Cart
Mon-Fri (10:00 AM - 07:00 PM)

Super Sale is Live @ 15% off. Limited time, blow out sale!! Use CODE VWED10 & Grab FLAT 10% DISCOUNT Instantly. Save 5% EXTRA on prepaid orders. FREE COD AVAILABLE

Interesting facts about Quinoa

Posted 30 June, 2022

Interesting facts about Quinoa

Quinoa is basically a seed, not a grain and known as a pseudo cereal. It belongs to the goosefoot family and is becoming popular all over the world. Although it must be imported, it is increasingly being used in the United States, Canada, Europe, and China.

Due to the numerous health benefits, this pseudo cereal is gaining rapid popularity as it is a great source of plant protein and fiber. Let us see the important nutrients found in quinoa in the next section.

Important nutrients in Quinoa

Quinoa seeds are packed with various vitamins and minerals such as-

  • B vitamins, namely B-1 (thiamine), B-6 (pyridoxine) and B-9 (aka folate). Folate is important for the formation of red blood cells and for healthy cell growth and function, especially during early pregnancy.
  • Thiamine helps convert carbohydrates into energy and plays a key role in nerve, muscle, and heart functioning.
  • Pyridoxine is important for normal brain development and for keeping the nervous and immune system healthy.
  • Iron is important for growth and development. It is also used in the production of hemoglobin, which helps carry oxygen from the lungs to all parts of the body.
  • Calcium is used primarily to build and maintain healthy bones. It is also used to support proper functioning of the heart, muscles and nerves.
  • Magnesium supports muscle and nerve function and energy production.
  • Phosphorus helps in the formation of bones and teeth and in the growth, maintenance and repair of cells and tissues.
  • Potassium helps nerve function, movement of nutrients within cells and waste products from cells, regulation of heart rate and muscle contraction.
  • Vitamin E supports your immune system and promotes cell regeneration.
  • Quinoa is rich in protein, having 14.1 grams of protein. Other protein-rich plant sources include buckwheat, couscous, oatmeal, brown rice, and spinach. Protein aids in weight loss and maintenance, muscle building and reduction in muscle loss. It increases metabolism and lowers blood pressure, among many other health benefits.

There are also traces of zinc, manganese, copper and selenium which helps the body function at its best.

Benefits of Quinoa

  1. Acts as a gluten-free diet: People on a gluten-free diet can safely consume quinoa. A study of celiac disease patients who consumed quinoa showed that quinoa has better nutrition than rice because it provides the necessary intake of protein, calcium, iron, and fiber.
  2. Prevents cancer: Quinoa is rich inantioxidants and is great for reducing cancer risk. Quinoa has three unique nutrients which helps to cause mutant cell death. The first of these nutrients, actually called ant nutrients, are saponins. The second active nutrient is lunasin, which is very effective because it only affects mutated cells and not healthy cells. Third one is an antioxidant called quercetin, which fights the buildup of free radicals in the body and controls the spread of lung cancer.
  3. Reduces bad cholesterol in the body: Quinoa has a positive effect on the body as it is known to reduce the adverse effects of fructose on glucose levels in the body which works to reduce the amount of bad cholesterol in the body.
  4. Prevents bone diseases: Quinoa contains antioxidant flavonoid called quercetin that has proven results to reduce cortisol levels, thereby protecting the bones.Regular consumption of quinoa can prevent the development of bone diseases such as osteoporosis. Quinoa increases bone density and maintains bone health.
  5. Reduces kidney stones: Quinoa is a gluten-free source of complete protein and is high in oxalates.It regulates the secretion of bile juice and prevents the accumulation of toxins in the body, thus, preventing the formation of gallstones and kidney stones.
  6. Treats diabetes: Quinoa is a rich source of dietary fibres and thus helps lower sugar levels.By lowering blood sugar levels, quinoa can be very beneficial for people with diabetes.

Side effects of Quinoa

  • Quinoa contains compounds known as saponins. When taken in large amounts, these saponins can affect the inner lining of the intestines and contribute to leaky gut syndrome.
  • It is recommended to consult a doctor before using quinoa during pregnancy.

Where is it found?

This plant is found in Andean region of South America, where it has been an important plant for thousands of years. Promoted for its health benefits, quinoa is now grown in a number of countries around the world including the United States, Canada, Italy, Sweden and India, but most are still grown in Peru and Bolivia.

Read More
10 Amazing Benefits of Moong Dal That You Should Know

Posted 04 July, 2022

10 Amazing Benefits of Moong Dal That You Should Know

Moong dal or mugda is a commonly used pulse, also called green gram, It can be used as seeds and sprouts. Moong Dal is one of the favorite beans loved by Indians as it is packed with essential nutrients.

Importance of Moong Dal

Moong dal contains folic acid, niacin, pantothenic acid, riboflavin, thiamine, vitamin A, beta carotene, vitamin B12, vitamin B6, vitamin C, vitamin D, vitamin E, vitamin K. calcium, copper, iron, magnesium, manganese, phosphorus, potassium, selenium, sodium and zinc.

It has antioxidant, anti-inflammatory, anti-diabetic, anti-hyperlipidemic, anticancer, antimicrobial, anti-tumor, anti-mutagenic and antihypertensive properties which are useful in preventing and curing various diseases.

Benefits of Moong Dal

  • Helpful in reducing cholesterol and weight: Moong dal has hypocholesterolemia properties which are useful for lowering LDL (bad cholesterol levels) in the blood. In addition, fiber and protein are also found in moong dal which helps in weight loss by reducing appetite.
  • Useful in diabetes: Regular consumption of moong dal lowers blood sugar in patients with type 2 diabetes as it has antioxidant and antidiabetic properties which helps in reducing the amount of glucose in the blood.
  • Controls blood pressure: Due to the antihypertensive properties in moong dal, it relaxes the muscles of the heart and blood vessels. Adding this in your diet is very helpful in controlling blood pressure as it is rich in magnesium, potassium and fiber.
  • Helpful in heat stroke: The problem of heat stroke is usually observed during the summer. The main reasons are dehydration and overheating. Moong dal contains antioxidant properties that help in eliminating the risk of heat stroke. Drink moong dal soup in summer to reduce the chances of heat stroke.
  • Beneficial in pregnancy: Consuming moong dal during pregnancy is very helpful due to the presence of folic acid. It is considered to be necessary for the mother and baby during pregnancy as it reduces the chances of birth defects in the baby.
  • Improves digestion: Moong dal contains a good amount of fiber and protein and components such as trypsin inhibitors, hemagglutinins, tannins and phytic acid, which are very important for maintaining a healthy digestive system. These help in improving the digestive system by eliminating toxins present in the body.
  • Boosts immunity: Antioxidants found in moong dal are useful in fighting infection and provide protection against diseases by boosting the immune system.
  • Energy efficient: Including moong dal in a healthy breakfast is considered a good choice. The energy it provides to the body is enough to keep the body active throughout the day due to the presence of vitamin B, zinc, iron and magnesium.
  • Treats iron deficiency and anemia: Iron deficiency is considered the main cause of anemia (lack of red blood cells).Moong dal contains iron in abundance which is useful in treating iron deficiency in the body. Therefore, consuming moong dal also helps in eliminating the risk of anemia.
  • Beneficial for hair and skin: Moong dal contains antioxidants and vitamins A, C, E, D & B which are good for skin and hair.

Uses of Moong Dal

  • Moong dal is usually used to make soups and sprouts.
  • It is used to prepare delicious puddings or laddus.
  • In southern India, it is mainly used to make sambar and chutney.
  • Moong dal is also used as a face mask and hair mask.

Side effects of Moong Dal

  • Its consumption lowers high blood sugar because it has antidiabetic properties. Therefore, people with low blood sugar should avoid consumption.
  • It has antihypertensive properties which are useful in lowering high blood pressure. Therefore, its consumption is prohibited for people with low blood pressure.
  • Those with sensitive skin or allergies should avoid consuming moong dal.
Read More
Why is wheat called the “King of Grains”?

Posted 20 May, 2022

Why is wheat called the “King of Grains”?

Wheat can grow in a wider variety of soils and climate than other grains and is also better suited for making bread and as a staple food. It is a common grain and is found in almost everything you eat like pastas, bagels, pastries, muffins and breads. Wheat is an essential part of almost every meal and is known as the king of grains.

Wheat is full of many nutrients that are good for your health. It contains catalytic elements, protein, vitamin E, vitamin B, mineral salts, copper, calcium, iodide, magnesium, zinc, potassium, manganese, sulphur, silicon, chlorine and arsenic, making it a great base for any diet. Its scientific name is Triticum aestivum vulgare.

Importance of Wheat in Ayurveda

Wheat remains an important food widely used in Ayurveda. It is highly recommended for vata and pitta species due to its nutritious properties, which provide more protein than rice and are better suited for colder climates or seasons. However, wheat should usually be avoided by aquatic species of kapha, which are prone to obesity and slow digestion.

Benefits of Wheat

  • Improves metabolism: A high intake of wheat lowers triglycerides, or fats, in the bloodstream. In addition, wheat shows benefits for insulin sensitivity and fat metabolism.
  • Controls obesity: Wheat contains dietary fibres therefore, regular consumption of whole grain like wheat can really help obese patients and lead to significant weight loss.
  • Prevents diabetes: Consuming wheat improves insulin sensitivity. In addition, whole grain fiber also promotes healthy blood sugar control by slowing the breakdown of starch in the small intestine and facilitating the rise of glucose in our bloodstream. Hence, wheat is useful in diabetes.
  • Improves heart health: Wheat and high-fiber foods have been shown to lower blood pressure, which reduces the chance of recurrent heart attacks.
  • Prevents breast cancer: A high-fiber diet is known to reduce the risk of breast cancer in women. Whole grains provide large amounts of fiber. Daily intake of 30g of wheat is enough for women to reduce the risk of breast cancer.
  • Improves digestion: Wheat helps soften stool and increase mass. It improves bowel regularity and reduces constipation, which contributes to better digestion.
  • Reduces gallstones: Excessive bile acids are the main cause of gallstones. Consuming wheat helps reduce gallstone formation.
  • Reduces inflammation: The bioactive compound in wheat that is responsible for reducing chronic inflammation is betanin content. Betanin reduces oxidative stress and inflammation.

Uses of Wheat

Wheat is used in a wide variety of foods that are consumed in daily life. One of the easiest ways to get wheat is to include bread in your diet.

You can use it to prepare delicious sandwiches. Another way to include it into your diet is to eat oats or corn flakes for breakfast. You can add some delicious fruit to the bowl to increase its nutritional value and taste. Wheat is used to produce animal feed&is also used to make beer.

Side effects of Wheat

  • People who are prone to allergic reactions are warned to avoid wheat as it can worsen the reaction. This can cause eczema, hives and skin rashes.
  • Wheat is also high in oxalates. Too much oxalate in your blood can cause many problems such as kidney stones, gallstones and gout.
  • Wheat can lead to non-celiac gluten sensitivity which can cause headaches, fatigue, and muscle pains.

Where is it cultivated?

China is the largest wheat producing country, followed by the United States, India and Russia. Kazakhstan and Canada also come in the list. In India, it is produced majorly in Punjab, Haryana, Uttar Pradesh, Madhya Pradesh & Rajasthan.

Read More
Know about Saffron (Kesar): The Golden Spice

Posted 13 May, 2022

Know about Saffron (Kesar): The Golden Spice

Saffron, commonly known as Kesar,is a perennial plant belonging to the Iridaceae family. It comes from the Arabic word ‘zaffran’. Saffron is the golden coloured and sharp stigma of the autumn crocus, completely dried and used to flavour foods and other products. It has an exotic aroma with a bitter taste. Saffron is an expensive spice with an important culinary significance.

Saffron is a natural spice and flavouring ingredient for meals. Saffron adds a perfect aroma to a variety of cuisines around the world. For example, it is used in Spanish paella, Indian pulao, Iranian stews, seafood, and dessert recipes.

Nutritional Properties and Importance of Saffron (Kesar)

Saffron has a wide variety of nutritional values like Calcium, Iron, Potassium, Magnesium, Protein, Vitamin C, and Vitamin B6. Antioxidants like crocetin, crocin, safranal and kemperanol helps in reducing oxidative stress and providing a unique taste and aroma to the dishes.

In Ayurveda, saffron is useful for its healing properties. It is a best remedy to treat memory issues, inflammation, stomach disorders, and even depression. Saffron is also best for brightening, cleansing and restoring skin due to its therapeutic properties.

Benefits of using Saffron (Kesar)

Treats arthritis-

Crocetin and crocin found in saffron works as an anti-inflammatory agent which makes it easier to treat arthritis.

Improves digestion-

Saffron plays an important role in treating indigestion due to its radical scavenging and antioxidant effects. It also cures ulcerative colitis and heartburn.

Heals wounds-

Wounds can be healed with saffron. A paste of saffron mixedwith water and turmeric can be made andapplied directly to the wound area for better healing.

Treats respiratory problems-

Saffron is the best remedy to treat respiratory problems such as asthma due to the antioxidants present in it.

Helpful in insomnia-

Insomnia can be very annoying and make us very unproductive throughout the day. Daily consumption of saffron can cure insomnia and induce sleep in humans. It also regulates sleep patterns and makes the person feel healthier and more energetic.

