Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

What is Blood Infection (Sepsis)? Know its Causes, Symptoms and Prevention

Posted 27 January, 2022

What is Blood Infection (Sepsis)? Know its Causes, Symptoms and Prevention

Blood infection is also known as sepsis or septicemia. It is a disease caused by infection. This condition occurs when chemicals that dissolve in the blood to fight infection cause inflammation or irritation in the body due to which many changes occur in the body. As a result, many organs in the body get damaged or their functionality gets interrupted. In such a situation, people should contact the doctor immediately because ignoring it can cause rapid spread of infection in the body due to which it takes the form of septic shock. Many parts of the body stop working and blood pressure starts decreasing suddenly. This may lead to the death of a person. The initial symptoms can be cured by some home remedies or by changing daily routine.

 

Symptoms and Stages of Blood Infection Sepsis

 

There is no single symptom of sepsis. It consists of a combination of symptoms. On the basis of these symptoms, the stage of blood infection is divided into three parts in which the first is the initial condition of sepsis, the second is the severe sepsis and the last is the condition of septic shock. Let's talk about its stages and symptoms which are as follows-

 

Early Blood Infection(Sepsis)

 

To test or diagnose sepsis, the following symptoms must be noted in the patient-

  • Breathing rapidly.
  • Likely or confirmed infection.
  • Change in body temperature.
  • Rapid heartbeat i.e more than 90 beats per minute.

 

Symptoms of Severe Sepsis

 

In the severe stage of sepsis, the patient experiences many symptoms but some of them are as follows-

  • Difficulty in breathing.
  • Rapid drop in platelet count.
  • Feeling of loss of urine.
  • Change in the mental state of the person.
  • Abnormally pumping by the heart.
  • Unbearable pain in the stomach.

 

Symptoms of Septic Shock

 

Symptoms of septic shock are similar to those of severe sepsis but there are fluctuations in blood pressure. In this condition, many parts of the body stop working and blood pressure starts decreasing suddenly due to which the person may even die. Therefore, doctors resort to fluids to normalize the patient's blood pressure.

 

Causes of Blood Infection Sepsis

 

There are many reasons behind blood infection but the main reason for this is a malfunction in the immune system (weakening of immunity). Since the immune system works to protect the body from invading germs or viruses but if for some reason there is a defect or disturbance in it, then problems like blood infection start to occur. This disease is mostly caused due to under reaction or overreaction.

 

Under Reaction

In this condition the immune system of the patient is unable to function properly or stops working.

 

 

Over reaction

This condition occurs when a virus or bacteria acts as a trigger for the immune system.

 

 

Other causes of blood infection are

 

  • Bone infection.
  • Scratches or injury to the upper part of the skin.
  • Steroid medicines.
  • Older people especially when they are suffering from other health-related diseases.
  • Diabetes.
  • Unsafe delivery of pregnant women.
  • Pneumonia, appendicitis, meningitis and urinary tract infection.

 

Prevention methods of Blood Infection (Sepsis)

 

Infections spread more rapidly in people who have a weakened immune system. In such a situation, they should take special care of themselves and follow the prevention methods listed below-

  • Get vaccinated regularly. Get your young children vaccinated for pneumonia, flu, or other infections from time to time.
  • Pay special attention to cleanliness. Take a bath daily.
  • Wash hands thoroughly with soap before eating.
  • Drink plenty of water and fluids.
  • Take care of bruises, wounds or scratches on the body.
  • Old people should especially take care of water intake.
  • Get your pulse, temperature, blood pressure and respiratory rate checked regularly.
  • Women should avoid getting the flu during pregnancy.

 

Home remedies for Blood Infection (Sepsis )

 

 

Consumption of foods rich in vitamin C

 

Vitamin C-rich substances play an important role in the treatment of blood poisoning. It helps in preventing the early symptoms of most blood infections. It aids in the growth and repair of damaged cells in the body. Vitamin C is an immunity booster and is also helpful in healing wounds. It helps patients fight bacteria in the blood and improve the functioning of small blood vessels.

 

Turmeric

 

Turmeric is widely known as a natural remedy for many ailments, including blood poisoning. It increases the amount of protein in the body. Apart from this, the antibacterial and antibiotic properties present in it work to fight and protect against various types of infections occurring in the body. Therefore, turmeric is considered to be the most effective medicine in getting rid of infection.

 

Garlic

 

Garlic is also a great natural immunity booster. Hence it is an effective natural remedy for blood infection i.e. sepsis. It contains a component called allicin, which prevents blood infection. Consuming garlic regularly with honey gets rid of blood poisoning.

 

Honey

 

Honey is considered great for controlling the immune system. It effectively fights bacteria that cause sepsis. Consuming honey helps to cure all kinds of infections. Apart from this, if it is applied on the wound, it also helps in healing the wound.

 

Slippery elm

 

Treating a cut or wound with slippery elm can prevent bacteria from entering the body through the wound.

 

Potato

 

Potato juice is considered an effective remedy for sepsis inflammation that appears on the skin. Keeping potato slices on the affected parts and rubbing them with light hands for 15-20 minutes reduces swelling.

