Cart
My Cart

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF. 5% OFF ON PREPAID ORDERS

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF.
5% OFF ON PREPAID ORDERS

No Extra Charges on Shipping & COD

Cold Sores- Know its Symptoms & Treatment

Posted 24 May, 2023

Cold Sores- Know its Symptoms & Treatment

Cold sores, also known as fever blisters, are small, painful blisters that develop on or around the lips, or sometimes on the nose or cheeks. They are caused by the herpes simplex virus, which is highly contagious and can be transmitted through close contact with an infected person or object.

Cold sores typically start with a tingling or itching sensation in the affected area, followed by the development of small, fluid-filled blisters that can be painful and last for several days. The blisters eventually break open, ooze fluid, and form a crust before finally healing. Cold sores can be quite uncomfortable and unsightly, but there are treatments available to help manage the symptoms and prevent future outbreaks.

 

Causes of Cold sores

Cold sores are caused by the herpes simplex virus (HSV). There are two types of herpes simplex virus:

  • HSV-1 which is the most common cause of cold sores.
  • HSV-2 is usually associated with genital herpes.

The virus is highly contagious and can be transmitted by-

  • Close contact with an infected person or object.
  • It can be spread by kissing, sharing utensils or towels, or touching a cold sore and then touching another part of your body.
  • The virus can also be spread by oral sex, so it's important to use protection if you or your partner has an active cold sore.

Once you're infected with the herpes simplex virus, it can remain in your body for life. The virus can remain dormant in your nerve cells for long periods of time and reactivate, causing cold sores, during times of stress, illness, hormonal changes, or other triggers.

 

Symptoms of Cold sores

Cold sores typically start with a tingling or itching sensation in the area where the blister will appear. This is followed by the development of small, fluid-filled blisters that can be painful and last for several days. The blisters usually appear on or around the lips, but can also develop on the nose or cheeks.

 

The blisters eventually break open, ooze fluid, and form a crust before finally healing. This entire process usually takes 7 to 10 days, but the healing time can vary depending on the severity of the outbreak.

 

Other symptoms that may occur with cold sores include fever, swollen lymph nodes, and sore throat. The first outbreak of cold sores can be more severe than subsequent outbreaks and may also be accompanied by flu-like symptoms.

 

It's important to note that not everyone infected with the herpes simplex virus will experience symptoms. Some people may be carriers of the virus and never have an outbreak. However, carriers can still transmit the virus to others, even if they have no symptoms.

 

Treatment methods of Cold sores

While there is no cure for cold sores, there are a variety of treatments that can help reduce the severity and duration of the symptoms.


Antiviral creams and ointments-

Over-the-counter creams and ointments that contain antiviral agents, such as acyclovir or docosanol, can help speed up the healing process and reduce pain and itching. These are most effective if applied at the first sign of a cold sore.


Oral antiviral medications-

Prescription-strength oral antiviral medications may also be prescribed by a doctor to help reduce the severity of the outbreak. These medications are usually taken at the first sign of an outbreak and can help to reduce the healing time.


Pain relief-

Over-the-counter pain relievers such as ibuprofen or acetaminophen can help to relieve the pain associated with cold sores.


Topical anesthetics-

Topical anesthetics, such as lidocaine, can be applied directly to the cold sore to relieve pain and itching.

 

Home remedies for Cold sores

Aloe vera-

Applying aloe vera gel directly to the cold sore may help to soothe the skin and promote healing.


Tea tree oil-

Some people find relief from cold sores by applying a small amount of tea tree oil directly to the affected area. However, it's important to dilute the oil with a carrier oil, such as coconut or olive oil, before applying it to the skin.


Ice or cold compress-

Applying a cold compress or ice to the affected area may help to reduce pain and inflammation.


Lemon balm-

Lemon balm contains antiviral properties and may help to reduce the duration and severity of cold sores. You can apply a lemon balm cream or ointment directly to the affected area.


Echinacea-

Echinacea is an herb that is believed to boost the immune system and may help to prevent cold sore outbreaks.


Baking soda-

Some people find relief from cold sores by applying a paste of baking soda and water directly to the affected area.

It's important to note that these home remedies may not be effective for everyone and may not work as well as prescription medications. If you have frequent or severe outbreaks of cold sores, it's important to talk to your doctor about the best treatment options for your specific situation.

 

Prevention methods for Cold sores

  • Avoid close contact with people who have an active outbreak of cold sores.
  • Wash your hands frequently, especially after touching your face, mouth, or an active cold sore.
  • Avoid sharing utensils, razors, towels, or other personal items with someone who has an active cold sore.
  • Use a lip balm with sunscreen to protect your lips from sun exposure, which can trigger outbreaks.
  • Avoid touching your face or mouth, especially if you've been in contact with someone who has a cold sore.
  • Manage stress, which can trigger outbreaks in some people.
  • Eat a healthy diet and get plenty of rest to support your immune system.
  • If you have frequent or severe outbreaks, talk to your doctor about prescription antiviral medications that can help prevent or reduce the severity of outbreaks.

When to see a doctor?

In most cases, cold sores will heal on their own within a week or two without the need for medical treatment. However, there are some situations in which you should consider seeing a doctor:

  • If you have a weakened immune system.
  • If your cold sores are very large, painful, or don't heal within two weeks.
  • If you experience frequent or severe outbreaks of cold sores.
  • If your cold sores are accompanied by other symptoms, such as fever, swollen lymph nodes, or a headache.
  • If you have a cold sore near your eye.

If you're unsure whether or not you should see a doctor for your cold sores, it's always a good idea to make an appointment with your healthcare provider. They can evaluate your symptoms and recommend the best course of treatment for your specific situation.

 

References-

Medical News Today. https://www.medicalnewstoday.com/articles/172389#outlook.

Last accessed on 18-02-2023

NHS. https://www.nhs.uk/conditions/cold-sores/.

Last accessed on 18-02-2023

Healthline. https://www.healthline.com/health/herpes-labialis#canker-sores-vs-cold-sores.

Last accessed on 18-02-2023

Healthline. https://www.healthline.com/health/beauty-skin-care/cold-sore-remedies#ibuprofen-or-acetaminophen.

Last accessed on 18-02-2023

ClevelandClinic. https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/21136-cold-sores.

Last accessed on 18-02-2023

Mayoclinic. https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/cold-sore/symptoms-causes/syc-20371017.

Last accessed on 18-02-2023

University Health Services. https://www.uhs.wisc.edu/medical/cold-sores/.

Last accessed on 18-02-2023

Read More
रोटावायरस क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

Posted 26 April, 2023

रोटावायरस क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

रोटावायरस एक संक्रमित वायरस है, जो विशेष रूप से शिशुओं और छोटे बच्चों में उल्टी और दस्त (पानी जैसा मल) का कारण बनता है। साथ ही वयस्क भी प्रभावित हो सकते हैं लेकिन वह छोटे बच्चों की तुलना में कम बीमार पड़ते हैं। आमतौर पर रोटावायरस संक्रमण का खतरा सर्दियों और वसंत ऋतु (दिसंबर से जून) में सबसे अधिक होता है।

रोटावायरस अधिक संक्रामक होता है। यह संक्रमित व्यक्ति के मल के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संपर्क से फैलता है। यह स्थिति तब हो सकती है जब आप किसी संक्रमित व्यक्ति के दूषित वस्तु, भोजन, पानी, हाथ या मुंह को छूते हैं। इस स्थिति में वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं।

 

रोटावायरस के लक्षण

आमतौर पर रोटावायरस के संपर्क में आने के लगभग 48 घंटे बाद इसके लक्षण विकसित होने लगते हैं। इस अवधि को वायरस के लिए "ऊष्मायन अवधि" कहा जाता है। इसके लक्षण निम्नलिखित हैं-

  • बार-बार उल्टी करना।
  • बहुत अधिक दस्त आना।
  • मल में रक्त आना।
  • बार-बार मुंह सूखना।
  • निर्जलीकरण अर्थात शरीर में पानी की कमी हो जाना।
  • तेज़ बुखार होना।
  • पेट में दर्द होना।
  • अधिक चिड़चिड़ापन महसूस करना।
  • अधिक थकान एवं सुस्ती होना।
  • भूख न लगना।
  • पेशाब कम आना।

 

रोटावायरस के कारण-

रोटावायरस किसी भी उम्र के लोगों को संक्रमित कर सकता है। यह वायरस दूषित वस्तुओं या भोजन के संपर्क में आने से फैलता है। ज्यादातर मामलों में यह मौखिक-फिकल के माध्यम से फैलता है, जिसका अर्थ यह है कि जब व्यक्ति वॉशरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को ठीक से धोएं बिना वस्तुओं को छूता या भोजन तैयार करता है। उसके बाद यदि असंक्रमित व्यक्ति उस वस्तु या जगह को स्पर्श करता है या उस संक्रमित भोजन का सेवन करता है। इस स्थिति में इसके वायरस असंक्रमित व्यक्ति के अंदर प्रवेश करके ऑस्मोसिस की शारीरिक प्रक्रिया के माध्यम से छोटी आंत के स्तर पर हमला करता है। साथ ही तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स पाचन तंत्र में प्रवाहित होते हैं। जिससे पेट में ऐंठन, वजन कम होना, निम्न रक्तचाप, सुस्ती, उल्टी और दस्त आदि होते हैं।

 

रोटावायरस के प्रसार को कैसे रोकें?

  • यदि आपका शिशु रोटावायरस से संक्रमित है, तो डायपर बदलने के बाद और खाना बनाने, परोसने या खाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह से साबुन से धोएं।
  • ध्यान दें हाथ धोने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह से सुखा लें।
  • शौचालयों को नियमित रूप से कीटाणुनाशक से साफ करें।
  • फ्लश के हैंडल, टॉयलेट सीट, सिंक के नल, बाथरूम की सतह और डोर नॉब्स को गर्म पानी और डिटर्जेंट से साफ करें।
  • टिश्यू या डिस्पोजेबल तौलिए का इस्तेमाल करें।
  • संक्रमित बच्चों और वयस्कों को स्कूल, काम और अन्य जगहों पर जाने से बचाएं ताकि वह अन्य लोगों को संक्रमित न कर सकें।

 

रोटावायरस के लिए लगाए जाने वाले टीके-

रोटावायरस संक्रमण को रोकने और इसकी जटिलताओं को कम करने के लिए, माता-पिता को अपने बच्चों को टीकाकरण जरूर कराना चाहिए। यह दो रूपों में उपलब्ध है-

रोटारिक्स-

यह टीका 2 महीने और 4 महीने की उम्र के शिशुओं को दो खुराक में दिया जाता है।

 

रोटाटेक-

यह टीका तीन खुराक में 2, 4 और 6 महीने में मौखिक रूप से दिया जाता है।

 

ध्यान रखें गंभीर रूप से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के इतिहास वाले बच्चे या जो पहले से ही गंभीर रूप से बीमार हैं, उन्हें टीका नहीं लेना चाहिए।

 

रोटावायरस के लिए घरेलू उपचार-

यदि कोई व्यक्ति रोटावायरस से ग्रसित है। इसलिए कुछ निम्न घरेलू उपाय अपनाकर इस वायरस की रोकथाम की जा सकती है। -

हाइड्रेशन-

रोटा वायरस की समस्या में शरीर में पानी की कमी होना (निर्जलीकरण) आम बात है। ऐसे में हाइड्रेटड रहने पर ध्यान देना बहुत जरुरी है। इसलिए हमेशा पानी पीते रहना चाहिए। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति स्वाद पसंद करता है, तो मौखिक पुनर्जलीकरण समाधान के लिए ऊर्जा पेय पदार्थों का सेवन करना फायदेमंद होता हैं। जिसमें इलेक्ट्रोलाइट्स पाए जाते हैं, जो उल्टी या दस्त के इलाज में भी प्रभावी होते हैं।

 

आहार-

इस स्थिति में हल्का भोजन करना फायदेमंद होता हैं। साथ ही ऐसे भोजन करने से बचें जो पेट को खराब करता है। जिसमें तैलीय (तला हुआ) या मसालेदार भोजन शामिल हैं।

 

आराम-

बीमारी के दौरान जितना हो सके आराम करने की कोशिश करें ताकि आपको थकान महसूस न हो।

 

दवाएं-

ओवर-द-काउंटर डायरिया दवाएं पेट खराब होने से बचाती हैं। साथ ही दस्त से राहत प्रदान करती हैं। लेकिन याद रखें कि उनका अक्सर बहुत कम प्रभाव होता है।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • 100 डिग्री से अधिक बुखार होने पर।
  • बुखार जो तीन या चार दिनों से अधिक समय से हो।
  • मल में रक्त या गहरे रंग का मल आने पर।
  • खून की उल्टी होने पर।
  • सुस्ती या अधिक थकान होने पर।
  • रुक रुककर या पेशाब न होने पर।
  • कमजोर या दिल की धड़कन तेज होने पर।
  • मुंह का अधिक सूखेपन होने पर।
  • हाथ पैरों में ठंडक का अहसास होने पर।
  • सांस लेने में परेशानी होने पर।
  • चलने या खड़े होने में कठिनाई होने पर।
Written By- Jyoti Ojha
Approved By - Dr. Meghna Swami (BAMS)
Read More
सेरेब्रल पाल्सी के प्रकार, कारण, लक्षण और इलाज

Posted 03 April, 2023

सेरेब्रल पाल्सी के प्रकार, कारण, लक्षण और इलाज

वैसे तो अनेक बीमारियां लोगों को अपना शिकार बनाती हैं। उन्हीं में से कुछ ऐसी बीमारियां हैं, जो जन्मजात होती हैं। वहीं कुछ की चपेट में व्यक्ति समय के साथ आ जाता है। ऐसी ही एक बीमारी सेरेब्रल पाल्सी है। यह समस्या किसी को जन्म के समय ही होती है, तो किसी को जीवन में हुई दुर्घटना के कारण हो जाता है। आइए, इस ब्लॉग के माध्यम से सेरेब्रल पाल्सी के बारे में विस्तारपूर्वक चर्चा करते हैं।

 

सेरेब्रल पाल्सी क्या हैं?