Fights cancer-

Saffron is known to have cancer preventing properties. The compound in saffron known as crocin is useful in inhibitingthe growth of colon cancer cells. In skin cancer also saffron shows effective results.

Improves eyesight-

The natural compounds found in saffron helps in medical cases with retinal degeneration and vision loss. It strengthens the visual response.

Useful in hair treatment-

The antioxidants in saffron help in repairing damaged hair and promote its growth. You can mix a teaspoon of saffron strands with almond oil or coconut oiland massage your hair well for healthy growth.

For skin care-

Topical application of saffron brightens up your skin. You can use a saffron milk mask to moisturize and soften the skin. You can also use it to treat acne and blemishes.

Side effects of using Saffron

Saffron can have possible side effects-

  • Consuming saffron in high doses can cause diarrhea, dizziness, vomiting, mucous membranes, etc. In some cases, taking too much saffron can be toxic to health.
  • It should be avoided by people suffering from bipolar disorder. Saffron should be avoided by patients with low blood pressure and those with heart disease.
  • Pregnant women also should not consume it in excess.

Where is Saffron found?

Saffron originally came from Greece and was first grown there, but in present times, this spice is mainly grown in Iran, Greece, Morocco and India. In India, it is grown in Jammu and Kashmir.

Read More
क्या है रागी? जानें, इसके फायदे और उपयोग

Posted 22 April, 2022

क्या है रागी? जानें, इसके फायदे और उपयोग

सेहत के लिए पौष्टिक युक्त अनाज का सेवन करना बहुत जरुरी होता है। यह शरीर को पोषण देने के अलावा कई शारीरिक और मानसिक बीमारियों से बचाने में मदद करता है। उन्ही सेहतमंद अनाजों में से एक रागी भी है। जिसमें तमाम मिनरल, विटामिन और कई अन्य आवश्यक पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसलिए रागी को बहुत सी शारीरिक और मानसिक परेशानियों के लिए अच्छा माना जाता है।

रागी का पौधा लगभग1मीटर तक ऊंचा होता है। इसके फल गोलाकार, चपटे और झुर्रीदार होते हैं। इसकी बीज गोलाकार, चिकने एवं गहरे-भूरे रंग के होते हैं। रागी को मड़वा या मंडुआ भी कहा जाता है। इसके अलावा रागी को विभिन्न जगहों पर अलग-अलग नामों जैसे हिंदी में रागी, तमिल में केझवारगु, कन्नड़ और तेलगु में रागी नाम  से जाना जाता हैं। इसका वानस्पतिक नाम एलुसीन कोरकाना (Eleusine coracana) है।  

रागी के फायदे-

हड्डियों के विकास के लिए-

रागी कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। जो हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है। । इसके अलावा इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, ऑस्टियोपोरोसिस और रूमेटोइड गठिया जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं। साथ ही यह हड्डियों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। इसलिए हड्डियों के विकास एवं मजबूती प्रदान करने के लिए अपने आहार में रागी को दलिया के रूप में सेवन करना लाभप्रद होता है। 

वजन कम करने के लिए-

रागी के दलिया का सेवन करना बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है। क्योंकि रागी में ट्रीप्टोफन नामक एमिनो एसिड पाए जाते हैं। जिसमें एंटीओबेसिटी (वजन को कम करने वाला) गुण होता है।  यह एमिनो एसिड भूख को नियंत्रित करने का काम करता है। जिससे वजन को बढ़ने से रोका जा सकता है। इसलिए वजन घटाने के लिए रागी को एक अच्छे विकल्प के तौर पर देखा जाता है।

मधुमेह (डायबिटीज) के लिए-

रागी का आटा टाइप-2 डायबिटीज की समस्या को दूर करने के लिए लाभकारी साबित होता है। दरअसल रागी में लो ग्लाइसेमिक और एंटीडायबिटिक (ब्लड शुगर कम करने वाला) प्रभाव मौजूद होते हैं। जो टाइप-2 डायबिटीज में राहत पहुंचाने का काम करते हैं।  

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए-

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए रागी एक कारगर औषधी है। क्योंकि रागी में मौजूद एमिनो एसिड लिवर में जमा अतिरिक्त वसा को निकालता है। जिससे शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। इसके अतिरिक्त रागी में थ्रेओनीन नामक एमिनो एसिड भी पाया जाता है। यह लिवर में अतिरिक्त वसा को इकठ्ठा नहीं होने देता है। परिणामस्वरूप शरीर में कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता है। 

एनीमिया के लिए फायदेमंद-

शरीर में आयरन की कमी का होना एनीमिया (लाल रक्त कोशिकाओं की कमी) का मुख्य कारण माना जाता है। दरअसल रागी आयरन से समृद्ध अनाज माना जाता है। इसलिए इसका सेवन एनीमिया के खतरे को दूर कर, शरीर में आयरन की कमी को पूरा करता है। इसके लिए रागी के आटे, दलिया अन्य व्यंजन के रूप में  प्रयोग किया जा सकता है।

हृदय स्वास्थ्य के लिए-

रागी ह्रदय स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। क्योंकि इसमें आयरन, मैग्नेशियम नामक  खास तत्व मौजूद होते हैं। जो बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करके उच्च रक्चाप को कम करने का काम करता है। साथ ही धमनियों से संबंधित समस्या के कारण हृदय रोग के जोखिमों को भी कम करता है। इसलिए रागी को हृदय स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी माना जाता है।

पाचन शक्ति एवं कब्ज में लाभप्रद-

रागी की दलिया या आटा पाचन शक्ति को बढ़ाने में लाभकारी सिद्ध होता है। दरअसल रागी में मौजूद डायट्री फाइबर आतों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। वहीं, रागी में लैक्सेटिव (कब्ज से राहत देने वाला) प्रभाव मौजूद होता है। जो कब्ज की समस्या को दूर करने का काम करता है। इसलिए पाचन शक्ति को बढ़ाने और कब्ज की परेशानी को दूर करने में रागी का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

एंटी कैंसर के रूप में सहायक-

 रागी का सेवन कैंसर से बचाव के लिए लाभकारी होता है। दरअसल, रागी में मेथिओनाइन, सिस्टीन एवं लायसिन जैसे एमिनो एसिड गुण पाए जाते हैं। यह सभी गुण कैंसर से बचाने का काम करते हैं। साथ ही कैंसर कोशिकाओं को भी नष्ट करते हैं। जिससे कैंसर होने की संभावना को कुछ हद तक कम किया जा सकता है।  

स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए लाभप्रद-

स्तनपान करा रही महिलाओं को अपने आहार में रागी को अवश्य शामिल करना चाहिए। क्योंकि रागी में मौजूद पोषक तत्व मां के दूध को बढ़ाने सहायक होता है। साथ ही यह दूध में आवश्यक आयरन, कैल्शियम और एमिनो एसिड प्रदान करता है। यह पोषक तत्व मां के अलावा बच्चों के लिए भी बहुत जरुरी होते हैं।

मस्तिष्क के लिए फायदेमंद-

रागी में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट और एमिनो एसिड शरीर को आराम पहुंचाने का काम करते हैं। साथ ही इसमें पाए जाने वाला ट्रीप्टोफन एमिनो एसिड दिमाग को शांत करता है। इसके अलावा यह चिंता, तनाव, अवसाद, सिरदर्द एवं अनिद्रा जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है।   

त्वचा के लिए लाभदायक-

सेहत के अलावा त्वचा के लिए रागी का सेवन बेहद कारगर है। यह त्वचा की पूरी तरह से देखभाल करता है। इसमें मौजूद फेरुलिक एसिड पराबैगनी किरणों से होने वाली त्वचा की क्षति से बचाव करता है। इसके अलावा रागी में एंटी एजिंग गुण मौजूद होते हैं, जो समय से पहले बुढ़ापे (एजिंग) के लक्षणों को कम करते हैं। इसके लिए रागी को फेस मास्क के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

रागी के उपयोग-

●रागी के आटे से बने रोटियों या पराठों का सेवन किया जाता है। 

●रागी के दलिया को नाश्ते के रूप में खाया जाता है। 

●रागी से बने इडली या डोसा का सेवन किया जाता है। 

●रागी से बने रागी बॉल्स का सेवन किया जाता है। 

●रागी का इस्तेमाल फेस मास्क के तौर पर किया जाता है।

रागी के नुकसान-

●चूंकि रागी कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत है। इसलिए इसका अधिक सेवन गुर्दे की पथरी का कारण बन सकता है।

●इसमें फाइबर की मात्रा अधिक पाई जाती है। इसलिए इसके अधिक सेवन से पेट संबंधी समस्या जैसे गैस, पेट फूलना, पेट में मरोड़ या ऐठन हो सकती है। 

●जिन लोगों को रागी या इससे बने उत्पाद से एलर्जी है। ऐसे में उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए।

रागी कहां पाया जाता है?

आमतौर पर रागी भारत, अफगानिस्तान की विभिन्न स्थानों पर उगाई जाने वाली मुख्य फसल है। विशेष रूप से भारत में इसकी खेती पर्वतीय क्षेत्रों में की जाती है। इसके अलावा यह उच्च पर्वतीय प्रदेशों में भी पाया जाता है।

 
Read More
Health Benefits and Side effects of Pistachio

Posted 22 March, 2022

Health Benefits and Side effects of Pistachio

Pistachios are green colored unique nuts having a slightly sweet taste and are among the oldest nuts. These nuts are the oblong edible seeds of the Pistacia vera tree, which belongs to the Anacardiaceae, also known as the cashew family.

Pistachios are not only a great source of garnishing, they are also one of the healthiest foods. They are a powerful food pack that are loaded with antioxidants, including lutein, beta-carotene and gamma-tocopherol. Pistachios are high in protein, fibre, vitamin E, vitamin K, vitamin B6, thiamine, folic acid, vitamin B5, and minerals such as potassium, calcium, copper, phosphorus and manganese. Pistachios are also a rich source of essential fatty acids.

Health Benefits of Pistachio

Improves heart health-

Consuming pistachios can effectively improve your heart health. These nuts contain arginine (a type of amino acid). Arginine is also known to lower blood pressure. Along with this, pistachios are also rich in monounsaturated fatty acids, which help lower high blood pressure and bad cholesterol. Thus, it cleanses the heart vesselsand contributes to heart health.

Helps in weight loss-

Pistachios are rich in fibre and protein, which increase satiety and in turn can aid weight loss. The fiber in it increases the body's metabolism, which helps to reduce excess weight from your body. Pistachios are a good source of monounsaturated fat, which helps regulate weight. It is also known as a low-calorie snack, so it can be enjoyed when you feel hungry.

Promotes gut bacteria-

Pistachios contain a large amount of fiber, which can strengthen the digestive tract. Gut bacteria ferment the fiber in pistachios and convert it to a short-chain fatty acid - butyric acid. Therefore, they can significantly increase the concentration of bacteria in the gut. The higher amount of fiber also helps prevent constipation.

Control blood sugar levels-

Pistachio helps increase levels of peptides that regulate glucose levels in diabetics. Therefore it helps lower blood sugar levels and keep them under control.

Lowers cholesterol levels-

Pistachios are rich in antioxidants and have a cholesterol-lowering effect that helps lower bad cholesterol (LDL) and increase good cholesterol (HDL).

Works as an anti-inflammatory-

Pistachios are rich in monounsaturated fats which help fight inflammation. They help fight internal inflammation, especially in heart diseases.

Improves eyesight-

Pistachios are a good source of nutrients that are important for the health of your eyes. Antioxidants like lutein and zeaxanthin, are present in the human retina and in adequate intake of these antioxidants leads to vision problems such as refractive errors and cataracts. Pistachios help in fulfilling the insufficiency of these antioxidants. They are also high in zinc, which helps reduce the risk of impaired night vision.

Boosts immunity-

Consumption of pistachios every day can boost our immune system. They are rich in vitamin B6, which is important for better immune system functioning. It contains antioxidants that can help prevent infection.

Side effects of Pistachio

Following are the side effects of eating pistachios in excess-

Pistachios can affect the digestive system and cause digestive problems such as bloating, gas, upset stomach, diarrhea and constipation. The degree of discomfort depends on the number of nuts eaten. Higher the consumption, the bigger the problem.

Where are Pistachios found?

Pistachios are native to the Central Asian region, Iran and Afghanistan. In India, it is widely grown in Jammu and Kashmir. Archeology shows that pistachio seeds were discovered as early as 6750 BC.

