mouth

There are many reasons behind dry mouth. The main reasons for which are as follows-

 

Side effect of certain medicines-

When we are sick, doctors give us some medicines that help us to recover but at the same time, these medicines also have some side effects due to which the chances of having many physical problems like dry mouth increase. Apart from this, if you take some common medicines without consulting a doctor, then the problem of dry mouth is more than that. Medicines that cure allergies, depression, anxiety, medicines to cure nerve and muscle pain, etc. cause dry mouth.

 

Growing old-

One of the biggest causes of dry mouth is also ageing. This problem is mostly seen in the elderly as they use more medicines which can lead to dry mouth.

 

Damage to nerves-

Nerve damage is caused by injury or surgery to any part of a person's head or neck due to which the problem of dry mouth can arise.

 

Cancer therapy-

Chemotherapy drugs can change the type and amount of saliva produced. Apart from this, treatment with radiation causes damage to the salivary glands present in the neck and head due to which the amount of saliva is reduced.

 

Smoking and tobacco use-

The problem of dry mouth arises due to smoking and the consumption of tobacco.

 

Methamphetamine-

It is a kind of drug due to which the symptoms of dry mouth are seen. This state is also called meth mouth.

 

Other causes of dry mouth are-

  • If there is any kind of disturbance in the stomach.
  • Having an irregular routine. Waking up late at night or falling asleep for several days.
  • Injury to the nerves that produce saliva.
  • If there is any kind of infection and tumour in the body.
  • Having health problems such as autoimmune problems, diabetes, Parkinson's disease, AIDS and Alzheimer's disease.

Take These Precautions to avoid Dry mouth

  • Drink more fluids.
  • Include fresh fruits and vegetables in your diet.
  • Consume such fruits and vegetables in which water content is high like watermelon, cucumber, etc.
  • Minimize the consumption of tea and coffee.
  • Maintain oral health.
  • Brush your teeth thoroughly after meals.
  • Chew the food and drink a small amount of water in between.
  • Stay away from anxiety, stress and depression.
  • Do not smoke, use tobacco and drugs at all.
  • Walk daily in the morning and exercise regularly.

Home remedies for Dry mouth

Red chilli is beneficial in the treatment of dry mouth-

Cayenne pepper is a good home remedy for dry mouth. Therefore, it is beneficial to consume red chilli powder by adding it to soup or salad. Apart from this, apply red chili powder on the tongue through the finger. By doing this the tongue burns for some time but the salivary glands get activated.

 

Fennel is beneficial-

The consumption of fennel is good for dry mouth as flavonoids are found in fennel, which helps in the production of saliva. For this, boil a spoonful of fennel and sugar candy in a glass of water. Let it cool and drink it.

 

Lemon and honey are effective-

Lemon and honey are considered effective remedies in the treatment of dry mouth. For this, take a few drops of lemon juice and a spoonful of honey in a glass of water and mix it well. Now drink this mixture in small amounts throughout the day. By doing this, saliva is formed in the mouth and the mouth does not dry out.

 

Ginger is beneficial-

Ginger is beneficial for dry mouth. According to scientific research done on this, ginger is used to relieve the symptoms of xerostomia. It mainly contains Zingiber officinale, which stimulates the production of saliva. This reduces the problem of dry mouth to some extent. For this, chew a small piece of ginger in the mouth.

 

Cinnamon is effective-

Cinnamon has the ability to produce saliva. Therefore, using it gets rid of the problem of dryness of the mouth. For this, chew a piece of cinnamon by keeping it in your mouth.

 

Baking soda mixture is beneficial-

The use of baking soda is considered a good remedy in the treatment of dry mouth. For this, mix one-fourth teaspoon of baking soda, one teaspoon each of salt and sugar and a few drops of lemon juice in a glass of water and drink it.

Read More
क्यों आता है मसूड़ों से खून? जानें इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

क्यों आता है मसूड़ों से खून? जानें इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

मसूड़ों से खून आना मसूड़ों से जुड़े रोगों से ग्रसित होने का सबसे आम संकेत होता है। जो अन्य भी कई स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत देता है। कभी-कभी मसूड़ों में खून आने की समस्या तेजरगड़ के साथ ब्रश करने या ठीक से फिट न होने वाले डेंचर (कृत्रिम दांत) पहनने से भी होती है। इसके अलावा मसूड़ों से बार-बार खून आना कई गंभीर परिस्थियों के कारण भी हो सकता है।जिसमें पेरियोडॉनटाइटिस (Periodontitis: मसूड़ों के रोग का एक एडवांस रूप) विटामिन की कमी, प्लेटलेट में कमी, गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन आदि शामिल हैं। हालांकि, मसूड़ों में से थोड़ा बहुत खून निकलना कोई बड़ी बात नहीं है।लेकिन यदि किसी व्यक्ति के मसूड़ों से लगातार या ज्यादा खून निकल रहा है, तो उसे बिलकुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

 

मसूड़ों से खून आने के लक्षण -

  • मसूड़े फूलना।
  • मुंह और मसूड़ों के आस-पास दर्द होना।
  • गहरे लाल या लाल-बैंगनी मसूड़े होना।
  • मसूड़ों में सिर्फ छूने पर ही दर्द होना।
  • मसूड़ों और दांतों के बीच दूरी बढ़ जाना।
  • मुंह की बदबू या मुंह का स्वाद बिगड़ना।
  • दांतों का ढ़ीला होना (दांत हिलना) आदि।