Read More
एनीमिया के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

एनीमिया के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

एनीमिया को हिंदी में रक्ताल्पता कहते हैं। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर के अंदर खून की कमी हो जाती है। पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में एनीमिया की शिकायत ज्यादा पाई जाती है। इसका मुख्य कारण मासिक धर्म होता है। इसलिए समय रहते एनीमिया का उपचार न किया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकता है। इसके अलावा लंबे समय से चलने वाले एनीमिया से रक्त में ऑक्सीजन की कमी, ह्रदय, मस्तिष्क और शरीर के अन्य हिस्से प्रभावित हो सकते हैं। इसलिए एनीमिया के कारण, लक्षण और निदानों के बारे में जानना एवं समझना बेहद आवश्यक है।

 

एनीमिया (खून की कमी) क्या है?

एनीमिया एक ऐसी अवस्था है जिसमें लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या सामान्य से कम हो जाती है। ऐसी स्थिति तब होती है जब शरीर के रक्त में पर्याप्त मात्रा में हीमोग्लोबिन नहीं बन पाता। हीमोग्लोबिन आयरन एक युक्त प्रोटीन है, जिसकी वजह से रक्त का रंग लाल होता है। यह प्रोटीन लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद ऑक्सीजन को शरीर के अन्य अंगों तक पहुंचाने में सहायता करता है। यदि शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन युक्त रक्त नहीं मिलता तो शरीर में थकान, कमजोरी और अन्य तरह के नकारात्मक लक्षण उत्पन्न होने लगते हैं।

 

एनीमिया होने के कारण क्या है?

  • शरीर में विटामिन और आयरन की कमी होना।
  • आयरन युक्त भोजन का सही मात्रा में सेवन न करना।
  • शौच, उल्टी, खांसी के वक्त खून आना।
  • महिलाओं को मासिक के दौरान अधिक मात्रा में रक्त का स्राव होना।
  • बार-बार गर्भ धारण करना।
  • पेट के कीड़ों और परजीवियों के कारण खूनी दस्त होना।
  • दुर्घटना, चोट, घाव आदि में अधिक खून बहना।
  • पेट में अल्सर या सूजन होना।
  • बुढ़ापे के कारण शरीर में खून की कमी होना।
  • लंबे समय से मधुमेह, बवासीर, लुपस जैसी बीमारियां से पीड़ित रहने पर।
  • एक वर्ष से कम आयु के शिशुओं को गाय या बकरी के दूध का सेवन कराने पर।

एनीमिया के लक्षण-

 

एनीमिया के सबसे आम लक्षण आंखों का पीलापन, थकान और कमजोरी महसूस होना हैं। लेकिन इसके कुछ अन्य लक्षण भी होते हैं। जो किसी एक ही व्यक्ति में नहीं होते हैं। बल्कि विभिन्न प्रकार से व्यक्तियों में नजर आते हैं। आइए जानते हैं इन अन्य लक्षणों के बारे में;

 
  • त्वचा, होंठ, मसूड़ों, नाखून आदि का पीला पड़ना।
  • चक्कर आना या बेहोश होना।
  • तेज सिरदर्द होना।
  • पैरों के तलवों और हथेलियों का अधिक ठंडा होना।
  • सांस लेने में लगातार परेशानी होना।
  • चलते या हल्का दौड़ने में हांफना जाना या सीने में दर्द होना।
  • दिल की धड़कनों का तेज होना।
  • स्पष्ट सोचने में दिक्कत या भ्रम का अनुभव होना।
  • शिशुओं और बच्चों का धीमा विकास होना।

एनीमिया के प्रकार-

 

आयरन डिफिशिएंसी एनीमिया (Iron Deficiency Anemia)-

 

आयरन डिफिशिएंसी एनीमिया, एनीमिया के प्रकारों में से एक है। जिसका आशय है खून में आयरन की कमी होना। हीमोग्लोबिन में उपस्थित आयरन ऑक्सीजन के साथ बंध बनाकर रक्त के सहारे ऑक्सीजन को कोशिकाओं तक पहुंचाते हैं। लेकिन जब शरीर में आयरन की कमी हो जाती है तो इस अवस्था में कोशिकाओं तक पूरी मात्रा में आयरन नहीं पहुंच पाता। इसी रोग को आयरन डेफिसिएंसी एनीमिया कहते हैं। यह आमतौर पर जोखिम अवस्था, किडनी फेलियर, गर्भवती महिलाओं और प्रसव के दौरान ज्यादा खून बहने की स्थिति में होता है।

 
 

थैलेसीमिया (Thalassaemia)-

 

थैलेसीमिया एक प्रकार का आनुवांशिक रक्तविकार है। जिस कारण शरीर लाल रक्त कोशिकाएं और हीमोग्लोबिन (आयरन युक्त प्रोटीन) को कम बना पाता है। ऐसे में हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) के साथ पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन को कोशिकाओं तक नहीं ले जा पाता है। परिणामस्वरूप थकान और चक्कर आने लगते हैं। थैलेसीमिया का कोई सटीक इलाज नहीं है, क्योंकि यह एक आनुवांशिक बीमारी है। लेकिन थैलेसीमिया बहुत निम्न हो तो दवा से ठीक हो सकता है।

 
 

पर्निसियस एनीमिया (Pernicious Anemia)-

 