सेरेब्रल पाल्सी विकारों का एक समूह हैं। जो शरीर के विभिन्न अंगों एवं मांसपेशियों की टोन, मुद्रा यानी पॉश्चर, बनावट और उनकी गतिविधियां को प्रभावित करता है। दरअसल सेरेब्रल का संबंध मस्तिष्क से और पाल्सी का अर्थ मांसपेशियों में समस्या या कमजोरी से है। आमतौर पर इसके लक्षण छोटे बच्चों में दिखाई देते हैं। लेकिन कुछ मामलों में इसके लक्षण मस्तिष्क में लगी चोट या दुर्घटना के कारण युवाओं और बुजुर्गों में भी देखने को मिलते हैं। यह बीमारी मुख्य रूप से सेरेब्रल मोटर कॉर्टेक्स (दिमाग का एक हिस्सा) को प्रभावित करती है। चूंकि सेरेब्रल मस्तिष्क का वह अंग होता है, जो मांसपेशियों की गति को निर्देशित करता है।

 

सेरेब्रल पाल्सी के प्रकार-

सेरेब्रल पाल्सी के कई प्रकार होते हैं। उनमें से कुछ मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं-

 

स्पास्टिक सेरेब्रल पाल्सी-

यह सेरेब्रल पाल्सी का आम प्रकार होता है। यह मांसपेशियों को टोन, मुद्रा और अजीब गतिविधियों का कारण बनता है। कभी-कभी स्पास्टिक सेरेब्रल पाल्सी शरीर के केवल एक हिस्से को प्रभावित करता है। ज्यादातर मामलों में यह हाथ और पैर, धड़ और चेहरे या दोनों को प्रभावित कर सकता है।

 

डिस्किनेटिक सेरेब्रल पाल्सी-

सेरेब्रल पाल्सी के इस प्रकार में हाथ और पैरों की गति को नियंत्रित करने में समस्या होती है। जिसके कारण व्यक्ति को बैठना और चलना मुश्किल हो जाता है।

 

अटैक्सिक सेरेब्रल पाल्सी-

सेरेब्रल पाल्सी के इस प्रकार में व्यक्ति को संतुलन और समन्वय बनाने में परेशानी उत्पन्न होती हैं।

 

मिक्सड सेरेब्रल पाल्सी-

इससे प्रभावित मरीज में एक से अधिक प्रकार के सेरेब्रल पाल्सी के लक्षण देखने को मिलते हैं।

 

सेरेब्रल पाल्सी के कारण-

सेरेब्रल पाल्सी का मुख्य कारण असामान्य विकास या विकासशील मस्तिष्क को नुकसान पंहुचाना होता है। जिसमें से कुछ परिस्थितियां निम्नलिखित हैं:

  • भ्रूण के विकास के दौरान सेरेब्रल मोटर कॉर्टेक्स का सामान्य रूप से विकसित न हो पाना।
  • जन्म से पहले या बाद में शिशु के मस्तिष्क में चोट लगना।
  • मस्तिष्क में किसी प्रकार का संक्रमण होना।
  • मस्तिष्क में रक्त परिसंचरण सुचारु रूप से न होना।
  • नवजात शिशुओं में पीलिया होना।

सेरेब्रल पाल्सी के लक्षण-

  • मानसिक स्वास्थ्य का सही न होना।
  • हाथ और पैर में कमजोरी होना।
  • बैठना, लुढ़कना, और चलना देरी से सीखना।
  • मुंह से बार-बार लार टपकना।
  • पेशाब पर सयंम (बार-बार-मूत्र का रिसाव) न होना।
  • हाथ, पैर या तलवों में कपकपी आना।
  • निगलने या बोलने में असुविधा होना।
  • सोचने या समझने की क्षमता में कमी होना।
  • अनैच्छिक झटके दार हरकतें करना।
  • बार-बार दौरे (मिर्गी) पड़ना।
  • चलने-फिरने या उठने-बैठने में कठिनाई महसूस करना।

सेरेब्रल पाल्सी के जोखिम कारक-

 

मां की चिकित्सीय स्थितियां-

यदि गर्भावस्था के दौरान किसी महिलाओं को थायरॉइड की समस्या, इंटेलेक्चुअल डिसेबिलिटी या अन्य कोई समस्या गंभीर हैं। इस स्थिति में बच्चे को सेरेब्रल पाल्सी का खतरा अधिक होता है।

 

गर्भावस्था के समय किसी तरह का संक्रमण-

संक्रमण के कारण व्यक्ति के शरीर में साइटोकाइन्स नामक प्रोटीन में वृद्धि होती है। यह गर्भावस्था के समय बच्चों के मस्तिष्क और रक्त में फैलते हैं। आम तौर यह प्रोटीन मस्तिष्क में सूजन का कारण बनते हैं। जिससे बच्चे में मस्तिष्क की क्षति हो सकती है। परिणामस्वरूप प्रसव के बाद बच्चों को सेरेब्रल पाल्सी का खतरा अधिक रहता है।

 

टीकाकरण न करवाने पर-

शिशु के जन्म के तुरंत बाद उसे जरुरी टीकाकरण न करवाने पर मस्तिष्क के संक्रमण का जोखिम ज्यादा रहता है। ऐसे में सेरेब्रल पाल्सी की समस्या हो सकती है।

 

प्रीटर्म एवं लो बर्थ वेट-

यदि किसी बच्चे का जन्म समय से पहले हुआ है। साथ में उस बच्चे का वजन भी कम है। ऐसे बच्चों को सेरेब्रल पाल्सी होने का खतरा अधिक रहता है।

 

एक से अधिक शिशु का जन्म-

जब एक साथ जुड़वां या तीन बच्चे पैदा होते हैं। इस स्थिति में उन बच्चों को यह समस्या होने कीसंभावना अधिक होती है।

 

इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट-

यदि कोई इनफर्टिलिटी का इलाज करवाता है। उसके बाद किसी बच्चे को जन्म देता है। ऐसे बच्चों को यह समस्या होने की संभावना अधिक रहती है।

 

सेरेब्रल पाल्सी का निदान-

यदि चिकित्सक को एक या इससे अधिक सेरेब्रल पाल्सी होने का लक्षण नजर आते हैं, तो वह तुरंत बच्चे के लक्षणों की जांच करने का सुझाव देते हैं। सबसे पहले डॉक्टर आपके बच्चे के पहले हुए सभी डॉक्टरी इलाज की जानकारी लेते हैं। उसके बाद शारीरिक जांच करते हैं। अब मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र की स्थिति का पता लगाने के लिए इससे संबंधित डॉक्टर से संपर्क करने का परामर्श देते हैं। इसके अलावा कुछ अन्य संभावित कारणों को जानने के लिए कुछ जांच करवाते हैं, जो निम्नलिखित हैं:

 

मस्तिष्क का स्कैन-

इमेजिंग टेक्नोलॉजी के माध्यम से डॉक्टर मस्तिष्क में हुई क्षति या असामान्य विकास वाली जगह का पता करते हैं। इसमें शामिल निम्नलिखित जांच हैं:

 

एमआरआई (MRI) -

बच्चों के मस्तिष्क में किसी भी तरह का घाव या असामान्यता का पता लगा लगाने के लिए एमआरआई किया जाता है। सामान्यतः सेरेब्रल पाल्सी के लिए इस तकनीक का उपयोग अधिक किया जाता है।

 

क्रैनियल अल्ट्रासाउंड (Cranial Ultrasound) -

क्रैनियल अल्ट्रासाउंड मस्तिष्क की महत्वपूर्ण शुरूआती जांच करता है।

 

सीटी स्कैन (CT Scan ) -

बच्चों के मस्तिष्क में असामान्यताओं का पता लगाने के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

 

ईईजी (EEG)-

यदि बच्चे को मिर्गी या बार-बार दौरा पड़ता है। इस स्थिति में चिकित्सक ईईजी के माध्यम से मिर्गी की जांच करता है। क्योंकि सेरेब्रल पाल्सी में दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है।

 

ब्लड टेस्ट-

बच्चों के शरीर में अन्य बीमारी की पुष्टि के लिए चिकित्सक रक्त जांच कराने का परामर्श देता हैं। इससे रक्त संबंधी बीमारियों जैसे रक्त का थक्का जमना आदि का पता लगाया जाता है। जिससे स्ट्रोक्स होने का खतरा बना रहता है।

 

सेरेब्रल पाल्सी का उपचार-

इस समस्या की पुष्टि होने पर तुरंत इसका इलाज शुरु कर देना चाहिए। इससे पीड़ित बच्चे या मरीज के जीवन को बेहतर बनाने के लिए कुछ निम्न उपयुक्त उपचार शामिल हैं:

  • दवाइयां।
  • शल्य चिकित्सा अर्थात सर्जरी।
  • कुछ खास प्रकार की डिवाइस।
  • शारीरिक, व्यावसायिक, मनोरंजक और स्पीच से जुड़ी चिकित्सा।

सेरेब्रल पाल्सी से बचाव-

  • गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण सही समय पर करें। ताकि अजन्में बच्चों में होने वाले संक्रमण को रोका जा सके।
  • छोटे शिशुओं या बच्चों का खास ख्याल रखें ताकि उनके सिर पर किसी भी तरह का चोट न लगें।
  • गर्भावस्था के दौरान अपने स्वास्थ्य का नियमित रूप से जांच करवाते रहें।
  • अपने हाथों को नियमित रूप से धोएं। ताकि गर्भस्थ शिशु को किसी भी तरह का संक्रमण न हो।
  • गाड़ी ड्राइव करते समय हमेशा स्वयं और अपने बच्चों को हेलमेट जरुर पहनाएं।
  • बच्चों को अधिक हिलाना, गिराने एवं मारने से बचें।
  • बच्चों को घर के किसी भी हिस्से या बाथटब में अकेला न छोड़े। उसे हमेशा किसी की निगरानी में ही रखें।
Read More
थकान के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 17 March, 2023

थकान के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

थकान एक ऐसी समस्या है, जिससे लगभग हर किसी को गुजरना पड़ता है। अक्सर लोग इसे सामान्य परेशानी समझकर अनदेखा कर देते हैं। लेकिन अधिक थकान (शारीरिक या मानसिक) लगना किसी बीमारी की ओर संकेत करता है। ऐसे में समय रहते व्यक्ति को सतर्क होना बहुत जरूरी है। आइए, इस लेख के माध्यम से थकान के बारे में विस्तारपूर्वक बात करते हैं।

 

थकान क्या है?

जब व्यक्ति के शरीर में शारीरिक या मानसिक ऊर्जा का ह्रास होता है और उसके उत्साह में कमी होती है। इस स्थिति को थकान कहा जाता है। इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति का मन किसी भी तरह का काम करने में नहीं लगता। यूं तो थकान होना आम बात है, लेकिन कभी-कभी यह गंभीर समस्या का कारण भी हो सकता है। यदि किसी को थकान का अहसास 6 महीने या उससे अधिक समय तक रहता है। तो इस स्थिति को मेडिकल भाषा में क्रॉनिक फैटिग सिंड्रोम के नाम से जाना जाता है। इसलिए इसे बिना नजरअंदाज किए बिना चिकित्सक से तुरंत परामर्श लें।

 

थकान के लक्षण-

  • किसी काम को करने में मन नहीं लगना।
  • ऊर्जा और उत्साह की कमी महसूस करना।
  • लगातार शरीर में दर्द बने रहना।
  • सिर दर्द होना।
  • मांसपेशियों में दर्द या कमजोरी का अहसास होना।
  • ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता महसूस करना।
  • भूख में कमी होना।
  • चक्कर आना।
  • धुंधला दिखाई देना।
  • भ्रम की स्थिति उत्पन्न होना।

थकान के कारण-

वैसे तो थकान होने का कोई ज्ञात कारण आज तक शोधकर्ताओं को नहीं मिला हैं। लेकिन शोधकर्ता आज भी उन्हीं कारकों को मानते हैं जिससे थकान हो सकती है। थकान होने का कुछ सामान्य कारण निम्नलिखित हैं:

  • शरीर में रक्त की कमी होना।
  • रोग-प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होना।
  • शरीर में आयरन की कमी होना।
  • एंटी डिप्रेशन एवं दर्द निवारक दवाइयों का अधिक उपयोग करना।
  • नशीली दवाइयों या नशीले पदार्थों का सेवन करना।
  • थायरॉइड की समस्या होना।

थकान के जोखिम कारक-

  • मधुमेह की समस्या होने पर।
  • लिवर संबंधी समस्या होने पर।
  • ह्रदय संबंधी रोग होने पर।
  • कुपोषण की समस्या होने पर।

थकान से बचाव-

  • चिंता, तनाव और अवसाद लेने से बचें।
  • अपने सोने की आदत को ठीक करें।
  • गतिविधियों का स्तर बनाए रखें।
  • अपने वजन को नियंत्रित रखें।
  • अवसाद रोधी, दर्द निवारक और नींद की गोलियां का सेवन करने से बचें।
  • प्रतिदिन अपने दिनचर्या में नियमित रूप से योग और व्यायाम को शामिल करें।
  • कैफीन, नशीले पदार्थों के सेवन से परहेज करें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • अपने दैनिक आहार में हरी सब्जियां और फलों को शामिल करें।

थकान का परीक्षण -

थकान का परीक्षण के लिए कोई ज्ञात जांच नहीं है। इसका निदान करने से पहले चिकित्सक कई बीमारियों का परीक्षण करते हैं। ताकि पता चल सके की इसका मुख्य कारण कोई गंभीर बीमारी तो नहीं हैं। इसके परीक्षण निम्नलिखित हैं:

 

नींद के विकार-

थकान होने का सबसे मुख्य कारण नींद के विकार हो सकते हैं। ऐसे में डॉक्टर सबसे पहले नींद संबंधी समस्याएं जैसे स्लीप एपनिया, अनिद्रा के आदि का परीक्षण करता है।

 

चिकित्सा समस्याएं-

थकान कई चिकित्सा स्थितियों जैसे एनीमिया, मधुमेह और हाइपोथायरायडिज्म के कारण हो सकती है। इसलिए डॉक्टर रोगी की शारीरिक जांच करता है।

 

मानसिक संबंधी समस्याएं-

थकान कई मानसिक स्थितियों जैसे चिंता, तनाव और अवसाद के कारण भी होता है। ऐसे में डॉक्टर रोगी का मानसिक परीक्षण करता है। ताकि पता लगाया जा सके क्या इसमें से किसी एक समस्या से थकान हो रही है या नहीं।

 

रक्त परीक्षण-

यह परीक्षण किसी भी एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटशन रेट परीक्षण (गैर-थक्कों वाले रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं का माप) का पता लगाने में मदद करते हैं। जो सूजन की अनुपस्थिति को प्रदर्शित करता है।

 

एंटीबाडी परीक्षण-

यह परीक्षण किसी भी प्रकार के संक्रमण की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जाता है।

 

थकान का इलाज-

थकान का उपचार करने के लिए निम्न तरीके अपनाए जाते हैं:

 

दवाइयां-

चूंकि थकान कई कारणों से होते हैं। ऐसे में इन्हें दूर करने के लिए डॉक्टर इनके लक्षण के अनुसार दवाइयां देते है। जैसे-

 

एंटी डिप्रेसेंट -

जो लोग तनाव या अवसाद से ग्रसित हैं। जिसके कारण उन्हें थकान से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में चिकित्सक उन लोगों को कुछ एंटी डिप्रेसेंट की खुराक देते हैं। जिससे नींद में सुधार और दर्द को दूर करने में मदद मिलती है।

 

नींद की गोलियां-

कुछ लोगों को अनिद्रा के कारण नींद नहीं आती है। ऐसे में डॉक्टर उन्हें नींद की गोलियां दे सकते हैं। यह मरीज को रात में बेहतर आराम पाने में सहायता करता है।

 

थेरेपी-
गतिक्रम बनाए रखें-

दरअसल अधिक गतिविधि के कारण व्यक्ति को थकान की समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसलिए अपनी गतिविधियों का नियमित स्तर बनाए रखें।

 

प्राणायाम और व्यायाम करें-

शारीरिक और मानसिक समस्याओं को सुधारने के लिए अपने दिनचर्या में रोजाना प्राणायाम और कुछ व्यायाम को शामिल करें। ऐसा करने से व्यक्ति पूरे दिन तरोताजा और ऊर्जावान महसूस करता है।

 

थकान के घरेलू उपाय-

 

विटामिन सी युक्त फल-

विटामिन सी युक्त फलों का सेवन थकान आने की समस्या को ठीक करता है। यह रोग- प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है। इसलिए अपने दैनिक जीवन में विटामिन सी युक्त संतरे, नीबू, स्ट्रॉबेरी और अन्य खट्टे फलों को शामिल करना चाहिए।

