Cart
What is Blood Infection (Sepsis)? Know its Causes, Symptoms and Prevention

Posted 27 January, 2022

What is Blood Infection (Sepsis)? Know its Causes, Symptoms and Prevention

Blood infection is also known as sepsis or septicemia. It is a disease caused by infection. This condition occurs when chemicals that dissolve in the blood to fight infection cause inflammation or irritation in the body due to which many changes occur in the body. As a result, many organs in the body get damaged or their functionality gets interrupted. In such a situation, people should contact the doctor immediately because ignoring it can cause rapid spread of infection in the body due to which it takes the form of septic shock. Many parts of the body stop working and blood pressure starts decreasing suddenly. This may lead to the death of a person. The initial symptoms can be cured by some home remedies or by changing daily routine.

 

Symptoms and Stages of Blood Infection Sepsis

 

There is no single symptom of sepsis. It consists of a combination of symptoms. On the basis of these symptoms, the stage of blood infection is divided into three parts in which the first is the initial condition of sepsis, the second is the severe sepsis and the last is the condition of septic shock. Let's talk about its stages and symptoms which are as follows-

 

Early Blood Infection(Sepsis)

 

To test or diagnose sepsis, the following symptoms must be noted in the patient-

  • Breathing rapidly.
  • Likely or confirmed infection.
  • Change in body temperature.
  • Rapid heartbeat i.e more than 90 beats per minute.

 

Symptoms of Severe Sepsis

 

In the severe stage of sepsis, the patient experiences many symptoms but some of them are as follows-

  • Difficulty in breathing.
  • Rapid drop in platelet count.
  • Feeling of loss of urine.
  • Change in the mental state of the person.
  • Abnormally pumping by the heart.
  • Unbearable pain in the stomach.

 

Symptoms of Septic Shock

 

Symptoms of septic shock are similar to those of severe sepsis but there are fluctuations in blood pressure. In this condition, many parts of the body stop working and blood pressure starts decreasing suddenly due to which the person may even die. Therefore, doctors resort to fluids to normalize the patient's blood pressure.

 

Causes of Blood Infection Sepsis

 

There are many reasons behind blood infection but the main reason for this is a malfunction in the immune system (weakening of immunity). Since the immune system works to protect the body from invading germs or viruses but if for some reason there is a defect or disturbance in it, then problems like blood infection start to occur. This disease is mostly caused due to under reaction or overreaction.

 

Under Reaction

In this condition the immune system of the patient is unable to function properly or stops working.

 

 

Over reaction

This condition occurs when a virus or bacteria acts as a trigger for the immune system.

 

 

Other causes of blood infection are

 

  • Bone infection.
  • Scratches or injury to the upper part of the skin.
  • Steroid medicines.
  • Older people especially when they are suffering from other health-related diseases.
  • Diabetes.
  • Unsafe delivery of pregnant women.
  • Pneumonia, appendicitis, meningitis and urinary tract infection.

 

Prevention methods of Blood Infection (Sepsis)

 

Infections spread more rapidly in people who have a weakened immune system. In such a situation, they should take special care of themselves and follow the prevention methods listed below-

  • Get vaccinated regularly. Get your young children vaccinated for pneumonia, flu, or other infections from time to time.
  • Pay special attention to cleanliness. Take a bath daily.
  • Wash hands thoroughly with soap before eating.
  • Drink plenty of water and fluids.
  • Take care of bruises, wounds or scratches on the body.
  • Old people should especially take care of water intake.
  • Get your pulse, temperature, blood pressure and respiratory rate checked regularly.
  • Women should avoid getting the flu during pregnancy.

 

Home remedies for Blood Infection (Sepsis )

 

 

Consumption of foods rich in vitamin C

 

Vitamin C-rich substances play an important role in the treatment of blood poisoning. It helps in preventing the early symptoms of most blood infections. It aids in the growth and repair of damaged cells in the body. Vitamin C is an immunity booster and is also helpful in healing wounds. It helps patients fight bacteria in the blood and improve the functioning of small blood vessels.

 

Turmeric

 

Turmeric is widely known as a natural remedy for many ailments, including blood poisoning. It increases the amount of protein in the body. Apart from this, the antibacterial and antibiotic properties present in it work to fight and protect against various types of infections occurring in the body. Therefore, turmeric is considered to be the most effective medicine in getting rid of infection.

 

Garlic

 

Garlic is also a great natural immunity booster. Hence it is an effective natural remedy for blood infection i.e. sepsis. It contains a component called allicin, which prevents blood infection. Consuming garlic regularly with honey gets rid of blood poisoning.

 

Honey

 

Honey is considered great for controlling the immune system. It effectively fights bacteria that cause sepsis. Consuming honey helps to cure all kinds of infections. Apart from this, if it is applied on the wound, it also helps in healing the wound.

 

Slippery elm

 

Treating a cut or wound with slippery elm can prevent bacteria from entering the body through the wound.

 

Potato

 

Potato juice is considered an effective remedy for sepsis inflammation that appears on the skin. Keeping potato slices on the affected parts and rubbing them with light hands for 15-20 minutes reduces swelling.

Read More
एनीमिया के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

एनीमिया के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

एनीमिया को हिंदी में रक्ताल्पता कहते हैं। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर के अंदर खून की कमी हो जाती है। पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में एनीमिया की शिकायत ज्यादा पाई जाती है। इसका मुख्य कारण मासिक धर्म होता है। इसलिए समय रहते एनीमिया का उपचार न किया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकता है। इसके अलावा लंबे समय से चलने वाले एनीमिया से रक्त में ऑक्सीजन की कमी, ह्रदय, मस्तिष्क और शरीर के अन्य हिस्से प्रभावित हो सकते हैं। इसलिए एनीमिया के कारण, लक्षण और निदानों के बारे में जानना एवं समझना बेहद आवश्यक है।

 

एनीमिया (खून की कमी) क्या है?

एनीमिया एक ऐसी अवस्था है जिसमें लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या सामान्य से कम हो जाती है। ऐसी स्थिति तब होती है जब शरीर के रक्त में पर्याप्त मात्रा में हीमोग्लोबिन नहीं बन पाता। हीमोग्लोबिन आयरन एक युक्त प्रोटीन है, जिसकी वजह से रक्त का रंग लाल होता है। यह प्रोटीन लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद ऑक्सीजन को शरीर के अन्य अंगों तक पहुंचाने में सहायता करता है। यदि शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन युक्त रक्त नहीं मिलता तो शरीर में थकान, कमजोरी और अन्य तरह के नकारात्मक लक्षण उत्पन्न होने लगते हैं।

 

एनीमिया होने के कारण क्या है?

  • शरीर में विटामिन और आयरन की कमी होना।
  • आयरन युक्त भोजन का सही मात्रा में सेवन न करना।
  • शौच, उल्टी, खांसी के वक्त खून आना।
  • महिलाओं को मासिक के दौरान अधिक मात्रा में रक्त का स्राव होना।
  • बार-बार गर्भ धारण करना।
  • पेट के कीड़ों और परजीवियों के कारण खूनी दस्त होना।
  • दुर्घटना, चोट, घाव आदि में अधिक खून बहना।
  • पेट में अल्सर या सूजन होना।
  • बुढ़ापे के कारण शरीर में खून की कमी होना।
  • लंबे समय से मधुमेह, बवासीर, लुपस जैसी बीमारियां से पीड़ित रहने पर।
  • एक वर्ष से कम आयु के शिशुओं को गाय या बकरी के दूध का सेवन कराने पर।

एनीमिया के लक्षण-

 

एनीमिया के सबसे आम लक्षण आंखों का पीलापन, थकान और कमजोरी महसूस होना हैं। लेकिन इसके कुछ अन्य लक्षण भी होते हैं। जो किसी एक ही व्यक्ति में नहीं होते हैं। बल्कि विभिन्न प्रकार से व्यक्तियों में नजर आते हैं। आइए जानते हैं इन अन्य लक्षणों के बारे में;

 
  • त्वचा, होंठ, मसूड़ों, नाखून आदि का पीला पड़ना।
  • चक्कर आना या बेहोश होना।
  • तेज सिरदर्द होना।
  • पैरों के तलवों और हथेलियों का अधिक ठंडा होना।
  • सांस लेने में लगातार परेशानी होना।
  • चलते या हल्का दौड़ने में हांफना जाना या सीने में दर्द होना।
  • दिल की धड़कनों का तेज होना।
  • स्पष्ट सोचने में दिक्कत या भ्रम का अनुभव होना।
  • शिशुओं और बच्चों का धीमा विकास होना।

एनीमिया के प्रकार-

 

आयरन डिफिशिएंसी एनीमिया (Iron Deficiency Anemia)-

 

आयरन डिफिशिएंसी एनीमिया, एनीमिया के प्रकारों में से एक है। जिसका आशय है खून में आयरन की कमी होना। हीमोग्लोबिन में उपस्थित आयरन ऑक्सीजन के साथ बंध बनाकर रक्त के सहारे ऑक्सीजन को कोशिकाओं तक पहुंचाते हैं। लेकिन जब शरीर में आयरन की कमी हो जाती है तो इस अवस्था में कोशिकाओं तक पूरी मात्रा में आयरन नहीं पहुंच पाता। इसी रोग को आयरन डेफिसिएंसी एनीमिया कहते हैं। यह आमतौर पर जोखिम अवस्था, किडनी फेलियर, गर्भवती महिलाओं और प्रसव के दौरान ज्यादा खून बहने की स्थिति में होता है।

 
 

थैलेसीमिया (Thalassaemia)-

 

थैलेसीमिया एक प्रकार का आनुवांशिक रक्तविकार है। जिस कारण शरीर लाल रक्त कोशिकाएं और हीमोग्लोबिन (आयरन युक्त प्रोटीन) को कम बना पाता है। ऐसे में हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) के साथ पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन को कोशिकाओं तक नहीं ले जा पाता है। परिणामस्वरूप थकान और चक्कर आने लगते हैं। थैलेसीमिया का कोई सटीक इलाज नहीं है, क्योंकि यह एक आनुवांशिक बीमारी है। लेकिन थैलेसीमिया बहुत निम्न हो तो दवा से ठीक हो सकता है।

 
 

पर्निसियस एनीमिया (Pernicious Anemia)-

 

पर्निसियस एनीमिया शरीर में विटामिन बी12 की कमी की वजह से होने वाली एक बीमारी है। जबकि विटामिन बी12 स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाएं (Red Blood Cells) बनाने के लिए जिम्मेदार होता है। पर्निसियस एनीमिया निम्न कारणों से होती है:

 
 
  • परिवार में किसी अन्य व्यक्ति को पर्निसियस एनीमिया होना पर।
  • टाइप 1 डायबिटीज और आंत संबंधी कोई बीमारी होना पर।
  • यह रोग ज्यादातर 60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों को होता है।
 

सिकल सेल एनीमिया (Sickle Cell Anemia)-

 

सिकल सेल एनीमिया एक वंशानुगत (Hereditary) एनीमिया है। सिकल सेल एनीमिया होने पर लाल रक्त कोशिकाएं, जिनका आकार गोल होता है, वह सिकल (हंसिए) के आकार में बदल जाती हैं। साथ ही कठोर और चिपचिपी हो जाती हैं। जिसके कारण सिकल सेल को पतली रक्त धमनियों (ब्लड वेसल्स) से गुजरने में परेशानी होती है। जिससे शरीर के कुछ हिस्सों में खून का संचार और ऑक्सीजन का जाना धीमा या रुक सकता है। परिणामस्वरूप पर्याप्त मात्रा में ब्लड न मिलने पर ऊतक (टिश्यू) के डैमेज होने के साथ ही अंगों को भी नुकसान पहुंच सकता है।

 
 

अप्लास्टिक एनीमिया (Aplastic Anemia)-

 

अप्लास्टिक एनीमिया आनुवांशिक रोग है। जो पेरेंट्स से बच्चों में जाता है। इस रोग में अस्थि मज्जा क्षति (Bone marrow damage) हो जाती है। जिससे शरीर में रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स का बनाना कम या बंद हो जाता है। अप्लास्टिक एनीमिया होने का खतरा ज्यादातर रेडिएशन या कीमोथेरेपी कराने वाले लोगों में होता है।

 
 

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया (Megaloblastic Anemia)-

 

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया होने का प्रमुख कारण विटामिन बी12 या विटामिन बी9 की कमी का होना है। एक स्वस्थ शरीर को इन दोनों विटामिन की बहुत जरूरत होती है। कई बार ज्यादातर लोगों में मेगालोब्लास्टिक एनीमिया के लक्षण कई सालों तक नजर नहीं आते। इसके इलाज के लिए चिकित्सक विटामिन बी12 और विटामिन बी9 के सप्लीमेंट्स देते हैं। साथ ही डाइट में भी विटामिन्स वाली चीजों को जोड़ने के लिए कहते हैं।

 
 

विटामिन डिफिशिएंसी एनीमिया (Vitamin Deficiency Anemia)-

विटामिन डिफिशिएंसी एनीमिया में लाल रक्त कोशिकाएं (Red Blood Cells) के निर्माण के लिए आयरन के साथ विटामिन बी12, विटामिन सी और फोलेट की आवश्यकता होती है। शरीर में इन तत्वों की कमी होने पर लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं हो पाता। जिसे विटामिन डिफिशिएंसी एनीमिया कहते हैं।

 

एनीमिया से बचाव -

  • पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं।
  • संक्रमण से बचने के लिए पानी को उबालकर पीएं।
  • भरपूर मात्रा में दूध का सेवन करें।
  • लौह (आयरन) युक्त चीजों का सेवन करें।
  • फोलिक एसिड और विटामिन ए एवं सी युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करें।
  • यदि एनीमिया मलेरिया या परजीवी कीड़ों के कारण हुआ है। तो उस संक्रामक बीमारी का शीघ्र इलाज कराएं।
  • खाना खाने के बाद चाय के सेवन से बचें। क्योंकि चाय भोजन से मिलने वाले जरूरी पोषक तत्वों को नष्ट करती है।
  • काली चाय एवं कॉफी पीने से बचें।
  • जल्दी-जल्दी गर्भधारण से बचना चाहिए।
  • स्वच्छ शौचालय का प्रयोग करें।
  • खाना लोहे की कड़ाही में पकाएं।
  • गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से लौह तत्व और फोलिक एसिड की 1 गोली रोज रात को भोजन के उपरांत अवश्य लेनी चाहिए।

एनीमिया के इलाज के लिए घरेलू उपाय-

  • एनीमिया की शिकायत होने पर अंजीर का सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके लिए 10 मुनक्के और 5 अंजीर को एक गिलास दूध में उबालकर सेवन करें।
  • पालक एक ऐसी शाक है, जिसमें भरपूर मात्रा में लौह (आयरन) तत्व पाया जाता है। यह खून की कमी को दूर करने के लिए बहुत जरूरी होती है।
  • मेथी का सेवन करने से खून बढ़ता है। इसके अलावा कच्ची मेथी का साग खाने से भी शरीर को आयरन मिलता है।
  • प्रतिदिन खाली पेट 20 मि.ली. एलोवेरा का जूस पीने से एनीमिया में लाभ होता है।
  • शहद मिश्रित सेब के रस को रोज पीने से खून की कमी दूर होती है।
  • तुलसी के नियमित सेवन करने से खून की समस्या दूर होती है।
  • अंगूर में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए एनीमिया के समय अंगूर का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • पके हुए आम का सेवन करने से हीमोग्लोबिन बढ़ जाता है।
  • विटामिन-सी युक्त पौष्टिक तत्व आंवला, संतरा, मौसमी जैसी चीजों का सेवन करें।
  • मूली, गाजर, टमाटर, शलजम, खीरा जैसी कच्ची सब्जियां प्रतिदिन खानी चाहिए।
  • अंकुरित दालों व अनाजों का नियमित प्रयोग करें।
 

फोलिक एसिड एवं विटामिन युक्त खाद्य पदार्थ -

शरीर को स्वस्थ लाल रक्त कण बनाने के लिए फोलिक एसिड की आवश्यकता होती है और वि‍टामिन ए संक्रमण से शरीर की रक्षा करता है। ऐसे में इन दोनों की कमी होने से एनीमिया की बीमारी हो सकती है। ऐसे ही कुछ स्रोत निम्न हैं जो फोलिक एसिड और विटामिन से भरपूर होते हैं। जिनका हमें नियमित सेवन करना चाहिए।

  • गहरे पीले फल एवं हरे रंग की पत्तेदार सब्जियां और खट्टे फल वि‍टामिन ए के अच्छे स्रोत होते हैं।
  • मूंगफली, मशरूम, चोकर वाला आटा, बाजरा, दालें, सूखे मेवे, गुड़ इत्यादि फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत होते हैं।
  • अंडे, मांस, मछली आदि फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत होते हैं।
Read More
Blood Pressure: An Overview

Posted 30 April, 2022

Blood Pressure: An Overview

We have all grown up believing and seeing that fluctuations in blood pressure is generally associated with old generations. People aged 65+ but having a deep insight would make it clear that it is a disease as much as cold, fever, or any other normal illness. People of any age group can be prone to it.

 

There are certain reasons for the occurrence of low/high BP, which we would learn through the course of this blog. Let us start by learning what exactly is BP.

 

What is Blood Pressure

 

As the term suggests, BP is the pressure by which the heart pumps blood to the body. It is measured in Millimeter of Mercury (mmHg) which is denoted as Systolic/ Diastolic (120/80) The BP uses two numbers which are categorized as-

 
  • Systolic Blood Pressure: It is the force that is used to pump blood to the body.
  • Diastolic Blood Pressure: This is the force used when the heart rests while beating.

Types of Blood Pressure

 

High blood pressure

 

High BP, also known as Hypertension, is often a result of unhealthy lifestyle habits, such as smoking, consumption of excessive alcohol, overweight, and not getting enough exercise.

 

Low Blood Pressure

 

Low BP, also called Hypotension, is not an alarming situation without symptoms and it is a condition where the flow of blood to the organs of the body is insufficient.

 

What do we infer from the Readings?

 

Ideal Blood Pressure

A healthy heart is the one with readings between 90/60 mmHg and 120/80 mmHg.

 

High Blood Pressure

When the readings are 140/90 mmHg or higher. It is considered as High BP.

 

Low Blood Pressure

The ideal readings for BP are 90/60 mmHg. Anything below this is considered as Low blood pressure

 

Stages of High Blood Pressure

 

High BP in itself is dangerous, but further complications arise with the shooting BP. It falls into 4 categories given below-

 
 

Diagnosis

 

A doctor or a specialist measures the BP. It is checked by placing an inflatable arm cuff around the arm, using a pressure-measuring gauge.

 

Home BP monitors are inexpensive and are widely available over the counter. You don’t need a prescription to buy one. However, using a home BP monitoring device isn’t a substitute for paying visits to the doctor as home BP  measuring devices may have some limitations.

 

Long term effects of High Blood Pressure

 

Since high blood pressure cannot be detected without a blood test it is also termed as ‘Silent Killer’. and if left unnoticed for a long time, it causes the heart to pump harder and work overtime, possibly leading to several serious and life-threatening, long-term health conditions such as-

 
  • Coronary heart disease
  • Heart attack
  • Stroke
  • Heart failure
  • Kidney failure

 

Vedobi BP Norma Lotion Combo Pack 110ml + 30ml (Liquid Formulation) + BP Norma Capsule

Vedobi BP Norma Lotion Combo Pack 110ml + 30ml (Liquid Formulation) + BP Norma Capsule

Buy Now

Vedobi BP Norma Lotion 110ml + Vedobi Cura 30ml

Vedobi BP Norma Lotion 110ml + Vedobi Cura 30ml

Buy Now

Vedobi Diaba Free Lotion 110ml+30ml

Vedobi BP Norma Lotion Combo Pack 110ml + 30ml

Buy Now

Causes of fluctuations in Blood Pressure

 
  • Age– BP normally rises with age and those aged 65 or above tend to be prone to it.
  • Race/Ethnicity– High BP is a common phenomenon among African Americans.
  • Being Overweight– People who are overweight are likely to develop high BP.
  • Sex– Sex is also an important factor as men are more prone than women to develop high BP before the age of 55 whereas, after the age of 55, women are more likely to develop it.
  • Lifestyle– Poor lifestyle or ill habits can raise your risk for high BP, few examples are eating too much sodium (salt) or not consuming enough potassium, lack of exercise, too much alcohol, or smoking.
  • Family history– If high BP runs in your lineage then the risk of developing high BP automatically increases.
 
 

Control Measures

 

Eat Healthy

 

Limit Sodium

It is essential to limit the amount of salt (sodium) and increase the amount of potassium in your meals in order to manage your BP. Consume plenty of fruits, vegetables, and whole grains.

 

Increase Potassium

Leafy greens, high on potassium such as romaine, lettuce, arugula, kale, turnip greens, collard greens, spinach, beet greens, and Swiss chard helps a lot in lowering high BP. Banana, unsalted seeds of pumpkin, squash, or sunflower is also a rich source of potassium.

 

Consume Low Fats

Skimmed milk and yogurt are a rich sources of calcium and low in fats. These are great for lowering increased BP.

 

Take food items rich in Omega3 fatty acids

Fatty fish like salmon or mackerel are rich sources of omega-3 fatty acids, which can reduce inflammation, lower triglycerides and regulate your BP.

 

Consume Natural Ingredients that lowers blood pressure

Garlic contains nitric acid which helps in lowering high blood pressure and herbs such as basil, cinnamon, thyme, rosemary helps in cutting your sodium intake.

 

Home Remedies for High Blood Pressure

 
  • You can also use ayurvedic products for BP available in the market. ‘ Aarogyam Shakti BP Norma Lotion’, is one of the best natural products for high blood pressure. It works wonders on lowering your high BP. All you need to do is to apply the lotion as per directions given on the bottle and you will notice the changes within few days of its use.
  • There are certain natural ingredients that are treated as Ayurvedic medicines to control blood pressure such as Honey, Amla, Gotu Kola, and Ashwagandha. These are some of the best herbal remedies for BP.

Improving Lifestyle

 
  • Regular Exercise– Exercise is great for keeping yourself fit. It also keep you away from diseases and it can also help in lowering your BP. Try stretching exercises and spend at least 2 and a half hours per week.
  • Maintain Healthy Weight– Being overweight increases your risk for high BP. Maintaining a healthy weight can help you in keeping your BP under control which also reduces your risk for other health problems.
  • Avoid Alcohol Consumption- Drinking too much alcohol can raise your BP and also increases your calories intake which further results in weight gain. Men should limit their quantity to two drinks per day, and women should only take one.
  • QUIT Smoking and Tobacco- Smoking and tobacco increase your blood pressure which puts you at higher risk for serious health issues such as a heart attack or stroke. 
  • Manage your Stress- Managing stress is the key to a healthy life. It can improve your emotional and physical well-being. This further reduced your risk to high BP. Relaxing activities such as listening to music, focusing on something that keeps you calm or peaceful, and meditation really helps.

Medication for Blood Pressure

 

If there are no improvements in the increased BP. You might also need to follow a proper course of medicines to regulate your BP.

 
Read More
Diabetes: An Overview

Posted 30 April, 2022

Diabetes: An Overview

 

Symptoms-causes-remedies-of-diabetes-Aren’t we all accustomed to Modern lifestyle and the delicacies it offer? While we enjoy everything that modernity has to offer, it has given us plenty of diseases and illnesses.

 

One such disease is Diabetes and people of all age groups are prone to it. This was most common among elderly people aged 45 or above but in present times it is increasingly noted among children too. Here we will know the symptoms, causes, diagnosis, and remedies of Diabetes.

 

Diabetes (or Diabetes Mellitus) is a metabolic disease that causes high blood sugar. Insulin (produced by the pancreas) moves the glucose from the blood to the cells to be stored and later use for energy. In Diabetes, the body doesn’t make enough insulin or the insulin produced cannot be put to effective use.

 

Types of Diabetes

 

Type 1 Diabetes (Insulin Dependent)-

 

This is usually common among children as well as youngsters. In this type of diabetes, your pancreas does not produce insulin and your immune system attacks and destroys the cells in your pancreas that make insulin. Those having this type, need to take insulin every day in order to stay alive. The cause and means of this type are not known so far.

 

Type 2 Diabetes (Non-Insulin Dependent)-

 

Type 2 diabetes is the result of the body’s ineffective use of insulin. It is generally found among adults and old age people. People with diabetes generally have type 2. These are generally said to have Insulin resistance. This type of diabetes is largely the result of excess body weight and physical inactivity.

 

Apart from the above listed common and most frequent types there are some uncommon types too which are-

 

Gestational diabetes-

 

It is a type that occurs usually during pregnancy. The glucose level shoots up during pregnancy. It goes away after the baby is delivered. The two categories under this are-

 

Class A1- This is easily managed and controlled by keeping a check on your diet and also proper exercise.

 

Class A2- This type of diabetes does not go away unless you take insulin or other medications.

 

Prediabetes (Impaired glucose tolerance)-

 

Prediabetes is an uncommon type. It occurs when your blood sugar levels are slightly high, but not high enough to be categorized as diabetes. The condition can also be considered as a warning sign. It turns to diabetes if proper measures are taken on time to prevent it. Impaired fasting glucose is a subcategory of prediabetes. In this, the sugar level goes up during fasting but it is not high enough to be classified as diabetes.

 

Symptoms of Diabetes 

 

There are some common diabetes symptoms that occur in all types. Yo should immediately see a doctor if you notice any symptoms of diabetes. Get your blood sugar checked.

 
  • If you urinate a lot, especially at night
  • You keep feeling thirsty all the time
  • Unusual weight loss
  • Get frequent hunger pangs
  • Eyesight problems such as weak or blurry vision
  • Have a numb or tingling feeling on hands or feet
  • Tiredness
  • Skin problems such as having unusually dry skin
  • Your sores heal slowly
  • Easily catch infections

For Type 1 Diabetes-

 

In addition to the above diabetes symptoms, people with type 1 often feel nauseated, vomit, and stomach pain which can increase severely in a few months.

 

For Type 2 Diabetes-

 

The symptoms might not be noticeable for a long time. This makes it worse. It is better to look out for risk factors. As soon as you notice any changes in your body, immediately consult a doctor.

 

For Gestational Diabetes-

 

This does not have any added symptoms and only the common symptoms can be noticed, which are also rare.

 
Vedobi Diaba Free Lotion 30ml

Vedobi Diaba Free Lotion 30ml

Buy Now

Vedobi Diaba Free Capsule (Gelatin Free)

Vedobi Diaba Free Capsule

Buy Now

Vedobi Diaba Free Lotion 110ml+30ml

Vedobi Diaba Free Lotion 110ml+30ml

Buy Now

 
 
 

Complications arising from Diabetes

 

This type affects major organs of the body and can be life-threatening in worse cases. It can cause complications such as-

 
  • Heart and blood vessel disease
  • Foot damage
  • Skin and mouth conditions
  • Nerve damage (Neuropathy)
  • Kidney damage (Nephropathy)
  • Eye damage
  • Pregnancy complications

Type 2 Diabetes-

 

Listed below are some other factors in addition to Type 1 risk factors such as-

 
  • Slow healing
  • Hearing impairment
  • Skin conditions
  • Sleep apnea
  • Alzheimer’s disease

Gestational Diabetes-

 

If you do not manage your gestational diabetes on time, your blood sugar levels may worsen and bring complications in your pregnancy resultant to which your new-born baby’s health might be affected. This results in problems such as breathing difficulties, and also low blood sugar. It can also cause shoulder dystocia (shoulders of child get stuck in the birth canal during labor-pain).

 

They are also at risk of developing diabetes later when they grow up. Pregnant women should get their sugar levels in control. This ensure the well-being of their offspring.

