Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

Abdominal Pain: Symptoms, Causes and Treatment

Posted 08 August, 2022

Abdominal Pain: Symptoms, Causes and Treatment

Abdominal pain, also called colic or stomach ache, refers to discomfort felt in the space between the chest and groin. The abdomen contains many vital organs including the stomach, liver, small and large intestines, kidneys, appendix, spleen, pancreas, gallbladder and reproductive organs. Discomfort in one organ or part of the abdomen can cause pain that radiates throughout the area.

Almost everyone suffers from abdominal pain at some point. Most cases of abdominal pain are mild and usually not severe.

How severe or serious the pain is, does not always indicate the severity of the problem causing the pain. For example, very severe pain due to flatulence or stomach cramps may occur as a result of viral gastrointestinal inflammation. While life-threatening conditions such as colon cancer or early cases of appendicitis may be accompanied by mild or no pain.

Types & Symptoms of Abdominal Pain

Abdominal pain may differ in degree and may be accompanied by some other symptoms. These are

  • The pain can be sharp, blunt, like burning, stinging, or biting.
  • Accompanied by vomiting.
  • Radiate to other parts of the body.
  • Be constant, episodic or permanent.
  • Be localized or generalized.

Causes of Abdominal Pain

Abdominal pain can be caused by a serious or less serious medical condition. Various factors can cause abdominal pain such as

  • Irritable bowel syndrome.
  • Constipation.
  • Food intolerance.
  • Stomach flu.
  • Appendicitis.
  • Food poisoning.
  • Stomach or colon cancer.
  • Kidney stones.
  • Boils.
  • Indigestion.
  • Urinary tract infection.
  • Abdominal aortic aneurysm.
  • Gallstones.
  • Ruptured ovarian cyst.
  • Ectopic pregnancy.
  • Pelvic inflammatory disease.
  • Muscle stretching.

Cardiac conditions like

  • Heart failure.
  • Hiatal hernia.
  • Trauma to the stomach, spleen, liver or kidneys.

Diagnosis for Abdominal Pain

Doctors may review the medical history of the patient along with his family members. He/she can discuss and ask questions about previous surgical problems or procedures, drug and food allergies, health-related behaviors such as drug use, alcohol use, sexual activity, family history of illness, and clarify your current medication regimen.

A physical examination may be performed to identify physical signs to help clarify the diagnosis.

Physical examination, such as a thorough abdominal examination, pulmonary examination, and cardiovascular examination.

Other tests to determine the cause of abdominal pain may include

  • Blood test urinalysis.
  • Imaging tests such as chest and abdominal X-rays.
  • Abdominal ultrasound.
  • CT scan of the abdomen.
  • Endoscopy.

How to Prevent Abdominal Pain?

Some measures that can help relieve abdominal pain are

  • Drink plenty of fluids such as water.
  • Placing a hot water bottle over the abdomen.
  • Reducing consumption of caffeinated drinks such as coffee, tea and alcohol.
  • Getting plenty of rest.
  • Doing exercise regularly.
  • Eat more frequently.

Treatment for Abdominal Pain

Treatment options include

  • Pain relievers will help relieve pain.
  • Fluids are given intravenously to correct fluid loss and bowel rest.
  • Drugs such as aztreonam, camylofin, dexlansoprazole, drotaverine, levofloxacin, or norfloxacin are effective.
  • Fasting may be required until the cause of the pain is identified.

Home Remedies for Abdominal Pain

  • Lemon waterLemon water is an excellent remedy for abdominal pain. The alkaline effect of lemon helps soothe excess acid in the stomach.
  • Baking soda and lemonIt is an easy and best option for abdominal pain. You can mix lemon juice in water with a little baking soda, which can help with abdominal problems. This drink produces carbonic acid in the abdomen, which leads to a reduction in indigestion and bloating.
  • MintMint leaves contain menthol, which helps soothe the abdomen and reduce digestive problems. It also helps reduce muscle spasms in the intestines and relieve pain.
  • GingerGinger contains chemicals called gingerols and shogaols. These chemicals can help speed up stomach contractions, thereby reducing abdominal pain.
  • CinnamonCinnamon is rich in various antioxidants such as camphor, linalool, cinnamaldehyde and eugenol. It helps your abdomen digest food easily and reduces the problems associated with the abdomen.
  • CuminCumin seeds are one of the best remedies for abdominal pain. It helps with hyperacidity, flatulence and pain. Take a teaspoon of cumin seeds, dried coconut and two cloves of garlic. Mix and consume immediately.

When to see a doctor?

You should see a doctor immediately if your pain is sudden and severe or if it occurs with any of the following symptoms

  • Pain related to trauma such as accidents and injury.
  • Pain in the chest, neck and shoulder.
  • Unexplained weight loss.
  • Accompanied by stool that is black or bloody.
  • Vomiting blood.
  • High fever over 102 degrees.
  • Persistent nausea.
  • Dizziness and shortness of breath.
  • Unusual vaginal discharge.
  • Rashes.
  • Loose watery stool.
Read More
What are Intestinal Worms? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 23 March, 2022

What are Intestinal Worms? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

Having worms in the stomach is common and is seen in people of all ages, from children to the elderly but it is more common in children. Eating food with dirty hands, playing in the soil or eating the soil, chewing pencil, etc. become the main cause of worms in the stomach. Apart from this, the main reason for getting stomach worms in the elderly is wrong eating habits and irregular lifestyle that has a direct effect on their digestive system. Not washing hands before eating, not eating food on time, excessive consumption of junk food due to lack of time, less or no physical activity, or coming in contact with contaminated water or animals etc. are the reasons for stomach worms. Stomach worms lead to physical discomfort and may cause symptoms like abdominal pain, bloating, heaviness, loss of appetite and weight loss.

What are Stomach worms?

Stomach worms are a type of parasite that lives in the intestines of humans. Hence it is also known as an intestinal worm. A parasite is an organism that is dependent on another organism. These parasites obtain nutrition from the intestines and suck blood from the lining of the intestine. These worms can survive in the intestine but cannot reproduce. Stomach worms are injurious to human health. It is transmitted to humans by coming in contact with contaminated water and animals.

Types of Stomach worms

There are many types of stomach worms but it is mainly divided into two categories-

Tapeworm-

Tapeworms are a type of microscopic and segmented worms. It is a kind of infection that lives in the intestines of animals. Therefore, these worms enter the human body only by eating raw or undercooked meat of infected animals. When its eggs or larvae spread outside the intestines, these larvae form cysts (lesions) in the internal organs or tissues of the body which is called invasive infection. The symptoms seen in humans due to tapeworms can be easily cured but sometimes it can be quite serious and fatal if it is ignored.

Roundworm-

Roundworm is the most commonly found intestinal worm. Male and female are separate in these worms. The female species of worm lays about thousands of eggs in a day. These eggs come out with faces and contaminate water, soil, vegetables and other types of food and drink. When a healthy person consumes this food and drink, these eggs reach that person's small intestine and break there and the larvae are born which affect the small intestine, anus, genitals, vagina and other parts of the body.

Symptoms of Stomach worms

There are many symptoms of stomach worms but not all symptoms occur in only one person. These may differ from person to person and are as follows-

  • Stomach pain.
  • Gas, acidity and bloating in the stomach.
  • Diarrhoea.
  • Teeth grinding of children while sleeping at night.
  • A dislike (not wanting) to eat food.
  • Bad breath.
  • Insomnia.
  • Weakness.
  • Continuos weight loss.
  • Lack of blood in the body (anaemia).
  • Lips turning white.
  • Darkening of body colour.
  • White spots on the face.

Causes of worms in the stomach

There can be many reasons behind having worms in the stomach which are mainly related to our lifestyle and food. These are-

  • Due to wrong eating habits.
  • Eating food with dirty hands.
  • Eating uncovered food.
  • Eating too many sweets and fatty food.
  • Not having food at the right time.
  • Indigestion (loss of appetite) when eating food.
  • Consuming food contaminated by flies.
  • By eating sour-sweet things in large quantities.
  • Consuming more flour-rich food.
  • Without physical exertion.
  • Sleeping during the day.

Prevention methods for Stomach worms

  • Take special care of cleanliness.
  • Make sure to handwash after using the washroom.
  • Use boiled water.
  • Wash hands thoroughly with soap before eating food.
  • Store food properly.
  • Do not eat food prepared in the open.
  • Do not consume contaminated and stale food.
  • Eat well-cooked food.
  • Do not eat raw vegetables and raw meat.
  • Drink plenty of fluids.
  • Minimize the consumption of sweet and sticky foods.
  • Drink a sufficient amount of water daily.

Home remedies for Stomach worms

Carom seeds-

Mix equal amounts of carom seeds and black salt and fry them on a Tava (griddle). Now make a powder of this mixture and take half a teaspoon daily with lukewarm water. By doing this one gets rid of stomach worms.

Pomegranate peels-

Make a powder by drying the peels of pomegranate. Now taking one spoon of this powder with water in the morning and evening kills stomach worms.

Neem leaves-

Neem leaves also act as medicine for stomach worms because it has anti-bacterial properties which destroy the worms of the stomach. For this, grind neem leaves and mix honey in them and take it on an empty stomach in the morning.

Garlic chutney is good for killing stomach worms-

Consuming garlic chutney is a home remedy for stomach worms. Stomach worms are destroyed by taking rock salt mixed with garlic chutney in the morning and evening. Apart from this, mixing a teaspoon of garlic juice with a teaspoon of plain water and taking it for a few days provides benefits for stomach worms.

Tomato is beneficial-

If there are worms in the intestine, cut the tomato and mix it with rock salt and black pepper powder and consume it. By doing this, there are benefits to intestinal worms.

Consume tulsi juice-

Tulsi is also very effective for stomach worms. In this case, taking juice from basil leaves destroys stomach worms.

Papaya is Helpful-

Consumption of raw papaya is also considered good for intestinal worms. For this, take one spoon of papaya mixed with one spoon of milk and four spoons of boiled water. By doing this, the worms of the stomach die.

Powder of raw mango-

Taking the powder of raw mango kernels with curd or water regularly destroys stomach worms.

Cloves are beneficial-

Clove is also an effective remedy for intestinal worms. For this, soak clove buds in water and after filtering it, give it to children. This helps in combating stomach worms. Along with this, the discomfort in the stomach of the children also gets relief.

Read More
What is Celiac Disease? Know its Symptoms, Causes and Home remedies

Posted 17 March, 2022

What is Celiac Disease? Know its Symptoms, Causes and Home remedies

Celiac disease is also sometimes called celiac sprue or gluten-sensitive enteropathy. It is a chronic digestive tract disorder. This disease is a reaction given by the immune system when gluten is consumed. Gluten is a type of protein found in wheat, barley and rye. Celiac disease is believed to be an autoimmune disorder. It can also be familial or genetic. People with celiac disease usually have digestive problems like abdominal discomfort, abdominal swelling or bloating, nausea and diarrhea etc.

In this disease, the person has diarrhea, abdominal pain, sadness and irritability. Irritability in children is the most common symptom of this disease. However, there are some people who do not feel any symptoms. In diagnosing this disease, doctors take the help of blood tests or take a sample of the tissue of the patient's small intestine and test it.

 

Symptoms of Celiac disease

The symptoms of celiac disease vary greatly.  These relapse from time to time. Its symptoms are few and completely unnoticeable. These are listed below-

 

Gas, abdominal bloating and flatulence-

These symptoms occur when the small intestine fails to absorb nutrients from food. The patient may feel abdominal pain, but it is usually not severe.

 

Unusual stool-

It often results in thin, yellowish, foamy and foul-smelling stools. The stool contains a large amount of fat, which can stick to the toilet seat and does not come off even after flushing several times. In this disease, usually similar symptoms are seen in children and adults. However, intestinal problems such as constipation occur mostly in children.

 

Weight loss-

Adults and children with celiac disease may lose weight unexplained despite a normal appetite. This condition is called failure to thrive.

 

Fatigue and weakness-

Celiac disease usually results in a loss of energy and strength. Some people get sick after eating gluten. Children are slightly more likely to have this reaction than adults.

 

Other problems-

If celiac disease is not treated on time, then it can cause many other problems such as difficulty in memorising and attention, more irritability in children, signs of depression in adults etc.

 

Causes of Celiac disease

Celiac disease occurs when the immune system is unable to tolerate gliadin, an alcohol-soluble fraction of a protein called gluten. This protein is found in bread, pasta, cereals and biscuits etc. It is an autoimmune condition in which the immune system mistook healthy cells as dangerous cells and starts producing antibodies against them. Antibodies usually work to fight bacteria and viruses but these antibodies made by the immune system cause inflammation and irritation of the intestinal surface.

 

The surface of the intestines is usually covered with millions of small tube-like growths which are called Villi. The villi increase the surface area of ​​the intestines and help digest food more effectively. In celiac disease, there is inflammation and irritation of the lining of the intestines and weakening of the villi, reducing their ability to help with digestion. As a result, the intestine fails to digest the nutrients from the food. This is what causes the symptoms of celiac disease.

 

When does the risk of getting Celiac disease increase?

There are many health related conditions which increase the risk of developing celiac disease. These include-

 

  • Type 1 diabetes.
  • Thyroid problems.
  • Ulcerative colitis (a digestive condition in which the colon becomes inflamed).
  • Neurological disorders (those affecting the brain and nervous system, such as epilepsy)
  • Down syndrome and Turner syndrome.
  • Family history- Celiac disease usually runs from one family to another. If someone's parents or siblings have this problem, then the possibility of having this problem increases manifold. For those whose family members have had the disease before, the risk of developing celiac disease is 10 percent higher than normal. If anyone has a twin brother or sister or someone has celiac disease, the risk of developing this disease increases by about 75 percent.

 

Measures to Prevent Celiac disease

It is genetic in nature. Hence it cannot be prevented. The only treatment is to avoid foods containing gluten for life. By taking adequate care about the food, the intestine starts to heal on its own and the symptoms start disappearing but if patients start eating gluten, then the symptoms of celiac disease start to emerge again. The patient should know which food contains gluten and which does not but gluten is hard to detect in every type of food because gluten is found secretly in many foods. Therefore, a person suffering from celiac disease should consult a dietician to follow a healthy diet.

 

Treatment and Diagnosis of Celiac

 

Genetic information-

The doctor asks whether anyone in the family has had celiac disease before.

 

Body check-

The doctor examines the rash on the body and the amount of nutrition. In addition, the abdomen is also examined with a stethoscope.

 

Dental check-up-

Dental examinations are also helpful in diagnosing celiac disease in some people because the color of teeth of a person affected by celiac disease changes.

 

Blood test-

Blood tests are also important in the diagnosis of celiac disease. For this, the blood is sent to the laboratory where antibodies present in the blood are detected. If the antibodies are not detected properly in the blood test, then the doctor asks for other blood tests.

 

Intestine biopsy-

If celiac is not detected after a blood test, then doctors conduct a biopsy. During this test, a small piece of tissue is taken from the small intestine. This helps to diagnose the disease.

 

Skin biopsy-

The doctor conducts a skin biopsy wherein a small tissue of skin is removed and examined under a microscope.

 

Recommended Diet for Celiac Disease

Edible food-

  • Gluten free and nutritious diet should be taken.
  • For calcium-rich foods, include milk, yogurt, cottage cheese, fish, broccoli, collard greens, almonds, calcium-fortified juices, and amaranth.
  • Eat legumes, nuts and amaranth (ramdana) etc. for iron rich foods.
  • For vitamin B-rich foods, eat milk, orange juice, legumes, nuts, and gluten-free whole grains.
  • For foods rich in vitamin D, consume milk and yogurt fortified with vitamin D.
  • For a diet rich in fiber, eat vegetables, fruits, legumes, amaranth, millet, buckwheat and jowar etc.
  • Patients with celiac disease are more likely to develop vitamin K deficiency. Include spinach, broccoli, asparagus, cabbage, cauliflower, peas, legumes, olives, canola, soybeans, oatmeal, and dairy products that are all rich in vitamin-K.
  • Gluten-free items include rice, soy, corn, potatoes and legumes.