 

तुलसी की पत्तियों का चाय-

तुलसी के पत्तों से बने चाय का सेवन थकान को दूर करने का अच्छा उपाय है। दरअसल तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट के साथ अन्य जरुरी तत्व मौजूद होता है। यह शरीर में ऊर्जा प्रदान करता है। साथ ही शरीर की हड्डियों और मांसपेशियों को ठीक करता है। जिससे थकान की समस्या दूर होती है। इसलिए तुलसी की चाय का सेवन करना फायदेमंद होता है।

 

शहद-

थकान की समस्या होने पर 1-2 चम्मच शहद का सेवन फायदेमंद होता है। क्योंकि शहद में एंटी-फैटिग अर्थात थकान से बचाव का गुण पाया जाता है। जो शारीरिक या मानसिक थकान को दूर करके शरीर को स्फूर्ति प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त शहद में कार्बोहाइड्रेट की प्रचूर मात्रा पाई जाती है, जो तनाव को दूर करने में कारगर होता है। ऐसे में थकान से बचने के लिए शहद को अपने नाश्ते में शामिल करना लाभदायक होता है।

 

हर्बल ड्रिंक का करें सेवन-

शारीरिक थकान की रोकथाम और बचाव के लिए अपने आहार में ग्रीन टी, आंवला या एलोवेरा जूस को शामिल करें। क्योंकि इनका सेवन करने से शरीर में एनर्जी बनी रहती है। जिससे थकान को दूर करने में मदद मिलती है।

 

तरबूज का करें सेवन-

थकान को दूर करने में तरबूज का सेवन भी कारगर है क्योंकि इसमें पानी और इलेक्ट्रोलाइट की अच्छी मात्रा पाए जाते हैं। इसलिए तरबूज का सेवन करने से शरीर हाइड्रेट रहता है। जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती है।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • लगातार अवसाद या तनाव का बना रहने पर।
  • सामाजिक बदलाव जैसे मन का चिड़चिड़ा आदि होने पर।
  • काम करने में असमर्थ होने पर।
Read More
चक्कर आना क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और निदान

Posted 06 March, 2023

चक्कर आना क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और निदान

चक्कर आने को आम बोलचाल की भाषा में सिर घूमना कहा जाता है। इससे पीड़ित व्यक्ति को सिर में तेज दर्द होना या सिर चकराने की समस्या होती है। आमतौर पर चक्कर आना एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमें लोगों को अलग-अलग तरह की उत्तेजना जैसे शिथिलता, बेहोशी, संतुलन खोना, असमानता, अस्थिरता और चीजों को ठीक से नहीं देख पाना आदि कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। ज्यादातर मामलों में इसे एक आम समस्या माना गया है, जो कभी-कभी एक जगह बैठने या खड़े होने पर होती है। इसका मुख्य कारण भूख, कमजोरी, गलत खान-पान और कुछ शारीरिक समस्याएं या गतिविधियां होती हैं। लेकिन यदि यह समस्या बार-बार हो, तो इसे नजर अंदाज कर देना शरीर के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। क्योंकि ऐसा होना किसी गंभीर बीमारी की ओर संकेत करता है। इसलिए बिना देर किए अपने चिकित्सक से तुरंत सलाह लें।

 

चक्कर आने के प्रकार-

सामान्यतः यह दो प्रकार के होते हैं, जो निम्न हैं:

 

लाइटहेडडनेस-

लाइटहेडडनेस चक्कर आने का सबसे आम प्रकार होता है। इस स्थिति में सिर में हल्के दर्द के साथ चक्कर आता है। इस दौरान व्यक्ति को बेहोशी आना प्रतीत होता हैं।

 

वर्टिगो-

डिजिनेस के इस प्रकार में व्यक्ति को आसपास की सभी चीजें घूमती हुई नजर आती है, जबकि वास्तव में ऐसा होता नहीं है। इस दौरान व्यक्ति कुछ समय के लिए स्वयं को गोल-गोल घूमता हुआ महसूस करता है। फिर अचानक वह ठीक हो जाता है।

 

चक्कर आने के लक्षण-

  • सिरदर्द होना।
  • चीजों का घूमना।
  • भ्रम की स्थिति पैदा होना।
  • बेहोशी महसूस करना।
  • उलझन या बेचैनी महसूस करना।
  • चलने-फिरने, बोलने में कठिनाई महसूस करना।
  • संतुलन खोना।
  • उल्टी या मतली आना।
  • हृदय की धड़कन का अनियमित होना।

चक्कर आने के कारण-

चक्कर आने के सामान्य कारण निम्नलिखित है:

 

निम्न रक्तचाप-

चक्कर आने का सबसे आम कारण रक्तचाप को माना जाता है। क्योंकि निम्न रक्तचाप होने पर शरीर में मौजूद रक्त मस्तिष्क को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं भेज पाता है। परिणामस्वरूप व्यक्ति को चक्कर आने लगते हैं। यह समस्या अधिकतर बुजुर्गों में देखी जाती है।

 

निर्जलीकरण या गर्मी से थकान होना-

कभी-कभी शारीरिक गतिविधियां करने या पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीने के कारण निर्जलीकरण होता है। इसके अतिरिक्त किसी प्रकार की पेट संबंधी समस्याएं जैसे उल्टी एवं दस्त होने पर भी शरीर में पानी की कमी हो जाती है। जिससे व्यक्ति को चक्कर आने लगता है।

 

रक्त शर्करा का कम स्तर-

आमतौर पर यह स्थिति मधुमेह के रोगियों में देखी जाती है।

 

कान का संक्रमण-

कान में किसी भी प्रकार का संक्रमण चक्कर आने का कारण बनती है। यह प्रायः व्यक्ति के सुनने और संतुलन को बनाए रखने की क्षमता को प्रभावित करता है। ऐसा होने पर लगातार चक्कर आ सकते हैं।

 

चक्कर आने के अन्य जोखिम कारक-

  • अधिक चिंता या तनाव लेने पर।
  • माइग्रेन की समस्या होने पर।
  • सिर या कान पर किसी प्रकार का चोट लगने पर।
  • शरीर में आयरन, विटामिन बी एवं डी की कमी होने पर।
  • एनीमिया से पीड़ित लोगों को।
  • हड्डियों केकमजोर होने पर।
  • अधिक वसा युक्त और जंक फ़ूड का सेवन करने पर।

 

चक्कर आने पर करे अपने जीवन शैली में बदलाव-

  • किसी भी तरह के काम को धीरे-धीरे ही पूरा करें।
  • अपने सिर को तेजी से न घुमाएं।
  • तंबाकू, शराब और कैफीन का प्रयोग न करें।
  • चिंता या तनाव लेने से बचें।
  • एलर्जी करने वाले पदार्थों से दूरी बनाएं।
  • खूब पानी पीएं।
  • उचित मात्रा में नमक का सेवन करें।
  • किसी चीज का सहारा लेकर ही खड़े हो।
  • तेज रोशनी,टीवी और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से दूरी बनाएं।
  • इसके लक्षण महसूस होने पर कुछ समय आराम करें।
  • शरीर की किसी भी मुद्रा में अचानक परिवर्तन करने से बचें।
  • यात्रा के दौरान किताबें पढ़ने से बचें।
  • पिछली सीट पर बैठकर यात्रा करने से बचें।
  • अपने यात्रा के दौरान मसालेदार एवं वसा युक्त आहार का सेवन न करें।
  • वर्टिगो की समस्या होने पर अधिक देर तक पढाई न करें।
  • कान का संक्रमण और अन्य श्वास संबंधी संक्रमणों का समय रहते इलाज करें।
  • ड्राइविंग, भारी मशीनरी का संचालन एवं किसी ऊंची जगह की चढ़ाई करने से बचें।

 

चक्कर आने के घरेलू उपाय-

विटामिन सी युक्त फल-

विटामिन सी युक्त फलों का सेवन चक्कर आने की समस्या को ठीक करने में कारगर होता है। यह रोग- प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है। इसलिए अपने दैनिक जीवन में विटामिन सी युक्त संतरे, नीबू, स्ट्रॉबेरी और अन्य खट्टे फलों को शामिल करना चाहिए।

 

नींबू पानी पीना-

चक्कर आने में नींबू पानी पीना भी बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। क्योंकि इसमें मौजूद विटामिन सी शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसके अलावा नींबू पानी प्राकृतिक रूप से शरीर को ऊर्जा और पेट को ठंडक प्रदान करता है। जिससे व्यक्ति अच्छा फील करता है।

 

अदरक चाय-

अदरक का सेवन चक्कर या मतली के लिए अच्छी उपाय है। यह मस्तिष्क एवं शरीर के अन्य हिस्सों तक रक्त का परिसंचरण सुचारु रूप से करता है। जिससे चक्कर की समस्या दूर होती है। इसलिए शहद युक्त अदरक की चाय का सेवन करना फायदेमंद होता है।

 

आंवला का करे सेवन-

अपने शरीर को चक्कर से बचाने के लिए रोजाना आंवला खाएं। दरअसल आंवला विटामिन ए और सी से समृद्ध है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। साथ ही रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। इसके अलावा आंवले के रस का सेवन भी फायदेमंद होता है।

 

शहद है फायदेमंद-

चक्कर आने की समस्या के लिए शहद का सेवन एक पुराना उपाय है। क्योंकि इसमें प्राकृतिक रूप से चीनी (सुक्रोज) होने से यह शरीर को स्फूर्ति प्रदान करता है। इसके अलावा शहद ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता भी है। इस प्रकार शहद का सेवन चक्कर आने की समस्या में लाभकारी होता है।

 

स्वस्थ्य आहार का सेवन करें-

चक्कर आने की समस्या के रोकथाम के लिए प्रतिदिन अपने आहार में हरी सब्जियां एवं फलों को शामिल करें। ऐसा करने से शरीर में कई तरह के मिनरल्स और विटामिन की पूर्ति होती है। जिससे रक्तचाप, मधुमेह, कमजोरी एवं अन्य चक्कर आने के लक्षण नियंत्रित होते हैं।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • बेहोश होने पर।
  • सीने में असहनीय दर्द होने पर।
  • तेज सिरदर्द होने पर।
  • किसी चीज को देखने में परेशानी होने पर।
  • सुनने, बोलने और चलने में अधिक कठिनाई होने पर।
Read More
खसरा रोग के कारण, लक्षण और उपचार

Posted 06 March, 2023

खसरा रोग के कारण, लक्षण और उपचार

मौसम में बदलाव के कारण संक्रमण का होना आम बात है। जिसकी वजह से लोगों को सर्दी, जुकाम और फ्लू (इन्फ्लूएंजा) जैसी संक्रामक बीमारियां आसानी से घेर लेती है। इन्हीं संक्रामक बीमारियों में खसरा रोग भी शामिल हैं। खसरा किसी भी व्यक्ति को हो सकता है। लेकिन ज्यादातर मामलों में यह संक्रमण बुजुर्गों और युवकों की अपेक्षा बच्चों में अधिक देखने को मिलता है। जिसे बदलते मौसम का संकेत मानकर नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

 

क्या होता है खसरा रोग?

खसरा रोग श्वसन प्रणाली का एक वायरल संक्रमण है। यह संक्रमित व्यक्ति से असंक्रमित व्यक्ति में आसानी से प्रसारित होता है। इससे ग्रसित व्यक्ति के पूरे शरीर पर लाल चकत्ते उभर आते हैं। शुरूआती दौर में यह लाल दाने पहले सिर पर होते हैं और फिर धीरे-धीरे शरीर के संपूर्ण हिस्सों में फैल जाते हैं। इसे अंग्रेजी में मीजल्स कहा जाता है। इसके अलावा खसरा रोग को रूबेला (Rubeola) के नाम से भी जाना जाता है।

 

खसरा के चरण-

शुरूआती दौर से अंतिम तक खसरा रोग को चार चरणों में विभाजित किया गया है। आमतौर पर यह चरण 2-3 सप्ताह तक रहतें हैं, लेकिन कभी-कभी गंभीर स्थितियों में ठीक होने में 4 हफ्ते भी लग जाते हैं। इन्हीं चरणों को नीचे वर्णित किया गया हैं।

 

ऊष्मायन चरण या इन्क्यूबेशन (Incubation phase)-

खसरा रोग के शुरुआती दौर को ऊष्मायन चरण या इन्क्यूबेशन कहा जाता है। इस चरण में व्यक्ति खसरा वायरस के संपर्क में आता है। आमतौर पर यह चरण संक्रमण के लक्षण शुरू होने से 10 से 14 दिन पहले का होता है।

 

प्रोड्रोमल कैटरल (Prodromal catarrhal)-

इस बीमारी के दूसरे चरण को प्रोड्रोमल कहा जाता हैं। इस चरण में संक्रमण के कुछ शुरूआती लक्षण नजर आने लगते हैं। सामान्यतः इस चरण में सर्दी, जुकाम, बुखार, घबराहट, आंख आना (कंजंक्टिवाइटिस) जैसे लक्षण स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं।

 

रैश या दाने का चरण (Rash phase)-

प्रोड्रोमल चरण के 3-4 दिन बाद मेक्युलोपेपुलर (चपटे और लाल) रैश या दाने नजर आने लगते हैं। साथ ही इस दौरान मरीज को दूसरे चरण के सभी लक्षण भी दिखाई देते हैं। लेकिन खसरा का यह चरण पहले अन्य दो चरणों की तुलना में कष्टदायक और गंभीर होता है। इस दौरान रोगी को तेज बुखार (104 से 105) का सामना भी करना पड़ता है।

 

रिकवरी (recovery phase)-

खसरा रोग का यह चरण अंतिम माना जाता है। इस चरण में रोगी रिकवर होने लगता है। इसमें सर्दी-जुकाम, बुखार आदि जैसे लक्षण ठीक हो जाते हैं। साथ ही रैश या दानों से भी छुटकारा मिलना शुरू हो जाता है।

 

खसरा के सामान्य लक्षण-

  • तेज बुखार आना।
  • सिर में दर्द होना।
  • गले में खराश होना।
  • गले में दर्द होना।
  • लगातार नाक बहना।
  • सूखी खांसी होना।
  • आंखों में सूजन या लालिमा होना।
  • मुंह के अंदर छोटे सफेद रंग के छालें पड़ना।
  • शुरूआती दौर में कान के पीछे लाल चकत्तें शुरू होना।
  • मांसपेशियों में दर्द।

 

खसरा के कारण-

आमतौर पर पैरामाइक्सो वायरस परिवार के मीजल्स नामक विषाणु का शरीर में प्रवेश करने पर खसरा रोग होता है। यह विषाणु छोटे परजीवी रोगाणु होते हैं। जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता, छींकता या बोलता है तो संक्रमित बूंदें हवा में फैल जाती हैं। जिससे असंक्रमित व्यक्ति को सांस के माध्यम से इसके वायरस शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते हैं। साथ ही उसे संक्रमित कर देता है। इसके बाद यह विषाणु शरीर में मौजूद कोशिकाओं पर हमला करते हैं। साथ ही अपने जीवन चक्र को पूरा करने के लिए सेलुलर घटकों का उपयोग करते हैं। इसके वायरस सबसे पहले श्वसन तंत्र को संक्रमित करता है। हालांकि, यह रक्तप्रवाह के माध्यम से शरीर के अन्य भागों में फैल जाते हैं। इसके अलावा खसरा वस्तुओं के संपर्क में आने से भी फैल सकता है, जैसे कि खिलौने या पानी पीने के गिलास, जो किसी बीमार व्यक्ति द्वारा संक्रमित हो गए हैं।