 

Diabetes Tests

 

There are different tests for different types of diabetes and the normal levels also differ along with each test. Mentioned below are the charts for different types of diabetes:

 

Chart of Gestational Diabetes-

 
 
 
 

For Prediabetes and Diabetes-

 
 
 
 

Treatment & Prevention

 

If you are finding the answer to How to prevent Diabetes, know that it cannot be prevented or cured. We can control diabetes. This helps in avoiding the ill-effects of the disease. Listed below are the major control methods-

 

Lifestyle changes

 

Few lifestyle changes that can help you in controlling your increased sugar level are:

 
  • Lose the excessive pounds by regularly exercising. Physical workouts such as Aerobic exercise and resistance training can also help.
  • Consume a healthy, fiber-rich diet that is low in sugars, carbohydrates, and fats.
  • Do not skip meals if you are on medication for diabetes as this may also cause hypo-glycemia.
  • Try not to take any kind of stress.
  • QUIT SMOKING.
  • Limit your alcohol consumption.

Home Remedies-

 

Home remedies may help to control blood glucose levels and prevent further complications. These remedies are:

 
  • Consume natural ingredients such as cinnamon, aloe-vera, and fenugreek seeds. These also regulate glucose levels naturally.
  • Taking proper care of foot also helps to prevent severity. Try ‘Aarogyam Shakti Diaba free Lotion’. It would help in providing moisturizer to the palms and feet soles. It also keep your sugar levels checked.

Alternative Treatments-

 

Acupuncture-

This procedure triggers the release of natural painkillers of the body. It works by inserting very thin needles into certain points on your skin. This is also a great therapy for diabetes.

 

Biofeedback-

This technique lays emphasis on relaxation. With this technique, you become aware of your body’s response to pain and also ways to handle it.

 

Guided imagery-

This is a relaxation technique that helps in relieving stress. It guides your imagination and makes you think of beautiful landscapes. This would also help you in staying positive which would ease your condition.

 

Plant Foods

Consuming Brewer’s yeast, Buckwheat, Broccoli and other related greens. Ingredients such as Cinnamon, Cloves can also help. Coffee, Okra, Leafy greens, Fenugreek seeds, and Sage also keeps a check on your increased glucose levels.

 
Read More
रक्तचाप और इसके घरेलू उपाय

Posted 25 May, 2022

रक्तचाप और इसके घरेलू उपाय

रक्तचाप या ब्लड प्रेशर की समस्या से आज अधिकतर लोग पीड़ित हैं। बहुत से लोग इस समस्या को गंभीरता से नहीं लेते और इससे जुड़ी अन्य बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं। रक्तचाप से पीड़ित लोगों में से कुछ लोगों को उच्च (हाई) ब्लड प्रेशर होता है तो कुछ लोगों को निम्न (लो) ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है। यह दोनों ही खतरनाक है और दोनों से अलग-अलग तरह की समस्याएं होने लगती हैं।

 

कई मेडिकल रिपोर्टस के मुताबिक बीते कुछ सालों में ब्लड प्रेशर से जुड़े मरीजों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। इस समस्या से बचने के लिए ब्लड प्रेशर को समय-समय पर मापना चाहिए। यह जरूरी नहीं है कि इसके लिए आप डॉक्टर के पास ही जाएं। घर पर रक्तचापमापी (sphygmomanometer) द्वारा भी आप अपने ब्लड प्रेशर की जांच कर सकते हैं।

 

रक्तचाप क्या है?

 

रक्त वाहिनियों (Blood vessels) में बहते रक्त द्वारा वाहिनियों की दीवारों ह्दय द्वारा डाले जाने दबाव को रक्तचाप (Blood pressure) कहते हैं। आसान शब्दों में कहे तो ब्लड प्रेशर वह दबाव या प्रेशर है जिसमें शरीर के चारों ओर ब्लड को हृदय के द्वारा पंप किया जाता है। रक्तचाप में बदलाव से धमनियों या हृदय पर अतिरिक्त तनाव उत्पन्न होता है। जिससे हृदय का दौरा (हार्ट अटैक) भी पड़ सकता है। इसलिए ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाए रखना बहुत आवश्यक होता है।

 

ब्लड प्रेशर की रीडिंग को दो संख्याओं के माप के रूप में व्यक्त किया जाता है। जिसमें एक संख्या ऊपर और एक नीचे होती है। उदाहरण- 120/80 मिमी एचजी। इसमें से शीर्ष संख्या यानि ऊपर की संख्या आपके हृदय की मांसपेशियों के संकुचन के दौरान आपकी धमनियों में दबाव की मात्रा को दर्शाती करती है। इसे “सिस्टोलिक प्रेशर” कहते हैं। वहीं, नीचे की संख्या आपके उस रक्तचाप को संदर्भित (Referenced) करती है, जब आपके दिल की मांसपेशी धड़कनों के बीच होती है। इसे “डायस्टोलिक दबाव” कहा जाता है। यह दोनों संख्याएं आपके हृदय स्वास्थ्य की स्थित का निर्धारण करने में मदद करती हैं।

 

रक्तचाप की श्रेणियां:

 

रक्तचाप को तीन श्रेणियों में बांटा गया है, सामान्य रक्तचाप, उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप। 

 

सामान्य रक्तचाप (Normal Blood Pressure)-

 

हृदय रोग विशेषज्ञों के अनुसार, 120/80 मिमी एचजी से कम रक्तचाप (Blood Pressure) की संख्या को सामान्य सीमा के भीतर माना जाता है। यदि परिणाम इस श्रेणी में आते हैं, तो इसका अर्थ है कि आपका हृदय स्वस्थ तरीके से काम कर रहा है।

 

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure)-

 

हृदय धमनियों के माध्यम (Medium) से रक्त को पूरे शरीर में भेजता है। शरीर की धमनियों में बहने वाले रक्त के लिए एक निश्चित दबाव जरूरी होता है। जब किसी वजह से यह दबाव अधिक बढ़ जाता है, ऐसे में धमनियों पर ज्यादा असर पड़ने लगता है। दबाव बढ़ने के कारण धमनियों में रक्त का प्रवाह बनाए रखने के लिये दिल को सामान्य से अधिक काम करना पड़ता है। इस स्थिति को उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) या हाइपरटेंशन कहते है। उच्च रक्तचाप में ब्लड प्रेशर रीडिंग 140/90 से ज्यादा होती है।

 

उच्च रक्तचाप के कारण–

 
  • उच्च रक्त चाप का एक प्रमुख कारण मोटापा है। मोटे व्यक्ति में बी.पी. (Blood Pressure ) बढ़ने का खतरा आम व्यक्ति से अधिक होता है।
  • जो लोग व्यायाम, खेलना-कूदना या अन्य कोई भी शारीरिक क्रिया नहीं करते और आलस्यपूर्ण जीवन जीते हैं, उन्हें भी रक्तचाप की समस्या हो सकती है।
  • शुगर, किडनी के रोग या दिल की बीमारियों से ग्रसित लोगों की रक्त धमनियां कमजोर होती हैं, इस कारण भी उच्च रक्तचाप की समस्या बन जाती है।
  • बर्गर, पिज्जा, चाऊमिन तथा मोमोज आदि खाने से भी बी.पी. बढ़ जाता है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को भी उच्च रक्तचाप की समस्या होती है।

उच्च रक्तचाप के लक्षण–

 
  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में कुछ इस प्रकार के लक्षण दिखाई देते है।
  • नाक से खून बहने जैसी समस्या हो सकती है।
  • सिर दर्द होता है और लगातार सिर में दर्द बना रहता है।
  • मूत्र में खून आना भी उच्च रक्तचाप का एक लक्षण है।
  • सांस लेने में परेशानी होती है।

उच्च रक्तचाप के घरलू उपाय–

 
  • हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को नंगे पैर हरी घास पर 10-15 मिनट तक चलना चाहिए। रोजाना घास पर चलने से ब्लड प्रेशर नॉर्मल होने लगता है।
  • लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार होता है। इससे हाई बी.पी. को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • सुबह-शाम आंवले का रस और शहद मिलाकर लेने से हाई ब्लड प्रेशर में लाभ होता है।
  • जब ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ हो तो गुनगुने पानी में थोड़ी सी काली मिर्च पाउडर का घोल बनाकर हर दो घंटे के बाद पिएं। इससे हाई ब्लड प्रेशर के लक्षणों का उपचार होता है।
  • उच्च रक्तचाप के नियंत्रण में तरबूज बेहद लाभदायक होता है। बराबर मात्रा में तरबूज के बीज की गिरी तथा खसखस को अलग-अलग पीसकर रख लें। रोजाना एक चम्मच इसके मिश्रण का सेवन करें।
  • ब्लड प्रेशर बढ़ने के दौरान एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर तीन-तीन घण्टे के अन्तर में पीना चाहिए। इससे उच्च रक्तचाप ठीक होता है।

निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure)–

 

जब शरीर में रक्त का प्रवाह सामान्य से कम होता है तो उसे निम्न रक्तचाप या लो ब्लड प्रेशर कहते है। लो ब्लड प्रेशर में शरीर में ब्लड का दबाव कम होने से आवश्यक अंगों तक पूरा ब्लड नही पहुंच पाता जिससे उनके कार्यो में बाधा पहुंचती है। ऐसे में दिल, किडनी, फेफड़े और दिमाग आंशिक रूप से या पूरी तरह  काम करना भी बंद कर सकते हैं। निम्न रक्तचाप में ब्लड प्रेशर रीडिंग 90 से कम होती है।

 

निम्न रक्तचाप के कारण–

 

रक्तचाप निम्न होने के बहुत सारे कारण होते हैं जिनमें से निम्नलिखित मुख्य कारण हैं

 
  • कई बार शरीर में रक्त की कमी से भी निम्न रक्तचाप बन जाता है, जैसे किसी बड़ी चोट के कारण अंदरूनी रक्तस्राव के वजह से शरीर में अचानक खून की कमी हो जाना। इससे रक्तचाप निम्न हो जाता है।
  • शरीर में जरुरी पोषक तत्वों की कमी होने पर शरीर पर्याप्त मात्रा में लाल रक्त कोशिकाएं नहीं बना पाता। इस कारण भी रक्तचाप निम्न हो जाता है।
  • हृदय रोग से ग्रसित व्यक्ति का भी रक्तचाप निम्न हो सकता है। इसलिए ऐसे लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरुरत होती है।
  • गर्भावस्था के समय महिलाओं में लो ब्लडप्रेशर की समस्या हो सकती है। क्योंकि इस समय सर्कुलेटरी सिस्टम तेजी से काम करता है और ब्लडप्रेशर कम हो जाता है।

निम्न रक्तचाप के लक्षण-

 
  • शरीर में पानी की कमी होने के कारण बार-बार प्यास लगना।
  • रक्त की कमी से शरीर ठंडा और पीला पड़ने लगता है।
  • सांसे लेने में दिक्कत होना या ठीक से सांस न ले पाना।
  • निम्न रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति को देखने में भी कठिनाई होने लगती है।
  • निम्न रक्तचाप होने पर मरीज खुद को अवसाद में महसूस करता है।

निम्न रक्तचाप के घरेलू उपाय-

 
  • कैफीन उत्पाद जैसे चाय या कॉफी ब्लड प्रेशर को बढ़ाने में सहायता करते हैं। जब आपका ब्लड प्रेशर अचानक गिर जाता है तो एक कप कॉफी या चाय पीने से ब्लड प्रेशर को नार्मल होने में मदद मिलती है।
  • छाछ में नमक, हींग और भुना हुआ जीरा मिलाकर सेवन करते रहने से भी ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है।
  • लो बीपी के कारण अगर चक्कर आने की शिकायत हो तो आंवले के रस में शहद मिलाकर खाने से बहुत जल्दी राहत मिलती है। इसके अलावा ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए आंवले का मुरब्बा भी एक बेहतर विकल्प माना जाता है।
  • दूध में खजूर को उबालकर पीने से भी निम्न रक्तचाप की समस्या में फायदा होता है।
  • लो ब्लड प्रेशर में गाजर और पालक का रस पीना फायदेमंद होता है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

 

ब्लड प्रेशर के निम्नलिखित लक्षणों के दिखते ही मरीज को तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।  

 
  • सीने में दर्द और भारीपन महसूस होने पर।
  • सांस लेने में परेशानी होने पर।
  • सिर में दर्द, शरीर में कमजोरी या धुंधला दिखाई देने पर।
  • शरीर के पीला पड़ने पर।
  • आधी-अधूरी और तेज सांस आने पर।
  • छाती में दर्द या गर्दन का अकड़ जाना तो बिना कोई देर किये तुरंत किसी विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

कैसे करें रक्तचाप की जांच?

 

ब्लड प्रेशर की जांच करने के लिए रक्त दाबमापी (Sphygmomanometer) उपकरण का उपयोग किया जाता है। यह सामान्य और डिजिटल दोनों प्रकार का होता है। अगर आप घर में इसका उपयोग कर रहे है तो Mercury Sphygmomanometer का इस्तेमाल करना अच्छा होता है।

Read More
क्या होता कलाई का दर्द? जानें, इसके लक्षण, कारण और उपचार

Posted 14 September, 2022

क्या होता कलाई का दर्द? जानें, इसके लक्षण, कारण और उपचार

कलाई वह जोड़ है, जो हथेलियों और हाथ को जोड़ता है। कलाई में कई छोटी हड्डियां होती हैं. जो व्यक्ति की बाहें और कलाई को मोड़ने, सीधा करने और घुमाने में मदद करती हैं। कभी-कभी कलाई में दर्द उत्पन्न हो जाता है। इसका मुख्य कारण कलाई पर आघात और मांसपेशियों में खिंचाव हैं जो कलाई के हर अंगों को प्रभावित करता है। जिसमें हड्डियों, स्नायुबंधन और संयोजी ऊतक शामिल हैं। इसके अलावा यह मोच, फ्रैक्चर, थकान या किसी बड़ी समस्या के कारण भी होता है। साथ ही कलाई में दबी हुई नसें भी दर्द का कारण बन सकती हैं।

कलाई में दर्द के कारण-

दर्द कई कारणों से होता है। इसका मुख्य निम्नलिखित हैं-

  • कलाई की मोच-लिगामेंट में किसी प्रकार की चोट आदि को मोच कहा जाता है। लिगामेंट कठोर, लचीले और रेशेदार ऊतक होते हैं। जो जोड़ों में दो हड्डियों को आपस में जोड़ने का काम करते हैं। मोच के दौरान लिगामेंट में थोड़ी बहुत चोट लगने से यहां कि मांसपेशियों में खिंचाव आ जाता है। जिससे व्यक्ति को अधिक पीड़ा का सामना करना पड़ता है। मोच के कारण होने वाले लक्षण निम्नलिखित हैं:
  • कलाई को घुमाते समय दर्द होना।
  • जोड़ों के आसपास सूजन।
  • सूजन व नीला पड़ना।
  • जलन या झनझनाहट होना जिसे पैरेस्थेसिया कहा जाता है।
  • कलाई टेंडोनाइटिस-टेंडन मजबूत ऊतक होते हैं, जो कलाई से गुजरते हैं। यह हाथ की मांसपेशियों को हाथ की हड्डियों और उंगलियों से जोड़ते हैं। हथेली के फ्लेक्सर टेंडन उंगलियों से वस्तुओं को पकड़ने की अनुमति देते हैं। हाथ के शीर्ष पर एक्स्टेंसर टेंडन होते हैं, जो उंगलियों को सीधा करने और वस्तुओं को छोड़ने में मदद करता है। कलाई टेंडोनाइटिस की स्थिति तब होती है जब इसमें से एक या अधिक टेंडन सूज जाते हैं। इसके कुछ लक्षण निम्नलखित हैं:
  • सुबह की जकड़न।
  • जोड़ों के आस-पास हल्का सूजन।
  • कुछ लोग कलाई को हिलाने पर क्रेपिटस अर्थात जोडों से आवाज आते हैं।
  • कलाई टेंडोनाइटिस के आम कारण हैं: बार-बार कलाई को घूमना या मशीन चलाना। बार-बार कलाई पर दबाव पड़ने वाले खेल जैसे गोल्फ या टेनिस खेलना।
  • कार्पल टनल सिंड्रोम-कार्पल टनल सिंड्रोम कलाई पर अधिक तनाव के कारण होता है। विशेष रूप से दोहराव गति अर्थात बार-बार कलाई को हिलाने-डुलाने से। यह सूजन और निशान का कारण बनता है। यह कलाई से गुजरने वाली नसों को संकुचित करते हैं। जिसे माध्यिका तंत्रिका कहते हैं। यह स्थिति दर्द का कारण बनती है जो रात में बढ़ जाती है। साथ ही हथेलियों, अंगूठे और उंगलियों में झनझनाहट उत्पन्न करती है।
  • अर्थराइटिस-विभिन्न प्रकार के अर्थराइटिस कलाई को प्रभावित करते हैं। जिसमें मुख्य रूप से निम्नलिखित शामिल हैं:
  • रुमेटी गठिया (आरए)- रुमेटी गठिया में व्यक्ति की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। जिसके कारण उसके जोड़ों में असहनीय दर्द होता है। साथ ही शरीर के अन्य अंगों में सूजन आने लगती है।
  • गाउटगाउट की स्थिति तब होती है जब रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। इस स्थिति में व्यक्ति जब कुछ देर के लिए आराम करता है तो यूरिक एसिड पैर के अंगूठे या जोड़ों में इकठ्ठा होकर क्रिस्टल का रूप ले लेते हैं। जिससे व्यक्ति को असहनीय दर्द का सामना करना पड़ता है।
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस- ऑस्टियोआर्थराइटिस में जोड़ों की छोर को कवर करने वाला लचीला पदार्थ, जिसे उपास्थि (Cartilage) कहते हैं। वह अपनी जगह से खिसक या टूट जाते हैं। इससे जोड़ों को हिलाने में अत्यधिक दर्द, सूजन और कठिनाई होती है।
  • कलाई फ्रैक्चर-कलाई का फ्रैक्चर एक प्रकार की चोट है। यह कमजोर हड्डियों वाले लोगों में होने की अधिक संभावना होती है, जैसे ऑस्टियोपोरोसिस। दरअसल ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या एक ऐसी स्थिति होती है। जिसमें हड्डियों की गुणवत्ता और घनत्व कम हो जाता है। इसके अलावा स्केफॉइड फ्रैक्चर भी कलाई फ्रैक्चर का एक प्रकार होता है। जो अंगूठे के नीचे सूजन, दर्द और कोमलता का कारण बनता है।
  • कलाई में दर्द के लक्षण-कलाई में दर्द के लक्षण इसके कारण के आधार पर अलग-अलग होते हैं। ऑस्टियोआर्थराइटिस दर्द को अक्सर सुस्त दांत दर्द के समान वर्णित किया जाता है। वहीं कार्पल टनल सिंड्रोम आमतौर पर सुन्नता या झुनझुनी का कारण बनता है, खासकर रात में। इस प्रकार कलाई के दर्द का लक्षण होने वाले कारणों से पता चलता है।

कलाई के दर्द को कैसे रोकें?

बार-बार कलाइयों से की जाने वाली गतिविधियों से कलाई में दर्द होता है। इसके अतिरिक्त अधिकांश लोग टाइपिंग में बहुत समय व्यतीत करते हैं। जिसके कारण भी कलाइयों में दर्द उत्पन्न हो सकता है। ऐसे में कुछ सावधानियों को बरतकर कलाइयों के दर्द को रोका जा सकता है जो निम्नलिखित हैं:

  • कलाई और आसपास के टेंडन में जलन को दूर करने के लिए अपने डेस्क सेटअप को बदल सकते हैं।
  • अपने कीबोर्ड को नीचे रखें ताकि टाइप करते समय आपकी कलाइयां झुकें नहीं।
  • लगातार देर तक टाइपिंग करने से बचें। थोड़े समय बाद नियमित ब्रेक लें और अपने हाथों को आराम दें।
  • कीबोर्ड, माउस और ट्रैक पैड के साथ रिस्ट रेस्ट का उपयोग करें।

कलाई के दर्द का इलाज-

पुराने और गंभीर दर्द से पीड़ित लोगों के लिए डॉक्टर निम्नलिखित सलाह देता है-

  • लक्षणों से राहत पाने के लिए मौखिक या इंजेक्शन दवाएं।
  • माध्यिका तंत्रिका पर दबाव के लिए कार्पल टनल सर्जरी।
  • संकुचित टेंडन का सर्जिकल उपचार।
  • गठिया के कारण होने वाले कलाइयों में दर्द के हड्डी से जुड़ीं सर्जरी। इसमें मुख्य रूप से कलाई का संभावित संलयन, हड्डी निकालना, या पूर्ण या आंशिक कलाई प्रतिस्थापन आदि शामिल हैं।
  • सूजन वाले ऊतक को हटाने के लिए सर्जन आर्थोस्कोपिक तकनीक का उपयोग करते हैं।

स्व-देखभाल उपचार कलाई में दर्द को कम करता है। यह मोच या टेंडोनाइटिस के लिए विशेष रूप से उपयोगी हैं-

  • आराम करें- सूजन को कम करने के लिए जोड़ों को आराम दें। हालांकि, ज्यादा देर तक आराम न करें। यह कठोरता पैदा कर सकता है।
  • बर्फ से करें सिकाई-पहले दो दिनों तक हर 3 से 4 घंटे के अंतराल पर आइस पैक लगाएं। ऐसा कम से कम 20 मिनट तक करें।
  • संपीड़न-अपनी कलाई के चारों ओर एक लोचदार पट्टी लपेटें। उंगली के आधार से शुरू करें और कोहनी के ठीक नीचे जाएं। ऐसा करने से आराम पहुंचता है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

निम्न लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें-

  • जोड़ों या कलाइयों में असहनीय दर्द होने पर।
  • अधिक दर्द के कारण दैनिक गतिविधियों में बाधा उत्पन्न होना।
  • सुन्नता या झनझनाहट के बढ़ जाने पर।
Read More
गाउट (वातरक्त) क्या है? जानें, इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

Posted 29 August, 2022

गाउट (वातरक्त) क्या है? जानें, इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

गाउट, गठिया का एक प्रकार होता है। यह एक प्रकार की सूजन एवं जोड़ों का दर्द होता है। जो शरीर के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित करता है। गाउट की स्थिति हर व्यक्ति के लिए काफी तकलीफदेह होती है, क्योंकि इस दौरान उसे असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है। जब रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। इस स्थिति में व्यक्ति जब कुछ देर के लिए आराम करता है तो यूरिक एसिड पैर के अंगूठे या जोड़ों में इकठ्ठा होकर क्रिस्टल का रूप ले लेते हैं। इस स्थिति को गाउट या आयुर्वेदिक चिकित्सा में वातरक्त के नाम से जाना जाता है। जिससे व्यक्ति के जोड़ों में अचानक गंभीर दर्द, कोमलता और सूजन आ जाती है। आमतौर पर गाउट का इलाज दवाओं एवं जीवनशैली में बदलाव से किया जा सकता है।

गाउट गठिया का एक सामान्य रूप है और यह किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। लेकिन ज्यादातर यह महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक देखने को मिलता है। यह आमतौर पर रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में होता है। इस बीमारी का प्रभाव पुरुषों को महिलाओं की अपेक्षा तीन गुना अधिक होने की संभावना हो सकती है क्योंकि उनके अधिकांश जीवन में यूरिक एसिड का स्तर अधिक होता है।

वैसे तो गाउट होने की अधिक संभावना नींम लोगों में देखने को मिलती है:

  • जो लोग मधुमेह से पीड़ित हैं।
  • उच्च रक्तचाप।
  • मोटापा।
  • गुर्दे संबंधी समस्या होने पर।
  • हृदय संबंधी समस्या होने पर।
  • गठिया का पारिवारिक इतिहास रहा हो।

गाउट के लक्षण-

गाउट यानी वातरक्त के लक्षण हमेशा अचानक और अक्सर रात में दिखाई देते हैं। उसमें शामिल कुछ निम्नलिखित हैं:

  • जोड़ों में तेज दर्द-आमतौर पर गाउट पैर के अंगूठे को प्रभावित करता है। लेकिन इसके अतिरिक्त यह किसी भी जोड़ को प्रभावित कर सकता है। जिसमें मुख्य रूप से घुटने, कोहनी, टखने, कलाई और उंगलियां शामिल हैं।
  • सूजन और लालिमा-लालिमा, सूजन और खुजली गाउट के सामान्य लक्षण हैं, जो जोड़ों पर देखें जाते हैं।
  • लंबे समय तक बेचैनी-यदि कोई व्यक्ति अचानक इस समस्या से पीड़ित हो। इस स्थिति में इलाज करने पर यह दर्द कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों में ठीक हो जाता है। लेकिन बाद में गाउट की समस्या बार-बार हो जाती है ,तो यह लंबे समय तक व्यक्ति के जोड़ों को प्रभावित करते हैं। जिससे व्यक्ति को बेचैनी भी होने लगती है।
  • गति की सीमा-जैसे-जैसे गाउट की समस्या बढ़ती जाती है, तो जोड़ों को सामान्य रूप से हिलाने में परेशानी होती हैं। जिससे चलने और उठने में बहुत तकलीफ होती है।

गठिया के कारण-

हाइपरयूरिसीमिया अर्थात रक्त में यूरिक एसिड की अधिकता गाउट का एक प्रमुख कारण है। यूरिक एसिड तब बनता है जब शरीर प्यूरीन नामक रसायन को तोड़ता है। मांस, पोल्ट्री और समुद्री भोजन का सेवन हाइपरयूरिसीमिया के प्रमुख कारण हैं क्योंकि इसमें उच्च स्तर की प्यूरीन होती है।

यूरिक एसिड रक्त में घुलनशील है और गुर्दे के माध्यम से मूत्र के रूप में शरीर से बाहर निकल जाता है। जब कोई व्यक्ति बहुत अधिक यूरिक एसिड का उत्पादन करता है या इसे पर्याप्त रूप से उत्सर्जित नहीं करता है। इस स्थिति में रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। साथ ही यह यूरिक एसिड जोड़ों में इकठ्ठा हो जाता है। जो कुछ समय बाद वातरक्त का रूप ले लेता है। यह जोड़ों और आसपास के ऊतकों में सूजन और दर्द पैदा करताहै।

गाउट के जोखिम कारक-

शरीर में यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ाने वाले जोखिम कारक निम्नलिखित हैं

  • गठिया का पारिवारिक इतिहास-यदि परिवार में कोई व्यक्ति इससे पीड़ित रह चुका होता है, उन लोगों में इसकी संभावना अधिक रहती है।
  • दवाएं-कुछ लोगों को दवाईयों के दुष्प्रभाव से भी गाउट रोग हो जाता हैं। कुछ दवाएं गुर्दे की यूरिक एसिड को ठीक से हटाने की क्षमता को प्रभावित करती हैं। इसमें मूत्रवर्धक शामिल हैं। इसके अतिरिक्त कुछ उच्च रक्तचाप की गोलियां होती हैं। जिसमें बीटा-ब्लॉकर्स और एसीई अवरोधक शामिल हैं।
  • वजन-अधिक वजन वाले लोगों में गाउट होने की संभावना अधिक होती हैं। ऐसे लोगों का शरीर अधिक यूरिक एसिड पैदा करता है। जिससे गुर्दे को यूरिक एसिड से छुटकारा पाने में समय लगता है।
  • आहार-रेड मीट और शेलफिश जैसे उच्च आहार और फ्रक्टोज यानी मीठे पेय पदार्थों का सेवन करने से यूरिक एसिड का स्तर बढ़ता है। जिससे गाउट का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा अधिक शराब के सेवन से भी गाउट होने का खतरा बना रहता है।
  • हाल की सर्जरी या आघात-हाल ही में किए गए सर्जरी या आघात होने से कभी-कभी गठिया का दौरा पड़ सकता है।

कैसे करें गाउट का इलाज?