पर्निसियस एनीमिया शरीर में विटामिन बी12 की कमी की वजह से होने वाली एक बीमारी है। जबकि विटामिन बी12 स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाएं (Red Blood Cells) बनाने के लिए जिम्मेदार होता है। पर्निसियस एनीमिया निम्न कारणों से होती है:

 
 
  • परिवार में किसी अन्य व्यक्ति को पर्निसियस एनीमिया होना पर।
  • टाइप 1 डायबिटीज और आंत संबंधी कोई बीमारी होना पर।
  • यह रोग ज्यादातर 60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों को होता है।
 

सिकल सेल एनीमिया (Sickle Cell Anemia)-

 

सिकल सेल एनीमिया एक वंशानुगत (Hereditary) एनीमिया है। सिकल सेल एनीमिया होने पर लाल रक्त कोशिकाएं, जिनका आकार गोल होता है, वह सिकल (हंसिए) के आकार में बदल जाती हैं। साथ ही कठोर और चिपचिपी हो जाती हैं। जिसके कारण सिकल सेल को पतली रक्त धमनियों (ब्लड वेसल्स) से गुजरने में परेशानी होती है। जिससे शरीर के कुछ हिस्सों में खून का संचार और ऑक्सीजन का जाना धीमा या रुक सकता है। परिणामस्वरूप पर्याप्त मात्रा में ब्लड न मिलने पर ऊतक (टिश्यू) के डैमेज होने के साथ ही अंगों को भी नुकसान पहुंच सकता है।

 
 

अप्लास्टिक एनीमिया (Aplastic Anemia)-

 

अप्लास्टिक एनीमिया आनुवांशिक रोग है। जो पेरेंट्स से बच्चों में जाता है। इस रोग में अस्थि मज्जा क्षति (Bone marrow damage) हो जाती है। जिससे शरीर में रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स का बनाना कम या बंद हो जाता है। अप्लास्टिक एनीमिया होने का खतरा ज्यादातर रेडिएशन या कीमोथेरेपी कराने वाले लोगों में होता है।

 
 

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया (Megaloblastic Anemia)-

 

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया होने का प्रमुख कारण विटामिन बी12 या विटामिन बी9 की कमी का होना है। एक स्वस्थ शरीर को इन दोनों विटामिन की बहुत जरूरत होती है। कई बार ज्यादातर लोगों में मेगालोब्लास्टिक एनीमिया के लक्षण कई सालों तक नजर नहीं आते। इसके इलाज के लिए चिकित्सक विटामिन बी12 और विटामिन बी9 के सप्लीमेंट्स देते हैं। साथ ही डाइट में भी विटामिन्स वाली चीजों को जोड़ने के लिए कहते हैं।

 
 

विटामिन डिफिशिएंसी एनीमिया (Vitamin Deficiency Anemia)-

विटामिन डिफिशिएंसी एनीमिया में लाल रक्त कोशिकाएं (Red Blood Cells) के निर्माण के लिए आयरन के साथ विटामिन बी12, विटामिन सी और फोलेट की आवश्यकता होती है। शरीर में इन तत्वों की कमी होने पर लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं हो पाता। जिसे विटामिन डिफिशिएंसी एनीमिया कहते हैं।

 

एनीमिया से बचाव -

  • पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं।
  • संक्रमण से बचने के लिए पानी को उबालकर पीएं।
  • भरपूर मात्रा में दूध का सेवन करें।
  • लौह (आयरन) युक्त चीजों का सेवन करें।
  • फोलिक एसिड और विटामिन ए एवं सी युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करें।
  • यदि एनीमिया मलेरिया या परजीवी कीड़ों के कारण हुआ है। तो उस संक्रामक बीमारी का शीघ्र इलाज कराएं।
  • खाना खाने के बाद चाय के सेवन से बचें। क्योंकि चाय भोजन से मिलने वाले जरूरी पोषक तत्वों को नष्ट करती है।
  • काली चाय एवं कॉफी पीने से बचें।
  • जल्दी-जल्दी गर्भधारण से बचना चाहिए।
  • स्वच्छ शौचालय का प्रयोग करें।
  • खाना लोहे की कड़ाही में पकाएं।
  • गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से लौह तत्व और फोलिक एसिड की 1 गोली रोज रात को भोजन के उपरांत अवश्य लेनी चाहिए।

एनीमिया के इलाज के लिए घरेलू उपाय-

  • एनीमिया की शिकायत होने पर अंजीर का सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके लिए 10 मुनक्के और 5 अंजीर को एक गिलास दूध में उबालकर सेवन करें।
  • पालक एक ऐसी शाक है, जिसमें भरपूर मात्रा में लौह (आयरन) तत्व पाया जाता है। यह खून की कमी को दूर करने के लिए बहुत जरूरी होती है।
  • मेथी का सेवन करने से खून बढ़ता है। इसके अलावा कच्ची मेथी का साग खाने से भी शरीर को आयरन मिलता है।
  • प्रतिदिन खाली पेट 20 मि.ली. एलोवेरा का जूस पीने से एनीमिया में लाभ होता है।
  • शहद मिश्रित सेब के रस को रोज पीने से खून की कमी दूर होती है।
  • तुलसी के नियमित सेवन करने से खून की समस्या दूर होती है।
  • अंगूर में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए एनीमिया के समय अंगूर का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • पके हुए आम का सेवन करने से हीमोग्लोबिन बढ़ जाता है।
  • विटामिन-सी युक्त पौष्टिक तत्व आंवला, संतरा, मौसमी जैसी चीजों का सेवन करें।
  • मूली, गाजर, टमाटर, शलजम, खीरा जैसी कच्ची सब्जियां प्रतिदिन खानी चाहिए।
  • अंकुरित दालों व अनाजों का नियमित प्रयोग करें।
 

