Cart

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF. 5% OFF ON PREPAID ORDERS

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF.
5% OFF ON PREPAID ORDERS

No Extra Charges on Shipping & COD

Asthma - Symptoms, Causes and Home Remedies

Posted 14 December, 2021

Asthma - Symptoms, Causes and Home Remedies

Asthma is a disease involving the airways in the lungs in which the person has difficulty in breathing. Although there are many causes of this disease, allergies are considered to be the main cause of asthma. In the initial stage, asthma is treated with medicines but when the problem becomes serious, many times the doctor advises the patient to take an inhaler. Although the inhaler is effective in asthma, its use for many years leads to a bad effect on the skin as well as the risk of cataracts due to which more emphasis is given to home treatment. In asthma, the airways become inflamed, which causes the airways to constrict. This results in air moving in and out of the lungs through the airways, i.e, bronchial tubes, and in asthma, these airways remain swollen. When this swelling increases, it causes a tightening of the muscles around the airways. This is followed by symptoms such as cough with difficulty in breathing, wheezing and tightness in the chest.

 

Types of asthma

Allergic Asthma

During Allergic Asthma, the patient is allergic to a particular thing, such as when he comes in contact with dust and soil, he starts feeling short of breath or due to change in weather, the patient can also become a victim of asthma.

 

Nonallergic Asthma

This type of asthma is caused by going to the extreme of something. For example, when a person is under a lot of stress, he starts laughing very loudly, has got a lot of colds or has a lot of coughs, then he becomes vulnerable to nonallergic asthma.

 

Seasonal Asthma

Seasonal Asthma is a type of asthma caused by pollen grains or excess moisture in a particular season, not throughout the year.

 

Occupational Asthma

This asthma attack occurs suddenly during work. People who repeat the same type of work on a regular basis start having occupational asthmatic attacks or if the workplace environment does not suit them, they also become victims of asthma.

 

Child onset Asthma

Child onset asthma occurs only in children. As the asthmatic child grows older, the asthmatic condition starts to go away on its own. It is not very risky but needs to be treated at the right time.

 

Nocturnal i.e, Night-time Asthma

This type of asthma occurs only during the night, that is, if someone starts having asthma attacks mostly during the night, then he should understand that he is a victim of nocturnal asthma.

 

Symptoms of Asthma

As a symptom of asthma, there is difficulty in breathing first. Apart from this, the following are the symptoms found in a patient with asthma-

 
  • Frequent coughing with seizures.
  • Whistling sound while breathing.
  • Chest tightness and heaviness.
  • Difficulty in coughing and inability to expel phlegm.
  • Blocked and dry throat.
  • To be restless.
  • Increase in pulse rate.

Precautions to prevent Asthma

  • Asthma patients should avoid rain, cold, and dusty place. The increase in moisture during the rainy season increases the chances of infection.
  • One should not live in an environment that is too cold and high in humidity. This can increase the symptoms of asthma.
  • Wear a mask when you leave the house.
  • Avoid going in fog during the winter season.
  • Fresh paints, insecticides, sprays, incense sticks, aromatic perfumes should be avoided as much as possible.
  • Stay away from people who smoke.
  • Apart from this, the effects of asthma can be reduced by making healthy changes in lifestyle and diet.

Home Remedies for Asthma

Ginger and honey is the most popular home remedy for asthma

The traditional combination of ginger and honey is very beneficial for asthma. It soothes the throat, treats cold and cough and improves airflow in the lungs. For quick relief, take ginger with honey and black pepper daily.

 

Using amla prevents asthma

Amla is very good at curing asthma. It maintains respiratory functions and provides instant relief from cough. To avoid asthma and related disorders, one can drink amla juice every morning or eat a mixture of ground Indian gooseberry and honey.

 

Tulsi is a home remedy for asthma

Basil leaves are a very good home remedy for respiratory problems. It acts as a natural bronchodilator, improves airflow to the lungs and removes mucus from bronchitis. Extract the juice from basil leaves and add ginger and honey to it for better results. Take this decoction 2&3 times a day. Chewing a few basil leaves in the morning also provides relief from cold and cough.

 

Mustard oil and camphor are beneficial in asthma

Massaging the chest and upper back with warm mustard oil and camphor provides instant relief in congested lungs and makes breathing easier. It is very beneficial to do this during an asthma attack.

 

Vasaka is an effective remedy for asthma

Vasaka is one of the most powerful herbs for asthma. It has been used to treat respiratory disorders for hundreds of years. It provides very quick relief from cold and cough, clears the throat and is very useful in bronchitis and asthma. It is beneficial to drink the juice of its leaves or flowers once or twice a day.

 

Chamomile tea is useful in asthma

Drinking chamomile tea every morning or massaging the upper back and chest using chamomile oil is beneficial for asthma. It clears the respiratory tract and prevents asthma. It provides relief in bronchitis and helps achieve sound sleep by reducing stress hormones in the body.

 

Onion is beneficial in asthma disease

Consuming raw onion is beneficial in asthma. The sulfur present in onions is able to reduce lung irritation and other problems. Hence, onion is a successful treatment for asthma. Asthma patients must include it in their diet.

 

Get benefits of coffee in asthma

Broncho dilator properties are found in the caffeine present in coffee which helps in reducing the symptoms of asthma. Therefore, if asthma patients consume coffee in limited quantities, it gives them relief.

 

When to go to the doctor?

If the symptoms of asthma are complicated or last for more than five days, a doctor should be consulted immediately. For the successful treatment of asthma, all the rules mentioned above should also be followed.

Read More
कब्ज होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

Posted 17 March, 2022

कब्ज होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

भागदौड़ भरी जिंदगी और गलत लाइफ स्टाइल की वजह से अक्सर हम और आप लोग अपनी सेहत और खान-पान की चीजों पर ध्यान नहीं दे पाते। जिसके कारण शरीर में कई बीमारियां उत्पन्न होने लगती है। वैसे भी इस बदलते परिवेश में करीब सभी लोगों को कब्ज और गैस की शिकायत रहती है। जिसके कारण एसिडिटी, पेट में भारीपन, सिरदर्द और न जाने क्या कुछ सहना पड़ता है। ज्यादातर लोगों के दिनचर्या की शुरुआत कुछ इसी तरह से देखने को मिलती है। खाना समय पर हजम नहीं होता है, जिससे शौच करके समय बेहद परेशानी होती है। खाने को ठीक से न पचा पाने के कारण कब्ज जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती है। आज के इस दौर में कब्ज एक ऐसी समस्या है, जो लगभग हर बीमारी की जड़ है। कई बार यह समस्या इतनी जटिल हो जाती है कि जानलेवा साबित होने लगती है।

 

क्या है कब्ज?

असल में कब्ज पाचन तंत्र से जुड़ी समस्या होती है। जिसमें मल त्याग करते समय अधिक कठिनाई होती है। मल त्यागते समय आसानी से मल एनस (गुदा मार्ग) से बाहर न निकलने की स्थिति को कब्ज कहते हैं। कब्ज होने के कारण ही मल सख्त और मोटा हो जाता है। जिसके परिणामस्वरूप मल त्याग करते समय पेट एवं एनस (गुदा मार्ग) में दर्द भी होने लगता है।

 

कब्ज के लक्षण

कई लोगों में कब्ज के लक्षण एक या एक से अधिक देखे जा सकते हैं। जोकि इस प्रकार हैं-

 
  • बार-बार शौच जाना।
  • मल का सख्त और मोटा होना।
  • मल त्याग करते समय अधिक जोर लगाना ।
  • लंबे समय तक शौचालय में बैठना।
  • शौच के बाद भी पेट साफ न होना।
  • पेट में भारीपन महसूस करना।
  • पेट में मरोड़ या दर्द होना।
  • मुंह में छाले पड़ना।
  • सिर में दर्द होना।
  • बदहजमी होना।
  • त्वचा में मुंहासे और फुंसियों का होना।
  • मुंह से दुर्गंध आना।
 

कब्ज के कारण

कब्ज होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। यह कारण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति पर अलग-अलग हो सकते हैं। पर कुछ मामलों में यह कारण सामान्य हो सकते हैं तो कुछ मामलों में यह गंभीर समस्या का संकेत भी हो सकते हैं। कब्ज की समस्या मुख्य रूप से हमारी जीवनशैली और खानपान से जुड़ी होती है। जैसा कि शुरुआत में बताया गया है कि कब्ज शरीर में आ रही कमियों के कारण पैदा होती है। आइए बात करते हैं इन्हीं कमियों के बारे में -

 

फाइबर युक्त भोजन का सेवन न करना

वैसे तो फाइबर फल, सब्जियां एवं अनाज में पर्याप्त मात्रा में होती है। मुख्य रूप से फाइबर दो प्रकार का होता है। पहला साल्युबल और दूसरा इनसाल्युबल। यह दोनों प्रकार के फाइबर पेट के लिए अच्छे होते हैं। साल्युबल फाइबर पानी के साथ मिलकर पाचन को बढ़ाता है। वहीं, इनसाल्युबल फाइबर मल को नरम करके आसानी से पास करने में मदद करता है। इस प्रकार फाइबर मल त्याग को सामान्य रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

 

तरल पदार्थों का कम सेवन करना

फाइबर को बेहतर तरीके से काम करने के लिए पानी और अन्य तरल पदार्थों की आवश्यकता पड़ती है। इसके लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। इसके अलावा मीठे फल, सब्जियों का रस और सूप इत्यादि का सेवन भी करना चाहिए।

 

आंतों में इंफेक्शन (Intestinal Infection)

आंतों में इंफेक्शन होने से कई बार कब्ज की समस्या होने लगती है। आंतों में होने वाली इस समस्या को गैस्ट्रोएंटेरिटिस (Gastroenteritis) कहते हैं। यह बीमारी वायरस, बैक्टीरिया, फूड प्वाइजनिंग जैसे कारणों से होती है।

 

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज

जब डाइजेस्टिव ट्रैक्ट (पाचन मार्ग) में क्रॉनिक इन्फ्लेमेशन होता है तो इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज (पेट दर्द रोग) होता है। जिसके कारण कब्ज होने के साथ डायरिया की दिक्कत भी हो सकती है।

 

गर्भावस्था के दौरान

ज्यादातर गर्भवती महिलाओं में भी कब्ज की समस्या देखने को मिलती है। क्योंकि गर्भावस्था के समय प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का स्तर ज्यादा और मोटीलिन हार्मोन का स्तर कम हो जाता है। परिणामस्वरूप पेट से गुदा मार्ग तक मल आने में लगने वाला समय (Bowel Transit Time) बढ़ जाता है। इसके अलावा, गर्भवती महिलाएं में कब्ज से जुड़ी समस्या का कारण अतिरिक्त आयरन का सेवन करना भी होता है।

 

हाइपोथायरायडिज्म

हाइपोथायरायडिज्म भी कब्ज होने का प्रमुख कारण होता। यह शरीर में हार्मोन असंतुलन के लिए जिम्मेदार होता है। जो कब्ज होने का कारण बन सकता है।

 
  • कब्ज होने के अन्य कारण
  • अधिक शराब का सेवन करने पर।
  • खाद्य पदार्थों से एलर्जी होने पर।
  • भारी भोजन का सेवन करने पर।
  • सही समय पर भोजन न करने पर।
  • ज्यादा तेल एवं मिर्च मसाले का सेवन करने पर।
  • एस्पिरिन और एंटी इंफ्लेमेटरी दवाओं अधिक उपयोग करने पर।
  • शारीरिक श्रम की कमी होना।
  • हेल्थ सप्लीमेंट्स दवाओं का अधिक सेवन करना।
  • तनाव, अवसाद या चिंता करना।
  • शौच को रोकना।
  • पर्याप्त नींद न लेना।

कब्ज के प्रकार

कब्ज मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है। आइए, बात करते हैं इन्ही प्रकारों के बारे में;

 

नार्मल ट्रांजिट कॉन्स्टिपेशन

नार्मल ट्रांजिट कॉन्स्टिपेशन को आम भाषा में सामान्य कब्ज कहा जाता है। इससे ग्रसित लोगों को मल त्यागते समय कठिनाई महसूस होती है। लेकिन वह अपने दिनचर्या की भांति सामान्य रूप से मल त्याग करता है।

 

स्लो ट्रांजिट कॉन्स्टिपेशन

स्लो ट्रांजिट कॉन्स्टिपेशन, बड़ी आंत में होने वाले विकार के कारण होता है। जिसमें एंटरिक नर्वस सिस्टम (ENS) की तंत्रिकाओं की अहम भूमिका होती है। यह तंत्रिकाएं ही बड़ी आंत से एनस तक शौच को लेकर आती है। लेकिन जब इस तंत्रिका में असामान्यता आ जाती है तो व्यक्ति स्लो ट्रांजिट कॉन्स्टिपेशन से पीड़ित हो जाता है।

 

डेफिकेशन डिसऑर्डर

जिन लोगों को पुराने कब्ज की शिकायत होती है, वह लोग शौच विकार (डीफेक्शन डिसऑर्डर) से ग्रसित होते हैं। इसका मुख्य कारण गुदा संबंधी अंगों में शिथिलता और उनका आपस में बिगड़ना होता है। 

 

कब्ज होने पर निम्न बातों पर दे ध्यान

  • ताजे फल एवं सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें।
  • अधिक फाइबर युक्त आहार जैसे फलियां और साबुत अनाज का सेवन करें।
  • करीब 8 से 10 गिलास पानी प्रतिदिन पिएं।
  • चाय, कॉफी,धूम्रपान आदि का सेवन कम करें।
  • मल त्याग करते समय अधिक जोर न लगाएं।
  • शराब के सेवन से बचें।
  • तले-भुने एवं जंक फूड के सेवन से बचें।
  • भोजन को चबाकर खाएं।
  • भोजन करते समय पानी न पिएं।
  • नियमित रूप से सुबह टहलें और व्यायाम करें।
 

क्या हैं कब्ज के घरेलू उपाय?

  • नींबू में पाए जाने वाला सिट्रिक एसिड कब्ज एवं गैस की समस्या का कारण बनने वाले बैक्टीरिया के संक्रमण को कम करता है। इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर सेवन करें।
  • कब्ज की समस्या में नारियल का पानी पीना अच्छा विकल्प है। क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट और गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव गतिविधियां होती हैं।
  • गुनगुना पानी पीने से पाचन के साथ अपच से होने वाले पेट दर्द में भी राहत मिलती है।
  • सौंफ का चूर्ण बनाकर इसका गुनगुना पानी के साथ सेवन करने से पेट संबंधित विकार दूर होते हैं।
  • अजवाइन, जीरा और काले नमक को समान मात्रा में मिलाकर तवे पर भून लें। अब इस मिश्रण को चूर्ण बनाकर प्रतिदिन आधा चम्मच गुनगुने पानी के साथ लें। ऐसा करने से कब्ज और गैस संबंधित समस्या में आराम मिलता है।
  • आयुर्वेद में कब्ज के इलाज में छाछ औषधि के तरह काम करती है।
  • कब्ज की शुरुआती दौर को खानपान के बदलाव से ही ठीक किया जा सकता है।
  • आयुर्वेद में कब्ज होने और भूख न लगने जैसी समस्या में चावल और मूंग दाल का पानी पीने की सलाह दी जाती है।
  • बेल फल का सेवन कब्ज एवं पेट की समस्या के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा बेल का शरबत पीना भी कब्ज में फायदेमंद होता है।
  • भोजन में फाइबर और प्रोटीन युक्त चीजों का प्रयोग करें, जैसे हरी सब्जियां, दालें, सोयाबीन, दानामेथी, अलसी के बीज इत्यादि।
  • कब्ज, एनस पर मवाद, मल की समस्या आदि के समय तला -भुना, तेज मिर्च- मसाले और मैदा आदि का सेवन न करें।

बीज युक्त सब्जियों के सेवन से बचें।

  • प्रतिदिन रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लें। इसके प्रयोग से कब्ज आदि समस्याओं में राहत मिलती लें।
  • छोटी हरड़ को घी में फुलाकर, पाउडर बनाकर पानी के साथ लेने से फायदा होता है।
  • शहद को गुनगुने पानी के साथ लेने पर कब्ज से जुड़ी समस्या में आराम मिलता है।
  • इसके अतिरिक्त शहद के साथ ओट्स, कॉर्न फ्लैक्स, हर्बल टी आदि का सेवन कर सकते हैं।
 
Read More
जानें, गैस्ट्राइटिस के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

जानें, गैस्ट्राइटिस के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

आधुनिक समय में बहुत-सी बीमारियां मनुष्य के शरीर को घेर रही हैं। जिसका सबसे बड़ा कारण है बदलता परिवेश और गलत खान-पान। इसमें जंक फूड का अधिक सेवन, शारीरिक श्रम में कमी और बढ़ते तनाव का होना शामिल है। इन्हीं बीमारियों में से एक बीमारी है गैस्ट्राइटिस की समस्या। जो किसी भी उम्र के व्यक्ति के लिए परेशानी का कारण बन सकती है। आजकल बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक में गैस्ट्राइटिस (गैस) की समस्या देखने को मिलती है।

 
क्या होती है गैस्ट्राइटिस?

गैस्ट्राइटिस पेट से जुड़ी समस्या होती है। यह पेट के परत (म्‍यूकोस) में सूजन के कारण होती है। दरअसल म्‍यूकोस में पाए जाने वाले सेल, एसिड और एंजाइमों का उत्‍पादन करते हैं। जो भोजन को पचाने में सहायक और भोज्य पदार्थ के छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने का काम करते हैं। लेकिन गैस्ट्राइटिस होने पर इस क्रिया में परेशानी होने लगती है। जिससे पेट में एसिड, हार्मोन और म्यूकस का  उत्पादन सही तरीके से नहीं हो पाता है। परिणामस्वरूप पेट में सूजन, जलन और बेचैनी होने लगती है। यह अचानक तेज और धीरे (क्रोनिक) या दोनों तरह से हो सकता है।

 
क्या होते है गैस्ट्राइटिस के लक्षण?

गैस्ट्राइटिस के विभिन्न लक्षण व्यक्तियों में अलग-अलग दिखाई देते हैं। लेकिन इसके कुछ सामान्य लक्षण भी होते हैं, जो लगभग हर किसी व्यक्ति में देखने को मिलते हैं। जोकि इस प्रकार हैं:

  • पेट में सूजन और दर्द होना।
  • खट्टी डकार आना।
  • बेचैनी या बेहोशी होना।
  • चक्कर आना।
  • दिल की धड़कन का तेज होना।
  • भूख न लगना।
  • जी मिचलाना या उल्टी होना।
  • हिचकी आना।
  • पेट में जलन या पेट गड़बड़ होना।

गैस्ट्राइटिस के कुछ अन्य जटिल लक्षण भी देखने को मिलते हैं। जो इस प्रकार हैं

  • खून की उल्टी होना।
  • मल से तेज बदबू आना।
  • हमेशा पेट भरा सा महसूस करना।
  • तेज घबराहत या बेचैनी होना।
  • मल में खून आना।
क्या होते है गैस्ट्राइटिस होने के कारण?