  • एनएसएआईडी (NSAIDs) दर्द और सूजन को कम करते हैं। लेकिन गुर्दे की बीमारी, पेट की जलन और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित लोगों को एनएसएआईडी का सेवन नही करने की सलाह दी जाती है।
  • कोल्चिसिन सूजन और दर्द को कम करता है। इसलिए इसका सेवन गठिया के दौरे के 24 घंटों के अंदर लेना फायदेमंद होता है। इसे मौखिक रूप से दिया जाता है।
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स दर्द और सूजन को कम करते हैं। इस स्टेरॉयड को मौखिक या इंजेक्शन रूप से दिया जाता हैं।
  • एलोप्यूरिनॉल, पेग्लोटिकेज, फेबुक्सोस्टैट और प्रोबेनेसिड जैसी दवाएं गाउट के जोखिम को कम करती हैं।

कैसे करे गाउट की रोकथाम?

कुछ सावधानियां बरतकर गाउट को रोका जा सकता है-

  • गुर्दे की कार्यक्षमता में सुधार और निर्जलीकरण से बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • वजन को नियंत्रित रखने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • मांस युक्त भोजन और शराब के सेवन से बचें।
  • मूत्रवर्धक और इम्यूनोसप्रेसेन्ट जैसी दवाएं लेने से बचें क्योंकि यह यूरिक एसिड के स्तर को बढाती हैं।

गाउट के घरेलू उपचार-

  • अदरक-अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो वातरक्त में यूरिक एसिड से संबंधित दर्द को कम करता है। इसके लिए एक कप अदरक की चाय पिएं। इसके अलावा ताजे अदरक को पीसकर एक कप पानी में उबालें। फिर इस मिश्रण में एक साफ कपड़ा भिगोकर 30 मिनट तक प्रभावित जोड़ों पर लगाएं। ऐसा करने से दर्द और सूजन से छुटकारा मिलता है।
  • केला-केले में पोटैशियम का उच्च स्तर होता है जो गाउट को रोकने में मदद करता है। साथ ही केले में पर्याप्त मात्रा में फाइबर भी पाया जाता है, जो शरीर से यूरिक एसिड को हटाने में मदद करता है।
  • गुड़हल-गुड़हल यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में प्रभावी है। जिससे गाउट का खतरा कम होता है। ऐसे में इसे रोकने के लिए, गुड़हल से बने चाय का सेवन करें।
  • सेब-सेब का सेवन करने से स्वाभाविक रूप से यूरिक एसिड के स्तर में कमी आती है। जिससे गाउट के लक्षणों को रोकने में मदद मिलती है।
  • चेरी-चेरी में प्राकृतिक रूप से सूजनरोधी गुण मौजूद हैं जो वातरक्त से जुड़ी सूजन को आसानी से कम करने में सहायक होती हैं।
  • अजमोदा -अजमोदा के बीज के अर्क को गाउट के घरेलू उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है। दरअसल अजमोदा में ल्यूटोलिन नामक यौगिक होता है जो यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद करता है।
  • कब जाएं डॉक्टर के पास?

    यदि कोई व्यक्ति गंभीर दर्द, सूजन, लालिमा और गर्मी से जूझ रहा है, तो यह गाउट जैसी समस्या की ओर संकेत करता है। ऐसे में डॉक्टर को तुरंत दिखाएं। इसके अलावा कभी-कभी गाउट से पीड़ित होने पर व्यक्ति को निम्न-श्रेणी का बुखार हो सकता है। लेकिन उच्च तापमान संक्रमण का संकेत होने पर इसे बिना नजर अंदाज किए तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें।

    Read More
    Wrist Pain: Symptoms, Causes and Treatment

    Posted 30 July, 2022

    Wrist Pain: Symptoms, Causes and Treatment

    Wrist is the joint that connects the forearm and hand. It contains many small bones that help you bend, straighten, and rotate your arm and wrist. Wrist pain can be caused by disease or injury that affects every aspect of the wrist, including the bones, ligaments, and connective tissues. It can also be caused by fatigue or a major problem. Wrist strokes and muscle strain are common causes, while pinched nerves in the wrist can also cause pain.

    Causes of Wrist pain

    Pain can occur for many reasons, be it simple fatigue or a major problem. The main causes of Wrist pain are

    • Wrist sprain

    Ligaments are healthy connective tissues which control joint movements. Ligaments around the wrist help stabilize the position of your arm and also let you control the movement and sprain is an injury to these ligaments.

    Sprains occur when the wrist ligaments are stretched beyond their limits. Some of the most common causes are uneven landing from a jump or ankle rolling.

    Symptoms of a sprain include:

    • Pain when moving.
    • Swelling around the joints.
    • Bruising or discoloration.
    • Burning or tingling sensation called paresthesia.
    • Wrist tendonitis

    Tendons are strong tissues that pass through the wrist. They connect the muscles of the arm to the bones of the hand and fingers.

    The flexor tendons of your palm allow your fingers to grasp objects. The extensor tendons at the top of your hand help your fingers straighten and release objects.

    Wrist tendonitis occurs when one or more of these tendons become swollen which causes the following conditions

    • Morning stiffness.
    • Sometimes a little swelling.
    • Some people report crepitus (popping) when they move their wrist.

    The most common causes of wrist tendonitis are

    • Repetitive wrist motion (Working with machine)
    • Sports that repeatedly put pressure on the wrist (golf, tennis)
    • Carpal tunnel syndrome

    Carpal tunnel syndrome results from excessive stress on the wrist, especially from repetitive motion. This causes inflammation and scar tissue.

    It can compress (pinch) the nerves that run through the wrist. This is called the median nerve. This condition causes pain that gets worse at night, plus a tingling sensation in palms, thumb, and fingers. Carpal tunnel syndrome is a common workplace injury.

    • Arthritis

    Several different types of arthritis can affect the wrist. They include

    • Rheumatoid arthritis (RA):Inflammation of the joints that causes joint destruction and deterioration.
    • Gout Gout occurs when too much uric acid (a waste product of digestion) builds up in your blood. Excess acid leads to the formation of tiny, painful crystals in the joints and soft tissues.
    • OsteoarthritisThis occurs when cartilage, the connective tissue that covers the ends of bones, wears out. In osteoarthritis, bones rub against each other, causing pain, swelling, and stiffness.
    • Wrist fracture

    Wrist fractures are a common injury that is more likely to occur in people with weak bones or those suffering from osteoporosis.

    Scaphoid fracture is a type of wrist fracture. The scaphoid is situated on the side of your thumb which often breaks if you fall and hold the outstretched arm.

    A scaphoid fracture causes swelling, pain, and tenderness under the base of the thumb.

    The pain may get worse when you try to pinch or reach for something.

    Symptoms of Wrist pain

    The symptoms of wrist pain can vary depending on the cause. Osteoarthritis pain is often described as similar to a dull toothache, whereas carpal tunnel syndrome usually causes numbness or tingling, especially at night. The exact location of your wrist pain provides clues to your symptoms.

    How to prevent Wrist pain?

    Some repetitive motions can cause pain in the wrist or further injure it. Since most people spend a lot of time typing, they can change the desk setup to relieve irritation to the wrist and surrounding tendons. Following steps can help prevent wrist pain:

    • Lower your keyboard so that your wrists don't bend as you type.
    • Take regular breaks from typing and rest your hands.
    • Use a wrist rest with the keyboard, mouse, and trackpad.
    • Learn how to use the mouse with your non-dominant hand.

    Treatment for Wrist pain

    For chronic and severe pain, your doctor may recommend the following

    • Injection or oral medications to relieve symptoms.
    • Carpal tunnel surgery to release pressure on the median nerve.
    • Surgical release of the compressed tendons.
    • Surgery to relieve bone-to-bone contact in arthritis. This may include procedures to maintain movement, such as possible wrist fusion, bone removal, or complete or partial wrist replacement.
    • Surgeons may use arthroscopic techniques for the removal of inflamed tissue (wrist debridement).

    Home remedies for Wrist pain

    Self-care treatment can ease the pain in your wrist. They are especially useful for sprains or tendonitis. These are as follows

    • Rest Stop using the joint to reduce inflammation. However, don't rest too long. This can cause stiffness and slow down your recovery.
    • Ice Apply an ice pack every 3 to 4 hours for 20 minutes for the first two days. Do not use it for more than 20 minutes, otherwise you may damage the tissues.
    • CompressionWrap an elastic bandage around your wrist. Start at the base of the finger and go just below the elbow. Do it vigorously without stopping circulation. If your finger is numb, loosen it.
    • Immobilization In case of injury, carpal tunnel syndrome or wrist arthritis, braces or splints can help. Fractures may require a cast.
    • OsteoarthritisIn case of injury, carpal tunnel syndrome or wrist arthritis, braces or splints can help. Fractures may require a cast.

    When to see a doctor?

    It is important to see a doctor if

    • Wrist pain interferes with daily activities.
    • Numbness or tingling worsens and there is little or no feeling in the fingers or hands.
    • Simple hand gestures are no longer possible.
    • Weakness makes it hard to keep things going.
    Read More
    क्या है सेप्टिक अर्थराइटिस कैसे करे उपचार?

    Posted 24 May, 2022

    क्या है सेप्टिक अर्थराइटिस कैसे करे उपचार?

     

    आजकल बदलते परिवेश और दिनचर्या में हो रहे बदलाव के कारण ज्यादातर लोग गठिया (अर्थराइटिस) के शिकार हो रहे हैं। इन्हीं में से एक सेप्टिक अर्थराइटिस भी है। यह संक्रमण की तरह ही शरीर के एक हिस्सों से दूसरे अंगों में फैलता है। ज्यादातर सेप्टिक अर्थराइटिस की समस्या उन लोगों में देखने को मिलती है। जिनको पहले से कभी चोट लगी हो, सर्जरी कराई हो या इंजेक्शन लगवाया हो। क्योंकि इन सभी के जरिए संक्रमण रक्त के माध्यम से शरीर के जोड़ों में फैलता हैं। इसलिए इसे संक्रामक गठिया भी कहा जाता है।

    क्या होता  है  सेप्टिक अर्थराइटिस?

    सेप्टिक गठिया जोड़ों में होने वाला संक्रमण है। यह संक्रमण (infection) मुख्य रूप से चोट या रक्त के माध्यम से जोड़ों तक पंहुचता है। जिससे जोड़ों में दर्द, सूजन और लालिमा आदि समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। जो शरीर के विभिन्न जोड़ों को प्रभावित करती है। यह स्थिति किसी भी व्यक्ति के लिए काफी तकलीफदेह होती है। क्योंकि इस दौरान उसे असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है। लेकिन यदि इसका इलाज समय रहते शुरू कर लिया जाए तो कोई भी व्यक्ति इससे निजात पा सकता है। यह समस्या सभी उम्र के लोगों को हो सकती है। बच्चों में सेप्टिक अर्थराइटिस होने की मुख्य वजह प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना होता है। आकड़ों के अनुसार भारत में लगभग हर 1500 लोगों में से 1 नवजात शिशु सेप्टिक अर्थराइटिस की समस्या से ग्रस्त होता है। 

    क्या हैं सेप्टिक अर्थराइटिस के लक्षण?

    सेप्टिक गठिया के लक्षण भी अन्य गठिया के लक्षणों की तरह ही होते हैं। जोड़ों में दर्द, जकड़न, सूजन और चलने-फिरने में तकलीफ आदि इसके प्रमुख लक्षण हैं। साथ ही सेप्टिक अर्थराइटिस के दौरान जोड़ों की त्वचा लाल पड़ जाती है। आमतौर पर इससे पीड़ित व्यक्ति का केवल एक जोड़ ही प्रभावित होता है। लेकिन गंभीर मामलों में शर्रेर के विभिन्न जोड़ों (घुटने, कूल्हों आदि) में परेशानी हो सकती हैं। जिससे जोड़ों में असहनीय दर्द होने लगते हैं। परिणामसरूप संक्रमण की वजह से शरीर रिएक्टिव अर्थराइटिस भी हो सकता है। इसके अलावा अन्य लक्षण भी देखने को मिलते हैं, जो निम्नलिखित हैं :

    बच्चों और नवजातों में नजर आने वाले लक्षण-

    ●प्रभावित जोड़ों को हिलाने (मूवमेंट) करने पर रोना। 

    ●शरीर के अंगों को मूवमेंट करने पर कठिनाई महसूस करना। 

    ●बुखार आना। 

    ●चिड़चिड़ापन होना। 

    ●बेचैनी होना। 

    वयस्कों में लक्षण-

    ●संक्रमित जोडों को हिलाने में कठिनाई या असमर्थता महसूस करना। 

    ●चलने-फिरने में तकलीफ होना। 

    ●बुखार आना। 

    ●ठंड लगना या कपकपी आना। 

    ●थकान या कमजोरी महसूस करना। 

    ●त्वचा में रैशेज आना। 

    ●अपच होना।  

    सेप्टिक अर्थराइटिस के कारण?

    सेप्टिक अर्थराइटिस होने का मुख्य कारण बैक्टीरिया यानी जीवाणु के कारण होने वाला संक्रमण होता हैं। जब स्टैफिलोकोकी, स्ट्रेप्टोकोकी या निसेरिया गोनोरिया, स्ट्रेप्टोकोच्ची और हिमोफिलस इंफ्लुएंजा नामक जीव शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। यह संक्रमण शरीर पर लगे किसी प्रकार का चोट, इंजेक्शन सर्जरी एवं रक्त के जरिए होता है। इसके अलावा सेप्टिक अर्थराइटिस  फंगल या वायरल इंफेक्शन से भी हो सकता है। इसलिए जोड़ों को किसी भी तरह के नुकसान से बचाने एवं संक्रमण को  फैलने से रोकने के लिए इस रोग का उपचार तुरंत करना चाहिए।

    सेप्टिक अर्थराइटिस होने के जोखिम कारक-

    सेप्टिक अर्थराइटिस होने के पीछे कुछ जोखिम कारक निम्नलिखित हैं ;

    पहले से जोड़ों में समस्या-

    सेप्टिक अर्थराइटिस बीमारी होने की संभावना उन लोगों में अधिक रहती है, जिनको पहले से गठिया,ऑस्टियोआर्थराइटिस, ल्यूपस आदि की समस्या हो। इसके अलावा घुटनों पर कभी चोट लगी हो। इसलिए  किसी भी व्यक्ति को घुटने की चोट को नजरअंदाज न करते हुए उसकी जांच तुरंत करानी चाहिए।

    पहले से संधिशोथ की दवा ले रहे हों-

    जो लोग संधिशोथ को ठीक करने के लिए पहले से इसकी दवाई ले रहे हैं। उन लोगों को सेप्टिक अर्थराइटिस जैसी कई गंभीर बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती हैं। क्योंकि इन दवाईयों के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। 

    त्वचा का नाजुक होना-

    जिन लोगों की त्वचा नाजुक होती हैं। जिससे त्वचा जल्दी फट जाती है। ऐसे लोगों में बैक्टीरिया के पनपने की संभावना अधिक रहती है। एक्जिमा और सोरायसिस जैसी त्वचा की स्थितियों से सेप्टिक आर्थराइटिस का खतरा बढ़ जाता है।

    कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली-

     

    सेप्टिक आर्थराइटिस होने की वजह शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता (Immune System) का कमजोर होना भी है। इसलिए लोगों को नियमित रूप से व्यायाम और पौष्टिक आहार का सेवन करनी चाहिए। जिससे उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहे।

    कैसे करें सेप्टिक अर्थराइटिस को रोकथाम?

    कुछ सावधानियों को बरतकर सेप्टिक अर्थराइटिस की रोकथाम किया जा सकता हैं;

    ●सभी लोगों को अपने वजन को नियंत्रित करने की कोशिश करनी चाहिए। जिससे उन्हें किसी तरह गंभीर बीमारी न हो।

    ●नियमित रूप से व्यायाम करें। 

    ●पर्याप्त आराम करे और प्रभावित अंगों को बाहरी दबाव एवं अन्य किसी नुकसान से बचाएं। 

    ●लोगों को पौष्टिक भोजन का सेवन करना चाहिए। जिसमें कैल्शियम, प्रोटीन भरपूर मात्रा में हो, जैसे अंकुरित चना, सोयाबीन, दाल, हरी पत्तेदार सब्जियां, दूध, इत्यादि का इस्तेमाल करना चाहिए।

     

     सभी लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। क्योंकि शरीर में जितना कैल्शियम, प्रोटीन या अन्य पदार्थ आवश्यकता होती है। उतनी ही उसमें पानी का होना भी जरूरी होता है।

    अपने स्वास्थ की नियमति रूप से जांच कराएं। जिससे पता चलता है कि हम पूरी तरह से सेहतमंद हैं।

     
    Read More
    What is Osteopenia? Know its Symptoms, Causes and Treatment methods

    Posted 16 March, 2022

    What is Osteopenia? Know its Symptoms, Causes and Treatment methods

    Nowadays the problem of bones and joints is common everywhere whether it is in a village or city. This problem starts developing on its own with the lack of nutrients in the body or due to aging. Osteopenia is one such common bone related problem which, if ignored, can take the form of a serious health issue. Therefore, it is necessary to treat this condition in time or it may lead to osteoporosis. This problem was mostly seen in the elderly but nowadays due to modern lifestyle and food habits, this disease is taking its grip on the youth as well. Its effect is seen more in women than in men, especially those who are overweight.

    Osteopenia is the loss of bone mineral density. This condition occurs when the body doesn't make new bones as quickly as it reabsorbs old bones. The bones of the body are made up of calcium, phosphorus, protein and many types of minerals but with modern lifestyle, wrong eating habits and aging, these minerals start to diminish. As a result, the density of bones starts decreasing and weakening.

    Symptoms of Osteopenia

    In the early stages of osteopenia, there are no symptoms but when there is a lot of damage to the bones, its symptoms start appearing. These symptoms are as follows-

    • Feeling weak or tired.
    • Extreme pain in the joints, severe back pain.
    • Feeling more pain after a minor injury.
    • Bending of the body.
    • Difficulty in walking.
    • Stiffness or swelling in the joints.
    • Fracture even in minor injuries.
    • Failing to lift heavy weights.

    Causes of Osteopenia

    There are many reasons for osteopenia, the main ones being the following-

    Aging-

    According to researchers, an important cause of the problem of osteopenia is aging because with age, the bones of the body keep breaking and new bones keep growing. But after 50 to 60 years, the bones start breaking faster instead of growing back. As a result, the bones become more fragile. During this age, this problem is more common in women because at this time there is a change in their hormonal level which leads to low bone density.

    Low estrogen levels-

    Generally, low estrogen levels happens in women in menopause, so in this condition women's bones start losing their density.

    Genes-

    Some diseases are genetic which keep passing from one generation to another among the members of the family including osteopenia. If any family member has osteopenia, then there is a great possibility that it could pass to another generation in the family.

    Lack of calcium and vitamins in the body-

    The body needs all kinds of nutritious substances because these substances make the body healthy. It also contains calcium and vitamin D. Its main function is to strengthen the bones. Deficiency of calcium and vitamins in the body may lead to problems like osteopenia.

    Other Causes of Osteopenia are-

    • Smoking and excessive consumption of alcohol.
    • Consuming more caffeine-rich substances.
    • Lack of protein in the body.
    • Decrease in physical activity.
    • Lack of exercising.
    • Cancer treatment therapy and rheumatoid arthritis.

    Prevention of Osteopenia

    • Make changes in lifestyle.
    • Eat a nutritious diet.
    • Exercise and yoga should be part of daily routine.
    • Drink plenty of water.
    • Avoid smoking and consumption of tobacco products.
    • Do not consume alcohol or alcoholic substances.
    • Keep your weight under control.
    • Get your health checked regularly.
    • Sit in the sunlight for some time every day.

    Home remedies for Osteopenia

    Broccoli is helpful-

    By consuming broccoli, bones and body joints become strong because it is rich in vitamin-K, calcium and magnesium. These nutrients work to keep bones strong. Therefore, people who have weak bones and joints must include broccoli in their diet.

    Spinach is beneficial-

    Spinach is good for the strength of bones and the health of the tissues that make them up. It is a rich source of vitamins K, A, C and folate which provide nutrition to the body. According to researchers, the vitamin K present in it works to keep bones strong as well as improve their formation. Therefore, consuming spinach is beneficial to keep the problem of osteopenia away.

    Apple cider vinegar is good-

    The use of apple cider vinegar proves to be beneficial for health because it is rich in nutrients like calcium, potassium and magnesium. These nutrients are helpful in maintaining healthy bones. Therefore, apple cider vinegar proves to be effective for the treatment of osteopenia and rheumatoid arthritis.

    Consumption of foods rich in vitamins-

    Vitamins play an important role in the treatment and prevention of osteopenia. According to research published on the website of NCBI (National Center for Biotechnology Information) vitamin-D increases the absorption of calcium in the intestines and also increases the density of bones and strengthens them. Therefore, we should consume foods rich in vitamins like cheese, citrus fruits, green leafy vegetables etc. in our diet.

    Triphala is beneficial-

    According to Ayurveda, the consumption of Triphala is considered good for the treatment of bone-related problems. Triphala is made up of three Ayurvedic medicines Harad, Baheda and Amla which helps to protect the bones from damage and make them strong. It also has anti-arthritic and anti-inflammatory properties. Apart from increasing the collagen of bones, it helps in preventing osteopenia and arthritis.

    Diagnosis of Osteopenia

    Usually, to diagnose osteopenia, doctors recommend mainly two types of tests through which they check the bone density and the level of nutrients. These are as follows-

    DEXA Scan -  Through this test, the doctor measures the tissue scale of the bones using X-ray beams. If the T-score of bone tissue ranges from 1 to 2.5, there may be a problem of osteopenia.

    Lab Tests- To find out the level of calcium, phosphorus and many other minerals in the body, the doctor conducts serum and urine lab tests.

    Treatment of Osteopenia

    The following methods are used for the treatment of osteopenia-

    Supplements-  Doctors recommend taking supplements to protect bones from damage and to make them strong. This includes calcium and vitamin D supplements.

    Walking- According to researchers, walking every morning and evening also improves bone density. Therefore, in addition to supplements, doctors also recommend walking.

    Hormone replacement therapy-This therapy is used to balance estrogen and progesterone levels in women during menopause.

    Estrogen receptor modulators – In this therapy, estrogen levels are improved through drugs.

    Anti-resorptive therapy-In this therapy, the bones are strengthened through medicines.

    Read More
    वैरिकोज नसें (veins) क्या है? जानें, इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

    Posted 24 May, 2022

    वैरिकोज नसें (veins) क्या है? जानें, इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

    शारीरिक परेशानियां कई तरह की होती हैं। लेकिन कुछ समस्याएं ऐसी होती हैं, जिसे अक्सर लोग नजरअंदाज कर देते हैं। उन्हीं में से एक समस्या वैरिकोज नसें (veins) है। इस समस्या से ग्रसित व्यक्ति के पैर या किसी अन्य अंग की नस अचानक से अकड़ जाती है। इसके अलावा वैरिकोज नसें सूजी और मुड़ी हुई नसें होती हैं। जिसे त्वचा के नीचे देखी जा सकती है। कोई भी नसें वैरिकोज वेन्स हो सकती है। लेकिन सबसे ज्यादा प्रभावित नसें पैरों या पैरों के पंजों में होती हैं। जिसका मुख्य कारण खड़ा होने या घूमने से निचले हिस्सों में दबाव का बढ़ना होता है।  
     

    क्या होता है वैरिकोज नसें? 

    नसें (veins) ऊतकों से रक्त को हृदय की ओर ले जाने का काम करती है। नसों को गुरुत्वाकर्षण के विपरीत रक्त को पैरों से हृदय तक ले जाना पड़ता है। ऊपर की ओर रक्त ले जाने के लिए इन शिराओं के अंदर वाल्व होते हैं। यह वाल्व रक्त को केवल ऊपर की ही ओर जाने देती है। लेकिन जब वाल्व कमजोर हो जाते हैं तो इस स्थिति में रक्त सही तरीके से ऊपर की ओर चढ़ नहीं पाता और कभी-कभी नीचे की ओर बहने लगता है। ऐसी दशा में नसें फूल जाती हैं और लंबाई बढ़ने के कारण यह नसें टेढ़ी-मेढ़ी हो जाती है। जिसे मेडिकल भाषा में वेरीकोज वेन्स (अपस्फीत शिरा) कहते हैं।  
    वैरिकोज नसों के कारण-
     

    बढ़ती उम्र- 

    वैरिकोज नसें का सबसे बड़े कारणों में से एक है बढ़ती उम्र का होना। क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ शरीर की नसों में खिंचाव होने लगती हैं। 40 से 50 साल तक हम और आप महसूस नहीं कर पाते हैं लेकिन इससे बाद की उम्र में कमजोरी महसूस होने लगती है। परिणामस्वरूप नसें अधिक नाजुक हो जाती हैं। जिसके कारण दिल की ओर बहने वाली रक्त विपरीत दिशा में बहने लगती है। जिससे नसों में रक्त इकठ्ठा हो जाता है और नसें सूजने लगती है। इसलिए इस उम्र में व्यक्ति को अपने शरीर के पीछे एक्टिव रहना बहुत जरुरी है।
     

    महिलाओं में अधिक संभावना- 

     महिलाओं में वैरिकोज नसें (veins) होने की संभावना अधिक होती है। गर्भावस्था या पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोनल बदलाव वैरिकोज नसें होने का खतरा बढ़ा देते हैं। इसके अलावा हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी एवं गर्भनिरोधक गोलियां भी वैरिकोज नसें जैसी समस्या उत्पन्न कर सकती है।

    मोटापा-

     शरीर  का अधिक वजन भी नसों पर  दबाव डालता है। जिससे वैरिकोज नसें होने का खतरा बढ़ जाता है।
     

    पारिवारिक रोग संबंधी कारक-

     यदि माता-पिता, भाई-बहन या अन्य पारिवारिक सदस्य पहले से वैरिकोज नसें से ग्रसित है। तो अन्य सदस्यों में भी यह रोग विकसित होने की संभावना काफी बढ़ जाती हैं।

    लंबे समय तक एक ही मुद्रा में खड़े या बैठे रहना-

     यदि कोई व्यक्ति लगातार या कई घंटों तक एक ही मुद्रा में खड़े या बैठे रहा जाए तो उसके नसों में खिंचाव बढ़ सकता है। जिससे रक्त का संचार सही तरीके से नहीं हो पाता है। परिणामस्वरूप व्यक्ति को वैरिकोज नसों की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

    वेरिकोज नसों के लक्षण-

    • नसों का रंग गहरी बैंगनी या नीली दिखना। 
    • नसों का आकार रस्सियों की तरह सूजी हुई या मुड़ी हुई दिखना। 
    • पैरों में भारीपन महसूस करना। 
    • पैरों के निचले हिस्सों में सूजन होना। 
    • मांसपेशियों में खिंचाव या ऐंठन होना। 
    • लंबे समय तक खड़े या बैठें रहने के बाद दर्द का आभास होना। 
    • एक या इससे अधिक नसों के आसपास खुजली होना।
    • त्वचा के घाव का  आसानी से ठीक न होना। 
    • सूखी या पपड़ीदार त्वचा का देखना।
    • वैरिकोज नसों से बचने के उपाय-
    • प्रतिदिन शारीरिक गतिविधियां करें। 
    • अपनी  दिनचर्या में व्यायाम और योगा को जरूर शामिल करें। 
    • अधिक समय तक एक ही मुद्रा में बैठें या खड़े न रहें। 
    • ऊंची हील वाली  चप्पल या जूते न पहनें। 
    • सोते समय पैरों को सिर के लेवल से थोड़ा उठाकर रखें। 
    • मोटापा कम करने पर विशेष ध्यान दें। 
    • नमक एवं शक्कर को कम मात्रा में सेवन करें। 
    • तैलीय और वसायुक्त भोजन से परहेज करें। 
    • आइसक्रीम का सेवन न करें। 
    • शराब के सेवन से बचें। 
    • रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पिएं। 
    • पौष्टिक आहार  युक्त भोजन का सेवन करें। 
    • अपने भोजन में हरे पत्तेदार सब्जियां एवं फलों को शामिल करें। 