फोलिक एसिड एवं विटामिन युक्त खाद्य पदार्थ -

शरीर को स्वस्थ लाल रक्त कण बनाने के लिए फोलिक एसिड की आवश्यकता होती है और वि‍टामिन ए संक्रमण से शरीर की रक्षा करता है। ऐसे में इन दोनों की कमी होने से एनीमिया की बीमारी हो सकती है। ऐसे ही कुछ स्रोत निम्न हैं जो फोलिक एसिड और विटामिन से भरपूर होते हैं। जिनका हमें नियमित सेवन करना चाहिए।

  • गहरे पीले फल एवं हरे रंग की पत्तेदार सब्जियां और खट्टे फल वि‍टामिन ए के अच्छे स्रोत होते हैं।
  • मूंगफली, मशरूम, चोकर वाला आटा, बाजरा, दालें, सूखे मेवे, गुड़ इत्यादि फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत होते हैं।
  • अंडे, मांस, मछली आदि फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत होते हैं।
Read More
Blood Pressure: An Overview

Posted 30 April, 2022

Blood Pressure: An Overview

We have all grown up believing and seeing that fluctuations in blood pressure is generally associated with old generations. People aged 65+ but having a deep insight would make it clear that it is a disease as much as cold, fever, or any other normal illness. People of any age group can be prone to it.

 

There are certain reasons for the occurrence of low/high BP, which we would learn through the course of this blog. Let us start by learning what exactly is BP.

 

What is Blood Pressure

 

As the term suggests, BP is the pressure by which the heart pumps blood to the body. It is measured in Millimeter of Mercury (mmHg) which is denoted as Systolic/ Diastolic (120/80) The BP uses two numbers which are categorized as-

 
  • Systolic Blood Pressure: It is the force that is used to pump blood to the body.
  • Diastolic Blood Pressure: This is the force used when the heart rests while beating.

Types of Blood Pressure

 

High blood pressure

 

High BP, also known as Hypertension, is often a result of unhealthy lifestyle habits, such as smoking, consumption of excessive alcohol, overweight, and not getting enough exercise.

 

Low Blood Pressure

 

Low BP, also called Hypotension, is not an alarming situation without symptoms and it is a condition where the flow of blood to the organs of the body is insufficient.

 

What do we infer from the Readings?

 

Ideal Blood Pressure

A healthy heart is the one with readings between 90/60 mmHg and 120/80 mmHg.

 

High Blood Pressure

When the readings are 140/90 mmHg or higher. It is considered as High BP.

 

Low Blood Pressure

The ideal readings for BP are 90/60 mmHg. Anything below this is considered as Low blood pressure

 

Stages of High Blood Pressure

 

High BP in itself is dangerous, but further complications arise with the shooting BP. It falls into 4 categories given below-

 
 

Diagnosis

 

A doctor or a specialist measures the BP. It is checked by placing an inflatable arm cuff around the arm, using a pressure-measuring gauge.

 

Home BP monitors are inexpensive and are widely available over the counter. You don’t need a prescription to buy one. However, using a home BP monitoring device isn’t a substitute for paying visits to the doctor as home BP  measuring devices may have some limitations.

 

Long term effects of High Blood Pressure

 

Since high blood pressure cannot be detected without a blood test it is also termed as ‘Silent Killer’. and if left unnoticed for a long time, it causes the heart to pump harder and work overtime, possibly leading to several serious and life-threatening, long-term health conditions such as-

 
  • Coronary heart disease
  • Heart attack
  • Stroke
  • Heart failure
  • Kidney failure

 

Vedobi BP Norma Lotion Combo Pack 110ml + 30ml (Liquid Formulation) + BP Norma Capsule

Vedobi BP Norma Lotion Combo Pack 110ml + 30ml (Liquid Formulation) + BP Norma Capsule

Buy Now

Vedobi BP Norma Lotion 110ml + Vedobi Cura 30ml

Vedobi BP Norma Lotion 110ml + Vedobi Cura 30ml

Buy Now

Vedobi Diaba Free Lotion 110ml+30ml

Vedobi BP Norma Lotion Combo Pack 110ml + 30ml

Buy Now

Causes of fluctuations in Blood Pressure

 
  • Age– BP normally rises with age and those aged 65 or above tend to be prone to it.
  • Race/Ethnicity– High BP is a common phenomenon among African Americans.
  • Being Overweight– People who are overweight are likely to develop high BP.
  • Sex– Sex is also an important factor as men are more prone than women to develop high BP before the age of 55 whereas, after the age of 55, women are more likely to develop it.
  • Lifestyle– Poor lifestyle or ill habits can raise your risk for high BP, few examples are eating too much sodium (salt) or not consuming enough potassium, lack of exercise, too much alcohol, or smoking.
  • Family history– If high BP runs in your lineage then the risk of developing high BP automatically increases.
 