 

Avoid these food items-

  • Grains that contain gluten such as barley, millet, triticale, various types of wheat, etc.
  • Foods made from the above mentioned grains such as pasta, oatmeal, bread, pizza, cookies and cakes should also be avoided.
  • Do not consume oats.
  • Some celiac patients can tolerate oats in their diet but long-term consumption of oats has not been found to be safe for most patients with celiac disease.

 

When to go to the doctor?

  • If diarrhea or digestive problems persist for two weeks or more, talk to your doctor right away.
  • If the patient is a child and experiencing irritability, pale complexion, failure to develop normally, obesity, or foul-smelling and large-sized stools, consult a doctor as soon as possible.
  • Consult your doctor before consuming a gluten-free diet.
Read More
What is Amoebiasis? Know its Symptoms, Treatment and Prevention

Posted 21 February, 2022

What is Amoebiasis? Know its Symptoms, Treatment and Prevention

Amoebiasis, also known as amoebic dysentery, is an infection caused by a parasite. Amoebiasis is caused by a parasite called 'Protozoan Entamoeba histolytica' or E. histolytica that can be found in the stomach. The main cause for this is contaminated water and poor sanitation. Although this disease can happen to anyone, it mostly happens to people living in a developing country, where less attention is paid to cleanliness. Apart from this, it can also happen to people who have come by living or visiting these developing countries. This disease is so dangerous that it can even cause death in serious conditions.

What is Amoebiasis?

Amoebiasis is a disease caused by a single-celled parasite, also called Entamoeba histolytica. This disease is extremely common in tropical countries where there is poor hygiene. Therefore, when a person travels to poor tropical places, lives in poor sanitary conditions in an institution or a prison, has sex with infected person, has a weakened immune system or suffer from any other medical condition, they may be prone to this disease.

How does Amoebiasis happen?

This infection can spread easily. The entero-amoeba histolytica and the protozoan make the person sick by infecting the large intestine by thriving there. Apart from the large intestine, these unicellular bacteria are also found in lungs, liver, heart, testicles, brain, kidney, ovaries, skin etc.

Symptoms of Amoebiasis

  • Loose stools
  • Vomiting
  • Feeling giddy
  • Bloating
  • Stomach cramps
  • Changed eating habits
  • Diarrhea after each meal
  • Fever
  • Intermittent pain in stomach
  • Constipation or alternating diarrhea
  • Excess tiredness
  • Loss of weight
  • Loss of appetite
  • Indigestion

Diagnosis for Amoebiasis

  • To diagnose amoebiasis, doctors examine a patient's stool sample.
  • Apart from the stool sample, the liver function of the victim is also checked. So that it can be ascertained whether there was any damage to the liver.
  • If necessary, the doctor also examines the wound in the liver due to infection with the help of a needle because sometimes when amoebiasis occurs, the abscess or cyst in the liver bursts into the membrane of the abdomen, lungs and heart (ie the pericardium). The pain caused by this can be even more dangerous.
  • If there is a possibility of damage to the internal organs, doctors recommend the patient to get an ultrasound or CT scan.
  • Apart from this, the doctor also directs the patient to colonoscopy to detect the presence of parasites in the intestinal or colon tissue.

Treatment of Amoebiasis

The treatment of this disease depends on the type of infection the patient has. If the person has a common infection, then the doctor advises medication for 10-12 days but if this parasite causes an abscess in the liver, then the patient may have to take medicine for 15-20 days or more. In case, there is pus in the boil, then the doctor removes it with the help of a syringe but if the amoebic ulcer bursts in the intestines, then it spreads to the whole stomach. This may lead to a surgery.

Prevention of Amoebiasis

  • Wash vegetables and fruits thoroughly before using them.
  • Wash the cookware thoroughly before use.
  • Use only boiled water.
  • Avoid consuming street food and beverages.
  • Wash hands thoroughly with warm water after using the toilet and after changing baby diapers.
  • Clean the bathroom, toilet, taps and toilet seat regularly.
  • Avoid sharing towels or face washers.

Home remedies for Amoebiasis

 

  • Drink coconut water.
  • Make and drink black tea.
  • Eat fruits like guava, papaya, etc.
  • Consuming bael and walnut proves to be beneficial in amoebiasis.
  • Add Chlorine to drinking water or drink boiled water only.
  • Seek medical advice if necessary.
Read More
क्या है अमिबायसिस? समझें, इसके लक्षण, इलाज और बचाव को

Posted 24 May, 2022

क्या है अमिबायसिस? समझें, इसके लक्षण, इलाज और बचाव को

अमीबायसिस एक ऐसी बीमारी है, जो घर में किसी को भी सकती है। यह एक ऐसा इनफ़ेक्शन है, जो परजीवी से होता है। असल में अमीबायसिस की बीमारी अमीबा की एक प्रजाति के कारण होती है। जो पेट में पाई जा सकती है। यह 'प्रोटोजोएन एंटामीबा हिस्टोलिटिका' या ई. हिस्टोलिटिका नामक परजीवी की वजह से होता है। इसका मुख्य कारण खराब पानी और साफ-सफाई का अभाव होता है। हालांकि यह रोग किसी को भी हो सकता है, पर ज्यादातर उन लोगों को होता है। जो विकासशील देश में रहते हैं। अत: जहां पर स्वच्छता पर कम ध्यान दिया जाता है। इसके अलावा यह रोग उन लोगों को भी हो सकता है, जो इन विकासशील देशों में रहकर या घूमकर आए हैं। यह बीमारी इतनी खतरनाक होती है कि इससे मौत भी हो सकती है।

 

क्या है अमीबायसिस?

अमीबायसिस एक ऐसी बीमारी है, जो एकल-कोशिका परजीवी के कारण होती है। इसे एंटामोइबा हिस्टोलिटिका भी ‎कहा जाता है। यह बीमारी उष्णकटिबंधीय देशों में बेहद आम है। जहां पर अच्छी स्वच्छता नहीं रहती। इसलिए जब कोई व्यक्ति खराब उष्णकटिबंधीय स्थानों की यात्रा करता है, जब कोई ‎व्यक्ति किसी संस्था या जेल जैसी जगह पर खराब सेनेटरी की स्थिति में रहता है, जब कोई व्यक्ति दूसरे के ‎साथ यौन संबंध बनाता है, जब किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है या जब कोई व्यक्ति किसी अन्य ‎चिकित्सा स्थिति से पीड़ित होता है। तो उसे यह बीमारी ‎हो सकती है। अमीबायसिस को अमरबारुग्णता के नाम से भी जाना जाता है।

 

कैसे होता है अमीबायसिस?

आसानी से फैलने वाले इस संक्रमण में एंट-अमीबा हिस्टोलाइटिका एवं प्रोटोजोन बड़ी आंत को अपना घर बनाकर संक्रमित करके व्यक्ति को बीमार कर देता है। यह एक कोशीय जीवाणु बड़ी आंत के अलावा फेफड़ों, लिवर, हृदय, अंडकोष, मस्तिष्क, वृक्क, अंडाशय और त्वचा आदि में भी पाए जाते हैं।

 

अमीबायसिस के लक्षण-

  • पतले दस्त होना।
  • उल्टी होना।
  • जी मचलाना।
  • पेट फूलना।
  • पेट में ऐंठन का दर्द होना।
  • परिवर्तित पाखाने की आदत।
  • भोजन पश्चात दस्त होना।
  • बुखार आना।
  • पेट में रुक-रुक कर दर्द होना।
  • कब्ज या बारी-बारी से दस्त होना।
  • अधिक थकान महसूस होना।
  • वजन का एकदम कम हो जाना।
  • भूख न लगना।
  • अपच एवं वायु-विकार आदि।

अमीबायसिस की जांच-

  • अमीबायसिस का पता लगाने के लिए डॉक्टर्स रोगी के स्टूल (मल) सैंपल की जांच करते हैं।
  • स्टूल सैंपल के अतिरिक्त पीड़ित व्यक्ति के लिवर फंक्शन की भी जांच की जाती है। जिससे यह पता लगाया जा सके कि लिवर को कोई नुकसान तो नहीं हुआ।
  • आवश्यकता लगने पर डॉक्टर नीडल की मदद से संक्रमण के कारण लिवर में होने वाले घाव की भी जांच करता है। क्योंकि कभी-कभी अमीबायसिस होने पर लिवर में फोड़ा या सिस्ट फटकर पेट, फेफड़ों और हृदय की झिल्ली (यानी पेरिकार्डियम) में चला जाता है। जिससे होने वाली तकलीफ और भी ज्यादा खतरनाक हो सकती है।
  • अंदरूनी अंगों को हानि पहुंचने की संभावना पाए जाने पर डॉक्टर्स रोगी को अल्ट्रासाउंड या सीटी स्कैन कराने की सलाह देते हैं।
  • इसके अलावा डॉक्टर इंटेस्टाइन या कोलोन टिश्यू में परजीवी की उपस्थिति का पता लगाने के लिए रोगी को कोलोनोस्कोपी के लिए भी बोलते हैं।

अमीबायसिस का इलाज-

इस बीमारी अर्थात अमीबायसिस का इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि रोगी को किस तरह का संक्रमण है। यदि व्यक्ति को  सामान्य संक्रमण है तो डॉक्टर उसे 10-12 दिन की दवा दे देते हैं। लेकिन यह परजीवी यदि लिवर में फोड़ा पैदा कर दे तो रोगी को 15-20 दिनों या इससे भी ज्यादा तक दवा खानी पड़ सकती है। वहीं, अगर फोड़े में पस (मवाद) पड़ जाए तो उसे डॉक्टर सिरिंज की मदद से निकालते हैं। लेकिन आंतों में अगर अमीबिक अल्सर फट जाए, तो यह सारे पेट में फैल जाता है। जिससे बाद सर्जरी भी करनी पड़ सकती है।

 

अमीबायसिस से बचाव-

  • सब्जियों और फलों को अच्छी तरह से धोकर उपयोग में लाएं।
  • कुकवेयर को अच्छी तरह से धोकर इस्तेमाल करें।
  • पानी को उबालकर ही प्रयोग करें।
  • सड़क किनारे बिकने वाले खाद्य एवं पेय पदार्थों का सेवन करने से बचें।
  • टॉयलेट से आने के बाद और बच्चों के डाइपर बदलने के बाद गर्म पानी से अच्छे से हाथों को धोएं।
  • टॉयलेट और टॉयलेट सीट की नियमित सफाई करें।
  • तौलिया या फेसवाशर्स को एक-दूसरे से शेयर करने से बचें।

अमीबायसिस के कुछ घरेलू उपचार-

  • नारियल पानी का सेवन करें।
  • काली चाय बनाकर पिएं।
  • जाम (अमरूद), पपीते जैसे फलों का सेवन करें।
  • अमीबायसिस में बेल और अखरोट का सेवन करना लाभकारी साबित होता है।
  • पेयजल में क्लोरिवेट दवा डालकर या पानी को उबालकर ही प्रयोग में लाएं।
  • आवश्यकता पड़ने पर चिकित्सक की सलाह लें।
Read More
पेट संक्रमण के लक्षण और उपाय

Posted 24 May, 2022

पेट संक्रमण के लक्षण और उपाय

शरीर को लगने वाले अधिकतर रोगों की शुरुआत पेट से होती है। जिसका मुख्य कारण अनियमित दिनचर्या और गलत खान-पान होता है। इसीलिए ज्यादातर लोग पेट साफ करने के लिए खुद से ही रोजाना किसी न किसी दवाई का सेवन करते है। जबकि बिना डॉक्टर की सलाह के इस तरह की दवाओं का सेवन करना ठीक नहीं होता। पेट का संक्रमण गर्मी के मौसम में थोड़ा ज्यादा होता है। क्योंकि गर्मी में लोग अपने खान-पान में अक्सर लापरवाही कर जाते हैं। जिसकी वजह से उन्हें पेट संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा भी कुछ पेट की समस्याओं का कारण अलग-अलग तरह का वायरस भी हो सकता है। पेट के संक्रमण को स्टमक इंफेक्शन भी कहा जाता है।

 

कैसे होता है पेट का संक्रमण?

कभी असमय खाने से तो कभी ज्यादा खाने से तो कई बार खराब खाना खाने से पेट का संक्रमण हो जाता है। इसके अलावा कई बार बैक्टीरिया के कारण भी पेट का संक्रमण हो सकता है। जो पेट और आंतों में होने वाला संक्रमण होता है। इस प्रकार पेट से जुड़ी कई परेशानियों की शुरुआत यहीं (स्टमक इंफेक्शन) से होती है।

 

फूड पॉइजनिंग

फूड प्वायजनिंग भी पेट संक्रमण का एक अहम कारण है। फूड प्वायजनिंग में विषैले तत्व भोजन के द्वारा शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते हैं। जिससे व्यक्ति बीमार हो जाता है। इसके अलावा खुला हुआ और देर तक रखा खाना भी पेट को संक्रमित करने का काम करता है।

 

संक्रमित पेट के लक्षण-

  • पेट में मरोड़ के साथ दर्द होना।
  • डायरिया की शिकायत।
  • उल्टी और मितली की समस्या।
  • खाने का ठीक से न पच पाना।
  • पेट का फूल जाना।
  • पेट दर्द के साथ उल्टियां होना आदि।

पेट के संक्रमण के उपचार-

लौंग-

लौंग शरीर में मौजूद छोटे-छोटे बैक्टीरिया को खत्म करके पेट की इंफेक्शन को खत्म करने का काम करती है।

 

हल्दी-

1 चम्मच हल्दी पाउडर में 6 छोटे चम्मच शहद मिलाकर, उसे एक हवा बंद जार में रख दें। फिर दिन में दो बार आधा-आधा चम्मच इस मिश्रण का सेवन करें। ऐसा करने पर पेट का संक्रमण जल्दी ठीक हो जाता है।

 

हींग-

सुबह खाली पेट पानी के साथ थोड़ी मात्रा में हींग का सेवन करने से पेट के कीड़ों को खत्म करने में मदद मिलती है।

 

शहद-

शहद में दालचीनी पाउडर को मिलाकर खाने से गैस्टिक प्रॉब्लम संबंधित पेट से जुड़ी कई परेशानियां ठीक हो जाती है।

 

केला-

केला आसानी से पचने वाला फल होता है। इसके अलावा इसमें पोटैशियम होता है, जो पेट के लिए अच्छा होता है।

 

अन्य उपचार या सावधानियां-

  • हमेशा ताजे भोजन का सेवन करें।
  • समय पर खाना खाएं।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • भोजन एवं दिनचर्या के नियमों का ठीक से पालन करें।
  • भोजन के साथ सलाद और ठंडा दूध, खीरा, ककड़ी, तरबूज आदि का सेवन करें।
  • योग, आसन, प्राणायाम, प्राकृतिक, आयुर्वेदिक उपचार आदि को अपनी नियमित दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।
Read More
क्या है सीलिएक रोग? जानें इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

Posted 17 March, 2022

क्या है सीलिएक रोग? जानें इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

सीलिएक रोग को कई बार स्प्रू (Sprue) या कोएलियाक (Coeliac) भी कहा जाता है। यह रोग ग्लूटेन (Gluten) खाए जाने पर प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा दिया गया रिएक्शन होता है।ग्लूटेन एक प्रकार का प्रोटीन होता है।जो गेहूं, जौ और राई में पाया जाता है। माना जाता है कि सीलिएक रोग एक स्व-प्रतिरक्षित विकार होता है। यह पारिवारिक या आनुवंशिक भी हो सकता है। सीलिएक रोग से ग्रसित व्यक्तियों में आमतौर पर पाचन संबंधी समस्याएं होती हैं। जिसमें पेट में तकलीफ, पेट में सूजन या फुलाव, मतली और दस्त आदि परेशानियां शामिल हैं। इस रोग में व्यक्ति को दस्त व पेट में दर्द, उदासी औरचिड़चिड़ापन महसूस होता है। बच्चों में चिड़चिड़ापन इस रोग का सबसे सामान्य लक्षण है। हालांकि, कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको कोई लक्षण महसूस ही नहीं होता। इस रोग का पता लगाने में डॉक्टर ब्लड टेस्ट की मदद लेते हैं। इसके अलावा डॉक्टरों को रोगी की छोटी आंत के ऊतक का सेंपल लेकर उसका परीक्षण करने की ज़रूरत भी पड़ती है। सीलिएक रोग के उपचार में सख्ती से ग्लूटेन मुक्त भोजन का पालन करना चाहिएहै।

