Cart

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF. 5% OFF ON PREPAID ORDERS

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF.
5% OFF ON PREPAID ORDERS

No Extra Charges on Shipping & COD

Diarrhoea- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 13 December, 2021

Diarrhoea- Causes, Symptoms and Home remedies

Like cold and fever, diarrhoea is also a type of seasonal disorder. Most of its outbreaks are seen in the summer and rainy seasons. The main reason for this is dirt. This problem mostly occurs in young children, new born babies and the elderly. Children and elderly people complain of diarrhoea and vomiting leading to physical weakness. Therefore, if it is not treated in time, it can prove to be a serious problem.

 

Diarrhoea is a disease related to the digestive system in which the patient starts having loose motions. Usually, diarrhoea lasts for two to three days. In some cases, patients recover quickly but in other cases, the patient is not able to recover quickly. Diarrhoea is mainly caused by bacterial infection. It can also be caused by bacteria, viruses or parasites. Apart from this, diarrhoea is also caused by infection with micro-organisms, certain drugs and other diseases.

 

Types of Diarrhoea

There are mainly four types of diarrhoea which are the following-

 

Acute diarrhoea-

This is a common form of diarrhoea that can last for several hours or a few days in which there are very loose and watery stools. Usually, diarrhoea can be treated at home. For this, the patient should drink enough fluids. By doing this the problem automatically gets reduced.

 

Persistent diarrhoea-

This type of diarrhoea can last for at least two weeks.

 

Acute Bloody diarrhoea-

People suffering from this also have watery diarrhoea along with blood. It is also called dysentery.

 

Chronic diarrhoea-

This type of diarrhoea can bother a person for two to four weeks.

 

Symptoms of Diarrhoea

Well, there are many symptoms of diarrhoea, but depending on their cause, one or more of these symptoms can be seen. Let us know about these symptoms-

 
  • Loose motion means loose stools.
  • Abdominal cramps.
  • Nausea or vomiting.
  • Lack of water (dehydration) in the body.
  • Blood in stool.

If the following symptoms appear in babies, do not ignore them, rather contact the doctors immediately-

  • Vomiting with frequent diarrhoea.
  • Less urination.
  • Frequent dry mouth.
  • To be nauseous.
  • Having a fever.
  • Blood or pus in the stool.
  • Black stool.
  • To be irritable.
  • Feeling lethargic.
  • Getting more sleep.
  • Sunken eyes etc.

Causes of Diarrhoea

 

Contaminated food or water-

The main cause of diarrhoea is the ingestion of contaminated food and water through which harmful bacteria called Salmonella or Escherichia enter the body. These harmful bacteria cause gastro-enteritis due to which diarrhoea, constipation and many stomach related problems start arising. Apart from this, in young children, it can also be caused by bacteria (norovirus or rotavirus) and parasites (Giardia intestinalis).

 

Intestinal Infection-

Many times the problem of diarrhoea starts due to infection in the intestines. This problem occurring in the intestines is called gastroenteritis. This disease occurs due to reasons like viruses, bacteria, food poisoning.

 

Stomach Ulcer-

Some people have difficulty in passing stools due to stomach ulcers. Sometimes, these ulcers also become the cause of diarrhoea.

 

Inflammatory Bowel Disease-

Inflammatory bowel disease occurs when there is chronic inflammation in the digestive tract due to which there may be a problem of diarrhoea. Sometimes, due to these problems, pus or mucus is also visible in the stool.

 

Other causes of diarrhoea

  • On the spread of infection in the stomach.
  • In case of viral infection.
  • When there is a lack of water in the body (dehydration).
  • When the digestive power of the person is weak.
  • When the contaminated water enters the stomach while swimming.
  • Living in very hot or humid climates.
  • When baby teeth erupt.
  • On drug reactions.
  • On excessive use of aspirin and anti-inflammatory drugs.
  • On consuming undercooked and raw meats.

Take these Precautions during Diarrhea

  • Take special care of cleanliness.
  • Make sure to wash hands after using the washroom.
  • Use boiled water in the rainy season.
  • Wash hands thoroughly with soap before eating food.
  • Store food properly.
  • Drink plenty of fluids.
  • Drink 8 to 10 glasses of water daily.
  • Get your children vaccinated on time.
  • Pay special attention to your diet.
  • Reduce intake of tea, coffee, smoking etc.
  • Avoid alcohol consumption.
  • Avoid consumption of fried and junk food.