 

Control Measures

 

Eat Healthy

 

Limit Sodium

It is essential to limit the amount of salt (sodium) and increase the amount of potassium in your meals in order to manage your BP. Consume plenty of fruits, vegetables, and whole grains.

 

Increase Potassium

Leafy greens, high on potassium such as romaine, lettuce, arugula, kale, turnip greens, collard greens, spinach, beet greens, and Swiss chard helps a lot in lowering high BP. Banana, unsalted seeds of pumpkin, squash, or sunflower is also a rich source of potassium.

 

Consume Low Fats

Skimmed milk and yogurt are a rich sources of calcium and low in fats. These are great for lowering increased BP.

 

Take food items rich in Omega3 fatty acids

Fatty fish like salmon or mackerel are rich sources of omega-3 fatty acids, which can reduce inflammation, lower triglycerides and regulate your BP.

 

Consume Natural Ingredients that lowers blood pressure

Garlic contains nitric acid which helps in lowering high blood pressure and herbs such as basil, cinnamon, thyme, rosemary helps in cutting your sodium intake.

 

Home Remedies for High Blood Pressure

 
  • You can also use ayurvedic products for BP available in the market. ‘ Aarogyam Shakti BP Norma Lotion’, is one of the best natural products for high blood pressure. It works wonders on lowering your high BP. All you need to do is to apply the lotion as per directions given on the bottle and you will notice the changes within few days of its use.
  • There are certain natural ingredients that are treated as Ayurvedic medicines to control blood pressure such as Honey, Amla, Gotu Kola, and Ashwagandha. These are some of the best herbal remedies for BP.

Improving Lifestyle

 
  • Regular Exercise– Exercise is great for keeping yourself fit. It also keep you away from diseases and it can also help in lowering your BP. Try stretching exercises and spend at least 2 and a half hours per week.
  • Maintain Healthy Weight– Being overweight increases your risk for high BP. Maintaining a healthy weight can help you in keeping your BP under control which also reduces your risk for other health problems.
  • Avoid Alcohol Consumption- Drinking too much alcohol can raise your BP and also increases your calories intake which further results in weight gain. Men should limit their quantity to two drinks per day, and women should only take one.
  • QUIT Smoking and Tobacco- Smoking and tobacco increase your blood pressure which puts you at higher risk for serious health issues such as a heart attack or stroke. 
  • Manage your Stress- Managing stress is the key to a healthy life. It can improve your emotional and physical well-being. This further reduced your risk to high BP. Relaxing activities such as listening to music, focusing on something that keeps you calm or peaceful, and meditation really helps.

Medication for Blood Pressure

 

If there are no improvements in the increased BP. You might also need to follow a proper course of medicines to regulate your BP.

 
Read More
Diabetes: An Overview

Posted 30 April, 2022

Diabetes: An Overview

 

Symptoms-causes-remedies-of-diabetes-Aren’t we all accustomed to Modern lifestyle and the delicacies it offer? While we enjoy everything that modernity has to offer, it has given us plenty of diseases and illnesses.

 

One such disease is Diabetes and people of all age groups are prone to it. This was most common among elderly people aged 45 or above but in present times it is increasingly noted among children too. Here we will know the symptoms, causes, diagnosis, and remedies of Diabetes.

 

Diabetes (or Diabetes Mellitus) is a metabolic disease that causes high blood sugar. Insulin (produced by the pancreas) moves the glucose from the blood to the cells to be stored and later use for energy. In Diabetes, the body doesn’t make enough insulin or the insulin produced cannot be put to effective use.

 

Types of Diabetes

 

Type 1 Diabetes (Insulin Dependent)-

 

This is usually common among children as well as youngsters. In this type of diabetes, your pancreas does not produce insulin and your immune system attacks and destroys the cells in your pancreas that make insulin. Those having this type, need to take insulin every day in order to stay alive. The cause and means of this type are not known so far.

 

Type 2 Diabetes (Non-Insulin Dependent)-

 

Type 2 diabetes is the result of the body’s ineffective use of insulin. It is generally found among adults and old age people. People with diabetes generally have type 2. These are generally said to have Insulin resistance. This type of diabetes is largely the result of excess body weight and physical inactivity.

 

Apart from the above listed common and most frequent types there are some uncommon types too which are-

 

Gestational diabetes-

 

It is a type that occurs usually during pregnancy. The glucose level shoots up during pregnancy. It goes away after the baby is delivered. The two categories under this are-

 

Class A1- This is easily managed and controlled by keeping a check on your diet and also proper exercise.

 

Class A2- This type of diabetes does not go away unless you take insulin or other medications.

 

Prediabetes (Impaired glucose tolerance)-

 

Prediabetes is an uncommon type. It occurs when your blood sugar levels are slightly high, but not high enough to be categorized as diabetes. The condition can also be considered as a warning sign. It turns to diabetes if proper measures are taken on time to prevent it. Impaired fasting glucose is a subcategory of prediabetes. In this, the sugar level goes up during fasting but it is not high enough to be classified as diabetes.

 

Symptoms of Diabetes 

 

There are some common diabetes symptoms that occur in all types. Yo should immediately see a doctor if you notice any symptoms of diabetes. Get your blood sugar checked.