गैस्ट्राइटिस हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (Helicobacter pylori) नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। यह बैक्टीरिया मुख्य रूप से पेट की म्यूकस लाइनिंग में रहता है। जो पेट में इंफेक्शन पैदा करता है। यह इंफेक्शन प्रदूषित भोजन और पानी के कारण होता है। इसके अलावा भी ऐसे कई अन्य कारण हैं, जिनसे लोग गैस्ट्राइटिस की समस्या से ग्रसित हो सकते हैं। आइए जानते हैं इन कारणों के बारे में-

 
  • अधिक शराब का सेवन करने पर।
  • खाद्य पदार्थों से एलर्जी होने पर।
  • गैस बनाने वाला भोजन जैसे सेम, मटर, केक, खट्टा फल, फूल गोभी, बंद गोभी आदि का सेवन करने पर।
  • भारी भोजन का सेवन करने पर।
  • सही समय पर भोजन न करने पर।
  • ज्यादा तेल एवं मिर्च मसाले का सेवन करने पर।
  • एस्पिरिन और एंटी इंफ्लेमेटरी दवाओं अधिक उपयोग करने पर।
गैस्ट्राइटिस के प्रकार
एक्यूट गैस्ट्राइटिस (तीव्र जठरशोथ)

इस प्रकार के गैस्ट्राइटिस से पीड़ित व्यक्ति का अचानक पेट फूलने लगता है। एक्यूट गैस्ट्राइटिस की समस्या नॉनस्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स या शराब का सेवन करने वाले लोगों में अधिक पैदा होती है। जो घरेलू उपचार के दौरान ठीक हो जाती हैं। 

 
क्रोनिक गैस्ट्राइटिस

क्रोनिक गैस्ट्राइटिस को पुरानी गैस्ट्राइटिस के नाम से भी जाना जाता है। इसमें पेट फूलने के साथ पेट के ऊपरी परत में सूजन आ जाती है। इस प्रकार के गैस्ट्राइटिस से पेप्टिक अल्सर, खून की कमी, आंतरिक रक्तस्राव, गैस्ट्रिक कैंसर, किडनी की समस्याएं आदि होने लगती हैं। जो उपचार के बिना ठीक नहीं हो सकती है।

 
इरोसिव गैस्ट्राइटिस

इरोसिव गैस्ट्राइटिस में पेट फूलना सामान्य बात है। इसके अलावा इसमें ज्यादा सूजन नहीं होती है। लेकिन यह पेट की परत में अल्सर और रक्तस्राव का कारण बन सकता है। 

 
गैस्ट्राइटिस के समय ध्यान रखें यह बातें:
  • ताजे फल एवं सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें।
  • अधिक फाइबर युक्त आहार जैसे फलियां और साबुत अनाज का सेवन करें।
  • रोजाना पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • तले-भुने एवं जंक फूड के सेवन से बचें।
  • भोजन को चबाकर खाएं।
  • भोजन करते समय पानी न पिएं।
  • अल्कोहल या शराब का सेवन बिल्कुल न करें।
  • नियमित रूप से सुबह टहलें और व्यायाम करें।
गैस्ट्राइटिस के घरेलू इलाज
गुनगुना पानी

गुनगुना पानी पीने से पाचन के साथ अपच से होने वाले पेट दर्द में भी राहत पहुंचाता है। इसके अलावा गैस्ट्रिक की समस्या अधिक होने पर गर्म पानी में जीरा उबालकर पीने से तुरंत आराम मिलता है।

 
नींबू पानी

नींबू में सिट्रिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। जो एक प्रकार से एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है। शोधकर्ताओं के अनुसार नींबू में पाए जाने वाला सिट्रिक एसिड गैस की समस्या का कारण बनने वाले बैक्टीरिया के संक्रमण को कम करता है। इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर सेवन करें।

 
नारियल का पानी

गैस्ट्राइटिस की समस्या में नारियल का पानी पीना अच्छा विकल्प है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव गतिविधि होती हैं। जो गैस बनने की समस्या में आराम पहुंचाती हैं।

 
एलोवेरा जूस

एलोवेरा में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो हेलिकोबैक्टर पाइलोरी नामक बैक्टीरिया के संक्रमण को दूर करने में मदद करते हैं। इसलिए यह गैस्ट्राइटिस जैसी समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार होते हैं। इसलिए अपने डेली रूटीन में एलोवेरा जूस पीना बेहद फायदेमंद होता है। 

 
अजवाइन

अजवाइन में थाइमोल की मात्रा ज्यादा होती है। जो गैस्ट्रिक रस के स्राव को बढ़ाता है। साथ ही भोजन को बेहतर तरीके से अवशोषित करने में सहायता करता है। जिसके कारण मल को त्यागने में आसानी होता है। परिणामस्वरूप कब्ज की समस्या में आराम मिलता है।

 
हींग का सेवन

हींग पाचन संबंधी समस्याओं को निपटने में मदद करती है। इसके लिए चुटकी भर हींग का चूर्ण गुनगुने पानी के साथ पीने से अपच जैसी समस्याएं का खात्मा होता है। इसके अलावा हींग का सेवन पाचन तंत्र से सभी हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। साथ ही यह पाचन प्रक्रिया को नियंत्रित और पेट के पीएच स्तर को सामान्य रखती है।

 
सौंफ

पेट में दर्द, सूजन, आफरा, गैस और एसिडिटी जैसी तमाम बीमारियां उत्पन्न होती हैं। जो पूरे शरीर को प्रभावित करती हैं। इन रोगों से निजात पाने के लिए घरेलू उपाय, जिनमें सौंफ एक बेहतर विकल्प है। सौंफ का चूर्ण बनाकर इसका गुनगुना पानी के साथ सेवन करने से पेट संबंधित विकार दूर होते हैं।

 
काली मिर्च 

आयुर्वेद में काली मिर्च गैस्ट्रिक समस्याओं का प्रभावी इलाज माना जाता है। काली मिर्च शरीर में लार और गैस्ट्रिक जूस की मात्रा को बढ़ाती है। जिससे पाचन क्रिया आसानी से होती है और गैस्ट्रिक से छुटकारा मिलता है।

 
पुदीने का तेल

पुदीना तेल का प्रयोग लंबे समय से पाचन तंत्र को बेहतर कर दस्त, गैस, कब्ज जैसी पेट संबंधी समस्याओं का इलाज करने के लिए किया जाता रहा है। इसके अलावा पेपरमिंट ऑयल का इस्तेमाल इर्रिटेबल बॉउल सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome) के उपचार हेतु भी किया जाता है। इसके लिए 2 या 3 बूंद पुदीने के अर्क को आधे गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

 
छाछ

छाछ का सेवन पाचन तंत्र को ठीक करता है। क्योंकि इसमें मौजूद लैक्टिक एसिड पाया जाता है। जो गैस्ट्राइटिस जैसी समस्याओं को दूर करता है। इसके अलावा इसका काले नमक के साथ सेवन करने से पेट की जलन और अपच को दूर करने में भी मदद मिलती है।

 
अदरक

अदरक के रस में गर्म पानी और शक्कर मिलाकर पीने से गैस और एसिडिटी जैसी तमाम बीमारियां दूर होती हैं। आयुर्वेद में इस मिश्रण को पेट संबंधित रोगों को दूर करने में कारगर माना जाता है। इसके अलावा अदरक वाली काली चाय को भी एसिडिटी के लिए पीया जा सकता है।

Read More
Know the Symptoms, Causes and Home Remedies of Polio

Posted 17 March, 2022

Know the Symptoms, Causes and Home Remedies of Polio

Poliomyelitis is a serious and potentially fatal infectious disease. This RNA Virus (polio virus) is a disease. In this, part of the spinal cord is damaged which provides strength to the muscles. Due to this, the muscles do not have the power to work and gradually they become thin and weak. The organ of a person suffering from polio does not develop properly with age and it has side effects on the structure of the body. Although polio virus can affect the spinal cord and any part of the brain, in most cases the damage occurs in the lower part of the spinal cord. It mostly affects the feet. One or both legs lose their strength, causing disability in childhood. The polio virus penetrates from one infected person's body to another, causing severe damage to the brain and spinal cord which causes paralysis.

 

According to the World Health Organization, 99 percent of polio cases have been reduced but many poor countries are still affected by this. Talking about India, UNICEF declared India as a polio-free country in 2011 itself. Nevertheless, to keep the country polio-free, polio vaccines are placed at a fixed time of every year.

 

Types of polio

Non-paralytic polio

It can only cause neck and back spasms from its activities reaching into the polio nerves but it is unlikely that it can lead to paralysis. Non-paralytic polio is also known as Abortive Polio.

 

Paralytic polio

Paralytic polio can develop in about 1 percent of polio cases. Paralytic polio can cause paralysis in the spinal cord (spinal polio), brainstem (bulbar polio), or both (bulbospinal polio). Its initial symptoms are similar to those of non-paralytic polio but after a week it starts getting serious.

 

Symptoms of polio

Non-paralytic polio

Symptoms of non-paralytic polio are usually mildly flu-like and only last for 1 to 10 days. These are as follows:

 
  • Fever
  • Sore throat
  • Headache
  • Vomiting
  • Fatigue
  • Meningitis
  • Back pain or cramps
  • Neck pain or cramps
  • Pain or cramps in arms (hands) or legs
  • muscle weakness

Symptoms of Paralytic Polio

In rare cases, polio virus infection can lead to paralytic polio which is the most severe form of polio disease. Initial symptoms such as fever and headache often appear as symptoms of non-paralytic polio but within a week, the following specific symptoms and signs of paralytic polio begin to appear:

 
  • Loss of alertness
  • Severe cramps and muscle aches.
  • Loose and flabby limbs (sometimes on one side of the body).
  • Sudden paralysis (temporary or permanent).
  • Deformed limbs (especially the hips, ankles, and feet).

Symptoms after Polio Disease (Post Polio Syndrome)

Post-polio syndrome are usually the symptoms which occurs in a person after a few years of having polio, such as-

 
  • Muscle weakness and joint pain.
  • General fatigue after light-colored activities.
  • Problems with breathing or swallowing.
  • Sleep-related breathing disorders, such as sleep apnea.
  • Sensitivity to cold.
  • Cognitive problems, such as concentration and memory problems.
  • Depression or mood changes.
  • It is very rare to develop a complete paralytic condition. Permanent paralysis occurs in less than 1 percent of polio cases. In 5–10 percent of polio paralyzed cases, the virus attacks those muscles which help in breathing and it can cause death.

Causes of Polio

Polio virus is the main cause of polio. There can be many reasons for its spread, which can be included in the cause of polio, such as-

 
  • Direct contact with an infected person.
  • Contact with infected mucus from the nose and mouth.
  • Contact with infected feces.
  • Risk Factors of Polio
Read More
जानें, पोलियो के लक्षण, कारण और घरेलु उपचार

Posted 24 May, 2022

जानें, पोलियो के लक्षण, कारण और घरेलु उपचार

पोलियो या पोलियोमेलाइटिस (Poliomyelitis) एक गंभीर और संभावित घातक संक्रामक रोग है। यह आर.एन.ए. वायरस (पोलियो वायरस) से होने वाला रोग है। इसमें मेरुरज्जु (Spinal Cord) का वह हिस्सा क्षतिग्रस्त हो जाता है। जिससे मांसपेशियों को ताकत मिलती है। इस कारण मांसपेशियों में काम करने की शक्ति नहीं रहती और वह धीरे-धीरे पतली व कमजोर हो जाती हैं। पोलियो से पीड़ित व्यक्ति का अंग उम्र के साथ ठीक से विकसित नहीं हो पाता और शरीर के ढांचे पर इसका दुष्प्रभाव पड़ता है। हालांकि पोलियो वायरस का असर मेरुरज्जु  (Spinal Cord) और मस्तिष्क (Brain) के किसी भी भाग पर हो सकता है, लेकिन ज्यादातर मामलों में क्षति मेरुरज्जु (Spinal Cord) के निचले हिस्से में होती है। इसका असर अधिकतर पैरों पर पड़ता है। एक या दोनों पैर अपनी ताकत खो बैठते हैं, जिससे बचपन में ही विकलांगता (दिव्यांग) पैदा हो जाती है। पोलियो वायरस एक संक्रमित व्यक्ति के शरीर से दूसरे व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर, मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को गंभीर हानि पहुंचाता है। जिससे लकवा होता है।

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 99 प्रतिशत पोलियो को कम किया जा चुका है। लेकिन इससे अभी भी कई गरीब देश प्रभावित हैं। भारत की बात करें तो यूनिसेफ (UNICEF) ने भारत को 2011 में ही पोलियो मुक्त देश घोषित कर दिया था। फिर भी देश को पोलियो मुक्त बनाए रखने के लिए हर वर्ष एक निर्धारित समय पर पोलियो वैक्सीन लगाए जाते हैं।

 

पोलियो के प्रकार:

नॉन-पैरालिटिक पोलियो (Non-paralytic polio)- 

यह पोलियो तंत्र तंत्रिकाओं में पहुंचकर अपनी गतिविधियों से केवल गर्दन और पीठ की ऐंठन का कारण हो सकता है। लेकिन इसके कारण लकवा से ग्रस्त होने की संभावना नहीं होती है। नॉन- पैरालिटिक पोलियो को अबो्र्टिव पोलियो (Abortive Polio) के नाम से भी जाना जाता है।

 

पैरालिटिक पोलियो (Paralytic polio)-

लगभग 1 प्रतिशत पोलियो के मामलों में लकवाग्रस्त पोलियो विकसित हो सकता है। पैरालिटिक पोलियो रीढ़ की हड्डी (स्पाइनल पोलियो), मस्तिष्क तंत्र (बल्बर पोलियो), या दोनों (बल्बोस्पाईनल पोलियो) में लकवे का कारण बन सकता है। इसके शुरुआती लक्षण नॉन-पैरालिटिक पोलियो के समान ही होते हैं। लेकिन एक सप्ताह बाद यह गंभीर रूप लेने लगता है।

 

पोलियो के लक्षण:

नॉन-पैरालिटिक पोलियो-

नॉन-पैरालिटिक पोलियो के लक्षण आमतौर पर हलके फ्लू जैसे होते हैं और 1 से 10 दिन तक के लिए ही नजर आते हैं। जोकि निम्नलिखित हैं-

 
  • बुखार
  • गले में खराश
  • सरदर्द
  • उल्टी
  • थकान
  • मेनिनजाइटिस (Meningitis)
  • पीठ दर्द या ऐंठन
  • गर्दन में दर्द या ऐंठन
  • बाहों (हाथों) या पैरों में दर्द या ऐंठन
  • मांसपेशियों में कमजोरी

पैरालिटिक पोलियो के लक्षण-

दुर्लभ मामलों में, पोलियो वायरस संक्रमण से लकवाग्रस्त पोलियो हो सकता है। जो पोलियो रोग का सबसे गंभीर रूप है। इसमें प्रारंभिक लक्षण जैसे कि बुखार और सिरदर्द अक्सर नॉन- पैरालिटिक पोलियो के लक्षणों की तरह नज़र आते हैं। लेकिन एक सप्ताह के भीतर लकवाग्रस्त पोलियो के निम्न विशिष्ट लक्षण और संकेत दिखाई देने लगते हैं। 

 
  • सजगता की हानि।
  • गंभीर ऐंठन और मांसपेशियों में दर्द।
  • ढीले और पिलपिले अंग (कभी-कभी शरीर के एक तरफ पर)।
  • अचानक लकवा मारना (अस्थायी या स्थायी)।
  • विकृत अंग (खासकर कूल्हे, टखने और पैर)।

पोलियो रोग के बाद होने वाले लक्षण (पोस्ट पोलियो सिंड्रोम)

पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम आमतौर पर वह लक्षण होते हैं। जो किसी व्यक्ति को पोलियो होने के कुछ सालों बाद तक भी परेशान करते हैं, जैसे-

 
  • मांसपेशियों में कमज़ोरी और जोड़ों में दर्द।
  • हलकी-फुलकी गतिविधियों के बाद सामान्य थकान।
  • सांस लेने या निगलने में समस्याएं।
  • नींद से संबंधित श्वास विकार, जैसे स्लीप एपनिया।
  • ठंड के प्रति संवेदनशीलता।
  • संज्ञानात्मक समस्याएं, जैसे एकाग्रता और स्मृति सम्बंधित समस्याएं।
  • अवसाद या मूड परिवर्तन।

पूर्ण लकवाग्रस्त स्थिति विकसित होना बहुत दुर्लभ है। पोलियो मामलों में से 1 प्रतिशत से कम मामलों में ही स्थायी लकवा (Permanent paralysis) होने की स्थिति उत्पन्न होती है। 5-10 प्रतिशत पोलियो के लकवाग्रस्त मामलों में, वायरस उन मांसपेशियों पर हमला करता है। जो सांस लेने में मदद करती हैं और यह मृत्यु का कारण बन सकता है।

 

पोलियो के कारण-

पोलियो वायरस, पोलियो की मुख्य वजह है। इसके फैलने की कई वजह हो सकती हैं, जिन्हें पोलियो के कारण में शामिल किया जा सकता है, जैसे-

 
  • संक्रमित व्यक्ति से सीधा संपर्क।
  • नाक और मुंह से निकले संक्रमित बलगम से संपर्क।
  • संक्रमित मल से संपर्क।

पोलियो के जोखिम कारक-

पोलियो कारण के अलावा कुछ जोखिम कारक भी हैं, जो इस रोग के होने की वजह बन सकते हैं, जैसे-

 
  • पोलियो का टीका न लगवाना।
  • पोलियो से संक्रमित जगह पर जाना।
  • अस्वच्छ वातावरण में रहने वाले बच्चे और शिशु।

पोलियो से बचने के घरेलु उपाय और परहेज

  • प्रोटीन युक्त आहार लें।
  • आहार में साबुत अनाज अवश्य शामिल करें।
  • अधिक से अधिक फल और सब्जियां खाएं।
  • दूध, दही और पनीर का सेवन करें।
  • स्वास्थ्यवर्धक वसा लें (जैतून का तेल, नारियल तेल, सूरजमुखी का तेल आदि)

इनसे परहेज करें-

  • शक्कर।
  • सोडा।
  • स्टार्च युक्त आहार।
  • दर्द उत्पन्न करने वाली गतिविधियां सीमित करें।
  • शरीर को गर्म बनाए रखें।
  • धूम्रपान त्यागें।           

पोलियो के लक्षणों को कम करने के आधुनिक उपाय-

एंटीबायोटिक्स-

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के लक्षण (मूत्र मार्ग का संक्रमण) को कम करने के लिए।

 

हीटिंग पैड-

मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को कम करने के लिए।

 

दर्द निवारक दवाएं-

सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को कम करने के लिए।

 

फिजिकल थेरेपी-

मांसपेशियों की ताकत और कार्यप्रणाली को बेहतर करने के लिए। इस दौरान कुछ गंभीर मामलों में आर्थोपेडिक सर्जरी भी की जा सकती है।

 

लकवा के घरेलू उपाय-

  • नीम तेल की मालिश करने से लकवा में आराम पहुंचता है।
  • काली मिर्च पीसकर तेल में मिलाकर लगाना लकवा में फायदेमंद होता है।
  • सोंठ और सेंधा नमक पीसकर सूंघने से लकवा में लाभ मिलता है।
  • लकवा (Paralysis) होने पर रोगी को कैल्शियम अधिक मात्रा में लेना चाहिए। उबले हुए पानी में शहद डालकर कुछ ठंडा होने पर रोगी को पिलाते रहने से कैल्शियम उचित मात्रा में मिल जाता है। इस प्रकार तीन सप्ताह तक इस प्रयोग को करते रहने से लकवाग्रस्त अंग की कार्य प्रणाली में सुधार आता है।
  • लकवे में प्याज का उपयोग लाभकारी सिद्ध होता है।
  • यदि किसी रोगी के एक ओर के अंग में लकवा हो गया हो तो 25 ग्राम छिला हुआ लहसुन पीसकर दूध में उबालें। खीर की भांति गाढ़ा होने पर उतारकर ठंडा हो जाने पर प्रतिदिन प्रातःकाल खाएं।
Read More
Learn the Causes, Symptoms, and Home remedies of Gastritis

Posted 15 December, 2021

Learn the Causes, Symptoms, and Home remedies of Gastritis

In modern times, many diseases surround the human body, the biggest reason for this is the changing environment and unhealthy eating habits which include increased intake of junk food, decreased physical exertion, and increased stress. One of these diseases is the problem of gastritis which can cause trouble for a person of any age. Nowadays, there is a problem of gastritis from children to the elderly.