मसूड़ों से खून आने के कारण -

विटामिन-सी की कमी-

 

जब किसी व्यक्ति के आहार में पर्याप्त फल और सब्जियां शामिल नहीं होती तो उसके शरीर में विटामिन-सी की कमी होने लगती है। यह मसूड़ों में दर्द और सूजन पैदा करते हैं।जिस कारण से मसूड़ों से खून बहने लगता है।

 

लिवर के रोग-

 

लिवर की किसी भी प्रकार की बीमारी और शराब के कारण होने वाला रोग लिवर के कार्यों में बाधा डालते हैं। जिससे मसूड़ों में खून आता है। 

 

कैंसर-

 

कुछ कैंसर के प्रकार जैसे ल्यूकेमिया (Leukaemia / ब्लड कैंसर) या अस्थि मज्जा कैंसर के कारण भी मसूड़ों से खून बहने लगता है।

 

विटामिन K की कमी-

 

विटामिन K शरीर में क्लोटिंग प्रक्रिया के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व होता है। इसलिए जब शरीर में विटामिन K की कमी होती है, तो शरीर के किसी भी जगह से खून बहने की प्रवृत्ति बढ़ जाती है।जिसमें मसूड़े भी शामिल हैं।

 

महिलाओं में हार्मोनल परिवर्तन-

 

यह गर्भावस्था के दौरान होता है। आमतौर पर यह गर्भावस्था के दूसरे महीने या तीसरे महीने में शुरू हो जाता है और आठवें महीने तक रहता है। इसके कारण से मसूड़ों में पीड़ा, सूजन औरखून बहता है। मुंह द्वारा ली जाने वाले कुछ बर्थ कंट्रोल प्रोडक्ट्स भी मसूड़ों में खून का कारण बन सकते हैं।

 

मुंह की स्वच्छ न रखना-

 

मसूड़ों में सूजन आने पर उनसे खून निकलता है। और यह तब होता है जब लोग अपने दांतों को साफ नहीं रख पाते। इससे मसूड़ों में समस्याएं होने लगती हैं और वह लाल हो जाते हैं। परिणामस्वरूपउनमें सूजन व दर्द होने लगता है। जिससे उनमें से खून बहने लगता है।

 

टेढ़े दांत-

 

टेढ़े दांतों को साफ करने में बहुत मुश्किल होती है।क्योंकि इनमें दो दांतों के बीच भोजन फंसा रहता है। इससे मसूड़ों में सूजन आ जाती है और खून बहने लगता है।

 

मसूड़ों में चोट-

 

यह अधिक दबाव के साथ ब्रश करने, अधिक कठोर बालों वाले ब्रश का इस्तेमाल करने या दातुन (नीम आदि के दातुन) से भी अधिक जोर से मसूड़ों को रगड़ने पर होता है। इसमें मसूड़े जख्मी हो जाते हैं।

 

दवाएं-

 

कुछ प्रकार की दवाएं, जिसमें- दिल का दौरा और स्ट्रोक के लिए दी जाने वाली दवाएं (एस्पिरिन), मिर्गी के लिए दी गई दवाएं, कैंसर के दी गई दवाओं का प्रयोग करने एवं कीमोथेरेपी के बाद भी मसूड़ों सेखून आने लगता है।

 

मसूड़ों से खून आने से बचाव के उपाय-

  • डेन्टिस्ट को दिखाएं।
  • अपने टूथब्रश की जांच करें।
  • अच्छे व संतुलित भोजन का सेवन करें।
  • खूब पानी पिएं।
  • अधिकगर्म या ठंडे खाद्य और पेय पदार्थों के प्रति सतर्क रहें।
  • तंबाकू उत्पादों का सेवन न करें।

मसूड़ों से खून आने के घरेलू उपाय

नारियल का तेल-

 

नारियल के तेल में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। जो मसूड़ों कीसूजन और खून बहने की समस्या से छुटकारा दिलाते हैं। इस तेल में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल गुण दांतों को साफ रखते हैं। इसे इस्तेमाल करने के लिए नारियल के तेल को 10 से 15 मिनट तक मुंह में घुमाते रहें। ऐसा रोजाना दिन में एक बार ज़रूर करें।

 

लौंग का तेल-

 

लौंग का तेल एंटी-बैक्टीरियल गुणों के भरपूर होता है। और यह एंटी-बैक्टीरियल गुण मसूड़ों से खून बहने की समस्या के खिलाफ बेहद फायदेमंद साबित होते हैं। ऐसे में लौंग के तेल की कुछ बूंदें लें और इसे थोड़ा गर्म करें।  फिर इस गर्म लौंग के तेल को मसूड़ों पर दिन में 2 बार लगाएं। इसे मसूड़ों पर लगभग 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें।

 

नमक का पानी-

 

नमक के पानी का नियमित इस्तेमाल मसूड़ों से खून बहने के प्रभावी घरेलू उपचार में से एक है। क्योंकि नमक में एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। जो मसूड़ों में सूजन और संक्रमण को कम करने में उपयोगी होते हैं। उपयोग हेतु नमक की कुछ मात्रा में थोड़ा गर्म पानी मिलाएं और इससे कुल्ला करें। बेहतर नतीजों के लिए दिन में लगभग 2-3 बार ऐसा करें।

 

विटामिन-

 