 

खसरा रोग के जोखिम कारक-

  • 5 वर्ष से कम छोटे बच्चों को खसरा होने की आशंका अधिक होती है।
  • जो लोग खसरा का टीकाकरण नहीं करवाए हैं।
  • जिन लोगों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है।
  • जो लोग प्रायः हमेशा एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करते हैं, खासकर अंत राष्ट्रीय जगहों पर।
  • जिन लोगों में विटामिन ए की कमी है।

खसरा होने पर बरतें यह सावधानियां-

  • पूरी तरह आराम करें।
  • दूसरों के संपर्क में आने से बचें।
  • इस दौरान टी वी, गेम, मोबाइल आदि इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का उपयोग न करें।
  • बाहर का भोजन, मसालेदार और जंक फ़ूड से परहेज करें।

खसरा के घरेलू उपाय-

 

नीम की पत्तियां-

खसरा से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में खुजली होना आम बात है। ऐसे में खुजली को कम करने के लिए नीम की पत्तियां फायदेमंद होती हैं। क्योंकि नीम में एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण मौजूद होते हैं , जो जीवाणुओं को नष्ट करने में मदद करते हैं। इसके लिए नीम के पत्तियों को पानी में उबालें। अब इसके पानी से स्नान करें। ऐसा करने से लाभ मिलता है।

 

नींबू पानी पीना-

खसरा होने पर नींबू पानी पीना भी फायदेमंद होता है। क्योंकि इसमें मौजूद विटामिन सी शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। जिससे व्यक्ति को खसरा के लक्षण जैसे सर्दी, जुकाम, बेचैनी आदि में आराम पहुंचता हैं।

 

नारियल पानी-

खसरा रोग से राहत पाने के लिए नारियल पानी बेहतर विकल्प होता है। एक मेडिकल शोध से पता चलता है कि नारियल पानी को शरीर पर लगाने से खसरा के कारण होने वाले लाल चकत्ते को कम किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त नारियल पानी का सेवन खसरा के मरीज के लिए लाभदायक होता है।

 

हर्बल टी-

हर्बल टी खसरा रोग का प्राकृतिक आयुर्वेदिक उपचारक भी है। इस पर किए गए एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, कैमोमाइल चाय का सेवन खसरा के कारण होने वाली बेचैनी को कम करता है। साथ ही इसमें मौजूद गुण सर्दी-जुकाम, बुखार, नाक बहने की समस्या को ठीक करने में मदद करता है। इसप्रकार कैमोमाइल चाय या अन्य कोई हर्बल टी का सेवन खसरा के मरीजों के लिए लाभकारी होता है।

 

संतरे के जूस का करे सेवन-

खसरे के लक्षणों को कम करने के लिए रोजाना संतरे के जूस का सेवन करें। दरअसल संतरे विटामिन ए और सी से समृद्ध है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। साथ ही इस पर किए गए शोध के मुताबिक, संतरे में एंटी वायरल प्रभाव होता है, जो खसरे के लक्षणों को कम करता है। इस प्रकार संतरे के रस का सेवन फायदेमंद होता है।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • लगातार बुखार के साथ शरीर पर दानें दिखाई पड़ने पर।
  • सांस लेने में कठिनाई होने पर।
  • गर्भावस्था के दौरान खसरा के लक्षण नजर आने पर।
Read More
कब होती है नसों में कमजोरी? जानें इसके कारण, लक्षण और निदान

Posted 02 March, 2023

कब होती है नसों में कमजोरी? जानें इसके कारण, लक्षण और निदान

आधुनिक जीवन शैली और गलत खान-पान के कारण अक्सर शरीर में पोषण की कमी हो जाती है। जिसके कारण शरीर में कई ऐसी बीमारियां स्वतः उत्पन्न होने लगती हैं। इन्हीं बीमारियों में शामिल हैं नसों की कमजोरी। नसों में कमजोरी आना एक आम समस्या है जिसका मतलब नसों की गतिविधियों का ठीक से काम न कर पाना है। आम तौर पर इसे मेडिकल भाषा में न्यूरोपैथी कहा जाता है। यह एक तंत्रिका संबंधी विकार है। जिसके कई कारण हो सकते हैं। यह समस्या ज्यादातर उन लोगों में देखने को मिलती है, जो लोग शरीर से अधिक कमजोर होते हैं अर्थात जिन लोगों में पोषण की कमी होती है।

 

नसों में कमजोरी के कारण-

नसों में कमजोरी या दर्द होने के पीछे कई कारण होते हैं। जिनमें प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं:

 

शरीर में पोषक तत्वों की कमी होना-

शरीर को सभी तरह के पौष्टिक पदार्थों की आवश्यकता होती है। क्योंकि यह पदार्थ शरीर को सेहतमंद बनाते हैं। इसमें विटामिन और मिनरल्स भी शामिल हैं। जिसका मुख्य काम नसों को मजबूत करना होता है। लेकिन यदि कोई व्यक्ति पौष्टिक युक्त तत्वों का सेवन नहीं है। इस स्थिति में उसे उसे नसों में कमजोरी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

 

किसी दवाई का दुष्प्रभाव होना-

बीमार होने पर डॉक्टर हमें कुछ दवाइयां देते हैं। जो हमें ठीक होने में मदद करती हैं। लेकिन साथ में इन दवाईयों के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। जिसकी वजह से नसों में कमजोरी जैसी कई गंभीर बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती हैं।

 

प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना-

नसों की कमजोरी होने का प्रमुख कारण कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) होता है। इसलिए लोगों को नियमित रूप से योग और व्यायाम करना चाहिए। जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली क्षमता मजबूत बना रहें।

 

नसों में कमजोरी के अन्य जोखिम कारक-

  • किसी दुर्घटना के कारण शरीर पर लगने वाली चोट की वजह से नसों में क्षति या सूजन होना।
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप एवं अन्य ह्रदय संबंधी समस्या होने पर।
  • आर्टरी वाल्व के अंदर फैट का जमा होने पर।
  • गलत या अस्वस्थ आहार लेने पर।
  • मस्तिष्क संबंधी बीमारी जैसे डिप्रेशन आदि होने पर।
  • शरीर में हार्मोनल असंतुलन होने पर।
  • नसों को नुकसान पहुंचाने वाले ड्रग्स का सेवन करने पर।
  • कैंसर ट्रीटमेंट थेरेपी में इस्तेमाल होने वाली दवाओं के कारण।
  • कोई संक्रामक बीमारी हो जिसका सीधा संपर्क नसों की कार्यक्षमता पर पड़ता है।

नसों के कमजोर होने के लक्षण-

  • नसों में जान महसूस न होना।
  • प्रभावित अंगों में अधिक दर्द या मरोड़ होना।
  • मस्तिष्क के आस-पास रक्त की कमी होना।
  • नसों में तनाव महसूस करना।
  • प्रभावित अंगों में झनझनाहट या सुन्नता महसूस करना।
  • अधिक गर्मी का अहसास करना या पसीना आना।
  • मांसपेशियों में कमजोरी या थकावट होना।
  • झटका लगना।
  • सूंघने, देखने और स्वाद चखने में कमी आना।
  • मानसिक संबंधी परेशानी या व्यवहार संबंधी समस्या होना।
  • किसी चीज को छूने या सुनने की क्षमता में कमी होना।
  • कैसे करें नसों में कमजोरी से बचाव?

नसों की कमजोरी से पीड़ित मरीजों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन लोग कुछ सावधानियों को बरतें तो वह नसों की कमजोरी से बचाव कर सकते हैं;

  • विटामिन और खनिज युक्त भोजन का सेवन करें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • नियमित रूप से योग और व्यायाम करें।
  • विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आने से बचें।
  • डायबिटीज या अन्य शारीरिक समस्याओं को नियंत्रित रखें।
  • अपने वजन को नियंत्रित रखें । ताकि किसी प्रकार का गंभीर बीमारी न हो सके।
  • खेल के दौरान समय अपने पैरों को बचाकर रखें।
  • शराब का सेवन करने से बचें।

नसों की कमजोरी का परीक्षण-

  • पुरानी समस्याओं की जांच करवाएं।
  • ब्लड टेस्ट या इमेजिंग टेस्ट करवाएं।
  • इलेक्ट्रोमीग्राफी जांच करवाएं। इससे नसों के कार्यों का पता चलता है।
  • नसों की असामान्यताएं देखने के लिए कभी-कभी चिकित्सक नसों की बायोप्सी कराने की सलाह देता है।
  • त्वचा की बायोप्सी आदि।

नसों में कमजोरी के घरेलू उपाय

 

आयुर्वेदिक ऑयल मसाज-

नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक ऑयल की मसाज को कारगर उपाय माना जाता है। इसके लिए लैवेंडर एसेंशियल ऑयल, यूकलिप्टस, पेपरमिंट, कैमोमाइल एसेंशियल ऑयल से प्रभावित जगहों पर हल्के हाथों से मालिश करें। ऐसा करने से नसें और मांसपेशियां मजबूत होती है। इससे प्रभावित जगह की दर्द एवं सूजन भी कम होती है।

 

एप्सम साल्ट-

नसों से जुड़ीं समस्याओं के लिए एप्सम साल्ट का उपयोग किया जाता है। इससे संबंधित एनसीबीआई के एक शोध के मुताबिक, एप्सम साल्ट को कई न्यूरोलोजिकल डिजीज (नसें संबंधी बीमारी) जैसे पार्किन्संस रोग, अल्जाइमर, मिर्गी और स्ट्रोक में उपयोगी माना गया है। इसके लिए एप्सम साल्ट युक्त पानी से स्नान करने प्रभावित अंग का इससे सिकाई करने से काफी हद तक आराम मिलता है।

 

अश्वगंधा-

कमजोर नसों के इलाज के लिए अश्वगंधा का सेवन एक प्राकृतिक उपचारक है। एनसीबीआई पर प्रकाशित एक अफ्रीकन जर्नल के अनुसार अश्वगंधा नर्वाइन टॉनिक (नसों को पुनर्जीवित करने वाला) की तरह काम करता है। इसमें न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण पाया जाता है, जो नसों की कमजोरी और इससे संबंधी परेशानियों से राहत दिलाता है। इसप्रकार अश्वगंधा कमजोर नसों के लिए कारगर साबित होता है।

 

सूरज की रोशनी-

नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए सूरज की रोशनी फायदेमंद होती हैं। इससे राहत पाने के लिए प्रतिदिन कुछ देर तक धूप में बैठें। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि नसों की कमजोरी विटामिन-डी की कमी के कारण भी हो सकती है। चूंकि सूरज की किरणें विटामिन-डी का एक बड़ा स्रोत हैं, जो शरीर में विटामिन-डी की मात्रा को बढ़ाने का काम करती हैं। नसों में कमजोरी के लिए आवश्यक खाद्य पदार्थ-

 

विटामिन और खनिज युक्त खाद्य पदार्थो का सेवन-

नसों में कमजोरी के इलाज और बचाव में विटामिन और खनिज युक्त खाद्य पदार्थो का महत्वपूर्ण योगदान होता हैं। एक शोध के अनुसार, विटामिन-डी आंतों में कैल्शियम के अवशोषण को बढ़ाता है। वहीं, विटामिन-सी नसों या मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है। इसलिए हमें अपने भोजन में विटामिन से समृद्ध खाद्य पदार्थों जैसे पनीर, खट्टे फल, हरी पत्तेदार सब्जियों आदि का सेवन जरुर करना चाहिए।

 

दूध का करे सेवन-

दूध में विभिन्न प्रकार के विटामिन और खनिज पाए जाते हैं। जो नसों के स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी है। इसलिए प्रतिदिन दूध पीने से नसों की कमजोरी दूर करने में सहायक होती है। इसके अलावा दूध कैल्शियम से समृद्ध है, जो कमजोर मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है। साथ ही इसके निरंतर सेवन से शरीर हाइड्रेट भी रहता है।

 

आंवला है फायदेमंद-

आंवला कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन एवं विटामिन बी से भरपूर है। यह सभी तत्व कमजोर नसों के लिए बेहद जरुरी होते । इसके अलावा आंवला में प्राकृतिक एनाल्जेसिक गुण पाया जाता है, जो कमजोर नसों के कारण होने वाले दर्द को कम करता है।

 

केला खाएं-

केला शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। इसके अलावा नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए बेहतरीन उपाय है। दरअसल केले में सुक्रोज और ग्लूकोज जैसे कार्बोहाइड्रेट मौजूद है। साथ ही केले में पोटैशियम और मैग्नीशियम की प्रचूर मात्रा पाई हैं जाती है, जो कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में परिवर्तित करती है। यह ऊर्जा कमजोर नसों को दूर करने में बेहद जरुरी है।

 

कैमोमाइल चाय-

नसों की कमजोरी दूर करने के लिए कैमोमाइल चाय का उपयोग फायदेमंद होता है। दरअसल इसमें एंटीऑक्सीडेंट (मुक्त कणों को नष्ट करने वाला) और न्यूरोप्रोटेक्टिव (नसों का बचाव करने वाला) गुण मौजूद होता है। यह तनाव को दूर करने के साथ नसों संबंधित समस्याओं से राहत दिलाता है। इसके लिए प्रतिदिन कैमोमाइल के सूखे फूलों से बने चाय का सेवन करें।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • नसों की कमजोरी गंभीर होने पर।
  • चलने-फिरने या अंगों को हिलाने में अधिक कठिनाई होने पर।
  • अधिक बेचैनी, उलझन एवं कुछ समझने में कठिनाई महसूस करने पर।
Read More
What is a Candidal Infection? Know its Causes, Symptoms, and Home remedies

Posted 22 February, 2023

What is a Candidal Infection? Know its Causes, Symptoms, and Home remedies

Candida infection, also called candidiasis or yeast infection, is a type of fungus that is the single biggest cause of fungal infection worldwide. A Candida infection can occur in any part of the body. This fungus can live on all surfaces of the skin. The numbers of this fungus usually thrive in warm and moist areas. When these fungi multiply in more quantities than normal, the problem of candida infection arises.

 

How does it spread?

Candidiasis is caused by a species of yeast called Candida albicans, but other species of Candida can also cause infection. Candida infection spreads through the bloodstream to other parts of the body. Candida problems are caused by taking more antibiotics, consuming more sugar, having a high carbohydrate diet, drinking more alcohol, and having a weak immune system. In order to cure a Candida infection or yeast infection and to find the right treatment for it, it is very important to get a thorough examination of the condition. If candidiasis infection is left untreated, it can lead to systemic infection, which may adversely affect other parts of the body.

 

Types of Candida infection

There are mainly four types of candida infection-

  • Oral Thrush
  • Candida infection on the skin
  • Yeast infection in the vagina
  • Nail fungus (fungal infection of the nail)

Symptoms of Candida infection

The symptoms of Candida infection may vary from person to person. They mainly depend on the location of the skin.

 

Oral candida infection or oral thrush-

This condition is also called thrush. In this, sticky spots appearing red below and white above start forming on the tongue, palate and other parts of the mouth. These spots sometimes appear like a stain made from milk or curd. But they cannot be cleaned so easily. As easily as the spots made from milk or curd are cleaned. Thrush can also become a painful condition which may cause difficulty in eating food. A person suffering from thrush should always stay hydrated. This infection can also cause the tongue to become completely red.