 

What is Gastritis?

Gastritis is a stomach-related problem that is caused by inflammation in the lining of the stomach. In fact, cells found in mucous produce acids and enzymes which help to digest food and break it into small pieces of food but when there is gastritis, there is a problem with this activity due to which the production of stomach acid, hormones, and mucus are not done properly. As a result, there is swelling, irritation, and discomfort in the stomach. It can be sudden, rapid, and slow (chronic), or both ways.

 

Symptoms of Gastritis

Different symptoms of gastritis are seen differently in individuals but there are also some common symptoms, which are seen in almost everyone which are as follows:

 
  • Abdominal swelling and pain.
  • Sour belching.
  • Restlessness or fainting.
  • Fast heartbeat.
  • Loss of appetite
  • Nausea or vomiting.
  • Hick up.
  • Stomach irritation or stomach upset.

Some other complicated symptoms of gastritis are also seen which are as follows-

  • Vomiting of blood.
  • Smell strong with faces.
  • Always feeling full.
  • Severe nervousness or restlessness.
  • Bleeding in the stool.

What Causes Gastritis?

Gastritis is caused by a bacterium called Helicobacter pylori. This bacterium mainly resides in the mucus lining of the stomach which causes stomach infection. This infection is caused by contaminated food and water. Apart from this, there are many other reasons that people can suffer from gastritis problems.

 

Let us know about these reasons-

  • On consuming more alcohol.
  • When allergic to foods.
  • Consumption of gas-producing food such as beans, peas, cakes, sour fruits, cauliflower, cabbage, etc.
  • On consuming heavy foods.
  • For not eating at the right time.
  • On consuming more oil and chilli spices.
  • On overuse of aspirin and anti-inflammatory drugs.

Types of Gastritis

Acute gastritis-

A person suffering from this type of gastritis suddenly starts having flatulence. The problem of acute gastritis arises more in people who consume nonsteroidal anti-inflammatory drugs or alcohol which get better with home remedies.

 

Chronic gastritis-

In this, there is swelling in the upper layer of the stomach along with flatulence. This type of gastritis leads to peptic ulcer, anaemia, internal bleeding, gastric cancer, kidney problems, etc. which cannot be cured without treatment.

 

Erosive gastritis-

Flatulence is common in erosive gastritis. Apart from this, there is not much swelling in it but it can also cause ulcers and bleeding in the stomach lining.

 

Keep these things in mind during Gastritis

  • Include fresh fruits and vegetables in your diet.
  • Eat more fibre-rich foods such as legumes and whole grains.
  • Drink a sufficient amount of water daily.
  • Avoid consumption of fried and junk food.
  • Chew the food and eat it.
  • Do not drink water while eating.
  • Do not consume alcohol at all.
  • Walk and exercise regularly in the morning.

Home Remedies for Gastritis

Lukewarm water-

Drinking lukewarm water also provides relief in stomach pain due to indigestion. Apart from this, drinking boiled cumin seeds in hot water provides immediate relief in case of gastric problems.

 

Lemonade-

Citric acid is found in abundance in lemon which acts as an antioxidant. According to researchers, the citric acid found in lemon reduces bacterial infection that causes gas problems. For this drink a glass of lukewarm water mixed with lemon juice.

 

Coconut water-

Drinking coconut water is a good option in the problem of gastritis. It has an antioxidant and gastroprotective activity which provides relief in the problem of gas formation.

 

Aloe vera juice-

Aloe vera has anti-bacterial properties which help to remove the infection of bacteria called Helicobacter pylori. Therefore, it is very beneficial to drink aloe vera juice in your daily routine to get rid of problems like gastritis.

 

Celery-

Thymol content is high in celery which increases the secretion of gastric juice. It also helps in better absorption of food due to which it becomes easier to pass the stool. As a result, the problem of constipation is relieved.

 

Consumption of asafoetida-

Asafoetida helps in dealing with digestive problems. For this, drinking a pinch of asafetida powder with lukewarm water cures problems like indigestion. Apart from this, the consumption of asafetida helps in flushing out all the harmful toxins from the digestive system. In addition, it regulates the digestion process and normalizes the pH level of the stomach.

 

Fennel-

Diseases like abdominal pain, bloating, gas and acidity affect the whole body. Fennel is considered one of the best home remedies to get rid of these diseases. By making powder of fennel and consuming it with lukewarm water, stomach-related disorders are cured.

 

Black pepper-

In Ayurveda, black pepper is considered an effective treatment for gastric problems. Black pepper increases the amount of saliva and gastric juice in the body due to which the digestion process is easy and gets rid of gastritis.

 

Peppermint oil-

Peppermint oil has long been used to improve the digestive system and treat stomach problems like diarrhoea, gas, constipation. Apart from this, peppermint oil is also used for the treatment of irritable bowel syndrome. For this, drinking 2 or 3 drops of mint extract mixed with half a glass of lukewarm water provides relief.

 

Buttermilk-

Consumption of buttermilk heals the digestive system because lactic acid is found present in it which removes problems like gastritis. Apart from this, consuming it with black salt also helps in removing stomach irritation and indigestion.

 

Ginger-

Drinking ginger juice mixed with hot water and sugar cures all diseases like gas and acidity. In Ayurveda, this mixture is considered effective in curing stomach-related diseases. Apart from this, black tea with ginger can also be drunk for acidity.

Read More
Learn about Fungal Infection, its Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 15 December, 2021

Learn about Fungal Infection, its Causes, Symptoms and Home remedies

Fungal infections are a type of skin disease which can occur easily on any part of the body such as between the fingers, on the head, hands, hair, mouth, or in the body's genitals. The main reason for this, is coming in contact with an infected object or infected person. When fungus invades any area of ​​the body, symptoms of red spots, shingles, skin lesions and itching start appearing in the area within a short time.

 

What is Fungal Infection and how do they spread?

Many types of fungus exist in the surrounding environment. These are like microbes and grow at places like air, water, soil etc. and grow continuously due to environmental effects. At the same time, fungi also live in the human body which remain there without causing any harm to the body. Mushrooms, mold, mildew etc. are examples of this.

 

Apart from this, some fungus is also harmful to the body. When these harmful fungus attacks the body, it is difficult to eliminate them because they are able to survive in every kind of environment. As a result, the body's immune system begins to weaken in fighting them due to which the person becomes infected with fungal infection.

 

Types of Fungal Infections and their Symptoms

Fungal infections are mainly identified with signs such as red spots, cracks, rashes, formation of scab in the skin, scalding or white colored powder start coming out from the affected part. Apart from this, there are some other symptoms which are based on the type of fungal infection.

 

Let's talk about the types of fungal infections and their symptoms-

Athletes Foot

It is an infection of the feet which is between the toes. These fungi thrive in hot and moist environments. For this reason, they are usually found in summer and places with moist climates. Apart from this, athlete's fungal infection can also be seen in the feet of people wearing shoes.

 

Let's talk about their symptoms-

  • Reddening or peeling of the skin.
  • Itching and burning on the skin.
  • Ulcers on the soles of the feet.
  • Wound healing and frequent blood leakage.
  • Flow of pus-like fluid from the affected limb.

Nail Fungal Infections

This type of fungal infection is seen in the nails which is known as onychomycosis. This infection can occur in the fingernails of the hands as well as the feet.

 

Symptoms of Nail fungal infection

  • Nail colour changes such as yellow, brown, or white.
  • Thickening of the nail layer.
  • Broken or cracked nails.

Fungal Skin Infection

Fungal skin infection is commonly referred to as a ringworm. This type of fungal is almost circular in shape. In this, the skin appears to be raised upwards in a red circle due to which it is also called ringworm. This type of fungal infection causes red and itchy rashes on the skin. This skin infection mostly occurs in the hands, feet, genitals and scalp. It is believed that there are about 40 such species of fungus, which are the cause of skin infection.

 

Symptoms of having a fungal skin infection

  • Severe itching in the skin.
  • Red and round rashes on the body.
  • Crusted and cracked skin.
  • Hair fall etc.
 

Yeast Infection

It is caused by Candida albicans or candidiasis fungus. It is a type of infection found in the mouth, intestinal tract, and vagina. Candidiasis infection is seen mostly in women. When the number of Candida inside the vagina starts increasing, women suffer from it. Women suffering in this stage have to face many types of problems.

 

Symptoms of yeast Fungal Infection

  • Itching or pain in the genitals.
  • Pain during sexual intercourse.
  • Trouble or pain while urinating.
  • Excessive vaginal bleeding.

Candida infection in mouth and throat

This infection is also caused by Candida fungus. When the number of Candida increases in the mouth and throat, humans suffer from this infection. Candida infection of the mouth and throat is also called thrush or oropharyngeal candidiasis. This problem is usually seen in people infected with AIDS or HIV. In this way, individuals suffering from fungal infections have to undergo more pain.

 

Symptoms of Candida infection in mouth and throat

  • Sickness in the mouth.
  • Rash and redness in corners of the mouth.
  • Feeling of swelling in the mouth.
  • Do not know the taste.
  • Feeling of pain while eating or swallowing.
  • Having white rashes in the internal parts of the mouth and throat.

Causes of Fungal Infection

  • Coming in contact with people who already have fungal infections.
  • Being overweight or obese.
  • Excess of sweat in the body. For eg. when cycling or jogging for a long time.
  • Weakening of the body's immune system.
  • In case of diseases like cancer, diabetes, AIDS, HIV, etc.
  • Long-term use of women's sanitary pads.
  • Giving children nappy pads or wet clothes for longer periods of time.
  • On being soaked in light drizzle during the monsoon and leaving the skin wet.
  • When exposed to fungus-affected pets such as a cat, dog, goat, cow, horse, or pig.
  • Overuse of antibiotics.
  • Excessive use of contraceptive medicines.

Measures to Avoid Fungal Infection

  • Avoid coming in contact with a person infected with a fungal infection.
  • Keep skin clean & dry to avoid fungal infections.
  • Use only cotton clothing for pores to breathe.
  • Do not leave your hair wet during the rainy season.
  • Drink a sufficient amount of water.
  • Eat a nutritious diet like lentils, gram, milk, green vegetables and fruits and flowers. This helps to increase the immunity of the body.
  • Do not consume potato, brinjal, lentil, red chilli, kachalu, meat and fish etc.

Home remedies for fungal infection

  • Since fungal infections are caused by bacteria, using ingredients that have antibacterial properties helps to cure this condition. Such remedies are listed below-
  • Fungal infections are cured by boiling neem leaves in water and taking bath and grinding neem leaves in cow's milk and applying it to the infected area. Apart from this, sleeping under a neem tree at night is very beneficial for a person suffering from a fungal infection.
  • Regular consumption of Chaulmoogra oil with hot milk helps to cure fungal infection.
  • Fungal infection is cured by applying equal quantities of neem and Chaulmoogra oil on the affected part.
  • Applying camphor and kerosene oil to the affected parts provides relief in fungal infections.
  • Mixing honey in turmeric powder and coating the affected part is beneficial in fungal infections and all other types of skin diseases.
  • All kinds of fungal infections are destroyed by consuming two or three garlic buds daily.
  • Taking honey daily with juice of henna leaves helps to purify the blood. It provides benefits in any type of fungal infection.
  • All types of skin disorders are cured by consuming powder made from Champa's bark thrice a day.
  • Boiling the leaves of peepal in water and washing the affected parts cures the fungal infection.
  • In itching or fungal infection, squeezing fresh lemon juice in a cup of water daily and drinking it in the morning provides relief.
  • Fungal infection is cured by grinding and making a paste of mint leaves and applying it to the affected areas.
  • Taking equal quantities of Indian gooseberry(amla) and neem leaves with honey provides relief in this disease.
  • Apple cider vinegar is a very old remedy for providing relief in itching. For this, drinking one spoon of apple cider vinegar, honey and lemon mixed in a glass of water is beneficial.
Read More
टाइफाइड फीवर के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

टाइफाइड फीवर के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

मनुष्य के शरीर का तापमान, सामान्य तापमान से एक डिग्री भी ऊपर चढ़ता है तो मनुष्य फीवर (बुखार) से पीड़ित हो जाता है। डॉक्टर के अनुसार फीवर अक्सर एक संकेत देता है कि शरीर किसी प्रकार के बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण से लड़ रहा है। टाइफाइड फीवर एक अंतर्निहित बैक्टीरियल बीमारी (शरीर के अंदर बैक्टीरिया के संक्रमण) के कारण होता है। यह एक गैस्ट्रोइंटेस्टिनल इंफेक्शन (gastrointestinal infection) है। जो साल्मोनेला टाइफी (S.typhi) की वजह से होता है। टाइफॉइड होने पर तेज बुखार, डायरिया और उल्टी सामान्यतः होती ही हैं।

 

दूषित भोजन या पानी के जरिए इस बैक्टीरियल इंफेक्शन का शरीर में प्रवेश आसानी से होता है। परिणामस्वरूप यह बैक्टीरिया शरीर की कोशिकाओं के भीतर संक्रमण फैलाते हैं। जो तापमान में बदलाव के प्रति संवेदनशील होते हैं। जिससे शरीर के तापमान में अचानक वृद्धि होती है। टाइफाइड बुखार, अंतर्निहित संक्रमण के आधार पर  लगभग 104 डिग्री तक या इससे अधिक के तापमान में होते हैं। लेकिन सामान्य रूप से टाइफाइड की जांच ब्लड टेस्ट से की जाती है।

 

क्या होते हैं टाइफाइड फीवर के लक्षण?

टाइफाइड बुखार के लक्षण सामान्य बुखार की तरह ही होते हैं। लेकिन इनको नजरअंदाज करने से यह गंभीर रूप ले सकते हैं। इलाज के अभाव में बैक्टीरिया (जीवाणुओं) के पनपने की संभावना अधिक रहती है। टाइफाइड फीवर एक संक्रामक रोग है। जो संक्रमित व्यक्ति से असंक्रमित व्यक्ति में प्रसारित होता है। इसके अलावा मौसम में बदलाव और कुछ गलत आदतों की वजह से भी इस बुखार के वायरस बहुत परेशान करते हैं। टाइफाइड तेज बुखार से जुड़ा रोग है, जो साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया द्वारा फैलता है। क्योंकि यह दूषित भोजन और पानी से फैलने वाला संक्रमण है। आइए बात करते हैं टाइफाइड बुखार के सामान्य लक्षण के बारे में-

 
  • अधिक थकान महसूस होना।
  • शरीर का तेजी से तापमान बढ़ना।
  • तेज ठंड लगना।
  • तेस सिरदर्द होना।
  • मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना।
  • कमजोरी महसूस होना।
  • निर्जलीकरण (शरीर में पानी की कमी)।
  • भूख में कमी होना।
  • आंखों में लाली एवं जलन होना।
  • त्वचा के ऊपर रैशेज होना।
  • सुस्ती एवं आलस्य महसूस करना।
  • लिवर और स्प्लीन (तिल्ली) का बढ़ जाना।
  • दस्त और कब्ज होना।
  • पेट में तेज दर्द होना।

क्या होते हैं टाइफाइड फीवर के कारण?