 

सीलिएक रोग के लक्षण-

सीलिएक रोग के लक्षण काफी अलग-अलग होते हैं। जोबार-बार आ और जा सकते हैं। इसके लक्षण काफी कम और पूरी तरह से अप्रत्यक्ष (ध्यान में न आने वाले) होते हैं।

 

गैस, पेट में सूजन और पेट फुलाव-

यह लक्षण तब होते हैं, जब छोटी आंत भोजन से पोषक तत्वों को अवशोषित करने में असफल रहती है। इसमें रोगी को पेट में दर्द महसूस हो सकता है पर आमतौर पर यह गंभीर नहीं होता।

 

असाधारण मल-

इसमें अक्सर पतला, पीले रंग, झागदार और बदबू वाला मल आने लगता है। वहीं, इस मल में बड़ी मात्रा में वसा होती है, जो टॉयलेट सीट पर चिपक सकती है और कई बार फ्लश करने पर भी नहीं उतरती। इस बीमारी में अमूमन बच्चों और बड़ों में एक जैसे ही लक्षण देखने को मिलते है। हालांकि आंतों से जुड़ी दिक्कत जैसे कि कब्ज ज्यादातर बच्चों में ही होती है।

 

वजन घटना-

सीलिएक रोग से ग्रस्त वयस्कों और बच्चों का सामान्य भूख लगने के बावजूद भी अस्पष्ट रूप से वजन घटने लगता है। इस स्थिति को फेलियर टू थ्राइव (Failure to thrive) कहा जाता है।

 

थकान और कमजोरी-

सीलिएक रोग के कारण सामान्य रूप से उर्जा और शक्ति में कमी आ जाती है। कुछ लोग ग्लूटेन खाने के बाद बीमार पड़ जाते हैं। वयस्कों के मुकाबले बच्चों में यह प्रतिक्रिया होने की संभावना थोड़ी ज्यादा होती है।

 

अन्य समस्याएं-

यदि सीलिएक रोग का समय पर इलाज न किया जाए तो यह कई अन्य समस्याओं को भी पैदा कर देता है।जैसे- याददाश्त और ध्यान देने में कठिनाई होना, बच्चों में अधिक चिड़चिड़ापन आना, वयस्कों में डिप्रेशन के संकेत दिखाई देना आदि।

 

सीलिएक रोग के कारण-

सीलिएक रोग तब होता है जब प्रतिरक्षा प्रणाली, ग्लूटेन नाम के एक प्रोटीन पर एक असाधारण रिएक्शन देती है। यह प्रोटीन ब्रेड, पास्ता, अनाज (Cereals) और बिस्कुट आदि में पाया जाता है। यह एक स्व-प्रतिरक्षित स्थिति होती है।इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ कोशिकाओं को खतरनाक कोशिकाएं समझ लेती है और उनके खिलाफ एंटीबॉडीज का उत्पादन करने लगती है। एंटीबॉडीज आमतौर पर बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने का काम करते हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा बनाए गए एंटीबॉडीज आंतों की सतह में सूजन औरजलन पैदा कर देते हैं।

 

आंतों की सतह आमतौर पर लाखों छोटी-छोटी ट्यूब के समान ग्रोथ (Growth) से ढकी होती है। जिन्हें विल्ली (Villi) कहा जाता है। विल्ली आंतों की सतह के क्षेत्र को बढ़ा देती है और भोजन को और प्रभावी रूप से पचाने में मदद करती है। सीलिएक रोग में आंतों की परत में सूजन व जलन होती है और विल्ली कमजोर हो जाती है।जिससे पाचन में मदद करने की उनकी क्षमता कम हो जाती है। परिणामस्वरूप, आंत भोजन से मिले पोषक तत्वों को पचाने में असफल रहती है। जिस कारण से सीलिएक रोग के लक्षण पैदा होने लगते हैं।

 

परिवार संबंधी समस्या-

सीलिएक रोग अमूमन परिवार में एक से दूसरे को होता है। अगर किसी के घर माता-पिता या भाई बहन को यह दिक्कत है तो उसे भी यह दिक्कत होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है। जिनके परिवार के सदस्यों में पहले यह रोग हो चुका है।उनके लिए सीलिएक रोग विकसित होने के जोखिम सामान्य से 10 प्रतिशत बढ़ जाते हैं। यदि किसीका कोई जुड़वा भाई या बहन है। जिसको सीलिएक रोग है, तो यह रोग विकसित होने के जोखिम उसमें लगभग 75 प्रतिशत बढ़ जाते हैं।

 

सीलिएक रोग होने का खतरा कब बढ़ जाता है?

बहुत सारी स्वास्थ्य संबंधी स्थितियां हैं। जो सीलिएक रोग को विकसित करने वाले जोखिम को बढ़ाती हैं।जिनमें निम्न शामिल हैं-

 
  • टाइप 1 डायबिटीज।
  • थायराइड संबंधी समस्याएं।
  • अल्सरेटिव कोलाइटिस (यह एक पाचन संबंधी स्थिती होती है जिसमें कोलन यानि बड़ी आंत में सूजन व लालिमा पैदा हो जाती है)।
  • न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर (जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करते हैं, जैसे कि मिर्गी)
  • डाउन सिंड्रोम और टर्नर सिंड्रोम।

सीलिएक रोग से बचाव के उपाय-

यह एक आनुवंशिक प्रकृति होती है।इसलिए इसकी रोकथाम नहीं की जा सकती। जीवनभर ग्लूटेन वाले खाद्य पदार्थों से बचना ही इसका एकमात्र उपचार है। भोजन को लेकर पर्याप्त सावधानी बरतने से आंत अपने आप ठीक होने लगती है और लक्षण गायब होने लगते हैं। लेकिन अगर रोगी ग्लूटेन खाना शुरू करते हैं तो फिर से सीलिएक रोग के लक्षण उभरने लगते हैं। मरीज को पता होना चाहिए कि किस भोजन में ग्लूटेन है और किस में नहीं है। लेकिन हर प्रकार के भोजन में ग्लूटेन का पता लगाना काफी कठिन होता है। क्योंकि कई खाद्य पदार्थों में गुप्त तरीके से ग्लूटेन पाया जाता है। इसलिए सीलिएक रोग से ग्रस्त व्यक्ति को स्वस्थ आहार का पालन करने के लिए एक आहार विशेषज्ञ की राय लेनी चाहिए।

 

सीलिएक रोग का इलाज एवं जांच -

आनुवंशिक जानकारी-

डॉक्टर परिवार में पहले कभी किसी को सिलिएक रोग हुआ है या नहीं, इस बारे में पूछता है।

 

शरीर की जांच-

डॉक्टर शरीर पर रैशेज और पोषण की मात्रा की जांच करता है। साथ ही स्टेथोस्कोप से पेट की भी जांच की जाती है।

 

दांतों की जांच-

कुछ लोगों में सिलिएक रोग का पता लगाने के लिए दांतों की जांच भी मददगार होती है। क्योंकि सिलिएक रोग से प्रभावित व्यक्ति के दांतों के रंग में परिवर्तन आ जाता है।

 

रक्त की जांच-

सिलिएक रोग के परीक्षण में रक्त की जांच भी महत्वपूर्ण होती है। इसके लिए रक्त को प्रयोगशाला में भेजा जाता है।जहां रक्त में मौजूद एंटीबॉडी का पता लगाया जाता है। अगर रक्त की जांच करने पर एंटीबॉडी का सही से पता न चलें, तो डॉक्टर अन्य ब्लड टेस्ट के लिए कहते हैं।

 

आंत की बायोप्सी-

अगर रक्त की जांच करने के बाद सिलिएक का पता न लग पाए, तो डॉक्टर्स बायोप्सी जांच करते हैं। इस जांच के दौरान छोटी आंत से ऊतक का एक छोटा टुकड़ा लिया जाता है।जिससे इस रोग का पता लगाने में मदद मिलती है।

 

त्वचा की बायोप्सी-

डॉक्टर त्वचा की बायोप्सी करते हैं। इसके लिए त्वचा के छोटे से टिश्यू को निकाला जाता है और माइक्रोस्कोप से जांच की जाती है।

 

सिलिएक रोग का परहेज और आहार

लेने योग्य आहार-

  • ग्लूटेन रहित और पोषण युक्त आहार लेने चाहिए।
  • कैल्शियम युक्त आहारों के लिएदूध, दही, पनीर, मछली, ब्रोकोली, कोलार्ड ग्रीन, बादाम, कैल्शियम की शक्तियुक्त रस, और चौलाई आदि को शामिल करें।
  • आयरन समृद्ध आहारों के लिएफलियां, मेवे और चौलाई आदि का सेवन करें।
  • विटामिन बी युक्त आहारों के लिएदूध, संतरे का रस, फलियां, मेवे, और ग्लूटेन रहित साबुत अनाज आदि का सेवन करें।
  • विटामिन डी से समृद्ध आहारों के लिएविटामिन डी की शक्ति युक्त दूध और दही का सेवन करें।
  • रेशे से समृद्ध आहार के लिएसब्जियां, फल, फलियां, चौलाई, बाजरा, कुट्टू और ज्वार आदि का सेवन करें।
  • सिलिएक रोग से ग्रस्त रोगियों में विटामिन-के की कमी उत्पन्न होने की अधिक संभावना होती है। ऐसे में पालक, ब्रोकोली, अस्पार्गस, जलकुम्भी, पत्तागोभी, फूलगोभी, मटर, फलियां, जैतून, केनोला, सोयाबीन, दलिया, और डेरी उत्पाद आदि सभी विटामिन-के से समृद्ध होते हैं। जिनका सेवन किया जा सकता है।
  • ग्लूटेन रहित वस्तुओं में चावल, सोया, मक्का, आलू और फलियां आदि शामिल हैं।

इनसे परहेज रखें

  • ऐसे अनाज जिनमें ग्लूटेन हो जैसे जौ, बाजरा, ट्रिटीकेल, गेहूं के विभिन्न प्रकार आदि।
  • उपरोक्त कहे हुए अनाजों से बने हुए आहार जैसे पास्ता, दलिया, ब्रेड, पिज़्ज़ा, क्रैकर्स, कूकीज और केक भी नहीं लिए जाने चाहिए।
  • ओट्स का सेवन नकरें।
  • सिलिएक के कुछ रोगी आहार में ओट्स को सह सकते हैं। लेकिन सिलिअक रोग के अधिकतम रोगियों के लिएलम्बे समय तक ओट्स का सेवन करना सुरक्षित नहीं पाया गया है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • यदि दस्त या पाचन संबंधी तकलीफ दो हफ्तों या उससे अधिक समय से हो रही है तो डॉक्टर से तुरंत बात करें।
  • यदि बच्चे में चिड़चिड़ापन, रंग में पीलापन, सामान्य रूप से विकसित होने में असफलता, मोटापा या बदबूदार व बड़े आकार का मल आ रहा है तो उसे जल्दी से जल्दी डॉक्टर को दिखा लें।
  • ग्लूटेन मुक्त भोजन लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।
Read More
क्या है अपेंडिसाइटिस? जानें, इसके कारण, लक्षण और उपचार

Posted 24 May, 2022

क्या है अपेंडिसाइटिस? जानें, इसके कारण, लक्षण और उपचार

वर्तमान समय में लगभग हर किसी को कभी न कभी पेट दर्द की समस्या होती हैं।इसके पीछे कई कारण होते हैं।इन कारणों में से एक कारण अपेंडिसाइटिस भी है। अपेंडिसाइटिस होने की मुख्य वजह है लोगों की भागदौड़ भरी जिंदगी और गलत लाइफ स्टाइल। जिसकी वजह से हम और आप अपनी सेहत और खान-पान की चीजों पर ध्यान नहीं दे पाते। कारणवश शरीर में कई बीमारियां उत्पन्न होने लगती है। वैसे भी इस बदलते परिवेश में करीब सभी लोगों को कब्ज और गैस की शिकायत रहती ही है। जो अपेंडिक्स होने का मुख्य कारण बनते हैं। शुरुआती दौर मेंअपेंडिसाइटिस के लक्षण कम नजर आते हैं। लेकिन समय रहते इसका इलाज न कराना या इसे नजरअंदाज कर देने पर यह समस्या गंभीर रूप ले लेती है। कई बार यह समस्या इतनी जटिल हो जाती है कि जानलेवा भी साबित होने लगती है।

 

क्या होती है अपेंडिसाइटिस?

आमतौर पर अपेंडिसाइटिस का खतरा 10 से 40 वर्ष के लोगों में अधिकरहता है। यह महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में ज्यादा देखने को मिलती हैं। अपेंडिसाइटिस, आंत से जुड़ी समस्या होती है। ऐसा अपेंडिक्स में सूजन या संक्रमण के कारण होता है। अपेंडिक्स छोटी और बड़ी आंतों के मध्य की कड़ी है। जो एक तरह की थैली होती है। जिसका आकार मलबरी फल (Mulberry Fruit)की तरह होता है। यह कड़ी आंतो से बाहर की ओर निकली रहती है। यह पेट के निचले दाहिने भाग में होती है। अपेंडिसाइटिस की समस्या,अपेंडिक्स में किसी प्रकार की रुकावट के कारण उसके अंदर बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। जो पेट दर्द का कारण भी बनते हैं।

 

क्या होते हैं अपेंडिसाइटिस के प्रकार?