Read More
क्या होता है ओट्स (जई)? जानें, इसके फायदों के बारे में

Posted 24 May, 2022

क्या होता है ओट्स (जई)? जानें, इसके फायदों के बारे में

जई दलहन परिवार से संबंध रखने वाला एक प्रकार का खाद्य अनाज है। जिसका उत्पादन प्राचीन समय से होता आया है। एक समय जई की कच्ची फसलों का अधिकांश उपयोग जानवरों के चारे के लिए किया जाता था। लेकिन अपने औषधीय गुणों और स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के चलते आजकल ज्यादातर लोग इसका इस्तेमाल खाद्य आहार (नाश्ते) के रूप में करते हैं। क्योंकि इसमें आयरन, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, कैल्शियम, प्रोटीन, थायमिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन सी और फास्फोरस जैसे मिनरल्स होते हैं। इसकी खेती की शुरुआत स्कॉटलैंड में हुई और आज लगभग सभी देशों में इसका उपयोग किया जाता है। स्कॉटलैंड में जई को मुख्य आहार के तौर पर उपयोग किया जाता है। इसका सेवन व्यक्ति को स्वस्थ रखने के अलावा कई रोगों से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है। यही वजह है कि भारत, अमेरिका, जर्मनी और रूस जैसे देशों में इसकी खेती आज भी होती है। जई का वैज्ञानिक नाम ऐवना सटाइवा (Avena sativa) है और यह पोएसी (Poaceae) परिवार से संबंध रखता है। अंग्रेजी में इसे ओट्स (Oats) कहते हैं।

ओट्स(जई) के फायदे

हृदय स्वास्थ्य के लिए

ओट्स से संबंधित एक साइंटिफिक रिपोर्ट में बताया गया है, कि ओट्स में बीटा-ग्लूकेन नाम का एक खास तत्व मौजूद होता है। जो बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करके हाई बीपी को कम करने का काम करता है। साथ ही धमनियों से संबंधित समस्या के कारण हृदय रोग के जोखिमों को भी कम करता है। इसलिए ओट्स को हृदय स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी माना जाता है।

वजन कम करने के लिए

ओट्स का सेवन करना बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है। क्योंकि ओट्स में रेजिस्टेंट स्टार्च, बीटा-ग्लूकेन, टोकोल्स, पॉलीफिनोल्स, डायट्री फाइबर, फाइटोस्टेरोल्स और पॉलीसैकराइड जैसे तत्व पाए जाते हैं। इन तत्वों की मौजूदगी की वजह से ओट्स के गुण में एंटीओबेसिटी (वजन को कम करने वाला) प्रभाव पाया जाता है। वहीं, ओट्स में मौजूद बीटा ग्लूकेन नामक तत्व (सोल्यूबल फाइबर का एक प्रकार) भूख को नियंत्रित करने का काम करता है। जिससे वजन को बढ़ने से रोका जा सकता है। इसलिए वजन को कम करने के लिए अपने डाइट में ओट्स का सेवन लाभकारी है।

इम्यूनिटी के लिए

ओट्स का सेवन शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। ओट्स में बीटा-ग्लूकेन नामक तत्व मौजूद होता है, जो ग्लाइसेमिक प्रभाव को कम करने और इंसुलिन के प्रभाव को सक्रिय करने में मदद करते हैं। साथ ही इम्यून सिस्टम को मजबूत करने का भी काम करते हैं। इसके अलावा ओट्स के सेवन से मैक्रोफेज (macrophage) एवं न्यूट्रोफिल (neutrophil) ( यह दोनों श्वेत रक्त कोशिकाओं के प्रकार हैं) को बढ़ावा मिलता है, जो वायरस, बैक्टीरिया और फंगस को दूर रखने के लिए जाने जाते हैं। इस आधार पर ओट्स को शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए अच्छा माना जाता है।

पाचन शक्ति और कब्ज के लिए

एक शोध के मुताबिक, घुलनशील फाइबर पानी को आकर्षित करता है और पाचन के दौरान जेल में बदल जाता है। इससे पाचन की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। दरअसल, ओट्स में घुलनशील फाइबर की प्रचूर मात्रा पाई जाती है, जो आतों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। वहीं, ओट्स में लैक्सेटिव (कब्ज से राहत देने वाला) प्रभाव होता है। जो कब्ज की समस्या को दूर करने का काम करता है। इसके अलावा ओट्स में अघुलनशील फाइबर पाया जाता है, जो पचे हुए खाद्य पदार्थ को मल के रूप में बाहर निकालने में सहायता करता है। इसलिए पाचन शक्ति को बढ़ाने और कब्ज की परेशानी को दूर करने में ओट्स का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

हड्डियों के लिए

सिलिकॉन एक मिनरल्स है, जिसे हड्डियों के निर्माण और उसे मजबूत करने के लिए जाना जाता है। एक अध्ययन में पाया गया कि ओट्स में कैल्शियम, पोटैशियम,मैग्नीशियम, सिलिकॉन एवं प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो हड्डियों के विकास के लिए बेहद जरुरी होता है। इस आधार पर कहा जा सकता हैं कि ओट्स का सेवन हड्डियों कोपोषण और मजबूती प्रदान करने के लिए लाभप्रद है।

ऊर्जा बढ़ाने के लिए

ओट्स में विटामिन्स, मिनरल और फाइबर मौजूद होते हैं। यह सभी अवयव शरीर की ऊर्जा बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए इसके सेवन से शरीर को लंबे समय तक थकान महसूस नहीं होता है।

डायबिटीज के लिए

ओट्स डायबिटीज की समस्या को दूर करने के लिए लाभकारी साबित होता है। दरअसल,ओट्स घुलनशील फाइबर का अच्छा स्रोत है। इस फाइबर में बीटा-ग्लूकॉन पाए जाते हैं, जो ग्लाइसेमिक प्रभाव को कम करते हैं और इंसुलिन के प्रभाव को सक्रिय करने का काम करते हैं। जिससे रक्त में शुगर की मात्रा को संतुलित रखने में मदद मिलती है। इस प्रकार ओट्स का सेवन डायबिटीज (मधुमेह) के रोगियों के लिए फायदेमंद हैं। 

बेहतर नींद लाने में मददगार

ओट्स खाने के फायदे में बेहतर नींद लेना भी शामिल है। इसमें भरपूर मात्रा में मैग्नेशियम और फाइबर पाया जाता है, जो सेरोटोनिन के स्तर को सुधार करता है। जिससे दिमाग शांत रहता है। परिणामस्वरूप हम और आप खुश महसूस करते हैं और इससे नींद अच्छी आती है। सेरोटोनिन एक तरह का रासायनिक अवयव होता है, जो मूड को अच्छा करने का काम करता है। इसके अलावा ओट्स में  विटामिन बी-6 और बी-12 एवं फोलेट की अच्छी मात्रा पाई जाती है। यह सभी तत्व चिंता, अवसाद और तनाव को दूर करके दिमाग को शांत रखने का काम करते हैं।

गर्भावस्था में लाभकारी

गर्भावस्था के समय शरीर में कैल्शियम, आयरन और फोलिक एसिड का होना बेहद जरूरी होता है। क्योंकि आयरन भ्रूण के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए अच्छा होता है। फोलिक एसिड बच्चे में जन्म दोष के जोखिमों को कम करता है। कैल्शियम गर्भिणी स्त्री में प्रीक्लेम्पसिया (उच्च रक्तचाप विकार) और डायबिटीज को नियंत्रित करने का काम करता है। इसलिए गर्भावस्था के समय ओट्स का सेवन करना महिला के लिए अच्छा होता है। क्योंकि ओट्स में कैल्शियम, आयरन और फोलिक एसिड पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं।

दमकती त्वचा के लिए

ओट्स का सेवन शारीरिक स्वास्थ्य के अलावा त्वचा के लिए भी फायदेमंद है। ओट्स का प्रयोग शहद एवं नींबू के साथ करने से त्वचा पर ग्लो बरकरार रहता है। साथ ही त्वचा में नमी आती है। इसलिए जिन लोगों की त्वचा में रुखापन या ज्यादा खुजली एवं जलन की समस्या हो तो उनके लिए ओट्स बहुत उपयोगी है। ऐसे में एक चम्मच ओट्स को कच्चे दूध में भिगोकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को मुंह, हाथ-पैरों या प्रभावित अंगों पर लगाएं। ऐसा करने से त्वचा में निखार आता है।

झड़ते बालों के लिए

अस्वस्थ जीवनशैली, हार्मोनल असंतुलन और बालों में अधिक केमिकलयुक्त शैंपू के उपयोग की वजह से बालों का झड़ना आम समस्या बन गई है। इसके अलावा कुपोषण यानी शरीर को जरुरी विटामिन और खनिज तत्वों की कमी का होना भी बाल झड़ने का एक प्रमुख कारण है। इस स्थिति में ओट्स का सेवन लाभकारी सिद्ध होता है। क्योंकि इसमें पर्याप्त मात्रा में आयरन, पोटैशियम, मैग्नीशियम, और कई ऐसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो बालों के झड़ने या गिरने से रोकते हैं। साथ ही बालों को घने, मुलायम और मजबूत बनाते हैं।

ओट्स(जई) केउपयोग

  • ओट्स के दलिया(मीठी या नमकीन) को नाश्ते के रूप में खाया जाता है।
  • ओट्स का सूप के रूप में सेवन किया जाता है।
  • कई जगहों  पर ओट्स की खिचड़ी बनाकर खाया जाता है।
  • जई के बीजों को अंकुरित करके इसका सेवन किया जाता है।

ओट्स(जई) केनुकसान

  • ओट्स को सही तरीके से नहीं पकाने या अधपका खाने से आंतों में रूकावट पैदा हो जाती है। जिसके कारण व्यक्ति का पेट खराब या कब्ज जैसी समस्याउत्पन्न हो सकती है।
  • चूंकि ओट्स में फाइबर की अधिक मात्रा पाई जाती है। इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन करना आंत और पाचन तंत्र के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
  • यदि ओट्स के पैकेट को तैयार करते समय प्रिजर्वेटिव्स केमिकल का इस्तेमाल किया गया हो, तो वह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।
Read More
Know the Benefits & Side effects of Chyawanprash

Posted 04 January, 2022

Know the Benefits & Side effects of Chyawanprash

Perhaps every child must have had Chyawanprash and not only children, many elderly people still consume it daily because Chyawanprash provides all kinds of health benefits to every age group be it children or the elderly. Many people have made Chyawanprash a part of their daily routine to keep their health and body strong because Chyawanprash works to increase the immunity of the body. It is an Ayurvedic product made from all the herbs which works to protect the body from cold and strengthen immunity. 

 

What is Chyawanprash?

Chyawanprash is a type of jam prepared from various Ayurvedic herbs and other ingredients. It is black or brown in colour and has a mild sour, sweet and spicy taste. It is generally consumed more in winters because it works to keep the body warm and provide protection from cold and flu. 

 

Many Ayurvedic medicines are included in Chyawanprash which bring various benefits to the body. This is the reason why doctors also advise people to consume Chyawanprash. Regular consumption of Chyawanprash is very beneficial for both men and women for increasing immunity. 

 

Ingredients present in Chyawanprash

Herbs and various plant extracts with many medicinal properties are used in making Chyawanprash. Every brand uses different ingredients to make Chyawanprash. Some of the common ingredients are amla, turmeric, clove, ashwagandha, neem, pippali, bael, white sandalwood powder, basil, fennel, cinnamon, cardamom, saffron, arjuna, brahmi, honey, ghee etc. All these herbs have properties that increase immunity and provide energy to the body. 

 

Benefits of Chyawanprash

Reduces inflammation-

 

Chyawanprash can help reduce inflammation due to its anti-inflammatory properties. According to a report published on the website of NCBI (National Center for Biotechnology Information), sesame oil, clove and agaru are used in making Chyawanprash which possesses anti-inflammatory properties. These can reduce inflammation. Apart from this, ingredients like Nagkesar, Ashwagandha and Amla also have anti-inflammatory properties. Therefore, it is believed that Chyawanprash can also aid in improving the function of the central nervous system. 

 

For a healthy heart-

 

Chyawanprash is considered a great cardio tonic. According to the NCBI research report, regular consumption of Chyawanprash keeps the heart strong and also regulates the heart beat by ensuring healthy blood flow to the muscles. Therefore, it is beneficial to consume Chyawanprash in heart related diseases. 

 

For digestion and metabolism-

 

Consumption of Chyawanprash improves digestion power because herbs like bay leaf, cinnamon, nagkesar present in Chyawanprash have a positive effect on gastrointestinal function by improving metabolism, gastritis (inflammation and irritation in the lining of the stomach), abdominal cramps and pain due to which food is digested well and bowel movement also improves. 

 

For cold and cough-

 

It is very common to have a cold and cough during the changing seasons but this problem can be avoided by regular consumption of Chyawanprash because the honey present in Chyawanprash helps in curing cold-cough and boosting immunity. Apart from this, Vitamin-C is abundant in Amla and other herbs present in Chyawanprash helps to protect the body from all kinds of virus and bacterial infections. Therefore, consuming Chyawanprash is great to reduce the effect of cold and cough. 

 

For blood purification-

 

Regular consumption of Chyawanprash works to clean the blood because many brands of Chyawanprash contain natural ingredients like patala, tulsi and turmeric which work to purify the blood by removing toxic elements from it. 

 

For sharpening memory-

 

Consuming Chyawanprash leads to a sharper mind and good memory. According to a research report published on the site of NCBI, many Chyawanprash have antioxidant effects which help in regaining memory because Chyawanprash nourishes the brain cells and makes them sharp. 

 

For immunity-

 

Strengthening immunity is the main function of Chyawanprash as it helps in fighting with infection and bacteria. Amla present in Chyawanprash shows immunomodulatory effects in the body which helps to increase the immunity of the body. Apart from this, the ghee and honey used in making Chyawanprash also have immunity-strengthening properties. 

 

For respiratory problems-

 

Consuming Chyawanprash is a great way to deal with respiratory problems due to the presence of pippali. It works to protect the body from respiratory infections. Due to this, it is advised to consume Chyawanprash with lukewarm water and avoid milk and curd because during cold and cough, milk and curd act to make mucus (phlegm) in the body. 