ऐसे कई कारण हैं जिनसे लोग टाइफाइड फीवर से ग्रसित हो सकते हैं। मुख्यत: टाइफाइड बुखार शरीर में साल्मोनेला टाईफी बैक्टीरिया के पनपने से होता है। जिसके विषय में कहा जाता है कि यदि यह बैक्टीरिया या वायरस शरीर में प्रवेश कर लेता है तो वह 2 से 3 दिन में पूरे शरीर को संक्रमित कर देता है। आइए जानते हैं इसके कुछ कारणों के बारे में-

 
  • दूषित जीवाणुओं वाला भोजन और जल का प्रयोग करने से।
  • संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने से।
  • प्रदूषण के कारण दूषित वायु में मौजूद सूक्ष्म कणों का शरीर के भीतर जाने से।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होना।
  • टाइफाइड बुखार का एक कारण मौसम परिवर्तन भी है।
  • इलाज के दौरान दूषित रक्त चढ़ाने से।

टाइफाइड फीवर के समय बरतें यह सावधानियां-

जीवनशैली में बदलाव-

  • साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।
  • अपने हाथों को गर्म पानी एवं साबुन से धोएं।
  • साफ उबले हुए पानी का सेवन करें।
  • कच्चे आहार का सेवन न करें।
  • उचित तरीके से पका हुआ गर्म भोजन ही खाएं।
  • बाहरी दुकानों के पेय और खाद्य पदार्थों से बचें।
  • खाना खाने से पहले हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोएं।
  • संक्रमित लोगों को घरेलू कार्यों से दूर रखें।

आहार में बदलाव-

  • टाइफाइड में लहसुन प्याज आदि तीव्र गंध वाले  खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें।
  • गैस बनाने वाले आहार जैसे मटर, कटहल, अनानास आदि का सेवन टाइफाइड से संक्रमित व्यक्तियों को नहीं करना चाहिए।
  • टाइफाइड बुखार से ग्रसित लोगों को मिर्च, सॉस, सिरका आदि से परहेज करना चाहिए।
  • टाइफाइड फीवर होने पर उच्च रेशेदार फल एवं सब्जियां जैसे केला, पपीता, शक्करकन्द, साबुत अनाज आदि से परहेज करें।
  • इससे संक्रमित होने पर घी, मक्खन, तले हुए भोजन और मिठाइयों के सेवन से बचें।
  • टाइफाइड बुखार में भारी एवं मांसाहारी भोजन करने से बचें।
  • इससे पीड़ित व्यक्तियों को किसी भी तरह का भारी खाना नहीं खाना चाहिए।
  • टाइफाइड में धूम्रपान और अल्कोहल आदि के सेवन से परहेज करें।

टाइफाइड फीवर के कुछ घरेलू उपाय:

फलों के रस का सेवन-

टाइफाइड फीवर शरीर में डिहाइड्रेशन की वजह बनते हैं। इसलिए मरीज को कुछ समय के अंतराल पर तरल पदार्थ जैसे उबला पानी, ताजे फल का जूस, हर्बल चाय आदि का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से कमजोरी की स्थिति दूर होती है और बीमारी में राहत मिलती है।

 

गिलोय टाइफाइड बुखार से छुटकारा दिलाने में मददगार- 

गिलोय एक ज्वरनाशी औषधि है। अर्थात पुराने से पुराने बुखार के इलाज में गिलोय का सेवन करना एक बेहतर विकल्प है। इसके लिए 4-6 सेमी लम्बी गिलोय को लेकर 400 मि.ली. पानी में तबतक उबालें जबतक पानी जलकर एक तिहाई न हो जाए। उसके बाद उस पानी को पिएं। इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है।

 

तुलसी है फायदेमंद-

खांसी, जुकाम, दस्त या अन्य तरह के संक्रमण होने पर तुलसी का उपयोग घरेलू उपचार के रूप में किया जाता है। यह शरीर के वायरस एवं बैक्टीरिया को खत्म करती है। तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को बढ़ाती है। इसके लिए एक चम्मच लौंग के चूर्ण और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को करीब एक लीटर पानी में डालकर उसे तब तक उबाले जब तक वह आधा न हो जाए। अब उसके काढ़े को छान ले और चाय की तरह पिएं। ऐसा करने से टाइफाइड फीवर से जुड़ी तमाम परेशानियों में आराम मिलता हैं। इसके अलावा टाइफाइड होने पर तुलसी और सूरजमुखी के पत्तों का रस निकालकर पीने से भी टाइफाइड में फायदा होता है।

 

हल्दी और सोंठ-

सोंठ यानि सूखी अदरक जिसमें जीवाणुरोधी गुण पाए जाते हैं। यह गुण शरीर में संक्रमण फ़ैलाने वाले जीवाणुओं का खात्मा करते हैं। इसके लिए एक चम्मच काली मिर्च के चूर्ण में एक छोटी चम्मच हल्दी, एक चम्मच सौंठ का चूर्ण और थोड़ी सी चीनी मिलाएं। अब इसे एक कप पानी में डालकर गर्म करें और फिर ठंडा करके पिएं। ऐसा करने से टाइफाइड बुखार में फायदा होता है।

 

नींबू और शहद से-

आयुर्वेद के अनुसार नींबू और शहद दोनों में ही इम्यूनिटी बढ़ाने वाले गुण पाए जाते हैं। इसीलिए आयुर्वेदिक चिकित्सक टाइफाइड बुखार होने पर नींबू और शहद के उपयोग की सलाह देते हैं। क्योंकि यह मिश्रण शरीर को डिटॉक्स करता है और साथ में इम्यूनिटी को भी बढ़ाता है। इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस और शहद मिलाकर सेवन करें।

 

धनिया की चाय-

धनिया के बीज वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने के लिए हमारी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच धनिया पाउडर, थोड़ा-सा दूध और चीनी डालकर चाय बनाकर रोगी को दिन में दो बार पिलाएं। ऐसा करने से टाइफाइड बुखार में लाभ होता है।  इस आधार पर कहा जाता है कि टाइफाइड फीवर में धनिया चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है।

 

लहसुन है फायदेमंद- 

लहसुन तासीर से गर्म और प्राकृतिक एंटीबायोटिक होता है। इसलिए लहसुन की 5 से 7 कलियों को पीसकर घी में तलें और सेंधा नमक मिलाकर खाएं। ऐसा करने से यह शरीर को डिटॉक्स करता है और इम्यूनिटी भी को बढ़ाता है।

Read More
How does the Yellow fungus spread? Know its Signs and Symptoms

Posted 17 March, 2022

How does the Yellow fungus spread? Know its Signs and Symptoms

Yellow fungus is a dangerous fungal infection, also known as 'mucor septic' which affects the person's skin, eyes, respiratory system and peripheral nerves. It is a disease that spreads through air, water, soil and dirt. According to experts, yellow fungus is a disease found in reptiles and animals. Patients of this type of fungus are found very rarely. This fungus is usually seen among reptiles (lizard-like creatures). Whichever reptile gets this fungal infection, it makes wounds in the body and as a result, he dies but for the first time it is being seen in humans too and is proving to be deadlier than black and white fungus. While black fungus affects the brain, white fungus affects the lungs of people but yellow fungus is more dangerous than both these types of fungus.

Let us know about the identification factors, symptoms and possible treatment of this disease through the lines of this blog.

 
What is Yellow fungus and How does it Spread?

There are many types of fungi present in the surrounding environment which are like microbes. These fungi grow continuously in places like air, water, soil etc. due to the effect on the environment. It also lives in the human body without providing any harm to the body for eg. mushrooms, mould, mildew, etc. Apart from this, some fungi are also harmful to the body when these harmful fungi attack the body, it is difficult to eliminate them because they are able to survive in any kind of environment. As a result, the body's immune system starts weakening to fight them due to which the person becomes infected with fungal infection. Black fungus, white and yellow fungus are also examples of this.

Yellow fungus normally develops from the presence of a fungus present in the environment. Humidity levels below 30-40% promote the growth of this fungus. This leads to several problems like excessive fatigue, rashes, skin irritation etc.

 
How does fungus reach the human body?

Yellow fungus usually enters the human body through inhalation or intake of food. Though the hair present in the nose does the job of blocking it, if the fungus stays inside the nostrils then it starts itching and gradually reaches the inner parts of the nose while growing continuously. The nasal cilia present there try to get it out because of which sneezing occurs. Sneezing is also a part of our immune system. If still some spores remain then water starts coming from the nose with the help of which it comes out. The body works in this way when the body's immune system is working properly but if the immune system is poor, the body is unable to flush out the spores of the fungus. In such a situation, the spores reach the body and start growing.

 
Symptoms of Yellow Fungus

According to experts, the symptoms of yellow fungus are different from both black and white fungal infections. This disease starts from the internal parts of the body and is usually formed due to the leakage of pus in the body which is different from the above two fungal infections but as it develops inside the body, it takes a deadly form. After getting affected by this infection, the wound heals very slowly. During this, the patient's eyes get sunken and many organs stop functioning. Even the immune system gets damaged. Apart from this, other symptoms are seen in the human body which are-

  • Nasal congestion.
  • Pain in the eyes.
  • Numbness of body parts.
  • Loss of appetite.
  • Feeling lethargic or tired.
  • Feeling of pain or breakdown in the body.
  • Extreme weakness in the body.
  • Heart rate increases.
  • The body looks malnourished.
  • Rapid weight loss.
  • Blurred vision.
Why does the Yellow fungus occur?

The biggest reason for getting any type of fungus is not maintaining hygiene. So keep yourself and your surroundings clean and tidy. According to doctors, the main cause of yellow fungus is excess dirt around us, that is why it is important to pay special attention to cleanliness around the house to prevent the growth of bacteria or fungus.

 
Yellow fungus test

To detect yellow fungus (Mucor septic), doctors consult a physical examination of the body. Apart from this, samples are taken from the nose and throat and tested. This infection can also be detected by doing a tissue biopsy from the infected site. X-ray, CT scan and MRI can also be done if needed through which it can be found out which parts of the body are infected.

 
Who is at a greater risk for Yellow fungus?

This fungal infection can happen to people of any age but people who are suffering from some serious disease or taking strong doses of medicines are more prone to it as it weakens their immunity. These diseases are-

  • Organ transplant of a person like kidneys, liver, heart attack etc.
  • Decrease in the number of white blood cells.
  • Long-term steroid use.
  • HIV or AIDS.
  • Nutritional deficiency.
  • Kidney patients who are on dialysis.
  • Those who had to stay in a ventilator or ICU for more than 3 days.
To avoid yellow fungus, keep these things in mind

Currently, after recovering from COVID, the consumption of steroids and other drugs is enabling bacteria or fungus to grow rapidly in the mouth and cause problems in the sinuses, lungs and even the brain. Therefore, it is extremely important for patients to maintain oral hygiene after recovering from COVID-19 to protect themselves from the effects of the disease. According to doctors, the following are some measures to prevent yellow fungus infection-

 
  • Brush two to three times a day.
  • Get in the habit of rinsing to maintain oral hygiene.
  • Clean the toothbrush and tongue cleaner with an antiseptic mouthwash.
  • Drink 8 to 10 glasses of water daily.
  • Eat fresh fruits and green vegetables to keep the immune system strong.
  • Include nutrient-rich foods in your diet regularly.
  • Keep the house and surroundings clean.
  • Take special care of the hygiene of those with weak immunity.
  • Do not allow moisture in the house as the fungus thrives more in damp places.
  • Do not eat spoiled or stale food.
  • Do not cover your mouth and nose with a wet mask or handkerchief.
  • Keep the windows and doors of the houses open.
  • Do exercise and yoga regularly.
What to do after getting yellow fungus?
  • Those who are diabetic should keep a check on their sugar level as the sugar level should not be high during this time.
  • Use steroids or antibiotics and antifungal drugs only after consulting a doctor.
  • According to AIIMS, after showing symptoms of Yellow Fungus/Mucor Septic, immediately consult an ENT doctor, ophthalmologist or the doctor treating the patient.
  • Get regular treatment and keep consulting the doctor from time to time.
Read More
रेबीज के कारण, लक्षण और उपचार

Posted 24 May, 2022

रेबीज के कारण, लक्षण और उपचार

रेबीज एक विषाणु जनित रोग है। जिसके इलाज में कतई भी देरी नहीं करनी चाहिए। क्योंकि ऐसा करने पर इस बिमारी के फैलने का खतरा बढ़ जाता है। रेबीज मनुष्यों में संक्रमित पशुओं के काटने या खरोंचने से होती है। आमतौर पर मान्यता है कि रेबीज केवल कुत्तों के काटने से होता है लेकिन ऐसा नहीं है। रेबीज का वायरस, किसी भी गर्म खून वाले जानवर की लार में हो सकता है। खास तौर पर कुत्ते, बिल्ली, बंदर, चमगादड़ आदि जानवरों मे यह वायरस पाया जाता है। इन जानवरों के काटने और खरोंचने के अलावा चाटने पर भी यह वायरस मनुष्य के शरीर में पहुंचकर सेंट्रल नर्वस सिस्टम को प्रभावित कर सकता है। जिससे शरीर को धीरे-धीरे आघात पहुंता है। रेबीज को हिंदी में जलांतक और अलर्क कहा जाता है। आईए बात करते हैं कि रेबीज व्यक्ति को किस प्रकार से प्रभावित करता है? क्या हैं इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार?

 
रेबीज होने के क्या कारण हैं?

रेबीज लिसा वायरस के कारण होता है। जिसमें रेबीज वायरस पाया जाता है। यह मुख्य रूप से पशुओं की बीमारी है। जो संक्रमित पशुओं से ही मनुष्यों में भी फैल जाती है। यह वायरस संक्रमित पशुओं के लार में रहता है और जब वही संक्रमित जानवर (विशेष रूप से कुत्ते या चमगादड़) मनुष्य को काट लेते हैं तो विषाणु मनुष्य के शरीर में प्रवेश कर जाता है। इसके अलावा संक्रमित जानवर की लार मनुष्य की आंख, मुंह, नाक या शरीर के किसी घाव के संपर्क में आ जाती है तो भी मनुष्य में रेबीज वायरस पनपने लगता है। जो मनुष्य की लार ग्रंथियों और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है।

 
क्या होते हैं रेबीज के लक्षण?

रेबीज के ज्यादातर लक्षण प्रकट होने में कई वर्ष लग जाते हैं। लेकिन इसके प्रारंभिक लक्षण संक्रमित जानवरों के काटने या खरोंचने के बाद 1 से 3 महीनों में प्रकट होने लगते हैं। रेबीज के शुरुआती लक्षण यह हैं की जिस हिस्से पर जानवर काटते या खरोंचते हैं, वहां की मांसपेशियों में सनसनाहट की भावना उत्पन्न होने लगती है। इसके बाद विषाणु शरीर में नसों के माध्यम से मस्तिष्क में पहुंचने लगते हैं। जिसके बाद निम्नलिखित लक्षण दिखाई देने लगते हैं;

  • लगातार सिरदर्द होना।
  • बार-बार बुखार आना।
  • अधिक थकावट महसूस होना।
  • मांसपेशियों, जोड़ों में जकड़न और दर्द होना।
  • चिड़चिड़ापन और उग्र स्वभाव होना।
  • लगातार व्याकुल अर्थात परेशान रहना।
  • दिमाग में अजीबोगरीब विचार आना।
  • ठीक से भूख न लगना।
  • मुंह का स्वाद खराब होना।
  • लार और आंसुओं का ज्यादा बनना।
  • तेज रोशनी और आवाज से चिड़न होना।
  • बोलने में तकलीफ होना।
  • व्यवहार में असामान्य परिवर्तन होना।
 
जब संक्रमण बहुत अधिक हो जाता है तो निम्न लक्षण उत्पन्न होने लगते हैं-
  • वस्तुओं का दो दिखाई देना।।
  • मुंह की मांसपेशियों को घुमाने में परेशानी होना।
  • लार और मुंह में ज्यादा झाग बनना।
  • पीड़िता में पागलपन वाले लक्षणों का दिखाई देना।
 
रेबीज को कैसे रोकें या नियंत्रित करें?
पेट्स (पालतू पशु) वैक्सीनेशन-

कुत्तों, बिल्लियों और बंदर आदि जानवरों का रेबीज के खिलाफ टीकाकरण किया जाना चाहिए।

 
पालतू जानवरों का बाहर जाना सीमित रखें-

पालतू जानवरों को घर के अंदर रखें और बाहर जाने पर उनकी भली-भांति निगरानी करें। जिससे वह जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बच सकें।

 
छोटे पालतू जानवरों को सुरक्षित रखें-

खरगोशों जैसे छोटे पालतू जानवरों को रेबीज के खिलाफ टीका नहीं दिया जा सकता। इसलिए इन जानवरों को घर के अंदर और जंगली जानवरों से बचाकर रखें।

 
जंगली जानवरों की रिपोर्ट करें-

जंगली ​​कुत्ते और बिल्लियों की रिपोर्ट अपने स्थानीय पशु नियंत्रण अधिकारियों को कराएं।

 
जंगली जानवरों से संपर्क न करें-

ऐसे हर जानवर से दूर रहें जो किसी भी प्रकार की बीमारी से ग्रसित दिखाई देता हो।

 
रेबीज का टीकाकरण-

जब किसी ऐसे देश या राज्य में जाना पड़े, जहां रेबीज का खतरा बहुत ज्यादा हो। ऐसे में अपने डॉक्टर की सलाहानुसार रेबीज का टीका लगवाकर ही वहां जाएं।

 
रेबीज के घरेलू इलाज:
टिटनेस का इंजेक्शन-

आमतौर पर यह रेबीज का सरल और शुरुआती इलाज होता हैं। किसी जानवर के काट लेने या रेबीज की पुष्टि होने पर चौबीस घंटे के अंदर टिटनेस का इंजेक्शन लगवा लेना चाहिए जिससे उसका संक्रमण नियंत्रित हो सके।

 
गुनगुने पानी का इस्तेमाल-

किसी भी जानवर के काटने और उसकी लार का शरीर पर लग जाने पर हल्के गुनगुने पानी से प्रभावित हिस्से को अच्छे से धोएं। ऐसा करने से वायरस काफी हद तक दूर हो जाता हैं।

 
कीवी फल-

कीवी फल रेबीज बीमारी में कारगर साबित होता हैं। क्योंकि इस फल में विटामिन सी पाया जाता हैं जो रेबीज में फायदेमंद होता हैं। इसके लिए रोजाना दो से तीन कीवी का सेवन करना चाहिए।

 
जीरा-

कुत्ते या अन्य जानवर के काटने पर जीरा भी काफी असरदार साबित होता है। इसके लिए दो बड़े चम्मच जीरा और बीस काली मिर्च को पीसकर, उसमें हल्का पानी मिलाकर लेप बनाएं और प्रभावित हिस्से पर लगाएं। ऐसा करने से घाव जल्दी भरने में मदद मिलती है।

 
लैवेंडर-

लैवेंडर में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। जो किसी भी प्रकार के घावों में फायदेमंद साबित होते हैं जानवर के काटने हुए हिस्से पर लैवेंडर को पीसकर, लेप करने से भी इंफेक्शन से बचा जा सकता है।

 
पानी और साबुन-

किसी भी प्रकार की बीमारी से ग्रसित जानवर के संपर्क में आने पर सबसे पहले प्रभावित हिस्से को पानी और साबुन से अच्छी तरह धोएं। इसके अलावा जानवर ने काटने और खरोंचने पर बिना देरी किए घाव को साबुन और पानी से धोकर, तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें।

 
विटामिन-

रेबीज का इन्फेक्शन होने पर विटामिन युक्त खाद्य पदार्थ बहुत फायदेमंद होते हैं। इसलिए पालक, संतरे का जूस, टमाटर आदि का अधिक मात्रा में सेवन करें|

Read More
कैसे फैलता है येलो फंगस? जानें, इसकी पहचान और लक्षणों को

Posted 24 May, 2022

कैसे फैलता है येलो फंगस? जानें, इसकी पहचान और लक्षणों को

येलो फंगस एक प्रकार की खतरनाक बीमारी है। जिसे ‘म्यूकर सेप्टिक’ भी कहा जाता है। जिसका असर व्यक्ति की त्वचा, आंखों, श्वसन तंत्र एवं परिधीय तंत्रिकाओं (Peripheral nerves) पर पड़ता है। यह एक ऐसी बीमारी है, जो हवा, पानी, मिट्टी और गंदगी के जरिए फैलती है। विशेषज्ञों के मुताबिक येलो फंगस रेप्टाइल्स और जानवरों में पाए जाने वाली बीमारी है। इस प्रकार के फंगस के मरीज बहुत ही कम मिलते हैं। अमूमन यह फंगस रेपटाइल्स (छिपकली जैसे जीवों) में देखने को ही मिलते हैं। जिस भी रेपटाइल्स को यह फंगल इंफेक्शन हो जाता है तो यह शरीर में जख्म बना देता है। परिणामस्वरूप उसकी मृत्यु हो जाती है। लेकिन पहली बार यह इंसानों में देखा जा रहा हैं कि यह संक्रमण ब्लैक और व्हाइट फंगस के मुकाबले कहीं ज्यादा घातक और जानलेवा साबित हो रहा है। ब्लैक फंगस जहां ब्रेन को प्रभावित करता है वहीं व्हाइट फंगस लोगों के फेफड़ों पर असर डालता है। लेकिन येलो फंगस इन दोनों प्रकार के फंगस से खतरनाक हैं। आइए इस ब्लॉग के माध्यम से जानते हैं इस बीमारी की पहचान, लक्षण और उसका संभावित उपचार के बारे में;

 
येलो फंगस क्या है और कैसे फैलता हैं?