मसूड़ों से खून आने का एक कारण शरीर में विटामिन की कमी भी है। इसलिए विटामिन की सही खुराक का सेवन करके इसे रोका जा सकता है। इसके लिए ऐसे खाद्य पदार्थों को अपने आहार में ज्यादा शामिल करना चाहिए, जो विटामिन सी और विटामिन-के से भरपूर होते हैं। अतः नीबू, आंवला, संतरे, गाजर का सेवन इसमें लाभकारी होगा।

 

शहद-

 

शहद एंटी-बैक्टीरियल है।जिसमें मसूड़ों में सूजन और खून आने जैसे बैक्टीरियल संक्रमण से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। शहद में मसूड़ों की सूजन को कम करने वाले एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण भी होते हैं। अत:इस्तेमाल करने के लिए उंगुली में थोड़ा सा शहद लें और फिर इससे हल्के-हल्के मसूड़ों की मसाज करें। ऐसा कम से कम दिन में दो बार करें।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • मसूड़ों में लंबे समय से और गंभीर रूप से खून निकलने पर।
  • उपचार के बाद भी खून का बन्द न होने पर।
Read More
What is Canker Sore? Know its Symptoms, Causes and Home remedies

Posted 13 December, 2021

What is Canker Sore? Know its Symptoms, Causes and Home remedies

Having blisters in the mouth is not a big deal but if a person has blisters in the mouth repeatedly or for several days, then it indicates many health problems including oral health. Therefore, apart from the body, it is also important to keep the mouth healthy. If a person has blisters in the mouth, then its direct effect starts on eating and drinking especially if there is a problem of a canker sore. Due to canker, the person has difficulty in eating, drinking or talking. It is extremely difficult and painful for a person to drink even a sip of water because it is very painful. Canker sores are often caused by increased body heat which appears as wounds. It should not be ignored at all.

 

What are Canker Sores?

Canker Sore is a sore on the soft tissues and gums of the mouth which is also called aphthous ulcers. These are yellow or white in colour and round or oval in which a red border is made on the edges of the wound. These occur on the inside of the cheek, around the tongue or gums. More pain is felt when there is a canker sore which leads to trouble in eating, drinking and speaking. Most canker sores heal in 1 to 2 weeks but when this wound gets bigger then it should not be ignored at all and immediately contact the doctor.

 

Types of Canker Sores

Minor Canker sore-

This is a common type of canker sore in which the size of mouth sores or ulcers ranges from 2 millimeters to 8 millimeters. Its wounds heal in one to two weeks without leaving any scars.

 

Major Canker sore-

This type of canker sore is a little more painful than a minor canker sore. Severe canker sores are larger and deeper in size than minor canker sores. Also, this wound lasts for a few weeks. When they heal, there may be scars on the face.

 

Herpetiform Canker sores-

This type of canker sore is very serious and painful. Its size is about 1 centimeter and occurs in clusters of 10 to 100 lesions. A person suffering from this type of canker sore has to face a lot of pain. Also, this pain is not less than any medicine or cream etc.

 

Other Risk Symptoms of Canker sores-

The symptoms of canker sore are classified above on the basis of its type but there are some risk symptoms as well. Let us know about these other serious symptoms. These are-

 
  • Inflammation of the lymph nodes.
  • Unbearable pain in the inner parts of the mouth.
  • The appearance of shallow sores on the lining of the mouth.
  • Feeling trembling when canker emerges.
  • Having a fever.
  • Getting rashes.
  • Having a severe headache.

Causes of Canker Sore

No scientific reasoning has been given so far behind the occurrence of canker sore but according to the researchers, some of the causes of canker sore are given below-

 
  • A Canker sore is caused by a viral infection in the mouth. The recurrence of canker sore is known as recurrent oral aphthous ulcers.
  • A canker sore can also be caused by weak immunity, inflammatory bowel disease, immune system problems, stress, anxiety or depression.
  • Any type of liver disease and disease caused by alcohol obstructs the functions of the liver due to which ulcers appear in the mouth.
  • If a person has an upset stomach, he is more likely to get a canker sore. Therefore, such a person should adopt a healthy diet.
  • If a person consumes tobacco in large quantities. The chances of getting canker sore in such people are also very high.
  • A canker sore can also be caused by changes in hormones.
  • Sometimes the problem of canker sore is also seen in people who are undergoing dental treatment.
  • The problem of canker sore is caused due to deficiency of folic acid, iron, vitamin B12 and zinc in the body.
  • Sometimes genetic history is the reason behind the occurrence of a canker sore.

Home remedies for Canker Sore

Fibre-rich food-

The main reason for most canker sores i.e. mouth ulcers is the imbalance or disruption of the digestive system. Therefore, to fix the digestive system, fibre rich food should be consumed. Non-vegetarian food should not be consumed during canker sore. You should consume more fruits, vegetables and whole grains.

 

Gargle with lukewarm salted water-

Gargling with lukewarm saltwater is beneficial in the case of a canker sore. Gargling provides relief in canker sore swelling and pain. Apart from this, by adding baking soda or alum in hot water and compressing the affected area, the problem of canker sore reduces.

 

Cold compress with Ice-

Apply ice cubes on the affected area about three to four times a day. Doing this provides quick relief from both pain and swelling.

 

Basil is beneficial-

Basil leaves work effectively on wounds. Its leaves provide relief from ulcers as well as prevent them from re-emerging. So to get rid of wounds, chew 4-5 basil leaves daily.

 

Turmeric-

Turmeric is an effective natural remedy for canker sore relief because it is rich in antiseptic and anti-inflammatory properties. For this, mix turmeric powder with water and make a paste and apply it to the wounds. Apart from this, mixing glycerin in turmeric paste and applying it on wounds is also beneficial.