 

To strengthen bones-

 

Regular consumption of Chyawanprash helps in better absorption of calcium and synthesis of proteins due to which the teeth and bones become strong. Therefore it is good to consume Chyawanprash with milk. This helps in absorption of calcium present in milk. 

 

For cholesterol-

 

Chyawanprash works to control cholesterol. It lowers the level of cholesterol and triglycerides (a type of fat present in the blood) in the body like hypolipidemic. According to the research report of NCBI, Chyawanprash helps in reduction of cholesterol, triglycerides, LDL (Low Density Lipoprotein) and increase in good cholesterol (HDL) in the body. Therefore, it helps in controlling cholesterol.

 

Side effects and Precautions while using Chyawanprash

  • Chyawanprash possesses a hot (ushna) property, therefore, it should not be consumed if there are mouth blisters.
  • People suffering from asthma or other respiratory problems should not consume Chyawanprash with milk.
  • Amla is present in most of the Chyawanprash. Consuming it at night can have a negative impact on the teeth. Therefore, it should not be consumed at night.
  • Small children, pregnant women and diabetic patients should consume Chyawanprash after consulting a doctor.
  • Sugar is used in Chyawanprash, therefore people suffering from diabetes should consume it as per medical advice.
Read More
Uses, Benefits, and Side effects of Oats

Posted 24 May, 2022

Uses, Benefits, and Side effects of Oats

Oats are a type of food grain belonging to the pulse family which has been produced since ancient times. Earlier, most of the raw crops of oats were used for animal feed but due to its medicinal properties and health benefits, most people nowadays use it as a food diet because it contains minerals like iron, carbohydrates, magnesium, calcium, protein, thiamine, riboflavin, niacin, vitamin C and phosphorus. Its cultivation originated in Scotland and is used in almost all countries today. Oats are used as a staple food in Scotland. Apart from keeping the person healthy, its consumption also helps in getting rid of many diseases which is why it is still cultivated in countries like India, America, Germany and Russia. The scientific name of oats is Avena sativa and it belongs to the Poaceae family.

 

Benefits of Oats

For heart health-

According to a scientific report related to oats, a special element called beta-glucan is present in oats which works to reduce high BP by controlling increased cholesterol. At the same time, it also reduces the risks of heart disease due to problems related to the arteries. Therefore, oats are also considered beneficial for heart health.

 

To lose weight-

Consuming oats helps in controlling the increasing weight because oats contain elements like resistant starch, beta-glucan, polyphenols, dietary fibre, phytosterols and polysaccharides, etc. Due to the presence of these elements, the antiobesity (weight-reducing) effect is found in the properties of oats. At the same time, an element called beta-glucan (a type of soluble fibre) present in oats works to control appetite by which weight gain can be prevented. Therefore, it is beneficial to consume oats in your diet to reduce weight.

 

For immunity-

Consumption of oats increases the immunity of the body. Oats contain a substance called beta-glucan, which helps in reducing the glycemic effect and activating the effect of insulin. It also works to strengthen the immune system. Apart from this, consumption of oats encourages macrophages and neutrophils (both types of white blood cells), which are known to keep viruses, bacteria and fungus away. On this basis, oats are considered good for increasing physical immunity.

 

For digestive power and constipation-

According to research, soluble fibre attracts water and turns into a gel during digestion. This slows down the process of digestion. Oats are rich in soluble fibre, which is good for intestinal health. At the same time, oats have a laxative (relieves constipation) effect which works to relieve the problem of constipation. Apart from this, insoluble fibre is found in oats, which helps in excreting the digested food in the form of stool. Therefore, it is advised to consume oats to increase digestion power and to remove the problem of constipation.

 

For bones-

Silicon is a mineral known to build and strengthen bones. A study found that oats contain good amounts of calcium, potassium, magnesium, silicon and protein, which are very important for bone development, therefore, the consumption of oats is beneficial for providing nutrition and strength to the bones.

 

To increase energy-

Oats contain vitamins, minerals and fibre. All these ingredients help in increasing the energy of the body. Therefore, by consuming it, the body does not feel tired.

 

For diabetes-

Oats prove to be beneficial to overcome the problem of diabetes. In fact, oats are a good source of soluble fibre. Beta-glucans are found in this fibre which reduces the glycemic effect and works to activate the effect of insulin which helps in balancing the amount of sugar in the blood. Thus, the consumption of oats is beneficial for patients with diabetes.

 

Helpful in getting better sleep-

The benefits of eating oats also include getting better sleep. It is rich in magnesium and fibre, which improve serotonin(a chemical compound that works to improve mood) levels due to which the mind remains calm. As a result, you feel happy and this leads to good sleep. Apart from this, good amounts of vitamins B-6 and B-12 and folate are found in oats. All these elements work to keep the mind calm by removing anxiety, depression and stress.

 

Beneficial in pregnancy-

Calcium, iron and folic acid are very important in the body during pregnancy because iron is good for the physical and mental development of the fetus. Folic acid reduces the risks of birth defects in the baby. Calcium works to control preeclampsia (hypertension disorder) and diabetes in pregnant women, therefore, it is good for a woman to consume oats during pregnancy because calcium, iron and folic acid are found in sufficient quantity in oats.

 

For glowing skin-

Apart from physical health, the consumption of oats is also beneficial for the skin. Using oats with honey and lemon keeps the glow on the skin intact. It also brings moisture to the skin. Therefore, oats are very useful for people who have dryness or excessive itching and burning in their skin. In such a situation, make a paste by soaking a spoonful of oats in raw milk and apply this paste on the mouth, hands, feet or affected parts. Doing this makes the skin glow.

 

For hair fall-

Hair fall has become a common problem due to unhealthy lifestyle, hormonal imbalance and use of more chemical shampoos in the hair. Apart from this, malnutrition i.e. lack of essential vitamins and minerals in the body is also a major reason for hair loss. The consumption of oats proves beneficial as it contains a sufficient amount of iron, potassium, magnesium, and many such essential nutrients, which prevent hair fall. It also makes hair thick, soft and strong.

 

Uses of Oats

  • Oats porridge (sweet or salty) is eaten as a snack.
  • Oats are consumed in the form of soup.
  • In many places, oats are eaten by making khichdi.
  • It is also consumed by sprouting oat seeds.

Side effects of Oats

  • Eating undercooked oats may lead to a blockage in the intestines which results in problems like upset stomach or constipation can arise.
  • Since a high amount of fibre is found in oats, consuming it in excess can be harmful to the intestine and digestive system.
  • If preservative chemicals have been used while preparing the packet of oats, it can be injurious to health.
Read More
Benefits and Side effects of Cashew nuts

Posted 14 December, 2021

Benefits and Side effects of Cashew nuts

Cashew is a type of dry fruit which is used to enhance the taste of both sweet and spicy dishes but it is not that the use of cashew is limited to just eating. Cashew has an immense capacity as it also helps in getting rid of many types of physical problems. Cashews are rich in proteins, antioxidants and minerals which keeps the body healthy for a long time. In Ayurveda also, its nutritional properties help in curing many types of diseases. Consumption of cashew provides relief in many diseases like toothache, diarrhoea, weakness, etc.

 

What is Cashew?

Cashew tree, like a mango tree, is always green and of medium size. Its height is about 12 m with soft branches and its leaves are like jackfruit. The flowers are small and yellow in colour with pink stripes. These flowers have a white kernel which is called cashew. The shape of cashew nuts is somewhat like a kidney which is famous as a natural vitamin pill. Cashews have amazing nutritional benefits which prove to be very beneficial for the body. Cashews are commonly used to enhance the taste of Indian dishes and sweets. The botanical name of cashew is Anacardium occidentale.

 

Benefits of Cashew nuts

For the digestive system-

Cashews contain a good amount of fibre. Since fibre improves digestion and relieves problems like constipation and ulcers. Therefore, eating cashews strengthens the digestive system.

 

For teeth-

Calcium is considered the most important nutrient for teeth. Since cashew is said to be a good source of calcium which helps in the development of teeth and maintaining their strength for a long time.

 

For skin-

Antioxidants like protein and vitamin E are present in cashew which promote the health and beauty of the skin. Apart from this, the signs of ageing, wrinkles and the harmful effects of sun rays can also be avoided by the consumption of cashew nuts.

 

For blood pressure-

According to scientific research, a supplement made from cashew helps in reducing systolic blood pressure. Therefore, cashew is considered a good option to control blood pressure.

 

For heart health-

Cashews are considered in the category of those nuts which work to keep the heart healthy and benefit the body. In fact, bioactive macronutrients are found in cashew nuts which work to keep the heart healthy for a long time.

 

For diabetes-

Magnesium is called a diabetic friend. Since cashew is considered a good source of magnesium which helps in stabilizing the glucose present in the blood. As a result, diabetes is controlled.

 

For bone development-

Cashews contain high amounts of calcium and magnesium which helps in preventing the disease of osteoporosis (weak and fragile bones) by aiding in the development of bones. Therefore, cashew is considered good for the development of bones.

 

For hair-

Cashews contain many nutrients like iron, magnesium, phosphorus and zinc. It also helps in maintaining the shine and strength of hair by aiding hair growth.

 

For a healthy mind-

A good amount of magnesium is found in cashew nuts. Magnesium has been shown to aid in blood flow to the brain and help prevent brain injury. In addition, magnesium also has some antidepressant properties which also help in relieving depression and stress. Therefore, cashew is considered a great remedy for a healthy mind.

 

For blood-

Cashew nuts are a good source of copper and iron which help in carrying oxygen in the body by increasing the red blood cells. Apart from this, iron also helps in removing blood disorders like anaemia by increasing the production of red blood cells.

 

For pregnancy-

Many such nutrients are present in cashew nuts which are very important for a pregnant woman. The calcium and magnesium found in it help in the health of the pregnant woman and the development of the bones of the fetus. Apart from this, magnesium also helps in preventing low birth weight and increased blood pressure in pregnant women.

 

For cancer-

Anacardic acid is believed to be present in cashew extract. This anacardic acid proves helpful in preventing cancer metastasis (the process of spreading cancer in the body). Therefore, cashew is considered a good and useful remedy in the prevention of cancer.

 

Use of Cashew nuts

  • Cashew nuts are eaten as dry fruits in kheer and halwa.
  • These are also consumed directly as dry fruits.
  • It is used in the form of sweets like cashew katli.
  • Cashews are also used in certain vegetables like Shahi Paneer.
  • Cashews are roasted in ghee, sprinkled with light salt and eaten as snacks.

Side effects of Cashew nuts

  • Since cashews are high in calories, excessive consumption can lead to weight gain.
  • Cashews contain a good amount of fibre. Therefore, consuming cashews in excess can cause constipation and gas problems.
  • A good amount of sodium is found in cashew nuts. Therefore, excessive consumption may lead to high blood pressure, stroke and heart-related problems.
  • Cashews are a rich source of potassium. Therefore, due to its excessive consumption, the heartbeat can suddenly stop and the kidney can also get damaged.
Read More
Unheard Benefits and Uses of Cheese

Posted 14 December, 2021

Unheard Benefits and Uses of Cheese

Cheese is an important milk product that is made in many ways and its taste and colour also have different forms. Cheese is used to make many things where sour milk is used to make paneer. At the same time, bacteria are used in milk to make cheese.

 

There are two types of cheese- soft and hard cheese. It is similar to paneer in appearance but is completely different and sweeter than paneer in taste. It is rich in many nutrients, which are beneficial for health. It contains many nutrients like Vitamin-C, Vitamin-B6, Vitamin-B12, Vitamin-A, Vitamin-D, Vitamin-E and Vitamin-K. Other vitamins such as thiamin, riboflavin, niacin are also found in cheese.

 

Benefits of Cheese

Beneficial in cavities-

The problem of tooth loss arises due to cavities. In such a situation, the risk of getting cavities in the teeth is reduced by consuming cheese. It has cariostatic properties, which work to reduce cavities and is also a good source of calcium, which is beneficial in benefiting the teeth.

 

Cancer prevention-

According to research, consuming cheese prevents colorectal and breast cancer etc. Cheese has properties like calcium and vitamin D, which protect the body from cancer.

 

Beneficial for weight gain-

Cheese plays an important role in increasing weight for lean people. Protein, calories and fat are found in abundance in cheese, which are helpful in increasing weight.

 

Effective for bone strength

Cheese is also beneficial for bones. According to a study, calcium is found in abundance in cheese, which works to strengthen bones. Due to this, it also helps in keeping away diseases related to bones like osteoporosis. In osteoporosis, bones become weak and there is a risk of them breaking. This can be avoided with the use of cheese.

 

Beneficial in pregnancy-

 It is safer to consume hard cheese than soft cheese during pregnancy. Cheese is rich in calcium, vitamins and minerals, which help in the bone structure of the foetus. Along with this, cheese is also beneficial in getting rid of the problem of birth defects (related to the spinal cord and brain).

 

Useful in premenstrual syndrome-

Almost every girl child has to go through premenstrual syndrome. The physical, mental and emotional changes that occur a week before the period are called premenstrual syndrome. In this stage, the girl may have irritability, abdominal pain and headache. According to scientific research, consumption of cheese reduces fatigue, depression and craving for food during premenstrual syndrome, this is due to the amount of calcium found in cheese.