 
  • If you urinate a lot, especially at night
  • You keep feeling thirsty all the time
  • Unusual weight loss
  • Get frequent hunger pangs
  • Eyesight problems such as weak or blurry vision
  • Have a numb or tingling feeling on hands or feet
  • Tiredness
  • Skin problems such as having unusually dry skin
  • Your sores heal slowly
  • Easily catch infections

For Type 1 Diabetes-

 

In addition to the above diabetes symptoms, people with type 1 often feel nauseated, vomit, and stomach pain which can increase severely in a few months.

 

For Type 2 Diabetes-

 

The symptoms might not be noticeable for a long time. This makes it worse. It is better to look out for risk factors. As soon as you notice any changes in your body, immediately consult a doctor.

 

For Gestational Diabetes-

 

This does not have any added symptoms and only the common symptoms can be noticed, which are also rare.

 
Vedobi Diaba Free Lotion 30ml

Vedobi Diaba Free Lotion 30ml

Buy Now

Vedobi Diaba Free Capsule (Gelatin Free)

Vedobi Diaba Free Capsule

Buy Now

Vedobi Diaba Free Lotion 110ml+30ml

Vedobi Diaba Free Lotion 110ml+30ml

Buy Now

 
 
 

Complications arising from Diabetes

 

This type affects major organs of the body and can be life-threatening in worse cases. It can cause complications such as-

 
  • Heart and blood vessel disease
  • Foot damage
  • Skin and mouth conditions
  • Nerve damage (Neuropathy)
  • Kidney damage (Nephropathy)
  • Eye damage
  • Pregnancy complications

Type 2 Diabetes-

 

Listed below are some other factors in addition to Type 1 risk factors such as-

 
  • Slow healing
  • Hearing impairment
  • Skin conditions
  • Sleep apnea
  • Alzheimer’s disease

Gestational Diabetes-

 

If you do not manage your gestational diabetes on time, your blood sugar levels may worsen and bring complications in your pregnancy resultant to which your new-born baby’s health might be affected. This results in problems such as breathing difficulties, and also low blood sugar. It can also cause shoulder dystocia (shoulders of child get stuck in the birth canal during labor-pain).

 

They are also at risk of developing diabetes later when they grow up. Pregnant women should get their sugar levels in control. This ensure the well-being of their offspring.

 

Diabetes Tests

 

There are different tests for different types of diabetes and the normal levels also differ along with each test. Mentioned below are the charts for different types of diabetes:

 

Chart of Gestational Diabetes-

 
 
 
 

For Prediabetes and Diabetes-

 
 
 
 

Treatment & Prevention

 

If you are finding the answer to How to prevent Diabetes, know that it cannot be prevented or cured. We can control diabetes. This helps in avoiding the ill-effects of the disease. Listed below are the major control methods-

 

Lifestyle changes

 

Few lifestyle changes that can help you in controlling your increased sugar level are:

 
  • Lose the excessive pounds by regularly exercising. Physical workouts such as Aerobic exercise and resistance training can also help.
  • Consume a healthy, fiber-rich diet that is low in sugars, carbohydrates, and fats.
  • Do not skip meals if you are on medication for diabetes as this may also cause hypo-glycemia.
  • Try not to take any kind of stress.
  • QUIT SMOKING.
  • Limit your alcohol consumption.

Home Remedies-

 

Home remedies may help to control blood glucose levels and prevent further complications. These remedies are:

 
  • Consume natural ingredients such as cinnamon, aloe-vera, and fenugreek seeds. These also regulate glucose levels naturally.
  • Taking proper care of foot also helps to prevent severity. Try ‘Aarogyam Shakti Diaba free Lotion’. It would help in providing moisturizer to the palms and feet soles. It also keep your sugar levels checked.

Alternative Treatments-

 

Acupuncture-

This procedure triggers the release of natural painkillers of the body. It works by inserting very thin needles into certain points on your skin. This is also a great therapy for diabetes.

 

Biofeedback-

This technique lays emphasis on relaxation. With this technique, you become aware of your body’s response to pain and also ways to handle it.

 

Guided imagery-

This is a relaxation technique that helps in relieving stress. It guides your imagination and makes you think of beautiful landscapes. This would also help you in staying positive which would ease your condition.

 

Plant Foods

Consuming Brewer’s yeast, Buckwheat, Broccoli and other related greens. Ingredients such as Cinnamon, Cloves can also help. Coffee, Okra, Leafy greens, Fenugreek seeds, and Sage also keeps a check on your increased glucose levels.

 
Read More
रक्तचाप और इसके घरेलू उपाय

Posted 25 May, 2022

रक्तचाप और इसके घरेलू उपाय

रक्तचाप या ब्लड प्रेशर की समस्या से आज अधिकतर लोग पीड़ित हैं। बहुत से लोग इस समस्या को गंभीरता से नहीं लेते और इससे जुड़ी अन्य बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं। रक्तचाप से पीड़ित लोगों में से कुछ लोगों को उच्च (हाई) ब्लड प्रेशर होता है तो कुछ लोगों को निम्न (लो) ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है। यह दोनों ही खतरनाक है और दोनों से अलग-अलग तरह की समस्याएं होने लगती हैं।

 

कई मेडिकल रिपोर्टस के मुताबिक बीते कुछ सालों में ब्लड प्रेशर से जुड़े मरीजों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। इस समस्या से बचने के लिए ब्लड प्रेशर को समय-समय पर मापना चाहिए। यह जरूरी नहीं है कि इसके लिए आप डॉक्टर के पास ही जाएं। घर पर रक्तचापमापी (sphygmomanometer) द्वारा भी आप अपने ब्लड प्रेशर की जांच कर सकते हैं।

 

रक्तचाप क्या है?