Candida infection on the skin-

One of the main symptoms of Candida infection is persistent and intense itching of the skin. Some other symptoms of this infection are red rashes on the skin, whose size keeps increasing continuously. Rashes occur in skin folds such as the genitals, buttocks, under the breasts and other parts of the skin. Infection occurs in the follicles, which start to appear like pimples.

Candida infection in the vagina-

Having a candida infection in the vagina develops the following symptoms:

  • Severe itching in the vagina.
  • Swelling and redness in the vagina or vulva (outer part of the vagina).
  • Pain and burning sensation while urinating.
  • Pain during sexual intercourse.
  • A thick white discharge from the vagina.
Candida infection in nails-

Candida causes infection in the nails and cuticles, as well as in the corners of the mouth. The symptoms of which are as follows-

  • Thinning or thickening of the nail.
  • The nail becomes very fragile and breaks on its own.
  • Fraying or roughness of the nail.
  • The shape of the nail is crooked or distorted, yellow, brownish, or discolored white nails.
  • Appearance of yellow spots on the underside of the nail.

Causes of Candida infection

Causes of Oral thrush-
  • Weakening of immunity.
  • Bacteria and fungi.
  • Skin infections caused by candida
  • Hot and humid weather.
  • Tight clothes.
  • Not changing undergarments.
  • Obesity.
  • Weakening of the immune system due to diabetes, pregnancy, and other medical conditions.
  • Humid skin.
  • Use of corticosteroids or other drugs that affect the immune system.
Causes of Candida infection in vagina-

Normally, balanced levels of yeast and bacteria are present in a woman's vagina, but a disturbance of this balance causes candidiasis. In general, the Lactobacillus bacteria create an environment that does not encourage the overgrowth of yeast. But if the yeast becomes dominant, then the symptoms of yeast infection can emerge.

Vaginal candida infection is not a sexually transmitted infection (STI) but can be spread through physical contact. This infection is very common in women.

Causes of Candida infection in nails-

There are many types of fungal microorganisms that cause fungal infections in the nails. These germs usually seep in through small cuts in the skin or if the empty space between the nail and the base (nail bed) under it. When the fungus in the nail gets a favorable environment with warmth and moisture, it starts growing.

 

Methods for Prevention of Candida infection

  • Wear loose-fitting cotton underwear.
  • Don't wear tight pants.
  • Eat sugar and sugary foods in moderation.
  • Don't drink alcohol.
  • Change birth control pills. If you have frequent infections, ask your doctor to make changes to your birth control pills.
  • Maintain oral hygiene. Keep brushing and flossing (cleaning teeth with thread) regularly. Keep changing your toothbrush regularly until the infection is cured.
  • Keep the dentures clean. Seek help from a doctor to clean dentures properly and to prevent recurrent infections.
  • If someone has got a cold or flu, don't take antibiotics because colds and flu are caused by viruses. Therefore, taking antibiotics does not cure it, but the risk of getting candidiasis infection increases.

Risk factors for Candida infection

The risk of candidiasis increases in the following situations-

  • If the person uses antibiotics, corticosteroids, or both.
  • There is an increased risk of vaginal yeast infection in pregnancy.
  • Using hormonal contraceptives or contraceptive devices also increases the chance of vaginal yeast infection.
  • Uncontrolled diabetes.
  • Being immunocompromised.
  • Poor diet and lack of sleep can also increase the risk of this infection.
  • The problem of candidiasis can increase if you are more ill.
  • If the patient is undergoing treatment for HIV, AIDS or cancer.
  • Weakened immunity of the patient.

Home remedies for Candida infection

Salt water-

Salt has antiseptic, cleansing, and pain-reducing properties. Therefore, put half a teaspoon of salt in a cup of lukewarm water and rinse the mouth well.

Curd-

Curd contains probiotics that have good bacteria that help in treating candidiasis infections of the mouth. Curd proves beneficial even if there is difficulty in swallowing due to ulcers or sores in the throat or mouth because it is a soft food item.

Coconut oil-

Coconut oil has antifungal properties that help to provide relief from Candida infection. Therefore, using coconut oil can be of great help during candidiasis.

 

When to go to the doctor?

Most cases of candida infection do not require hospitalization for treatment, but people who have weak immunity do. They can get serious candidiasis infections. In such a situation, the patient needs to be admitted to the hospital. If yeast infection is associated with the following conditions, then see a doctor as soon as possible-

  • Pregnancy.
  • Taking antibiotics or steroids for a long time.
  • Diabetes, etc.
Read More
What Is Bacterial Infection? Learn its causes and home remedies

Posted 20 February, 2023

What Is Bacterial Infection? Learn its causes and home remedies

There are more bacteria than cells in the human body. Most of them live in the skin and bowels, and the majority of them are not contagious or harmful. Many types of bacteria are essential for good health. But, sometimes they can cause infection. Bacterial infections can affect the throat, lungs, skin, bowels, and many other parts. Some infections are mild, and some are severe. These are usually treated with antibiotics. Bacterial infections can be highly contagious. That's why you should wash your hands with soap, cover your mouth with a cloth when sneezing and coughing, and avoid sharing cups or drinking bottles.

 

Types of Bacterial Infections

Bacterial infections are of the following types-

Bacterial Infection of the Skin-

Several types of bacteria cause skin infections. These infections include cellulitis, folliculitis, and infections called impetigo. These infections are treated with antibiotics, depending on the type of bacteria.

Bacterial Infections Related to Food-

Bacterial infection is also one of the many causes of food related problems. Bacterial infections can occur due to poor eating habits. Food items such as raw fish, meat, and eggs can cause bacterial infections and may cause diarrhea, nausea, vomiting, fever, chills, and abdominal pain.

Sexually Related Bacterial Infections-

Many sex-related infections are also caused by bacteria. Sometimes these infections have no obvious symptoms, but they can cause fertility problems.

 

Symptoms of a Bacterial Infection

The following are the common symptoms of bacterial infection-

Fever is common with bacterial infections. Fever may also be accompanied by chills, tremors, and ringing in the teeth.

Swelling of the lymph nodes may also occur with a bacterial infection. This swelling often occurs at the site of the infection.

Bacterial infections can cause sore throats, which can lead to trouble swallowing.

Bacterial infections can lead to pneumonia, which has symptoms such as dry cough and breathlessness.

Bacterial infections can lead to food poisoning, which causes abdominal pain, diarrhea, nausea, and vomiting.

Bacterial infections can cause urinary tract infections, which can cause frequent and painful urination and an urgent need to urinate.

 

Causes of Bacterial Infection

Disease-causing bacteria are classified into four groups according to their size. These four main groups are as follows-

Bacillus-

Bacillus are rod-shaped bacteria with a length of about 0.03 mm. Bacillus causes diseases such as typhoid and cystitis.

Cauchy-

Cauchy is a ball-shaped bacteria with a diameter of about 0.001 mm. Depending on the type, Cauchy bacteria group themselves into a variety of groups, such as pairs, long lines, or clusters.

Spirochetes-

The spirochetes are bacteria shaped like small circles. These bacteria cause many diseases, including the sexually transmitted infection, syphilis.

Vibrio-

Vibrio is a comma-shaped bacteria. Cholera (cholera, visuica), which is accompanied by severe diarrhea and dehydration, is caused by the Vibrio bacteria.

 

Protection against Bacterial Infection

You can take the following measures to reduce the risk of bacterial infection-

Prevention of foodborne bacterial infections-

Prevention of physical and bacterial infection-

Modern treatment methods for Bacterial Infection

The discovery of antibiotics is considered the most important medical breakthrough in history. Unfortunately, bacteria are very adaptable and overuse of antibiotics has made them resistant to many antibiotics. There are a variety of antibiotics available to treat bacterial infections, and the right antibiotic for you is chosen by your doctor based on a variety of factors, such as the site of infection and the type of bacteria causing the infection.

Some antibiotics are better at treating some types of infections than others. To make sure you receive the right treatment, your doctor may take a sample of mucus or urine from your throat to identify the type of bacteria.

Home Remedies for Bacterial Infection

Turmeric-

Turmeric is not only used in cuisines. Rather, it is also used to heal the wounds of the body. It has anti-inflammatory and antibiotic properties, which not only provide relief from many bacterial infections but can also prevent the infection from spreading.

Tea tree oil-

Tea tree oil is used in many cosmetic products. Tea tree oil has antimicrobial and anti-inflammatory properties that help to eliminate infections caused by Staphylococcus bacteria.

Basil-

Tulsi is commonly used by people to get relief from many problems. Tulsi leaves provide relief from problems like swelling, itching, redness, and bacterial infections. For this, you only have to chew basil leaves. Apart from this, you can also use basil leaves according to your preference.

Apple cider vinegar-

Apple cider vinegar has antifungal and antibacterial properties that can help you get relief from bacterial infections.

Aloe vera-

Aloe vera proves to be effective from skin to hair and also for bacterial infections. It has antibacterial properties, which can eliminate many problems from their root.

 

When to go to the doctor?

See a doctor immediately if you notice swelling in the eyes, neck, or groin.

  • Fever
  • Inflammation of the lymph nodes
  • Sore throat
  • Pneumonia
  • Food poisoning
  • Urine Infection
    • Wash your hands frequently.
    • Use antibacterial soap and warm water to wash your hands.
    • Clean frequently used items in your home and office.
    • Stay away from anyone who seems sick.
    • Learn about harmful intestinal bacteria and their symptoms.
    • Be aware of food and water pollution in your vicinity.
    • Keep your hands clean while preparing food.
    • Wash and cook your food thoroughly.
    • Do not eat anything that smells bad or looks bad.
    • Take measures to reduce your risk of developing vaginitis (an inflammation of the vagina caused by bacteria, viruses, or chemicals in creams, soaps, or lotions).
    • Protect yourself from sore throats. This reduces your risk of developing pneumonia.
    • Reduce your child's risk of developing ear infections.
    • Learn how to lower your chances of developing a blood infection (sepsis).
Read More
बंद नाक के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

Posted 01 February, 2023

बंद नाक के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

आमतौर पर बंद नाक कोई बड़ी समस्या नहीं है। लेकिन कभी-कभी यह समस्या किसी गंभीर बीमारी जैसे साइनसाइटिस का संकेत भी हो सकती है। बंद नाक की समस्या कई कारणों से होती है। यह मुख्य रूप से सर्दी लगना, साइनस में संक्रमण, प्रदूषण, एलर्जी और बैक्टीरिया संक्रमण आदि के कारण होता है।

बंद नाक क्या होता है?

बंद नाक का शाब्दिक अर्थ नाक में भीड़ या जमाव होता है। जिसके कारण व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है। हालांकि यह सामान्य सर्दी-जुकाम की वजह से होता है। लेकिन कभी-कभी आतंरिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के कारण भी हो सकता है। वहीं दूसरे शब्दों में जब नाक के अंदर किसी कारणवश द्रव भर जाता है या साइनस में सूजन आ जाती है। इसे बंद नाक की समस्या कहा जाता है। यह सूजन या द्रव भरने की समस्या किसी संक्रमण के कारण होती है। जो आम सर्दी-जुकाम के रूप में शुरू होता है। उसके बाद एक बैक्टीरियल, वायरल एवं फंगल इंफेक्शन के रूप में पूरी तरह से विकसित हो जाता है। जिससे व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी, बेचैनी, सिरदर्द आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

 

बंद नाक के सामान्य लक्षण-

बंद नाक के सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं-

  • नाक में जमाव या गंदगी होना।
  • नाक के आतंरिक हिस्सों में सूजन होना।
  • सांस लेने में दिक्कत महसूस करना।
  • गले में खराश होना।
  • नाक बहना।

कभी-कभी बंद नाक की समस्या किसी आतंरिक बीमारी जैसे साइनस इंफेक्शन के कारण भी हो सकता है। जिसमें निम्नलिखित लक्षण शामिल हैं:

  • खांसी, जुकाम या बुखार होना।
  • सांस लेने में तकलीफ होना।
  • रात में खांसी का बढ़ जाना।
  • सांसों से दुर्गंध आना।
  • नाक, आंख, गला, सिर के आसपास सूजन एवं दर्द का आभास होना।
  • दातों और ऊपरी जबड़ों की सतह पर दर्द महसूस करना।
  • गंध एवं स्वाद का पता न चलना।
  • कमजोरी या थकान महसूस करना।
  • जी मिचलाना।
  • चिड़चिड़ापन महसूस करना।

बंद नाक के कारण-

वैसे तो छोटी-मोटी कई ऐसी बीमारियां हैं, जो बंद नाक का सामान्य कारण बनती है। जिसमें मुख्य रूप से सर्दी-जुकाम, फ्लू एवं साइनस के संक्रमण आदि अहम भूमिका निभाते हैं। इन बीमारियों को होने से नाक द्रव से भर जाता है। इसके अलावा उसमें सूजन आ जाती है। परिणामस्वरूप नाक बंद होने की समस्या उत्पन्न हो जाती है। आमतौर पर इन बीमारियों के कारण होने वाले बंद नाक की समस्या 1 सप्ताह के अंदर स्वतः या कुछ घरेलू उपाय करने से ठीक हो जाती है।

विशेषज्ञों के मुताबिक, यदि यह समस्या दवा लेने या कुछ घरेलू उपचार करने के बाद 1 सप्ताह के अंदर ठीक नहीं होती है तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें। क्योंकि यह किसी गंभीर अन्तर्निहित बीमारी का कारण हो सकता है। लंबे समय तक बंद नाक की समस्या के निम्न कारण हो सकते हैं:

  • फंगस एवं बैक्टीरिया संक्रमण का होना।
  • नाक में एलर्जी होना।
  • पराग ज्वर अर्थात पराग के संपर्क में होने वाला एलर्जी।
  • प्रदूषित वातावरण का होना।
  • रासायनिक धुआं एवं धूल के संपर्क में आना।
  • क्रॉनिक साइनस होना।
  • नाक की हड्डी का नुकीले आकार में बढ़ना।
  • सेप्टम यानी नाक की बीच वाली दिवार का तिरछा होना।
  • नाक मार्ग में ट्यूमर या पोलिप्स का बनना।

बंद नाक होने पर करें बचाव-

  • अच्छे से आराम करें।
  • धूम्रपान करने से बचें।
  • गुनगुना पानी पिएं।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • प्रदूषित वातावरण और धूल-मिट्टी जैसी जगहों पर जाने से बचें।
  • भोजन करने से पूर्व हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • छींकने, खांसने के बाद या शौचालय से आने के बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं।

इसके अलावा अपने नाक के वायुमार्गों को नमी प्रदान करने के लिए निम्न तरीके अपनाएं:

  • हल्के गर्म पानी में स्नान करें।
  • नियमित रूप से भाप लेते रहें।
  • गुनगुने फेसियल पैक का उपयोग करें।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें। ऐसा करने से बलगम पतला होता है। जिससे वायुमार्ग खुलने में मदद मिलती है।
  • वैपोराइजर या ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें।
  • सेलाइन स्प्रे का उपयोग करना अच्छा होता है। क्योंकि यह नमकीन पानी होता है जो नाक के वायुमार्ग को नमी प्रदान करता है।
  • नेजल इरिगेटर या बल्ब सिरिंज का इस्तेमाल करें।
  • हल्के गर्म या गीले तौलिए को अपने चेहरे पर रखें। यह नाक के बंद मार्गों को खोलने में सहायक होता है।
  • सोते समय अपने सिर के नीचे तकिए रखकर सोएं। ऐसा करने से सांस लेने में आसानी होती है।