आस पास के वातावरण में कई तरह के फंगस विद्यमान रहते हैं। यह रोगाणुओं की तरह ही होते हैं। यह कवक (फंगस) हवा, पानी, मिट्टी आदि स्थानों पर विकसित एवं पर्यावरण के प्रभाव के कारण निरंतर बढ़ते हैं। वहीं कवक मानव शरीर में भी रहते हैं। जो शरीर को बिना नुकसान पहुंचाए बने रहते हैं। मशरूम, मोल्ड, फफूंदी आदि इसके उदाहरण हैं। इसके अलावा कुछ फंगस शरीर के लिए भी हानिकारक होते हैं। यही हानिकारक फंगस जब शरीर पर आक्रमण करते हैं तो उन्हें खत्म करना मुश्किल होता है। क्योंकि वह हर तरह के वातावरण में जीवित रहने में सक्षम होते हैं। परिणामस्वरूप शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली इनसे लड़ने में कमजोर पड़ने लगती है। जिससे व्यक्ति फंगस संक्रमण से संक्रमित हो जाता है। ब्लैक फंगस, वाइट और येलो फंगस भी इसी के उदाहरण हैं।

येलो फंगस भी फंगस संक्रमण का ही एक प्रकार है। जिसका मेडिकल नाम ‘म्यूकर सेप्टिक’ है। जो सामान्य रूप से वातावरण में विद्यमान फफूंद (एक प्रकार का कवक) की उपस्थिति से विकसित होता है। 30-40% से कम आर्द्रता का स्तर इस कवक के विकास को बढ़ावा देता है। इसकी उपस्थिति में अनावश्यक थकान, चकत्ते, त्वचा पर जलन आदि जैसी समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं।

 
मानव शरीर में कैसे पहुंचता है फंगस?

मानव शरीर के अंदर भी यह अमूमन सांस या खानपान के जरिए पहुंचता है। सर्वप्रथम इसे रोकने का काम नाक में मौजूद बाल करते हैं। अगर फंगस यहां रुक जाता है तो हमारे नाक के सुराखों में खुजली होने लगती है और उसे हम निकाल देते हैं। लेकिन यह बढ़ते हुए नाक के अंदरूनी हिस्सों में पहुंच जाता हैं। वहां पर मौजूद नेजल सिलिया उसे बाहर निकालने की कोशिश करते हैं। जिसकी वजह से हमें छींक आती है। छींक आना भी हमारे इम्यून सिस्टम का ही हिस्सा है। अगर फिर भी कुछ स्पोर्स रह जाता है तो नाक से पानी आने लगता है। जिसकी मदद से यह बाहर निकल जाते हैं। शरीर इस तरह से काम तब करता है जब शरीर का इम्यून सिस्टम सही तरीके से काम कर रहा हो। लेकिन यदि इम्यून सिस्टम ख़राब हो तो फंगस के स्पोर्स को बाहर निकालने का काम काम शरीर नहीं कर पाता। ऐसे में स्पोर्स शरीर के अंदर पहुंचकर पनपने लगते हैं।

 
येलो फंगस के लक्षण-

विशेषज्ञों के अनुसार येलो फंगस के लक्षण ब्लैक और वाइट फंगल इंफेक्शन दोनों से अलग हैं। यह बीमारी शरीर के आंतरिक भागों से शुरू होती है। सामान्य तौर पर शरीर में मवाद के रिसाव के कारण यह संक्रमण बनता है। जो उपरोक्त दो फंगल इंफेक्शन से अलग होता है। लेकिन जैसे-जैसे यह शरीर के अंदर विकसित होता है। ठीक वैसे ही यह घातक रूप ले लेता है। इस इंफेक्शन की चपेट में आने के बाद व्यक्ति का घाव बहुत धीमी गति से ठीक होता है। इस दौरान मरीज की आंखें धंस जाती हैं और कई अंग काम करना बंद कर देते हैं। यहां तक इम्यूनिटी सिस्टम भी खराब हो जाता है। इसके अलावा मनुष्य के शरीर में अन्य लक्षण देखने को मिलते हैं। आइए नज़र डालते हैं इन्हीं अन्य लक्षणों के बारे में ;

 
  • नाक का बंद होना।
  • बुखार आना।
  • आंखों में दर्द होना।
  • शरीर के अंगों का सुन्न पड़ना।
  • भूख न लगना।
  • सुस्ती या थकान महसूस करना।
  • शरीर में दर्द या टूटन का आभास होना।
  • शरीर में अत्यधिक कमजोरी होना।
  • दिल की धड़कन का बढ़ना।
  • शरीर का कुपोषित सा दिखने लगना।
  • तेजी से वजन कम होना।
  • आंखों में धुंधलापन छा जाना।
येलो फंगस होने का कारण-

किसी भी प्रकार के फंगस होने का सबसे बड़ा कारण हाइजीन मेंटेन न करना होता है। इसलिए स्वयं और आस-पास के स्थानों को साफ सुथरा रखें। डॉक्टरों के मुताबिक, हमारे आसपास अधिक गंदगी का होना ही येलो फंगस का मुख्य कारण होता है। इसलिए जरूरी है कि घर के आस-पास सफाई पर विशेष ध्यान दें। जिससे बैक्टीरिया या फंगस का विकास न हो सके।

 
येलो फंगस की जांच-

येलो फंगस (म्यूकर सेप्टिक) का पता लगाने के लिए डॉक्टर शरीर का फिजिकल एग्जामिनेशन करते हैं। इसके अलावा, नाक और गले से नमूने लेकर जांच करवाई जाती है। संक्रमित जगह से टिश्यू बायोप्सी करके भी इस संक्रमण का पता लगाया जा सकता है। वहीं, आवश्यकता पड़ने पर एक्स रे, सीटी स्कैन व एमआरआई भी किया जा सकता है। जिससे यह पता लगा सकते हैं कि फंगल इंफेक्शन शरीर के किस-किस हिस्सों तक पहुंच गया है।

 
किन लोगों के लिए ज्यादा खतरनाक है येलो फंगस?

यह फंगल इंफेक्शन किसी भी उम्र के लोगों को हो सकता है। लेकिन जो लोग किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं या अधिक दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं। जिसके कारण उनका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर हो जाता है। खासकर उन्हें इस फंगल इंफेक्शन का खतरा ज्यादा होता है। जैसे-

 
  • कैंसर होने पर।
  • डायबिटीज होने पर।
  • किसी व्यक्ति का ऑर्गन ट्रांसप्लांट जैसे किडनी, लिवर, हार्ट अटैक आदि होने पर।
  • श्वेत रक्त कणिकाओं (White Blood Cells) के कम होने पर।
  • लंबे समय तक स्टेरॉयड का इस्तेमाल।
  • एचआईवी या एड्स होने पर।
  • ड्रग्स का इस्तेमाल करने पर।
  • पोषण की कमी होने पर।
  • किडनी के मरीज, जो डायलिसिस पर हैं।
  • जिन्हें 3 से ज्यादा दिनों तक वेंटिलेटर या आईसीयू में रहना पड़ा हो।
येलो फंगस से बचने के लिए रखें इन बातों का ध्यान-

वर्तमान समय में COVID से ठीक होने के बाद, स्टेरॉयड और अन्य दवाओं का सेवन, मुंह में बैक्टीरिया या फंगस को बढ़ने में सक्षम बना रहा है और साइनस, फेफड़े और यहां तक ​​कि मस्तिष्क में भी समस्या पैदा करता है। इसलिए रोगियों के लिए बीमारी के प्रभाव से खुद को बचाने के लिए, COVID-19 के ठीक होने के बाद मुख के अंदर की स्वच्छता को बनाए रखना बेहद आवश्यक है। चिकित्सकों के मुताबिक येलो फंगस संक्रमण को रोकने के लिए कुछ उपाय निम्न हैं;

 
  • प्रतिदिन सुबह-शाम ब्रश करें।
  • मौखिक स्वच्छता बनाये रखने के लिए कुल्ला करने की आदत डालें।
  • टूथब्रश और टंग क्लीनर को एंटीसेप्टिक माउथवॉश से साफ करें।
  • प्रतिदिन 8 से 10 गिलास पानी पिएं।
  • इम्यूनिटी सिस्टम को स्ट्रांग रखने के लिए ताजे फल एवं हरी सब्जियों का सेवन करें।
  • नियमित रूप से अपने डाइट में पोषक तत्वों से समृद्ध फूड को शामिल करें।
  • घर की और आस-पास के वातावरण को साफ-सुथरा रखें।
  • कमजोर इम्यूनिटी वालों की हाइजीन का खास ध्यान रखें।
  • घर पर नमी न होने दें क्योंकि फंगस नम स्थानों पर ज्यादा पनपते हैं।
  • खराब या बासी खाना न खाएं।
  • गीला मास्क या रुमाल से मुंह और नाक को न ढकें।
  • घरों की खिड़कियों और दरवाजों को खोलकर रखें।
  • नियमित रूप से व्यायाम और योग करें।
येलो फंगस होने के बाद क्या करें?
  • डायबिटीज के मरीज शुगर को कंट्रोल में रखें और बार-बार इसकी जांच करते रहें। इस दौरान शुगर लेवल ज्यादा नहीं होना चाहिए।
  • स्टेरॉयड या एंटीबायोटिक और एंटी फंगल दवाओं का इस्तेमाल डॉक्टर के परामर्श के बाद ही करें।
  • एम्स के अनुसार येलो फंगस/म्यूकर सेप्टिक के लक्षण दिखने के बाद ईएनटी डॉक्टर, नेत्र रोग विशेषज्ञ या रोगी का इलाज करने वाले डॉक्टर से तत्काल परामर्श लें।
  • नियमित इलाज करवाएं और समय-समय पर डॉक्टर से सलाह लेते रहें।
Read More
जानें, व्हाइट फंगस के लक्षण, कारण और बचाव के उपाय

Posted 24 May, 2022

जानें, व्हाइट फंगस के लक्षण, कारण और बचाव के उपाय

कोरोना से संक्रमित मरीजों की कोरोना को मात देने के बाद रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। जिसके कारण वह आसानी से व्हाइट फंगस जैसी जानलेवा बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। सैमफोर्ड हॉस्पिटल के डॉक्टर रविकांत चतुर्वेदी के अनुसार व्हाइट फंगस कोरोना संक्रमितो में खासकर मधुमेह के मरीजों पर आसानी से हमला करता है। चिकित्सकीय भाषा में व्हाइट फंगस को कैंडिडा कहते हैं। जो रक्त के जरिए होते हुए शरीर के हर अंग को प्रभावित करता है। यह फंगस मरीज के नाजुक अंग जैसे आंख, गला, आंत, लिवर, जीभ आदि के सेल को तेजी से नष्ट कर देता है। जिससे अंग काम करना बंद कर देते हैं। इस फंगस का अटैक इतना तेज होता है कि यह 2-3 दिनों के भीतर मरीज के महत्वपूर्ण अंग को बर्बाद कर चुका होता है। इस स्थिति में कोरोना को मात देने के बाद भी शरीर के अन्य अंग के फेल होने के कारण रोगी की मौत हो जाती है। डॉक्टरों की मानें तो अन्य फंगस संक्रमणों के मुकाबले व्हाइट फंगस ज्यादा जानलेवा है। क्योंकि यह शरीर के हर अंग पर असर डालता है। यह नाखून, स्किन, पेट, किडनी, ब्रेन, प्राइवेट पार्ट और मुंह के साथ फेफड़ों तक को संक्रमित कर सकता है। हालांकि इस फंगस से प्रभावित, जो मरीज आ रहे हैं जरूरी नहीं कि वे कोविड से ही संक्रमित हों। लेकिन इसके लक्षण काफी हद तक कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले मरीजों से मिलते हैं।

 

व्हाइट फंगस के कारण-

व्हाइट फंगस (White Fungus) के फैलने के पीछे का सटीक कारण अभी तक मालूम नहीं हो पाया है। लेकिन कई एक्सपर्ट्स ने कोरोना से संक्रमित मरीजों के शरीर में इस संक्रमण के पहुंचने की आशंका ऑक्सीजन सिलेंडर के जरिए बताई है। उनके मुताबिक, गंदे-मैले ऑक्सीजन सिलेंडर या ऑक्सीजन सिलेंडर से जुड़े ह्यूमिडिफायर में नल का पानी इस्तेमाल करने से व्हाइट फंगस इंफेक्शन हो सकता है। इसके साथ ही, स्टेरॉयड का अधिक इस्तेमाल भी इसकी एक वजह हो सकती है।

 

शरीर में कैसे प्रवेश करता है व्हाइट फंगस?

केजीएमयू की माइक्रोबायोलॉजी विभाग की सीनियर डॉक्टर शीतल वर्मा के अनुसार कैंडिडा यानी व्हाइट फंगस कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों में होता है। विशेष रूप से मधुमेह, एचआईवी से ग्रस्त या स्टेरॉयड का अधिक प्रयोग करने वाले रोगियों पर यह आसानी से हमला करता है। यह संक्रमण खून के माध्‍यम से शरीर के हर अंग को प्रभावित करता है। यह बीमारी म्यूकॉरमाइसाइट्स नामक फफूंद से होती है। जो नाक के माध्‍यम से बाकी अंग में पहुंचती है। यह फंगस हवा में होता है और सांस के जरिए नाक में जाता है। इसके अलावा, शरीर के कटे हुए अंग के संपर्क में इस फंगस के आने से भी यह संक्रमण हो जाता है।

 

व्हाइट फंगस के लक्षण-

देश में व्हाइट फंगस के शुरुआती मामलों को एस्परगिलस और कैंडिडा फंगल इंफेक्शन (Aspergillus and Candida) का मिला-जुला रूप माना जा रहा है। यह दोनों ही फंगल इंफेक्शन हैं। जहां कैंडिडा मुख्य रूप से त्वचा के किसी भी भाग पर हो सकता है, वहीं एस्परगिलस एक एलर्जी है। जो त्वचा से लेकर फेफड़े, दिमाग, किडनी आदि को नुकसान पहुंचा सकती है। व्हाइट फंगस में एस्परगिलस का रूप ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है। वातावरण, मिट्टी, पेड़-पौधे में आमतौर पर मिलने वाले सूक्ष्मजीवों का सांस द्वारा शरीर में जाने पर एस्परगिलस इंफेक्शन हो सकता है। अमूमन हमारा शरीर इस प्रकार के इंफेक्शन से लड़ने में सक्षम होता है। मगर कोरोना, एचआईवी-एड्स, मधुमेह, अस्थमा जैसी किसी बीमारी के कारण कमजोर हुआ इम्यून सिस्टम सही तरीके से लड़ नहीं पाता। इसके बाद शरीर में निम्नलिखित लक्षण दिख सकते हैं।

  • बुखार।
  • कमजोरी।
  • खांसी में खून के थक्के।
  • सांस फूलना।
  • वजन घटना।
  • जोड़ों में दर्द।
  • नाक से खून आना।
  • त्वचा पर निशान, आदि।
 

व्हाइट फंगस की जांच-

व्हाइट फंगस की जांच के लिए डॉक्टर निम्नलिखित टेस्ट करवाने का सुझाव देते हैं। जैसे-

 
  • चेस्ट एक्सरे
  • ब्लड टेस्ट
  • सीटी स्कैन, आदि।
 
 

कोरोना संक्रमण जैसे लक्षण दिखने पर अगर मरीज RT PCR करवाता है और जांच नतीजा निगेटिव आता है, तो विशेषज्ञ उसे कोरोना के लिए HRCT करवाने की सलाह देते हैं। इसमें लंग्स गोले की तरह दिखते हैं, जो कि कोरोना से अलग होते हैं। तब मरीजों से बलगम कल्चर की जांच करवाई जाती है, जिसमें इसकी पुष्टि हो जाती है।

 

व्हाइट फंगस का इलाज व बचाव-

व्हाइट फंगस के इलाज के लिए डॉक्टर एंटीफंगल मेडिसिन का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन

व्हाइट फंगस का एकदम पुख्ता बचाव नहीं किया जा सकता, पर कुछ हद तक निम्नलिखित

सावधानियों द्वारा इससे बचा जा सकता है। जैसे-

 
 
● धूल-मिट्टी या गंदगी वाली जगह पर न जाना।
● मास्क का प्रयोग करना।
● इम्यून सिस्टम को मजबूत करने वाले खाद्य पदार्थ को खाना।
● योग व एक्सरसाइज करना।
 

कोविड-19 मरीजों को क्यों हो रहा है व्हाइट फंगस?

कोविड-19 और व्हाइट फंगस का सबसे बड़ा और आम रिश्ता यह है कि इस फंगल इंफेक्शन के फेफड़ों तक पहुंचने के बाद दिखने वाले लक्षण बिल्कुल कोरोना के लक्षणों से मेल खाते हैं। कई मामलों में ऐसा देखा गया है कि मरीज कोविड-19 टेस्ट (Covid-19 test) करवाते रहते हैं। लेकिन रिजल्ट नेगेटिव आने के साथ लक्षण बने रहते हैं। यह फंगल संक्रमण भी कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को शिकार बनाता है। चूंकि, कोरोना वायरस पहले ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर कर देता है। इसलिए व्हाइट फंगस आसानी से मरीज को अपना शिकार बना लेता है। एचआरसीटी टेस्ट के माध्यम से देखा गया है कि व्हाइट फंगस के कारण भी फेफड़ों में कोरोना जैसे पैच दिखाई देते हैं।

 

क्यों ब्लैक फंगस से ज्यादा खतरनाक है व्हाइट फंगस?

व्हाइट फंगस भी ब्लैक फंगस की तरह शरीर के कई भागों जैसे फेफड़े, त्वचा, दिमाग आदि पर मला करता है। लेकिन जो कारण इसे ब्लैक फंगस यानी म्यूकॉरमायकोसिस से ज्यादा खतरनाक बनाता है। वह है शरीर में इसके फैलने की तीव्रता और गंभीरता। यह ब्लैक फंगस (Black Fungus) के मुकाबले ज्यादा तेजी से फेफड़ों व शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे दिमाग, पाचन तंत्र, किडनी, नाखून व गुप्तांगों तक फैलते हैं और गंभीर क्षति पहुंचाता है। कोविड-19 के मरीजों के फेफड़े पहले से ही कमजोर होते हैं और फिर इस संक्रमण के तेज और गंभीर हमले को वह झेल नहीं पाते। व्हाइट फंगस के खतरनाक होने के पीछे अभी तक इसी वजह को मूल कारण माना जा रहा है।

 

क्या है ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस में अंतर?