अपेंडिसाइटिस के मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं। जो निम्नलिखित हैं:

 

एक्यूट अपेंडिसाइटिस-

एक्यूट अपेंडिसाइटिस एक तरह की गंभीर समस्या है। जिसके लक्षण अचानक से शुरू होते हैं और समय के साथ बढ़ने लगते हैं। यह लक्षण एक-दो दिन में ही दिखाई देने लगते हैं। इसलिए एक्यूट अपेंडिसाइटिस का इलाज तुरंत करने की आवश्यकता होती है। समय रहते इसका इलाज न कराना या इसे नजरअंदाज कर देने पर यह समस्या गंभीर रूप ले लेती है।

 

क्रोनिक अपेंडिसाइटिस-

क्रोनिक अपेंडिसाइटिस की समस्या एक्यूट अपेंडिसाइटिस की अपेक्षा काफी कम एवं गंभीर होती है। इसकी सूजन लंबे समय तक रहती है।कभी-कभी तो इसकी पहचानकरना बहुत मुश्किल हो जाता है। जिसके कारण इसअपेंडिसाइटिस का उपचार करना बेहद मुश्किल हो जाता है। इस प्रकार का अपेंडिसाइटिस जानलेवा साबित हो सकता है।

 

अपेंडिसाइटिस के लक्षण-

आमतौर पर अपेंडिसाइटिस के शुरूआती लक्षणों में पेट के निचले हिस्से में हल्का दर्द, भूख न लगना आदि शामिल हैं। लेकिन जैसे ही यह समस्या बढ़ने लगती है, तो पेट दर्द का मुख्य लक्षण बन जाता है। इसके अलावा इसके कुछ अन्य लक्षण भी होते हैं। आइए बात करते हैं इन्हीं अन्य लक्षणों के बारे में:

 
  • नाभिके चारों ओर या पेट के निचले हिस्सें में दाएं तरफ तेज दर्द होना।
  • भूख न लगना।
  • उल्टी या जी मिचलाना।
  • पेट में सूजन होना।
  • पेशाब करने में परेशानी महसूस करना।
  • पेट में गंभीर ऐंठन होना।
  • हल्का बुखार आना।
  • गैस के साथ कब्ज या दस्त की समस्या होना।
  • मल त्याग करते समय कठिनाई महसूस करना।
  • जीभ के ऊपरी सतह पर सफ़ेद आवरण होना।

अपेंडिसाइटिस होने के कारण-

यूं तो अपेंडिसाइटिसहोनेकेकई कारण हो सकते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक अपेंडिसाइटिस तब विकसित होता है।जब अपेंडिक्स का रास्ता या छिद्र बंद हो जाता है। यह रुकावट अपेंडिक्स के अंदर एक मोटा बलगम जैसा द्रव बनने के कारण होता है। इसके अलावा यह कई चीजों जैसे कठोर मल बढ़े हुए लिंफोसाइड फॉलिकल्स, गहरे जख्म आदि का सीकम से अपेंडिक्स के अंदर चले जाने के कारण भी होते हैं। यह द्रव या मल कठोर होकर पत्थर के तरह मजबूत हो जाते हैं। जो अपेंडिक्स के छिद्र को ब्लॉक कर देते हैं।इस पत्थरनुमा चीज को फेकलीथ (Fecalith) कहा जाता है। जब अपेंडिक्स का छिद्र ब्लॉक हो जाता है, तो उसके अंदर बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। जिसके कारण मवाद और सूजन बढ़ने लगते हैं। परिणामस्वरूप पेट में दर्द होने लगता है।समय रहते इसके लक्षण की पहचान न किया जाए, तो अपेंडिक्स की सूजन बढ़ती रहती है और अपेंडिक्स फट भी सकती है।परिणामस्वरूप बैक्टेरिया द्वारा संक्रमण पूरे पेट में फैल जाता है। जो एक गंभीर रूप या जानलेवा साबित हो सकता है।

 

अपेंडिसाइटिस के अन्य कारण-

  • पाचन की समस्या होने पर।
  • अपौष्टिक भोजन का सेवन करने पर।
  • अधिक मैदायुक्त या जंग फ़ूड का सेवन करने पर।
  • अधिक तैलीय और मसालेदार युक्त पदार्थों का सेवन करने पर।
  • भोजन में फाइबर की मात्रा कम होने पर।
  • उम्र बढ़ने पर।

अपेंडिसाइटिस से बचाव-

  • एक संतुलित आहार खाएं।जिसमें अच्छी मात्रा में फाइबर, फल और हरी सब्जियां शामिल हों।
  • पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ एवं पानी पिएं।
  • रोजाना नियमित रूप से योग एवं व्यायाम करें। ऐसा करने से शरीर की पाचन तंत्र सुचारु रूप से काम करता है।
  • भोजन करने से पहले हाथों की सफाई काविशेष ध्यान दें।
  • चाय, कॉफी,धूम्रपान आदि का सेवन कम करें।
  • शराब के सेवन से बचें।
  • तले-भुने एवं जंक फ़ूड के सेवन से बचें।
  • भोजन को चबाकर खाएं।
  • भोजन करते समय पानी न पिएं।
  • नियमित रूप से सुबह टहलें।

अपेंडिसाइटिस का इलाज एवं परिक्षण-

  • अपेंडिसाइटिस की जांच के लिए डॉक्टर अल्ट्रा-साउंड या सिटी स्कैन कराते हैं।
  • इसके इलाज के लिए इंजेक्शन की सहायता से मौजूद पस को बाहर निकाला जाता है।
  • इसके इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग किया जाता है। क्योंकि अपेंडिसाइटिस,अमूमन संक्रमण के कारण ही होती है।
  • अपेंडिक्स की स्थिति में तेज दर्द होने पर डॉक्टर दर्दनिवारक मेडिसिन लेने की सलाह देते हैं।
  • आहार में फाइबर एवं तरल युक्त पदार्थ का सेवन करने से अपेंडिक्स की समस्या को कम किया जा सकता है।
  • अपेंडिसाइटिस की गंभीर हालत इसे दूर करने के लिए सर्जरी का सहारा लिया जाता है।

अपेंडिक्स के दर्द के लिए घरेलू उपचार-

अपेंडिसाइटिस एक गंभीर समस्या है। इस स्थिति में चिकित्सक से इलाज करवाना ही बेहतर विकल्प है। घरेलू उपचार से इसे पूरी तरह ठीक नही किया जा सकता है। इन नुस्खों को अपनाकर केवल इससे होने वाले दर्द एवं कुछ अन्य लक्षणों को कम किया जा सकता है। इसलिए, अपेंडिसाइटिस की स्थिति में  सिर्फ घरेलू नुस्खों से उपचार करना सही निर्णय नहीं है। चलिए जानते हैं अपेंडिक्स के दर्द व इसके अन्य लक्षणों को कम करने के लिए घरेलू नुस्खों के बारे में:

 

फाइबर युक्त भोजन का सेवन करें-

उच्च मात्रा में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कि गेहूं का चोकर, सलाद, पत्ते, गाजर, बीन्स, मटर, कद्दू के बीज, सोया बीन्स, मल को बहुत कठोरया बहुत तरल बनने से रोकते हैं। जिससे पाचन क्रियाआसानी से होती है। इसलिए फाइबर युक्त भोजन का सेवन,अपेंडिसाइटिस के लक्षणों को कम करने के लिए प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक है।

 

अरंडी का तेल-

अपेंडिसाइटिस के कारण होने वाले दर्द को कम करने में अरंडी के तेल का उपयोग कारगर साबित होता है। एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर पब्लिश एक रिपोर्ट के मुताबिक, अरंडी के तेल में रिसिनोलिक एसिड मौजूद होता है। यह एक तरह का एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक (दर्दनिवारक) गुण प्रदर्शित करता है। जो अपेंडिसाइटिस से होने वाले दर्द एवं सूजन को कुछ हद तक कम करने का काम करता है। इसके लिए अरंडी के तेल को कपड़े में लगाकर अपेंडिसाइटिस से प्रभावित अंगो के ऊपर कुछ समय के लिए रखें।

 

ग्रीन टी-

ग्रीन टी भी अपेंडिक्स के दर्द को कम करने का काम करती है। क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। जो अपेंडिक्स के दर्द और सूजन को कम करने के अलावा पेट से जुड़ी अन्य समस्याओं से राहत दिलाने का काम करता हैं। इसके अलावा ग्रीन टी में कई ऐसे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। जो शारीरिक समस्याओं को दूर करने में सहायक होते है। इसके लिए प्रतिदिन सुबह-शाम एक कप ग्रीन टी का सेवन अवश्य करें।

 

जिनसेंग टी-

अपेंडिक्स के लक्षणों को कम करने के लिए जिनसेंग टी का सेवन फायदेमंद होता है। यह रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने एवं मजबूत रखने का काम करता है। जिससे कई बीमारियों शरीर से दूर हो जाती है। साथ ही इम्यून सिस्टम के बेहतर होने से अपेंडिक्स के लक्षणों को कम करने में कुछ हद तक मदद मिल सकती है।

 

अदरक-

कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं में अदरक अच्छाकाम करता है। उन्हीं समस्याओं में से एक अपेंडिक्स भी है।चूंकि अदरक एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुणों से समृद्ध होता है। जो दर्द एवं सूजन दोनों से ही राहत दिलाने में मदद करता है। इसलिए अदरक के काढ़े का सेवन करना अपेंडिक्स में अच्छा होता है।

 

फलों के जूस का सेवन करें-

फलों के जूस, शरीर को हाइड्रेटेड रखने का काम करते हैं। इसके अलावा अपेंडिसाइटिस से राहत पाने के लिए भी फलों का जूस फायदेमंद होता हैं। फलों केअलावा गाजर और चुकंदर का जूस भीअपेंडिसाइटिसके लिए लाभप्रद साबित होता है। दरअसल चुकंदर में पाए जाने वाले एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण शरीर को सूजन से राहत दिलाने का काम करते हैं। साथ ही मल त्याग को बढ़ावा देते हैं और पाचन प्रक्रिया में भी सुधार करते हैं।

Read More
Ulcerative colitis- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 08 December, 2021

Ulcerative colitis- Causes, Symptoms and Home remedies

Ulcerative colitis is an inflammatory bowel disease (IBD) that mainly happens due to changes in routine and eating habits. This disease causes complaints of inflammation and irritation in the large intestine due to which there are ulcers in the colon and rectum of the large intestine. Ulcer in the large intestine is the cause of unbearable pain in the stomach. The symptoms of which develop gradually. If not treated on time, these blisters turn into wounds that can prove to be very dangerous after some time. At the same time, if it remains for a long time, then it can also become the cause of intestinal cancer. Therefore, as soon as this problem is detected, it is very important to start its treatment immediately.

 

Inflammation in the intestines is medically called ulcerative colitis. It can cause ulcers if left in the digestive system for a long time. Inflammation of the large intestine usually affects the inner part of the rectum. This problem can also cause internal bleeding and infection.

 

Types of Ulcerative colitis

There are several types of ulcerative colitis but according to the doctor, ulcerative colitis is divided on the basis of the places in the body which are as follows:

 

Ulcerative Proctitis-

This type of ulcerative colitis is common. In this type, the swelling is limited to around the rectum and bleeding from the anus is the only sign of the disease.

 

Proctosigmoiditis-

In this type of ulcerative, there is inflammation in the rectum and sigmoid colon (lower side of the abdomen). Symptoms include bleeding diarrhoea, abdominal pain, cramping and difficulty in defecating.

 

Left side colitis-

In this type of ulcerative colitis, the inflammation extends from the sigmoid colon, the bottom of the large intestine to the anus. In this, there are problems like pain in the left side of the abdomen, cramps and difficulty while defecating.

 

Pancolitis-

Pancolitis usually affects the sigmoid colon which causes severe bloody diarrhoea due to which complex problems like abdominal cramps, pain, fatigue, weakness and weight loss arise.

 

Symptoms of Ulcerative colitis

  • Diarrhoea with blood or pus.
  • Abdominal cramps.
  • Pain in the stomach and this pain intensify on an empty stomach.
  • Burning in the stomach and the burning sensation worsens at night.
  • Deterioration of the digestive system.
  • Anal pain.
  • Frequent urge to defecate.
  • Feeling of inability to defecate despite the desire.
  • Heartburn problem arising.
  • Loss of appetite.
  • Unexplained weight loss.
  • Feeling tired and weak.
  • Sudden rapid heart rate.
  • Inhibition of physical development of children.

Causes of Ulcerative colitis

According to the doctor, the exact cause of inflammation in the intestine is not clear. However, diet and depression are believed to be the main reasons. A variety of these factors can also cause inflammation or ulcers in the large intestine. These reasons include-

 
  • Impairment of immunity, a situation in which the bacteria attack rapidly. In this way, a bacterial infection is the main cause of ulcers. It is caused by contaminated food and water.
  • Being under more stress and depression.
  • Consuming excessive amounts of alcohol, caffeine and tobacco.
  • Taking painkillers for a long time.
  • Taking isotretinoin anti-acne drugs.
  • Consuming more food containing oily and chilli spices.
  • Genetic reason.
  • Suffering from liver, lung and kidney-related problems.

Precautions for Ulcerative colitis

  • Eat a balanced diet which includes a good amount of fibre, fruits and green vegetables.
  • Drink plenty of fluids and water.
  • Pay special attention to hand hygiene before eating.
  • Avoid consumption of tea, coffee, smoking etc.
  • Stay away from alcohol consumption.
  • Avoid consumption of fried and junk food.
  • Chew the food well while eating.
  • Don't stay hungry for long.
  • Have food on time.
  • Eat small meals five to six times a day instead of two to three times.
  • Do yoga and exercise regularly every day. By doing this, the digestive system of the body works smoothly.

Home remedies for Ulcerative colitis

Rice water-

Rice water is effective in treating ulcerative colitis as it controls the pH level of the intestine. It also reduces irritation in the oesophagus. Apart from this, the vitamins and minerals present in it also fulfil the deficiency of nutrients in the body.

 

Flaxseeds-

Flaxseeds are great for the treatment of ulcerative colitis because the element found in them works to relieve ulcerative colitis. Apart from this, the fatty acids and antioxidants present in flaxseed reduce infection and help in flushing out impurities from the body.

 

Probiotic-rich food-

To treat intestinal inflammation, eat probiotic-rich foods such as wheat, sweet potatoes, pickles, cabbage and paneer.

 

Curd-

Curd is an excellent source of probiotics. Therefore, eating curd is very beneficial in case of ulcers and inflammation.

 

Gooseberry-

Consume gooseberry jam if you have ulcerative colitis. Amla murabba helps in the quick recovery of intestinal inflammation.

 

Carrot-

Carrots are considered good for getting relief from ulcerative colitis because it is rich in fibre which enhances immunity. Apart from this, anti-inflammatory properties are found in it which provides relief from pain and burning in colitis. For this, carrot juice must be consumed once a day.

 

Banana-

Consuming raw bananas is also helpful in preventing ulcerative colitis due to the presence of an element called pectin which reaches the intestine and regulates the pH level and prevents diarrhoea or loose motion. Apart from this, peel and mash the green banana and mix it well with buttermilk. Now consume this mixture. Doing so helps in the treatment of ulcerative colitis.

 

Papaya-

Consumption of papaya proves to be effective in the treatment of many problems related to diarrhoea and stomach. The proteolytic enzymes like papain and chymopapain are found in papaya. These enzymes are enriched with antiviral, antifungal and antibacterial properties. Its antibacterial property plays an important role in preventing ulcerative colitis.

Read More
Symptoms and Home remedies for Stomach Infection

Posted 09 December, 2021

Symptoms and Home remedies for Stomach Infection

Most of the diseases affecting the body start from the stomach. The main reason for this is irregular routine and wrong eating habits, that is why most people consume some medicine daily on their own to clean their stomach. Whereas it is not right to take such medicines without the advice of a doctor, Stomach infection is slightly more common in the summer season because, in summer, people often become careless in their food and drink due to which they have to face stomach related problems. Apart from this, different types of viruses can also be the cause of some stomach problems.

 

How does stomach infection happen?

Sometimes due to disrupted eating routine, overeating and eating bad food leads to stomach infection. Apart from this, stomach infection can also occur due to bacteria which is an infection of the stomach and intestines. Thus, many stomach related problems start from along with stomach infection.

 

Food poisoning-

Food poisoning is also an important cause of stomach infection. In food poisoning, toxic substances enter the body through food due to which the person becomes ill. Apart from this, open and stored food for a long time also infect the stomach.

 

Symptoms of Stomach Infection

  • Pain with cramps in the abdomen.
  • Vomiting and nausea.
  • Inability to digest food properly.
  • Stomach bloating.
  • Vomiting with abdominal pain etc.

Home remedies for Stomach Infection

Clove

Clove works to eliminate stomach infection by eliminating small bacteria present in the body.

 

Turmeric

Mix 6 teaspoons of honey in 1 teaspoon of turmeric powder and keep it in an airtight jar, then take half a teaspoon of this mixture twice a day. By doing this, the stomach infection gets cured quickly.

 

Asafoetida

Consuming a small amount of Asafoetida with water on an empty stomach in the morning helps in eliminating stomach worms.

 

Honey

Consuming cinnamon powder mixed with honey cures many stomach related problems related to gastric.

 

Banana

Banana is an easily digestible fruit. Apart from this, it contains potassium, which is good for the stomach.

 

Other remedies or precautions for Stomach Infection are

  • Always eat fresh food.
  • Eat food on time.
  • Exercise regularly.
  • Follow the rules of food and routine properly.
  • Take salad and cold milk, cucumber, watermelon etc. in your diet.
  • Make yoga, asanas, pranayama, natural, ayurvedic remedies etc a part of your regular routine.
Read More
Digestive Disorder- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 17 March, 2022

Digestive Disorder- Causes, Symptoms and Home remedies

Nutrition in humans occurs through the digestive system. It consists of the alimentary canal and its associated glands. The main organs found in the human digestive system are the mouth, oesophagus, stomach, small and large intestine. Apart from this, it also contains the liver, gallbladder, pancreas. It is through these that digestion takes place in the body. All these organs produce juice to carry out the digestion process. Apart from this, the digestive system absorbs all the nutrients and also removes the bad substances out of the body.