बंद नाक के घरेलू उपचार-

सेब का सिरका-

सेब का सिरका बंद नाक की समस्या के लिए बेहतरीन घरेलू दवाओं में से एक है। क्योंकि इसमें एसिटिक एसिड होता है जिसमें एंटी माइक्रोबियल होता है, जो बैक्टीरिया और वायरस संक्रमण से लड़ता है। इसके लिए एक चम्मच सेब का सिरका और शहद को गर्म पानी में मिलाकर सेवन करें।

अदरक चाय-

अदरक में एनाल्जेसिक और एंटी बैक्टीरियल गुण मौजूद है। जो सूजन और दर्द को दूर करते हैं। इसलिए शहद युक्त अदरक की चाय या किसी भी रूप में अदरक का इस्तेमाल करना बंद नाक के लिए फायदेमंद होता है।

लहसुन-

लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। जो बंद नाक के लक्षणों को दूर करने का काम करते हैं। इसके लिए लहसुन की 4 से 5 कलियों को पीसकर गर्म पानी में डालकर सूप बना लें। हल्का गुनगुना होने पर इस सूप को पिएं। इससे बंद नाक में आराम मिलता है।

एसेंशियल ऑयल-

बंद नाक होने पर एसेंशियल ऑयल का उपयोग अरोमा थेरेपी के रूप में करना कारगर साबित होता है। यह थेरेपी नाक में होने वाली सूजन और बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करती है। इसके लिए तुलसी, पेपरमिंट, गुलमेहंदी, यूकलिप्टस, लोबान या इसमें से कोई एसेंशियल ऑयल की 2 से 3 बूंदों को डिफ्यूजर में डालकर इसकी खुशबू को सूंघें। ऐसा करने बंद नाक में आराम पहुंचता है।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • लगातार एक हफ्ते से अधिक दिन तक बंद नाक की समस्या रहने पर।
  • 2-3 दिन से अधिक बुखार होने पर।
  • सांस लेने में अधिक कठिनाई होने पर।
  • ऑक्सीजन की कमी महसूस करने पर।
  • नाक से हरे रंग के द्रव निकलने पर।

उपरोक्त लक्षण में से कोई एक दिखने पर तुरंत ईएनटी विशेषज्ञ के पास जाकर इसका निदान करवाएं।

Read More
स्वाइन फ्लू के लक्षण, कारण और उपचार

Posted 24 November, 2022

स्वाइन फ्लू के लक्षण, कारण और उपचार

स्वाइन फ्लू को एच1एन1 फ्लू के नाम से भी जाना जाता है। यह एक प्रकार का वायरल संक्रमण होता है, जो मूल रूप से सूअरों से मनुष्यों में फैलता । इसलिए इसे स्वाइन फ्लू कहा जाता है। हालांकि इन दिनों यह संक्रमण इतना खतरनाक हो गया है कि एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे असंक्रमित व्यक्ति में फैलने लगा है। आमतौर इसके लक्षण सामान्यतः फ्लू की तरह ही दिखाई देते हैं। यहीं कारण है कि स्वाइन फ्लू मौसमी फ्लू का कारण बनता है।

जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है। इस स्थिति में इसके विषाणु हवा में फैल जाते हैं। जिससे यह स्वस्थ व्यक्तियों को भी संक्रमित कर देते हैं। जिस कारण यह श्वास के जरिए फैलने वाली बीमारी होती है। इस संक्रमण को बदलते मौसम का संकेत मानकर नजर अंदाज न करें। ऐसा करना जानलेवा साबित हो सकता है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण

आमतौर H1N1 वायरस के कारण होने वाले फ्लू के समान सर्दी-जुकाम की तरह ही होते हैं। इसके आम लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • अधिक बुखार।
  • खांसी आना।
  • गले में खराश।
  • मांसपेशियों और जोड़ों में अधिक दर्द होना।
  • अधिक थकान महसूस करना।
  • नाक बहना।
  • आंखों से पानी आना।
  • ठंड लगना।
  • आवाज बैठना।
  • सिर दर्द होना।
  • दस्त लगना।
  • मतली और उल्टी होना।
  • फ्लू के लक्षण वायरस के संपर्क में आने के लगभग एक से तीन दिन बाद दिखाई देते हैं।

स्वाइन फ्लू के कारण-

स्वाइन फ्लू आमतौर से संक्रमित सूअरों की बूंदों या स्राव के संपर्क में आने से फैलता है। वहीं, मनुष्य इन संवेदनशील जानवरों के निकट संपर्क में आने पर संक्रमित हो जाते हैं। इसके बाद संक्रमित व्यक्ति के माध्यम से यह असंक्रमित व्यक्ति में प्रसारित होता है। यह मुख्यतः जानवरों के मल, नाक के स्राव, मुंह के लार या आंखों से निकलने वाले पानी के संपर्क में आने से फैलता है। इसके अलावा संक्रमित जानवरों के कच्चे या अधपके मांस के सेवन से भी स्वाइन फ्लू हो जाता है। यह स्वाइन फ्लू का अत्यधिक संक्रामक कारण है। इसके अलावा अन्य कारण निम्न हैं।

  • छींक आना।
  • खांसना।
  • कीटाणुओं या संक्रमित व्यक्ति के द्वारा स्पर्श किए गए जगहों को छूने पर।

स्वाइन फ्लू होने के जोखिम कारक-

आमतौर पर बच्चों और युवा वयस्कों में स्वाइन फ्लू का होना सबसे आम है। ज्यादातर इसका खतरा उन लोगों को होता है, जो लोग संक्रमित बाहुल्य क्षेत्र में रहते हैं। इसके अलावा कुछ लोगों को स्वाइन फ्लू होने पर गंभीर रूप से बीमार होने का खतरा अधिक होता है। जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • 65 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्क।
  • 5 साल से कम उम्र के बच्चे।
  • युवा वयस्क और 19 वर्ष से कम उम्र के बच्चे लंबे समय से एस्पिरिन (बफर) थेरेपी करा रहे हो।
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (एड्स जैसी बीमारियों से ग्रसित) वाले लोग।
  • गर्भवती महिलाएं।
  • अस्थमा, हृदय रोग, मधुमेह या न्यूरोमस्कुलर जैसी विकारों से पीड़ित व्यक्ति।

स्वाइन फ्लू की रोकथाम और उपचार

स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए सबसे महत्वपूर्ण फ्लू टीकाकरण है। इसके अलावा कुछ खान-पान में बदलाव एवं सावधानी बरतकर इससे बचा जा सकता हैं। आइए बात करते हैं इन सावधानियों के बारे में

  • अपने हाथों को नियमित रूप से गर्म पानी या साबुन से धोएं।
  • स्वाइन फ्लू के संक्रमण के दौरान मांसाहारी भोजन का सेवन न करें।
  • खांसते वक्त मुंह को रुमाल या टिश्यू से ढकें।
  • संक्रमण से बचने के लिए सर्दी-जुकाम से ग्रसित होने पर लोगों से दूर रहें।
  • स्वाइन फ्लू के मरीज पूरी तरह से आराम करें।
  • संक्रमित व्यक्ति या दूषित जगह से दूरी बनाएं।
  • डॉक्टर के दिशा निर्देशों का पालन करें।

स्वाइन फ्लू का इलाज कैसे किया जाता है?

सामान्यतः सर्दी-जुकाम को ठीक करने वाली कुछ एंटीवायरल दवाएं एच1एन1 स्वाइन फ्लू के इलाज में काम करती हैं। इसके लिए एंटीवायरल दवाएँ दवाओं जैसे ओसेल्टामिविर (टैमीफ्लू) और ज़ानामिविर (रिलेंज़ा) प्रभावी ढंग से काम करतीं हैं।

यह दवाएं व्यक्ति को स्वाइन फ्लू से तेजी से उबरने में मदद करती हैं। साथ ही इसे गंभीर होने से बचाती हैं। यह दवाएं शुरुआती लक्षण के 48 घंटों के अंदर सेवन करने पर अच्छा काम करते हैं।

स्वाइन फ्लू के घरेलू उपचार-

लहसुन-

लहसुन में मौजूद एलिसिन शरीर में एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि को उत्तेजित करता है। जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलती है। इसके लिए रोजाना सुबह खाली पेट लहसुन की दो कलियों का गर्म पानी के साथ सेवन करें।

तुलसी-

तुलसी संक्रमणों को दूर करके गले और फेफड़ों को स्वस्थ रखती है। साथ ही रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढाती है। इस प्रकार यह स्वाइन फ्लू के लक्षणों को कम करने में सहायक होती है।

जिनसेंग-

जिनसेंग एक रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली जड़ी बूटी के रूप में जनि जाती है। यह इंटरफेरॉन उत्पादन को बढ़ाकर अस्थि मज्जा का समर्थन करता है। इस प्रकार यह जड़ी-बूटी रोगजनकों से लड़ने में मदद करती है। जिससे स्वाइन फ्लू के लक्षणों को कम किया जा सकता है।

हल्दी-

हल्दी अपने एंटी इंफ्लेमेंटरी गुणों के लिए जानी जाती है। जो इम्यूनोप्रोटेक्टिव एजेंटों को उत्तेजित करने का भी काम करती है। जिससे स्वाइन फ्लू के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है। इसके लिए एक गिलास गर्म पानी में एक चुटकी हल्दी का चूर्ण मिलाकर इसका सेवन करें।

आंवला-

अपने शरीर को स्वाइन फ्लू और कई अन्य संक्रमणों से बचाने के लिए रोजाना आंवला खाएं। इसके अलावा आंवले के रस का सेवन भी फायदेमंद होता है।

जैतून का पौधा-

जैतून हर्ब में पॉलीफेनोल्स और फ्लेवोनोइड्स की उच्च मात्रा पाई जाती है। यह मतली, बुखार, ठंड लगना और सिरदर्द जैसे लक्षणों को प्रभावी ढंग से ठीक करने में मदद करते हैं।

विटामिन सी युक्त फल-

विटामिन सी युक्त फलों का सेवन स्वाइन फ्लू को ठीक करने में फायदेमंद होता है। यह रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है। इसलिए अपने दैनिक जीवन में विटामिन सी युक्त संतरे, नीबू, स्ट्रॉबेरी और अन्य खट्टे फलों को शामिल करना चाहिए।

खूब पानी पिएं-

स्वाइन फ्लू के दौरान उल्टी, बार-बार पेशाब आना, अधिक पसीना आना और डायरिया जैसे लक्षण होते हैं। ऐसे में पानी का सेवन फायदेमंद होता है। यह शरीर को हाइड्रेटेड रखता है। साथ ही पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। इसलिए प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

यदि आप स्वाइन फ्लू बाहुल्य क्षेत्र में रहते हैं। इस स्थिति में फ्लू के लक्षण जैसे बुखार, शरीर में दर्द, नाक बहना, गले में खराश, मतली, उल्टी या दस्त नजर आए तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

Read More
What is Konasana? Know its types and health benefits

Posted 16 November, 2022

What is Konasana? Know its types and health benefits

Konasana is a type of yoga considered immensely beneficial for the body. "Konasana" is composed of two words- “kona”, which means corner, and the second asana, which means posture, which means while practicing this yoga, the shape of the body becomes an angle-like posture. In this posture, the body has to be balanced and stand in the shape of an angle. This asana is known as Angle Pose. It has many physical and mental health benefits, ranging from feet to hands and many other parts of the body.

Types and method of doing Konasana

Although Konasana is done in many ways, this posture mentioned in Yogashastra is usually done in two ways. Let us know about the types and methods of these asanas-

Konasana I-

  • First of all, stand straight on the yoga mat.
  • Make sure that the distance between both the legs is parallel to the hip and keep the hands by the side of the body.
  • Now breathing slowly, raise your left hand in such a way that the fingers remain in the direction of the ceiling.
  • After that, while exhaling slowly, bend to your right side.
  • While bending to the left, bend a little more. Note that the left hand should remain vertically upwards.
  • Now lift your head up and look at your left hand. Do not bend the elbows.
  • Now take a long breath and release it.
  • While breathing, bring your body back to its original position.
  • After that, while exhaling slowly, bring the left hand down.

Konasana II-

  • Stand on a yoga mat while spreading both your legs.
  • Stand so that there is a gap of 2 feet between the feet and the body should remain in a balanced posture.
  • Now while breathing slowly, spread both your hands and stretch them above your head.
  • After that, join the fingers of the palm in such a way that the hands come into a dome state. Make sure your hands touch the ear.
  • Now while exhaling slowly, bend to the right side. Do not bend the hands at the elbows.
  • After that, while taking your body to the left, bend a little more so that the body remains stretched. In this position, take a deep breath and exhale slowly.
  • Come back to your initial position while breathing again.
  • While exhaling slowly, bring the left hand down.
  • Now repeat this process from the left side.
  • Do this cycle of Konasana at least 4-5 times.

Health benefits of Konasana

You get many health benefits by doing this asana, but some important benefits are as follows-

  • By doing this asana, the spine, thighs, and arms get strengthened.
  • It helps to make the spine flexible.
  • It helps in relieving back pain.
  • This asana improves the functioning of the lungs.
  • This mudra is extremely beneficial for improving blood circulation.
  • Continuously practicing it proves to be very effective for sciatica.
  • It is helpful in relieving constipation or other digestive problems.
  • This yoga practice purifies the blood.
  • This yoga helps to provide energy to the body.

Take these precautions while doing Konasana

  • Practice konasana slowly, so that the body does not get jerked.
  • Do not put too much pressure on any part of the body during yoga.
  • If someone is suffering from acute back pain and problems like spondylitis, then he should not practice this posture.
  • Avoid doing this asana if you have a fever, nervousness, abdominal pain, or any other physical problem.
  • Pregnant women should avoid doing this asana.
Read More
10 Signs that You Have Diabetes

Posted 27 September, 2022

10 Signs that You Have Diabetes

Diabetes is a disease that occurs when blood sugar is too high, and this can be caused by insulin resistance (type 2 diabetes) or an inability to produce insulin (type 1 diabetes).

Type 1 diabetes is usually diagnosed in childhood. In contrast, type 2 diabetes can develop at any age but is more common in the older population.