 

Effective in migraine-

Certain foods are specifically mentioned to reduce the problem of migraines which include cheese. It contains riboflavin, which works to relieve migraine and migraine pain. Therefore, it can be said that the benefits of cheese are effective in migraines.

 

Makes the immune system strong-

The use of cheese strengthens the body's immune system. The type of cheese called Minas Frescal is rich in probiotics, which help in boosting the immune system. Along with this, it also gets rid of the problem of infection and is mainly beneficial for athletes.

 

Helpful in the problem of insomnia-

Consumption of cheese is beneficial in the problem of insomnia. Melatonin is found in cheese which is a type of hormone helpful to facilitate sleep. Therefore, using cheese is considered helpful to get relief from the problem of insomnia.

 

Beneficial for glowing skin-

Cheese is used to enhance the complexion of the skin. Research has found that vitamin B works to improve the complexion of the skin while another research states that vitamin B is found in cheese. Therefore, the benefits of cheese are also important for the skin.

 

Important for better hair health-

The use of cheese is very important for the health of the hair because cheese is rich in vitamin B, zinc, iron, magnesium and calcium, which help in preventing hair fall.
 

Uses of Cheese

Cheese is used in the preparation of-

 
  • Cheese pizza
  • Cheese sandwich
  • Cheese ball
  • Cheese Dosa
  • Cheese Paratha
  • Cheese Macaroni Pasta
  • Cheese Garlic Bread
  • Cheese bread dumplings

Side-effects of Cheese

  • Cheese does not contain fibre, so consuming too much of it can cause constipation.
  • Cheese has a high-fat content, eating it in excess can lead to the problem of diabetes.
  • People who want to lose weight should not consume cheese, as it can lead to weight gain.
  • Some people are intolerant to lactose. That is, such people are not able to digest the lactose found in milk and milk products. Consuming lactose causes abdominal bloating, cramping, diarrhoea, gas and nausea, usually within 30 minutes to two hours after consuming dairy products. Levels of lactose intolerance vary; people who can tolerate lactose usually consume the same amount.
Read More
Amazing Benefits of Coconut

Posted 14 December, 2021

Amazing Benefits of Coconut

Coconut is a very useful fruit that has countless benefits. It is used as a fruit, as an oil and as milk. Along with being useful for worship, it also benefits health in many ways. Coconut fruit and coconut water both have countless health benefits. Therefore, coconut has been used as a medicine for many diseases in Ayurveda. Coconut water fulfils the lack of water in the body and also helps in removing the spots of smallpox on the face. Coconut fruit is a storehouse of nutrients. It is used as a medicine for diseases ranging from headache to hiccups, vomiting, diarrhoea, shingles, swelling etc. Due to the nutrients like vitamins, minerals, amino acids, fibre, carbohydrates, proteins in coconut, it is helpful in the treatment of many diseases. Coconut is also used as an oil. It helps in keeping the hair strong and protects the skin from many types of infections.

 

What is Coconut?

Coconut is a perennial and monocot plant with long and branchless stems. There are elongated leaves at the upper end of the main stem. These trees are found on the seashore or in salty places. Its fruit is used in the religious rituals of Hinduism. Coconut trees grow extensively in India, mainly in Kerala, West Bengal and Orissa. It is also grown in Mumbai in Maharashtra and in coastal areas and Goa.

 

Benefits of Coconut

Coconut is beneficial for diabetes-

Patients with diabetes should consume raw coconut daily. Coconut helps in the production of insulin due to which it is very beneficial for diabetics. With the help of insulin, the body converts glucose into energy and controls the amount of sugar in the blood.

 

Coconut boosts immunity-

The raw coconut should be consumed to increase the immunity of the body. Coconut has abundant anti-bacterial, anti-parasitic properties which prevent infection from entering the body and help to keep the body away from serious diseases.

 

Coconut increases the energy of the body-

Raw coconut is high in fibre which helps in reducing body fat and increasing energy. Therefore, consuming coconut does not cause hunger.

 

Coconut is helpful in reducing cholesterol-

Consumption of coconut helps in improving the level of bad cholesterol in the body. It reduces the problems related to the heart. The saturated fat present in coconut increases the amount of cholesterol in the body and helps in controlling bad cholesterol.

 

Coconut is helpful in keeping bones strong-

Raw coconut is rich in calcium and magnesium which helps to keep bones strong. Therefore, consuming raw coconut daily keeps bones strong.

 

Coconut is beneficial for teeth-

Consuming raw coconut is beneficial if there is any problem related to teeth. Raw coconut contains minerals like calcium and magnesium which help in removing the problem of teeth.

 

Coconut is beneficial for the heart-

The dry coconut should be consumed to reduce the risk of heart disorders. Dried coconut contains more fibre which helps to keep the heart healthy.

 

Coconut prevents cancer-

Consumption of dried coconut is very beneficial for the prevention of cancer. It helps the body fight cancer cells. Dried coconut contains many nutrients which help prevent colon cancer and breast cancer.

 

Benefits of Coconut for women

After ageing in women, there is a complaint of anaemia. To overcome these deficiencies, women should include dry coconut in their diet daily. By doing this, there will be benefits in anaemia.

 

Raw coconut is rich in vitamin K and iron which help in making hair healthy due to which the hair becomes beautiful and shiny.

 

Women who have the problem of acne on the skin should apply raw coconut oil on the face to overcome these problems. Consuming raw coconut does not cause itching and burning in the skin.

 

Women should consume coconut daily to increase blood circulation in the body due to which oxygen increases in the skin and helps in increasing blood circulation. Due to the availability of a sufficient amount of oxygen to the body, there is sufficient blood circulation. This leaves the skin young, healthy and glowing.

 

Side effects of Coconut

  • Coconut water is very low in calories but the amount of sugar in it is high which can lead to diabetes by increasing the level of sugar. Therefore, it should be consumed in the right quantity.
  • Consuming an excessive amount of coconut water can increase the risk of obesity which can be injurious to health.
  • Keep in mind that coconut is high in saturated fat which can increase the risk of heart disease. Therefore, coconut should be consumed in the right quantity.

Coconut is a very useful fruit that has countless benefits. It is used as a fruit, as an oil and as milk. Along with being useful for worship, it also benefits health in many ways. Coconut fruit and coconut water both have countless health benefits. Therefore, coconut has been used as a medicine for many diseases in Ayurveda. Coconut water fulfils the lack of water in the body and also helps in removing the spots of smallpox on the face. Coconut fruit is a storehouse of nutrients.

 

It is used as a medicine for diseases ranging from headache to hiccups, vomiting, diarrhoea, shingles, swelling etc. Due to the nutrients like vitamins, minerals, amino acids, fibre, carbohydrates, proteins in coconut, it is helpful in the treatment of many diseases. Coconut is also used as an oil. It helps in keeping the hair strong and protects the skin from many types of infections.

 

What is Coconut?

Coconut is a perennial and monocot plant with long and branchless stems. There are elongated leaves at the upper end of the main stem. These trees are found on the seashore or in salty places. Its fruit is used in the religious rituals of Hinduism. Coconut trees grow extensively in India, mainly in Kerala, West Bengal and Orissa. It is also grown in Mumbai in Maharashtra and in coastal areas and Goa.

 

Benefits of Coconut

Coconut is beneficial for diabetes-

Patients with diabetes should consume raw coconut daily. Coconut helps in the production of insulin due to which it is very beneficial for diabetics. With the help of insulin, the body converts glucose into energy and controls the amount of sugar in the blood.

 

Coconut boosts immunity-

The raw coconut should be consumed to increase the immunity of the body. Coconut has abundant anti-bacterial, anti-parasitic properties which prevent infection from entering the body and help to keep the body away from serious diseases.

 

Coconut increases the energy of the body-

Raw coconut is high in fibre which helps in reducing body fat and increasing energy. Therefore, consuming coconut does not cause hunger.

 

Coconut is helpful in reducing cholesterol-

Consumption of coconut helps in improving the level of bad cholesterol in the body. It reduces the problems related to the heart. The saturated fat present in coconut increases the amount of cholesterol in the body and helps in controlling bad cholesterol.

 

Coconut is helpful in keeping bones strong-

Raw coconut is rich in calcium and magnesium which helps to keep bones strong. Therefore, consuming raw coconut daily keeps bones strong.

 

Coconut is beneficial for teeth-

Consuming raw coconut is beneficial if there is any problem related to teeth. Raw coconut contains minerals like calcium and magnesium which help in removing the problem of teeth.

 

Coconut is beneficial for the heart-

The dry coconut should be consumed to reduce the risk of heart disorders. Dried coconut contains more fibre which helps to keep the heart healthy.

 

Coconut prevents cancer-

Consumption of dried coconut is very beneficial for the prevention of cancer. It helps the body fight cancer cells. Dried coconut contains many nutrients which help prevent colon cancer and breast cancer.

 

Benefits of Coconut for women

After ageing in women, there is a complaint of anaemia. To overcome these deficiencies, women should include dry coconut in their diet daily. By doing this, there will be benefits in anaemia.

 

Raw coconut is rich in vitamin K and iron which help in making hair healthy due to which the hair becomes beautiful and shiny.

 

Women who have the problem of acne on the skin should apply raw coconut oil on the face to overcome these problems. Consuming raw coconut does not cause itching and burning in the skin.

 

Women should consume coconut daily to increase blood circulation in the body due to which oxygen increases in the skin and helps in increasing blood circulation. Due to the availability of a sufficient amount of oxygen to the body, there is sufficient blood circulation. This leaves the skin young, healthy and glowing.

 

Side effects of Coconut

  • Coconut water is very low in calories but the amount of sugar in it is high which can lead to diabetes by increasing the level of sugar. Therefore, it should be consumed in the right quantity.
  • Consuming an excessive amount of coconut water can increase the risk of obesity which can be injurious to health.
  • Keep in mind that coconut is high in saturated fat which can increase the risk of heart disease. Therefore, coconut should be consumed in the right quantity.
Read More
गेहूं के जवारे (व्‍हीटग्रास) लाभ और उपयोग

Posted 24 May, 2022

गेहूं के जवारे (व्‍हीटग्रास) लाभ और उपयोग

प्रकृति ने सेहत से संबंधित हर छोटी-बड़ी परेशानी से लड़ने के लिए कई चीजें प्रदान की हैं। जिनका स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर होता है। इन्हीं प्रकृति प्रदत्त उपहारों में से एक “गेहूं के ज्वारे” भी है। जिसका इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता है। गेहूं के जवारे को अंग्रेजी में व्हीटग्रास के नाम से जाना जाता है।

 

क्या होता है गेहूं के जवारे?

लगभग सभी लोगों ने गेंहू की फसल जरूर देखी होगी। जो शुरुआत में हरी घास की तरह होती है। बस इसी हरी घास को अंग्रेजी में व्हीटग्रास और हिंदी में गेहूं के जवारे कहते हैं। यह हरी घास सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होती है। गेहूं के इस पौधे को ट्रिटाकुमेस्टिवम लिनन (Tritcumaestivum Linn) परिवार का सदस्य माना जाता है। यह हरी घास फ्लेवोनोइड्स, क्लोरोफिल, विटामिन-ए और विटामिन-सी से प्रचुर होती है। इसके अलावा इसमें मधुमेह, मोटापा, कैंसर रोधी और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने वाले गुण भी पाए जाते हैं।

 

व्‍हीटग्रास के फायदे:

प्रतिरोधक क्षमता के लिए-

व्हीटग्रास में ओलिगोसैकैराइड (oligosaccharides) पाया जाता है। जिसे चीनी मॉलिक्यूल की छोटी शृंखला भी माना जाता है। इसमें एक माल्टोहेप्टोस (maltoheptaose) नामक घटक होता है। जिसमें इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव पाया जाता है। जो प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने वाली कोशिकाओं को सक्रिय करने का काम करता है। जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार हो सके और शरीर तमाम तरह की बीमारियों से बच सके।

 

दांतों के लिए-

गेहूं के जवारे में विटामिन-सी की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। जो मसूंड़ों को स्वस्थ और दांतों को मजबूत रखने का काम करता है। इसके अलावा व्हीट ग्रास का रस गले की खराश और पायरिया के लिए बेहतरीन माउथ वॉश साबित होता है। यह दांतों को सड़ने से बचाता है। साथ ही दांतों के दर्द को भी कम करता है।

 

पाचन क्षमता के लिए-

पाचन संबंधी परेशानियों में व्हीटग्रास को अच्छा माना जाता है। इन परेशानियों में पेट और आंतों में अल्सर, अपच, कब्ज, पेट फूलना, उल्टी, मतली, अम्लता आदि शामिल हैं। व्हीटग्रास के जूस में विटामिन-बी पाया जाता है। जो पाचन संबंधी विकारों को दूर करने में सहायता करता है। वहीं, गेहूं के जवारे में प्रोटीन और अमीनो एसिड भी मौजूद होता है। जो पाचनतंत्र को शक्ति प्रदान करने में मदद करता है।

 

रक्त में मौजूद शुगर के लिए-

व्हीटग्रास में एंटीहाइपरग्लाइसीमिया और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को संतुलित बनाए रखने और मधुमेह के खतरे को कम करते हैं। इसलिए मधुमेह के समय गेहूं के जवारे का उपयोग अच्छा रहता है।

 