 

When the organs of the digestive system start to weaken, the body does not develop properly. As a result, digestive problems start arising due to which a person suffers from Digestive Disorder. Due to a weak digestive system, food is not digested on time leading to a lot of trouble while defecating. Problems like heartburn, gas, acidity, bloating, abdominal distension, constipation and fatigue start arising due to not being able to digest food properly.

 

Symptoms of Digestive disorder

There are many symptoms of digestive system deterioration but not all symptoms are seen in only one person. It differs from person to person and is as follows-

 
  • Burning in chest.
  • Acidity or gas formation in the stomach.
  • Loss of appetite.
  • To be constipated.
  • Blood in stool.
  • Feeling tired.
  • Pushing harder while passing stool.
  • Sitting in the toilet for a long time.
  • The stomach is not clear even after defecation.
  • Feeling of heaviness in the stomach.
  • Abdominal cramps or pain.
  • Blisters in the mouth
  • To be upset.
  • Acne and pimples on the skin.
  • Flatulence or diarrhoea.

Causes of Impaired digestion system

There can be many reasons behind the poor digestion system. The problem of poor digestion is mainly related to our lifestyle and diet. Let us discuss these shortcomings -

 
  • Consuming more alcohol.
  • Not consuming fibre rich food.
  • Consuming fewer fluids.
  • Being allergic to foods.
  • Eating more sweet and fatty food.
  • Not eating food at the right time.
  • Consuming more oily and spicy foods.
  • Overuse of aspirin and anti-inflammatory drugs.
  • Lack of physical labour
  • Taking more health supplements medicines.
  • Stress, depression, or anxiety.
  • Stop defecation.
  • Not getting enough sleep.

Types of digestive disorders

It is mainly divided into two categories which are as follows-

 

Organic GI Disorders-

A person suffers from this when there are structural abnormalities in the digestive system which prevent it from working properly.

 

Functional GI Disorders-

In these disorders, the GI tract appears to be structurally normal but still is not able to work properly.

 

Serious illnesses due to the impaired digestive system

Constipation-

Constipation is a problem related to the digestive system in which there is more difficulty while passing stool. Constipation is the condition that the stool does not come out easily from the anus while passing the stool.

 

Intestinal Infection-

Many a time the problem of constipation starts due to infection in the intestines. This problem occurring in the intestines is called gastroenteritis. This disease occurs due to reasons like viruses, bacteria, food poisoning.

 

Inflammatory bowel disease-

Inflammatory bowel disease occurs when there is chronic inflammation in the digestive tract due to which there can be a problem of diarrhoea along with constipation.

 

Hypothyroidism-

Hypothyroidism would also have been a major cause of digestive system deterioration. It is responsible for hormone imbalance in the body which can be due to the deterioration of the digestive system.

 

Stomach Ulcer-

Due to stomach ulcers, people have to face difficulty in passing stool. In some people, it is also the cause of diarrhoea. A stomach ulcer is also called a peptic ulcer which occurs due to a wound or blister in the intestines. It mainly occurs in the lining of the digestive tract. Along with the stomach, it sometimes also happens in the small intestine. Thus, having ulcers in the stomach is also a reason for the deterioration of the digestive system. Apart from this, a bacterial infection in the stomach or taking more medicines like aspirin, ibuprofen can also cause stomach ulcers.

 

Piles-

Haemorrhoids are a type of inflammation which is in the anus and lower part (rectum). Inside the kidney and lower rectum, there is a network of small blood vessels (veins). Sometimes these veins become more dilated and fill with more blood than normal, then these nerves and the tissues above cause inflammation called piles. Haemorrhoids are very common in some people and develop heavy bleeding in some people. The main causes of piles are obesity, pregnancy, sitting in the toilet for a long time, having diarrhoea or constipation, straining while passing bowel movements, taking a low fibre diet, etc.

 

Immune system failure-

When the body's immune system fights off viruses and bacteria, a variety of disorders occur in the immune system which kills the healthy cells of the digestive system. As a result, the immune system starts weakening.

 

Acid reflux disease (GERD)-

When a person swallows food or anything, the sphincter weakens or fails to function properly due to which the acidic substances inside the stomach come back into the alimentary canal. These acidic substances irritate the lining of the food pipe. This phenomenon is called acid reflux disease. Apart from this, sometimes there is swelling and redness in the food pipe. The main reason for this is obesity, smoking, alcohol, pregnancy and consumption of an excessive amount of tea etc.

 

In case of digestive disorder, pay attention to the following things-

  • Include fresh fruits and vegetables in your diet.
  • Eat more fibre-rich foods such as legumes and whole grains.
  • Drink a sufficient amount of water daily.
  • Reduce intake of tea, coffee, smoking etc.
  • Do not exert too much force while passing bowel movements.
  • Avoid alcohol consumption.
  • Avoid consumption of fried and junk food.
  • Chew the food and do it slowly.
  • Do not drink water while eating.
  • Do not lie down immediately after a meal.
  • Walk and exercise regularly in the morning.

Tests for Digestive disorder

  • Stool test.
  • X-ray.
  • CT scan and MRI scan.

Home remedies for Digestive disorder

Fibre and protein-rich food-

Use fibre and protein-rich things in the diet, such as include green vegetables, pulses, soybeans, fenugreek, linseed seeds, etc. By doing this your digestion remains healthy.

 

Drink lukewarm water-

To keep the digestive system healthy, drink lukewarm water daily in the morning. It provides relief in stomach pain due to indigestion along with boosting digestion.

 

Lemonade-

The citric acid found in lemon reduces bacterial infection that causes constipation and gas problems. For this drink a glass of lukewarm water mixed with lemon juice.

 

Drink coconut water-

Drinking coconut water is a good option in the problem related to the digestive system. It has an antioxidant and gastroprotective activity which provides relief in gas and stomach related disorders. It also helps in increasing immunity.

 

Aloe vera juice-

Aloe vera has anti-bacterial properties which help to remove the infection of bacteria called Helicobacter pylori. It is helpful in getting rid of problems like gastritis. Therefore, it is very beneficial to drink aloe vera juice in your daily routine.

 

Fennel powder-

Fennel is used for removing acidity, reduce heartburn and digest food properly. For this, making powder of fennel and consuming it with lukewarm water cures stomach related disorders.

 

Ajwain powder-

Mix equal amounts of carom seeds, cumin seeds and black salt and fry them on a Tava (griddle). Now make a powder of this mixture and take half a teaspoon daily with lukewarm water. By doing this, constipation and gas related problems are relieved.

 

Consumption of curd and buttermilk-

In Ayurveda, buttermilk acts as a medicine in the treatment of digestive diseases because it has probiotic properties which work to keep the digestive system healthy.

 

Consumption of bael-

Consumption of bael fruit is very beneficial for constipation and stomach problems. Apart from this, drinking Bael's syrup is also beneficial in constipation and gas.

 

Consumption of Triphala Powder-

Vitamin C is found in abundance in Triphala which protects the digestive system from getting spoiled. For this, take one spoon of Triphala powder with lukewarm water every night at bedtime. Its use provides relief in problems like constipation etc.

 

Honey-

Taking honey mixed with lukewarm water provides relief in stomach related problems. Apart from this, oats, corn flakes, herbal tea etc. can be consumed with honey.

 

Peppermint oil-

Peppermint oil has long been used to improve the digestive system and treat stomach problems like diarrhoea, gas, constipation. Apart from this, peppermint oil is also used for the treatment of irritable bowel syndrome. For this, drinking 2 or 3 drops of mint extract mixed with half a glass of lukewarm water provides relief.

 

Ginger-

Drinking ginger juice mixed with hot water and sugar cures all diseases like gas and acidity. In Ayurveda, this mixture is considered effective in curing stomach related diseases. Apart from this, black tea with ginger can also be drunk for acidity.

Read More
What is Crohn's disease? Know its Symptoms, Causes and Treatment

Posted 17 March, 2022

What is Crohn's disease? Know its Symptoms, Causes and Treatment

Due to the hustle and bustle of life, all of us are unable to pay attention to our health and especially the things we eat due to which many types of stomach related diseases arise in the body. One of these diseases is Crohn's disease which can enter the body with abdominal pain, bloating, burning, diarrhoea, or other symptoms described in this blog. Therefore, correct information must be kept about this disease. Through this blog, we’ll know the causes, symptoms and what changes can be made in lifestyle to avoid it.

 

What is Crohn's disease?

Crohn's disease is a chronic (long-lasting) inflammatory bowel disease that is counted in the category of chronic disease. This disease causes swelling and redness in the lining of the digestive tract. This disease affects the digestive tract of a person with swelling and irritation. Apart from this, this inflammation can affect any part of the digestive system (from the mouth to the anus). It usually affects the small intestine (ileum) or large intestine (colon).

 

The digestive system is the part of the body that works to digest food. This includes the mouth, stomach, and intestines. If the digestive system is functioning normally, the body's immune system kills germs and bad cells but instead of killing the cells if the body's immune system starts attacking the healthy cells, so it is called an autoimmune response, this is what causes Crohn's disease. In this disease, the bad cells attack the thin lining of the digestive system that causes internal inflammation. Along with this, there may also be wounds i.e., ulcers and bleeding.

 

How common is this disease?

Crohn's disease can affect men and women or people of any age. This disease is mostly seen in people between the ages of 15 to 35 but by controlling its causes, this disease can be got rid of.

 

Symptoms of Crohn's disease

There are many symptoms of Crohn's disease but not all symptoms are spotted in only one person. It is seen differently in people which are as follows-

 
  • Pain and swelling in the intestine.
  • Ulcer in the intestines.
  • Loss of appetite.
  • Burning in chest.
  • To be constipated.
  • Blood in stool.
  • Feeling more tired.
  • Anaemia (lack of blood in the body) disease.
  • Weight loss.
  • Abdominal distention even after defecation.
  • Feeling of heaviness in the stomach.
  • Abdominal cramps or pain.
  • Blisters in the mouth.
  • To be upset.
  • Acne and pimples on the skin.
  • Flatulence or diarrhoea.
  • Failure of the child to develop.
  • Inflammation of the bile ducts.
  • Arthritis, joint pain.

Causes of Crohn's disease

There can be many reasons behind having Crohn's disease. The exact reason for which is not yet known but a weak immune system, viruses, and bacteria is the main reason. It is a type of immune disease in which the body's immune system attacks its gut, leading to swelling, pain, etc. Apart from this, the problem of having Crohn's disease is mainly related to our lifestyle and diet such as-

 
  • Excessive consumption of alcohol and smoking.
  • Not consuming fibre-rich food.
  • Consuming fewer fluids.
  • Eating more sweet and fatty food.
  • Not eating food at the right time.
  • Consuming extra oily and spicy food.
  • Overuse of aspirin and anti-inflammatory drugs.
  • Lack of physical labour.
  • Taking more health supplements medicines.
  • Heredity (familial disease-related) factors- If a parent, sibling or other family members already has Crohn's disease, there are high chances of developing this disease in other members.

Lifestyle changes and Home remedies for Crohn's disease

  • Include fresh fruits and vegetables in your diet.
  • Eat more fibre-rich foods such as legumes and whole grains.
  • Instead of eating two or three large meals, eat five or six small meals in small quantities.
  • Avoid eating foods that make symptoms worse.
  • Drink a sufficient amount of water daily.
  • Reduce intake of tea, coffee, smoking etc.
  • Avoid alcohol consumption.
  • Avoid consumption of fried and junk food.
  • Chew the food properly.
  • Do not drink water while eating.
  • Do not lie down immediately after a meal.
  • Walk and exercise regularly in the morning.

Tests for Crohn's disease

  • Blood test.
  • Stool test.
  • X-ray.
  • CT scan and MRI scan.

When to go to the doctor?

If you notice any of these symptoms, contact your doctor immediately-

 
  • Persistent pain in the stomach.
  • Bleeding in stools.
  • Fever persists for more than a day or two.
  • Rapid weight loss etc.
Read More
पाचन विकार के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 17 March, 2022

पाचन विकार के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

मनुष्यों में पोषण पाचन तंत्र के माध्यम से होता है। इसमें आहार नली (alimentary canal) और उससे जुड़ी ग्रंथियां (glands) होती हैं।  मनुष्य के पाचन तंत्र में  मुख्य रूप से पाए जाने वाले विभिन्न अंग मुंह, ग्रासनली/ भोजन नली (Oesophagus), पेट, छोटी और बड़ी आंत होते हैं। इसके अलावा इसमें लिवर, पित्ताशय की थैली, आग्रशय भी होते हैं। इन्हीं के द्वारा शरीर में पाचनक्रिया होती है। यह सभी अंग पाचन क्रिया को करने के लिए रस का निर्माण करते हैं। इसके अलावा पाचन तंत्र सभी पोषक तत्वों को अवशोषित और खराब पदार्थो को शरीर से बाहर भी निकालता है।

 

जब पाचन तंत्र के अंग कमजोर होने लगते हैं तो शरीर का विकास सुचारु रूप से नहीं हो पाता है। जिसके फलस्वरूप पाचन संबंधी समस्या उत्पन्न होने लगती है। जिससे मनुष्य पाचन संबंधी बीमारी (Digestive Disorder) से पीड़ित हो जाता है। पाचनतंत्र के कमजोर होने पर खाना समय पर हजम नहीं हो पाता। जिससे शौच करते समय बेहद परेशानी का सामना करना पड़ता है। खाने को ठीक से न पचा पाने के कारण सीने में जलन होना, गैस, एसिडिटी, सूजन, पेट की गड़बड़ी, कब्ज और थकान जैसी समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं।

 

पाचन विकार के लक्षण-

पाचन तंत्र बिगड़ने के बहुत से लक्षण होते हैं। लेकिन सभी लक्षण केवल एक ही व्यक्ति में देखने को नहीं मिलते हैं। यह अलग-अलग नजर आते हैं जोकि निम्न हैं;

 
  • सीने में जलन होना।
  • पेट में एसिडिटी या गैस का बनना।
  • भूख कम लगना।
  • कब्ज होना।
  • मल में रक्त आना।
  • थकावट महसूस करना।
  • मल त्याग करते समय अधिक जोर लगाना ।
  • लंबे समय तक शौचालय में बैठना।
  • शौच के बाद भी पेट साफ न होना।
  • पेट में भारीपन महसूस करना।
  • पेट में मरोड़ या दर्द होना।
  • मुंह में छाले पड़ना।
  • सिर में दर्द होना।
  • बदहजमी होना।
  • त्वचा में मुंहासे और फुंसियों का होना।
  • जी मिचलाना या मितली आना।
  • पेट फूलना या दस्त होना।

पाचन तंत्र खराब होने के कारण-

पाचन तंत्र खराब होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। पाचन तंत्र खराब होने की समस्या मुख्य रूप से हमारी जीवनशैली और खानपान से जुड़ी होती है। आइए चर्चा करते हैं इन्हीं कमियों के बारे में -

 
  • अधिक शराब का सेवन करना।
  • फाइबर युक्त भोजन का सेवन न करना।
  • तरल पदार्थों का कम सेवन करना।
  • खाद्य पदार्थों से एलर्जी होना
  • ज्यादा मीठा और फैटी फ़ूड खाना।
  • सही समय पर भोजन न करना।
  • ज्यादा तेल एवं मिर्च मसाले का सेवन करना।
  • एस्पिरिन और एंटी इंफ्लेमेटरी दवाओं अधिक उपयोग करना।
  • शारीरिक श्रम की कमी होना।
  • हेल्थ सप्लीमेंट्स दवाओं का अधिक सेवन करना।
  • तनाव, अवसाद या चिंता करना।
  • शौच को रोकना।
  • पर्याप्त नींद न लेना।

पाचन विकार के प्रकार-

इसे मुख्य रूप से दो श्रेणियों में विभाजित किया जाता है जो निम्न है;

 