Home remedies for Diarrhoea

  • The initial phase of diarrhoea can be cured by changing the diet.
  • In Ayurveda, it is recommended to drink water from rice and moong dal in case of diarrhoea. It is advised to give lentil water to young children if they have diarrhoea.
  • Use nutritious things like green vegetables, pulses, fruit juices etc. in the food.
  • Taking honey with lukewarm water provides relief in loose motion i.e. diarrhoea problem.
  • You can consume oats, corn flakes, herbal tea etc. with honey.
  • Drinking coconut water is a good option in diarrhoea because it has an antioxidant and gastroprotective activity that provides relief in gas and stomach related disorders. It also helps in increasing immunity.
  • In Ayurveda, buttermilk acts as a medicine in the treatment of stomach disorders because it has probiotic properties which work to keep the digestive system healthy.
  • Consuming turmeric mixed with buttermilk or curd provides relief in loose motion i.e. diarrhoea problems.
  • Apple cider vinegar is helpful in preventing diarrhoea or loose motion because it has natural anti-bacterial properties.
  • Peppermint oil and mint tea are beneficial in stomach related disorders. It has been used for a long time to treat stomach related problems like diarrhoea, gas, and constipation.
  • Consumption of raw bananas also proves effective in preventing diarrhoea as pectin(an element) is found in bananas. Apart from this, taking a raw banana after boiling a little lemon juice and salt in it also works as a medicine.
  • Chamomile tea works as a medicine in preventing diarrhoea because it has anti-diarrheal and antispasmodic properties.

When to go to the doctor?

  • If Infants and young children have loose motions more than six times in 24 hours.
  • On continuous vomiting.
  • When there is weakness.
  • Consistent weight loss.
  • When there is blood in the stool.
  • Persistent pain in the stomach.
  • On dehydration.
  • High fever or dizziness.
Read More
Know the Types, Causes, Symptoms and Home remedies of Angina

Posted 13 December, 2021

Know the Types, Causes, Symptoms and Home remedies of Angina

At present, due to wrong eating habits and busy routines, almost every third person is falling victim to heart diseases due to which the person is not able to take care of his health and starts ignoring the initial symptoms. Sometime before our body starts giving us the signs of a heart attack, we ignore it due to busy schedules, the result of which often proves fatal. The pain that arises in the chest before a heart attack is called angina. When the blood flow in the veins of the heart is not proper, the heart does not get enough oxygen due to which the pain of angina starts arising in the jaw, arm and upper back.

 

What is Angina?

When there is a blockage in the veins carrying blood to a person's heart or due to any reason the blood flow to the heart slows down due to which pain or discomfort is felt in the chest. This condition is known as angina. It is a symptom of coronary artery disease and is known as ischemic chest pain in medical language.

 

Oxygen is transmitted through the blood to the heart but due to the small amount of blood reaching the heart, oxygen is not able to reach the heart properly due to which the heart is not able to pump properly. In such a situation, there is pressure on the heart and this interrupted blood flow weakens or completely destroys the heart muscle. During this, a person may have a heart attack. Usually, this pain can get better in no time but sometimes it can also cause a lot of problems.

 

Types of Angina

Stable Angina-

This is the most common type of angina which occurs due to excessive physical activity or taking more stress. However, angina gets better with rest and taking medicine.

 

Unstable Angina-

It is considered the most serious and dangerous of the types of angina. It does not get better even after taking a rest or taking medicine that's why it is called unstable angina. There is a lot of pain in this type of angina which happens repeatedly. In such a situation a heart attack can occur, therefore, a doctor must be contacted immediately.

 

Variant Angina-

Variant angina is rare and is seen in very few people. This problem occurs while resting or sleeping. During this, the arteries of the heart suddenly start narrowing. As a result, there is unbearable pain in the chest which can be cured with medicine.

 

Micro Vascular Angina-

There is another type of microvascular angina. When a blockage occurs in the smallest artery of a person's heart due to which it is not able to work properly. Therefore, the required amount of blood does not reach the heart. This problem is mostly seen in women.

 

Symptoms of Angina

  • Unbearable pain in the chest.
  • Feeling anxious.
  • Feeling of heartburn problem.
  • Pain in arms, neck, jaw, shoulders and back.
  • Feeling tired.
  • Difficulty in breathing.
  • Feeling weak.
  • Frequent sweating.
  • Nausea or vomiting.
  • Sour belching.