कोलेस्ट्रॉल के लिए-

शरीर में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को जन्म देता है। जिनमें हृदय संबंधी समस्या प्रमुख है। चूंकि व्हीटग्रास में हाइपोलिपिडेमिक गुण मौजूद होते हैं। जो शरीर में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके फायदेमंद कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए कोलेस्ट्रॉल संबंधी समस्याओं के लिए व्हीटग्रास का उपयोग करना फायदेमंद साबित होता है।

 

सूजन के लिए-

अक्सर लोगों को चोट लगने पर या जोड़ों पर सूजन, जोड़ों में दर्द, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और हड्डी की समस्या जैसी कई परेशानियां रहती हैं। इस तरह की सूजन और परेशानियों को कम करने के लिए गेहूं के जवारे का उपयोग करना अच्छा रहता है। क्योंकि गेहूं के जवारे में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। जो सूजन और दर्द को दूर करने में कारगर साबित होते हैं।

 

वजन कम करने के लिए-

गेहूं के जवारे में पोटैशियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। जो शरीर के वजन को नियंत्रित करने में सहायता करता है। पोटेशियम के अलावा इसमें फाइबर सहित कई ऐसे पोषक तत्व भी मौजूद हैं, जो वजन घटाने में मदद कर सकते हैं। इसलिए वजन घटाने के लिए गेहूं के जवारे को अच्छा उपाय माना जाता है।

 

गठिया की समस्या के लिए-

व्हीटग्रास जूस गठिया संबंधी परेशानी को कम करने में मददगार होता है। दरअसल गेहूं के जवारे में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। जो गठिया के कारण होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं।

 

कैंसर कोशिकाओं के लिए-

एक शोध के अनुसार, गेहूं के जवारे में एंटीकैंसर गुण पाए जाते हैं। जो कैंसर के खतरे को दूर रखने में मदद करते हैं और कैंसर को बढ़ाने वाली कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं। इसलिए कैंसर के खतरे को कम करने के लिए व्हीटग्रास का उपयोग करना फायदेमंद साबित हो सकता है।

 

सूरज की पराबैंगनी किरणों से बचाने के लिए-

सूरज की पराबैंगनी किरणों से त्वचा पर होने वाली जलन को व्हीटग्रास की मदद से कम किया जा सकता है। क्योंकि वीटग्रास में एक  क्लोरोफिलिन (Chlorophyllin ) नाम का घटक पाया जाता है। जो त्वचा के घावों, जलन और अल्सर के उपचार में सहायता करता है। इसके अतिरिक्त गेहूं जवारे के जूस में विटामिन-ए भी पाया जाता है। जो त्वचा संबंधी कई परेशानियों से छुटकारा दिलाने में मदद करता है।

 

बालों के लिए-

गेहूं के जवारे का उपयोग झड़ते बाल या गंजेपन को कम करने के लिए भी किया जा सकता है। क्योंकि इसमें जिंक मौजूद होता है। जो बालों को पर्याप्त पोषण प्रदान करता है। जिससे बालों का झड़ना और गंजापन कम होने लगता है। वहीं, व्हीटग्रास के उपयोग से बालों का असमय सफेद होना भी रुक जाता है। साथ ही इसके इस्तेमाल से बाल लंबे, घने और जड़ से मजबूत बनते हैं।

 

व्हीटग्रास का उपयोग-

  • व्हीटग्रास का इस्तेमाल जूस बनाने के लिए किया जा सकता है।
  • व्हीटग्रास के रस को अन्य रसों में मिलाकर पिया जाता है।
  • व्हीटग्रास का इस्तेमाल स्मूदी के रूप में किया जाता है।
  • व्हीटग्रास का सेवन पाउडर के रूप में किया जाता है।
  • व्हीटग्रास के पाउड का सेवन दूध में मिलाकर भी किया जाता है।
  • व्हीटग्रास का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाया जाता है।
  • व्हीटग्रास के पेस्ट को जले हुए और सूजन से प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से आराम मिलता है।
  • व्हीटग्रास के पेस्ट का उपयोग आंखों के डार्क सर्कल को कम करने के लिए किया जाता है।

गेहूं के जवारे के नुकसान-

  • जिन लोगों का शुगर लेवल कम हो, उन्हें व्हीटग्रास का सेवन सावधानी से करना चाहिए। क्योंकि इसमें एंटी हाइपरग्लाइसीमिया प्रभाव मौजूद होता है। जो रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम करने का काम करता है। इसलिए इसका अधिक सेवन शुगर लेवल को बहुत कम कर सकता है।
  • व्हीटग्रास में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए इसके अधिक सेवन से पेट में गैस, सूजन और ऐंठन की समस्या हो सकती है।
  • व्हीटग्रास के रस का अधिक सेवन करने से मतली की दिक्कत पैदा हो सकती है।
Read More
शहद के अद्भुत फायदे

Posted 24 May, 2022

शहद के अद्भुत फायदे

शहद एक मीठा और चिपचिपाहट से भरा अर्ध तरल पदार्थ होता है। जो मधुमक्खियों द्वारा पौधों के पुष्पों में स्थित मकरन्द कोशों से स्रावित मधुरस से तैयार किया जाता है। इसे मधुमक्खियों द्वारा कई चरणों में काफी लम्बी प्रक्रिया के बाद तैयार किया जाता है। शहद में पाए जाने वाला मीठापन मुख्यतः ग्लूकोज़ और फ्रक्टोज के कारण होता है। शहद ज़रूरी पोषक तत्वों, खनिजों और विटामिन का भंडार है। इसमें कार्बोहाइड्रेट, राइबोफ्लेविन, नायसिन, विटामिन बी-6, विटामिन सी और एमिनो एसिड भी पाए जाते हैं।

 

आयुर्वेद में शहद को एक औषधि का दर्जा हासिल है। शहद के मौजूद औषधीय गुणों के कारण यह अनगिनत बीमारियों के इलाज में उपयोगी माना जाता है। आज के समय में मुख्य रूप से लोग त्वचा में निखार लाने, पाचन ठीक रखने, इम्यूनिटी पावर बढ़ाने, वजन कम करने आदि के लिए शहद का उपयोग करते हैं। इसके अलावा शहद में एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। छोटे बच्चों से लेकर वयस्कों तक शहद सभी के लिए फायदेमंद है। नियमित रूप से शहद खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जिससे कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बचाव होता है। शहद का इस्तेमाल प्राचीन काल से ही होता आया है और शहद के फायदों के बारे में आयुर्वेद में भी प्रमुखता से उल्लेख मिलता है। शहद में मौजूद ग्लूकोज व अन्य शर्कराएं तथा विटामिन, खनिज और अमीनो अम्ल जैसे कई तत्व मिलते हैं। जो घाव को ठीक करने और उतकों के बढ़ने के उपचार में मदद करते हैं।

 

प्राचीन काल से ही शहद को एक जीवाणु-रोधी के रूप में जाना जाता रहा है। शहद में फ्रूट ग्लूकोज, आयरन, कैल्शियम, फॉस्फेट, सोडियम, क्लोरीन, पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे गुण होते हैं। जो शरीर को बैक्टीरिया से बचाने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक, विटामिन बी1 और बी6 भी भरपूर मात्रा में होते हैं। जो सेहत और खूबसूरती दोनों के लिए फायदेमंद है।

 

शहद एक हाइपरस्मॉटिक एजेंट होता है। जो घाव से तरल पदार्थ निकाल कर शीघ्र उसकी भरपाई करता है और इससे हानिकारक जीवाणु भी मर जाते हैं। जब इसको सीधे घाव में लगाया जाता है तो यह सीलैंट की तरह कार्य करता है। ऐसे में घाव संक्रमण से बचा रहता है। शहद का उपयोग किसी भी रूप में करें यह सेहत के लिए हमेशा फायदेमंद रहता है। शहद से सेरोटोनिन कैमिकल निकलता है। जो मूड को अच्छा बनाता है। शरीर इस सेरोटोनिन कैमिकल को मेलाटोनिन केमिकल में बदल देता है। जो खराब नींद के लिए जिम्मेदार होता है। इसलिए जिन व्यक्तियों को अनिद्रा की समस्या हो। उन्हें रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध में शहद मिलाकर पीना चाहिए। इससे नींद अच्छी आती है।

 

शहद के फायदे-

खांसी से दिलाता है आराम-

नेचुरल शहद खांसी से आराम दिलाने की असरदार घरेलू दवा है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण संक्रमण को बढ़ने से रोकते हैं। साथ ही यह कफ को पतला करता है। जिससे कफ आसानी से बाहर निकल जाता है। इसलिए जो लोग सूखी खांसी से परेशान रहते हैं उन्हें शहद का सेवन करना चाहिए।

 

कटने या जलने पर लाभदायक-

त्वचा के कटने-छिलने या जल जाने पर नेचुरल शहद का उपयोग करना बहुत लाभकारी होता है। शहद में मौजूद एंटीसेप्टिक गुण जले हुए हिस्से को जल्दी ठीक करते हैं और त्वचा को संक्रमण से भी बचाते हैं।

 

वजन कम करने में सहायक-

जो लोग बढ़ते वजन या मोटापे से परेशान हैं। उन्हें शहद का सेवन करना चाहिए। क्योंकि यह वजन कम करने में मदद करता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शहद में वसा बिल्कुल भी नहीं होता है। इसलिए यह वजन को नियंत्रित रखने के साथ-साथ शरीर के कोलेस्ट्रॉल लेवल को भी कम करता है। इसलिए नियमित रूप से शहद का सेवन किया जा सकता है।

 

प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाता है-

नेचुरल शहद में ज़रुरी एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा काफी ज्यादा होती है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। जिसके बाद इम्यूनिटी पावर मजबूत होने से कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बचाव होता है।

 

घाव भरने में मदद करता है-

शहद में मौजूद तत्वों फ्लेवोनॉयड, फेनोलिक एसिड और लैसोजाइम में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। जो सूजन को रोकते हैं और क्षतिग्रस्त ऊतकों और कोशिकाओं की मरम्मत करते हैं। इन्हीं गुणों की वजह से यह घाव को जल्दी ठीक करने में मदद करता है।

 

गले की खराश को दूर करता है-

इस शहद के फायदों में गले की खराश को दूर करना भी शामिल है। यह खांसी और सर्दी-जुकाम से आराम दिलाने के साथ ही गला बैठने और गले की खराश में भी आराम दिलाता है।

 

कब्ज़ से राहत-

शहद शरीर में फ्रक्टोज के अवशोषण को कम करता है। इस वजह से इसका उपयोग कब्ज़ को दूर करने में भी किया जाता है। शहद कब्ज़ से आराम दिलाने के अलावा पेट फूलने और गैस की समस्या से भी आराम दिलाता है।

 

त्वचा के लिए फायदेमंद-

शहद त्वचा में निखार लाने में भी मदद करता है। क्योंकि शहद में ऐसे गुण मौजूद होते हैं जो त्वचा की नमी को बरकरार रखने में मदद करते हैं। जिन लोगों की त्वचा बहुत रूखी होती है, उन्हें त्वचा की नमी बनाए रखने के लिए इस शहद का इस्तेमाल करना चाहिए। इस बात का ध्यान रखें कि त्वचा में निखार लाने के लिए इसे खाने की बजाय त्वचा पर लगाया जाता है।

 

बालों के लिए फायदेमंद-

शहद के उपयोग से बालों की सुन्दरता बढ़ती है और उनके रूखेपन में कमी आती है। शहद में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण बालों के लिए फायदेमंद होते हैं। यह फ्री रेडिकल को हटाते हैं और ज्यादा देर तक धूप में रहने से या किसी हानिकारक केमिकल से बालों को होने वाले नुकसान से भी बचाते हैं। इस रूप में शहद से बालों को सही पोषण मिलता है। इसलिए बालों के लिए शहद को हेयर मास्क के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है।

 

शहद के नुकसान-

अगर ज़रुरत से अधिक मात्रा में या गलत चीजों के साथ शहद मिलाकर खाया जाए। तो शहद के निम्नलिखित नुकसान झेलने पड़ सकते हैं:-

 

अधिक मात्रा में सेवन करने से बचें-

औषधि के रूप में या त्वचा के लिए चिकित्सक द्वारा बताए खुराक के अनुसार ही शहद का सेवन और उपयोग करें। अधिक मात्रा में सेवन करने से शहद के साइड इफ़ेक्ट हो सकते हैं और इससे उल्टी-मितली आना और कुछ मामलों में डायरिया की शिकायत भी हो सकती है।

 

एक साल से कम उम्र के बच्चे को न खिलाएं शहद-

आधुनिक चिकित्सा पद्धति में ऐसा माना गया है कि एक साल से कम उम्र के बच्चों को शहद नहीं खिलाना चाहिए। इससे बच्चों में बोटुलिज़्म (Botulism) का खतरा हो सकता है। इसलिए एक साल से कम उम्र के बच्चे को शहद खिलाने के लिए डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें। इसी तरह छोटे बच्चों की त्वचा पर भी शहद लगाने से परहेज करना चाहिए।

 

पराग कणों से एलर्जी वाले लोग करें परहेज-

यदि किसी को पराग कणों से एलर्जी (pollen allergy) है। तो उसे शहद के सेवन या उपयोग से परहेज करना चाहिए। शोध के अनुसार जिन लोगों को पराग कणों से एलर्जी होती है। अगर वह शहद का उपयोग करते हैं, तो उनकी एलर्जी और बढ़ सकती है।

 

संवेदनशील त्वचा वाले लोग करें परहेज-

बहुत संवेदनशील त्वचा वाले लोग सीधे तौर पर शहद न लगाएं। बल्कि शहद में गुलाब जल या दूध मिलाकर उसे पतला कर लें और फिर उसे त्वचा पर लगाएं। क्योंकि दूध और शहद का मिश्रण त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है।

Read More
Nutrients and Benefits of Corn

Posted 14 December, 2021

Nutrients and Benefits of Corn

Almost everyone likes to eat roasted corn during the rainy season. Corn is a special type of food item used as a diet that is counted among the world's popular cereals. It is the main form of food in many countries. Corn Rotis are very much liked in many places in India too. It is also considered good for health in terms of nutrition. Due to its medicinal properties, it is also used in Ayurveda for the treatment of various diseases. Corn proves beneficial in reducing weight, curing low blood pressure, reducing diabetes, and reducing neural tube defects at birth. On the other hand, the health benefits of roasted corn are even more.