 

Honey-

Honey has anti-bacterial and anti-inflammatory properties that kill bacteria. It also helps in relieving pain and inflammation. According to a report published in the year 2016, honey eliminates the pain of mouth ulcers as well as scarring. Therefore, apply honey regularly to the affected area at least 4 times daily.

 

Garlic-

Garlic is rich in antibiotic properties. It helps in curing canker sores. For this, make a paste by taking 4-5 garlic buds and apply it to the affected places. Wash it off with clean water after about 10-15 minutes. By doing this, both pain and swelling are relieved.

 

Aloe vera gel-

Apart from anti-inflammatory properties, aloe vera has many such properties which help in eliminating canker sores along with relieving pain. For this, apply aloe vera gel to the places with canker sores.

 

Coconut oil-

According to research, coconut oil also proves effective in getting rid of mouth canker sores or sores because it has anti-microbial and anti-inflammatory properties which also relieves the pain of wounds. For this, apply coconut oil 2-3 times a day on the canker sore areas.

 

Ways to prevent Canker Sores

  • Maintain oral health.
  • Avoid anxiety, stress and depression.
  • Eat a good and balanced diet.
  • Drink plenty of fluids and water.
  • Avoid foods that cause irritation to the mouth.
  • Avoid citrus fruits, acidic vegetables, and overly spicy foods.
  • Do not consume tobacco products.
  • Avoid smoking and consumption of alcohol.
  • Avoid consumption of fried and junk food.
  • Chew the food and eat it.
  • Do not talk to anyone while chewing food.
  • Do not drink water while eating.

When to go to the Doctor?

Sores that occur frequently or lasts long may be a sign of an underlying disease. Therefore, it is essential to see a dentist if you face the following problems-

 
  • Have unusually large sores.
  • Sores that spread rapidly in the mouth.
  • Sores that lasts for 3 weeks or more.
  • Extreme pain despite avoiding trigger foods and taking pain relievers.
  • Trouble drinking enough fluids.
  • High fever with canker sores.
Read More
क्या हैं टॉन्सिलाइटिस के कारण लक्षण और निदान

Posted 24 May, 2022

क्या हैं टॉन्सिलाइटिस के कारण लक्षण और निदान

मौसम में बदलाव होते ही लोगों को गले में दर्द एवं खराश की शिकायत होने लगती हैं। यह शिकायत अक्सर गले में इंफेक्शन के कारण होती है। जिसके बढ़ने पर गले में टॉन्सिल नामक बीमारी का खतरा होने लगता है। यह इंफेक्शन किसी भी व्यक्ति को हो सकता है। यह एक सामान्य संक्रमण है। लेकिल बदलते मौसम का संकेत मानकर इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इससे पीड़ित व्यक्ति को खाने, पीने और निगलने में असुविधा होती है।

 

टॉन्सिलाइटिस क्या है?

टॉन्सिल शरीर का लसीका प्रणाली (Lymphatic System) का अंग हैं। जो गले के दोनों तरफ एवं जीभ के पीछे रहता है। जहां मुंह और नाक की ग्रंथियां मिलती हैं। यह ग्रंथियां शरीर में संक्रमण के कारण बनने वाले बैक्टीरिया को अंदर जाने से रोकती हैं। इस प्रकार से टॉन्सिल शरीर के रक्षा-तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

 

जब टॉन्सिल्स में किसी भी तरह का संक्रमण होता है। जिससे टॉन्सिल के आकार में बदलाव और सूजन होने लगती है। तब इसे अंग्रेजी में टॉन्सिलाइटिस (Tonsillitis) एवं हिंदी में गालगुटिका शोथ कहा जाता हैं। वैसे टॉन्सिलाइटिस किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। लेकिन ज्यादातर यह छोटे बच्चों से लेकर किशोरावस्था (5-15 साल तक) के लोगों में देखने को मिलता है।

 

टॉन्सिलाइटिस के लक्षण

  • गले में असहनीय दर्द का महसूस होना।
  • निगलने में अधिक तकलीफ होना।
  • गले की सूजी हुई लसीका ग्रंथि का दिखाई देना।
  • तेज बुखार का आना।
  • गले का लगातार सूखना।
  • जबड़े एवं गर्दन में दर्द होना।
  • सिर में दर्द होना।
  • कान के निचले हिस्से में दर्द होना।
  • अधिक थकान, कमजोरी और चिड़चिड़ापन महसूस करना।
  • टॉन्सिल पर सफ़ेद निशान का दिखाई देना।
  • दो सप्ताह से भी अधिक समय तक आवाज में भारीपन रहना।

क्या होते हैं टॉन्सिलाइटिस के कारण?

टॉन्सिलाइटिस होने के मुख्य दो कारण हैं। पहला जीवाणु (Bacteria) द्वारा और दूसरा विषाणु (virus) द्वारा। इसके अलावा अन्य कारण भी होते हैं। आइए चर्चा करते हैं इन्हीं कारणों के बारे में;

 
  • वायरल इन्फेक्शन (कॉमन कोल्ड) की वजह से।
  • चिल्लाने या आवाज़ दबाने से।
  • रासायनिक धुएं या वायु प्रदूषण में सांस लेने से।
  • काली खांसी और इन्फ्लूएंजा होने पर।
  • किसी पदार्थ से एलर्जी होने पर।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर।
  • गले में नमी के कम होने पर।
  • अधिक ठंडी चीजों जैसे आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक आदि का सेवन करने पर।
  • स्ट्रेपकोकस नामक जीवाणु का शरीर में प्रवेश करने पर।
  • अधिक धूम्रपान करने पर।

टॉन्सिल्स के प्रकार?