डॉक्टरों द्वारा उपलब्ध कराई गई अभी तक की जानकारी के अनुसार ब्लैक फंगस कोरोना के उन मरीजों में पाया गया है जिनको बहुत ज्यादा स्टेरॉयड दिए गए। जबकि व्हाइट फंगस के केसों की उन मरीजों में भी संभव है, जिन्हें कोरोना नहीं हुआ। ब्लैक फंगस आंख और ब्रेन को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। जबकि व्हाइट फंगस लंग्स, किडनी, आंत, पेट और नाखूनों को आसानी से प्रभावित करता है। इसके अलावा ब्लैक फंगस ज्यादा डेथ रेट के लिए जाना जाता है  और इसमें डेथ रेट 50% के आसपास है। यानी हर दो में से एक व्यक्ति की जान जाने का खतरा होता है। लेकिन व्हाइट फंगस में डेथ रेट को लेकर अभी तक कोई आंकड़ा मौजूद नहीं है।

 

नवजात बच्चों में क्रीम स्‍पॉट और महिलाओं में ल्यूकोरिया के रूप में दिखता है व्हाइट फंगस

वाइट फंगस का खतरा महिलाओं और नवजात बच्चों को भी ज्यादा होता है। महिलाओं में यह ल्यूकोरिया यानी जननांग से सफेद स्राव के रूप में दिखता है और नवजात बच्चों में यह फंगस डायर कैंडिडेसिसर बीमारी के रूप में सामने आता है। जिसमें क्रीम कलर के स्‍पॉट दिखते हैं। महिलाओं में यह ल्यूकोरिया की मुख्य वजह है। इसके अलावा कैंसर, एचआईवी और कुपोषण का शिकार मरीजों को यह व्‍हाइट फंगस अपनी चपेट में ले सकता है क्‍योंकि उनमें भी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है।

Read More
What is Black Fungus or Mucormycosis? Know its Symptoms and Prevention Methods

Posted 17 March, 2022

What is Black Fungus or Mucormycosis? Know its Symptoms and Prevention Methods

Black fungus, medically known as mucormycosis, is a rare and dangerous fungal infection that is caused by exposure to microorganisms called mucormycetes present in the environment and soil. These microorganisms are susceptible to inhalation or contact with the skin. Doctors say that- This fungus is everywhere, in the soil and, to find, the air. It is found even in the nose and mucus of a healthy person. This fungus affects the sinuses, brain, and lungs and can be fatal in people with diabetes or people with very weak immunity, such as people with cancer or HIV/AIDS.

Mucormycosis has a mortality rate of up to 50 percent. Doctors say that this infection is increasing due to the use of steroids to save patients with serious ailments of Covid-19.

 

What are the Main Causes of Black Fungus?

Doctors across the country are of the view that the reason for its rapid spread among ordinary patients is the judicious use of steroids. Steroids, especially when taken in high doses or used for a long time, can cause black fungus (mucormycosis). According to Dr. Mahajan, “This is because steroids can also lower our immunity and have a tendency to raise blood sugar levels, which can also create a favorable environment for the spread of steroid infections in people who do not have diabetes.

 

“Dr. Randeep Guleria, Director of AIIMS, recently spoke about the disadvantages of taking steroids in the early stages of covid-19 in a press conference. Many people take high doses of steroids in the early stages which can cause the virus to multiply rapidly. People who have a short coronavirus outbreak can develop severe cases of viral pneumonia due to the virus spreading to the lungs.

 

Symptoms of Black Fungus

Symptoms of black fungus can vary from patient to patient. It depends on which part of your body this fungus is developing.

 

Following are the major symptoms of mucormycosis-

  • Fever
  • Pain in the eyes
  • Coughing up
  • Weakening of eyesight
  • Chest pain
  • Shortness of breath
  • Sinus
  • Congestion
  • Blood in stool
  • Vomiting
  • Having a headache
  • Swelling on any part of the face
  • Black marks inside the mouth or on the nose
  • Abdominal pain
  • Diarrhea
  • Redness, blisters, or swelling in some places on the body
 

Tests for Black Fungus

  • To diagnose black fungus (mucormycosis), doctors conduct a physical examination of the body.
  • Samples are taken from the nose and throat and tested.
  • This infection can also be detected by doing a tissue biopsy from the infected site.
  • X-ray, CT scan, and MRI are also done if needed so that it can be found out that the fungal infection has reached which part of the body.
 

How dangerous is the Black Fungus?

Dr. Sumit Ray, Critical Care Specialist in Delhi said that the mortality rate in people infected with black fungus is around 50 to 70%. According to Dr. Sumit, If the infection spreads beyond the limit, then it is impossible to save the patient. What makes this disease more dangerous is the rapid pace of its spread. It behaves like cancer in the body, but it takes at least a few months for cancer to produce a life-threatening effect whereas, in black fungus, the life-threatening effect can occur within a few days or a few hours.

 

Why is black fungus becoming so dangerous these days?

According to many doctors across the country, the reason for the rapid spread of black fungus among normal patients is irrational use of steroids, especially when it is taken in high doses or used for a long time. Therefore, steroids can cause black fungus (mucormycosis). According to Dr. Mahajan, “This is because steroids lower our immunity and also have a tendency to increase blood sugar”. Therefore, even in people who do not have diabetes, steroids can create a favorable environment for infection to spread in the body. “Dr. Randeep Guleria, Director, AIIMS also spoke about the harm associated with taking steroids in the early stages of covid-19 in a press conference”.

 

Who is at greater risk?

This fungal infection can happen to people of any age and gender. However, people with a weak immune system due to some serious disease or medicines are more prone to this fungal infection such as-

  • HIV or AIDS
  • Cancer
  • Diabetes
  • Organ transplant
  • Low white blood cell count
  • Long term steroid use
  • Use of drugs
  • Nutritional deficiency
  • Premature birth, etc.
 

How is the disease suddenly spreading so fast which was very rare till now?

According to Dr. Manish Munjal, Senior ENT Specialist, associated with Sir Ganga Ram Hospital, “It is a serious disease, but there is no need to be afraid of it because black fungus or mucormycosis is not a new disease. Rather, it is an old disease but in the last few days, this disease has taken a terrible form. This disease usually occurs due to the weakening of the immune system. Earlier, this disease’s occurrence was common in chemotherapy patients, people with uncontrolled diabetes, transplant patients, and elderly people but post-Covid-19, this disease is increasingly visible in patients with co-morbidities and taking more steroids.

 
 

Dr. Munjal explains, “This disease is not contagious and does not spread through touching but this fungus lives in the air. It is seen in the form of mildew on bread and on tree trunks in black color. This fungus goes through the nose and goes into the skin of the nose with the help of mucus. After this, it spreads very fast, spoiling everything in the body and goes to the brain which can even lead to the death of the person”. Therefore, the mortality rate in this is 50 percent.

 

Prevention Measures for Black Fungus

At present, after recovering from COVID, the consumption of steroids and other drugs is enabling bacteria or fungus to grow in the mouth and cause problems in the sinuses, lungs, and even the brain. In such a situation, brushing two to three times a day and taking good care of the cleanliness of the mouth helps a lot. Therefore, patients need to maintain oral hygiene after recovering from COVID-19 to protect themselves from the effects of the disease. According to doctors, the following are three major measures to prevent black fungus infection.

 

1. Brush 2 to 3 times a day-

Medicines given to corona patients increase the risk of bacteria and fungus in the mouth. According to experts, it is necessary to brush 2 to 3 times a day to avoid this.

 

2. Get into the habit of rinsing-

Make a habit of rinsing after getting corona disease to maintain oral hygiene to avoid black fungus.

 

3. Keep toothbrush and tongue cleaner bacteria-free-

People recovering from covid-19 should keep their toothbrush and tongue cleaner clean and bacteria-free to avoid black fungus. Clean both these things with an antiseptic mouthwash.

 

What to do after getting Black Fungus?

  • According to AIIMS, after showing symptoms of black fungus/mucormycosis, immediately consult an ENT doctor, ophthalmologist, or the doctor treating the patient.
  • Get regular treatment and keep following it up. Keep diabetes under control and keep checking it frequently. The sugar level should not be high during this time.
  • Do not self-administer steroids or antibiotics or antifungal drugs. In any case, use them only after consulting a doctor.
 

Treatment for Black Fungus

As soon as the black fungus is detected, its treatment should be started as soon as possible so that the infection in the body can be eliminated or controlled immediately. In some severe cases, tissue is surgically removed from the infected areas so that it does not spread to other areas.

 
  • Nasal endoscopy test can save lives and eyesight-
  • Nasal endoscopy is a procedure in which the bones inside the nose, the shape, and the space of the sinus can be seen by binoculars. This method is carried out with the help of binoculars and TV after the patient is lying down, after numbing their nose with medicine. In this, both the doctor and the patient can see the things inside the nose. In this procedure, if the fungus is seen inside the nose, then a piece of it is taken and sent for examination.
Read More
White Fungus- Symptoms, Causes, and Prevention measures

Posted 15 December, 2021

White Fungus- Symptoms, Causes, and Prevention measures

White fungus is a fungal infection also called Candida in medical language. It is a rare infection that affects every part of the body through blood and rapidly destroys the cells of the patient's delicate organs like eyes, throat, intestines, liver, tongue, etc. due to which the organs stop functioning. The attack of this fungus is so fast that it ruins the vital organs of the patient within 2-3 days.

The immunity of corona-infected patients decreases after beating the coronavirus due to which they are easily falling prey to deadly diseases like white fungus. In this situation, even after beating the corona, the patient dies due to the failure of other parts of the body. According to Dr. Ravikant Chaturvedi of Samford Hospital, white fungus easily attacks the corona infected, especially the diabetic patients.

According to doctors, white fungus is more deadly than other fungal infections because it affects every part of the body. It can infect nails, skin, stomach, kidneys, brain, private parts, and mouth as well as lungs. Although people affected by this fungus are not necessarily infected with covid, its symptoms are largely similar to those patients infected with the coronavirus.

 
Causes of White fungus

The exact reason behind the outbreak of White Fungus is not yet known but many experts have told the possibility of this infection reaching the body of corona-infected patients through oxygen cylinders. According to him, white fungus infection can be caused by using tap water in a dirty oxygen cylinder or a humidifier connected to the oxygen cylinder. Along with this, excessive use of steroids can also be a reason for this.

 
How does White fungus enter the body?

According to Sheetal Verma, Senior Doctor, Department of Microbiology, KGMU, Candida i.e. white fungus occurs in people with weak immunity. It is especially easy to attack patients with diabetes, HIV, or those who use steroids more. This infection affects every part of the body through the blood. This disease is caused by a fungus called mucormycetes, which reaches the rest of the body through the nose. This fungus is in the air and gets into the nose when air is inhaled. Apart from this, this infection also occurs due to the coming of this fungus in contact with the cracked part of the body.

 
Symptoms of White Fungus

The initial case of white fungus in the country is believed to be a combination of Aspergillus and Candida fungal infections, both of these are fungal infections where Candida can occur mainly on any part of the skin, Aspergillus is an allergy that can cause damage from the skin to lungs, brain, kidneys, etc. Aspergillus form of white fungus can prove to be more dangerous. Aspergillus infection can occur when microorganisms commonly found in the environment, soil, trees, and plants enter the body through inhalation. Normally our body is capable of fighting this type of infection but the weakened immune system due to any disease like corona, HIV-AIDS, diabetes, asthma is not able to fight properly. After this, the following symptoms may appear in the body-

  • Fever
  • Weakness
  • Blood clots in cough
  • Breathlessness
  • Weight loss
  • Joint pain
  • Bleeding nose
  • Skin marks, etc.

Whether corona is infected or not, if there is a rash on the body, burning in the eyes, boils in the tongue, jamming of the throat, difficulty in sputum, then it can be a symptom of white fungus. In this case, without delay contact the doctor. According to Dr. Chaturvedi, the white fungus grows very much within two to three days. In such a situation, delaying may even lead to tongue bites. Therefore, if you feel anything unusual in the body, immediately contact the doctor.

 
What is the difference between black fungus and white fungus?

According to the information provided by the doctors so far, black fungus has been found in those patients of corona who were given too many steroids whereas cases of white fungus are also possible in those patients who did not get corona. Black fungus most commonly affects the eyes and brain, while white fungus easily affects the lungs, kidneys, intestines, stomach, and nails. Apart from this, black fungus is known for its high death rate and it has a death rate of around 50%, that is, one out of every two people is in danger of losing their life but there is no data yet regarding the death rate in white fungus.

 
Why is White fungus more dangerous than Black fungus?

White fungus also attacks many parts of the body like lungs, skin, brain, etc. like black fungus but the reason that makes it more dangerous than black fungus i.e, mucormycosis is the intensity and severity of its spread in the body. It spreads more rapidly to the lungs and other important organs of the body such as the brain, digestive system, kidneys, nails, and genitals than the black fungus and causes serious damage. The lungs of covid-19 patients are already weak and then they are unable to withstand the fast and severe attack of this infection. So far, this reason is being considered as the root cause behind the dangerousness of white fungus.

 
White fungus Tests

To check for white fungus, doctors suggest getting the following tests done-

  • Chest X-Ray
  • Blood test
  • CT scan, etc.

If the patient gets RT-PCR done after showing symptoms like corona infection and the test result comes negative, then experts advise him to get HRCT done for corona. In this, the lungs look like spheres, which are different from the corona, then patients are examined for sputum culture, in which it is confirmed.

 
Treatment and Prevention of White fungus

Doctors use antifungal medicine to treat white fungus. Generally, drugs like amphotericin-B, voriconazole, etc. are used to treat Aspergillus. However, white fungus cannot be completely prevented, but it can still be avoided to some extent by the following precautions-

  • Do not go to dusty or dirty places.
  • Use masks.
  • Eat food that strengthens the immune system.
  • Practice yoga and exercise.
Why are Covid-19 patients getting white fungus?

The biggest and common thing between covid-19 and white fungus is that the symptoms seen after this fungal infection reach the lungs exactly match the symptoms of the coronavirus. In many cases, it has been seen that patients keep getting Covid-19 tests done but with the result coming negative, the symptoms persist. This fungal infection also preys on people with weak immune systems. Since the coronavirus already weakens the body's immunity, so white fungus easily makes the patient its victim. It has been seen through the HRCT test that due to white fungus also, corona-like patches appear in the lungs.

 
White fungus appears as Cream spots in Newborns and Leucorrhoea in Women

Women and newborns are also more prone to white fungus. In women, it is seen as leucorrhoea, i.e, white discharge from the genitalia, and in newborns it comes out as the fungus Dior candidiasis disease in which spots of cream color are visible. It is the main cause of leucorrhoea in women. Apart from this, patients suffering from cancer, HIV, and malnutrition can catch this white fungus because they also have weak immunity.

Read More
क्या है ब्लैक फंगस? जानें, इसके लक्षण और बचाव

Posted 17 March, 2022

क्या है ब्लैक फंगस? जानें, इसके लक्षण और बचाव

ब्लैक फंगस का मेडिकल नाम म्यूकॉरमायकोसिस है। जोकि एक दुर्लभ व खतरनाक फंगल संक्रमण है। ब्लैक फंगस इंफेक्शन वातावरण, मिट्टी जैसी जगहों में मौजूद म्यूकॉर्मिसेट्स नामक सूक्ष्म जीवों की चपेट में आने से होता है। इन सूक्ष्मजीवों को सांस द्वारा अंदर लेने या स्किन के संपर्क में आने की आशंका होती है। डॉक्टरों का कहना है कि- "यह फंगस हर जगह होती है। मिट्टी में, हवा में, यहां तक कि स्वस्थ इंसान की नाक और बलगम में भी यह फंगस पाई जाती है।" यह फंगस साइनस, दिमाग और फेफड़ों को प्रभावित करती है। यह डायबिटीज के मरीजों या बेहद कमजोर इम्यूनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता) वाले लोगों जैसे कैंसर या एचआईवी/एड्स के मरीजों के लिए ज्यादा जानलेवा हो सकती है। म्यूकरमायकोसिस में मृत्यु दर 50 प्रतिशत तक होती है। वर्तमान समय में डॉक्टरों का कहना है कि कोविड-19 के गंभीर मरीजों को बचाने के लिए स्टेरॉइड्स का इस्तेमाल करने से यह संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है।

 
ब्लैक फंगस के लक्षण-

ब्लैक फंगस के लक्षण हर मरीज में अलग-अलग हो सकते हैं। यह इस बात पर निर्भर करते हैं कि यह फंगस आपके शरीर के किस भाग पर विकसित हो रहा है। म्यूकॉरमायकोसिस के प्रमुख लक्षण निम्नलिखित हैं-

 
  • बुखार आना।
  • आंखों में दर्द होना।
  • खांसी आना।
  • आंख की रोशनी का कमजोर होना।
  • छाती में दर्द होना।
  • सांस का फूलना।
  • साइनस कंजेशन।
  • मल में खून आना।
  • उल्टी आना।
  • सिरदर्द होना।
  • चेहरे के किसी हिस्से पर सूजन आना।
  • मुंह के अंदर या नाक पर काले निशान होना।
  • पेट में दर्द होना।
  • डायरिया।
  • शरीर पर कुछ जगह लालिमा, छाले या सूजन आना।
 
ब्लैक फंगस की जांच-

ब्लैक फंगस (म्यूकॉरमायकोसिस) का पता लगाने के लिए डॉक्टर शरीर का फिजिकल एग्जामिनेशन करते हैं। इसके अलावा नाक और गले से नमूने लेकर जांच करवाई जाती है। संक्रमित जगह से टिश्यू बायोप्सी करके भी इस संक्रमण का पता लगाया जा सकता है। वहीं, जरूरत होने पर एक्स रे, सीटी स्कैन व एमआरआई भी किया जाता है। जिससे यह पता लगाया जा सके कि फंगल इंफेक्शन शरीर के किस-किस भाग तक पहुंच गया है।

 
कितना खतरनाक है ब्लैक फंगस?

दिल्ली में क्रिटिकल केयर स्पेशलिस्ट डॉ. सुमित रे ने बताया कि ब्लैक फंगस से संक्रमित लोगों में मृत्यु दर लगभग 50 से 70% तक होती है। डॉ. सुमित के अनुसार अगर शरीर में हद से ज्यादा संक्रमण फैल गया तो मरीज को बचा पाना असंभव होता है। इस बीमारी और खतरनाक बनाती है इसके फैलने की तीव्र गति। यह शरीर में कैंसर की तरह व्यवहार करता है, लेकिन कैंसर को जानलेवा प्रभाव पैदा करने में कम से कम कुछ महीने लगते हैं। जबकि इससे जान कुछ दिनों या कुछ घंटों में ही जा सकती है।

 
इन दिनों ब्लैक फंगस क्यों हो रहा है इतना खतरनाक?