    वैरिकोज नसों के घरेलू उपाय-

    सेब का सिरका-

    सेब का सिरका वैरिकोज नसों के लिए एक प्राकृतिक उपचारक है। यह शरीर की डिटॉक्सफाई करता है जिससे रक्त का संचार ठीक तरीके से होता है। जिससे वैरिकोज नसों में भारीपन एवं सूजन काफी हद तक कम हो जाता है। इसके लिए सेब के सिरके को प्रभावित अंगों पर लगाकर हल्के हाथों से मालिश करें। इस उपाय को नियमित रूप से रात को बिस्तर पर जाने से पहले और अगली सुबह निरंतर करना चाहिए। ऐसा कुछ दिनों तक करने से वैरिकोज नसों  का आकार कम होने लगता है। इसके अलावा एक गिलास पानी में दो चम्मच सेब के सिरके को मिलाकर पीने से बेहतर परिणाम मिलते हैं ।

    लाल शिमला मिर्च-

    लाल शिमला मिर्च को वैरिकोज नसों के इलाज के लिए बहुत कारगर माना जाता है। क्योंकि शिमला मिर्च विटामिन-सी एवं बायोफ्लेवोनॉयड्स से भरपूर होता है। जिससे यह रक्त परिसंचरण को बढ़ाने और संतुलित सूजी हुई नसों के दर्द को कम करने में सहायक होती है। इसके लिए एक चम्मच लाल शिमला मिर्च के चूर्ण को गुनगुने पानी में मिलाकर सेवन करने से लाभ मिलता है।

    लहसुन-

    लहसुन वैरिकोज नसों की वजह से होने वाले सूजन एवं दर्द को कम करने के लिए एक उत्कृष्ट जड़ी-बूटी है। यह रक्त वाहिकाओं में विषैले पदार्थों को निकालने एवं रक्त परिसंचरण में सुधार करने में सहायता करती है। इसके लिए 5 से 6 लहसुन की कलियां और संतरे का जूस लेकर एक साफ जार में रखें। अब इसमें जैतून के तेल को मिलकर इस मिश्रण को 12 घंटे के लिए रख दें। अब इस मिश्रण से कुछ बूंदों को हाथों में लेकर हल्के हाथों से सूजन वाली नसों पर मालिश करें। तत्पश्चात सूती कपड़ा लपेट कर रातभर के लिए छोड़ दें। इस उपाय को कुछ दिनों तक करने से लाभ मिलता है। साथ ही बेहतर परिणाम पाने के लिए अपने आहार में ताजे लहसुन की कलियों को भी शामिल करें।

    जैतून का तेल-

    वैरिकोज नसों के इलाज के लिए रक्त परिसंचरण को बढ़ाना बेहद जरुरी होता है। ऐसे में जैतून तेल की मालिश करने से रक्त परिसंचरण बढ़ने में मदद मिलती है। साथ ही सूजन और दर्द भी कम होता है। इसके लिए जैतून तेल को किसी कैरियर ऑयल में मिलाकर उसे गर्म कर लें। अब इस गर्म तेल से नसों की हल्के हाथों से मसाज करें। ऐसा 2 से 3 महीनों तक करने से इस समस्या से आराम मिलता है।

    अखरोट- 

    अखरोट रक्त-वाहिकाओं को मजबूत बनाने के लिए प्रभावी औषधि है। इसलिए यह वैरिकोज नसों के लक्षणों को आसानी से कम करती है। दरअसल, इसमें एस्ट्रिंजेंट, गल्लिक एसिड और कई तरह के मिनरल्स पाए जाते हैं। जो सूजन एवं दर्द को कम करने में मदद करते हैं। अखरोट के तेल में कॉटन या कपड़े को डुबोकर प्रभावित जगहों पर लगाने से लाभ मिलता है।   

    अजमोद-

    अजमोद विटामिन-सी से भरपूर एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है। जो कोशिकाओं की मरम्मत एवं कोलेजन के उत्पादन को बढ़ावा देता है। इसके अतिरिक्त अजमोद में मौजूद रुटीन नामक तत्व, कोशिकाओं को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, यह वैरिकोज नसों के लक्षणों को कम करने में मददगार होता है। इसके लिए एक कप पानी में एक मुट्ठी ताजा अजमोद लेकर उसे कुछ देर तक उबालें। कुछ समय ठंडा होने के बाद इस मिश्रण में गुलाब और गेंदे की तेल की कुछ बूंदों को मिलाकर कुछ देर के लिए फ्रिज में रख दें। अब इस मिश्रण को कॉटन पर लगाकर प्रभावित अंगों पर लगाएं। ऐसा कुछ दिनों तक करने पर इस समस्या से आराम मिलता है।

    कब जाएं डॉक्टर के पास?

    • वैरिकोज नसों में असहनीय दर्द होने पर। 
    • घरेलू उपचार से ठीक न होने पर। 
    • पैरों के दर्द या सूजन,लालिमा एवं बुखार में अचानक वृद्धि होने पर। 
    • पैरों के घाव ठीक न होने पर।
     
    Read More
    What is Trauma & how does it differ from Post-Traumatic Stress Disorder (PTSD)? Know its Causes and Symptoms

    Posted 05 September, 2022

    What is Trauma & how does it differ from Post-Traumatic Stress Disorder (PTSD)? Know its Causes and Symptoms

    A time based emotional response to a particular event is known as trauma that causes deep damage or impact on the mind. This profound trauma or damage can be in any form, such as physical, psychological, social, mental and emotional. There are different reasons for each of these. Trauma can occur once, twice, or on multiple occasions, and more than one type of trauma can also be experienced at a given point of time.

    The inability to recover from a traumatic experience can lead to long term emotional damage, leading to susceptibility to Post Traumatic Stress Disorder (PTSD). This may sometimes lead to deaths, and disabilities. These can be prevented if people are given proper information and necessary training about ways to deal with it.

    Types of Trauma

    • Physical or Acute Trauma-This results from any damage to the body due to a stressful or dangerous event. This damage can happen due to many reasons. Out of all these reasons, road accidents are the major cause of trauma all over the world.
    • Emotional or Chronic Trauma-Emotional and psychological trauma can be caused by repeated and persistent physical and mental injury, such as child abuse, bullying, etc. but sometimes people can suffer emotional and psychological trauma without any physical damage. Women are more prone to emotional trauma than men.
    • Complex trauma-Complex trauma is described as exposure to multiple traumatic incidents, often severe and prevalent. This is generally associated with kids, which tends to disrupt their mental growth. Examples include sexual abuse, incest, ongoing physical or emotional abuse, mental torture or being held captive, abandonment, etc.

    Causes of Trauma

    • Divorce or traumatic grief.
    • Death of a Family Member, Lover, Friend, Teacher, or Pet.
    • Physical pain or injury (such as a serious car accident).
    • Serious illness/ Medical trauma.
    • Natural disaster.
    • War or military trauma.
    • Natural disaster.
    • Community violence (interracial, police, gang-related, etc.).
    • School violence or bullying.
    • Moving to a new place or forced displacement.
    • Being a witness to any of the above traumatic events.
    • Drug overdose.
    • Abandonment by parents or feeling neglected.
    • Domestic violence or Sexual abuse.

    Symptoms of Trauma

    People respond to traumatic events in different ways. There are often no obvious signs, but people can have severe emotional reactions. Shock and denial are a common reaction soon after the incident. Shock and denial are typically used to protect oneself from the emotional impact of the event.

    Symptoms of Trauma can range from mild to severe. These depend on the person's characteristics, mental condition, exposure to past traumatic events, the type of event, and the background of how the person handles the emotion.

    Emotional Symptoms of Trauma

    • Numbness, denial, and disbelief.
    • Confusion or trouble in concentrating.
    • Anger, irritability, mood swings.
    • Worry and fear.
    • Feelings of guilt, shame, and self-blame.
    • Staying aloof.
    • Be sad and disappointed.
    • Feeling cut off or numb from others.

    Physical Symptoms of Trauma

    • Insomnia or nightmares.
    • Fatigue.
    • Hamstring strain.
    • Increased heart rate.
    • Feeling aches and pains.
    • Feeling of passion and ferocity.
    • To be easily startled or trembled.
    • Headache.
    • Poor digestive system.
    • Sweating profusely.

    An important thing to note is that trauma doesn't just happen in adults. Children can also suffer from this.

    What is Trauma in children?

    According to research, children are at higher risk of trauma as their brain continues to develop. Children experience high states of stress during frightening or terrifying events, and then their body releases hormones related to stress and fear. This type of trauma in children can disrupt normal brain development. The resulting long-lasting trauma can affect a child's emotional development, mental and physical health. Because of this, the feeling of fear and helplessness can persist until adulthood and there is a risk of getting trauma in the future too.

    Symptoms of Trauma in 0-3 year olds

    • Not eating properly.
    • Frequent sleep disturbances.
    • Irritable behavior.
    • Child being scared.
    • To be surprised at something.
    • Delayed speaking.
    • Aggressive behavior.
    • Talking about and remembering the traumatic event.

    Symptoms of Trauma in 3-6 year old child

    • Procrastination and worrisome thoughts.
    • Feeling scared all the time.
    • Feeling hopeless and helpless.
    • Headache.
    • Having a hard time understanding what's bothering them.
    • Daydreaming and always being irritable.
    • Aggressive behavior.
    • Be sad or worried.
    • Not making friends and trying to be alone.

    How does Trauma differ from Post-Traumatic Stress Disorder?

    Although, often used interchangeably, trauma and Post Traumatic Stress Disorder (PTSD) differ from each other in their degree of time. Trauma is a specific time based phenomena which when worsens takes the form of a disorder known as PTSD.

    How to Recover from situation of Trauma

    • Follow a healthy routine.
    • Talk to family members, friends about your troubled situation.
    • Maintain positive attitude towards things & situations.
    • Watch comedy movies and shows. Spending time with family, reading, listening and sharing jokes proves to be of great help.
    • Practice deep breathing, yoga and meditation for at least 30 minutes every day.
    • Try to get 7 to 9 hours of sleep.
    • Avoid alcohol consumption and smoking. These increase the symptoms of trauma such as depression, anxiety, and feelings of loneliness.

    Therapeutic Treatments for Trauma

  • Cognitive therapy-This talk therapy helps you identify your way of thinking. In this, you are made to realize that your quality of life is being affected due to negative thinking.
  • Exposure therapy or Somatic experiencing-This therapy helps you to safely face the situation that scares you, so that you can learn how to deal with it effectively. One dimension of exposure therapy is a virtual reality program, in which you are introduced to the setting in which you experience trauma.
  • Sensorimotor psychotherapy-It combines psychotherapy with certain body-based techniques that could help the patient to turn their trauma into a source of strength.
  • Acupoint stimulation-Acupoint stimulation involves a trained practitioner apply pressure to specific points on the body, which induces relaxation & provide a calming effect, releasing the stress out of the body.
  • Touch therapies-Certain touch therapies such as Reiki, healing touch, and therapeutic touch therapy helps a person gather positive vibes from a practitioner performing these therapies.
  • Group therapy-It consists of creating a group of people who are going through similar experiences so that they can share their experiences & be vocal about their miseries. This helps to overcome traumatic situations.
  • When to visit a Psychiatrist?

    If all the efforts to cope up with the traumatic events fail and the condition doesn’t get better, then they should seek help from a mental healthcare professional. It is particularly important to seek help if the symptoms of trauma interfere with routine life or impacting relationships.

    Even those with low to mild symptoms can talk to someone about how they feel to have a better hold on themselves and feel better.

    Read More
    Vertigo: All You Need To Know

    Posted 01 August, 2022

    Vertigo: All You Need To Know

    Vertigo is a medical condition characterized by a spinning sensation, in which a person feels that they or the objects around them are moving or rotating. The spinning sensation may be barely noticeable or maybe so intense making normal life very difficult. Attacks of vertigo can occur suddenly and last for several hours or very long or even days. It can happen at any age, but is common in older people about 65 years and above.

    Types of Vertigo

    There are different types of vertigo

    • Peripheral vertigoIt usually occurs as a result of a disturbance in the organs of the inner ear.
    • Central vertigoCentral vertigo is connected to the problem in the central nervous system. It is usually associated with a disturbance in either the brainstem or the cerebellum.

    Causes of Vertigo

    Different diseases and conditions can cause vertigo. They include

    • LabyrinthitisLabyrinthitis is inflammation of the inner ear.
    • Meniere’s diseaseA buildup of fluid in the inner ear can cause vertigo.
    • Benign paroxysmal positional vertigoCertain head movement triggers vertigo. It usually affects older adults.
    • Brainstem diseaseStroke.

    Other causes include

    • Head injuries or trauma.
    • Ear surgery.
    • Migraine headache..
    • Prolonged bed rest.
    • Certain medications.
    • Syphilis.

    Signs and Symptoms of Vertigo

    Some common signs and symptoms of vertigo include

    • Vomiting.
    • Nausea.
    • Dizziness.
    • A loss of balance that makes standing or walking difficult.
    • Lightheadedness.
    • Headache.
    • A feeling of fullness in the ear.

    Risk factors of Vertigo

    Certain risk factors can increase your chances of vertigo. These include

    • Being over the age of 50.
    • Being a woman.
    • Experiencing a head injury.
    • Taking certain medications, especially antidepressants or antipsychotics.
    • Experiencing any medical condition that affects balance or your ears.
    • Having a previous episode of vertigo.
    • Family history.
    • Experiencing an inner ear infection.
    • Having high levels of stress.
    • Alcohol consumption.

    Diagnosis of Vertigo

    During an evaluation, the doctor may obtain a full history of symptoms and events including medications that have been taken, migraine headache and recent head injury or ear infection.

    A physical examination is then performed, during a physical examination, the doctor may likely look for

    Signs and symptoms of dizziness that are triggered by eye or head movements, Inability to control eye movements and involuntary movement of the eye from side to side.

    If the cause is difficult to determine, additional testing may be performed

    • An MRI scan to visualize your head and body. Doctors can use the images to identify and diagnose a variety of conditions.
    • Videonystagmography (VNG) uses a camera to measure involuntary eye movement while the head is placed in a different position. This can help determine if the dizziness is due to an inner ear disorder. The patient wears glasses containing a video camera.
    • Electronystagmography (ENG) is similar to VNG. This procedure uses electrodes to detect abnormal eye movements. The patient wears a headset with electrodes placed around the eyes.

    Treatment for Vertigo

    Some types of vertigo resolve without treatment

    • Prescription drugs such as lorazepam, meclizine can be used to relieve the dizziness caused by Meniere’s disease.
    • Symptoms of nausea can be relieved by using drugs such as antihistamines.
    • Steroids, antiviral drugs or antibiotics may be prescribed for a patient with an acute disorder affecting the middle ear.
    • Sometimes, benign paroxysmal positional vertigo (BPPV) can be treated with an inner surgery, a bone plug is inserted into the inner ear to block the area triggering vertigo.
    • Avoiding caffeine, alcohol and tobacco smoking can also help.
    • The volume of the fluid retained in the body that can build up in the inner ear can also be reduced by restricting salt.

    Home Remedies for Vertigo

    • Epley maneuverThe Epley maneuver is used in combination with medications to treat benign paroxysmal posterior vertigo (BPPV) and also to prevent its recurrence.

    How to do

    • While sitting on bed, place a pillow behind you.
    • Turn your head 45° to the side of the affected ear.
    • Lie down with your head in the same position and rest your shoulders on the pillow. Your head should be bent over the bed for 30 seconds.
    • Tilt your head 90° to the opposite ear (without lifting your head).
    • Hold for 30 seconds and then rotate your entire body 90° to the side of the ear that is now down.
    • After 30 seconds, sit up slowly and keep your head in a neutral position.
    • Repeat the process three to four times a day.

    Half somersault maneuver

    The half somersault maneuver is an alternative to the Epley maneuver and is relatively more effective for some people. However, more than half a somersault is required to relieve benign paroxysmal posterior vertigo (BPPV).

    How to do

    • Kneel on the floor, then sit on your calves until you place your palms on the floor directly in front of your bent knees.
    • Pull in your back and tilt your neck to look at the ceiling. This is the starting position.
    • Bring your body to the starting position of a somersault, touching the top of your head to the floor just in front of the knees.
    • While remaining in this somersault position, turn your head to the side most affected by the dizziness so that you are facing the corresponding elbow.
    • Lift your turned head and the rest of your upper body and sit back on your calves.
    • Stretch your neck to raise your head above body level.
    • Return to your starting position.

    Brandt-Daroff exercise

    The Brandt-Daroff exercise is very effective for vertigo caused by labyrinthitis or BPPV, especially for those who are sensitive to the redistribution maneuver or for whom other maneuvers have no positive effect.

    How to do

    • Sit up straight, this will be your starting position.
    • Lie on your side with your nose facing up at an angle of about 45°.
    • Remain in this position for about 30 seconds or until the dizziness subsides before returning to the starting position.
    • Repeat the same exercise on the other side.
    • Ginkgo bilobaGinkgo biloba extract can also be used to relieve symptoms of dizziness or vertigo. Ginkgo biloba is widely used in Eastern medicine for its antioxidant properties. It can also help increase blood flow to the brain, thereby improving cognitive function. You can prepare a therapeutic tea with ginkgo biloba extract or ask your doctor to start a supplement.
    • AlmondsAlmonds are full of vitamins B and E, which obviously make them very effective in treating vertigo. Soak four almonds overnight in water. In the morning, make a paste of soaked almonds and add it to a glass of warm milk and consume it.
    • Ginger teaGinger is known for its healing properties, which can help relieve symptoms of vertigo. This can be done by increasing blood circulation in your body and relieving nausea. Boil 2 cups of water in a pan, add a few pieces of raw ginger, turn off the heat and cover the pot. Soak the ginger in hot water for about 10 minutes, then strain the tea into a cup. Add a few drops of honey or lemon to enhance the taste.
    • AcupressureAcupressure is a safe and inexpensive technique for treating vertigo caused by Meniere's disease. It involves pressing specific points of the body with fingers or a spoon to stimulate blood flow and relieve various ailments.

    When to see a doctor?

    See your doctor, if you experience severe dizziness or vertigo along with severe headache or chest pain.

    Read More
    Aneurysm: Causes, Symptoms, Diagnosis and Treatment

    Posted 14 June, 2022

    Aneurysm: Causes, Symptoms, Diagnosis and Treatment

    Aneurysm is a fairly common medical condition that occurs when an artery wall weakens and leads to a bulge. The bulge can cause damage to the artery and lead to internal bleeding, which can prove to be fatal in certain circumstances. It can be caused by hereditary or acquired diseases.

    Aneurysm can develop anywhere in the body, but are most commonly found in the brain, legs, aorta (vessel of heart) and spleen. As the aneurysm grows in size, the risk of ruptureincreaseswhich causes uncontrolled bleeding.

    Types of Aneurysm

    Aneurysms are classified by their location in the body or by their shape. Some of the most common aneurysm sites seen in the body are-

    Aortic aneurysm-These aneurysms are found in the aorta, the main blood vessel that carries blood from the heart to other major organs in the body. The diameter of the aorta is 2-3 cm and the aortic aneurysm can bulge up to 5 cm or more. Within the aorta, aneurysms are usually seen in several areas, including-

    • Abdominal aortic aneurysm (AAA)-This aneurysm occurs in the area of ​​the aorta that runs through the abdomen or stomach region. This is the most common aortic aneurysm.

    • Thoracic Aortic Aneurysm (TAA)-This aneurysm occurs in the area of ​​the aorta that runs through the chest.

    • Cerebral or brain aneurysm-This aneurysm occurs in the blood vessels that supply blood to the brain.

    Peripheral aneurysm- This occurs in blood vessels that supply blood to other parts of the body such as legs, groin or neck. Types of peripheral aneurysm include-

    • Carotid artery aneurysm-This aneurysm occurs in an artery placed in the neck called the carotid artery.

    • Femoral artery aneurysm-This occurs in an artery of groin or thigh region called the femoral artery.

    • Mesenteric artery aneurysm-This aneurysm occurs in the artery that carries blood to the intestines.

    • Popliteal aneurysm-This is the most common peripheral aneurysm that occurs behind the knee.

    • Splenic artery aneurysm-This aneurysm occurs in an artery called the splenic artery, which supplies blood to the spleen.

    • Visceral aneurysm-This occurs in the arteries that supply blood to the bowel or kidneys.

    Aneurysms are also classified according to the shape of the bulge-

    Fusiform aneurysm-The bulge in this type of aneurysm forms on all sides of the blood vessel.

    Sacral aneurysm-The bulge in this type of aneurysm only forms on one side of the blood vessel.

    Berry aneurysm-The bulge in this type of aneurysm looks like a berry on a narrow stalk. This is the most common type of cerebral aneurysm.

    Pseudoaneurysm or false aneurysm-Sometimes a rupture in the lining of the blood vessel wall causes internal bleeding. The leakage is retained by the surrounding soft tissue or the perivascular tissue of the blood vessel, creating a pseudo aneurysm.

    Causes of Aneurysm

    The exact cause of aneurysm is still unknown but certain factors can contribute to them which includes-

    • Tissue damage to the arteries can lead to aneurysm. The damage may be caused by blockages due to fatty deposits. The blockage can get the heart pumping faster, increasing the pressure on the arteries leading to damage.

    • Conditions such as high blood pressure and atherosclerotic disease can lead to aneurysm.

    • Several systemic conditions can cause vasculitis or inflammation of the blood vessels, which leads to damaging and weakening of the walls.

    Risk factors of Aneurysm

    Common risk factors associated with aneurysm are-

    • Being above the age of 60.

    • Being obese.

    • Smoking.

    • Having a diet high in fat and cholesterol.

    • Pregnancy increases the chances of aneurysm developing in the spleen.

    • Family history of heart disease and heart attack.

    Symptoms of Aneurysm

    In most cases, the aneurysm can be clinically silent, ie. It does not present any symptoms unless it ruptures. However, if present, symptoms usually depend on the location of the aneurysm.

    Abdominal aortic aneurysm (AAA) can be difficult to detect because it is often asymptomatic and slow-growing. In some cases, the aneurysm may never rupture. AAA augmentation can be represented by-

    • Back pain.

    • Deep and constant pain in the abdomen or side of the abdomen.

    • Throbbing near the navel.

    Thoracic aortic aneurysm (TAA) can cause symptoms like-

    • Breathing difficulties.

    • Difficulty swallowing.

    • Pain in the jaw, chest and upper back.

    • Hoarseness.

    • Persistent cough.

    • Shortness of breath.

    In case of an unruptured cerebral aneurysm, the following symptoms may occur-

    • Blurred or double vision.

    • Pain above and behind one eye and dilated pupil.

    • Numbness on one side of the face.

    A ruptured aneurysm can occur with-

    • Blurred or double vision.

    • Confusion.

    • Increased heart rate.

    • Bleeding.

    • Drooping eyelids.

    • Loss of consciousness.

    • Nausea and vomiting.

    • Sensitivity to light.

    • Seizure.

    • Stiff neck.

    • Severe headache.

    Diagnosis for Aneurysm

    Diagnosing an aneurysm depends on its location. Based on where it is, your doctor might ask you to consult a vascular or cardiothoracic surgeon.

    Ultrasound and CT scans are typically used to help diagnose irregularities in the blood vessels.

    The CT scans take X-rays of different parts of the body and look for any blockages, disruptions or bulges in the circulatory system.

    Treatment for Aneurysm

    Treatment for aneurysm depends on its location-

    For aneurysm in the chest or abdomen, an endovascular stent graft procedure may be required. Stent grafts are usually over open surgeries as they are less invasive and can be used to reinforce blood vessels and make them stronger.

    Lowering blood pressure and blood cholesterol levels is important as well, and you might be recommended medication for that. Lowering blood pressure is important in keeping the aneurysm from rupture.

    When to see a doctor?

    You need to see a doctor immediately if you suddenly have a severe headache, loss of consciousness, or have other symptoms of a ruptured aneurysm.