कार्बनिक जीआई विकार-

इससे व्यक्ति तब पीड़ित होता है, जब पाचन तंत्र में संरचनात्मक असामान्यताएं होती हैं। जो इसे ठीक से काम करने से रोकती हैं।

 

कार्यात्मक जीआई विकार-

इन विकारों में, जीआई पथ संरचनात्मक रूप से सामान्य प्रतीत होता है। लेकिन फिर भी ठीक से काम नहीं कर पाता।

 

पाचन तंत्र ख़राब होने से गंभीर बीमारी-

कब्ज-

असल में कब्ज पाचन तंत्र से जुड़ी समस्या होती है। जिसमें मल त्याग करते समय अधिक कठिनाई होती है। मल त्यागते समय आसानी से मल एनस (गुदा मार्ग) से बाहर न निकलने की स्थिति को कब्ज कहते हैं।

 

आंतों में इंफेक्शन (Intestinal Infection)-

आंतों में इंफेक्शन होने से कई बार कब्ज की समस्या होने लगती है। आंतों में होने वाली इस समस्या को गैस्ट्रोएंटेरिटिस (Gastroenteritis) कहते हैं। यह बीमारी वायरस, बैक्टीरिया, फूड प्वाइजनिंग जैसे कारणों से होती है।

 

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज-

जब डाइजेस्टिव ट्रैक्ट (पाचन मार्ग) में क्रॉनिक इन्फ्लेमेशन होता है तो इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज (पेट दर्द रोग) होता है। जिसके कारण कब्ज होने के साथ डायरिया की दिक्कत भी हो सकती है।

 

हाइपोथायरायडिज्म-

हाइपोथायरायडिज्म भी पाचन तंत्र बिगड़ने का प्रमुख कारण होता। यह शरीर में हार्मोन असंतुलन के लिए जिम्मेदार होता है। जो पाचन तंत्र बिगड़ने के कारण बन सकता है।

 

पेट में अल्सर (Stomach Ulcer)-

पेट में अल्सर होने से मल त्यागने में लोगों को कठिनाई का सामना करना पड़ता है। कुछ लोगों में यह डायरिया (दस्त) का कारण भी होता है। पेट के अल्सर को पेप्टिक अल्सर कहते हैं। जो आंतों में घाव या छाला होने की वजह से होता है। यह मुख्य रूप से पाचन तंत्र की लाइनिंग में होता है। पेट के साथ यह कई बार छोटी आंत में भी हो जाता है। इस प्रकार पेट में अल्सर होना भी पाचन तंत्र बिगड़ने की एक वजह होती है। इसके अलावा पेट में बैक्टीरियल इन्फेक्शन होना या अधिक एस्पिरिन, ईबूप्रोफेन जैसी दवाओं के सेवन से भी पेट में अल्सर हो सकता है। 

 

बवासीर (Piles)-

बवासीर एक प्रकार की सूजन है। जो गुदा और निचले हिस्से (मलाशय) में होती है। गुर्दे और निचले मलाशय के भीतर अंदर की ओर छोटी-छोटी रक्त वाहिकाओं (नसों) का नेटवर्क होता है। कभी-कभी यह नसें अधिक चौड़ी हो जाती हैं और इनमें सामान्य से अधिक रक्त भर जाता हैं। तब यह नसें और ऊपर की ऊतकें (Tissues) बवासीर नामक सूजन को उत्पन्न करती हैं। बवासीर कुछ लोगों में बहुत आम और कुछ लोगों में अधिक रक्तस्राव विकसित करता हैं। बवासीर होने के प्रमुख कारण हैं- मोटापा, गर्भावस्था, शौचालय में लंबे समय तक बैठना, दस्त या कब्ज होना, मल त्याग करते समय अधिक जोर लगाना, कम फाइबर वाले आहार लेना इत्यादि।

 

इम्यून सिस्टम खराब होना-

जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली वायरस और बैक्टीरिया से लड़ती है, तो प्रतिरक्षा प्रणाली में कई प्रकार के विकार उत्पन्न होते हैं। जो पाचन तंत्र की स्वस्थ कोशिकाओं का खात्मा करते हैं। परिणामस्वरूप रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है।

 

एसिड भाटा रोग (GERD)-

जब मनुष्य भोजन या कुछ भी निगलता है तो स्फिंक्टर कमजोर पड़ने या सही तरीके से काम नहीं कर पाते हैं। जिसके कारण पेट के अंदर के अम्लीय पदार्थ वापस आहार नली में आ जाते हैं। यह अम्लीय पदार्थ भोजन नली की परत में जलन पैदा कर देते हैं। इस घटना को एसिड भाटा रोग कहा जाता है। इसके अलावा कभी-कभी भोजन नली में सूजन और लालिमा भी हो जाती है। इसका प्रमुख कारण मोटापा, धूम्रपान करना, शराब, गर्भावस्था और अधिक मात्रा में चाय इत्यादि। 

 

पाचन विकार होने पर निम्न बातों पर दे ध्यान-

  • ताजे फल एवं सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें।
  • अधिक फाइबर युक्त आहार जैसे फलियां और साबुत अनाज का सेवन करें।
  • प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • चाय, कॉफी, धूम्रपान आदि का सेवन कम करें।
  • मल त्याग करते समय अधिक जोर न लगाएं।
  • शराब के सेवन से बचें।
  • तले-भुने एवं जंक फूड के सेवन से बचें।
  • भोजन को चबाकर एवं धीरे-धीरे करें।
  • भोजन करते समय पानी न पिएं।
  • भोजन के उपरांत तुरंत न लेटें।
  • नियमित रूप से सुबह टहलें और व्यायाम करें।

पाचन विकार के परिक्षण-

  • अल्ट्रासाउंड।
  • स्टूल टेस्ट।
  • एक्स-रे।
  • सिटी स्कैन एवं एमआरआई स्कैन।

पाचन तंत्र रोग के घरेलू उपचार-

 

फाइबर एवं प्रोटीन युक्त भोजन-

 

भोजन में फाइबर और प्रोटीन युक्त चीजों का प्रयोग करें, जैसे हरी सब्जियां, दालें, सोयाबीन, दानामेथी, अलसी के बीज इत्यादि को शामिल करें। ऐसा करने से आपका हाजमा दुरुस्त रहता है।

 

गुनगुने पानी पीएं-

पाचन तंत्र को ठीक रखने के लिए प्रतिदिन सुबह गुनगुने पानी का सेवन करें। गुनगुना पानी पीने से पाचन के साथ अपच से होने वाले पेट दर्द में भी राहत मिलती है।

 

नींबू पानी पिएं-

नींबू में पाए जाने वाला सिट्रिक एसिड कब्ज एवं गैस की समस्या का कारण बनने वाले बैक्टीरिया के संक्रमण को कम करता है। इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर सेवन करें।

 

नारियल पानी पिएं-

पाचन तंत्र से जुड़ी समस्या में नारियल का पानी पीना अच्छा विकल्प है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव गतिविधि होती हैं। जो गैस एवं पेट संबंधित विकारों में आराम पहुंचाती हैं। साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करती है।

 

एलोवेरा जूस-

एलोवेरा में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो हेलिकोबैक्टर पाइलोरी नामक बैक्टीरिया के संक्रमण को दूर करने में मदद करते हैं। इसलिए यह गैस्ट्राइटिस जैसी समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार होते हैं। इसलिए अपने डेली रूटीन में एलोवेरा जूस पीना बेहद फायदेमंद होता है।  

 

सौंफ का चूर्ण-

एसिडिटी को दूर, सीने की जलन को कम और खाना अच्छी तरह से पचाने के लिए सौंफ का इस्तेमाल किया जाता हैं। इसके लिए सौंफ का चूर्ण बनाकर इसका गुनगुना पानी के साथ सेवन करने से पेट संबंधित विकार दूर होते हैं।

 

अजवाइन का चूर्ण -

अजवाइन, जीरा और काले नमक को समान मात्रा में मिलाकर तवे पर भून लें। अब इस मिश्रण का चूर्ण बनाकर प्रतिदिन आधा चम्मच गुनगुने पानी के साथ लें। ऐसा करने से कब्ज और गैस संबंधित समस्या में आराम मिलता है।

 

दही एवं छाछ का सेवन-

आयुर्वेद में पाचन संबंधी बीमारी के इलाज में छाछ औषधि के तरह काम करती है। क्योंकि इसमें प्रोबेटिक गुण पाए जाते हैं। जो पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने का काम करते हैं।

 

बेल का सेवन-

 

बेल फल का सेवन कब्ज एवं पेट की समस्या के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा बेल का शरबत पीना भी कब्ज एवं गैस में फायदेमंद होता है।

 

त्रिफला चूर्ण का सेवन-

 

त्रिफला में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। जो पाचन तंत्र को खराब होने से बचाता है। इसके लिए प्रतिदिन रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लें। इसके प्रयोग से कब्ज आदि समस्याओं में राहत मिलती हैं।

 

शहद-

शहद को गुनगुने पानी के साथ लेने पर पेट से जुड़ी समस्या में आराम मिलता है। इसके अतिरिक्त शहद के साथ ओट्स, कॉर्न फ्लैक्स, हर्बल टी आदि का सेवन कर सकते हैं।

 

पुदीने का तेल-

पुदीना तेल का प्रयोग लंबे समय से पाचन तंत्र को बेहतर कर दस्त, गैस, कब्ज जैसी पेट संबंधी समस्याओं का इलाज करने के लिए किया जाता रहा है। इसके अलावा पेपरमिंट ऑयल का इस्तेमाल इर्रिटेबल बॉउल सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome) के उपचार हेतु भी किया जाता है। इसके लिए 2 या 3 बूंद पुदीने के अर्क को आधे गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

 

अदरक-

अदरक के रस में गर्म पानी और शक्कर मिलाकर पीने से गैस और एसिडिटी जैसी तमाम बीमारियां दूर होती हैं। आयुर्वेद में इस मिश्रण को पेट संबंधित रोगों को दूर करने में कारगर माना जाता है। इसके अलावा अदरक वाली काली चाय को भी एसिडिटी के लिए पीया जा सकता है।

Read More
Stomach Bloating- Symptoms, Causes, and Home Remedies

Posted 20 December, 2021

Stomach Bloating- Symptoms, Causes, and Home Remedies

At present, diseases such as gas in the stomach, acidity, and flatulence have become very common problems. The main cause of these problems is the irregular and unbalanced lifestyle of the people which has a direct and bad effect on the stomach and overall health.

 
 

Occasionally flatulence or heaviness in the stomach is common because many a times it is also due to lack of sleep at night, overeating, or taking heavy food which is natural but if you start having problems with flatulence without eating or eating something for several consecutive days, then do not ignore it. Many times this problem can be caused by several stomach upset disorders or this may be an initial symptom of a terrible disease.

 

What is Stomach Bloating?

By the way, the main reason for flatulence is the gas produced in the stomach, which increases the size of the stomach. In common language, it is also called abdominal bloating. This problem occurs due to the filling of gas inside the small intestine of the stomach. There is an inner lining inside the stomach, called the mucosa. This layer consists of many small glands, which produce enzymes called stomach acid and pepsin to digest food. Among these, stomach acid helps in digesting food and pepsin enzyme protein. When there is swelling in this inner lining due to any reason, the problem of gas in the stomach starts due to which the production of pepsin enzymes and stumide acid is reduced earlier. As a result, there is a problem of stomach bloating.

 

Causes of Stomach Bloating

Due to flatulence, heaviness is felt in the stomach which does not indicate hunger and taste of food. Usually in winters, the problem of gas formation, heaviness of the stomach, and flatulence increases because in winter, metabolism and digestion of the stomach are less than normal due to which heavy food (food) is not easily digested. As a result, fatigue and laziness are felt all the time.

 

Lets know some of the main reasons for flatulence-

 
  • Lack of good food or diet.
  • Do not chew the food properly.
  • Eating more oily and spicy foods.
  • More use of carbohydrates as food.
  • Consumption of stale food.
  • Starve for a long time.
  • Do not eat on time.
  • Drinking water while eating food.
  • Lie down immediately after eating.
  • Constipation and gas problems.
  • The formation of water or fluids in the stomach.
  • Daily lifestyle disturbances.
  • Do not exercise and exercise.
  • Hormonal imbalance in the body.
  • Physical changes that occur when the period of the period.
  • Depression or under prolonged stress.
  • Long-term consumption of medicines.
  • Sitting in one place for several hours.
  • Any other disease in the body.
  • Living or visiting a place with pollution.
  • Lack of oxygen in the body.
 

Symptoms of Stomach Bloating

The stomach becomes larger than normal at the time of stomping blotting. In this condition, people have the following problems, which are called the main symptoms of stomach bloating-

 
  • Feeling of heaviness and stretchiness in the stomach.
  • Tightening or tightening of the stomach from the inside.
  • Stomach ache and that pain increases over time.
  • Stomach ache, constipation, and diarrhea problem.
  • Frequent gasification in the stomach.
  • Flatulence and sour belching along with gas formation.
  • Stomach cramps or torsion.
  • Fever with a stomach ache.
  • Vomiting and nausea-like mood.
  • Less hungry and frequent hiccups.
  • Feeling more tired without working.
  • Severe headache and weakness.
  • Nervousness and restlessness.
  • The occurrence of constant weight.
  • Irregular menstruation.
  • Pain while urinating.
  • Bleeding in the stool and changing the color of the stool.
 

Home Remedies to Avoid Stomach Bloating

Generally, to reduce the problem of flatulence, first, home remedies are adopted. Therefore, following the following home remedies, the problem of flatulence can be quickly got rid of.

 

Consumption of Asafoetida-

Asafoetida has antispasmodic, antiseptic, antimicrobial, and anti-inflammatory properties, which reduce gas, indigestion, and flatulence. Therefore, the consumption of asafoetida helps in stomach bloating.

 

Eating Pepper-

Black pepper has antibacterial, anti-inflammatory, anti-oxidant, and anti- carcinogenic properties, which provide protection to mucous membranes found in the stomach and intestines and improve metabolism. Additionally, black pepper produces hydrochloric acid in the stomach, which cleans the intestines. As a result, the problem of flatulence starts to be fixed.

 

Consumption of Licorice-

The licorice has anti-inflammatory properties, which reduces abdominal bloating. The licorice also helps in relieving stomach gas, sore throat, and cough-cold. Drinking the powder of licorice in water and drinking it prevents stomach bacteria and ulcers.

 

Consuming Potato juice-

Potatoes contain minerals, calcium, iron, phosphorus, and potassium, etc. Apart from this, alkaline salt is also found in large quantities in potato juice. Its intake works by reducing stomach acid, reducing stomach inflammation.

 

Consuming Almonds and Milk-

Consuming almonds and milk are effective home remedies for many diseases such as gas, constipation, and acidity because almond milk is a major source of vitamin-E, which is a natural antioxidant. Apart from this, almond milk also has properties like Vitamin-D, Vitamin-A, Protein, Omega-6, Calcium, Iron, Magnesium, and Potassium. Also, it has very fewer calories than other milk. Therefore, to alleviate the problem of flatulence and gas, consuming almond milk is good.

 

Taking Turmeric-

Turmeric contains curcumin, which gives it anti-inflammatory, antifungal, and antibacterial properties. Therefore, intake of turmeric helps in reducing gas burning and swelling. In addition, turmeric also has the property of correcting the problem of indigestion and ulcerative colitis (an intestinal disease).

 

Consuming Jaggery-

Jaggery has properties of minerals, vitamins, and fiber, which make the digestive system good which gives relief in constipation and acidity problems. Additionally, jaggery cleanses the blood and improves metabolism which cures the problem of flatulence.

 

Taking Honey-

Honey has antibacterial, anti-inflammatory, and antioxidant properties, capable of fighting the harmful bacteria that grow in the stomach, and works to heal the stomach lining caused by gas which relieves the problem of stomping blotting.

 

Taking Coconut Oil-

Coconut oil has antioxidant and anti-inflammatory properties, which can reduce the oxidative stress of the gas on the inner lining of the stomach due to which the swelling in the stomach can be reduced.