Early Signs of Diabetes

  • Excessive thirst and increased urinationExcessive thirst and increased urination are common signs of diabetes. When you are suffering from diabetes, excess glucose builds up in your blood. Your kidneys are forced to work hard to filter and absorb the excess glucose. When your kidneys can’t keep up, the excess glucose is excreted into your urine, dragged along by the tissues, which makes you dehydrated. This will usually leave you feeling thirsty, and as you drink more fluids to quench your thirst, you will urinate even more.
  • Develop urinary tract, yeast or vaginal infections frequently Sometimes, OB-GYNs help to diagnose diabetes based on an increased frequency of vaginal infections or yeast infections. Diabetes causes changes in the immune system that can increase the risk of developing other infections. Irregular menstrual cycles or miscarriages can also be signs of diabetes.
  • Experience occasional blurred vision Uncontrolled diabetes can lead to a condition called diabetic retinopathy, which affects your vision. High blood sugar draws fluid from your tissues, including the lenses of your eyes. This affects your ability to focus. Eye doctors sometimes play a role in helping to diagnose diabetes because of the visual symptoms that can arise. Left untreated, diabetes can cause new blood vessels to form in your retina (the black part of your eye) and damage established vessels, which leads to vision loss and blindness.
  • Slow-healing sores or frequent infections High blood sugar levels can lead to poor circulation of blood and interfere with your body's natural healing process. Due to this, people with diabetes may notice slow-healing sores, especially on the feet. In women with diabetes, bladder and vaginal infections may occur most often.
  • Experience unintentional weight lossMany people want to lose weight, but the weight loss that occurs when you have uncontrolled diabetes is not a healthy way to lose weight. It happens because your body can’t properly use insulin to help process glucose (a sugar found in your food), so your body starts to process fat and muscles for fuel.
  • Tingling hands and feetToo much glucose in your blood can affect how your nerves work. You may feel tingling and loss of feeling in your hands and feet, and a burning pain in your arms, hands, legs, and feet.
  • Red, swollen, tender gums Diabetes may weaken your ability to fight germs, which increases the risk of infections in your gums and in the bones that hold your teeth in place. Your gums may pull away from your teeth, which may become loose, or you may develop sores or pockets filled with pus in your gums, especially if you have gingivitis before diabetes develops.
  • Skin discolorationInsulin resistance can cause dark spots (acanthosis nigricans), which are usually found in the folds of the neck, armpits, or groin. This dark skin can appear lifted and have a velvety texture.
  • FatigueWhen your blood sugar level is high, your body works hard to get rid of the excess sugar. This process not only affects your body but also changes the way your body uses glucose for energy. Blood sugar that is too high, or hyperglycemia, has exhausting effects, among other symptoms. In addition, dehydration, which is associated with increased urination, is a common cause of fatigue in people with diabetes.
  • Increase in appetiteWhen glucose is pulled from the body's cells, the body's energy level drops. This in turn triggers a hunger response. So, even if a person eats right, the inability to regulate blood sugar does not match the cellular energy levels in the body. In simple terms, the body does not receive the required energy even after eating, and thus signals more energy and the person feels hungry.

When to visit a doctor?

You should call your doctor if you have high blood sugar throughout the day, if you find that your blood sugar is always high at the same time, or if you are experiencing the symptoms mentioned in this blog, a lot more than usual.

Read More
अटैक्सिया के कारण, लक्षण और उपचार

Posted 26 September, 2022

अटैक्सिया के कारण, लक्षण और उपचार

अटैक्सिया या गतिभंग एक ऐसी बीमारी होती है। जिससे पीड़ित व्यक्ति किसी भी प्रकार का काम करने में असमर्थ रहता है। आमतौर पर यह स्थिति मांसपेशियों में नियंत्रण में कमी के कारण होता है। जिससे व्यक्ति को कई शारीरिक एवं मानसिक समस्याओं जैसेचलना, फिरना, स्पष्ट रूप से बोलना, भोजन को निगलना, वस्तुओं को उठाना और अन्य गतिविधियों को करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

आमतौर पर गतिभंग मस्तिष्क के उस हिस्से को पंहुचे नुकसान का परिणाम होता है, जो मांसपेशियों के समन्वय (सेरिबैलम) को नियंत्रित करता है। यह मुख्य रूप से शराब के अधिक सेवन, कुछ दवाओं के अधिक सेवन, स्ट्रोक, ट्यूमर, सेरेब्रल पाल्सी, मस्तिष्क अध: पतन और मल्टीपल स्केलेरोसिस जैसी विभिन्न स्थितियों के परिणामस्वरूप होता है। इसके अलावा वंशानुगत दोषपूर्ण जीन भी इस स्थिति का कारण बन सकते हैं।

अटैक्सिया (गतिभंग) के प्रकार

शरीर के प्रभावित अंगों के आधार पर गतिभंग के मुख्य रूप से तीन प्रकार होते हैं। यह सेंसरी, सेरेबेलर और वेस्टिबुलर गतिभंग हैं-

  • सेंसरी अटैक्सिया इस प्रकार का गतिभंग सोमाटोसेंसरी तंत्रिका तंत्र को नुकसान के कारण होता है। यह आमतौर पर दृष्टि और श्रवण जैसे संवेदी प्रतिक्रिया को प्रभावित करता है। जिससे समन्वय बनाए रखना मुश्किल हो जाता है।
  • सेरेबेलर अटैक्सिया इस प्रकार के गतिभंग के लक्षण तब दिखाई देते हैं जब अनुमस्तिष्क (मस्तिष्क का वह भाग जो समन्वय को नियंत्रित करता है) में क्षति होती है।
  • वेस्टिबुलर अटैक्सिया-इस प्रकार का अटैक्सिया वेस्टिबुलर सिस्टम अर्थात कान के आतंरिक हिस्सों को प्रभावित करते हैं। जिससे चक्कर आना, मतली और सीधी रेखा में चलने में कठिनाई जैसे लक्षण नजर आते हैं।

अटैक्सिया के लक्षण-

अटैक्सिया के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं-

  • स्पष्ट रूप से बोलने में कठिनाई होना। खड़े होने और चलने में परेशानी होना।
  • संतुलन और समन्वय खो देना।
  • भोजन को चबाने और निगलने में कठिनाई महसूस करना।
  • हाथों या पैरों का असंतुलन (आपसी तालमेल न) होना।
  • आंखों की गतिविधिया स्वयं होना।
  • हृदय विकार।
  • फेफड़ों में संक्रमण होना।
  • झटके आना।

अटैक्सिया रोग में, तंत्रिका तंत्र का एक विशेष भाग क्षतिग्रस्त या निष्क्रिय हो जाता है। सेरेबेलर अटैक्सिया नामक सबसे आम प्रकार अनुमस्तिष्क में पाया जाता है। सेंसरी गतिभंग, जो रीढ़ और परिधीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है। साथ ही वेस्टिबुलर गतिभंग, जो आंतरिक कान और श्रवण नलिकाओं को प्रभावित करता है।

क्या अटैक्सिया को रोका जा सकता है?

वैसे तो अटैक्सिया का कोई इलाज नहीं है लेकिन उचित उपचार से लक्षणों को कम या प्रबंधित किया जा सकता है। अटैक्सिया होने के पीछे कई संभावित कारण हैं और यह किसी भी उम्र में हो सकता है। हालांकि, एक स्वस्थ जीवन शैली और अपने दिनचर्या में बदलाव करके स्ट्रोक और कैंसर सहित गतिभंग से जुड़ी कुछ स्थितियों के जोखिम को भी कम किया जा सकता है।

अटैक्सिया के कारण-

मस्तिष्क के उन हिस्सों में तंत्रिका कोशिकाओं की क्षति या हानि, जो मांसपेशियों के समन्वय (सेरिबैलम) को नियंत्रित करती है। अटैक्सिया यानी गतिभंग का कारण बनते हैं। सामान्यतः सेरिबैलम ब्रेनस्टेम के पास मस्तिष्क के आधार पर स्थित ऊतक के दो मुड़े हुए टुकड़ों से बना होता है। मस्तिष्क का यह क्षेत्र संतुलन, आंखों की गति, निगलने और बोलने में मदद करता है। रीढ़ की हड्डी और सेरिबैलम को मांसपेशियों से जोड़ने वाली परिधीय नसों को नुकसान पहुंचाने वाले रोग भी अटैक्सिया का कारण बन सकते हैं। अटैक्सिया होने के प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं-

  • सिर की चोट सिर पर चोट लगने से मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुंचता है, जो किसी वाहन दुर्घटना में हो सकता है। यह अचानक और तीव्र सेरेबेलर अटैक्सिया का कारण बनता है।
  • स्ट्रोकमस्तिष्क में रुकावट या रक्तस्राव से गतिभंग हो सकता है। यह स्थिति तब होती है, जब मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में रक्त का प्रवाह बंद या गंभीर रूप से कम हो जाता है। जिससे मस्तिष्क के ऊतकों में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इसके परिणामस्वरूप मस्तिष्क की कोशिकाएं मर जाती हैं।
  • सेरेब्रल पाल्सी-आमतौर पर यह बीमारी बच्चों के मस्तिष्क के प्रारंभिक विकास के दौरान, जन्म से पहले, जन्म के दौरान या उसके तुरंत बाद के नुकसान के कारण होता है। जो बच्चों के शरीर की गतिविधियों को नियंत्रण करने वाली क्षमताओं को प्रभावित करता है।
  • ऑटोइम्यून रोग- मल्टीपल स्केलेरोसिस, सारकॉइडोसिस, सीलिएक रोग और अन्य ऑटोइम्यून रोग अटैक्सिया का कारण बनते हैं।
  • पैरानियोप्लास्टिक सिंड्रोमयह एक दुर्लभ, अपक्षयी बीमारी है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली की एक घातक ट्यूमर (नियोप्लाज्म) की प्रतिक्रिया के कारण होती है। आमतौर पर यह फेफड़े, डिम्बग्रंथि, स्तन या लिम्फ कैंसर है। इसलिए कैंसर के निदान के महीनों या वर्षों पहले गतिभंग हो सकता है।
  • मस्तिष्क में असामान्यताएंमस्तिष्क में एक संक्रमित अंग (फोड़ा) गतिभंग का कारण बनता है। मस्तिष्क में कैंसर (घातक) या गैर-कैंसरयुक्त वृद्धि सेरिबैलम को नुकसान पहुंचाती है।
  • ऑटोइम्यून रोग- मल्टीपल स्केलेरोसिस, सारकॉइडोसिस, सीलिएक रोग और अन्य ऑटोइम्यून रोग अटैक्सिया का कारण बनते हैं।
  • मस्तिष्क में असामान्यताएंमस्तिष्क में एक संक्रमित अंग (फोड़ा) गतिभंग का कारण बनता है। मस्तिष्क में कैंसर (घातक) या गैर-कैंसरयुक्त वृद्धि सेरिबैलम को नुकसान पहुंचाती है।
  • विषाक्त प्रतिक्रिया- गतिभंग कुछ दवाओं का एक संभावित दुष्प्रभाव है। जिसमें विशेष रूप से बार्बिटुरेट्स जैसे फेनोबार्बिटोल; बेंज़ोडायजेपाइन जैसे शामक एंटी एपिलेप्टिक जैसे फ़िनाइटोइन और कुछ प्रकार की कीमोथेरेपी शामिल हैं। साथ ही विटामिन बी-6 विषाक्तता भी अटैक्सिया का कारण बनती है। इसके अलावा यदि आप कुछ दवाएं ले रहे हैं, वह भी उम्र से संबंधित समस्याएं पैदा कर सकती हैं।
  • शराब और नशीली दवाओं की विषाक्तता-सीसा या पारा जैसी अधिक धातु विषाक्तता और विलायक विषाक्तता जैसे कि पेंट थिनर, भी गतिभंग का कारण बनता है।
  • विटामिन ई, विटामिन बी-12, या थायमिन की कमीइन विटामिनों का पर्याप्त मात्रा में सेवन करने में असमर्थता, शराब के दुरुपयोग या अन्य कारणों से इन पोषक तत्वों की कमी का होना भी अटैक्सिया का कारण बनता है।
  • थायराइडहाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म गतिभंग का कारण बन सकता है।
  • कोविड 19 संक्रमणयह संक्रमण गतिभंग का कारण बन सकता है। लेकिन आमतौर पर यह बहुत गंभीर मामलों में होता है।

अटैक्सिया के उपचार-

अटैक्सिया के उपचार रोग के कारण पर निर्भर करता है। यदि अटैक्सिया किसी अन्य बीमारी का लक्षण है, तो अंतर्निहित बीमारी का इलाज किया जाना चाहिए। अंतर्निहित बीमारी का इलाज करने से लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति को अटैक्सिया होने का मुख्य कारण स्ट्रोक है, तो इस स्थिति में उसका एकाधिक स्क्लेरोसिस के लिए सहायता दी जाती है। विटामिन की कमी के लिए विटामिन की खुराक लिया जाता है। यदि कोई सीलिएक रोग से पीड़ित है, तो उसे ग्लूटेन को खत्म करने के लिए ग्लूटेन मुक्त आहार लेने के लिए सलाह दिया जाता है। इसके अतिरिक्त कभी-कभी व्यक्ति को विशेषज्ञ से परामर्श लेने की आवश्यकता होती है जो लक्षणों का कारण बनने वाली स्थिति का इलाज करता है।

  • दवाएं- रिलुज़ोल, वरेनिक्लिन और एमान्टाडीन ऐसी दवाएं होती हैं, जो व्यक्ति की चाल और कंपकंपी में सुधार के लिए संतोषजनक परिणाम प्रदान करती हैं।
  • फिजिकल थेरेपी-फिजिकल थेरेपी चाल या गति नियंत्रण पर काम करती है। इसलिए अटैक्सिया से पीड़ित लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में बेहद लाभकारी होता है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

यदि बिना किसी स्पष्ट कारण के गतिभंग के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से तुरंत सलाह लें। वह इस बीमारी के स्पष्ट कारण का पता लगाने में मदद करते हैं। साथ ही उस आधार पर उपचार शुरू करते हैं। निम्नलिखित कुछ लक्षणों को नजरअंदाज़ न करके तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें-

  • समन्वय या संतुलन में कमी महसूस करना।
  • चलने में अधिक कठिनाई महसूस करना।
  • अस्पष्ट बात करना या निगलने में परेशानी होना।
Read More
Gangrene Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

Posted 26 September, 2022

Gangrene Symptoms, Causes, Diagnosis and Treatment

Gangrene is a serious condition that occurs when a lack of blood flow or a severe bacterial infection causes the death of body tissues. It can affect any part of the body, including muscles and internal organs, but it usually begins in the extremities, including the toes, fingers, and limbs.

Gangrene is a serious condition that can lead to limb amputation and even death. Therefore, urgent medical attention is required to stop the spread of death of body tissue as rapidly as possible.

Types of Gangrene

  • Dry gangreneDry gangrene is characterized by dry, wrinkled skin and may be recognised as brown to purplish-blue to black in color. It has a slower onset and is most often associated with arterial disease such as atherosclerosis or diabetes.
  • Wet gangreneWet gangrene almost always involves a bacterial infection of the affected tissue. It can develop from a severe burn or trauma where a body part is crushed or compressed. This can quickly cut off the blood supply to the affected area, leading to tissue death and an increased risk of infection.Wet gangrene infection can spread quickly throughout the body and can be fatal, making it a very serious and life-threatening condition if not treated promptly. This is common in diabetics who unknowingly injure their toes or feet.
  • Gas gangreneGas gangrene is rare but very dangerous and occurs when an infection develops deep in the body, such as in muscles or organs, usually as a result of trauma.It is caused by infection with the bacterium clostridium perfringens, which produces a toxin that releases gas. It develops with an injury or surgical wound that bleeds. Gas gangrene can also be life-threatening.
  • Internal gangreneInternal gangrene affects one or more organs, such as the intestines, gallbladder or appendix. This type occurs when blood flow to internal organs is blocked.For example, when the intestines protrude into the abdomen through areas of weakened and twisted muscles.
  • Fournier’s gangreneThis type of gangrene usually occurs due to an infection in the genitals or urinary tract. It is more common in men but can also affect women.

Symptoms of Gangrene

If the skin is affected or the gangrene is close to the skin, symptoms may include

  • Changes in skin color or skin discoloration.
  • Skin that feels cold or cold skin.
  • Fever.
  • Swelling and pain at the site of infection.
  • Foul smelling pus leaking from blisters.
  • Glossy skin.
  • A pop-up sound that comes from the affected area when pressed.