    Read More
    क्या होता है अल्जाइमर रोग? जानें, इसके लक्षण, कारण और बचाव

    Posted 24 May, 2022

    क्या होता है अल्जाइमर रोग? जानें, इसके लक्षण, कारण और बचाव

    अल्जाइमर रोग न्यूरोलॉजिकल (Neurological) अर्थात मस्तिष्क संबंधी विकार है। जो मस्तिष्क की तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति के मस्तिष्क की कोशिकाएं नष्ट होने लगती हैं। जिससे व्यक्ति की याददाश्त कमजोर हो जाती है। साथ ही व्यक्ति का दिमाग ठीक तरह से कार्य नहीं कर पाता। अल्जाइमर यानी भूलने की बीमारी एक तरह का डिमेंशिया (मनोभ्रंश) का प्रकार है। जो मुख्य रूप से मस्तिष्क का दर्द कम करने वाली औषधि आदि का अधिक इस्तेमाल करने से, नींद की दवाओं का ज्यादा उपयोग या मनोवैज्ञानिक विकार आदि से होते हैं। शुरुआती दौर में अल्जाइमर के लक्षण कम नजर आते हैं। लेकिन समय रहते इसका इलाज न कराना या नजरअंदाज कर देने पर यह समस्या गंभीर रूप ले लेती है।

     

    आमतौर पर अल्जाइमर रोग का खतरा वृद्ध आयु वाले लोगों में अधिक रहता है। यह रोग धीरे-धीरे याददाश्त जाना, संज्ञानात्मक क्षमता में कमी  और भूलने की समस्या पैदा करता है। अनुमान के अनुसार भारत में लगभग 40 लाख लोग डिमेंशिया (मनोभ्रंश) से पीड़ित हैं। इन 40 लाख लोगों में से लगभग 16 लाख लोग अल्जाइमर के शिकार हैं। अल्जाइमर जैसे तंत्रिका संबंधी विकार भी भूलने की बीमारी को जन्म देते हैं। भूलने की बीमारी मस्तिष्क के उन क्षेत्रों को नुकसान पहुंचने से होती है, जो याददाश्त के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। भूलने की बीमारी स्थायी हो सकती है। इसका कोई विशेष उपचार नहीं है। लेकिन याददाश्त बढ़ाने और मनोवैज्ञानिक तकनीकों से भूलने की बीमारी से पीड़ित लोगों की सहायता की जा सकती है।

     

    अल्जाइमर रोग के चरण

    आमतौर पर, अल्जाइमर रोग को 7 चरणों में बांटा गया हैं।  आइए चर्चा करते हैं इन्हीं चरणों के बारे में:

     

    चरण 1. नो कॉग्निटिव इंपेयरमेंट (No Cognitive Impairment)-

    यह अल्जाइमर रोग का प्राथमिक चरण हैं। इस दौरान व्यक्ति के स्मृति से संबंधित किसी तरह की समस्या नहीं होती। यहां तक डॉक्टर भी इस स्टेज का पता लगाने में असमर्थ है। क्योंकि इस दौरान व्यक्ति में कोई लक्षण देखने को नहीं मिलते हैं।

     

    चरण 2. मामूली गिरावट (Very Mild Decline)-

    अल्जाइमर रोग के इस चरण में लोगों की याददाश्त में थोड़ी गिरावट आने लगती है। इस चरण में व्यक्ति अपने दोस्तों के नाम एवं जरूरत की चीजों जैसे चाबियां, चश्मा एवं अन्य रोजमर्रा की चीजों को रखने की जगह आदि भूलनें लगते हैं।

     

    चरण 3. माइल्ड कॉग्निटिव डिकलाइन (Mild Cognitive Decline)-

    अल्जाइमर के तीसरे स्टेज पर रोगी के मानसिक (संज्ञानात्मक) व्यवहार में बदलाव देखने को मिलते हैं। साथ ही व्यक्ति की याददाश्त और एकाग्रता में कमी होने लगती है। इस स्टेज को चिकित्सयी परीक्षण से पता लगाया जा सकता हैं।

     

    चरण 4. माडरेट कॉग्निटिव डिकलाइन (Moderate Cognitive Decline)-

    इस चरण तक पहुंचने पर व्यक्ति हाल ही में हुई घटनाओं को काफी हद तक भूल जाता है। इसके अलावा व्यक्ति खुद से जुड़ी हुई बीती बातों को भी भूलने लगता है।

     

    चरण 5. मॉडेरटली सीवियर कॉग्निटिव डिक्लाइन (Moderately Severe Cognitive Decline)-

    अल्जाइमर रोग के लक्षण इस चरण में काफी नजर आने लगते हैं। इस दौरान व्यक्ति को मोबाइल नंबर, घर का पता, तारीख, महीना और गिनती भूलना आदि की समस्याएं होने लगती हैं। पर इस स्टेज में व्यक्ति को अपना एवं अपने परिवार वालों का नाम याद रहता है। साथ ही व्यक्ति को भोजन करने और शौचालय इस्तेमाल करने में कोई समस्या नहीं होती।

     

    चरण 6. गंभीर गिरावट (Severe cognitive decline)-

    इस चरण में स्मृति से संबंधित समस्याएं गंभीर एवं जटिल हो जाती हैं। इस दौरान व्यक्ति के दैनिक गतिविधियां भी प्रभावित होने लगती हैं। कपड़े पहनने से लेकर बाथरूम इस्तेमाल करने में समस्या, यहां तक कि व्यक्ति अपने घरवालों का नाम तक भूल जाता है। साथ ही उसे अनिद्रा की परेशानी का भी सामना करना पड़ता है।

     

    चरण 7. लेट स्टेज (Very severe cognitive decline)-

    यह अल्जाइमर रोग का अंतिम चरण होता है। जो सबसे खतरनाक एवं जटिल समस्या है। इस अवस्था में व्यक्ति प्रतिक्रिया करने, बोलने और शरीर को नियंत्रित करने की क्षमता खो देता है। यहां तक व्यक्ति को भोजन करने और शौचालय जाने में भी सहायता की जरूरत पड़ती है।

     

    अल्जाइमर रोग के लक्षण-

    • याददाश्त कमजोर होना।
    • परिवार के सदस्यों या रिश्तेदारों को पहचान न पाना।
    • किसी भी प्रकार के कार्य करने में परेशानी होना।
    • बोलने व समझने में समस्या उत्पन्न होना।
    • समय और स्थान को लेकर भ्रम होना।
    • निर्णय लेने की क्षमता खत्म हो जाना।
    • सोचने की क्षमता में कमी या परेशानी होना।
    • अपने चीजों को खो देना।
    • बर्ताव में बदलाव होना।
    • व्यक्ति का मानसिक संतुलन बिगड़ जाना।
    • आत्मबल में कमी होना।
    • चिड़चिड़ापन होना।
    • समय के साथ चिंतित होना।

    अल्जाइमर रोग के कारण-

    संक्रमण का होना-

    अल्जाइमर रोग का मुख्य कारण दिमाग में संक्रमण का होना होता है। जिसकी वजह से मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम की तंत्रिका कोशिकाएं पूरी तरह से काम नहीं कर पाती या नष्ट हो जाती हैं।

     

    नींद में कमी-

    नींद की मात्रा और गुणवत्ता दोनों ही स्मरण शक्ति के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। बहुत कम नींद लेने या रात में अक्सर जागने से अल्जाइमर की समस्या पैदा हो सकती है।

     

    अवसाद और तनाव-

    अल्जाइमर का एक लक्षण अवसाद एवं तनाव भी हैं। अवसाद होने से ध्यान बनाए रखने में परेशानी होती है। जो मस्तिष्क को प्रभावित करती है। तनाव और चिंता एकाग्रता में बाधक बनकर सोचने की क्षमता पर बुरा असर डालते हैं। इसलिए इसका इलाज लंबे समय तक न किया जाए तो तनाव की समस्या काफी हद तक बढ़ सकती है। 

     

    अवसादरोधी दवाइयों के अधिक सेवन से-

    कई अवसादरोधी दवाइयां जैसे एंटीडिप्रेससेंट, एंटीहिसटामाइंस, स्ट्रेस निवारक दवाइयां,  मांसपेशियों को ढीला करने वाली दवाइयां, ट्रांक्विलाइज़ेर्स, नींद की गोलियां और सर्जरी के बाद दी जाने वाली दर्द की दवाएं याददाश्त को कमजोर कर सकती हैं।

     

    धूम्रपान और शराब पीने से-

    अधिक शराब पीने से भूलने की बीमारी हो सकती है। इसके अलावा धूम्रपान भी मस्तिष्क में ऑक्सीजन की मात्रा को कम कर तंत्रिका तंत्र को हानि पहुंचाता है।

     

    पोषक तत्वों की कमी-

    अच्छे और उच्च क्वालिटी वाले प्रोटीन और वसा मस्तिष्क के कार्यों को ठीक रखने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। विटामिन बी 1, बी 12 एवं विटामिन डी की कमी विशेष रूप से मस्तिष्क के नर्व सेल्स को प्रभावित करती हैं।

     

    सिर में चोट-

    कई बार सिर की गंभीर चोट मस्तिष्क को घायल कर देती है। जिससे अल्जाइमर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

     

    सिनैप्स लॉस-

    सिनैप्स लॉस की वजह से भी अल्जाइमर रोग की समस्या हो सकती है। क्योंकि यह एक न्यूरॉनल जंक्शन होता है, जिनके माध्यम से न्यूरॉन्स एक-दूसरे से संवाद करते हैं।

     

    अल्जाइमर से बचाव एवं घरेलू उपाय-

    • अल्जाइमर से बचने के लिए शारीरिक क्रियाएं जैसे जॉगिंग, डांसिंग, एरोबिक्स, बास्केटबॉल, स्विमिंग और साइकिलिंग करना बेहद फायदेमंद होता है। क्योंकि इससे शरीर में रक्त संचार सुचारू रूप से होता है। जिससे दिमाग को पर्याप्त ऑक्सीजन मिलती है। इससे शरीर में ऊर्जा बनी रहती है और अल्जाइमर का खतरा कम होता है।
    • रोजाना डाइट में विटामिन-ई और ओमेगा-3 फैटी एसिड युक्त भोजन जैसी हरी सब्जियां, फल, फिश, नट्स, ऑलिव ऑयल और विनेगर आदि शामिल करें। इसके अतिरिक्त ग्रीन टी, कॉफी, डार्क चॉकलेट आदि भी दिमाग की खुराक है। इनके सेवन से मस्तिष्क की कार्यक्षमता में सुधार होता है।
    • जिन्कगो बाइलोबा की पत्तियां को महीन पीसकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट से आधा कप जूस निकालकर पी लें। ऐसा करने से दिमाग को पर्याप्त ऑक्सीजन, रक्त एवं पोषक तत्व मिलते हैं। साथ ही एकाग्रता बढ़ती है।
    • अल्जाइमर रोग से कुछ हद तक राहत पाने के लिए नारियल तेल का उपयोगी साबित होता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक, नारियल का तेल मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में सुधार करता है। इस तेल को भोजन बनाने हेतु उपयोग किया जाता है। इसके अलावा नारियल के तेल को हल्का गर्म करके सिर की मालिश करना भी अच्छा रहता है।
    • प्रतिदिन 7-8 घंटे की नींद जरूर लें। कम सोने से हिप्पोकैंपस (मस्तिष्क का एक हिस्सा) में नए न्यूरॉन्स का विकास प्रभावित होता है। इससे स्मृति, एकाग्रता एवं निर्णय लेने की क्षमता में कमी आती है। साथ ही शरीर में मौजूद प्रोटीन एमिलॉयड बीटा को असंतुलित करता है। जिससे अल्जाइमर हो सकता है। इसलिए भूलने की बीमारी से बचने के लिए पर्याप्त नींद लेना आवश्यक है।
    • प्राणायाम और ध्यान करें। इससे तनाव दूर होता है। एकाग्रता आती है, दिमाग को पर्याप्त ऑक्सीजन, रक्त एवं पोषक तत्व मिलते हैं।
    • अल्जाइमर से बचने के लिए दिमाग से संबंधित गतिविधियों में हिस्सा लें। क्योंकि ब्रेन गेम- सुडोकू या पहेली, क्विज, शतरंज, लॉजिकल या इलेक्ट्रॉनिक खेल भी दिमाग को तेज करने के हथियार हैं। इसलिए प्रतिदिन आधे से एक घंटे गेम्स खेलने से दिमाग की एक्सरसाइज होती है।
    • सामाजिक गतिविधियो में हिस्सा लें।
    • अवसाद, चिंता एवं तनाव से बचें।
    • धूम्रपान और अल्कोहल का सेवन न करें।
    • वजन को नियंत्रित रखें।
    • ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को मेंटेन रखें।
    Read More

    Common Health Problems

    View All
    10 Signs that You Have Diabetes

    Posted 27 September, 2022

    10 Signs that You Have Diabetes

    Diabetes is a disease that occurs when blood sugar is too high, and this can be caused by insulin resistance (type 2 diabetes) or an inability to produce insulin (type 1 diabetes).

    Type 1 diabetes is usually diagnosed in childhood. In contrast, type 2 diabetes can develop at any age but is more common in the older population.

    Early Signs of Diabetes

    • Excessive thirst and increased urinationExcessive thirst and increased urination are common signs of diabetes. When you are suffering from diabetes, excess glucose builds up in your blood. Your kidneys are forced to work hard to filter and absorb the excess glucose. When your kidneys can’t keep up, the excess glucose is excreted into your urine, dragged along by the tissues, which makes you dehydrated. This will usually leave you feeling thirsty, and as you drink more fluids to quench your thirst, you will urinate even more.
    • Develop urinary tract, yeast or vaginal infections frequently Sometimes, OB-GYNs help to diagnose diabetes based on an increased frequency of vaginal infections or yeast infections. Diabetes causes changes in the immune system that can increase the risk of developing other infections. Irregular menstrual cycles or miscarriages can also be signs of diabetes.
    • Experience occasional blurred vision Uncontrolled diabetes can lead to a condition called diabetic retinopathy, which affects your vision. High blood sugar draws fluid from your tissues, including the lenses of your eyes. This affects your ability to focus. Eye doctors sometimes play a role in helping to diagnose diabetes because of the visual symptoms that can arise. Left untreated, diabetes can cause new blood vessels to form in your retina (the black part of your eye) and damage established vessels, which leads to vision loss and blindness.
    • Slow-healing sores or frequent infections High blood sugar levels can lead to poor circulation of blood and interfere with your body's natural healing process. Due to this, people with diabetes may notice slow-healing sores, especially on the feet. In women with diabetes, bladder and vaginal infections may occur most often.
    • Experience unintentional weight lossMany people want to lose weight, but the weight loss that occurs when you have uncontrolled diabetes is not a healthy way to lose weight. It happens because your body can’t properly use insulin to help process glucose (a sugar found in your food), so your body starts to process fat and muscles for fuel.
    • Tingling hands and feetToo much glucose in your blood can affect how your nerves work. You may feel tingling and loss of feeling in your hands and feet, and a burning pain in your arms, hands, legs, and feet.
    • Red, swollen, tender gums Diabetes may weaken your ability to fight germs, which increases the risk of infections in your gums and in the bones that hold your teeth in place. Your gums may pull away from your teeth, which may become loose, or you may develop sores or pockets filled with pus in your gums, especially if you have gingivitis before diabetes develops.
    • Skin discolorationInsulin resistance can cause dark spots (acanthosis nigricans), which are usually found in the folds of the neck, armpits, or groin. This dark skin can appear lifted and have a velvety texture.
    • FatigueWhen your blood sugar level is high, your body works hard to get rid of the excess sugar. This process not only affects your body but also changes the way your body uses glucose for energy. Blood sugar that is too high, or hyperglycemia, has exhausting effects, among other symptoms. In addition, dehydration, which is associated with increased urination, is a common cause of fatigue in people with diabetes.
    • Increase in appetiteWhen glucose is pulled from the body's cells, the body's energy level drops. This in turn triggers a hunger response. So, even if a person eats right, the inability to regulate blood sugar does not match the cellular energy levels in the body. In simple terms, the body does not receive the required energy even after eating, and thus signals more energy and the person feels hungry.

    When to visit a doctor?

    You should call your doctor if you have high blood sugar throughout the day, if you find that your blood sugar is always high at the same time, or if you are experiencing the symptoms mentioned in this blog, a lot more than usual.

    Read More
    अटैक्सिया के कारण, लक्षण और उपचार

    Posted 26 September, 2022

    अटैक्सिया के कारण, लक्षण और उपचार

    अटैक्सिया या गतिभंग एक ऐसी बीमारी होती है। जिससे पीड़ित व्यक्ति किसी भी प्रकार का काम करने में असमर्थ रहता है। आमतौर पर यह स्थिति मांसपेशियों में नियंत्रण में कमी के कारण होता है। जिससे व्यक्ति को कई शारीरिक एवं मानसिक समस्याओं जैसेचलना, फिरना, स्पष्ट रूप से बोलना, भोजन को निगलना, वस्तुओं को उठाना और अन्य गतिविधियों को करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

    आमतौर पर गतिभंग मस्तिष्क के उस हिस्से को पंहुचे नुकसान का परिणाम होता है, जो मांसपेशियों के समन्वय (सेरिबैलम) को नियंत्रित करता है। यह मुख्य रूप से शराब के अधिक सेवन, कुछ दवाओं के अधिक सेवन, स्ट्रोक, ट्यूमर, सेरेब्रल पाल्सी, मस्तिष्क अध: पतन और मल्टीपल स्केलेरोसिस जैसी विभिन्न स्थितियों के परिणामस्वरूप होता है। इसके अलावा वंशानुगत दोषपूर्ण जीन भी इस स्थिति का कारण बन सकते हैं।

    अटैक्सिया (गतिभंग) के प्रकार

    शरीर के प्रभावित अंगों के आधार पर गतिभंग के मुख्य रूप से तीन प्रकार होते हैं। यह सेंसरी, सेरेबेलर और वेस्टिबुलर गतिभंग हैं-

    • सेंसरी अटैक्सिया इस प्रकार का गतिभंग सोमाटोसेंसरी तंत्रिका तंत्र को नुकसान के कारण होता है। यह आमतौर पर दृष्टि और श्रवण जैसे संवेदी प्रतिक्रिया को प्रभावित करता है। जिससे समन्वय बनाए रखना मुश्किल हो जाता है।
    • सेरेबेलर अटैक्सिया इस प्रकार के गतिभंग के लक्षण तब दिखाई देते हैं जब अनुमस्तिष्क (मस्तिष्क का वह भाग जो समन्वय को नियंत्रित करता है) में क्षति होती है।
    • वेस्टिबुलर अटैक्सिया-इस प्रकार का अटैक्सिया वेस्टिबुलर सिस्टम अर्थात कान के आतंरिक हिस्सों को प्रभावित करते हैं। जिससे चक्कर आना, मतली और सीधी रेखा में चलने में कठिनाई जैसे लक्षण नजर आते हैं।

    अटैक्सिया के लक्षण-

    अटैक्सिया के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं-

    • स्पष्ट रूप से बोलने में कठिनाई होना। खड़े होने और चलने में परेशानी होना।
    • संतुलन और समन्वय खो देना।
    • भोजन को चबाने और निगलने में कठिनाई महसूस करना।
    • हाथों या पैरों का असंतुलन (आपसी तालमेल न) होना।
    • आंखों की गतिविधिया स्वयं होना।
    • हृदय विकार।
    • फेफड़ों में संक्रमण होना।
    • झटके आना।

    अटैक्सिया रोग में, तंत्रिका तंत्र का एक विशेष भाग क्षतिग्रस्त या निष्क्रिय हो जाता है। सेरेबेलर अटैक्सिया नामक सबसे आम प्रकार अनुमस्तिष्क में पाया जाता है। सेंसरी गतिभंग, जो रीढ़ और परिधीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है। साथ ही वेस्टिबुलर गतिभंग, जो आंतरिक कान और श्रवण नलिकाओं को प्रभावित करता है।

    क्या अटैक्सिया को रोका जा सकता है?

    वैसे तो अटैक्सिया का कोई इलाज नहीं है लेकिन उचित उपचार से लक्षणों को कम या प्रबंधित किया जा सकता है। अटैक्सिया होने के पीछे कई संभावित कारण हैं और यह किसी भी उम्र में हो सकता है। हालांकि, एक स्वस्थ जीवन शैली और अपने दिनचर्या में बदलाव करके स्ट्रोक और कैंसर सहित गतिभंग से जुड़ी कुछ स्थितियों के जोखिम को भी कम किया जा सकता है।

    अटैक्सिया के कारण-

    मस्तिष्क के उन हिस्सों में तंत्रिका कोशिकाओं की क्षति या हानि, जो मांसपेशियों के समन्वय (सेरिबैलम) को नियंत्रित करती है। अटैक्सिया यानी गतिभंग का कारण बनते हैं। सामान्यतः सेरिबैलम ब्रेनस्टेम के पास मस्तिष्क के आधार पर स्थित ऊतक के दो मुड़े हुए टुकड़ों से बना होता है। मस्तिष्क का यह क्षेत्र संतुलन, आंखों की गति, निगलने और बोलने में मदद करता है। रीढ़ की हड्डी और सेरिबैलम को मांसपेशियों से जोड़ने वाली परिधीय नसों को नुकसान पहुंचाने वाले रोग भी अटैक्सिया का कारण बन सकते हैं। अटैक्सिया होने के प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं-

    • सिर की चोट सिर पर चोट लगने से मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुंचता है, जो किसी वाहन दुर्घटना में हो सकता है। यह अचानक और तीव्र सेरेबेलर अटैक्सिया का कारण बनता है।
    • स्ट्रोकमस्तिष्क में रुकावट या रक्तस्राव से गतिभंग हो सकता है। यह स्थिति तब होती है, जब मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में रक्त का प्रवाह बंद या गंभीर रूप से कम हो जाता है। जिससे मस्तिष्क के ऊतकों में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इसके परिणामस्वरूप मस्तिष्क की कोशिकाएं मर जाती हैं।
    • सेरेब्रल पाल्सी-आमतौर पर यह बीमारी बच्चों के मस्तिष्क के प्रारंभिक विकास के दौरान, जन्म से पहले, जन्म के दौरान या उसके तुरंत बाद के नुकसान के कारण होता है। जो बच्चों के शरीर की गतिविधियों को नियंत्रण करने वाली क्षमताओं को प्रभावित करता है।
    • ऑटोइम्यून रोग- मल्टीपल स्केलेरोसिस, सारकॉइडोसिस, सीलिएक रोग और अन्य ऑटोइम्यून रोग अटैक्सिया का कारण बनते हैं।
    • पैरानियोप्लास्टिक सिंड्रोमयह एक दुर्लभ, अपक्षयी बीमारी है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली की एक घातक ट्यूमर (नियोप्लाज्म) की प्रतिक्रिया के कारण होती है। आमतौर पर यह फेफड़े, डिम्बग्रंथि, स्तन या लिम्फ कैंसर है। इसलिए कैंसर के निदान के महीनों या वर्षों पहले गतिभंग हो सकता है।
    • मस्तिष्क में असामान्यताएंमस्तिष्क में एक संक्रमित अंग (फोड़ा) गतिभंग का कारण बनता है। मस्तिष्क में कैंसर (घातक) या गैर-कैंसरयुक्त वृद्धि सेरिबैलम को नुकसान पहुंचाती है।
    • ऑटोइम्यून रोग- मल्टीपल स्केलेरोसिस, सारकॉइडोसिस, सीलिएक रोग और अन्य ऑटोइम्यून रोग अटैक्सिया का कारण बनते हैं।
    • मस्तिष्क में असामान्यताएंमस्तिष्क में एक संक्रमित अंग (फोड़ा) गतिभंग का कारण बनता है। मस्तिष्क में कैंसर (घातक) या गैर-कैंसरयुक्त वृद्धि सेरिबैलम को नुकसान पहुंचाती है।
    • विषाक्त प्रतिक्रिया- गतिभंग कुछ दवाओं का एक संभावित दुष्प्रभाव है। जिसमें विशेष रूप से बार्बिटुरेट्स जैसे फेनोबार्बिटोल; बेंज़ोडायजेपाइन जैसे शामक एंटी एपिलेप्टिक जैसे फ़िनाइटोइन और कुछ प्रकार की कीमोथेरेपी शामिल हैं। साथ ही विटामिन बी-6 विषाक्तता भी अटैक्सिया का कारण बनती है। इसके अलावा यदि आप कुछ दवाएं ले रहे हैं, वह भी उम्र से संबंधित समस्याएं पैदा कर सकती हैं।
    • शराब और नशीली दवाओं की विषाक्तता-सीसा या पारा जैसी अधिक धातु विषाक्तता और विलायक विषाक्तता जैसे कि पेंट थिनर, भी गतिभंग का कारण बनता है।
    • विटामिन ई, विटामिन बी-12, या थायमिन की कमीइन विटामिनों का पर्याप्त मात्रा में सेवन करने में असमर्थता, शराब के दुरुपयोग या अन्य कारणों से इन पोषक तत्वों की कमी का होना भी अटैक्सिया का कारण बनता है।
    • थायराइडहाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म गतिभंग का कारण बन सकता है।
    • कोविड 19 संक्रमणयह संक्रमण गतिभंग का कारण बन सकता है। लेकिन आमतौर पर यह बहुत गंभीर मामलों में होता है।

    अटैक्सिया के उपचार-

    अटैक्सिया के उपचार रोग के कारण पर निर्भर करता है। यदि अटैक्सिया किसी अन्य बीमारी का लक्षण है, तो अंतर्निहित बीमारी का इलाज किया जाना चाहिए। अंतर्निहित बीमारी का इलाज करने से लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

    उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति को अटैक्सिया होने का मुख्य कारण स्ट्रोक है, तो इस स्थिति में उसका एकाधिक स्क्लेरोसिस के लिए सहायता दी जाती है। विटामिन की कमी के लिए विटामिन की खुराक लिया जाता है। यदि कोई सीलिएक रोग से पीड़ित है, तो उसे ग्लूटेन को खत्म करने के लिए ग्लूटेन मुक्त आहार लेने के लिए सलाह दिया जाता है। इसके अतिरिक्त कभी-कभी व्यक्ति को विशेषज्ञ से परामर्श लेने की आवश्यकता होती है जो लक्षणों का कारण बनने वाली स्थिति का इलाज करता है।

    • दवाएं- रिलुज़ोल, वरेनिक्लिन और एमान्टाडीन ऐसी दवाएं होती हैं, जो व्यक्ति की चाल और कंपकंपी में सुधार के लिए संतोषजनक परिणाम प्रदान करती हैं।
    • फिजिकल थेरेपी-फिजिकल थेरेपी चाल या गति नियंत्रण पर काम करती है। इसलिए अटैक्सिया से पीड़ित लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में बेहद लाभकारी होता है।

    कब जाएं डॉक्टर के पास?

    यदि बिना किसी स्पष्ट कारण के गतिभंग के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से तुरंत सलाह लें। वह इस बीमारी के स्पष्ट कारण का पता लगाने में मदद करते हैं। साथ ही उस आधार पर उपचार शुरू करते हैं। निम्नलिखित कुछ लक्षणों को नजरअंदाज़ न करके तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें-

    • समन्वय या संतुलन में कमी महसूस करना।
    • चलने में अधिक कठिनाई महसूस करना।
    • अस्पष्ट बात करना या निगलने में परेशानी होना।
    Read More
    Gangrene Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

    Posted 26 September, 2022

    Gangrene Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

    Gangrene is a serious condition that occurs when a lack of blood flow or a severe bacterial infection causes the death of body tissues. It can affect any part of the body, including muscles and internal organs, but it usually begins in the extremities, including the toes, fingers, and limbs.

    Gangrene is a serious condition that can lead to limb amputation and even death. Therefore, urgent medical attention is required to stop the spread of death of body tissue as rapidly as possible.

    Types of Gangrene

    • Dry gangreneDry gangrene is characterized by dry, wrinkled skin and may be recognised as brown to purplish-blue to black in color. It has a slower onset and is most often associated with arterial disease such as atherosclerosis or diabetes.
    • Wet gangreneWet gangrene almost always involves a bacterial infection of the affected tissue. It can develop from a severe burn or trauma where a body part is crushed or compressed. This can quickly cut off the blood supply to the affected area, leading to tissue death and an increased risk of infection.Wet gangrene infection can spread quickly throughout the body and can be fatal, making it a very serious and life-threatening condition if not treated promptly. This is common in diabetics who unknowingly injure their toes or feet.
    • Gas gangreneGas gangrene is rare but very dangerous and occurs when an infection develops deep in the body, such as in muscles or organs, usually as a result of trauma.It is caused by infection with the bacterium clostridium perfringens, which produces a toxin that releases gas. It develops with an injury or surgical wound that bleeds. Gas gangrene can also be life-threatening.
    • Internal gangreneInternal gangrene affects one or more organs, such as the intestines, gallbladder or appendix. This type occurs when blood flow to internal organs is blocked.For example, when the intestines protrude into the abdomen through areas of weakened and twisted muscles.
    • Fournier’s gangreneThis type of gangrene usually occurs due to an infection in the genitals or urinary tract. It is more common in men but can also affect women.

    Symptoms of Gangrene

    If the skin is affected or the gangrene is close to the skin, symptoms may include

    • Changes in skin color or skin discoloration.
    • Skin that feels cold or cold skin.
    • Fever.
    • Swelling and pain at the site of infection.
    • Foul smelling pus leaking from blisters.
    • Glossy skin.
    • A pop-up sound that comes from the affected area when pressed.

    If a bacterial infection originating in gangrenes tissue spreads throughout the body, in some cases, it can cause septic shock. Symptoms of septic shock includes-

    • Low blood pressure.
    • Shortness of breath.
    • Confusion.
    • Rapid heart rate.
    • Dizziness.
    • Fever.

    Causes of Gangrene

    Gangrene may occur due to-

    • Lack of blood supply.
    • Trauma.
    • Infection.

    Risk factors of Gangrene

    Risk factors may include

    • Diabetes.
    • Blood vessel disease.
    • Severe injury.
    • Obesity.
    • Surgery.
    • Having HIV.
    • Smoking.

    Diagnosis of Gangrene

    To make a diagnosis, the doctor will perform the following tests-

    • Blood tests to detect certain bacteria or other germs. Abnormally high white blood cells count usually indicates an infection.
    • Imaging tests include computed tomography (CT) scan, X-ray or a magnetic resonance imaging (MRI) scan to look at body structures, such as internal organs, blood vessels, or bones, and to check how much the gangrene has spread.
    • Fluid or tissue culture to examine for the bacterium clostridium perfringens.
    • In some cases, surgery may be performed to check the extent of spread.

    Treatment for Gangrene

    Treatment options may depend on the severity of the gangrene. Tissue damaged by gangrene usually cannot be saved, but steps can be taken to slow the progression of your condition. These include-

    • Antibiotics are given intravenously or taken orally.
    • Surgery to remove dead tissue, which stops gangrene from spreading and allows healthy tissue to heal.
    • Skin grafts can be used to repair skin damage caused by gangrene. This can happen when the damaged skin is supplied with sufficient blood again.
    • In severe cases, amputation of the affected body part may be necessary.
    • Hyperbaric oxygen therapy may be used. In this type of treatment, you are placed in a specially constructed chamber filled with oxygen at a higher pressure than the outside air. The theory is that blood is rich in oxygen, which slows the growth of bacteria and helps infected wounds to heal faster.

    When to see a doctor?

    To stop the spread of tissue death as quickly as possible, gangrene requires urgent medical attention.