 

Consuming Ginger-

Ginger has antibacterial and anti-inflammatory properties, which are capable of reducing the inflammation in the stomach caused by an infection called Helicobacter pylori. Apart from this, ginger also helps in protecting against the disease caused by gas.

 

Consuming Apple Cider Vinegar-

It is good to eat apple vinegar when more acid is formed in the stomach. Drinking apple cider vinegar balances acid levels. It also helps to destroy bacteria that damage the inner lining of the stomach due to which flatulence is reduced.

 

Consuming green tea

Green tea is rich in antioxidant properties, which have a positive effect on the inner lining of the stomach. Due to this, the problem of gas gradually reduces and the size of the stomach or flatulence starts to decrease.

 

Consuming coconut water-

Many vitamins and nutrients are found in coconut water. Apart from this, it also has anti-inflammatory properties which reduces the inflammation in the stomach caused by gas.

 

Consuming aloe vera-

Aloe vera has anti-inflammatory properties, which help reduce inflammation of the inner lining of the stomach. Apart from this, aloe vera is also an antiseptic agent, which assists in killing the bacteria that spread the infection. Therefore, aloe vera gel is considered the best way to reduce gas burning in the stomach.

 

Eating Baking Soda-

Eating baking soda is a good option to get rid of the gas problem. In the stomach, it acts as an antacid. Its intake can reduce the level of acid in the stomach and reduce the problem of stomach bloating. Baking soda is also known as sodium bicarbonate.

 

Consuming lemonade-

Lemonade is a boon for every stomach problem because lemon contains citric acid, which is very beneficial for the stomach. Drinking lemon juice mixed with water in case of the problem of bloating is beneficial. Drinking lemon juice mixed with green tea is also good for the stomach.

 

Consuming Cumin Seeds-

Cumin seeds have anti-inflammatory and antibacterial properties, which relax in gas and other stomach diseases. So grind cumin seeds in a vial and mix black salt in it. After the meal, eat this churan with a sip of water. Doing this is very beneficial for the stomach.

 

Banana Consumption-

Banana is considered to be an excellent source of fiber, which improves digestion and cures gas, constipation, and flatulence.

 

Consuming Fennel Seeds-

Fennel seeds have antimicrobial properties, which have the potential to reduce abdominal pain, gas burning, and flatulence. Fennel cures the bloating of the stomach by removing the inflammation of the muscles of the digestive system.

 

When to go to the doctor?

  • Sudden weight loss with flatulence.
  • Yellowing of eyes and skin along with flatulence.
  • Cough and cold with flatulence.
  • Stomach ache not right after eating medicine.
  • When you feel pain from touching the stomach.
  • When the air does not drain properly from the stomach.
  • If there is more difficulty in digesting food.
  • If the blood starts coming with a stool at the time of flatulence and the problem of constipation, then, in this case, contact the doctor immediately because it can also be a sign of uterus cancer.
Read More
Stomach Ache: Types, Causes and Home remedies

Posted 20 December, 2021

Stomach Ache: Types, Causes and Home remedies

In the present time, abdominal pain has become a common problem. The main reason for this is the irregular lifestyle of the people which has a direct effect on their digestive system. Working for long hours, consuming excessive junk food due to lack of time, not sleeping properly, etc. causes indigestion or stomach problems. These become the main causes of stomach aches.

 

Feeling like a needle or nail prick in the stomach is called abdominal pain. It occurs in the upper or lower part of a person's abdomen whose intensity is sometimes light or sometimes very strong. This abdominal pain can be for a short time and even for a longer period of time. This pain occurs in the upper and lower abdomen on the right or left side and in the middle part.

 

Types of Abdominal pain

There are mainly three types of abdominal pain. The first is general abdominal pain, the second localized abdominal pain, and the third is cramping pain.

 

Common Abdominal Pain-

This pain occurs in half or more than half of the stomach. It is caused due to different diseases and sometimes it cures by itself without treatment. Most of the common abdominal pain is due to stomach-related problems like indigestion.

 

Local Abdominal Pain-

This pain occurs in one part of the stomach which starts suddenly and increases over time. Sometimes local abdominal pain is also a symptom of a serious problem. The biggest example of which is the pain of appendicitis which occurs in a permanent part of the stomach and after some time becomes a major disease. Most peptic ulcers (stomach ulcers) pain also begin in one part of the abdomen and gradually becomes severe. In this form, there is also a symptom of localized abdominal pain, swelling of any part of the stomach.

 

Cramping pain-

Cramping pain is also known as cramping or cramps in the stomach. One that keeps on coming and going. Most cramping pains are common which is due to the formation of gas in the stomach. In many women, it also occurs during menstruation. This pain of the spasm is not a concern but it can cause a serious problem if it stays for 24 hours or more.

 

Causes of Stomach ache

Stomach aches may result due to many reasons. These can range from normal gas formation to serious illnesses such as appendicitis. Apart from this, women also have stomach pain during pregnancy.

 

The main causes of stomach pain are as follows -

 
  • Food Poisoning.
  • Food allergies.
  • Stomach ulcer or abscess.
  • Constipation, Irritable Bowel Syndrome.
  • Inflammation of the digestive system.
  • Urinary tract infection.
  • Stomach flu (gastroenteritis).
  • Ulcerative colitis (swelling of the large intestine).
  • Menstrual cramps.
  • Lactose intolerance.

Some other causes of abdominal pain are-

 
  • Excessive eating.
  • Drinking water in excess.
  • Eating oily food spices for a long time.
  • Drinking contaminated water.
  • Eating junk food like pizza, burgers, ice cream, samosa.
  • Working for long hours on an empty stomach.
  • Eating stale food.
  • Eating dry meat. 
  • Home remedies to Avoid Stomach ache
  • To reduce stomach ache, people first resort to home remedies because home remedies are found quickly which helps in quick relief from pain.
 

Let's know about these home remedies-

 

Black Salt-

Make the powder by mixing an equal quantity of black salt, Yavakshar, parsley, dry ginger, and asafoetida (heeng). Now eat half a teaspoon of lime with lukewarm water after breakfast in the morning and dinner at night. It provides relief in stomach gurgles and stomach cramps.

 

Carom seeds-

  • Grind the equal quantity of carom seeds and dry ginger to make them fine. Now take this powder with lukewarm water on an empty stomach or after breakfast. This powder works to reduce stomach pain and increase appetite.
  • Taking carom seeds and asafoetida along with lukewarm water gives relief from stomach ache, gas, nausea, etc.
  • Grind jaggery with carom seeds and divide it into two parts. Eating one part in the morning and the other part in the evening prevents vomiting and flatulence.

Garlic juice-

Mixing one teaspoon of garlic juice with three teaspoons of plain water and taking it for one week provides relief in gas and stomach pain.

 

Mint-

Mixing the juice of mint, honey, and lemon juice and drinking with freshwater provides relief in stomachache.

 

Lemon juice-

Mixing black pepper and dry ginger powder in lemon juice and taking it with lukewarm water for two days relieves stomach ache and vomiting.

 

Dry Ginger-

Grind dry ginger, black pepper, asafoetida, rock salt, and make a paste. Now make a bowl-like shape of wet flour around the navel and mix this paste in mild lukewarm water and pour it into the navel. This activity helps in relieving Abdominal colic and abdominal pain.

 

Nutmeg and Lemon-

Mixing nutmeg with lemon juice and licking it provides relief in stomachache and gas problems.

 

Harad-

Grind Harad, black salt, pipli, and carom seeds properly and take it with hot water in the morning after breakfast and dinner, it reduces stomach gas. At the same time, the stomach also becomes clean as it removes the toxins from the stomach.

 
  • Things to keep in mind when you have Stomach pain
  • Reduce intake of oily food.
  • Reduce the intake of refined flour and gram flour.
  • Reduce your intake of tea and coffee.
  • Do not drink too much water after exercise.
  • Eat light meals during the night which is easy to digest and does not lead to the formation of gas.
  • Do not eat extra spicy food.
  • Get into the habit of eating on time.
  • Get complete sleep at night.
  • Get ​​up in the morning and drink one to two glasses of lukewarm water. So that the stomach can be cleaned well.
  • Do not hold the stool for too long.

When to go to the Doctor?

  • When there is unbearable pain in the stomach.
  • Vomiting with abdominal pain.
  • On feeling the swelling in the stomach.
  • Burning sensation in the stomach.
  • If there is more difficulty in digesting food.
  • If there is no relief in stomach pain even after having medicine.
  • If you start getting blood in stools and more problems along with constipation, then, in this case, contact the doctor immediately because it can also be a sign of uterus cancer.
Read More
Stomach Ulcers: Causes, Symptoms and Home Remedies

Posted 20 December, 2021

Stomach Ulcers: Causes, Symptoms and Home Remedies

Due to changes in lifestyle and diet nowadays, stomach ulcers are a common problem. A stomach wound is called a stomach ulcer. When this wound occurs in the stomach, it is known as Peptic Ulcer. Ulcers in the stomach are not only painful but also cause unbearable pain in the stomach.

 

 A peptic ulcer is a blister that forms on the inner surface of the stomach. If not treated in time, this blister turns into a wound, which can prove to be very dangerous after some time. This problem can also cause internal bleeding and infection. Therefore, it is very important to start treatment immediately as soon as this problem is known, otherwise, it can also cause several other problems that may be serious.

 

 What are Stomach Ulcers?

Peptic ulcers (ulcers) are lesions that occur in the upper part of the stomach or small intestine. This problem arises when the food digested acid starts to damage the inner mucous membrane of the intestine. The stomach has a smooth layer of mucus which protects the inner stomach layer from pepsin acid and hydrochloric acid. Although both these acids are necessary for digestion, at one time they can also harm the tissues of the body. In this way, stomach ulcers or stomach sores occur when the balance between the acid and mucous membranes deteriorates. It is usually in the upper membrane of the alimentary canal, stomach, and small intestine.

 

Types of Peptic Ulcers

Peptic ulcers are usually of three types-

 

Gastric Ulcer- These ulcers are inside the stomach.

Esophageal Ulcer- These ulcers occur in the alimentary canal.

Duodenal Ulcer- These ulcers occur in the upper part of the small intestine.

 Symptoms of Peptic Ulcer

The most common symptom of stomach ulcers is abdominal pain and burning sensation in the stomach. This burning sensation occurs from the navel to the chest and the pain may be severe or less. Sometimes this pain also leads to insomnia.

 

 Common symptoms of Stomach Ulcers are as follows-

 
  • Black-colored vomit.
  • Indistinct weight loss.
  • Sour burps.
  • Change in appetite.
  • Chest pain.
  • Abdominal bloating.
  • Difficulty in breathing.
  • Bleeding or dark-colored stools.
  • Abdominal pain and exacerbation of this pain on an empty stomach.
  • Stomach irritation that increases at night.
  • Vomiting of blood in more severe conditions.
  • Nausea and no desire to eat at all.

Causes of Peptic Ulcers

A variety of factors can cause ulcers to develop in the stomach, esophagus, and small intestine. These are-

 
  • A bacterial infection called Helicobacter Pylori is the most prominent cause of ulcers. It consists of contaminated food and water.
  • Consumption of alcohol, caffeine, and tobacco in large quantities.
  • Excess acid secretion inside the stomach.
  • Long-term use of painkillers.
  • Excessive intake of oily and spicy food.
  • Excessive consumption of drugs with osteoporosis.
  • Living under extreme stress and depression.
  • Excessive consumption of aspirin or anti-inflammatory drugs.
  • Genetic causes.
  • To be over 50 years of age.
  • Suffering from liver, lung, and kidney diseases.

 Precautions to avoid Peptic Ulcer

  • Avoid alcohol and smoking.
  • To avoid stomach infections, wash your hands thoroughly before eating.
  • Limited use of painkillers such as aspirin, ibuprofen, and naproxen.
  • Always drink water by boiling it.
  • Eat the vegetables thoroughly by washing them and cooking the food thoroughly.
  • Wash fruits and vegetables thoroughly as a salad before consuming them.
  • Eating a balanced diet rich in fruits, vegetables, and whole grains and maintaining a healthy lifestyle reduces the risk of stomach ulcers. Therefore, such foods should be consumed.
  • Get enough sleep.
  • Do not starve for long.
  • Eat on time.
  • Do not use antibiotics too often.

 Home remedies for Peptic Ulcers

  • For the treatment of stomach ulcers, eat food rich in probiotics like wheat, sweet potato, pickle, cabbage, and cheese.
  • Yogurt is a very good source of probiotics. Therefore, eating curd is very beneficial in the case of ulcers.
  • In case of stomach ulcers consume gooseberry jam. Gooseberry jam helps in the quick healing of stomach ulcers.
  • Eat a pinch of asafoetida in the raw banana vegetables. Doing this provides benefits in stomach ulcer disease.
  • Toast one-fourth teaspoon asafetida in ghee, mix one teaspoon of cumin, and a pinch of rock salt in it. It is a beneficial remedy for stomach ulcers.
  • If there is a blister in the stomach, drink half a teaspoon juice of betel leaves. It provides relief in stomach ulcers and pain.
  • Grind 4 to 5 raisins soaked in water overnight with two small harad. Taking it daily in the morning provides relief in symptoms like burning and vomiting in the ulcer.
  • In the morning, dissolve four to five teaspoons of bangles and fennel powder in two liters of water. Take this solution in the evening. Doing this regularly provides relief in peptic ulcers.
  • Grind 5 to 7 almonds and boil them in a glass of milk and consume it when it cools down. Almond milk provides relief from peptic ulcer problems.
  • Boil one teaspoon of fenugreek seeds in two cups of water. Now filter this water and add one spoon of honey to it. This remedy relieves symptoms of stomach ulcers.
  • Remove the juice by taking equal amounts of carrots and cabbage. Taking one cup of this juice daily in the morning and evening helps in the relief of peptic ulcers.
  • In the case of stomach blisters, squeezing half a lemon in half a cup of cold milk and drinking it relieves stomachache.
  • To get relief from the symptoms of stomach ulcers, grind the drumstick leaves and mix them with curd and eat. Do this for one to two days. The use of drumsticks is beneficial in stomach ulcers.

 When to go to the doctor?

  • Sudden weight loss due to peptic ulcer.
  • Unbearable pain in the abdomen.
  • If there is a severe burning sensation in the stomach.
  • In case of bleeding in vomit.
  • On feeling the swelling in the abdomen.
  • Difficulty in breathing due to ulcers.
  • Stomach ache not reduced even after taking the medicine.
  • When you feel pain from touching the stomach.
  • If there is more difficulty in digesting food due to ulcers.
  • If stomach ulcers are not treated on time, they can also become stomach cancer. Therefore, if any of the above symptoms appear, contact the doctor immediately.
 
Read More
एसिडिटी के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

एसिडिटी के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

एसिडिटी पाचन तंत्र से संबंधित एक नॉर्मल प्रॉब्लम है। जो लगभग हर एक व्यक्ति को होती है। यह समस्या अधिक तेल, मसालेदार और कभी-कभी अनुचित भोजन करने के कारण होती है। जिससे व्यक्ति को पेट की जलन और खट्टी डकारों का सामना करना पड़ता है।

 

‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ रिपोर्ट की माने तो भारत में करीब एक करोड़ लोग एसिडिटी (पेट में जलन) की समस्या से ग्रस्त हैं। वैसे तो एसिडिटी एक आम समस्या है, पर कुछ लोगों में यह समस्या समय के साथ बढ़ने लगती है। इसलिए इसको नजरअंदाज करना ठीक नहीं है।

 

एसिडिटी क्या है?