If a bacterial infection originating in gangrenes tissue spreads throughout the body, in some cases, it can cause septic shock. Symptoms of septic shock includes-

  • Low blood pressure.
  • Shortness of breath.
  • Confusion.
  • Rapid heart rate.
  • Dizziness.
  • Fever.

Causes of Gangrene

Gangrene may occur due to-

  • Lack of blood supply.
  • Trauma.
  • Infection.

Risk factors of Gangrene

Risk factors may include

  • Diabetes.
  • Blood vessel disease.
  • Severe injury.
  • Obesity.
  • Surgery.
  • Having HIV.
  • Smoking.

Diagnosis of Gangrene

To make a diagnosis, the doctor will perform the following tests-

  • Blood tests to detect certain bacteria or other germs. Abnormally high white blood cells count usually indicates an infection.
  • Imaging tests include computed tomography (CT) scan, X-ray or a magnetic resonance imaging (MRI) scan to look at body structures, such as internal organs, blood vessels, or bones, and to check how much the gangrene has spread.
  • Fluid or tissue culture to examine for the bacterium clostridium perfringens.
  • In some cases, surgery may be performed to check the extent of spread.

Treatment for Gangrene

Treatment options may depend on the severity of the gangrene. Tissue damaged by gangrene usually cannot be saved, but steps can be taken to slow the progression of your condition. These include-

  • Antibiotics are given intravenously or taken orally.
  • Surgery to remove dead tissue, which stops gangrene from spreading and allows healthy tissue to heal.
  • Skin grafts can be used to repair skin damage caused by gangrene. This can happen when the damaged skin is supplied with sufficient blood again.
  • In severe cases, amputation of the affected body part may be necessary.
  • Hyperbaric oxygen therapy may be used. In this type of treatment, you are placed in a specially constructed chamber filled with oxygen at a higher pressure than the outside air. The theory is that blood is rich in oxygen, which slows the growth of bacteria and helps infected wounds to heal faster.

When to see a doctor?

To stop the spread of tissue death as quickly as possible, gangrene requires urgent medical attention.

Read More
What is Bacterial Vaginosis? Know its Causes and Symptoms

Posted 23 September, 2022

What is Bacterial Vaginosis? Know its Causes and Symptoms

Bacterial vaginosis is a type of vaginal infection caused by an overgrowth of bacteria in the vagina. This condition is also known as Gardnerella vaginitis and is caused by Gardnerella bacteria. This bacteria is responsible for causing vaginal infections. However, many species of bacteria live naturally in the vagina and their overgrowth or imbalance can lead to an infection called bacterial vaginosis (BV), which results in vaginal discharge. This infection is mostly found in pregnant women. Often, this infection is caused by having sexual intercourse with a new partner.

Bacterial vaginosis is not considered a sexually transmitted infection because it occurs even in women or girls who have never had sexual intercourse. Sexually transmitted infections are those infections that are transmitted through sexual activity.

Causes of Bacterial Vaginosis

Bacterial vaginosis is caused by an imbalance of the bacterial flora naturally found in the vagina. This is a common bacteria found in a woman's vagina. Bacterial vaginosis can also be caused by other reasons, such as

  • Using water or a medicated solution to clean the vagina
  • Taking a bath with antiseptic fluids
  • Having sexual intercourse with someone new
  • Having intercourse with multiple partners
  • Using a perfumed bubble bath, vaginal deodorant, or scented soaps.
  • Smoking
  • Washing the undergarments with harsh detergent

Symptoms of Bacterial Vaginosis

The symptoms of bacterial vaginosis are as follows-

Most women who are infected with bacterial vaginosis do not show any symptoms. Some women may experience some symptoms, which include vaginal discharge, burning, itching, etc. Vaginal discharge may be thin, gray in color or white and foul-smelling and sometimes a burning sensation during urination and itching around the vagina may also be experienced.

Prevention Methods for Bacterial Vaginosis

The following are the measures to prevent bacterial vaginosis-

  • Always practice safe sexual intercourse using a condom.
  • The use of chemical soaps in the vagina can kill normal or good bacteria, which increases the risk of infection. So avoid using it.
  • Use only lukewarm water to clean the vagina.
  • Bacterial vaginosis can cause many problems in pregnancy, it is therefore essential to keep the private parts clean in order to keep infections away, keeping mother and child healthy.

Treatment methods for bacterial vaginosis

Antibiotics are effective in 90 percent of infections, but bacterial vaginosis recurs after a few weeks. Bacterial vaginosis often goes away without treatment, but if you are experiencing symptoms, you should seek treatment to avoid complications. Men don't need treatment, but they can transfer the infection to women during intercourse. Some doctors suggest that bacterial vaginosis surgery should be performed before surgery for abortion or hysterectomy, whether or not symptoms are present.

Metronidazole is the most commonly used antibiotic for bacterial vaginosis. If a woman is pregnant or lactating, taking metronidazole twice a day for seven days provides relief from bacterial vaginosis. A normal woman should take metronidazole once a day for seven days during this infection. Metronidazole, available as a gel, should be applied regularly to the vaginal area once a day for five days. However, it should be taken only after taking advice from a doctor.

Home remedies for bacterial vaginosis

Here are some home remedies to help overcome the problem of bacterial vaginosis-

  • Apple cider vinegar-Apple cider vinegar is a great home remedy for bacterial vaginosis. Due to its acidic nature, apple cider vinegar helps to increase vaginal acidity. This makes it difficult for harmful bacteria to survive and creates a better environment for good bacteria to thrive. To avoid bacterial vaginosis, add one or two cups of apple cider vinegar to your bath water. Then sit in this water for 20 minutes. After this, dry the vaginal area thoroughly. Do this remedy once a day till the condition improves.
  • Curd-Curd is one of the most common home remedies for bacterial vaginosis. Curd contains beneficial bacteria called Lactobacillus. This helps fight harmful bacteria and maintain a healthy vaginal pH balance. Soak a cotton pad in curd and apply it to the affected area, leaving it for at least half an hour. Then wash this part thoroughly with fresh water. Repeat this remedy thrice a day until its symptoms are gone. Apart from this, eat at least two small cups of curd a day to keep the pH balance of the vagina normal and reduce the growth of bad bacteria.
  • Tea tree oil-Tea tree oil has natural antibacterial as well as antifungal properties that help kill the bacteria that cause bacterial vaginosis. Apart from this, it is also helpful in removing foul vaginal odor. To do this, mix two tablespoons of tea tree oil in a small bowl of warm water. Then wash the vagina thoroughly with this mixture. Continue this for three to four weeks.
  • Garlic-Garlic, being a natural antibiotic, helps in treating bacterial vaginosis. Apart from this, the antifungal properties present in it keep the bad bacteria in check. Crush three to four garlic cloves and apply them to the affected area. Leave it for about 20 minutes and then wash that area thoroughly with lukewarm water. Do this remedy for several months. Apart from this, consuming garlic regularly, either raw or cooked, is also beneficial.
  • Fenugreek-Fenugreek is very beneficial for the treatment of bacterial vaginosis. It boosts the immune system to improve the pH level in the vagina and accelerate the healing process. Soak two tablespoons of fenugreek in a glass of water overnight. In the morning, drink this water on an empty stomach. Follow this remedy for at least a month. Or mix one teaspoon of fenugreek powder in a cup of curd and take it twice a day until the symptoms of bacterial vaginosis subside.
  • Milk-The presence of bacteria called lactobacilli in milk is an excellent natural remedy for bacterial vaginosis. In addition, milk helps strengthen the immune system. In the event of infection, dip a piece of cotton in cold milk and apply it to the vagina. Remove the cotton after keeping it for one to two hours. Do this remedy once a day for several days to get relief from symptoms. Alternatively, mix a teaspoon of turmeric powder into a glass of warm milk.
  • Coconut oil-Coconut oil has natural antiviral, antibacterial, and antifungal properties that help kill bacteria and prevent their recurrence. To improve your problem, apply organic coconut oil to the affected area three times a day or soak cotton in organic coconut oil and place it in the vagina. After a few hours, wash the vagina thoroughly with lukewarm water. Also, to boost your immune system and speed up the healing process, use coconut oil in cooking as much as possible.

When to go to the doctor?

Bacterial vaginosis is usually not serious and often goes away on its own. But in case you experience symptoms going worse, consult your doctor and treatment should start immediately.

Read More
What is menarche? Everything You Need to Know

Posted 18 August, 2022

What is menarche? Everything You Need to Know

Menarche is a medical term used to refer to the first menstrual period of a female adolescent. It is the result of interactions between the hypothalamic hormones, pituitary hormones, and ovarian hormones. It can also be affected by the thyroid, pancreatic, and adrenal hormones. Menarche signals the possibility of fertility and is associated with the development of secondary sexual characteristics.

Menarche doesn’t occur until all parts of a girl’s reproductive system have matured and are working together. It is abnormal for menarche to occur before the appearance of any secondary sexual development.

The first menstrual cycle of a young girl tends to be irregular and ovulatory. This means that there is no ovulation during this period. However, some girls can ovulate during their first period. Irregular menstruation is usually experienced by teenagers. It may take six years or more from the start of your first period for your periods to become regular.

It has been estimated that most girls will have ovulatory cycles within 5 years of menarche. Girls experience menarche at different ages, but the usual age is between 9-15 years.

In very rare cases, menarche can occur at an early age, either as a result of premature puberty or as a symptom of an endocrine disorder. If menarche does not occur 3 years after breast development or after 16 years of age, this delay is called primary amenorrhea.

Causes of Early Menarche-

Some social and environmental stress factors associated with early menarche may include-

  • Childhood obesity.
  • Being born at a low birth weight.
  • Lack of exercise in childhood.
  • Exposure to smoking.
  • Experiencing preeclampsia during pregnancy.
  • Absence of breastfeeding.
  • Stress.

What can delay menarche?

Certain diseases and ailments can delay menarche, these include-

  • Diabetes mellitus type 1.
  • Asthma.
  • Untreated celiac disease.
  • Cystic fibrosis.
  • Inflammatory diseases.

Late menarche is associated with a reduced risk of breast cancer, a decreased frequency of coronary artery disease, and a decreased incidence of teen pregnancy.

Symptoms of Menarche

  • Emotional or moody behavior for no apparent reason.
  • Bloating.
  • Brownish fluid and blood flow start this way which becomes redder and heavier during a period.
  • Abdominal cramps.

Diagnosis for Menarche

  • If your child has early or late menarche, diagnosis is available to determine the cause of the problem.
  • To diagnose early menarche, your doctor will ask some questions and run some tests to check the child’s hormones.
  • For late menarche, evaluation of the ovarian and pituitary hormones can help in making a diagnosis.
  • This can be done by a thorough history and a careful visual examination of the genitalia and a manual examination of the female reproductive organs.

When to see a doctor?

Schedule a medical checkup for your child-

  • Has not started menstruating within three years of breast growth or by the age of 15.
  • Breasts haven't started to grow by the age of 13.
  • Has periods that last more than seven days.
  • Has severe pain during periods.
  • Bleeds between periods.
  • Become sick or have a sudden fever after using a tampon.
  • Having menstrual periods of more than 21 days or less than 45 days.
  • Goes 3 months without a period after the start of menstruation.
Read More
What is Pneumococcal disease? Know its Types, Symptoms and Diagnosis

Posted 11 August, 2022

What is Pneumococcal disease? Know its Types, Symptoms and Diagnosis

Pneumococcal is a type of infection in the body which affects many parts of the body. It is mainly caused by bacteria called Streptococcus pneumoniae, also known as Pneumococcus. It is also caused by infection with pneumococcal microbes, certain drugs, and other diseases. This can lead to many diseases. Pneumonia is also caused by this bacterial infection. It can also be caused by bacteria, viruses or parasites. This causes a cough with mucus or pus, fever, chills, and shortness of breath & is a serious disease.

This disease can take a serious form if the symptoms are not recognized and treatment is not started on time. It is more harmful for infants, young people, people over the age of 70 and people with a weakened immune system.

Types of Pneumococcal disease

There are mainly two types of pneumococcal diseases which have further divisions. These are mentioned below

  • Invasive Pneumococcal diseaseThis type of pneumococcal disease is considered a serious infection. In this, infection occurs inside any part of the body or in the blood. It includes many diseases which are as follows
  • Septic ArthritisSeptic arthritis is an infection of the joints. This infection mainly reaches the joints through injury or infection in the blood due to which problems like pain, swelling and redness start arising in the joints which affects different joints of the body. It also causes unbearable pain.
  • MeningitisThis infection occurs in the membrane covering the brain and spinal cord of a person.
  • OsteomyelitisThis is a bone infection which spreads to the blood and its surrounding tissues as well as reaches the bones.
  • BacteremiaThis is caused by bacteria present in the blood.
  • SepticemiaSepticemia is an infection in the bloodstream, also known as blood poisoning. It usually occurs when bacterial infections in the body enter the blood through the lungs or skin.

Non Invasive Pneumococcal disease

  • PneumoniaPneumonia is usually caused by a variety of bacteria. The most common of these is Streptococcus pneumoniae. This usually happens when the body is weak due to minor illness, nutritional deficiency, old age or problems with the body's immunity, etc. In this condition, the bacteria reaches the lungs. Bacterial pneumonia can affect people of all ages.
  • Otitis mediaThis is an ear disease. A type of infection, which affects the middle part of the ear. In this condition, due to infection, the central part becomes swollen, due to which the person may have to face unbearable pain.
  • SinusitisSinusitis is an infection in the sinuses that comes under the category of a serious problem. The problem of sinusitis occurs due to many reasons like- sinus infection, pollution, allergies, cold and bacterial infection etc.

Symptoms of pneumococcal disease

Some of the common symptoms caused by pneumococcus bacteria are as follows

Flu-like symptoms are felt when you have pneumococcal disease. These symptoms can develop slowly or rapidly.

  • Fever with sweating and shivering.
  • Suffering from a cough with mucus.
  • Difficulty in breathing.
  • Chest pain.
  • Feeling uneasy.
  • Loss of appetite.
  • Weakness.
  • Earache or discharge from the ears.
  • Feeling delusional.
  • Blood coming from the mucus while spitting.
  • Redness or rash on the skin.
  • Rapid heartbeat.

Under what circumstances can pneumococcal disease occur?

  • Children below 2 years of age.
  • Children under the age of 5 with pre-existing disease have an increased risk of developing pneumococcal disease.
  • Excessive smoking poses a higher risk of getting this disease.
  • People suffering from diabetes, cancer, lung cancer, kidney problems or any other chronic disease.
  • People with 65 years of age or older.
  • Long-term use of steroid medicines.
  • People with a weak immune system can also be infected. This often causes pneumonia in people who already have AIDS.

Home remedies for Pneumococcal disease

  • Steam inhalationSteam inhalation reduces infection. This also improves the breathing capacity of the patient. Steam reduces cough and also relieves chest tightness.
  • Turmeric mixed with mustard oilMix turmeric powder in lukewarm mustard oil and massage the chest with this mixture.
  • TurmericTurmeric is also helpful in relieving respiratory disorders. It reduces mucus, therefore, consuming turmeric powder in hot milk daily prevents pneumococcal disease.
  • PeppermintPeppermint reduces irritation and mucus. Therefore, make tea using fresh mint leaves and drink it. Mint tea acts as a medicine for pneumonia.
Read More