एक्यूट टॉन्सिल

इस प्रकार के टॉन्सिल में सूजन आ जाती है। यह मुख्य रूप से गले में इंफेक्शन के कारण होता है। यह फैरिंक्स यानी जीभ के पीछे के भाग (गले के एक हिस्से) को प्रभावित करता है। यह ज्यादातर युवाओं में देखने को मिलता है ।

 

रिकरेंट टॉन्सिल

टॉन्सिल की यह समस्या छोटे बच्चों में देखने को मिलती हैं। जिसे एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग से ठीक किया जाता है। कुछ बच्चों में यह समस्या बार-बार उत्पन्न होने लगती है।

 

क्रोनिक टॉन्सिल

यह टॉन्सिल का गंभीर रूप है। इससे पीड़ित व्यक्ति के गले में टॉन्सिल स्टोन (एक प्रकार का चिकना पदार्थ) बनने लगते हैं।

 

पेरिटॉन्सिलर एब्सेस

यह भी टॉन्सिल का ही प्रकार है। जो सिर और गर्दन में अधिक संक्रमण होने की वजह से होता है। इस प्रकार का टॉन्सिल भी युवाओं में अधिक देखने को मिलते हैं।

 

टॉन्सिलाइटिस होने पर ध्यान रखें यह बातें

  • धूम्रपान करने से बचें।
  • नमक वाले गुनगुने पानी से गरारे करें।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • कफवर्धक पदार्थों जैसे दही, बर्फ का पानी, ठंडा दूध, आइसक्रीम, चावल आदि का बिल्कुल सेवन न करें।
  • बासी भोजन, जंक फूड के सेवन से बचें।
  • किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचने के लिए भोजन करने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • छींकने और खांसने के बाद या शौचालय से आने के बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • तैलीय एवं वसायुक्त भोजन के सेवन से बचें।
  • संक्रामक एवं प्रदूषित वातावरण में जाने से बचें।

टॉन्सिलाइटिस के घरेलू उपचार

  • गले के दर्द और गले से संबंधित किसी भी प्रकार के संक्रमण से राहत पाने के लिए चाय और सूप जैसे गर्म तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी डालकर सेवन करने से संक्रमण से बचाव होता हैं। क्योंकि हल्दी में संक्रमण को दूर करने की क्षमता होती है।
  • लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो गले के संक्रमण को दूर करने में मदद करते हैं। इसके लिए लहसुन की 2 से 3 कलियों को अपने दांतों के बीच रखकर चूसने से फायदा होता है।
  • फिटकरी के पाउडर को पानी में उबालकर गरारे करने से टॉन्सिलाइटिस में आराम मिलता हैं।
  • अदरक में एंटीबैक्टीरियल गुण पाया जाता है। जो गले की सूजन और दर्द को दूर करता है। इसलिए किसी भी रूप में अदरक का इस्तेमाल करना गले के संक्रमण हेतु फायदेमंद होता है।
  • तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो बदलते मौसम में शरीर को होने वाली दिक्कतों से बचाने का काम करते हैं। तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को भी बढ़ाती है।
  • एक कप पानी में नीम की 4-5 पत्तियों को उबालकर पीना, गले के लिए काफी फायदेमंद होता है।
  • गले में इंफेक्शन हेतु काली मिर्च से बनी चाय का सेवन करना अच्छा होता है। क्योंकि काली मिर्च में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है। जो एक प्राकृतिक दर्द निवारक होता है। जो गले की खराश और दर्द में राहत दिलाता है।
  • टॉन्सिल के घरेलू इलाज में से एक मेथी के बीज भी है। क्योंकि मेथी के बीज में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीवायरल गुण मौजूद होते हैं। जो टॉन्सिल में संक्रमण उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करते हैं।
  • जायफल और बरगामोट के तेल में कैफीन होता है। जिसका ठंडा, सुखदायक और ताजा प्रभाव ट्रॉन्सलाइटिस में आराम दिलाता है। इसलिए गले से संबंधित कोई परेशानी होने पर जायफल या बरगामोट तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • शहद युक्त मिश्रित चाय शुष्क गले के लिए अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। क्योंकि यह गले की परेशानी को कम करने में मदद करती है। इसलिए गले में खराश और खांसी होने पर यह चाय (शहद युक्त मिश्रित चाय) कारगर साबित होती है।
  • अंजीर टॉन्सिल के लिए अच्छा होता है। क्योंकि इसमें फेनोलिक यौगिक मौजूदगी के कारण यह एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों को प्रदर्शित करता हैं। जो गले के अंदर की सूजन को कम करने में सहायक होता हैं। इसके लिए अंजीर को पानी में उबालकर पेस्ट बनाकर गले में लगाएं।
  • सेब का सिरका गले का दर्द और खांसी के लिए अच्छी दवाओं में से एक है। क्योंकि इसमें एसिटिक एसिड होता है। जिसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है। जो बैक्टीरिया और वायरस संक्रमण से लड़ता है।
  • कैमोमाइल में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल गुण होते है। जो टॉन्सिल के कारण होने वाली सूजन और दर्द में मदद करते हैं। इसलिए कैमोमाइल चाय को घरेलू उपचार के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सकता है।
  • गले में टॉन्सिल का इलाज के लिए पुदीने की चाय बेहतर विकल्प है। दरअसल, टॉन्सिल का एक कारण मुंह का संक्रमण भी हो सकता है। वहीं, पुदीने में मौजूद एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल गुण इस संक्रमण को रोकने में सहायक होते हैं।
Read More
मुंह में छाले होने के कारण, सावधानियां और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