 

What is Corn?

Corn is counted among the coarse grains. In India, it is mostly consumed in the form of corn. Corn is cultivated from plains to hilly areas with an altitude of about 2700 m. The scientific name of corn is Zea mays. In India, it is cultivated extensively in Bihar, Andhra Pradesh, Rajasthan, Karnataka, and Uttar Pradesh. If we talk about the world, then it is well cultivated in countries like Brazil, China, America, and Mexico.

 

Nutrients in Corn

Corn is high in calories which is very important for healthy living and daily metabolism. Apart from this, corn is also considered a rich source of vitamins A, B, E, and many minerals. Along with this, proteins, fats, and carbohydrates are also present in it. Fibre is found in abundance in corn which works to prevent and eliminate digestive diseases like piles, constipation, and colorectal cancer. The antioxidants present in it, acting as an anti-carcinogenic agent, also help in curing brain diseases like Alzheimer's (amnesia).

 

Benefits of Corn

For digestion-

Consumption of corn has been shown to have a positive effect on improving digestion power. Vitamin-B complex is found in corn which improves the digestive system, eliminates the problem of constipation. Consumption of corn on this basis helps in improving the digestive system.

 

To lose weight-

Corn is rich in fibre which works to control abdominal obesity. It does not allow fat to settle in the body, as a result, obesity does not increase. According to the Boston University of America, the extract of corn silk (light fibrous hair present on the corn) rich in a chemical called mesin also helps in reducing weight. Therefore, corn is a good option for weight loss.

 

For cholesterol-

Corn proves helpful in controlling the increased cholesterol level. A research report related to corn indicates that linoleic acid is found in corn oil which helps in controlling the increased cholesterol by reducing it.

 

For diabetes-

According to research by NCBI (National Center for Biotechnology Information), some such elements are present in corn which work to increase the amount of insulin in the body. According to another research report, regular consumption of corn effectively reduces the blood sugar of type-2 diabetes patients. In this regard, some experts also recommend consuming corn in diabetes due to being rich in carbohydrates, fibre, vitamins, and proteins.

 

For heart health-

According to research, roasted corn grains (popcorn) are considered to be rich in phenolic compounds and antioxidant properties which work to provide relief in heart disease and high BP. Therefore, for a long time, corn is considered a good remedy for heart health.

 

For eyes-

A research report related to the eyes states that the lack of compounds such as antioxidants, lutein, and zeaxanthin in older people leads to laxity (looseness) of the eyes which later causes problems like weak eyes, low vision, and blindness. Since corn is considered a good source of zeaxanthin, antioxidant, and lutein compounds, it is a beneficial remedy to keep the eyesight good for a long time.

 

For bones-

A good amount of calcium is present in corn which is one of the essential nutrients for the strength of bones. Apart from this, the antioxidant properties present in corn also reduce the risk of bone loss. Therefore, the consumption of corn proves beneficial for bones.

 

For Alzheimer's disease-

According to research in the International Journal of Molecular Sciences, vitamin E plays an important role in reducing Alzheimer's disease because vitamin E is found in corn which is also a powerful antioxidant. Therefore, the consumption of corn proves to be helpful in Alzheimer's disease.

 

For iron deficiency and anaemia-

Corn helps in meeting the deficiency of iron in the body. According to NCBI, iron is found in abundance in corn. Therefore, iron deficiency in the body can be overcome by its consumption. The lack of iron in the body is considered the main cause of anaemia (lack of red blood cells), therefore, the consumption of corn also helps in reducing the risk of anaemia.

 

For hair and skin-

According to experts, the vitamin-B complex is present in corn which also proves beneficial for both skin and hair. Apart from this, nutrients like vitamins-A, C, E, D, iron, and zinc are also found in corn in which vitamins-A, C, E, D, are considered necessary for the skin, and vitamins C, D, iron, and zinc are considered necessary for the hair.

 

Beneficial in pregnancy-

Consuming corn in pregnancy is beneficial because it is a good source of calcium, iron, and folate which are considered essential nutrients during pregnancy. Actually, all these nutrients help in the development of the fetus, spine, and brain. It also reduces the chances of birth defects in the baby. Therefore, consuming corn during pregnancy is good for health.

 

Side effects of Corn

  • Since fibre is present in high amounts in corn, excessive consumption of it can cause problems like abdominal pain, bloating, and constipation.
  • Sometimes excessive consumption of corn also produces pellagra (vitamin B-3 deficiency) in the body which causes diarrhoea and skin diseases.
  • Gluten, found in corn, can sometimes also cause skin allergies for some people.
Read More
काजू के फायदे और नुकसान

Posted 24 May, 2022

काजू के फायदे और नुकसान

काजू एक प्रकार का सूखा मेवा (ड्राई फ्रूट्स) है। जिसका प्रयोग मीठे और मसालेदार दोनों तरह के व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन ऐसा कतई नहीं है कि काजू का इस्तेमाल सिर्फ खाने भर तक सीमित हो। क्योंकि काजू कई तरह की शारीरिक समस्याओं से निजात दिलाने में भी मदद करता है। काजू में तमाम प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट और खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं। जो शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं। आयुर्वेद में भी इसके पौष्टिक गुण कई तरह की बीमारियों को दूर एवं ठीक करने में सहायता करते हैं। काजू के सेवन से दांतों का दर्द, दस्त, कमजोरी जैसे अनेक रोगों में आराम मिलता है।

 

क्या है काजू?

काजू का पेड़, आम के पेड़ की तरह सदा हरा-भरा और मध्यम आकार का होता है। इसकी ऊंचाई लगभग 12 मी. होती है। इसकी शाखाएं मुलायम और पत्ते कटहल के पत्ते जैसे होते हैं। वहीं, इसके छोटे फूल पीले रंग और गुलाबी धारियों वाले होते हैं। इन फूलों में ही एक सफेद गिरी होती है। जिसे काजू कहा जाता है। काजू का आकार कुछ-कुछ गुर्दे की तरह होता है। जो एक प्राकृतिक विटामिन की गोली के रूप में प्रसिद्ध है। काजू में अद्भुत पोषण संबंधी लाभ होते हैं। जो शरीर के लिए बेहद फायदेमंद साबित होते हैं। आमतौर पर काजू का इस्तेमाल भारतीय व्यंजनों और मिठाइयों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। काजू का वानास्पतिक नाम एनाकार्डियम ऑक्सीडेन्टेल (Anacardium occidentale) और अंग्रेजी का नाम कैश्यू नट (Cashew nut) है।

 

काजू के फायदे:

पाचन तंत्र के लिए

काजू में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। चूंकि फाइबर पाचन क्रिया को ठीक करके कब्ज और अल्सर जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। इसलिए काजू खाने से पाचन-तंत्र मजबूत होता है।

 

दांतों के लिए

दांतों के लिए कैल्शियम सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व माना जाता है। चूंकि काजू को कैल्शियम का अच्छा स्त्रोत कहा जाता है। जो दांतों के विकास और उनकी मजबूती को लंबे समय तक बनाए रखने में मदद करता है।

 

त्वचा के लिए

काजू में प्रोटीन और विटामिन-ई जैसे एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं। जो त्वचा के स्वास्थ्य और सौंदर्य को बढ़ावा देने का काम करते हैं। इसके अलावा काजू के सेवन से बढ़ती उम्र के लक्षणों, झुर्रियों और सूर्य की किरणों के हानिकारक प्रभावों से भी बचा जा सकता है।

 

रक्तचाप के लिए

एक वैज्ञानिक शोध के मुताबिक, काजू से बना सप्लीमेंट, सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर (Systolic Blood Pressure) को कम करने में मदद करता है। इसलिए रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए काजू को अच्छा विकल्प समझा जाता है।

 

हृदय स्वास्थ्य के लिए

काजू को उन नट्स की श्रेणी में रखा जाता है। जो हृदय को स्वस्थ रखने और शरीर को लाभ पहुंचाने का काम करते हैं। दरअसल काजू में बायोएक्टिव मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं। जो हृदय को लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करते हैं।

 

डायबिटीज के लिए

मैग्नीशियम को डायबिटीक फ्रेंड कहा जाता है। चूंकि काजू को मैग्नीशियम का अच्छा स्त्रोत माना जाता है। जो रक्त में मौजूद ग्लूकोज को स्टेबलाइजर करने में सहायता करता है। परिणामस्वरूप डायबिटीज नियंत्रित होने लगती है।

 

हड्डियों के विकास के लिए

काजू में कैल्शियम और मैग्नीशियम की उच्च मात्रा होती है। जो हड्डियों के विकास में सहायता कर, ऑस्टियोपोरोसिस (कमजोर और नाजुक हड्डियों) की बीमारी को रोकने में मदद करती हैं। इसलिए हड्डियों के विकास के लिए काजू को अच्छा माना जाता है।

 

बालों के लिए

काजू में आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस और जिंक जैसे तमाम पोषक तत्व मौजूद होते हैं। जो बालों के विकास में सहायता कर, बालों की चमक और मजबूती को बनाए रखने में भी मदद करते हैं।

 

स्वस्थ दिमाग के लिए

काजू में मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। मैग्नीशियम मस्तिष्क के रक्त प्रवाह में सहायक और मस्तिष्क की चोट को दूर करने में मददगार साबित होता है। इसके अलावा मैग्नीशियम में कुछ एंटीडिप्रेसेंट गुण भी होते हैं। जो अवसाद और तनाव को दूर करने में भी मदद करते हैं। इसलिए काजू को स्वस्थ दिमाग के लिए बढ़िया उपाय माना जाता है।

 

रक्त के लिए

काजू कॉपर और आयरन का अच्छा स्रोत है। जो लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाकर, शरीर में ऑक्सीजन को पहुंचाने में मदद करते हैं। इसके अलावा आयरन रेड ब्लड सेल्स निर्माण को बढ़ाकर एनीमिया जैसे रक्त विकार को दूर करने में भी मदद करता है।

 

गर्भावस्था के लिए

काजू में कई ऐसे पोषक तत्व मौजूद हैं। जो प्रेग्नेंट महिला के लिए बेहद जरूरी होते हैं। इसमें पाए जाने वाले कैल्शियम और मैग्नीशियम गर्भवती महिला के स्वास्थ्य और भ्रूण की हड्डियों के विकास में मदद करते हैं। इसके अलावा मैग्नीशियम जन्म के समय शिशु के वजन में होने वाली कमी और गर्भवती के बढ़ते रक्तचाप को रोकने में भी मदद करता है।

 

कैंसर के लिए

माना जाता है कि काजू के अर्क में अनाकार्डिक एसिड मौजूद होता है। यह अनाकार्डिक एसिड कैंसर मेटास्टेसिस (शरीर में कैंसर फैलने की प्रक्रिया) को रोकने में मददगार साबित होता है। इसलिए कैंसर से बचाव में काजू को अच्छा और उपयोगी उपाय माना जाता है।

 

काजू का उपयोग

  • काजू को खीर और हलवे में ड्राई फ्रूट्स के रूप में डालकर खाया जाता है।
  • काजू को ड्राई फ्रूट्स के तौर पर सीधे भी खाया जाता है।
  • काजू कतली जैसी मिठाई के रूप में इसका उपयोग किया जाता है।
  • काजू का उपयोग शाही पनीर जैसी कुछ खास सब्जियों में भी किया जाता है।
  • काजू को घी में भून कर, हल्का नमक डालकर स्नैक्स के रूप में खाया जाता है।

काजू के नुकसान

  • चूंकि काजू में उच्च मात्रा में कैलोरी होती है। इसलिए इसके अधिक सेवन से वजन बढ़ सकता है।
  • चूंकि काजू में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। इसलिए काजू का अधिक मात्रा में सेवन करना कब्ज और गैस की समस्या पैदा कर सकता है।
  • चूंकि काजू में सोडियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए इसके अधिक सेवन से उच्च रक्तचाप, स्ट्रोक और हृदय से संबंधित परेशानियां हो सकती हैं।
  • चूंकि काजू पोटेशियम से समृद्ध होता है। इसलिए इसके अधिक सेवन से दिल का धड़कना अचानक बंद हो सकता है और किडनी भी खराब हो सकती है
Read More
जानें चीज़ के रोचक फायदे

Posted 24 May, 2022

जानें चीज़ के रोचक फायदे

क्या होता है चीज़?