    Read More
    What is Bacterial Vaginosis? Know its Causes and Symptoms

    Posted 23 September, 2022

    What is Bacterial Vaginosis? Know its Causes and Symptoms

    Bacterial vaginosis is a type of vaginal infection caused by an overgrowth of bacteria in the vagina. This condition is also known as Gardnerella vaginitis and is caused by Gardnerella bacteria. This bacteria is responsible for causing vaginal infections. However, many species of bacteria live naturally in the vagina and their overgrowth or imbalance can lead to an infection called bacterial vaginosis (BV), which results in vaginal discharge. This infection is mostly found in pregnant women. Often, this infection is caused by having sexual intercourse with a new partner.

    Bacterial vaginosis is not considered a sexually transmitted infection because it occurs even in women or girls who have never had sexual intercourse. Sexually transmitted infections are those infections that are transmitted through sexual activity.

    Causes of Bacterial Vaginosis

    Bacterial vaginosis is caused by an imbalance of the bacterial flora naturally found in the vagina. This is a common bacteria found in a woman's vagina. Bacterial vaginosis can also be caused by other reasons, such as

    • Using water or a medicated solution to clean the vagina
    • Taking a bath with antiseptic fluids
    • Having sexual intercourse with someone new
    • Having intercourse with multiple partners
    • Using a perfumed bubble bath, vaginal deodorant, or scented soaps.
    • Smoking
    • Washing the undergarments with harsh detergent

    Symptoms of Bacterial Vaginosis

    The symptoms of bacterial vaginosis are as follows-

    Most women who are infected with bacterial vaginosis do not show any symptoms. Some women may experience some symptoms, which include vaginal discharge, burning, itching, etc. Vaginal discharge may be thin, gray in color or white and foul-smelling and sometimes a burning sensation during urination and itching around the vagina may also be experienced.

    Prevention Methods for Bacterial Vaginosis

    The following are the measures to prevent bacterial vaginosis-

    • Always practice safe sexual intercourse using a condom.
    • The use of chemical soaps in the vagina can kill normal or good bacteria, which increases the risk of infection. So avoid using it.
    • Use only lukewarm water to clean the vagina.
    • Bacterial vaginosis can cause many problems in pregnancy, it is therefore essential to keep the private parts clean in order to keep infections away, keeping mother and child healthy.

    Treatment methods for bacterial vaginosis

    Antibiotics are effective in 90 percent of infections, but bacterial vaginosis recurs after a few weeks. Bacterial vaginosis often goes away without treatment, but if you are experiencing symptoms, you should seek treatment to avoid complications. Men don't need treatment, but they can transfer the infection to women during intercourse. Some doctors suggest that bacterial vaginosis surgery should be performed before surgery for abortion or hysterectomy, whether or not symptoms are present.

    Metronidazole is the most commonly used antibiotic for bacterial vaginosis. If a woman is pregnant or lactating, taking metronidazole twice a day for seven days provides relief from bacterial vaginosis. A normal woman should take metronidazole once a day for seven days during this infection. Metronidazole, available as a gel, should be applied regularly to the vaginal area once a day for five days. However, it should be taken only after taking advice from a doctor.

    Home remedies for bacterial vaginosis

    Here are some home remedies to help overcome the problem of bacterial vaginosis-

    • Apple cider vinegar-Apple cider vinegar is a great home remedy for bacterial vaginosis. Due to its acidic nature, apple cider vinegar helps to increase vaginal acidity. This makes it difficult for harmful bacteria to survive and creates a better environment for good bacteria to thrive. To avoid bacterial vaginosis, add one or two cups of apple cider vinegar to your bath water. Then sit in this water for 20 minutes. After this, dry the vaginal area thoroughly. Do this remedy once a day till the condition improves.
    • Curd-Curd is one of the most common home remedies for bacterial vaginosis. Curd contains beneficial bacteria called Lactobacillus. This helps fight harmful bacteria and maintain a healthy vaginal pH balance. Soak a cotton pad in curd and apply it to the affected area, leaving it for at least half an hour. Then wash this part thoroughly with fresh water. Repeat this remedy thrice a day until its symptoms are gone. Apart from this, eat at least two small cups of curd a day to keep the pH balance of the vagina normal and reduce the growth of bad bacteria.
    • Tea tree oil-Tea tree oil has natural antibacterial as well as antifungal properties that help kill the bacteria that cause bacterial vaginosis. Apart from this, it is also helpful in removing foul vaginal odor. To do this, mix two tablespoons of tea tree oil in a small bowl of warm water. Then wash the vagina thoroughly with this mixture. Continue this for three to four weeks.
    • Garlic-Garlic, being a natural antibiotic, helps in treating bacterial vaginosis. Apart from this, the antifungal properties present in it keep the bad bacteria in check. Crush three to four garlic cloves and apply them to the affected area. Leave it for about 20 minutes and then wash that area thoroughly with lukewarm water. Do this remedy for several months. Apart from this, consuming garlic regularly, either raw or cooked, is also beneficial.
    • Fenugreek-Fenugreek is very beneficial for the treatment of bacterial vaginosis. It boosts the immune system to improve the pH level in the vagina and accelerate the healing process. Soak two tablespoons of fenugreek in a glass of water overnight. In the morning, drink this water on an empty stomach. Follow this remedy for at least a month. Or mix one teaspoon of fenugreek powder in a cup of curd and take it twice a day until the symptoms of bacterial vaginosis subside.
    • Milk-The presence of bacteria called lactobacilli in milk is an excellent natural remedy for bacterial vaginosis. In addition, milk helps strengthen the immune system. In the event of infection, dip a piece of cotton in cold milk and apply it to the vagina. Remove the cotton after keeping it for one to two hours. Do this remedy once a day for several days to get relief from symptoms. Alternatively, mix a teaspoon of turmeric powder into a glass of warm milk.
    • Coconut oil-Coconut oil has natural antiviral, antibacterial, and antifungal properties that help kill bacteria and prevent their recurrence. To improve your problem, apply organic coconut oil to the affected area three times a day or soak cotton in organic coconut oil and place it in the vagina. After a few hours, wash the vagina thoroughly with lukewarm water. Also, to boost your immune system and speed up the healing process, use coconut oil in cooking as much as possible.

    When to go to the doctor?

    Bacterial vaginosis is usually not serious and often goes away on its own. But in case you experience symptoms going worse, consult your doctor and treatment should start immediately.

    Read More
    What is menarche? Everything You Need to Know

    Posted 18 August, 2022

    What is menarche? Everything You Need to Know

    Menarche is a medical term used to refer to the first menstrual period of a female adolescent. It is the result of interactions between the hypothalamic hormones, pituitary hormones, and ovarian hormones. It can also be affected by the thyroid, pancreatic, and adrenal hormones. Menarche signals the possibility of fertility and is associated with the development of secondary sexual characteristics.

    Menarche doesn’t occur until all parts of a girl’s reproductive system have matured and are working together. It is abnormal for menarche to occur before the appearance of any secondary sexual development.

    The first menstrual cycle of a young girl tends to be irregular and ovulatory. This means that there is no ovulation during this period. However, some girls can ovulate during their first period. Irregular menstruation is usually experienced by teenagers. It may take six years or more from the start of your first period for your periods to become regular.

    It has been estimated that most girls will have ovulatory cycles within 5 years of menarche. Girls experience menarche at different ages, but the usual age is between 9-15 years.

    In very rare cases, menarche can occur at an early age, either as a result of premature puberty or as a symptom of an endocrine disorder. If menarche does not occur 3 years after breast development or after 16 years of age, this delay is called primary amenorrhea.

    Causes of Early Menarche-

    Some social and environmental stress factors associated with early menarche may include-

    • Childhood obesity.
    • Being born at a low birth weight.
    • Lack of exercise in childhood.
    • Exposure to smoking.
    • Experiencing preeclampsia during pregnancy.
    • Absence of breastfeeding.
    • Stress.

    What can delay menarche?

    Certain diseases and ailments can delay menarche, these include-

    • Diabetes mellitus type 1.
    • Asthma.
    • Untreated celiac disease.
    • Cystic fibrosis.
    • Inflammatory diseases.

    Late menarche is associated with a reduced risk of breast cancer, a decreased frequency of coronary artery disease, and a decreased incidence of teen pregnancy.

    Symptoms of Menarche

    • Emotional or moody behavior for no apparent reason.
    • Bloating.
    • Brownish fluid and blood flow start this way which becomes redder and heavier during a period.
    • Abdominal cramps.

    Diagnosis for Menarche

    • If your child has early or late menarche, diagnosis is available to determine the cause of the problem.
    • To diagnose early menarche, your doctor will ask some questions and run some tests to check the child’s hormones.
    • For late menarche, evaluation of the ovarian and pituitary hormones can help in making a diagnosis.
    • This can be done by a thorough history and a careful visual examination of the genitalia and a manual examination of the female reproductive organs.

    When to see a doctor?

    Schedule a medical checkup for your child-

    • Has not started menstruating within three years of breast growth or by the age of 15.
    • Breasts haven't started to grow by the age of 13.
    • Has periods that last more than seven days.
    • Has severe pain during periods.
    • Bleeds between periods.
    • Become sick or have a sudden fever after using a tampon.
    • Having menstrual periods of more than 21 days or less than 45 days.
    • Goes 3 months without a period after the start of menstruation.
    Read More
    What is Pneumococcal disease? Know its Types, Symptoms and Diagnosis

    Posted 11 August, 2022

    What is Pneumococcal disease? Know its Types, Symptoms and Diagnosis

    Pneumococcal is a type of infection in the body which affects many parts of the body. It is mainly caused by bacteria called Streptococcus pneumoniae, also known as Pneumococcus. It is also caused by infection with pneumococcal microbes, certain drugs, and other diseases. This can lead to many diseases. Pneumonia is also caused by this bacterial infection. It can also be caused by bacteria, viruses or parasites. This causes a cough with mucus or pus, fever, chills, and shortness of breath & is a serious disease.

    This disease can take a serious form if the symptoms are not recognized and treatment is not started on time. It is more harmful for infants, young people, people over the age of 70 and people with a weakened immune system.

    Types of Pneumococcal disease

    There are mainly two types of pneumococcal diseases which have further divisions. These are mentioned below

    • Invasive Pneumococcal diseaseThis type of pneumococcal disease is considered a serious infection. In this, infection occurs inside any part of the body or in the blood. It includes many diseases which are as follows
    • Septic ArthritisSeptic arthritis is an infection of the joints. This infection mainly reaches the joints through injury or infection in the blood due to which problems like pain, swelling and redness start arising in the joints which affects different joints of the body. It also causes unbearable pain.
    • MeningitisThis infection occurs in the membrane covering the brain and spinal cord of a person.
    • OsteomyelitisThis is a bone infection which spreads to the blood and its surrounding tissues as well as reaches the bones.
    • BacteremiaThis is caused by bacteria present in the blood.
    • SepticemiaSepticemia is an infection in the bloodstream, also known as blood poisoning. It usually occurs when bacterial infections in the body enter the blood through the lungs or skin.

    Non Invasive Pneumococcal disease

    • PneumoniaPneumonia is usually caused by a variety of bacteria. The most common of these is Streptococcus pneumoniae. This usually happens when the body is weak due to minor illness, nutritional deficiency, old age or problems with the body's immunity, etc. In this condition, the bacteria reaches the lungs. Bacterial pneumonia can affect people of all ages.
    • Otitis mediaThis is an ear disease. A type of infection, which affects the middle part of the ear. In this condition, due to infection, the central part becomes swollen, due to which the person may have to face unbearable pain.
    • SinusitisSinusitis is an infection in the sinuses that comes under the category of a serious problem. The problem of sinusitis occurs due to many reasons like- sinus infection, pollution, allergies, cold and bacterial infection etc.

    Symptoms of pneumococcal disease

    Some of the common symptoms caused by pneumococcus bacteria are as follows

    Flu-like symptoms are felt when you have pneumococcal disease. These symptoms can develop slowly or rapidly.

    • Fever with sweating and shivering.
    • Suffering from a cough with mucus.
    • Difficulty in breathing.
    • Chest pain.
    • Feeling uneasy.
    • Loss of appetite.
    • Weakness.
    • Earache or discharge from the ears.
    • Feeling delusional.
    • Blood coming from the mucus while spitting.
    • Redness or rash on the skin.
    • Rapid heartbeat.

    Under what circumstances can pneumococcal disease occur?

    • Children below 2 years of age.
    • Children under the age of 5 with pre-existing disease have an increased risk of developing pneumococcal disease.
    • Excessive smoking poses a higher risk of getting this disease.
    • People suffering from diabetes, cancer, lung cancer, kidney problems or any other chronic disease.
    • People with 65 years of age or older.
    • Long-term use of steroid medicines.
    • People with a weak immune system can also be infected. This often causes pneumonia in people who already have AIDS.

    Home remedies for Pneumococcal disease

    • Steam inhalationSteam inhalation reduces infection. This also improves the breathing capacity of the patient. Steam reduces cough and also relieves chest tightness.
    • Turmeric mixed with mustard oilMix turmeric powder in lukewarm mustard oil and massage the chest with this mixture.
    • TurmericTurmeric is also helpful in relieving respiratory disorders. It reduces mucus, therefore, consuming turmeric powder in hot milk daily prevents pneumococcal disease.
    • PeppermintPeppermint reduces irritation and mucus. Therefore, make tea using fresh mint leaves and drink it. Mint tea acts as a medicine for pneumonia.
    Read More
    Causes, Symptoms and Treatment of Pericarditis

    Posted 20 August, 2022

    Causes, Symptoms and Treatment of Pericarditis

    Pericarditis is a heart disorder characterized by inflammation of the pericardium. It develops suddenly in the body. Symptoms such as burning in the chest, heaviness, sharp or recurring pain in the chest and prickling may occur. In some people, this pain extends to the neck and jaw along with the chest.

    Pericarditis resolves on its own in most cases and may be cured by using some home remedies. But the chances of this disease reoccurring are high. In certain cases, this problem can be very painful and last for several weeks or months. In such a situation, people should immediately contact the doctor without ignoring it. Let us know about the causes, symptoms and treatment of pericarditis through this article.

    What is Pericardium?

    The pericardium is a sac-like membrane that surrounds the heart. This membrane is usually filled with fluid. Normally it contains 50 ml but when more fluid than normal starts forming in this sac, the condition is called pericarditis in medical language. This results in persistent pain in the chest. Apart from this, some other symptoms also appear in this condition.

    Causes of Pericarditis

    According to doctors, no known causes of pericarditis are clear. However, the main reasons for this are as follows

    • Autoimmune disease.
    • Heart surgery.
    • Any type of viral, bacterial and fungal infection in the pericardium.
    • Radiation treatment for cancer.
    • Genetic diseases.
    • Trauma or heart attack.
    • Waste material present in the blood due to kidney failure.

    Other risk factors for pericarditis-

    The following factors can increase the risk of pericardial disorder:

    • Smoking.
    • High cholesterol.
    • Virus infection etc.

    Symptoms of Pericarditis

    The most common symptom of pericarditis is chest pain. This pain feels like a heart attack and occurs suddenly due to which severe pain arises in the chest. Apart from this, the symptoms of pericarditis also depend on what is causing the patient to have pericarditis which are the following:

    If a person has pericarditis due to an infection, he may experience high fever, chills, or shakiness.

    • Persistent chest pain.
    • Pain in the shoulders, neck, back and abdomen as well.
    • Pain when taking long or deep breaths.
    • Difficulty swallowing food.
    • Difficulty sitting and bending forward.

    Some other rare symptoms of pericarditis are as follows:

    • Chest heaviness.
    • Anxiety or restlessness.
    • Difficulty in breathing while sleeping.
    • Worrying too much.
    • Swelling in the ankles or feet.
    • Dry cough.
    • Diagnosis of Pericarditis-To diagnose pericarditis, the doctor first examines the patient's symptoms through which the reasons for pericarditis can be known. On this basis, he advises to conduct several types of tests, which are as follows:
    • Physical examination-The doctor examines the patient physically. In this, along with the medical history of the patient, their symptoms are also noted and the doctor may ask the patient some questions related to the heart.
    • Imaging test-These tests include X-rays, MRIs, and CT scans. These are used to look for the size of the heart and any problems or fluid in the lungs. It is also used to obtain images of other internal organs and to check for signs of infection damage.
    • Electrocardiogram (ECG)-The doctor may recommend an ECG test to check the heartbeat. Through this test, the heartbeat is monitored to assert the functioning of the heart. It is also used to check for fluid or pericardial effusion around the heart.
    • Catheterization-Catheterization is a medical procedure in which a thin, flexible tube, known as catheter, is inserted in a blood vessel of the heart to diagnose constrictive pericarditis.
    • Blood tests-Certain blood tests help to detect the presence of any type of bacteria or parasites in the blood causing pericarditis.
    • Treatment of pericarditisPericarditis can be treated in several ways because before treating it, it is very crucial to know the cause. When the cause is detected, it can be treated with ease. For example, if the main cause of pericarditis is a bacterial infection, he is treated with antibiotics. In most cases it can be treated with medicines.
    • Colchicine-Colchicine is a type of anti-inflammatory drug which helps reduce symptoms and prevent pericarditis from recurring.
    • NSAIDs-Over-the-counter Non-Steroidal Anti-Inflammatory Drugs (NSAIDs) to treat pericarditis are beneficial for both pain and inflammation. Apart from this, taking ibuprofen or aspirin also provides quick relief.
    • Surgery-Surgery is generally considered the last treatment for pericarditis. It is recommended by the doctor when the effect of medicines is not on the health of the patient.

    How to prevent Pericarditis?

    This condition is not completely curable. Steps can be taken to relieve the symptoms.

    Home remedies for Pericarditis

    • Reduce alcohol consumption-It is very important to reduce alcohol intake or switch to healthier alternatives. To get rid of alcohol or tobacco, drink water mixed with lemon and mint.
    • Control high blood pressure-Reduce sodium intake and eat more nutritious foods and green leafy vegetables. By doing this, the blood pressure remains under control.
    • Reduce cholesterol level-Cholesterol levels can be reduced by switching saturated fats (dairy products, biscuits, etc.) for non-saturated fats (olive oil and avocados, nuts).
    • Try to reduce stress-Focus on diverting the mind from tense situations and take time to rest. This helps in reducing stress.
    • Regular exercise-Walk for an hour every day and add some cardio-related exercise to your daily routine.

    When to go to the doctor?

    If you suffer from one or more symptoms or signs related to pericarditis, consult your doctor immediately.

    Read More
    Atherosclerosis Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

    Posted 06 August, 2022

    Atherosclerosis Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

    Atherosclerosis is considered a heart problem as it can affect arteries anywhere in your body. It is a specific type of arteriosclerosis, in which the wall of the artery develops abnormalities, called lesions. These lesions may lead to narrowing due to the buildup of atheromatous plaque. Plaque is made up of fat, calcium, cholesterol and other substances which are found in the blood. It can cause your arteries to narrow, blocking blood flow and leading to a blood clot.

    Symptoms of Atherosclerosis

    You may not have any symptoms until your arteries are nearly closed or until you have a heart attack or stroke. Signs can also depend on which arteries are narrowed or blocked.

    Symptoms related to coronary arteries include

    • Arrhythmia, an unusual heartbeat.
    • Pain or pressure in your upper body, including chest, arms, neck or jaw.
    • Shortness of breath.

    Symptoms related to the arteries that carries blood to the brain include

    • Numbness or weakness in arms or legs.
    • A hard time speaking or understanding someone who’s talking.
    • Paralysis.
    • Severe headache.
    • Drooping facial muscles.
    • Trouble seeing in one or both eyes.

    Symptoms related to the arteries of arms, pelvis and legs include

    • Leg pain when walking.
    • Numbness.

    Symptoms related to the arteries that carries blood to kidneys include

    • High blood pressure.
    • Kidney failure.

    Causes of Atherosclerosis

    The exact cause is unknown, but atherosclerosis may start with damage or injury to the inner layer of an artery. Damage may be caused by

    • High blood pressure.
    • High cholesterol.
    • High triglycerides (a type of fat in the blood).
    • Smoking and other sources of tobacco.
    • Insulin resistance.
    • Obesity.
    • Diabetes.

    Inflammation from other diseases like

    • Arthritis.
    • Lupus (inflammation of the skin).
    • Psoriasis.
    • Inflammatory bowel disease.

    Risk factors of Atherosclerosis

    Risk factors that can contribute to atherosclerosis include

    • Family historyPeople with a family history of heart disease or atherosclerosis are at an increased risk of developing the medical condition.
    • Age.
    • Cardiovascular diseases.
    • Smoking history.

    How to Prevent Atherosclerosis?

    Although some causes and risk factors, such as age and heredity, cannot be controlled, there are some ways to prevent atherosclerosis

    • Eat a healthy diet, exercise, and avoid smoking.
    • If you have high blood pressure, high cholesterol, or diabetes, be sure to take your prescribed medication as directed.

    Diagnosis of Atherosclerosis

    Your doctor will start with a physical exam. He or she will listen to the pulse and check for weak or absent pulses. You might need tests including

    • Ankle brachial index testIn this test, blood pressure cuffs are placed on the arms and ankles. A handheld ultrasound machine, or Doppler, is used to listen to blood flow and measure blood pressure. This helps the doctor determine if there is decreased blood flow to the lower legs and feet.
    • Blood testThis checks the levels of certain fats, cholesterol, protein and sugar in the blood.
    • CT scanX rays and computers used to provide a more detailed picture of the aorta, heart and blood vessels.
    • Electrocardiogram (ECG) This test measures the electrical activity of the heart and can help determine whether parts of the heart are enlarged, overworked, or damaged. The heart's electrical currents are recorded through 12 to 15 electrodes that are attached to the arms, legs, and chest.
    • Stress testingThis test is carried out during training. If a person is unable to exercise, medication is given to increase the heart rate. When combined with an ECG, this test can show changes in heart rate, rhythm or electrical activity, and blood pressure.
    • UltrasoundAn ultrasound device can measure blood pressure at various points on your arms or legs, allowing your doctor to determine if you have a blockage and how fast the blood is flowing through your arteries.

    Treatment for Atherosclerosis

    • MedicationDrugs for high cholesterol and high blood pressure will slow down and may even halt atherosclerosis. This could also lower your risk of heart attack and stroke. Medicines like blood thinners, aspirin, beta blocker medications, angiotensin-converting enzyme (ACE), diuretics and other cholesterol medications are helpful in this condition.
    • Maintain a better lifestyleEating healthy, doing physical exercises etc. can be effective in treating atherosclerosis. In case of severe symptoms or organ dysfunction, the following procedures may be performed.
    • AngioplastyIn this procedure, the blocked artery is widened with a balloon and a stent that pushes plaque against the artery.
    • Bypass surgerySurgeons can transplant healthy blood vessels from other parts of your body to bypass blockages in narrowed arteries. This allows blood to flow around blocked or narrowed arteries.
    • EndarterectomySometimes fatty deposits can be surgically removed from the walls with an endarterectomy.

    When to see a doctor?

    If you experience symptoms of atherosclerosis like inadequate blood flow, chest pain, leg pain and numbness, then you should immediately consult your doctor.

    Read More
    कार्डियोमायोपैथी के प्रकार, कारण और उपचार

    Posted 13 July, 2022

    कार्डियोमायोपैथी के प्रकार, कारण और उपचार

    कार्डियोमायोपैथी है क्या ?

    कार्डियोमायोपैथी एक ऐसी बीमारी है जो हृदय की मांसपेशियों को प्रभावित करती है। इस स्थिति में हृदय शरीर में रक्त का संचार ठीक प्रकार से नहीं कर पाता है। जिसके कारण शरीर को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जिसमें मुख्य रूप से हर समय थकान महसूस करना, सांस लेने में समस्या होना और दिल की धड़कन तेज होना आदि शामिल हैं। जिसे नजर अंदाज कर देना या समय रहते इलाज न करवानेपर इसकी स्थिति दिन पर दिन खराब होती जाती है। ज्यादातर मामलों में यह समस्या इतनी जटिल हो जाती है कि दिल के दौरेका कारण बन जाती है।

    कार्डियोमायोपैथी के प्रकार

    • डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी कार्डियोमायोपैथी के इस प्रकार में हृदय के प्राथमिक पंपिंग कक्ष अर्थात बाएं वेंट्रिकल आकार में बड़ा और मांसपेशियां पतली यानी कमजोर हो जाती हैं। जिसके कारण शरीर में रक्त के परिसंचरण में दिक्कत होती है। इस स्थिति में जैसे-जैसे हृदय कक्ष (लेफ्ट वेंट्रिकल) फैलता है, हृदय की मांसपेशी सामान्य रूप से सिकुड़ नही पाती। इस स्थिति को बढ़ा हुआदिल भी कहा जाता है। जिसके कारण हृदय रक्त को ठीक से पंप नहीं कर पाता । परिणामस्वरूप कई जटिल समस्याएं उत्पन्न हो जाती है। आमतौर पर यह प्रकार कोरोनरी धमनी रोग के कारण होता है। इसे आगे वर्गीकृत किया गया है।
    • अल्कोहलिक कार्डियोमायोपैथीब यह लंबे समय तक अधिक शराब पीने के कारण होता है। यह हृदय को कमजोर करता है, जिससे आगे चलकर हृदय रक्त को प्रभावी ढंग से पंप करने में असमर्थ हो जाता है। इससे हृदय का आकार बढ़ जाता है। यह एक प्रकार का पतला कार्डियोमायोपैथी है।
    • हाइपरट्रॉफिक कार्डियोमायोपैथीहाइपरट्रॉफिक कार्डियोमायोपैथी हृदय की मांसपेशियों की असामान्य वृद्धि का कारण बनती है जिससे रक्त पंप करना मुश्किल हो जाता है। यह आमतौर पर हृदय के मुख्य पंपिंग कक्ष (बाएं वेंट्रिकल) की मांसपेशियों को प्रभावित करता है। यह मधुमेह या थायराइड विकार के कारण भी हो सकता है।
    • सिरदर्द के लिएसिरदर्द से राहत पाने के लिए कटेरी का प्रयोग सालों से किया जाता रहा है। इसके लिए कटेरी का काढ़ा बनाकर पी लें। ऐसा करने से सिर दर्द की समस्या से तुरंत राहत मिलती है। इसके अलावा कटेरी के फल के रस को माथे पर लेप की तरह लगाने से भी दर्द से राहत मिलती है।
    • प्रतिबंधात्मक कार्डियोमायोपैथीयह बीमारी का सबसे आम प्रकार होता है। इसका कोई मुख्य कारण नहीं होता है। यह किसी कारण (अज्ञातहेतु) के विभिन्न तरीकों से विकसित होती है। इसके अलावा यह शरीर के अंदर किसी स्थिति के कारण हो सकती है जो हृदय को प्रभावित करती है। उदाहरण के लिए एमाइलॉयडोसिस।
    • एर्रीथेमोजेनिक राइट वेंट्रिकुलर डिसप्लेसिया (एआरवीडी)यह कार्डियोमायोपैथी का एक दुर्लभ प्रकार होता है। यह स्थिति तब होता है, जब फैट और टिश्यू ह्रदय के दाएं वेंट्रिकल में मांसपेशियों को प्रतिस्थापित कर देते हैं। जो हृदय के लिए समस्या पैदा कर सकता है। यह आमतौर पर आनुवंशिक परिवर्तनों के कारण होता है।
    • पेरिपार्टम कार्डियोमायोपैथीपेरिपार्टम कार्डियोमायोपैथी बच्चे के जन्म के दौरान या बाद में हो सकती है। यह दुर्लभ स्थिति तब होती है जब प्रसव के बाद पहले पांच महीनों के अंदर या गर्भावस्था के आखिरी महीने में दिल कमजोर हो जाता है। यदि यह प्रसव के बाद होता है, तो इसे अक्सर प्रसवोत्तर कार्डियोमायोपैथी कहा जाता है। यह एक प्रकार का फैला हुआ कार्डियोमायोपैथी है। इसका कोई खास वजह नहीं है।
    • इस्केमिक कार्डियोमायोपैथीइस्केमिक कार्डियोमायोपैथी कोरोनरी धमनी की बीमारी के कारण होती है। जो हृदय वाहिकाओं को रक्त की पूर्ती करने वाले रक्त वाहिकाओं को संकीर्ण करनेका कारण बनती है। जिससे हृदय को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है। परिणामस्वरूप दिल का दौरा पड़ सकता है। जिसके कारण व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।
    • नॉन कंपैशन कार्डियोमायोपैथी-इसे स्पॉन्गी फॉर्म कार्डियोमायोपैथी के रूप में भी जाना जाता है। यह एक दुर्लभ स्थिति है जो गर्भ में होती है। यह गर्भ में हृदय की मांसपेशियों की असामान्य वृद्धि के कारण होता है।

    कार्डियोमायोपैथी के कारण

    कुछ चिकित्सीय स्थितियों या व्यवहार जो कार्डियोमायोपैथी को जन्म दे सकते हैं। वह निम्नलिखित हैं

    • लंबे समय तक उच्च रक्तचाप।
    • हार्ट अटैक के रूप में दिल के ऊतकों को नुकसान।
    • लंबे समय से हृदय गति का तेज होना।
    • हृदय वाल्व की समस्या होने पर।
    • कोविड -19 संक्रमण।
    • कुछ विशेष संक्रमण, जो हृदय में सूजन का कारण बनते हैं।
    • चयापचय संबंधी विकार, जैसे थायराइड रोग, मोटापा, या मधुमेह।
    • दैनिक आहार में महत्वपूर्ण खनिजों या विटामिनों की कमी होना।
    • गर्भावस्था की जटिलताएं।
    • हृदय की मांसपेशियों में आयरन का निर्माण (हेमोक्रोमैटोसिस) होने पर।
    • फेफड़े और हृदय (सारकॉइडोसिस) या शरीर के किसी आतंरिक हिस्सों में सूजन या कोशिकाओं (ग्रैनुलोमा) मेंछोटी गांठों का बनना।
    • अंगों के अंदर असामान्य प्रोटीन का संचय (एमाइलॉयडोसिस) होना।
    • संयोजी ऊतक विकार।
    • लंबे समय तक अधिक शराब का सेवन।
    • एम्फ़ैटेमिन, कोकीन या एनाबॉलिक स्टेरॉयड का उपयोग।
    • कैंसर से लड़ने के लिए कुछ कीमोथेरेपी दवाओं के साथ-साथ विकिरण का उपयोग।

    कार्डियोमायोपैथी के लक्षण

    आमतौर पर कार्डियोमायोपैथी के सभी प्रकार के लक्षण समान होते हैं। सभी मामलों में, हृदय मानव शरीर के अंदर अंगों और ऊतकों को रक्त प्रवाह प्रदान करने में सक्षम नहीं होता है। जिसके कारण कई अन्य लक्षण देखने को मिलते हैं। जो निम्नलिखित है

    • लगातार अधिक थकान और कमजोरी होना।
    • सांस फूलना, विशेष रूप से परिश्रम या व्यायाम के दौरान।
    • चक्कर आना।
    • छाती में तेज दर्द होना।
    • दिल की घबराहट होना।
    • उच्च रक्त चाप होना।
    • बेहोशी का दौरा पड़ना।
    • टखनों, पैरों और घुटनों की सूजन।

    कार्डियोमायोपैथी के लिए उपचार

    कार्डियोमायोपैथी का उपचार इसके लक्षणों के कारण हृदय और शरीर को हुए नुकसान की डिग्री पर निर्भर करता है। कुछ लोगों को लक्षण प्रकट होने तक उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। जिन लोगों को सांस फूलने लगती है या सीने में दर्द होने लगता है, उन्हें अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव या घरेलू उपचार करके ठीक किया जा सकता है।

    कार्डियोमायोपैथी से कैसे उबरें?