भोजन करने के बाद और अन्य समय में हमारा पेट हाइड्रोक्लोरिक एसिड का स्राव करता है। जो खाने को तोड़कर पचाने में मदद करता है। लेकिन कभी-कभी पेट में गैस्ट्रिक ग्लेंड या हाइड्रोक्लोरिक एसिड का उत्पादन सामान्य से बढ़ जाता है। और एक समय के बाद यह एसिड पेट की भोजन नली में आ जाता है। जिसके कारण पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द और खट्टी डकार शुरू हो जाती हैं। इस स्थिति को एसिडिटी (Acidity) कहते हैं।

 

एसिडिटी के कारण;

एसिडिटी कई कारणों से होती हैं। जिनमें से कुछ कारण निम्नलिखित हैं-

 
  • सामान्य से अधिक भोजन कर लेना।
  • अधिक नमक वाले खाने का सेवन करना।
  • ज्यादा मिर्च-मसाले और तेल वाला भोजन करना।
  • ज्यादा एसिड पदार्थों का सेवन करना।
  • भोजन का ठीक से न पचना।
  • भोजन करके तुरंत लेटना या सो जाना।
  • अधिक समय तक भूखा रहना।
  • दर्दरोधी दवाओं का अधिक सेवन करना।
  • पूरी नींद न लेना।
  • अधिक तनाव लेना। जिससे भोजन को हजम होने में कठनाई होती है।
  • अधिक धूम्रपान करना।
  • अधिक मात्रा में शराब और कैफीन युक्त पदार्थों का सेवन करना।
  • गर्भवती महिलाओं में भी एसिड रिफ्लक्स (Acid reflux) की समस्या हो जाती है।

एसिडिटी के लक्षण;

  • सीने में जलन होना।
  • मितली और उल्टी होना।
  • अधिक डकार आना।
  • मुंह का स्वाद कड़वा होना।
  • पेट का फूल जाना।
  • खट्टी डकारे आना और डकार के साथ कई बार खाने का भी गले तक आ जाना।
  • सिर और पेट में दर्द होना।
  • बेचैनी होना।
  • सूखी खांसी आना।
  • लगातार हिचकी आना।
  • सांस लेते समय बदबू आना।
  • मल में खून या काले मल का आना।

एसिडिटी को ठीक करने के घरेलू उपाय;

  • भोजन करने के बाद सौंफ चबाने की आदत डालें। क्योंकि इससे भोजन जल्दी पचता है और एसिडिटी की समस्या नहीं होती।
  • गुड़ पाचन क्रिया को सुधारकर पेट की अम्लता (एसिडिटी) को कम करता है। इसलिए भोजन के साथ या बाद में कभी भी गुड़ का सेवन जरूर करें।
  • मुन्नका एसिडिटी और पेट के अन्य रोगों के लिए रामबाण औषधि है। रोजोना 6-8 मुन्नका को एक गिलास दूध में उबालकर खाने से कब्ज और एसिडिटी की समस्या दूर रहती है। दूध के साथ गुलकंद का सेवन करने से भी एसिडिटी खत्म होती है।
  • पांच से सात तुलसी के पत्तों को पानी में उबालें। पानी के ठंडा होने पर चीनी को मिलाकार सेवन करें। इससे पेट की अम्लता में कमी होती है
  • दालचीनी नैचुरल एंटी-एसिड के रूप में काम करती है। यह पाचन शक्ति को बढ़ाकर अतिरिक्त एसिड बनने से रोकती है। जिससे एसिडिटी की समस्या नहीं होती।
  • एलोवेरा का जूस एसिडिटी और पेट में होने वाली जलन में फायदा करता है। इसलिए एसिडिटी की समस्या से बचने के लिए रोजाना एलोवेरा के जूस का सेवन करना चाहिए।
  • एसिडिटी या पेट में जलन होने पर नारियल पानी पीने से आराम मिलता है।
  • रात भर नीम की छाल को पानी में भिगने दें। सुबह इस पानी को छानकर सेवन करें। इससे एसिडिटी की समस्या दूर होती है। इसके अलावा नीम की छाल को पिसकर चूर्ण के रूप में इस्तेमाल करने से भी एसिडिटी ठीक होती है।
  • मुलेठी को पीसकर चूर्ण या काढ़े के रूप में सेवन करने से एसिडिटी और गले की जलन में आराम लगता है।
  • एक गिलास दूध में चुटकी भर अश्वगंधा पाउडर मिलाकर पीने से एसिडिटी ठीक होती है।
  • गिलोय की जड़ के टुकड़ों को पानी में उबालें। इसको चाय की तरह पीने से एसिडिटी में आराम मिलता है।
  • एक चम्मच सौंफ, एक चम्मच अजवाइन, एक चम्मच जीरा और एक चम्मच सावा के बीज को पानी में उबालें। अब पानी को छानकर दिन में दो से तीन बार पिएं। ऐसा करने से एसिडिटी और पेट की अन्य समस्याओं में राहत मिलती है।
  • गुलाब के फूल, आंवला और सौंफ को पिसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को रोज सुबह-शाम आधा-आधा चम्मच लेने से एसिडिटी में आराम मिलता है।
  • शहद में दालचीनी के चूर्ण और यष्टिमधु (Yashtimadhu) को मिलाकर गोलियां बनाकर रख लें। अब इन्हें एसिडिटी होने पर आवश्यकतानुसार चूसें।

एसिडिटी में रखें इन चीजों से परहेज-

  • अधिक भोजन न करें।
  • ज्यादा तेल और मिर्च-मसाले वाला भोजन करने से बचें।
  • फास्ट फूड से दूरी बनाएं।
  • टमाटर और अन्य खट्टे फलों से दूर रहें।
  • नशीले पदार्थों का सेवन न करें।
  • धूम्रपान से दूरी बनाएं।
  • कम से कम आठ घंटे की नींद जरूर लें।
  • वजन को नियंत्रित रखें।

 कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • पेट में असहनीय दर्द होने पर।
  • दर्द के साथ सांस लेने में दिक्कत होने पर।
  • छाती में तेज दर्द और बेचैनी होने पर।
  • खट्टी डकार के साथ उल्टी आने पर।
  • उल्टी में खून आने पर।
  • तेजी से वजन घटने और बढ़ने पर।
  • निगलते वक्त दर्द या जलन महसूस होने पर।
  • मल में खून आने पर।
Read More
पेट के छालों का कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 20 December, 2021

पेट के छालों का कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

आजकल की लाइफस्‍टाइल और डाइट में बदलाव के कारण पेट में अल्‍सर होना एक आम समस्या है। पेट के घाव को पेट का अल्सर कहा जाता है। जब यह घाव आमाशय में हो जाता है, तो उसे पेप्टिक अल्सर (Peptic Ulcer) कहते हैं। पेट में अल्सर होना सिर्फ तकलीफदेह ही नहीं होता है बल्कि पेट के असहनीय दर्द का कारण भी होता है। पेप्टिक अल्सर पेट की अंदरूनी सतह पर बनने वाला छाला होता है। समय पर इलाज न मिलने पर यह छाला जख्म में बदल जाता है, जो कुछ समय बाद बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। यह समस्या आंतरिक रक्तस्राव और संक्रमण का कारण भी बन सकती है। इसलिए इस समस्या का पता चलते ही तुरंत इसका उपचार शुरू करना बेहद जरूरी होता है अन्यथा यह अन्‍य समस्‍याओं का कारण भी बन सकता है। 

 

क्या होते हैं पेट के अल्सर?

 

पेप्टिक अल्सर (छाले) ऐसे घाव होते हैं, जो आमाशय या छोटी आंत के ऊपरी हिस्से में होते हैं। जब भोजन पचाने वाला एसिड आंत की भीतरी श्लैष्मिक झिल्ली को नुकसान पहुंचाने लगता है तो यह समस्या उत्पन्न होने लगती है। दरअसल, पेट में म्यूकस (बलगम) की एक चिकनी परत होती है, जो पेट की भीतरी परत को पेप्सिन एसिड और हाइड्रोक्लोरिक एसिड से बचाती है। हालांकि यह दोनों एसिड पाचन क्रिया के लिए जरूरी होते हैं, लेकिन एक समय पर यह शरीर के ऊत्तकों को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। इस तरह एसिड और म्यूकस झिल्ली के बीच का संतुलन बिगड़ने पर पेट में अल्सर या पेट के घाव होते हैं। आमतौर पर यह आहार नली, पेट और छोटी आंत के ऊपरी झिल्ली में होता है। 

 

कितने तरह के होते हैं पेप्टिक अल्सर?

 

पेप्टिक अल्सर आमतौर पर तीन तरह के होते हैं।

 

गैस्ट्रिक अल्सर (Gastric ulcer)- यह अल्सर पेट के अन्दर होते हैं।

एसोफेजल अल्सर (Esophageal ulcer)- यह अल्सर आहार नली में होते हैं।

डूआडनल अल्सर (Duodenal ulcer)- यह अल्सर छोटी आंत के ऊपरी भाग में होते हैं। 

क्या होते हैं पेप्टिक अल्सर के लक्षण?

 

पेट में अल्सर होने का सबसे आम लक्षण पेट में दर्द और जलन होना है। यह जलन नाभि से छाती तक होती है और दर्द कम या ज्यादा हो सकता है। कभी-कभी यह दर्द रात के समय अनिद्रा का कारण भी बनता है।

 

पेट में अल्सर (छाले) के सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं-

 
  • उल्टी होना।
  • उल्टी में काला रंग निकलना।
  • अस्पष्ट रूप से वजन घटने लगना।
  • खट्टी डकारों का आना।
  • भूख में परिवर्तन होना।
  • छाती में दर्द होना।
  • पेट में सूजन महसूस होना।
  • सांस लेने में कठिनाई महसूस होना।
  • मल में खून आना या काले रंग का मल आना।
  • हार्ट बर्न (Heartburn) की समस्या उत्पन्न होना।
  • पेट में दर्द होना और खाली पेट रहने पर इस दर्द का और तेज होना।
  • पेट में जलन होना और रात के समय जलन का बढ़ जाना।
  • अधिक गम्भीर स्थितियों में खून की उल्टी होना।
  • मल का रंग गहरा होना।
  • जी मिचलाना और खाने की बिल्कुल इच्छा न करना। 

किन कारणों से होते हैं पेप्टिक अल्सर?

 

विभिन्न प्रकार के कारक पेट, ग्रासनली (एसोफैगस) और छोटी आंत में छाले (अल्सर) उत्पन्न करने का कारण बन सकते हैं। इसमें शामिल है-

 
  • हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (Helicobactor Pylori) नामक बैक्टेरिया का संक्रमण अल्सर होने का सबसे प्रमुख कारण है। यह दूषित भोजन एवं पानी के होता है।
  • अधिक मात्रा में शराब, कैफीन और तम्बाकू का सेवन करना।
  • पेट के अंदर अधिक मात्रा में एसिड का स्राव होना।
  • लम्बे समय तक दर्द निवारक दवाओं का सेवन करना।
  • तैलीय और मिर्च मसाले युक्त भोजन का अधिक सेवन करना।
  • ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) वाली दवाओं का अधिक सेवन करना।
  • अत्यधिक तनाव और अवसाद में रहना।
  • एस्पिरिन (Aspirin) या ज्वलनरोधक दवाओं का अधिक सेवन करना।
  • अनुवांशिक कारण।
  • डायबिटीज।
  • 50 से अधिक उम्र होना।
  • लिवर, फेफड़े और किडनी संबंधी बिमारियों से ग्रस्त होना। 

पेप्टिक अल्सर से बचने के लिए बरतें यह सावधानियां;

 
  • शराब से परहेज रखें।
  • धूम्रपान न करें।
  • पेट के संक्रमणों से बचने के लिए खाने से पहले अपने हाथों को अच्छे से धोएं।
  • दर्द निवारक दवाओं जैसे एस्पिरिन, इबुप्रोफेन (ibuprofen) और नेप्रोक्सेन (naproxen (Aleve)) का सीमित उपयोग करें।
  • पानी को हमेशा उबालकर पिएं।
  • सब्जियों को अच्छी तरह से धोकर और भोजन को पूरी तरह से पकाकर खाएं।
  • फल और सलाद के रूप में सब्जियों का सेवन करने से पहले उन्हें अच्छे से धोएं।
  • फल, सब्जियां और पूरे अनाज में समृद्ध संतुलित भोजन खाने से और स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने से पेट में अल्सर होने का खतरा कम हो जाता है। इसलिए इस तरह क खाद्य पदार्थों का सेवन करते रहना चाहिए।
  • पर्याप्त नींद लें।
  • अधिक देर तक भूखे न रहें।
  • नियमित समय पर भोजन करें।
  • एंटीबायोटिक दवाओं का प्रयोग कम से कम करें। 

पेप्टिक अल्सर से बचने के घरलू उपाय;

 
  • पेट के छालों के इलाज के लिए प्रोबायोटिक्स (probiotics) युक्त खाद्य पदार्थ जैसे- गेहूं, शकरकंद, आचार, गोभी और पनीर का सेवन करें।
  • दही प्रोबायोटिक्स का बहुत अच्छा स्त्रोत है। इसलिए अल्सर होने पर दही खाना बहुत ही फायदेमंद होता है।
  • पेट में अल्सर होने पर आंवले के मुरब्बे का सेवन करें। आंवला का मुरब्बा पेट के अल्सर को जल्दी ठीक में मदद करता है।
  • कच्चे केले की सब्जी में एक चुटकी हींग मिलाकर खाएं। ऐसा करने से पेट के अल्सर रोग में फायेदा मिलता है।
  • घी में एक चौथाई चम्मच हींग को भूनकर, इसमें एक चम्मच जीरा और एक चुटकी सेंधा नमक मिलाकर सेवन करें। पेट में अल्सर होने पर यह एक लाभदायक उपाय है।
  • पेट में छाले होने पर पान के हरे पत्तों का आधा चम्मच रस रोजाना पिएं। यह पेट के अल्सर व दर्द में आराम करता है।
  • रातभर पानी में भिगे 4 से 5 मुनक्के को दो छोटी हरड़ के साथ पीस लें। रोज सुबह इसका सेवन से अल्सर में होने वाली जलन और उल्टी जैसे लक्षणों में राहत मिलती है।
  • सुबह चार से पांच चम्मच चूड़े और सौंफ के चूर्ण को दो लीटर पानी में घोलकर रख दें। शाम को इस घोल का सेवन करें। नियमित रूप से ऐसा करने से पेप्टिक अल्सर में आराम मिलता है।
  • 5 से 7 बादाम को पीसकर एक गिलास दूध में उबालें और ठण्डा होने पर इसका सेवन करें। बादाम वाला दूध पेप्टिक अल्सर की परेशानी में आराम दिलाता है।
  • एक चम्मच मेथी के दानों को दो कप पानी में उबालें। अब इस पानी को छानकर इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर सेवन करें। यह उपाय पेट में अल्सर होने पर उसके लक्षणों से आराम दिलाता है।
  • गाजर और पत्तागोभी को बराबर मात्रा में लेकर जूस निकालें। रोज सुबह-शाम एक कप इस जूस का सेवन करना पेप्टिक अल्सर में आराम करता है।
  • पेट के छाले होने पर आधे कप ठण्डे दूध में आधा नींबू निचोड़कर पीने से पेट दर्द में राहत मिलती है।
  • पेट में अल्सर के लक्षणों से राहत पाने के लिए सहजन के पत्तों को पीसकर दही के साथ मिलाकर खाएं। ऐसा दिन में एक से दो करें। सहजन का प्रयोग पेट के छालों में लाभकारी होता है। 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

 
  • पेप्टिक अल्सर के कारण अचानक वजन कम होने पर।
  • पेट में असहनीय दर्द होने पर।
  • पेट में तेज जलन होने पर।
  • उल्टी में खून आने पर।
  • पेट में सूजन महसूस होने पर।
  • छालों की वजह से सांस लेने में कठिनाई होने पर।
  • दवा खाने के बाद भी पेट दर्द कम न होने पर।
  • पेट को छूने भर से दर्द महसूस होने पर।
  • अल्सर के कारण खाना पचाने में अधिक दिक्कत होने पर।
  • पेट के अल्सर का इलाज समय पर न कराने से यह पेट का कैंसर भी बन सकता है। इसलिए उपरोक्त में से कोई भी लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें।
Read More