मुंह में छाले होने के कारण, सावधानियां और घरेलू उपाय

मुंह में छाले होने यह एक आम समस्या है। यह छाले मुंह के अंदर गाल पर, जीभ पर या होठों पर कहीं भी हो सकते हैं। जिसकी वजह से हम न तो ठीक से खा पाते हैं और न ही बोल पाते हैं। कभी-कभी इन छालों से खून भी आने लगता है। यह छाले सफेद या लाल घाव की तरह दिखाई देते हैं। देखने में यह समस्या बड़ी नहीं लगती लेकिन ठीक समय पर इसका इलाज न कराने पर यह मुंह के कैंसर का कारण बन जाती है।

 

माउथ अल्सर (छालों) का कारण;

 
  • बोलते या खाते वक्त होठ, गाल या जीभ के कट जाने से उस जगह पर छाला बन जाता है।
  • ज्यादा गर्म चीज खाने या पीने से मुंह जल जाता है, जो कुछ समय बाद वह छाले का रूप ले लेता है।
  • अधिक मसालेदार या तीखा खाना खाने पर।
  • टूथब्रश करते वक्त मुंह में चोट लगने पर।
  • पाचन तंत्र एवं पेट ठीक न रहने पर।
  • अधिक तेल वाला खाना खाने पर
  • महिलाओं में पीरियड्स के समय होने वाले हार्मोंस परिवर्तन के कारण भी छाले हो जाते हैं।
  • कुछ लोगों को किसी विशेष खाद्य पदार्थ से एलर्जी होती है, इन पदार्थों का सेवन करने से भी उनको छाले की समस्या हो जाती है।

छालों से बचने के लिए बरतनी होंगी ये सावधानियां;

 
  • अधिक चटपटा (तीखा) खाने से दूरी बनायें।
  • मुंह की अच्छे से सफाई करें।
  • दांतों को साफ करने के लिए नरम या मुलायम टूथब्रश का इस्तेमाल करें।
  • विटामिन-सी घाव को जल्दी भरने का काम करता है। इसलिए विटामिन-सी वाले फल एवं सब्जियों का अधिक उपभोग करें।
  • ज्यादा च्युइंगम न चबाएं।
  • शरीर में विटामिन-बी की कमी होने से भी मुंह में छाले होते हैं। इसलिए दूध युक्त पदार्थ जैसे- पनीर, दही, मक्खन का अधिक सेवन करें।
  • शरीर में पानी की कमी न होने दें।
  • खाने के साथ सलाद के रूम में कच्चा प्याज जरूर लें।
  • चाय के स्थान पर ग्रीन-टी का इस्तेमाल करें।

 मुंह के छाले ठीक करने के घरेलू उपाय;

 
  • नीम के पत्तों को उबालकर उस पानी में लहसुन के रस को मिलाकर, गरारे करने से मुंह में छाले जल्द ठीक होते हैं।
  • हल्दी के पेस्ट को छालों के लिए अच्छा माना जाता है। क्योंकि इसमें एंटीसेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो घाव को जल्दी भरते हैं।
  • बबूल की छाल के काढ़े से कुल्ला करने से भी छाले ठीक होते हैं।
  • लौंग का तेल छालों के लिए फायदेमंद होता है।
  • सुहागे को तवे पर फुलाकर उसकों शहद के साथ छालों पर लगाने से छाले ठीक होते हैं।
  • चमेली और अमरूद के चार-पांच पत्तों को एक साथ चबाएं और उससे बनने वाले पानी को मुंह से बाहर निकाल दें। कुछ दिन लगातार ऐसा करने से छाले ठीक होने लगेंगे।
  • मुलेठी के काढ़े से गरारे करने से भी छालें ठीक होते हैं।
  • छाले होने पर तुलसी के पत्तों को दिन में 2-3 बार चबाएं, छाले जल्दी ठीक होंगे।
  • कत्था छाले को ठीक करने में फायदेमंद है। इसको अमरूद के पत्तों पर लगाकर चबाना चाहिए।
  • शहद को नींबू पानी में डालकर, उससे कुल्ला करने से भी छालों पर आराम लगता है।
  • एक कप या छोटी कटोरी पानी में एक चम्मच धनिया पाउडर डालकर उबाल लें। ठंडा होने के बाद इससे दिन में 2-3 बार कुल्ला करने से छाले ठीक होने लगेंगे।
  • जामुन के काढ़े से गरारे करने से भी छाले जल्दी ठीक होते हैं।
  • छालों को ठीक करने में इलायची और शहद का पेस्ट लाभकारी है। इसको दिन में 2-3 बार छालों पर लगाना चाहिए।

कब जाएं डॉक्टर के पास ?