    यह स्थिति इलाज योग्य नहीं है, हालांकि, उपचार के साथ, लक्षणों को कम किया जा सकता है।

    कब जाएं डॉक्टर के पास?

    यदि आप कार्डियोमायोपैथी से संबंधित एक या अधिक लक्षणों या संकेतों से पीड़ित हैं, तो तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श लें।

    • स्वस्थ्य ह्रदय के लिए जीवन शैली में परिवर्तन पर्याप्त नींद लें। विभिन्न प्रकार के पौष्टिक युक्त फलों, सब्जियों और साबुत अनाज का सेवन करें।
    • दवाइयां उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं लें। जल प्रतिधारण को रोकें, हृदय को स्वस्थ्य बनाए रखें, रक्त के थक्कों और सूजन को रोकें।
    • शल्य चिकित्सा द्वारा प्रत्यारोपित उपकरणइम्प्लांटेबल कार्डियोवर्टर-डिफाइब्रिलेटर (ICD), वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस (VAD) और पेसमेकर को हृदय के कार्यों में सुधार के लिए शल्य चिकित्सा द्वारा हृदय में प्रत्यारोपित किया जा सकता है।
    • हृदय प्रत्यारोपणहृदय प्रत्यारोपण का उद्देश्य हृदय को यथासंभव कुशल बनाने में मदद करना है। साथ ही किसी और क्षति या कार्यक्षमता के नुकसान को रोकना होता है।
    • घरेलू उपचारशराब का सेवन कम करें या स्वस्थ विकल्पों पर स्विच करें। शराब या तंबाकू से छुटकारा पाने के लिए पानी में पुदीना और नींबू मिलाकर सेवन करें।
    • उच्च रक्तचाप को नियंत्रित रखनासोडियम का सेवन कम करके और अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थ जैसे लीन मीट, ग्रिल्ड सब्जियोंका सेवन करें।
    • कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करें।गैर-संतृप्त वसा (जैतून का तेल और एवोकाडो, नट्स) के लिए संतृप्त वसा (डेयरी उत्पाद, बिस्कुट, आदि) को स्विच करके कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम किया जा सकता है।
    • तनाव कम करने की कोशिश करेंमन को केन्द्रित करें। साथ ही आराम करने के लिए समय निकालें । जिससे तनाव कम करने में मदद मिलती है।
    • नियमित व्यायाम करेंरोजाना एक घंटा पैदल चलें और लिफ्ट लेने की बजाय सीढ़ियों का सहारा लें।
    Read More
    Emphysema: Causes, Symptoms and Treatment

    Posted 03 June, 2022

    Emphysema: Causes, Symptoms and Treatment

    Emphysema is a type of COPD (Chronic Obstructive Pulmonary Disease). COPD is a group of lung diseases whichmakes breathing difficult thatworsen over time. Most people with COPD have emphysema and chronic bronchitis (another major form of COPD), but the severity of this disease can vary from person to person.

    Emphysema affects the air sacs in the lungs. These sacs are usually elastic or stretchy. As you inhale, each air sac fills with air like a small balloon. When you exhale, the air sacs deflate and air is released.

    In emphysema, the walls of the air sacs in the lungs are damaged. As a result, the air sacloses its shape and becomes less flexible. This makes it difficult for the lungs to perform oxygen and carbon dioxide exchange .

    What causes Emphysema?

    The cause of emphysema is usually long-term exposure to irritants that damage the lungs and airway passage. Cigarette smoke is one of the major causes of it. Pipes, cigars, and other types of tobacco smoke can also cause emphysema, especially if you inhale it.

    Exposure to other inhalation irritants can cause emphysema. This includes passive smoke, air pollution and chemical fumes or dust from the workplaces.

    Risk Factors of Emphysema

    Risk factors of Emphysema include-

    Smoking-This is a major risk factor. Up to 75% of patients with emphysema had a habitto smoke.

    Exposure-Long-term exposure to other lung irritants such as  smoke, air pollution, and chemical fumes.

    Age-People of age group 40 years or more, are likely to develop emphysema due to degenerative changes in lung and the tissues within. .

    Genetics-These include alpha-1 antitrypsin deficiency, which is a genetic condition. In addition, smokers who develop emphysema are more likely to develop it, if they have a family history of COPD.

    Symptoms of Emphysema

    Symptoms and signs of emphysema may not appear for years because it develops gradually. Shortness of breath and difficulty in breathing are the two main symptoms that start gradually. The other symptoms include-

    • Continuous cough.
    • Wheezing.
    • Shortness of breath, especially during physical activity.
    • Fatigue.
    • Chest tightness.
    • Increased production of mucus.

    How is Emphysema diagnosed?

    Doctors usually diagnose emphysema through tests including-

    Chest examination/Stethoscope examination-A simple test in which the doctor places the steth on your chest as well as upper back to listen to the hollow sound with a stethoscope. This can mean that air is trapped in your lungs.

    Pulse oximetry examination-It is used to measure the level of oxygen in the blood and is often done by attaching the monitor to a finger, forehead or earlobe.

    Spirometry test- This isone of the most useful tests that evaluates lung function by taking deep breaths and then blowing it into a tube connected to a device that measures airflow.

    X-rays- Although x-rays are usually not helpful in detecting the early stages of emphysema, a plain chest X-ray or a CAT (computed tomography) scan can help diagnose moderate or severe cases.

    Electrocardiogram (ECG)-An ECG checks the function of the heart and is used to determine if a heart condition is causing shortness of breath.

    Arterial blood gas-This is often done when emphysema gets worse, it measures the amount of oxygen and carbon dioxide in the arterial blood. This can be used to determine whether you need supplemental oxygen or retain carbon dioxide.

    Prevention for Emphysema

    Eating a healthy diet-Your body uses food to fuel all of its activities, and that includes breathing. Talk to your doctor or a dietitian about dietary changes that can help relieve emphysema symptoms.

    Increase water intake- A person with COPD should drink at least 8 to 10 glasses of water a day. This way, mucus doesn't thicken up and stick to the lungs. Thus, makes it easier for you to breathe.

    Maintain your ideal body weight-Being overweight makes breathing more difficult and can make you feel weak or tired and also increases the risk of chest infections.

    Avoid lung irritants-Smoking isn't the only thing that worsens emphysema. Avoid exposure to exhaust fumes, strong perfumes, detergents, paints and varnishes, excessive dust and other contaminants also.

    Exercise-Regular exercise can reduce the risk of shortness of breath by increasing the body's use of oxygen and strengthening the respiratory muscles.

    Vaccination-Take vaccination to prevent chest infections which can be dangerous, even life threatening for people with COPD.

    Treatment for Emphysema

    There is no cure for COPD, but avoiding causative factors  and medication can relieve symptoms and slow down the disease progression. Treatment includes-

    Bronchodilators- These drugs relax the muscles around the airways and are given through an inhaler and sometimes through a machine called a nebulizer through which there is an easy passage of air from nose towards the lungs.

    Anti-inflammatory drugs-These drugs reduceinflammation in the airways.

    Oxygen therapy-It is prescribed for patients whose lungs do not receive enough oxygen to the blood (hypoxemia).

    Lung volume reduction surgery-This can help relieve pressure on the respiratory muscles and improve lung elasticity and gas exchange.

    Pulmonary Rehabilitation-A pulmonary rehabilitation program is a personal care program that includes exercises, breathing, and nutrition tips according to the COPD. The purpose of this program is to help you stay active and carry out your daily activities without any difficulty.

    Home Remedies for Emphysema

    Garlic-

    Garlic has antibiotic, antiviral and antibacterial properties which helps to clear the mucusof the airway canal, thereby helpingto relieve emphysema.

    Ginger-

    Ginger has anti-inflammatory properties which helps to break down mucus by making it easier for your body to expel air. It also helps improve blood circulation in the lungs and reduce inflammation.

    Turmeric-

    The curcumin found in turmeric is known for its anti-inflammatory and antioxidant properties. It helps fight oxidative stress and reduces airway inflammation.

    Eucalyptus oil-

    Eucalyptus oil can help in opening up the airways canal and treat inflammation in COPD. It helps improve breathing and reduces the symptoms of emphysema.

    When to see a doctor?

    Anyone who experiencesany sign or symptom of COPD, should see a doctor as soon as possible.

    Read More
    Costochondritis: Symptoms, Causes & Treatment

    Posted 02 June, 2022

    Costochondritis: Symptoms, Causes & Treatment

    Costochondritis is inflammation of the cartilage between one or more ribs and the breastbone (sternum). It is also known as anterior chest wall syndrome, costosternal syndrome or parasternal chondrodynia. It can affect people of all ages and will go away on its own over time. Although the symptoms may be uncomfortable, costochondritis is not dangerous.

    Costochondritis usually gets better on its own, but the time it takes varies. Normally,  the pain takes a  few weeks to recover, while  in some cases, it may exceed  a  month or more.

    Symptoms of Costochondritis

    The main symptoms of costochondritis are pain and tenderness at the joint of the ribs and sternum due to inflammation of the cartilage tissue between the bones. The pain increases with movement and deep breathing and decreases with rest and even breathing. Pressure applied directly to the affected area also causes significant pain.

    The pain may vary in frequency but is often severe. It can be described as pressure pain, or stabbing pain. It is usually in the chest but can also spread to the back, abdomen, arms or shoulders.

    The pain is usually only on one side of the chest, most often the left side, but it can affect both sides of the chest at the same time.

    Causes of Costochondritis

    Often, there is no clear cause for costochondritis. It may be associated with a chest injury or with unusual or stressful physical activity (for example heavy lifting or profuse coughing). Costochondritis can occur in people  undergoing respiratory illness such as a cold or flu and underlying conditions, such as fibromyalgia, systemic lupus erythematosus and ankylosing spondylitis.

    Costochondritis affects women more often than men and is more common in adolescents and young adults.

    Risk Factors of Costochondritis

    Those at higher risk of developing costochondritis include-

    • Women (70% of cases are women).
    • Those engaged in hard manual work.
    • People who do strenuous sports or high-impact activities.
    • People who tend to cough or sneeze frequently.

    Medical conditions related to Costochondritis

    Tietze syndrome has similar symptoms like costochondritis. However, Tietze syndrome involves swelling of the joints while costochondritis does not. Tietze syndrome occurs in people under the age of 40, while costochondritis can affect all age groups.

    Chest wall pain can also occur with other conditions, such as-

    Fibromyalgia-Fibromyalgia is a disease that causes widespread musculoskeletal pain and fatigue. Chest wall pain is more common in patients with fibromyalgia.

    Arthritis-Inflammation of the chest wall may also be seen in rheumatoid arthritis or other inflammatory joint conditions such as ankylosing spondylitis, psoriatic arthritis or lupus.

    Infection-Infection can cause pain and swelling in the joints, among other symptoms.

    Tumors-Rarely, both cancerous and noncancerous tumors can develop on the chest wall.

    How to diagnose Costochondritis?

    To diagnose costochondritis, your doctor will first perform a complete medical examination by asking about your symptoms, recent activities or medical conditions that may be contributing to the cause. He or she then performs a physical examination by listening to heart and lungs, and palpating the ribs and chest wall.

    If your doctor is concerned about something other than costochondritis that is causing chest pain then, he or she may recommend blood tests, electrocardiography, or a chest X-ray to gather more information.

    Treatment for Costochondritis

    Your doctor may prescribe the following medications-

    Nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs)- NSAIDs prescribed by your doctor can help reduce inflammation and pain. These medications have potential side effects when used in excess or by someone with another health condition, so use them with caution. Side effects include damage to the kidneys, liver, and stomach or worsening of heart failure. You may also be prescribed a topical form that has fewer side effects.

    Physical Therapy-Physical therapy, also known as physiotherapy can help relieve chest pain.

    Muscle relaxants-Muscle relaxants, such as cyclobenzaprine (Flexeril) are sometimes used for pain relief.

    Antidepressants-There are several prescribed antidepressants that help relieve pain from persistent costochondritis. If costochondritis is causing you constant pain, tricyclic antidepressants (such as amitriptyline) can help.

    Anti-seizure drugs -Gabapentin, an epilepsy medication, can also help relieve persistent pain.

    Injections-Topical injections of pain relievers/steroids into the joint are rarely used but can be helpful in very persistent and severe cases.

    Home Remedies for Costochondritis

    Heat-Try using a warm pad or hot compress on a low setting for short periods of time several times a day.

    Rest-Avoid activities that cause pain, take more rest as possible if you can.

    Over-the-counter (OTC) pain relievers-Over-the-counter pain relievers such as naproxen sodium (Aleve), ibuprofen (Advil), or acetaminophen (Tylenol) can help control pain. OTC pain relieving creams for topical use can also provide relief.

    Avoid coughing-If coughing is causing your symptoms, over-the-counter cough suppressants can help prevent attacks.

    Stretches-Simple stretches that help open your chest muscles a little can help you feel better.

    When to see a doctor?

    Whenever you experience chest pain, you should see a doctor immediately to rule out something more serious. For example, if you experience chest pain along with other symptoms such as shortness of breath, nausea, sweating, dizziness, or left arm pain, this may be a sign of a severe health disease and you should see a doctor immediately.

    If you have been diagnosed with costochondritis, you should see a doctor if you experience any of the following symptoms-

    • Fever.
    • Nausea.
    • Difficulty breathing.
    • Swelling.
    • Signs of infection such as pus or redness.
    Read More
    सीने में दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू निदान

    Posted 24 May, 2022

    सीने में दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू निदान

    सीने में दर्द अक्सर सीने में किसी प्रकार की समस्या की वजह से होता है। इस दौरान व्यक्ति को कई तरह के लक्षण जैसे सीने में भारीपन, सीने में तेज या कम दर्द एवं चुभन आदि महसूस होने लगते हैं। कुछ लोगो में  छाती में दर्द होने  का असर गर्दन एवं जबड़ों तक पंहुच जाता  है। आयुर्वेद के अनुसार कफ, पित्त या वात के असंतुलन के कारण सीने में दर्द होने लगता है। कुछ लोगो में किसी बड़ी बीमारी की वजह से सीने में भी दर्द होता है। ऐसे में लोगो को डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा  शुरूआती स्तर के सीने में दर्द को  कुछ घरेलू उपचार का उपयोग करके ठीक किया जा सकता है।आइए इस लेख के माध्यम से सीने में दर्द के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार के बारे में जानते हैं।

     

    सीने में दर्द होने के कारण

     

     सीने में दर्द की समस्या कभी-कभी एक तरफ या दोनों हिस्सों में भी हो सकती है।यह दर्द कम या तेज भी हो सकता है। जिसके पीछे कई कारण होते हैं। आमतौर पर यह चेस्ट पेन गैस या एसिडिटी के कारण होता है और गंभीर मामलों में  ह्रदय संबंधी समस्याओं जैसे -फेफड़ों में संक्रमण, आहारनली, मांसपेशियों और पसलियों तंत्रिकाओं में किसी समस्या के कारण भी दर्द हो  सकता है। ।

     

     

    पेट की समस्या होने पर

     

    पेट में किसी भी प्रकार की  समस्या होने पर सीने में दर्द हो सकता है। । जब पित्ताशय की थैली में गैस बनती है तो यह गैस सीने की तरफ चढ़ती है सीने में दर्द होने लगता है। इस स्थिति में एंटासिड मेडिसिन का सेवन करने से दर्द घट जाता है। यह समस्या ज्यादातर सोते समय होता है।

     

    फेफड़ा संबंधित रोग होने पर

     

    सीने में दर्द होने का एक कारण फेफड़ों में संक्रमण या फेफड़ों संबंधित बीमारी भी होती  है। इस दौरान दर्द सीने के बीच में न होकर बगल में होता है। सांस लेने या खांसने से यह दर्द और बढ़ जाता है। तपेदिक या निमोनिया आदि रोग होने की वजह से भी सीने में दर्द हो सकता है।

     

    प्ल्यूराइटिस (छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन)

     

    छाती की अंदरूनी दिवारों में सूजन भी सीने में दर्द होने का कारण बनता है। यदि फेफड़ों की ऊपरी सतह के झिल्ली में सूजन आ जाए तो छाती की अंदरूनी दीवार की सूजी हुई सतह से सांस लेने पर हवा रगड़ खाने लगती है। जिससे व्यक्ति के सीने में असहनीय दर्द होने लगता है। इस स्थिति को प्ल्यूराइटिस कहा जाता है।

     

    एंजाइना पेक्टोरिस

     

    एंजाइना कोरोनरी धमनी की बीमारी का एक लक्षण है। जब किसी व्यक्ति के दिल तक रक्त पहुंचाने वाली नसों में ब्लॉकेज हो जाता है या किसी भी कारण से दिल तक पहुंचने वाला रक्त प्रवाह (Blood Flow) धीमा पड़ जाता है। जिसके कारण सीने में दर्द या बेचैनी महसूस होती है।

     

     

    कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन

     

    कोरोनरी धमनी में किसी कारणवश छेद या खरोंच होने को कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन कहा जाता है। इस स्थिति में सीने में अचानक सनसनी के साथ तेज दर्द होता है, जो शरीर के कई अंगों जैसे गर्दन, पीठ या पेट को प्रभावित करते हैं।

     

    पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज

     

    दिल की धमनियों के दर्द को पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज (P.V.D) कहा जाता है। यह समस्या तब उत्पन्न होती है, जब दिल से जुड़ी शरीर के आंतरिक अंग एवं मस्तिष्क को रक्त पहुंचाने वाली धमनियों में रक्त का संचरण बाधित होने लगता है। जिससे सीने में दर्द होता है।

     

    चेस्ट पेन के लक्षण

     

    • सीने में चुभन या खिंचाव का अनुभव करना।
    • सीने में भारीपन महसूस करना।
    • घबराहट या बेचैनी होना।
    • कमजोरी महसूस करना।
    • चक्कर आना।
    • सांस लेने में तकलीफ होना। 
    • शरीर के अन्य हिस्सों जैसे पीठ, गर्दन और हाथों तक दर्द का फैलना।
    • निगलने में परेशानी होना।
    • मुंह का स्वाद बिगड़ना।
    • उल्टी या मतली आना।
    • कोल्ड स्वेट अर्थात गर्मी की बजाय घबराहट या डर की वजह से पसीना आना।

     

    सीने में दर्द से बचाव

     

    • अधिक ठंड वाले वातावरण से बचें।
    • भोजन करते समय अधिक नमक का सेवन न करें।
    • प्रतिदिन व्यायाम करें।
    • आहार में फाइबर युक्त पदार्थों का सेवन करें।
    • कैलोरी युक्त पदार्थो के सेवन से बचें।
    • धूम्रपान, तंबाकू एवं अलकोहल के सेवन से बचें।
    • प्रतिदिन ताजे अनार के जूस का सेवन करें।

     

    सीने में दर्द के घरेलू उपचार

     

     

    लहसुन है फायदेमंद

     

    लहसुन सीने में दर्द के लिए उपायों में से एक है। इस पर किए गए एक शोध के मुताबिक, प्रतिदिन लहसुन के सेवन से हृदय रोग होने की संभावना कम होती हैं। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और प्लाक  को धमनियों तक पहुंचने से रोकता है। इसकी मदद से रक्त प्रवाह में सुधार आता है। इसलिए प्रतिदिन 1 चम्मच लहसुन  का रस गर्म पानी में डालकर सेवन करना सीने में उत्पन्न दर्द एवं ह्रदय रोगों में फायदेमंद हैं। इसके अलावा एक लहसुन की कली एवं 2 लौंग रोजाना चबाकर सेवन करना भी फायदेमंद होता है।

     

    अदरक

     

    अदरक का सेवन भी हृदय संबंधी बीमरियों  में उपयोगी होता है। अदरक में जिंजरोल नामक कंपाउंड पाया जाता है जो कोलेस्ट्राल के स्तर को कम करता है। इसके अलावा अदरक में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को खराब होने से बचाते है। इसके लिए आप रोजाना अदरक की चाय सेवन करना फायदेमंद है।

     

    बादाम

     

    बादाम में पॉली नेचुरल फैटी एसिड एवं मैग्नीशियम प्रचूर मात्रा में पाई जाती है। जो सीने में दर्द होने के खतरे को कम करता है। इसके अलावा सीने में दर्द होने पर बादाम का तेल और गुलाब के  तेल को समान मात्रा में मिला लें। अब इस मिश्रण को सीने पर हल्के हाथों से लगाएं।

     

    हल्दी

     

    हल्दी में करक्यूमिन (Curcumin) प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। जो थक्का बनाने एवं धमनी प्लाक का कम करने में सहायक होता है। इसके अलावा करक्यूमिन सीने की सूजन को भी कम करता है। जिससे सीने में दर्द से राहत मिलती है। इसके लिए रोजाना हल्दी को गर्म दूध में मिलाकर पिएं। ऐसा करने से सीने के दर्द में आराम मिलता है।

     

    तुलसी

     

    तुलसी के पत्ते विटामिनके और मैग्नीशियम से भरपूर होते  है। इसमें मौजूद मैग्नीशियम हृदय में कोलेस्ट्रॉल के निर्माण को रोकता है। साथ ही यह हृदय विकारों के अलावा सीने के दर्द में मददगार है। इसके लिए एक चम्मच तुलसी के रस को शहद के साथ या 8-10 तुलसी के पत्तियों को खाने से भी सीने के दर्द में आराम मिलता है।

     

    एलोवेरा

     

    एलोवेरा में कई ऐसे औषधीय गुण पाए जाते हैं। जो ह्रदय को स्वस्थ्य रखने, कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने एवं रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं। यह सभी कारक सीने के दर्द से राहत पहुंचाने का काम करते हैं। इसके लिए प्रतिदिन १/४ कप एलोवेरा जूस गर्म पानी के साथ सेवन करें।

     

    Read More
    Hyperdontia: Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

    Posted 14 July, 2022

    Hyperdontia: Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

    Hyperdontia is an oral condition characterized by the development of an excess number of teeth. The standard number of primary teeth is 20 and permanent teeth is 32. The primary teeth, also known as the deciduous teeth, are the first set of teeth that grows in a person’s mouth. The permanent teeth then replace them, usually erupting completely at age of 21. Affected individuals can have extra primary or permanent teeth.

    These extra teeth are sometimes called supernumerary teeth and can appear in any area of the dental arch (the curved area where the teeth attach to the jaw). The additional teeth may be small in number or many, and their arrangement may be symmetrical or non-symmetrical.

    Types of Hyperdontia

    Supernumerary teeth are categorized based on their shape and position in the mouth.

    Following is the classification based on its shape-

    • Supplemental-the tooth is shaped similarly to the type of tooth it grows near.
    • Tuberculate- the tooth has a barrel-like shape.
    • Conical-the tooth is shaped like a peg, with a wide base and narrows out at the top.
    • Compound odontoma- the tooth consists of multiple small, tooth-like growths near each other.
    • Complex odontoma-a disorganized mass of tooth-like tissue growth.

    Following are the types of extra supernumerary teeth based on their location-

    • Paramolar-An extra tooth at the back of the mouth that grows next to a molar.
    • Distomolar-The tooth grows in line with your other molars, not around them.
    • Mesiodens-This is the most common type of tooth for people with hyperdontia. This indicates that extra tooth growing behind or around the incisors (the four teeth at the front of the mouth that are used for biting).

    Symptoms of Hyperdontia

    The main symptom of hyperdontia is the growth of additional teeth just behind or near the primary or permanent teeth.

    When the extra teeth put pressure on the jaw and gums, following symptoms may occur-

    • Pain and swelling.
    • Formation of cysts and polyps.
    • Teeth crowding.

    Causes of Hyperdontia

    The exact cause of hyperdontia is unknown. However, it is believed that there may be a genetic factor along with some evidence of environmental factors leading to the condition.

    Another possible cause is an over activity of the dental lamina during development. The dental lamina is the area of ​​cells that initiates the formation of the tooth germ that forms the tooth. Hyperdontia appears to be associated with several hereditary diseases, including-

    • Fabry disease.
    • Gardner’s syndrome.
    • Ehlers- Danlos syndrome.
    • Cleft palate and lip.
    • Cleidocranial dysplasia.
    • Marfan syndrome.
    • Sturge-weber syndrome.
    • Orofaciodigital syndrome.