 

रक्त वाहिनियों (Blood vessels) में बहते रक्त द्वारा वाहिनियों की दीवारों ह्दय द्वारा डाले जाने दबाव को रक्तचाप (Blood pressure) कहते हैं। आसान शब्दों में कहे तो ब्लड प्रेशर वह दबाव या प्रेशर है जिसमें शरीर के चारों ओर ब्लड को हृदय के द्वारा पंप किया जाता है। रक्तचाप में बदलाव से धमनियों या हृदय पर अतिरिक्त तनाव उत्पन्न होता है। जिससे हृदय का दौरा (हार्ट अटैक) भी पड़ सकता है। इसलिए ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाए रखना बहुत आवश्यक होता है।

 

ब्लड प्रेशर की रीडिंग को दो संख्याओं के माप के रूप में व्यक्त किया जाता है। जिसमें एक संख्या ऊपर और एक नीचे होती है। उदाहरण- 120/80 मिमी एचजी। इसमें से शीर्ष संख्या यानि ऊपर की संख्या आपके हृदय की मांसपेशियों के संकुचन के दौरान आपकी धमनियों में दबाव की मात्रा को दर्शाती करती है। इसे “सिस्टोलिक प्रेशर” कहते हैं। वहीं, नीचे की संख्या आपके उस रक्तचाप को संदर्भित (Referenced) करती है, जब आपके दिल की मांसपेशी धड़कनों के बीच होती है। इसे “डायस्टोलिक दबाव” कहा जाता है। यह दोनों संख्याएं आपके हृदय स्वास्थ्य की स्थित का निर्धारण करने में मदद करती हैं।

 

रक्तचाप की श्रेणियां:

 

रक्तचाप को तीन श्रेणियों में बांटा गया है, सामान्य रक्तचाप, उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप। 

 

सामान्य रक्तचाप (Normal Blood Pressure)-

 

हृदय रोग विशेषज्ञों के अनुसार, 120/80 मिमी एचजी से कम रक्तचाप (Blood Pressure) की संख्या को सामान्य सीमा के भीतर माना जाता है। यदि परिणाम इस श्रेणी में आते हैं, तो इसका अर्थ है कि आपका हृदय स्वस्थ तरीके से काम कर रहा है।

 

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure)-

 

हृदय धमनियों के माध्यम (Medium) से रक्त को पूरे शरीर में भेजता है। शरीर की धमनियों में बहने वाले रक्त के लिए एक निश्चित दबाव जरूरी होता है। जब किसी वजह से यह दबाव अधिक बढ़ जाता है, ऐसे में धमनियों पर ज्यादा असर पड़ने लगता है। दबाव बढ़ने के कारण धमनियों में रक्त का प्रवाह बनाए रखने के लिये दिल को सामान्य से अधिक काम करना पड़ता है। इस स्थिति को उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) या हाइपरटेंशन कहते है। उच्च रक्तचाप में ब्लड प्रेशर रीडिंग 140/90 से ज्यादा होती है।

 

उच्च रक्तचाप के कारण–

 
  • उच्च रक्त चाप का एक प्रमुख कारण मोटापा है। मोटे व्यक्ति में बी.पी. (Blood Pressure ) बढ़ने का खतरा आम व्यक्ति से अधिक होता है।
  • जो लोग व्यायाम, खेलना-कूदना या अन्य कोई भी शारीरिक क्रिया नहीं करते और आलस्यपूर्ण जीवन जीते हैं, उन्हें भी रक्तचाप की समस्या हो सकती है।
  • शुगर, किडनी के रोग या दिल की बीमारियों से ग्रसित लोगों की रक्त धमनियां कमजोर होती हैं, इस कारण भी उच्च रक्तचाप की समस्या बन जाती है।
  • बर्गर, पिज्जा, चाऊमिन तथा मोमोज आदि खाने से भी बी.पी. बढ़ जाता है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को भी उच्च रक्तचाप की समस्या होती है।

उच्च रक्तचाप के लक्षण–

 
  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में कुछ इस प्रकार के लक्षण दिखाई देते है।
  • नाक से खून बहने जैसी समस्या हो सकती है।
  • सिर दर्द होता है और लगातार सिर में दर्द बना रहता है।
  • मूत्र में खून आना भी उच्च रक्तचाप का एक लक्षण है।
  • सांस लेने में परेशानी होती है।