देश भर के तमाम डॉक्टरों के अनुसार सामान्य मरीजों में ब्लैक फंगस के तीव्र प्रसार का कारण है ‘स्टेरॉयड का विवेकहीन प्रयोग’। विशेषकर तब, जब इसका हाई डोज लिया जाए या लंबे समय तक इसका प्रयोग किया जाए। तो स्टेरॉयड ब्लैक फंगस (mucormycosis) का कारण बन सकता है।

डॉ. महाजन के अनुसार “ऐसा इसलिए है, क्योंकि स्टेरॉयड हमारी इम्यूनिटी को कम करता है और इसमें ब्लड शुगर को बढ़ाने की प्रवृत्ति भी होती है”। इसलिए जिन लोगों को डायबिटीज नहीं है उनके शरीर में भी स्टेरॉयड, इंफेक्शन फैलने के लिए अनुकूल इन्वायरमेंट बना सकता है। “एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने भी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोविड के शुरुआती चरणों में ही स्टेरॉयड लेने से संबंधित नुकसान के बारे में बताया था”।

 
किन लोगों के लिए ज्यादा खतरनाक है ब्लैक फंगस?

यह फंगल इंफेक्शन किसी भी उम्र व लिंग के लोगों को हो सकता है। मगर, जिन लोगों में किसी गंभीर बीमारी या दवाइयों के कारण इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। उन्हें इस फंगल इंफेक्शन का खतरा ज्यादा होता है। जैसे-

 
  • एचआईवी या एड्स
  • कैंसर
  • डायबिटीज
  • ऑर्गन ट्रांसप्लांट
  • व्हाइट ब्लड सेल का कम होना
  • लंबे समय तक स्टेरॉयड का इस्तेमाल
  • ड्रग्स का इस्तेमाल
  • पोषण की कमी
  • प्रीमैच्योर बर्थ, आदि।
 
जो बीमारी अभी तक बहुत रेयर थी। अचानक वह इतनी तेजी से कैसे फैल रही है?

सर गंगाराम अस्पताल से जुड़े वरिष्ठ ईएनटी विशेषज्ञ डॉ. मनीष मुंजाल के अनुसार “यह एक गंभीर बीमारी ज़रूर है, लेकिन इससे डरने की ज़रूरत नहीं है। क्योंकि ब्लैक फंगस या म्यूकॉरमाइकोसिस कोई नई बीमारी नहीं है। बल्कि पहले की ही बीमारी है। लेकिन बीते कुछ दिनों से यह बीमारी एक भयानक रूप ले चुकी है। दरअसल यह बीमारी इम्यून सिस्टम यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने की वजह से होती है। पहले हम यह बीमारी कीमोथेरेपी कराने वाले, अनियंत्रित डायबिटीज वाले, ट्रांसप्लांट मरीजों, और बुजुर्ग लोगों में देखते थे। लेकिन कोविड के बाद को-मोरबिडिटी और ज़्यादा स्टेरॉयड लेने वाले मरीजों में यह बीमारी तेजी से नज़र आने लगी है।”

डॉ. मुंजाल बताते हैं, “यह बीमारी छुआछूत से नहीं फैलती है। लेकिन यह फंगस हवा में रहता है। यह फफूंदी की शक्ल में ब्रेड पर और पेड़ के तनों पर काले रंग में दिखती है। यह फंगस नाक से होते हुए बलगम के सहारे नाक की चमड़ी में चला जाता है। इसके बाद यह बीमारी बहुत तेजी से फैलती हुई शरीर में सब कुछ ख़राब करते हुए दिमाग तक चली जाती है। जिससे व्यक्ति की मौत भी हो सकती है”। अत: इसमें मृत्यु दर 50 प्रतिशत है।

 
ब्लैक फंगस से बचाव के उपाय-

वर्तमान समय में COVID से ठीक होने के बाद, स्टेरॉयड और अन्य दवाओं का सेवन, मुंह में बैक्टीरिया या फंगस को बढ़ने में सक्षम बना रहा है और साइनस, फेफड़े और यहां तक ​​कि मस्तिष्क में भी समस्या पैदा करता है। ऐसे में दिन में दो-तीन बार ब्रश करके और मुंह की सफाई का अच्छे से ध्यान रखने से बहुत मदद मिलती है। इसलिए रोगियों के लिए बीमारी के प्रभाव से खुद को बचाने के लिए, COVID-19 के ठीक होने के बाद मुख के अंदर की स्वच्छता को बनाए रखना बेहद आवश्यक है। डॉक्टरों के अनुसार ब्लैक फंगस संक्रमण को रोकने के लिए तीन प्रमुख उपाय निम्नलिखित हैं।

 
दिन में करें 2 से 3 बार ब्रश-

कोरोना के मरीजों को जो दवाएं दी जाती हैं उनसे मुंह में बैक्टीरिया और फंगस का खतरा बढ़ता है। ऐसे में विशेषज्ञों के अनुसार, इससे बचने के लिए दिन में 2 से 3 बार ब्रश करना जरूरी है।

 
कुल्ला करने की आदत डालें-

कोरोना होने के बाद ब्लैक फंगस से बचने के लिए मौखिक स्वच्छता बनाए रखने के लिए कुल्ला करने की आदत डालें।

 
टूथब्रश और टंग क्लीनर को रखें बैक्टीरिया फ्री-

कोरोना से रिकवर होने वाले लोग ब्लैक फंगस से बचने के लिए अपने टूथब्रश और टंग क्लीनर को साफ और बैक्टीरिया फ्री रखें। एंटीसेप्टिक माउथवॉश से इन दोनों चीजों को साफ करें।

 
ब्लैक फंगस होने के बाद क्या करें?
  • एम्स के अनुसार ब्लैक फंगस /म्यूकरमाइकोसिस के लक्षण दिखने के बाद ईएनटी डॉक्टर, नेत्र रोग विशेषज्ञ या रोगी का इलाज करने वाले डॉक्टर से तत्काल परामर्श लें।
  • नियमित इलाज करवाएं और उसका फॉलोअप करते रहें। डायबिटीज के मरीज शुगर को कंट्रोल में रखें और बार-बार इसकी जांच करते रहें। इस दौरान शुगर लेवल ज्यादा नहीं होना चाहिए।
  • स्टेरॉयड या एंटीबायोटिक या एंटी फंगल दवाओं का खुद से सेवन न करें। किसी भी स्थिति में इनका इस्तेमाल डॉक्टर के परामर्श के बाद ही करें।
 
ब्लैक फंगस का इलाज-

ब्लैक फंगस का पता लगते ही जल्द से जल्द इसका इलाज शुरू कर देना चाहिए। जिससे शरीर में संक्रमण को तुरंत खत्म या नियंत्रित किया जा सके। कुछ गंभीर मामलों में संक्रमित भागों से सर्जरी के द्वारा टिश्यू हटाए जाते हैं। ताकि यह दूसरे क्षेत्रों तक न फैले।

 
नेज़ल एंडोस्कोपी जांच, जो बचा सकती है जान और आंख की रोशनी

नेज़ल एंडोस्कोपी एक प्रक्रिया होती है। जिसमें दूरबीन विधि द्वारा नाक के अंदर की हड्डियों, आकार और साइनस की खाली जगह को देखा जा सकता है। यह विधि मरीज़ को लेटाकर, उनकी नाक को दवा द्वारा सुन्न करने के बाद दूरबीन और टीवी की मदद से की जाती है। इसमें डॉक्टर और मरीज़, दोनों को ही नाक के अंदर की चीज़ें दिखती हैं। इस प्रक्रिया में अगर नाक के अंदर फंगस दिखाई देती है तो उसका टुकड़ा लेकर जांच के लिए भेजा जाता है। और जिन मामलों में नाक के अंदर फंगस नहीं दिखती और मरीज़ों को नाक की सफ़ाई पानी से करके, उस पानी को जांच के लिए भेजा जाता है।

जिन मरीजों में ब्लैक फंगस के अंश पाए जाते हैं। जो साइनस और नाक की हड्डियों को खराब कर रहे होते हैं। उन मरीज़ों की सर्जरी की जाती है। इस सर्जरी के दौरान भी नाक के अंदर देखने के लिए नेज़ल एंडोस्कोपी का इस्तेमाल किया जाता है। और जहां-जहां फंगस होती है, उसे बाहर निकाल दिया जाता है। इस प्रकार सही समय पर ब्लैक फंगस का पता चलने पर आंख की रोशनी और जान दोनों को बचाया जा सकता है।

Read More
जानें, कुष्ठ रोग के कारण, लक्षण और निदान

Posted 17 March, 2022

जानें, कुष्ठ रोग के कारण, लक्षण और निदान

संक्रामक रोगों का इलाज बिना समय बर्बाद किए करवाना चाहिए। ऐसा न करने पर रोगों के फैलने का खतरा बढ़ सकता है। ऐसी ही एक संक्रामक बीमारी है कुष्ठ रोग। जिसका असर व्यक्ति की त्वचा, आंखों, श्वसन तंत्र एवं परिधीय तंत्रिकाओं (Peripheral nerves) पर पड़ता है। यह एक ऐसी बीमारी है, जो हवा या श्वास के जरिए फैलती है। जो माइकोबैक्टीरियम लेप्रे नामक बैक्टीरिया की वजह से होता है। इसलिए इस बीमारी को अंग्रेजी में लेप्रोसी कहा जाता है। इस बैक्टीरिया की खोज 1873 मे नार्वे के एक फिजीशियन गेरहार्ड हेंसन’ ने की थी। इन्हीं के नाम पर इसे ‘हेंसन का रोग’ भी कहा जाता है।

 

कैसे फैलता है कुष्ठ रोग?

कुष्ठ यानी कोढ़ एक ऐसी बीमारी है, जो हवा में मौजूद लेप्रे नामक बैक्टीरिया के जरिए फैलती है। यह बैक्टीरिया हवा में किसी बीमार व्यक्ति से ही आते हैं। एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में इस बैक्टीरिया को पनपने में लगभग 4 से 5 साल लग जाते हैं। कई मामलों में बैक्टीरिया को पनपने (इन्क्यूबेशन) में 20 साल तक लग जाते हैं। प्राइमरी स्टेज पर कुष्ठ के लक्षणों की अनदेखी करने से व्यक्ति अपंगता (Disability) का शिकार हो सकता हैं। यह एक संक्रामक बीमारी है लेकिन यह लोगों के छुने से नहीं फैलता। परंतु लंबे समय तक किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ रहने से यह संक्रमण हो सकता है। लेकिन रोगी को नियमित रूप से दवा दी जाए, तो संक्रमण की आशंका नहीं रहती।

 

कुष्ठ रोग होने के कारण-

  • शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का किसी कारणवश कमजोर होना।
  • पर्याप्त मात्र में पौष्टिक आहार का न मिलना।
  • लम्बे समय तक दूषित भोजन और पेय पदार्थों का प्रयोग करना।
  • अधिक मिर्च, मसालें और तेल में भुने पदार्थों का सेवन करना।
  • शरीर में किसी वजह से खून का खराब होना।
  • अधिक नशीली वस्तुएं का प्रयोग करना।
  • अधिक दवाओं का प्रयोग करना।
 

क्या होते हैं कुष्ठ रोग के लक्षण?

कुष्ठ रोग की सबसे अहम पहचान है कि इससे शरीर पर सफेद चकत्ते यानी निशान पड़ने लगते हैं। यह निशान सुन्न होते हैं अर्थात इनमें किसी तरह का सेंसेशन नहीं होता है। इसके अलावा भी कुछ अन्य लक्षण होते हैं। आइए बात करते है इन अन्य लक्षणों के बारे में;

 
  • त्वचा के रंग में परिवर्तन होना।
  • त्वचा पर स्पर्श, दर्द और गर्म का आभास न होना।
  • हफ्ते और महीनों तक घाव का ठीक न होना।
  • प्रभावित अंग से मवाद व द्रव का बहना।
  • घाव का ठीक न होना और लगातार खून का रिसाव होना।
  • धीरे-धीरे अंगों और त्वचा का गलना और नष्ट होना।
  • मांसपेशियों में कमजोरी होना।
  • रूखी त्वचा।
  • बंद नाक और नाक से खून आना।
  • पैरों के तलवों पर अल्सर होना।
 

कुष्ठ रोग के प्रकार-

यह मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है, जो निम्न हैं-

 

तंत्रिका या वातिक कुष्ट रोग-

 

तंत्रिका कुष्ठ रोग से संक्रमित व्यक्ति के शरीर के प्रभावित अंगों की संवेदनशीलता खत्म हो जाती है। यानी शरीर के उस अंग को यदि काट भी दिया जाय तो मरीज को कुछ भी महसूस नहीं होगा। अर्थात उस व्यक्ति को दर्द का आभास तक नहीं होगा।

 

ग्रन्थि कुष्ठ रोग-

ग्रन्थि कुष्ठ रोग से शरीर में विभिन्न रंग के चकते व निशान पड़ जाते है। इसके अलावा शरीर में गाठें उभर आती हैं।

 

मिश्रित कुष्ठ रोग-

इस प्रकार के संक्रमित व्यक्तियों के शरीर में दोनों तरह के लक्षण दिखने को मिलते हैं। अर्थात मिश्रित कुष्ठ रोग में मरीज के प्रभावित अंगों का सुन्नपन के साथ-साथ, उसपर निशान भी पड़ जाते हैं और शरीर के प्रभावित हिस्सें में गाठें निकल आती हैं।

 

कुष्ठ रोग से बचने के उपाय-

  • कुष्ठ रोग से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें।
  • किसी भी तरह के संक्रमण से बचने के लिए स्वयं को साफ-सुथरा रखें।
  • पौष्टिक आहार जैसे दाल, चना, दूध, हरी सब्जियां और फल-फूल का सेवन करें। जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहती है।
  • वातकारी चीजें जैसे आलू, बैगन, मसूर की दाल, लाल मिर्च, कचालू, मांस-मछली आदि का सेवन न करें।
  • कुष्ठ रोग से बचने के लिए बैसिलस कलमेटे-गुएरिन (Bacillus Calmette- Guerin) टीका जरूर लगवाएं।
 

कुष्ठ रोग के घरेलू उपचार-

  • नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर स्नान करने और गाय के दूध में नीम की पत्तियों को पीसकर संक्रमित हिस्से पर लगाने से रक्तपित्त एवं कुष्ठ विकार ठीक हो जाते हैं। इसके अलावा कुष्ठ रोगी के लिए रात में नीम के नीचे सोना बेहद फायदेमंद होता है।
  • शहद युक्त मेहंदी पत्तों के रस का रोज सुबह सेवन करने से खून साफ होता है। इससे चर्मरोग यानी कुष्ठ रोग में लाभ मिलता है।
  • चालमोगरा के तेल को गर्म दूध के साथ नियमतः सेवन करने से फायदा होता है।
  • नीम और चालमोगरा के तेल को समान मात्रा में मिलाकर प्रभावित अंग पर लगाने से कुछ ही दिनों में चर्म रोग ठीक हो जाते हैं।
  • विजयसार की लकड़ी से बने काढ़े (क्वाथ) का नियमित सेवन करने से कुष्ठ रोग नष्ट हो जाते हैं।
  • निर्गुंडी के पत्ते को पीसकर पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट लेने से फायदा होता है। इसके अलावा इसकी पत्तियों के पेस्ट को प्रभावित हिस्से पर लगाने से चर्म रोग ठीक हो जाते हैं।
  • चंपा की छाल से बने चूर्ण का दिन में तीन बार सेवन करने से सभी प्रकार के चर्म विकार नष्ट हो जाते हैं।
  • आंवला और नीम की पत्तियों को समान मात्रा में शहद के साथ सेवन करने से कुष्ठ रोग में लाभ होता है।
  • आक जड़ की छाल को सिरके के साथ पीसकर प्रभावित अंग का लेप करने से कुष्ठ रोग में फायदा होता है।
Read More
चिकनगुनिया, डेंगू और मलेरिया के कारण, लक्षण और उपचार

Posted 24 May, 2022

चिकनगुनिया, डेंगू और मलेरिया के कारण, लक्षण और उपचार

संक्रामक रोगों का इलाज बिना देर किए करना चाहिए। क्योंकि ऐसा न करने पर बिमारियों के फैलने या बढ़ने का खतरा बढ़ सकता है। ऐसी ही कुछ संक्रामक बीमारियां हैं चिकनगुनिया, डेंगू और मलेरिया। जो वायरल इंफेक्शन के जरिए फैलने वाली बीमारियां मानी जाती हैं। यह रोग ज्यादातर वर्षा ऋतु के दौरान या उसके बाद के मौसम (अक्टूबर-नवंबर) में होते हैं। क्योंकि इस दौरान मच्छर बहुतायत रूप से पाए जाते हैं। यह एक प्रकार का वाहक जनित रोग हैं। वाहक वह जीव है जो स्वयं बीमारी पैदा नहीं करता है। लेकिन अन्य परजीवी (मलेरिया) एवं विषाणु (डेंगू और चिकनगुनिया) आदि से संक्रमित व्यक्ति से असंक्रमित में प्रसारित करता है। आइए इस ब्लॉग के माध्यम से चिकनगुनिया, डेंगू और मलेरिया के इलाज के विभिन्न कारणों, लक्षणों, निदानों और उपचारों पर बात करते हैं।

 
कैसे फैलता हैं डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया?

चिकनगुनिया और डेंगू एक विषाणु से होने वाली संक्रामक बीमारियां हैं। जो एडीज एजिप्‍टी नामक संक्रमित मादा मच्‍छर के काटने से फैलती हैं। यह एक तरह का वायरल बुखार है। एडीज मच्‍छर वर्षा ऋतु के दौरान बहुतायत रूप से पाए जाते हैं। यह मच्‍छर प्रायः घरों, स्‍कूलों और अन्‍य भवनों में तथा इनके आस-पास एकत्रित खुले एवं साफ पानी में अंडे देते हैं। इस प्रकार यह मच्छर अपना प्रकोप जमाते चलते हैं। ज्‍यादातर यह मच्‍छर दिन के समय में काटते हैं।

मलेरिया प्लाज्मोडियम नामक परजीवी के कारण होता है। यह बीमारी एनाफिलीज मच्छर के काटने पर फैलती है। जो गंदे पानी में पनपते हैं। यह मच्‍छर ज्यादातर सूर्यास्त( शाम और रात) के बाद काटते हैं। एनाफिलीज प्रजाति के मच्छर मलेरिया ट्रांसमीट केवल तब कर सकते हैं जब वह खुद मलेरिया से संक्रमित रक्त से संक्रमित हुए हों।         

 
क्या होते हैं चिकनगुनिया और डेंगू के लक्षण?