    Risk Factors of Hyperdontia

    Genetic disorders are common risk factors, and even in the absence of genetic disorders, hyperdontia can occur in many family members.

    It occurs more often in permanent teeth than in primary teeth and is twice as common in men than in women. 98% of hyperdontia is usually seen in the upper jaw than in the lower jaw. The front teeth are affected more often than the side teeth or the molar teeth region.

    Diagnosis for Hyperdontia

    If the extra teeth have already erupted or grown, diagnosing the condition is very easy.

    • A routine dental X ray is a must if they are in a primary stage.
    • The doctor may also use a CT scan to get a more detailed look at your mouth, teeth and jaw.

    Treatment for Hyperdontia

    Since the majority of supernumerary teeth will cause clinical problems, detecting and treating them as soon as possible is very important.

    Treatment generally consists of removing the teeth. Treatment depends on whether hyperdontia causes complications such as-

    • Difficulty in eating or chewing.
    • In case of gingivitis, problems in brushing teeth.
    • Crooked teeth or overcrowding of teeth.
    • Delayed eruption of permanent teeth.
    • In case of unerupted damage to permanent teeth.
    • Discomfort due to the extra teeth.

    When to visit a dentist?

    The best time to visit the dentist is when you have-

    • Swelling or pain in the mouth.
    • Extra teeth not in line with the surrounding teeth.
    • Delayed eruption of permanent teeth.
    • Any discomfort in the mouth.
    • Crooked teeth.
    Read More
    Sleep Apnea: Types, Symptoms, Causes and Treatment

    Posted 07 July, 2022

    Sleep Apnea: Types, Symptoms, Causes and Treatment

    Sleep apnea is a serious sleep disorder characterized by repeated episodes of stopping and starting a person's breath while asleep. If you snore loudly and feel tired even after a good sleep, you may have sleep apnea. If left untreated, sleep apnea can lead to many health problems, including hypertension (high blood pressure), stroke, cardiomyopathy (enlarged heart muscle tissue), congestive heart failure and diabetes.

    What happens when you stop breathing?

    When you stop breathing, your heart reduces the supply of oxygen. Then your unconscious reflex will wake you up and the episode of shortness of breath will end. When this happens, your heart rate tends to increase rapidly along with blood pressure.

    Types of Sleep Apnea

    The main types of sleep apnea are:

    • Obstructive Sleep Apnea (OSA):OSA occurs when the airways in the throat are physically blocked. This defect causes a temporary pause in breathing. OSA affects more men than women. It can occur in people of any age but is more common in older ones.
    • Central Sleep Apnea(CSA):CSA occurs when there is a problem with the brain system that controls the muscles involved in breathing, resulting in slower and shallower breathing. CSA has been found to affect approximately 0.9% of adults over the age of 40 years. It is more common in men than women. CSA affects breathing differently than OSA. Instead of the obstruction causing breathing to stop, the problem arises in the way the brain communicates with the muscles responsible for breathing.
    • Mixed Sleep Apnea (MSA):When a person has both OSA and CSA, it is referred to as mixed sleep apnea or complex sleep apnea.

    Symptoms of Sleep Apnea

    Common signs and symptoms of obstructive and central sleep apnea are:

    • Heavy snoring.
    • Intervals in which you stop breathing during sleep that will be reported by another person.
    • Inhaling air while sleeping.
    • Waking up with a dry mouth.
    • Headache in the morning.
    • Difficulty in sleeping (insomnia).
    • Difficulty in paying attention when awake.
    • Irritability.
    • Night sweats.
    • Frequent urination at night.
    • Sexual dysfunction.

    Causes of Sleep Apnea

    Multiple causes have been identified that increases the risk of blockage and Obstructive Sleep Apnea (OSA):

    • ObesityObesity is a major cause of OSA and can be a major risk factor in up to 60% of cases.
    • Use of sedativesUse of sedative drugs, including alcohol, can cause the tissues in the throat to relax, facilitating airway blockage.
    • Family historyPeople who have close relatives suffering from OSA are more likely to develop OSA.
    • Nasal congestionThose who breathe through their nose due to congestion are more likely to develop OSA.
    • Sleeping on your backThis sleeping position facilitates contraction of the tissues around the airways, thereby causing blockage.
    • SmokingIt has been found that people who smoke, especially heavy smokers, have a higher rate of OSA than non-smokers.

    Treatment for Sleep Apnea

    Lifestyle changes

    Lifestyle changes are essential to normalize breathing and are important in treatment. These include

    • Taking a heart healthy diet.
    • Developing healthy sleeping habits.
    • Limiting alcohol consumption.
    • Quitting smoking.
    • Doing exercise.
    • Sleeping on the side.

    Continuous positive airway pressure (CPAP) therapy

    This is the main treatment for sleep apnea. A CPAP machine is a device that uses a tube and a nose cover or an airtight mask to constantly circulate air while you sleep. Air pressure helps keep the airways open by preventing pauses in breathing.

    • HumidifierA humidifier adds moisture to the air. It is ideal for anyone with sleep apnea because dry air can irritate the respiratory tract and body.
    • SurgerySurgery can harden or shrink the tissue causing the obstruction, or remove excess tissue or enlarged tonsils.
    • Mandibular repositioning device(MRD)This is a special oral device suitable for people with mild or moderate OSA. The mouthpiece keeps the jaw in a forward position during sleep to expand the space behind the tongue. This helps keep the upper airway open by preventing apnea and snoring.
    • MedicationSome medications can help with CSA but should only be used after consulting a sleep specialist. Examples include
    • Acetazolamide
    • Zolpidem
    • Triazolam

    However, it can have serious side effects and may not be suitable for everyone.

    Home Remedies for Sleep Apnea

    • HoneyHoney has anti-inflammatory properties due to its high content of phenolic compounds that can act as antioxidants. Patients with sleep apnea appreciate its beneficial effects on the throat.

    Before going to bed, drink a glass of warm water or tea and add a teaspoon of raw honey.

    • LavenderLavender has a soothing scent that reduces anxiety and provides better sleep.

    Apply a few drops of lavender essential oil to the towel. Then place the towel under your pillow or on your pillowcase.

    You can also add lavender to hot water and inhale the steam, or use an oil diffuser to scent your bedroom.

    When to see a doctor?

    Heavy snoring can indicate a potentially serious problem, but not everyone who has sleep apnea, snores. Consult your doctor if you have signs or symptoms of sleep apnea. Ask your doctor about sleep problems that make you tired, sleepy, and irritable.

    Read More
    Mumps: Symptoms, Causes and Treatment

    Posted 08 June, 2022

    Mumps: Symptoms, Causes and Treatment

    Mumps is a highly contagious viral infection of the salivary glands that is transmitted from person to person through saliva, nasal secretions and close contact. The most commonly affected age group in children is between 5 and 15. A common symptom of mumps is swelling of the salivary glands, making the patient's face look like a hamster.

    How is Mumps transmitted?

    Once the mumps virus enters the upper respiratory tract, it is spread from one infected person to another through contact with saliva or respiratory secretions (such as mucus). Mumps can also spread through contact with objects, such as toys or water drinking glasses that have been infected by a sick person.

    Symptoms of Mumps

    Once a person is infected with the virus, mumps symptoms usually develop within 14 to 25 days.

    The most common symptom of mumps is swelling of the parotid glands, a pair of glands that are responsible for producing saliva. Parotid glands are located just below the ears, on either side of the face. The swelling usually affects both glands which can cause pain, tenderness, and difficulty in swallowing.

    Other symptoms are–

    • Feeling unwell
    • Fever
    • Difficulty in chewing
    • Headache
    • Joint pain
    • Dry mouth
    • Mild stomach ache
    • Fatigue
    • Loss of appetite

    What causes Mumps?

    It may be transmitted through respiratory secretions (such as saliva) from people who already have the disease. The virus travels from the airways to the salivary glands and multiplies, causing the glands to swell.

    Causes of mumps are-

    • Sneezing or coughing.
    • Using and eating on the same person's tableware.
    • Sharing food and drink with someone who is infected.
    • Physical contact.
    • An infected person touches their nose or mouth and then transfers it to a surface for others to touch.

    Individuals infected with the mumps virus are infectious for about 15 days (6 days before symptoms begin and up to 9 days after onset). The mumps virus belongs to the paramyxovirus family, a common cause of infection, especially in children.

    How is Mumps diagnosed?

    Doctors can usually diagnose mumps by swelling of the salivary glands. If the glands are not swollen and doctors suspect mumps based on other symptoms, they culture the virus. The culture is done with swabbing in the inside of the cheek or throat. The swab collects mucus and cells and sends it to a lab to be tested for the mumps virus. Other than mumps, any other infection can also cause swelling of the salivary glands.

    How to prevent the spread of Mumps?

    There are a number of precautions that must be taken to prevent the spread of infection-

    • Wash your hands frequently with soap and water.
    • Do not go to work/school until 5 days after symptoms appear.
    • Cover nose and mouth with a tissue when sneezing or coughing.
    • Get vaccinated.

    Who must take the MMR (measles-mumps-rubella)vaccine?

    You should be vaccinated if you do not meet the criteria-

    Pregnant women of childbearing age.

    Attending another college or high school.

    Work in hospitals, medical facilities, children's centers or school.

    Planning a trip abroad.

    Side effects of MMR vaccine

    The MMR vaccine is very safe and effective.

    Most of the people do not experience any side effects from the vaccine. However, some people may have a mild fever, rash or joint pain.

    In rare cases, seizures caused by fever may occur in children receiving the MMR vaccine. However, these seizures are not associated with long-term problems.

    Home remedies for Mumps

    Ginger-

    Ginger has anti-inflammatory, antibacterial and antiviral properties. Make a paste of dry ginger powder and water and apply it on the area that looks swollen.

    Aloe vera-

    Aloe Vera is an excellent remedy for mumps as it has antioxidants and antibacterial properties. Peel off a fresh aloe vera leaf and rub the gel over the affected area to reduce swelling and pain.

    Warm or cold compress-

    Using hot or cold compress is an effective way to relieve swollen gland pain caused by mumps.

    Fenugreek seeds-

    Fenugreek seeds have antioxidants. Grind the fenugreek seeds along with the asparagus seeds until they form a thick paste. Applying this paste to the affected area provides relief in pain.

    Neem leaves-

    Neem works very well in treating mumps. Crush the leaves and mix an equal amount of turmeric powder to make a paste with a little water and apply it on the swollen area. This will provide great relief from the mumps.

    Avoid citrus foods-

    Stay away from citrus fruits and cottage cheese. Instead, drink water and vegetable soup.

    Proper rest-

    Get enough rest and relaxation until the fever goes away.

    When to see a doctor?

    See your doctor if you or your child have signs and symptoms of mumps. Tell your doctor beforehand that you suspect mumps so that steps can be taken to prevent the virus from spreading to other people.

    Read More
    Causes, Precautions and Home Remedies for Bad Breath

    Posted 05 April, 2022

    Causes, Precautions and Home Remedies for Bad Breath

    You must have often felt that while talking to some people, their mouth smells bad due to which they are neither able to talk properly nor can they laugh openly. Bad breath often instills low self confidence in people and they hesitate to talk openly.

    Bad odor from the mouth is a common problem that people are worried about, but they do not get treatment or do not have the right information about it. Apart from this, some people do not even cure this problem for fear of being made fun of themselves. Usually this problem occurs among people who do not clean their mouth properly and do not maintain oral hygiene but it does not mean that other people do not or cannot have this problem. There are mainly three reasons for bad breath, oral, non-oral and other reasons.

    Causes of Bad Breath

    Oral Causes-                                                                                                                                                               

    • As the temperature of the mouth rises, bacterial growth occurs which leads to bad breath.
    • While eating something, the fibrous food gets stuck in the teeth and causes infection in the mouth which further leads to bad odor from the mouth. This makes it imperative to clean the mouth properly.
    • Pyorrhea disease has a counter effect on the gums which causes the mouth to stink.
    • Saliva keeps moisture in the mouth and helps in keeping the mouth clean. Dead cells accumulate in a dry mouth. These cells also produce bad odour.
    • Sometimes bad odor in the mouth occurs due to sores and blisters.
    • It is natural to notice bad odor from the mouth if the cap on the teeth is not cleaned properly.

    Non oral Causes-

    Some diseases also cause bad breath from the mouth like-

    • Kidney or lung disease.
    • Diabetes.
    • Nasal problems or sinus.
    • When there is bacterial activity in the lungs.

    Other causes of bad breath are-

    • The bad smell also occurs with consumption of food that contains onions, garlic and spices in large quantities but this smell subsides automatically in no time.
    • Consumption of products like tobacco and cigarettes is also a big reason for bad smell in the mouth. Apart from this, the chances of getting cancer also increase by consuming them.

    Precautions required to avoid bad breath-

    • Drink optimum amount of water.
    • Do not smoke, use tobacco and alcohol.
    • Reduce the intake of coffee and tea.
    • Brush regularly and make it a habit to gargle with clean water after eating.
    • If possible, use dantun at least once a day because it removes the bad odor of the mouth and also strengthens the gums.
    • Avoid eating spicy food and reduce the consumption of onion, garlic, ginger, etc.
    • Consume less sweets because it might lead to tooth decay which leads to bad breath.
    • Digestive problems also lead to bad breath. That's why it is important to make a habit of walking for some time after eating.
    • Chewing gum and consumption of sugar free sweets helps in the formation of saliva. So, both of these can also be consumed.
    • Visit the dentist regularly for dental check-ups.

    Home remedies to get rid of bad breath

    • Odor and other diseases are cured by gargling with mint solution.
    • Mixing one teaspoon of ginger juice in a glass of water and gargling with it two to three times a day reduces bad breath.
    • Chewing licorice two to three times a day does not cause bad breath.
    • Gargling with salt in warm water also reduces bad breath.
    • Drinking green tea reduces bad breath. It contains anti-bacterial components which remove the odor.
    • Chewing guava leaves also reduces bad breath.
    • Mixing a pinch of salt in a spoonful of mustard oil, rubbing it on the gums keeps the gums healthy and also reduces the risk of bad breath.
    • Fennel, cardamom, licorice, roasted cumin, coriander etc. are natural mouth fresheners, chew them after meals and at other times. This will reduce the bad smell of the mouth.
    • Chewing cloves is also beneficial for eliminating bad breath. Apart from this, clove also benefits in other problems of the mouth.
    • Boiling pomegranate peel in water and rinsing with it also reduces the smell of the mouth gradually.

    When to go to the doctor?

    If you have any of the following problems along with bad breath, go to the doctor without delay-

    • Loss of teeth along with bad breath.
    • Blood pouring from the mouth with a foul smell.
    • Swelling and pain in the gums.
    • Fever.
    • In case of a cold and runny nose.
    • When coughing up mucus.
    • On having a sore throat.

     

    Read More
    What is a Tooth abscess? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

    Posted 04 April, 2022

    What is a Tooth abscess? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

    A tooth abscess is pus that is caused by a bacterial infection. It can cause abscesses in different areas of the tooth for various reasons. A periapical abscess occurs at the tip of the jaw, while a periodontal abscess occurs in the gums adjacent to the root of the tooth. A periapical tooth abscess is usually caused by an untreated tooth cavity, injury, or previous tooth change. Dentists clean the area to remove the abscess and treat it to get rid of the infection. The doctor can also repair the tooth by the treatment of the root canal but in some cases, there is a need to take out the tooth. Left untreated, a tooth abscess can sometimes be serious and even fatal.

    Symptoms of Tooth abscess

    When there is an abscess in the tooth, the pain of the tooth and gums gradually reaches the jaw, ear and neck due to which the abscess in the tooth or gum comes out. Therefore, there is severe pain in it. The symptoms are-

    • Pain at the infected area after eating anything.
    • Sensitive teeth.
    • Bad-tasting fluid discharge in the mouth.
    • Bad breath.
    • Redness and pain in the gums.
    • Feel uneasiness.
    • Difficulty opening the mouth.
    • Swelling in the affected area.
    • Swelling on the face.
    • Unexpected pain in the teeth.
    • Insomnia.
    • Having trouble swallowing something.
    • Fever.

    Causes of abscess in a tooth

    • Gum disease.
    • Not cleaning the mouth properly.
    • Weakening of the immune system.
    • Chipped tooth.
    • Swelling and burning in the gums.
    • Tooth infection bacteria.
    • Eating a large amount of carbohydrate-rich and sticky foods.

    Treatment of Tooth abscess

    See the dentist as soon as you see the symptoms of a tooth abscess. From that, it will be known how the condition of the abscess and infection is and by which method the dental abscess will be cured. Doctors treat tooth abscesses with the following procedures:

    • Root canal treatment fills the gap inside the tooth or gum.
    • If the gap cannot be filled, the doctor treats the tooth or gum by removing it.
    • Method of Initiation and drainage is also adopted. With this, a small cut is made in the gum and the pus is taken out. However, this is a temporary solution.

    Home remedies for Tooth abscess

    Garlic-

    Garlic is a natural weapon to kill bacteria. Raw garlic juice helps to kill the infection. If there is a lot of pain in the tooth, then take a bud of raw garlic. Grind it and squeeze it to extract its juice. Apply this juice to the affected area. This home remedy works like magic in toothache.

    Clove oil-

    Clove oil is also helpful in preventing infection. It is a good remedy for toothache and gum disease. For use, take a little clove oil and brush it slowly. Be extra careful while applying it to the affected area. Do not apply too much pressure and massage your gums slowly or else it will hurt more. Apply some amount of clove oil on the gums and massage gently.

    Oil pulling-

    This home remedy is very helpful. All you need is coconut oil for this. For use, take a tablespoon of coconut oil and run it in the mouth. Do not swallow it, keep it in your mouth for about 30 minutes. Then spit it out and wash your mouth. Doing so definitely gives relief.

    Peppermint Oil-

    Peppermint oil works like magic in toothache. To use, first, take some oil on the tips of your fingers and then gently rub it on the affected area. This will give instant relief from toothache.

    Salt-

    To get instant relief, mix some salt in lukewarm water and gargle with this water. Doing this will be painful in the beginning but after that, you will get some relief. Repeat this several times. This will reduce the pain by about 90%.

    Teabag-

    Teabags are another home remedy. Apply the herbal tea bag to the affected area. This will give instant relief from the pain caused by pus.

    Oregano oil-

    Oregano oil has anti-bacterial, anti-fungal, antioxidant and antiviral properties. It is very effective in home remedies especially in diseases of teeth and gums.

    Apple Cedar Vinegar-

    Apple cider vinegar is another effective treatment for pus in the teeth. For this take one tablespoon of Apple cider vinegar and keep it in your mouth for some time and then spit it out. Don't swallow it. This will make the affected area free of germs and reduce pain.

    When to go to the doctor?

    See a doctor immediately if the pain in the teeth and gums gradually reaches the jaw, ear and neck.

    Read More
    जानें, मुंह सूखने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

    Posted 24 May, 2022

    जानें, मुंह सूखने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

    प्यास की वजह से मुंह का सूखना आम बात है। लेकिन मुंह का बार-बार और लगातार सूखना  शरीर की किसी समस्या का संकेत देता है। आमतौर पर मुंह सूखने का वैज्ञानिक कारण मुंह में लार बनने की प्रक्रिया का धीमा होना है। जिसकी  मुख्य वजह शरीर में पानी की कमी होना, भूखे रहना एवं पानी में फ्लोराइड की मात्रा की कमी होना आदि होती  है। यह सभी लक्षण मुंह सूखने (Dry mouth) की ओर संकेत करते हैं। यह समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। विशेषज्ञों के अनुसार आजकल लगभर हर छठा व्यक्ति इस समस्या से जूझ रहा है। इसलिए इसे आम समस्या समझकर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से इसके कई दुष्परिणाम देखे जा सकते हैं।

     

    क्या होता है मुंह का सूखना?

     

     मुंह सूखने की समस्या को मेडिकल की भाषा में जेरोस्टोमिया (Xerostomia) के नाम से जानते है। जब मुंह में लार ग्रंथियां (Salivary glands) लार बनाना बंद कर देती है, तो इस स्थिति में मुंह सूखने की समस्या उत्पन्न हो जाती है। मुंह में बनने वाली यह लार दातों के जीवाणुओं द्वारा बनाए गए एसिड को खत्म करती है। जिससे दांतों में कीड़े नहीं लगते और लार की वजह से भोजन को आसानी से चबाने और निगलने में मदद मिलती है। अतः मुंह सूखने की समस्या होने पर व्यक्ति को भोजन करने में भी दिक्कत होती है।

     

    मुहं सूखने के लक्षण

     

    • मुंह और गले में खुश्की रहना।
    • लार (saliva) का काफी गाढ़ा होना।
    • मुंह से दुर्गंध आना।
    • भोजन को चबाने एवं निगलने में कठिनाई होना।
    • भोजन का स्वाद पता न चलना या फीका पड़ना।
    • भोजन करने की इच्छा न होना।
    • बार-बार दांतों में कीड़े लगना।
    • मसूड़ों में खुजली और इससे संबंधित विकार होना।

     

    मुहं सूखने के कारण

     

    मुंह सूखने के पीछे कई कारण होते हैं। जिनमें प्रमुख कारण निम्नलिखित है :-

     

    किसी दवाई का दुष्प्रभाव होना

     

    बीमार होने पर डॉक्टर हमें कुछ दवाईयां देते हैं। जो हमें ठीक होने में सहायता करती हैं। लेकिन साथ में इन दवाईयों के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। जिसके कारण मुंह सूखने जैसी कई शारीरिक समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती हैं। इसके अलावा बिना डॉक्टर के परामर्श लिए हम और आप कुछ आम दवाईयों का सेवन करते हैं तो उनसे भी मुंह सूखने की समस्या अधिक होती है। एलर्जी ठीक करने वाली दवाइयां, डिप्रेशन, चिंता, नसों एवं मांसपेशियों के दर्द ठीक करने वाली दवाइयां आदि मुंह सूखने का कारण बनती है।

     

    बढ़ती उम्र

     

    मुंह सूखने के सबसे बड़े कारणों में से एक बढ़ती उम्र का होना भी होता है। यह समस्या ज्यादातर बुजुर्गों में देखने को मिलती है। हालांकि बुजुर्ग लोग अधिक दवाइयों का उपयोग करते हैं। जिनसे मुंह सूखने की समस्या हो सकती है।

     

    तंत्रिकाओं को हानि पहुंचना

     

     किसी व्यक्ति के सिर या गर्दन के किसी हिस्सों में चोट या सर्जरी होने से तंत्रिकाओं को हानि पहुंचती है। जिससे मुंह सूखने की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

     

    कैंसर थेरेपी

     

    कीमो थेरेपी ड्रग्स लार के प्रकार और उसके बनने की मात्रा को बदल सकते हैं। इसके अलावा रेडिएशन से इलाज करने पर गर्दन एवं सिर में उपस्थित लार ग्रंथियों को हानि पहुंचती है। जिससे लार बनने की मात्रा घट जाती है।

     

    धूम्रपान और तंबाकू का सेवन

     

    धूम्रपान करने और तंबाकू का सेवन करने से मुंह सूखने की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

     

    मेटामफेटामीन

     

    यह एक तरह का नशीला पदार्थ (ड्रग) होता है। जिसके सेवन से मुंह सूखने के लक्षण नजर आते हैं। इस अवस्था को मेथ माउथ (meth mouth) भी कहा जाता है।

     

    मुहं सूखने के अन्य कारक

     

    • डिहाइड्रेशन (निर्जलीकरण) होने पर।
    • पेट में किसी भी तरह की गड़बड़ी होने पर।
    • अनियमित दिनचर्या होने पर।
    • भूखे रहने पर।
    • देर रात तक जागने या कई दिनों तक नींद न आने पर।
    • लार के निर्माण करने वाली नसों में इंजरी होने पर।
    • शरीर में किसी तरह का संक्रमण एवं ट्यूमर होने पर।
    • ऑटोइम्यून की समस्या, मधुमेह, पार्किंसंस रोग, एड्स एवं अल्जाइमर बीमारी जैसी स्वास्थ्य समस्याएं होने पर।

     

    मुंह सूखने से बचने के लिए बरतें यह सावधानियां

     

    • तरल पदार्थों का अधिक सेवन करें।
    • ताजे फलों एवं सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें।
    • ऐसे फलों एवं सब्जियों का सेवन करें जिसमें जलीय अंश अधिक हो जैसे तरबूज, ककड़ी खीरा इत्यादि।
    • चाय एवं काफी का सेवन कम से कम करें।
    • मौखिक स्वास्थ्य बनाए रखें।
    • भोजन के पश्चात दांतों की अच्छी से सफाई करें।
    • भोजन को चबाकर खाएं और बीच-बीच में थोड़ी मात्रा में पानी पीते रहे। ताकि मुंह सूखने की समस्या न हो सके।
    • चिंता, तनाव और अवसाद से दूर रहे।
    • धूम्रपान, तंबाकू एवं नशीली पदार्थों का सेवन कतई न करें।
    • प्रतिदिन सुबह टहलें और नियमित रूप से व्यायाम करें।

     

    मुंह सूखने के घरेलू उपाय

     

     

    मुंह सूखने के इलाज में फायदेमंद है लाल मिर्च

     

    लाल मिर्च ड्राई माउथ के लिए अच्छा घरेलू उपचार है। इसके लिए लाल मिर्च के पाउडर को सूप या सलाद में डालकर सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके अलावा लाल मिर्च पाउडर को अंगुली के माध्यम से जीभ पर लगाएं। ऐसा करने से कुछ समय तक जीभ जलती है। लेकिन हमारी लार ग्रंथियां सक्रिय हो जाती हैं।

     

    सौंफ है फायदेमंद

     

    मुंह सूखने के इलाज में सौंफ का सेवन बेहतर होता है। दरअसल,सौंफ में फ्लेवनॉयड्स पाए जाते हैं, जो लार के उत्पादन में मदद करते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में एक चम्मच सौंफ एवं मिश्री डालकर उबालें। अब इस मिश्रण को ठंडा करके पीएं। ऐसा करने से मुंह के सूखेपन में लाभ मिलता है।

     

    नींबू और शहद है कारगर

     

    मुंह के सूखेपन के इलाज में नींबू और शहद को कारगर उपाय माना जाता है। इसके लिए एक गिलास पानी में नींबू के रस की कुछ बूंदे एवं एक चम्मच शहद लेकर अच्छे से मिलाएं। अब इस मिश्रण को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पूरे दिन पीते रहें। ऐसा करने से मुंह में लार बनती है और मुंह नहीं सूखता है।

     

    अदरक है लाभप्रद

     

    अदरक मुंह के सूखेपन के लिए लाभप्रद होता है। इस पर किए गए एक वैज्ञानिक शोध के मुताबिक, अदरक का उपयोग जेरोस्टोमिया के लक्षण को दूर करने के लिए किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से जिंगिबर ऑफिसिनेल पाया जाता है, जो लार के उत्पादन को उत्तेजित करता है। इससे मुंह सूखने की समस्या कुछ हद तक कम हो जाती है। इसके लिए अदरक का एक छोटा टुकड़े को मुंह में लेकर चबाएं।

     

    दालचीनी है कारगर

     

    दालचीनी में लार उत्पादन की क्षमता होती है। इसलिए इसका प्रयोग करने से मुंह की सूखेपन की समस्या से छुटकारा मिलती है। इसके लिए दालचीनी के एक टुकड़े को मुंह में रखकर चबाएं।

     

    बेकिंग सोडा का मिश्रण है लाभदायक

     

    मुंह के सूखेपन के उपचार में बेकिंग सोडा का इस्तेमाल अच्छा उपाय माना जाता है। इसके लिए एक गिलास पानी में एक चौथाई चम्मच बेकिंग सोडा, एक-एक चम्मच नमक और शक्कर एवं नींबू के रस की कुछ बूंदों को मिलाकर पीएं। ऐसा करने से डिहाइड्रेशन ( निर्जलीकरण) नहीं होता और मुँह सूखने की समस्या से छुटकारा मिलती है।

    Read More