उच्च रक्तचाप के घरलू उपाय–

 
  • हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को नंगे पैर हरी घास पर 10-15 मिनट तक चलना चाहिए। रोजाना घास पर चलने से ब्लड प्रेशर नॉर्मल होने लगता है।
  • लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार होता है। इससे हाई बी.पी. को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • सुबह-शाम आंवले का रस और शहद मिलाकर लेने से हाई ब्लड प्रेशर में लाभ होता है।
  • जब ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ हो तो गुनगुने पानी में थोड़ी सी काली मिर्च पाउडर का घोल बनाकर हर दो घंटे के बाद पिएं। इससे हाई ब्लड प्रेशर के लक्षणों का उपचार होता है।
  • उच्च रक्तचाप के नियंत्रण में तरबूज बेहद लाभदायक होता है। बराबर मात्रा में तरबूज के बीज की गिरी तथा खसखस को अलग-अलग पीसकर रख लें। रोजाना एक चम्मच इसके मिश्रण का सेवन करें।
  • ब्लड प्रेशर बढ़ने के दौरान एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर तीन-तीन घण्टे के अन्तर में पीना चाहिए। इससे उच्च रक्तचाप ठीक होता है।

निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure)–

 

जब शरीर में रक्त का प्रवाह सामान्य से कम होता है तो उसे निम्न रक्तचाप या लो ब्लड प्रेशर कहते है। लो ब्लड प्रेशर में शरीर में ब्लड का दबाव कम होने से आवश्यक अंगों तक पूरा ब्लड नही पहुंच पाता जिससे उनके कार्यो में बाधा पहुंचती है। ऐसे में दिल, किडनी, फेफड़े और दिमाग आंशिक रूप से या पूरी तरह  काम करना भी बंद कर सकते हैं। निम्न रक्तचाप में ब्लड प्रेशर रीडिंग 90 से कम होती है।

 

निम्न रक्तचाप के कारण–

 

रक्तचाप निम्न होने के बहुत सारे कारण होते हैं जिनमें से निम्नलिखित मुख्य कारण हैं

 
  • कई बार शरीर में रक्त की कमी से भी निम्न रक्तचाप बन जाता है, जैसे किसी बड़ी चोट के कारण अंदरूनी रक्तस्राव के वजह से शरीर में अचानक खून की कमी हो जाना। इससे रक्तचाप निम्न हो जाता है।
  • शरीर में जरुरी पोषक तत्वों की कमी होने पर शरीर पर्याप्त मात्रा में लाल रक्त कोशिकाएं नहीं बना पाता। इस कारण भी रक्तचाप निम्न हो जाता है।
  • हृदय रोग से ग्रसित व्यक्ति का भी रक्तचाप निम्न हो सकता है। इसलिए ऐसे लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरुरत होती है।
  • गर्भावस्था के समय महिलाओं में लो ब्लडप्रेशर की समस्या हो सकती है। क्योंकि इस समय सर्कुलेटरी सिस्टम तेजी से काम करता है और ब्लडप्रेशर कम हो जाता है।

निम्न रक्तचाप के लक्षण-

 
  • शरीर में पानी की कमी होने के कारण बार-बार प्यास लगना।
  • रक्त की कमी से शरीर ठंडा और पीला पड़ने लगता है।
  • सांसे लेने में दिक्कत होना या ठीक से सांस न ले पाना।
  • निम्न रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति को देखने में भी कठिनाई होने लगती है।
  • निम्न रक्तचाप होने पर मरीज खुद को अवसाद में महसूस करता है।

निम्न रक्तचाप के घरेलू उपाय-

 
  • कैफीन उत्पाद जैसे चाय या कॉफी ब्लड प्रेशर को बढ़ाने में सहायता करते हैं। जब आपका ब्लड प्रेशर अचानक गिर जाता है तो एक कप कॉफी या चाय पीने से ब्लड प्रेशर को नार्मल होने में मदद मिलती है।
  • छाछ में नमक, हींग और भुना हुआ जीरा मिलाकर सेवन करते रहने से भी ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है।
  • लो बीपी के कारण अगर चक्कर आने की शिकायत हो तो आंवले के रस में शहद मिलाकर खाने से बहुत जल्दी राहत मिलती है। इसके अलावा ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए आंवले का मुरब्बा भी एक बेहतर विकल्प माना जाता है।
  • दूध में खजूर को उबालकर पीने से भी निम्न रक्तचाप की समस्या में फायदा होता है।
  • लो ब्लड प्रेशर में गाजर और पालक का रस पीना फायदेमंद होता है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

 

ब्लड प्रेशर के निम्नलिखित लक्षणों के दिखते ही मरीज को तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।  

 
  • सीने में दर्द और भारीपन महसूस होने पर।
  • सांस लेने में परेशानी होने पर।
  • सिर में दर्द, शरीर में कमजोरी या धुंधला दिखाई देने पर।
  • शरीर के पीला पड़ने पर।
  • आधी-अधूरी और तेज सांस आने पर।
  • छाती में दर्द या गर्दन का अकड़ जाना तो बिना कोई देर किये तुरंत किसी विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

कैसे करें रक्तचाप की जांच?

 

ब्लड प्रेशर की जांच करने के लिए रक्त दाबमापी (Sphygmomanometer) उपकरण का उपयोग किया जाता है। यह सामान्य और डिजिटल दोनों प्रकार का होता है। अगर आप घर में इसका उपयोग कर रहे है तो Mercury Sphygmomanometer का इस्तेमाल करना अच्छा होता है।

Read More