 
  • लंबे समय तक छालें रहने पर।
  • छालों से खून आने पर।
  • घाव के बढ़ जाने पर।
  • यदि छालों के कारण आपकों खाने-पीने या बोलने में अधिक परेशानी हो रही है तो ऐसे में आपको डॉक्टर के पास तुरंत जाना चाहिए।
Read More
मुंह से बदबू आने के कारण, सावधानियां और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

मुंह से बदबू आने के कारण, सावधानियां और घरेलू उपाय

अक्सर आपने महसूस किया होगा कि कुछ लोगों से बात करते वक्त उनके मुंह से बदबू आती है। जिसकी वजह से वे लोग न तो ठीक से बात कर पाते हैं और न ही खुल कर हंस पाते हैं। क्योंकि जब भी आप किसी से बात करते हैं या हसंते हैं तो मुंह से सांस बाहर निकलती है, जिससे आपके मुहं की बदबू का सामने वाले को पता चल जाता है।

 

मुंह से बदबू आना, एक ऐसी आम समस्या है जिससे लोग परेशान तो रहते हैं पर इसका इलाज नहीं कराते या फिर उनको इसके बारे सही जानकारी नहीं होती। इसके अतिरिक्त कुछ लोग अपना मजाक बनने के डर से भी इस समस्या का इलाज नहीं कराते। आमतौर पर यह समस्या उन लोगों को होती है, जो लोग अपने मुंह को ठीक से साफ नहीं करते और उसका अच्छे से ध्यान नहीं रखते हैं पर इसका ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि अन्य लोगों को ये समस्या नहीं होती या नहीं हो सकती।  बदबू आने के मुख्य रूप से तीन कारण होते हैं, ओरल, नॉन ओरल और अन्य कारण।

 

ओरल कारण-

 
  • मुंह का तापमान बढ़ने पर, बैक्टीरिया का विकास होता है। जिसकी वजह से इस तरह की समस्या पैदा होती है।
  • कुछ खाते वक्त दांतों में उसका रेशा ,तिनका फस जाने से मुंह में संक्रमण होकर उसमें बदबू आना शुरू हो जाती है। इसलिए जरूरी है मुंह को अच्छे से साफ करे ।
  • पायरिया रोग मसूड़ो पर प्रतिकुल प्रभाव (Counter effect) डालता है। इस वजह से भी बदबू आती है।
  • लार से मुंह में नमी रहती है और मुंह को साफ रखने में मदद मिलती है। सूखे हुए मुंह में मृत कोशिकाओं का जमाव होता रहता है। ये कोशिकाएं भी दुर्गन्ध पैदा करती हैं।
  • मुंह में घाव और छाले होने पर भी कभी-कभी बदबू आने लगती है।
  • दांतों में लगी कैप (टोपी) को ठीक से साफ न करने पर भी मुंह से बदबू आना स्वाभाविक है।

नॉन ओरल कारण-

 

कुछ बीमारियों के कारण भी मुंह से बदबू आती है। जैसे-

 
  • गुर्दे की बीमारी।
  • मधुमेह (Diabetes) से पीड़ित होने पर।
  • फेफड़ों की बीमारी।
  • नाक की बीमारी।
  • साइनस (Sinus) की समस्या।
  • फेफड़ों में बैक्टीरियल गतिविधियां होने पर।

मुंह की बदबू के अन्य कारण-

 
  • ऐसा भोजन करने से भी बदबू आती है, जिसमें अधिक मात्रा में प्याज, लहसुन और मसाले होते हैं। पर ये बदबू कुछ ही समय में खुद ही ठीक हो जाती है।
  • गुटखा, बीड़ी, सिगरेट जैसे तंबाकू उत्पादों का सेवन करना भी बदबू आने का बड़ा कारण है। इसके अतिरिक्त इनका सेवन करने से कैंसर होने के चांस भी बढ़ जाते हैं।

मुंह की बदबू से बचने के लिए बरतनी होंगी ये सावधानियां-

 
  • आवश्यकता के अनुसार पानी पीएं। धुम्रपान, तंबाकू और शराब का सेवन न करें।
  • कॉफी और चाय का सेवन कम करें।
  • नियमित रूप से ब्रश करें और कुछ खाने के बाद दांतों के बीच की सफाई करने के लिए कुल्ला करने की आदत डालें।
  • यदि संभव हो सके तो दिन में कम से कम एक बार दातून जरूर करें। क्योंकि दातून करने से मुंह की दुर्गन्ध दूर होती है साथ ही मसूड़ों को ताकत भी मिलती है।
  • अधिक मसाले वाला भोजन करने से बचें और जिस खाने में प्याज, लहसुन, अदरक, आदि की मात्रा ज्यादा हो उसका सेवन कम करें।
  • मीठा कम खाएं क्योंकि उससे दांतों में कीड़ा लगने का डर रहता है, जिसके बाद बदबू आने लगती है।
  • पाचन की समस्या होने से भी बदबू आती है। इसलिए जरूरी है खाने के बाद कुछ देर टहलने की आदत डालें।
  • च्युइंगम और मिठाई (चीनी मुक्त) का सेवन लार बनने में मदद करता है। इसलिए इन दोनों का उपभोग भी किया जा सकता है।
  • दांतों की जांच के लिए नियमित रूप से डेंटिस्ट के पास जाते रहें।

मुंह की बदबू दूर करने के घरेलू उपाय;