चिकनगुनिया और डेंगू के सामान्य लक्षण एक जैसे होते हैं लेकिन कुछ स्तर पर इनमें अंतर भी होता है। डेंगू के लक्षण शरीर में कमजोरी लाने वाले होते हैं जबकि चिकनगुनिया से ग्रसित व्यक्ति के शरीर में दर्द की समस्या प्रमुख होती है। डेंगू की सबसे अहम पहचान यह है कि इससे शरीर में प्लेटलेट्स लगातार कम होने लगती हैं। जबकि चिकनगुनिया में प्लेटलेट्स संख्या कम नहीं होती। इसके अलावा चिकनगुनिया और डेंगू के अन्य लक्षण मिलते-जुलते हैं। आइए बात करते हैं इन अन्य लक्षणों के बारे में: 

 
  • तेज बुखार के साथ जोड़ों में अत्याधिक दर्द होना।
  • तेज कंपकंपी (ठंड) महसूस करना।
  • मांशपेशियों में दर्द होना।
  • सिरदर्द होना।
  • गले में खराश होना।
  • उल्टी और मतली आना।
  • भूख न लगना, थकान महसूस करना।
  • मुंह का स्वाद खराब होना।
  • त्वचा पर लाल चकत्ते होना।
  • आंखों के पिछले हिस्से में दर्द महसूस करना।
मलेरिया के लक्षण-

आमतौर पर मलेरिया में एक-एक दिन के अंतराल पर बुखार आता है और मरीज को बुखार के साथ कंपकंपी (ठंड) भी लगती है। इसके अलावा इस बीमारी के कई अन्य लक्षण भी होते हैं जो निम्नलिखित हैं ;

 
  • अचानक ठंड के साथ तेज बुखार होना।
  • उल्टी और मतली होना।
  • अधिक थकान महसूस करना।
  • अधिक कमजोरी महसूस होना।
  • एक, दो या तीन दिन बाद बुखार आते रहना।
डेंगू और चिकनगुनिया होने के कारण क्या है?

डेंगू और चिकनगुनिया एडीज मच्छर के काटने से होता है। चिकनगुनिया का कारण जीनस अल्फावायरस है, जबकि डेंगू जीनस फ्लेवीवायरस की वजह से होता है। इसके अलावा भी डेंगू चार वायरसों के कारण होता है, जो इस प्रकार हैं - डीईएनवी-1, डीईएनवी-2, डीईएनवी-3 और डीईएनवी-4। दोनों ही बीमारियां एडीज मच्छर के काटने से होती हैं और शुरुआती लक्षण बुखार होता है। चिकनगुनिया या डेंगू फैलाने वाला यह मच्छर जब किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है तो उसकी लार में यह वायरस आ जाता है। इसके बाद वह जिसे काटता है, उसे भी चिकनगुनिया या डेंगू हो जाता है। इसके अलावा चिकनगुनिया अधिक समय तक चलने वाला एक प्रकार का जोड़ों का रोग है। जिसमें बुखार के साथ जोड़ों मे भारी दर्द होता है। इस रोग का तीव्र चरण 2-5 दिन का होता है। किंतु जोड़ों का दर्द महीनों तक बना रहता है। वही डेंगू से पीड़ित व्यक्ति अगले सात दिन तक यह संक्रमण फैलाने में सक्षम होता है।

 
डेंगू बुखार के प्रकार-

इसके ज्यादातर मामलों में मच्छर के काटने पर हल्का बुखार होता है। बावजूद इसके डेंगू बुखार तीन तरह का होता है। जो निम्नलिखित हैं।

 
साधारण डेंगू बुखार-

साधारण डेंगू को अंग्रेजी में क्लासिकल फीवर के नाम से जाना जाता है। यह बुखार करीब 5 से 7 दिन तक रहता है जिसके बाद मरीज ठीक होने लगता है। ज्यादातर मामलों में इसी प्रकार का डेंगू बुखार पाया जाता है। जिसके लक्षण चिकनगुनिया से मिलते-जुलते हैं। जो उपरोक्त बताए गए हैं। 

 
डेंगू हॅमरेजिक बुखार (डीएचएफ)-

इस प्रकार के डेंगू बुखार में सामान्य लक्षण (उपरोक्त) के साथ-साथ अन्य लक्षण दिखाई दें तो उसे डीएचएफ हो सकता है। आइए जानते है इन अन्य लक्षण के बारे में;

  • नाक और मसूड़ों से खून आना।
  • शौच या उल्टी में खून आना।
  • स्किन पर गहरे नीले-काले रंग के छोटे या बड़े निशान पड़ जाना।
डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस)-

इस बुखार में DHF के लक्षणों के साथ-साथ 'शॉक' की अवस्था के भी कुछ लक्षण दिखाई देते हैं। जैसे कि -

  • मरीज को बेचैनी होना।
  • तेज बुखार के बावजूद उसकी त्वचा का ठंडा होना।
  • मरीज का धीरे-धीरे बेहोश होना।
  • मरीज की नाड़ी का कभी तेज और कभी धीरे चलना और उसके ब्लड प्रेशर का लो होना।
मलेरिया होने के कारण क्या है?

मलेरिया एक प्रकार के परजीवी (Parasite) के कारण होता है। जिसे प्लाज्मोडियम (Plasmodium) कहा जाता है। यह  एनोफिलीज (Anopheles) नामक संक्रमित मादा मच्छर के काटने से मनुष्यों के रक्त प्रवाह में वाइरस संचारित होता है। यह रोगाणु इतने छोटे होते हैं कि इन्हें देखा भी नहीं जा सकता है। प्लाज्मोडियम पैरासाइट (Plasmodium parasite) के पांच प्रकारों की वजह से हमारे शरीर में मलेरिया फैलता है। इनमें से मुख्यत: तीन प्रकार मलेरिया के ज्यादातर मामलों में उत्तरदायी होते हैं। आइए बात करते है इन मुख्य प्रकारों के बारे में:

 
प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम-

यह सबसे आम प्रकार का मलेरिया परजीवी है। दुनिया भर में मलेरिया से ग्रसित ज्यादातर व्यक्तियों की मौत प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम (Plasmodium falciparum) परजीवी की वजह से ही होती है। इसमें उल्टी, बुखार, सिर दर्द, कमर दर्द, पीठ दर्द, चक्कर, थकान होना और पेट दर्द आदि लक्षण देखने को मिलते हैं।

 
प्लास्मोडियम विवैक्स-

भारत में लगभग 60 प्रतिशत मलेरिया के मामले प्लास्मोडियम विवैक्स (Plasmodium vivax) की वजह से होते हैं। इसके बुखार, जुकाम, थकान और डायरिया जैसी लक्षण होते हैं। यह परजीवी प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम की अपेक्षा मलेरिया के हल्के लक्षणों की वजह बनता है। लेकिन प्लास्मोडियम विवैक्स लगभग तीन साल तक लिवर में रह सकता है। जिसके वजह से यह रोग बार-बार हो सकता है।

 
प्लासमोडियम ओवाले-

यह परजीवी असामान्य और आमतौर पर पश्चिम अफ्रीका में पाया जाता है। यह मलेरिया के कोई लक्षण दिखाए बिना ही कई वर्षों तक व्यक्ति के लिवर में रह सकता है।

 
डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया से बचाव-
  • घर में या आस-पास जल-जमाव न होने दें।
  • वर्षा ऋतु और उसके बाद के मौसम में प्रतिदिन नीम की पत्तियों से घरों में धूनी करें।
  • किचन और वॉशरूम को सूखा रखें।
  • पानी से भरे बर्तनों को खुला न रखें।
  • कूलर और गमले का पानी प्रतिदिन बदलते रहें।
  • खिड़कियों और दरवाजों पर जाली लगवाएं।
  • पानी के टंकियों के ढक्कन अच्छे से बंद रखें।
  • शरीर पर मच्छररोधी क्रीम या सरसों का तेल लगाएं।
  • पूरी शरीर को ढ़कने वाले कपड़े पहनें।
  • सोते समय मच्छर दानी का प्रयोग करें।
  • घर के आसपास मच्छर मारने वाली दवा का छिड़काव करवाएं।
  • हफ्ते में एक दिन पानी की टंकी खाली करें और उसे सूखा कर प्रयोग में लाएं।
मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया के घरेलू उपचार-
  • डेंगू और चिकनगुनिया की बीमारी में तुलसी के पत्ते से बने काढ़े का प्रयोग करें। ऐसा करने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बढ़ती है और शरीर जल्दी स्वस्थ्य हो जाता है।
  • तुलसी के 8-10 पत्ते और 6-8 काली मिर्च को पीसकर शहद के साथ सुबह-शाम लेने से मलेरिया बुखार में फायदा मिलता है।
  • गिलोय मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया के इलाज के लिए अमृत मानी जाती है। गिलोय की गोली या काढ़ा बनाकर सुबह-शाम सेवन करने से आराम मिलता है। इसके अलावा गिलोय, सोंठ, छोटी पिप्पली और गुड़ के साथ तुलसी का काढ़ा बनाकर पीना भी चिकनगुनिया और डेंगू में लाभप्रद होता है।
  • पपीते की पत्तियों का जूस पीने से डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बिमारियों में आराम मिलता हैं। इससे शरीर में प्लेटलैट्स की संख्या बढ़ती है।
  • सूखा अदरक (सोंठ) और पीसा धनिया मिलाकर समान मात्रा में चूर्ण बनाएं। अब इसे नियमित रूप से दिन में तीन बार गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। ऐसा करने से मलेरिया बुखार में लाभ मिलता है।
  • डेंगू और चिकनगुनिया के लिए नारियल पानी काफी फायदेमंद होता है।
  • बार-बार मलेरिया बुखार आने पर नियमित छाछ का इस्तेमाल करें।
  • एक कप पानी में नीम की 4-5 पत्तियों को उबालकर पीना, डेंगू और चिकनगुनिया के लिए काफी फायदेमंद होता है।
  • डेंगू मलेरिया, और चिकनगुनिया में अमरूद का सेवन करना फायदेमंद होता है। क्योंकि यह विटामिन सी और बहुत सारे पौष्टिक तत्वों से भरपूर होता हैं ।
  • डेंगू मलेरिया, और चिकनगुनिया में तरल पदार्थों के अतिरिक्त दलिया, खिचड़ी, साबूदाना जैसे हल्के और पोषक तत्वों से भरपूर आहार का सेवन करें।
  • डेंगू, मलेरिया, और चिकनगुनिया से ग्रसित व्यक्ति को नींबू पानी में काली मिर्च और सेंधा नमक मिलाकर देने से आराम मिलता है। इसके अलावा सेब पर काली मिर्च और सेंधा नमक छिड़क कर खिलाने से भी लाभ होता है।
  • चिकनगुनिया और डेंगू बुखार में अधिक पानी पीना चाहिए। क्योंकि पानी पीने से मूत्र के जरिए विषैले जीवाणु शरीर से बाहर निकल जाते हैं।
  • लहसुन के रस और तिल का तेल समान मात्रा में मिलाकर हाथों और पैरों के तलवों पर लगाएं। ऐसा करने से मलेरिया बुखार में राहत मिलता है।
  • सब्जियों का सूप इसमें बहुत फायदेमंद होता है। मुख्यत: टमाटर का सूप चिकनगुनिया और डेंगू में बेहद फायदेमंद होता है।
कब जाएं डॉक्टर के पास?
  • आंखों में तेज दर्द और जलन होने पर।
  • पेट में तेज दर्द होने पर।
  • रुक-रुककर चक्कर आने पर।
  • बार-बार उल्टी होने पर।
  • नाक, मसूड़ों, कान या शौच में खून आने पर ।
  • अधिक कमजोरी और बेहोशी आने पर।
  • 102 डिग्री फॉर. से ज्यादा बुखार होने या लगातार दो दिन तक बुखार ठीक न हो तो मरीज को तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं।
Read More
शारीरिक कमजोरी के लक्षण, कारण और उपाय

Posted 24 May, 2022

शारीरिक कमजोरी के लक्षण, कारण और उपाय

शरीर में थकावट की भावना और हर समय सुस्ती महसूस होना शारीरिक कमजोरी होती है। ऐसा भी हो सकता है कि कमजोरी महसूस करने वाला व्यक्ति अपने शरीर का कोई हिस्सा हिला पाने में असमर्थ हो या उसे उस हिस्से में झटके या ऐंठन महसूस हो। कुछ लोगों को उनके शरीर के किसी हिस्से जैसे हाथों या पैरों में और कुछ लोगों को इन्फ्लूएंजा या हेपेटाइटिस जैसे बैक्टीरियल संक्रमण या वायरल इन्फेक्शन के कारण पूरे शरीर में कमजोरी महसूस होती है। आम तौर पर शारीरिक कमजोरी कुछ समय के लिए होती है लेकिन कुछ मामलों में यह लंबे समय तक भी रह सकती है। कमजोरी के इलाज के लिए सबसे पहले इसके कारण की पहचान करना आवश्यक है। जिसके आधार पर इसके लक्षणों का इलाज किया जाना चाहिए।

 

शारीरिक कमजोरी कितने प्रकार की होती है?

शारीरिक कमजोरी मुख्यतः दो प्रकार की होती है। पहली न्यूरोमस्कुलर कमजोरी और दूसरी नॉन-न्यूरोमस्कुलर कमजोरी।

 

न्यूरोमस्कुलर कमजोरी (Neuromuscular weakness)

न्यूरोमस्कुलर कमजोरी में किसी क्षति के कारण मांसपेशी की ताकत कम हो जाती है। जिससे उसके कार्य करने की क्षमता में कमी आती है।

 

नॉन-न्यूरोमस्कुलर कमजोरी (Non-neuromuscular weakness)

नॉन-न्यूरोमस्कुलर कमजोरी में आपको कोई कार्य करते समय कमजोरी महसूस होती है। जबकि वास्तव में मांसपेशी बिलकुल सामान्य होती है।

 

शारीरिक कमजोरी के लक्षण-

  • शरीर के किसी एक हिस्से में कमजोरी महसूस होना या उस हिस्से को ठीक से हिला पाने में असमर्थ होना।
  • प्रभावित अंग से कोई कार्य करने में देरी होना या प्रभावित अंग में कंपन या झटके महसूस होना।
  • मांसपेशियों में ऐंठन होना और उससे पूरे शरीर में थकान महसूस करना।
  • बिना थकावट हर समय कमजोरी महसूस होना।
  • बुखार, फ्लू जैसे लक्षण और प्रभावित अंग में दर्द होना।
  • नजर कमजोर होना और अचानक बेहोश हो जाना।
  • बोलने और निगलने में कठिनाई होना।
  • मानसिक स्थिति में बदलाव या उलझन होना।
 

शारीरिक कमजोरी के कारण-

अवसाद व डिप्रेशन-

अवसाद व डिप्रेशन को थकान व कमजोरी की मुख्य वजह माना जाता है। क्योंकि बहुत अधिक चिंता करना या अवसाद में रहना पीड़ित के जीवन स्तर और कार्यशैली पर बहुत बुरा प्रभाव ड़ालते हैं। इसी कारण जब एक व्यक्ति तनाव में होता है तो वह कमजोरी के लक्षण अनुभव करता है। दुर्भाग्यवश ऐसे ज्यादातर मामलों का निदान नहीं हो पाता है क्योंकि यह आसानी से पहचान में नहीं आते।

 

सुस्ती-

गतिहीन जीवनशैली और सुस्ती के कारण मांसपेशियां समय के साथ-साथ कमजोर हो जाती हैं। जिससे शरीर में कमजोरी महसूस होती है।

 

उम्र-

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, शरीर की कोशिकाओं और ऊतकों की आपस में तालमेल रखने की क्षमता कम होती रहती है। इसी वजह से बूढ़े लोगों का शरीर कम सक्रिय रहकर अपनी ऊर्जा बचाता है अन्यथा उन्हें कमजोरी का अनुभव होता है।

 

संक्रमण और लम्बी चलने वाली बीमारियां-

अगर शरीर को लगातार संक्रमणों से लड़ना पड़े तो शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है। शरीर में लम्बे समय से चले आ रहे इंफेक्शन जैसे टीबी और हेपेटाइटिस के कारण भी रोगी को थकान महसूस होती है। इसकी एक वजह यह है कि इन बीमारियों के चलते मांसपेशियां कमजोर हो जाती है। इसी तरह शुगर और अनिद्रा की बीमारी के चलते भी पीड़ित को बेहद कमजोरी महसूस होने लगती है।

 

विटामिन की कमी-

महत्वपूर्ण विटामिनों की कमी से लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में कमी आती है। जिससे शरीर में ऊर्जा का निर्माण कम हो जाता है और शरीर कमजोरी महसूस करता है।

 

शारीरिक कमजोरी के अन्य कारण-

  • फ्लू
  • थायराइड
  • खून की कमी (एनीमिया: यह मासिक धर्म के दौरान अधिक रक्तस्त्राव के कारण हो सकता है)
  • नींद की कमी
  • शुगर की बीमारी
  • हार्ट फेलियर
  • विटामिन बी-12 की कमी
  • दवाओं के साइड इफ़ेक्ट
  • कीमोथेरपी (Chemotherapy)
  • कैंसर
  • स्ट्रोक
  • दिल का दौरा
  • नसों या मांसपेशियों में चोट
  • नसों या मांसपेशियों को प्रभावित करने वाली बीमारियां
 

कमजोरी से बचाव के उपाय-

  • कैफीन और शराब का सेवन करने से बचें।
  • अत्यधिक एक्सरसाइज या डाइटिंग न करें।
  • रात को पर्याप्त नींद अवश्य लें।
  • अपने आहार में कैल्शियम, प्रोटीन और कम फैट वाले भोजन को शामिल करें।
  • पोषक तत्वों से भरपूर आहार लें, इससे शरीर में ऊर्जा रहती है और थकान कम होती है।
  • रोजाना कम से कम तीस मिनट बाहर खुले वातावरण में घूमने का प्रयास करें। इससे दिमाग और शरीर को शांति मिलती है, तनाव कम होता है और मानसिक स्वास्थ पर एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
 

शारीरिक कमजोरी का इलाज;

संक्रमण के कारण हुई कमजोरी-

संक्रमण से लड़ने के लिए डॉक्टर द्वारा बताई गई एंटीबायोटिक दवाओं की मदद से खोई हुई ऊर्जा वापिस पाई जा सकती है।

 

डिप्रेशन के कारण हुई कमजोरी-

एंटीडिप्रेसेंट दवाओं से इस प्रकार की थकान को ठीक किया जा सकता है।

 

विटामिन की कमी के कारण हुई कमजोरी-

विटामिन की कमी से हुई चयापचयी (Metabolic) असामान्यता को ठीक करने के लिए वह विटामिन दिया जाता है जिसका स्तर कम है। अधिकतर थकान विटामिन बी 12 और फोलेट की कमी के कारण होती है। जिनकी कमी को पूरा करके कमजोरी को ठीक किया जा सकता है।

 

अधिक काम के कारण हुई कमजोरी-

अगर ज्यादा काम करने के कारण मांसपेशियों में कमजोरी हो रही है तो जीवनशैली में परिवर्तन करके इसका इलाज किया जा सकता है।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • चक्कर आने पर।
  • उलझन होने पर।
  • बोलने में परेशानी होने पर।
  • नजर में बदलाव आने पर।
  • छाती में दर्द होने पर।
  • सांस लेने में दिक्कत होने पर।
  • अनियमित दिल की धड़कन।
Read More