चीज (cheese) दूध से बनने वाला एक महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ है। जो कई तरीकों से बनाया जाता है और इसके स्वाद और रंग में भी अलग-अलग रुप देखने को मिलते हैं। चीज का उपयोग बहुत सी चीजों को बनाने में किया जाता है। जहां पनीर को बनाने के लिए दूध में खटास का इस्तेमाल किया जाता है। वहीं, चीज़ के निर्माण के लिए दूध में बैक्टीरिया का इस्तेमाल किया जाता है। चीज़ दो तरह के होते है, सॉफ्ट और हार्ड चीज़। यह दिखने में पनीर की तरह होता है, लेकिन स्वाद में पनीर से बिल्कुल अलग और मीठा होता है। यह कई तरह के पोषक तत्व से भरपूर होता है, जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं। इसमें कई विटामिन्स जैसे विटामिन-सी, विटामिन-बी 6, विटामिन-बी 12, विटामिन-ए, विटामिन-डी, विटामिन-ई और विटामिन-के जैसे कई पोषक तत्व शामिल होते हैं। अन्य विटामिन्स जैसे थियामीन, राइबोफैविविन, नियासिन भी चीज़ में पाए जाते हैं। इसका सेवन करने से शरीर को कैल्शियम, सोडियम, जस्ता, फास्फोरस, पोटेशियम और लोहे जैसे कुछ महत्वपूर्ण खनिज भी उपलब्ध होते हैं।

 

चीज़ के फायदे

कैविटी में लाभदायक

कैविटी के कारण दांतों के खराब होने की समस्या उत्पन्न होती है। ऐसे में चीज़ के सेवन से दांतों में कैविटी होने का जोखिम कम होता है। चीज़ में कैरोस्टेटिक गुण पाए जाते हैं, जो कैविटी को कम करने का काम करते हैं। साथ ही यह कैल्शियम का अच्छा स्रोत होता है, जो दांत को लाभ पहुंचाने में फायदेमंद होता है।

 

कैंसर से बचाव

एक शोध के अनुसार चीज़ का सेवन करने से कोलोरेक्टल व ब्रैस्ट कैंसर आदि से बचाव होता है। चीज़ में कैल्शियम व विटामिन-डी जैसे गुण पाए जाते हैं, जो कैंसर से शरीर की रक्षा करते हैं ।

 

वजन बढ़ाने के लिए फायदेमंद

दुबले-पतले लोगों के लिए वजन को बढ़ाने में चीज़ अहम भूमिका निभाता है। चीज़ में प्रोटीन, कैलोरी और वसा भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो वजन को बढ़ाने में मददगार होते हैं।

 

हड्डियों की मजबूती के लिए कारगर

चीज़ हड्डियों के लिए भी लाभदायक होता है। एक अध्ययन के अनुसार, चीज़ में भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है। इसके कारण ऑस्टियोपोरोसिस जैसे हड्डियों से संबंधित रोगों को दूर रखने में भी मदद मिलती है। ऑस्टियोपोरोसिस में हड्डियां कमजोर हो जाती है और उनके टूटने की आशंका बनी रहती है। जिससे बचने के लिए चीज़ लाभदायक होता है।

 

प्रेगनेंसी में लाभदायक

 गर्भावस्था के दौरान सॉफ्ट चीज़ के जगह हार्ड चीज़ का सेवन करना ज्यादा सुरक्षित होता है। चीज़ में कैल्शियम, विटामिन और मिनरल भरपूर मात्रा में होते हैं, जो भ्रूण की हड्डियों की संरचना में मदद करते हैं। साथ ही जन्म दोष (रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क से संबंधित) की समस्या से भी छुटकार दिलाने में चीज़ फायदेमंद होता है।

 

प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम में उपयोगी

लगभग हर युवती को प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम से गुजरना पड़ता है। पीरियड्स से हफ्ते भर पहले होने वाले शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक बदलाव को प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम कहा जाता है। इस अवस्था में युवती को चिड़चिड़ापन, पेट में दर्द व सिरदर्द हो सकता है। एक वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार, चीज़ के सेवन से प्री मेंस्ट्रुएशन सिंड्रोम के समय होने वाली थकान, अवसाद और खाने की लालसा कम होती है। ऐसा चीज़ में पाई जाने वाली कैल्शियम की मात्रा के कारण होता है।

 

माइग्रेन में असरदार

 माइग्रेन की समस्या को कम करने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों का खासतौर पर जिक्र किया जाता है। उनमें चीज़ को भी शामिल किया गया है। चीज़ में राइबोफ्लेविन पाए जाते हैं, जो माइग्रेन और माइग्रेन से होने वाले दर्द से राहत दिलाने का काम करते हैं। इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि चीज़ के फायदे माइग्रेन में असरदार होते हैं।

 

प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाता है मजबूत

चीज़ के उपयोग से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। मिनस फ्रैस्कल नामक चीज़ प्रोबायोटिक से भरपूर होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर करने में मदद करता है। साथ ही यह इन्फेक्शन की समस्या से भी निजात दिलाता है। यह मुख्य रूप से एथलीटों के लिए लाभदायक होता है।

 

अनिद्रा की समस्या में मददगार

अनिद्रा की समस्या में चीज़ का सेवन लाभदायक होता है। चीज़ में मेलाटोनिन पाया जाता है। यह एक प्रकार का हार्मोन होता है, जो नींद के लिए मददगार होता है। इसलिए, अनिद्रा की समस्या से राहत पाने के लिए चीज़ का उपयोग करना सहायक माना जाता है।

 

चमकती त्वचा के लिए फायदेमंद

त्वचा की रंगत को निखारने के लिए चीज़ का उपयोग किया जाता है। एक शोध में पाया गया है कि विटामिन-बी त्वचा के रंग को निखारने का काम करता है। वहीं, अन्य शोध के अनुसार, चीज़ में विटामिन-बी की मात्रा पाई जाती है। इसलिए चीज़ के लाभ त्वचा के लिए भी महत्वपूर्ण होते हैं।

 

बालों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण

बालों के स्वास्थ्य के लिए चीज़ का उपयोग बेहद महत्वपूर्ण होता है । क्योंकि चीज़ में विटामिन बी, जिंक, आयरन, मैग्नीशियम और कैल्शियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो बालों को झड़ने से रोकने में मदद करते हैं।

 

चीज़ का उपयोग

चीज़ को खाने के लिए निम्नलिखित तरह से उपयोग किया जा सकता है।

 
  • चीज़ पिज्जा
  • चीज़ सैंडविच
  • चीज़ बॉल
  • चीज़ डोसा
  • चीज़ पराठा
  • चीज़ मैक्रोनी पास्ता
  • चीज़ गार्लिक ब्रेड
  • चीज़ ब्रेड पकौड़ा             

चीज के नुकसान

  • चीज़ में फाइबर नहीं होता है, इसलिए इसका अधिक सेवन कब्ज की समस्या का कारण बन सकता है।
  • चीज़ में फैट की मात्रा ज्यादा होती है। जिस कारण इसे मधुमेह की समस्या में इसे लेने से माना किया जाता है। इसे अधिक मात्रा में खाने से मधुमेह की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • वजन कम करने की इच्छा रखने वाले लोग चीज़ का सेवन न करें, क्योंकि इससे वजन बढ़ सकता है ।
  • कुछ लोग लैक्टोज के प्रति असहिष्णु होते हैं। यानि ऐसे लोग दूध और दूध से बने उत्पादों में पाए जाने वाले लैक्टोज को पचाने में सक्षम नहीं होते हैं। लैक्टोज का सेवन पेट की सूजन, ऐंठन, दस्त, गैस और मतली का कारण बनता है, आमतौर पर डेयरी उत्पाद लेने के बाद 30 मिनट से दो घंटे तक। लैक्टोज असहिष्णुता के स्तर भिन्न होते हैं, जो लोग लैक्टोज सहन कर सकते हैं, आमतौर पर वही चीज़ का सेवन कर सकते हैं।
Read More
Benefits and Uses of Chia seeds

Posted 17 March, 2022

Benefits and Uses of Chia seeds

Chia seeds are considered more beneficial than many foods due to their properties and are very good for health. The nutrients present in it work to protect against serious diseases and maintain the health of the skin. This seed is beneficial in the treatment of diseases like anxiety, depression, weak immunity, high cholesterol, heart disease, cancer, diabetes, ulcers and inflammation. Chia seeds also contain good amounts of omega-3, fibres, protein, antioxidants, calcium and fatty acids. Therefore, it can be used for weight loss, healthy pregnancy and to increase fertility.

 

What are Chia seeds?

Chia seeds are grey and white in colour which looks like basil seeds whose botanical name is 'Salvia Hispanica'. It is also known as Mexican chia or Salba chia in many countries. Chia seeds have been considered an important part of a healthy diet for some time now because it is a very good and healthy base of omega-3 fatty acids, fibres, protein, antioxidants, that's why chia seeds are also called superfoods. Chia seeds are eaten in many ways in your diet such as smoothies, granola bars, breakfast etc.

 

Benefits of Chia seeds

To reduce weight-

Chia seeds contain protein and fibres which helps in reducing obesity. In fact, the protein and fibres present in chia seeds improve metabolism by preventing the deposition of fat. According to research conducted by Nutrition Research and Practice, consuming chia seeds in the morning breakfast every day can quell hunger for some time. At the same time, research conducted by the Journal of Food Science and Technology shows that the high protein present in chia seeds helps in reducing weight by reducing the feeling of hunger. Therefore, to lose weight, we should consume chia seeds regularly.

 

Useful for bones and teeth-

Chia seeds prove to be helpful in maintaining strong bones and teeth because it contains high amounts of calcium, magnesium and vitamins which helps in preventing the disease of osteoporosis (weak and fragile bones) by aiding in the development of bones. In research by NCBI, it is believed that calcium-rich chia seeds prove to be very effective for teeth apart from bones. Therefore, it is considered good to consume chia seeds for bone growth and strengthening teeth.

 

Beneficial in diabetes and high blood pressure-

Chia seeds are also beneficial in the problem of diabetes and high blood pressure. Research conducted by the Journal of Food Science and Technology suggests that the fibres, unsaturated fatty acids and antioxidant (inhibiting the effects of free radicals) properties in chia seeds combined play an important role in controlling elevated blood sugar. Apart from this, omega-3 fatty acids present in chia seeds help in reducing high blood pressure due to the high calcium and sodium content. Therefore, the consumption of chia seeds is considered nutritionally important in the treatment of this disease.

 

Beneficial for the heart-

Chia seeds are very beneficial in keeping the heart-healthy. It is rich in iron and vitamin A which helps in keeping the arteries of the heart healthy. Therefore, by consuming chia seeds daily, the risk of all heart-related problems such as irregular heartbeat and heart blockage, etc. is reduced.

 

Beneficial for a cancer patient-

According to a report by the UCSF Medical School, chia seeds are rich in alpha-linolenic and alpha-linoleic acids which is a type of omega 3-acid. These properties help prevent breast cancer. Apart from this, chia seeds kill cancer cells without harming normal healthy cells. Therefore, consuming chia seeds is considered a good option for the growth of healthy cells and the destruction of cancer cells.

 

For healthy immunity-

Antioxidants are found in chia seeds which are helpful in fighting infection. It also provides protection to the body. In this way, it helps in making the immune system strong. So, include chia seeds in your daily diet.

 

Helpful in increasing energy-

Breakfast is most important because it gives the body the energy to work throughout the day, that's why everyone must have breakfast. It is very important to take nutritious food during this time which provides energy and vigour to the body. Therefore, including chia seeds in a healthy breakfast is considered a good option. The energy found in it helps in keeping the body active throughout the day because nutritious foods like vitamin B, zinc, iron and magnesium are found in chia seeds, which are helpful in giving energy to the body.

 

For fertility-

The omega-3 polyunsaturated fatty acids present in chia seeds work to increase sperm cells in men which improves the fertility of men.

 

For pregnancy-

Many such nutrients are found in chia seeds which are very important for pregnant women. The calcium and magnesium found in it help in the health of the pregnant woman and the development of the bones of the fetus. Apart from this, magnesium also helps in preventing low birth weight and increased blood pressure in pregnancy.

 

To protect against pollution and ultraviolet rays of the sun-

Pollution causes respiratory and lung diseases. In this case, it is good to consume chia seeds because vitamin D present in chia seeds protects the body from the effects of pollution and removes many serious diseases. Apart from this, the DHA and EPA present in chia seed oil also removes the problems of sunburn, tanning, ageing etc. caused by UV rays.

 

For healthy skin and healthy hair-

Chia seed oil works to enhance the beauty of the skin. Omega-3 polyunsaturated fatty acids (PUFA) present in it are used to treat many skin diseases. With this, acne, rashes, redness and other skin related problems can be reduced. Apart from this, the omega-3 fatty acids present in chia seed oil also improve the condition of the hair along with the skin.

 

Side effects of Chia seeds

  • Chia seeds are rich in fibres. Therefore, consuming it in excess can cause constipation and gas problems.
  • If a person is sensitive and gets allergic to new things, then such people should consume chia seeds only after consulting a doctor or expert.
  • Chia seeds have blood-thinning properties. So, if someone is already taking a blood-thinning medicine, then avoid taking it.
  • People who have recently had surgery should not use chia seeds.
  • It should also not be used at the time of bleeding disorder.
Read More