 
  • पुदीने के घोल से कुल्ला करने से मुंह की दुर्गन्ध व अन्य रोग ठीक हो जाते हैं।
  • अदरक के एक चम्मच रस को एक गिलास पानी में मिलाकर, उससे दिन में दो से तीन बार कुल्ला करने से मुंह की बदबू कम हो जाती है।
  • मुलेठी को दिन में दो से तीन बार चबाने से  बदबू नहीं आती।
  • गर्म पानी में नमक डालकर कुल्ला करने से भी मुंह की दुर्गन्ध कम होती है।
  • ग्रीन-टी पीने से मुंह की बदबू कम होती है। इसमें एंटी-बैक्टिरियल कंपोनेंट होते हैं, जो बदबू को दूर करते हैं।
  • अमरूद  के पत्ते को चबाने से भी मुंह की दुर्गन्ध कम होती है।
  • एक चम्मच सरसों के तेल में एक चुटकी नमक मिलाकर, उसको मसूड़ों पर मलने से मसूड़े स्वस्थ रहते हैं साथ ही  बदबू आने का खतरा भी कम रहता है।
  • सौंफ, इलायची, मुलेठी, भुना जीरा, धनिया आदि प्राकृतिक माउथ फ्रेशनर (Mouth Freshener) हैं, इन्हें खाने के बाद और अन्य समय पर चबाते रहें। इससे मुंह की बदबू कम होगी।
  • लौंग चबाने से भी  बदबू नहीं आती। इसके अलावा लौंग मुंह की अन्य समस्याओं में भी फायदा पहुंचाती है।
  • अनार के छिलके को पानी में उबालकर, उससे कुल्ला करने से भी मुंह की बदबू धीरे-धीरे कम होने लगती है।

मुंह से बदबू आने पर कब जाएं डॉक्टर के पास ?

 

यदि आपको मुंह से बदबू आने के साथ निम्न में से कोई भी दिक्कत होती है तो बिना देर करे डॉक्टर के पास जाएं।

 
  • मुंह की बदबू के साथ दांतों के गिरने पर।
  • बदबू के साथ मुंह से खून आने पर।
  • मसूड़ों में सूजन एवं दर्द महसूस होने पर।
  • बुखार होने पर।
  • जुकाम होने एवं नाक बहने पर।
  • बलगम वाली खांसी होने पर।
  • गले में छाले होने पर।
Read More
Mouth Ulcers: Causes, Symptoms, Prevention & Home Remedies

Posted 21 December, 2021

Mouth Ulcers: Causes, Symptoms, Prevention & Home Remedies

Mouth Ulcers are a common problem due to various reasons. These blisters can occur anywhere on the cheek, tongue, or the inner part of the lips. This creates a lot of trouble as we can neither eat properly nor speak. 

 

Sometimes, worsening of the mouth ulcers can also lead to bleeding from these ulcers. These blisters appear white or red. The problem of mouth ulcers might not seem to be a great issue, but if it is not treated at the right time, it becomes a cause of mouth cancer.

 

Causes of Mouth Ulcers

 
  • Blisters are formed due to the cuts on lips, cheeks, or tongue while speaking or eating.
  • Eating or drinking extremely hot food also becomes a reason for the formation of a blister.
  • Eating extremely spicy or oily food can also cause mouth ulcers.
  • Injury to the mouth while using a toothbrush.
  • Illnesses related to the digestive system or stomach.
  • In women, blisters also occur due to change in hormones during menstruation.
  • Some people are allergic to certain food items, which lead to mouth ulcers.

Precautions to avoid Mouth Ulcers

 
  • Do not eat overly spiced food.
  • Clean the mouth thoroughly at regular intervals.
  • Use a toothbrush with soft bristles to clean the teeth.
  • Vitamin-C works to heal the wound quickly. Therefore, intake of vitamin C-rich fruits and vegetables might help.
  • Do not chew too much-chewing gum.
  • Lack of vitamin-B in the body can also cause mouth ulcers. Therefore, eat more milk products like cheese, curd, butter.
  • Drink plenty of water so that the body does not lack water.
  • Take raw onion in the salad with food.
  • Consume green tea in place of regular tea.

Home Remedies to Cure Mouth Ulcers

 
  • Boil neem leaves and mix garlic juice in that water. Gargling with this mixture can cure mouth blisters.
  • Turmeric paste is a good remedy for curing ulcers. Turmeric has antiseptic and anti-inflammatory properties, which heal the wound quickly.
  • Blisters can also be cured by rinsing the mouth with Kadha made of acacia bark.
  • Clove oil is also beneficial for curing mouth ulcers.
  • Applying sodium borate with honey mixed into it cures blisters.
  • Chew four to five leaves of jasmine and guava together. Spit the liquid that comes from it. Blisters will be cured by doing this continuously for a few days.
  • Gargling with Kadha made of licorice can also cure mouth blisters.
  • Chewing the basil leaves 2-3 times a day can help in healing the blisters quickly.
  • Catechu is beneficial in curing blisters. Apply it to the guava leaves and chew them.
  • Mixing honey in lemonade and rinsing with it also helps in providing relief to the ulcers.
  • Boil one spoon of coriander powder in a cup or small bowl of water. After cooling, rinse the mouth with this water 2-3 times a day. The blisters will be cured, immediately.
  • Gargling with the Kadha of Jamun also cures blisters quickly.
  • Cardamom and honey paste is beneficial in curing ulcers. Apply the paste to the blisters 2-3 times a day.

Prevention Methods

 
  • Eating a healthy and balanced diet ensures a healthy body and also helps in avoiding mouth ulcers.
  • Avoid spicy and acidic foods, and beverages to prevent mouth ulcers.
  • Brush gently to avoid any injury to the mouth.
  • Drinking plenty of water also helps in avoiding blisters in the mouth. 
  • Do more of what makes you happy to reduce stress.
  • Take proper sleep.

When to See a Doctor?

 
  • If ulcers start bleeding.
  • When the wound starts worsening.
  • If you are having trouble while eating, or drinking, due to ulcers, then you should go to the doctor immediately.
Read More