Causes of Angina

There are many reasons for having angina, the main reasons for which are the following-

 

Arterial Plaque-

Plaque in the arteries is the main cause of angina. In this, plaque accumulates inside the arteries which give rise to blockage. This blockage causes some amount of fat (fluid), cholesterol and other elements to collect on the walls of the arteries and narrow the artery due to which there is a problem in the blood circulation in the heart. Due to this, there is pain and discomfort in the chest. This is where the risk of heart attack begins. However, it can be treated by a surgery called coronary angioplasty.

 

Smoking-

Angina is more likely to occur in a person who smokes in excess.

 

High levels of cholesterol-

The risk of angina increases even if the amount of cholesterol in the body is high.

 

High blood pressure-

Angina can also be caused by high blood pressure. Therefore, people suffering from the problem of BP must get treatment for high blood pressure.

 

Stress full life-

It is believed that taking too much stress sometimes gives rise to serious diseases like angina or heart attack because we start ignoring our health in such a situation.

 

Diabetes-

Diabetes means high sugar starts to damage the nerves of the heart after a time. Angina can also occur due to this.

 

Ways to avoid Angina

  • Minimize the intake of oily and fatty food. Excessive intake of these accumulates in the form of a layer on the arteries due to which there is a blockage in the flow of blood.
  • Consumption of sweets increases the level of cholesterol in the body. This can lead to the formation of blood clots or the thickening of the blood which later proves to be fatal for the body.
  • Treat those diseases first which increase the risk of angina such as diabetes, high blood pressure, and high cholesterol in the blood.
  • Avoid anxiety, stress and depression.
  • Get 7-8 hours of sleep every day.
  • Do not smoke or consume alcohol at all.
  • Exercise regularly.
  • Eat a balanced diet.

Treatment for Angina

Doing ECG-

The status of the heartbeat is detected by the ECG. Therefore, if there is any heart-related problem, then it can be detected by it.

 

Taking medicines-

Apart from having tests, angina can also be treated with some medicines.

 

Bypass surgery-

Angina can also be treated with bypass surgery. In this surgery, the blood flow reaching the heart is corrected by opening the blockages in the veins of the heart.

 

Angioplasty-

Angioplasty is also called PCI (percutaneous coronary intervention). In this surgery, a small balloon is inserted into the narrowed coronary artery. The balloon is now inflated to widen this narrowed artery. A small wire mesh (stent) is then inserted to keep the artery wide. By doing this, the circulation of blood in the heart improves. Thus, angioplasty is a good way of treating angina.

 

Coronary angiography-

When the treatment of angina is not cured by many methods. The doctor then advises the patient to undergo coronary angiography. To examine the inside of the heart's blood vessels during coronary angiography, X-ray imaging (CHBI) is used. This procedure is called cardiac catheterization.

 

Home remedies to cure and avoid Angina-

Heart blockage is the main cause of angina. It is beneficial to use these home methods-

 

Arjun tree-

The bark of the Arjuna tree is very beneficial in the treatment of heart-related diseases such as blockage in the arteries, high cholesterol, blood pressure and coronary artery disease because its bark contains natural oxidizing. For this reason, a decoction made from the bark of the Arjuna tree is used as medicine to prevent heart attack.

 

Lemonade-

Lemon is a powerful antioxidant-rich in Vitamin C. It helps in improving blood pressure and reducing inflammation of the arteries. Apart from this, lemon also helps in lowering blood cholesterol levels and clearing the arteries. For this, make a mixture by mixing a little honey, black pepper powder and juice of one lemon in a glass of lukewarm water. Now drink this mixture once or twice daily.

 

Garlic is beneficial-

Garlic is one of the best remedies to clear clogged arteries. It dilates blood vessels and improves blood circulation. For this, cut some garlic bud, mix it in a cup of milk and boil it, and cool it a bit. Now drink it before sleeping.

 

Pomegranate juice-

Phytochemicals are found in pomegranate which prevents damage to the lining of the arteries as an anti-oxidant. For this, drink a glass of pomegranate juice daily. In this way, pomegranate is also beneficial in getting relief from the symptoms of artery blockage.

 

Consumption of red chilli-

An element called capsaicin present in red pepper protects the heart from bad cholesterol or LDL. It lowers the level of bad cholesterol in the blood which is the main reason for the clogging of arteries. Apart from this, it also reduces the risk of heart attack and stroke by improving blood circulation. For this, mix half or one teaspoon of red chilli in a cup of hot water. Now consume this mixture regularly for a few days.

Read More
Know the Symptoms, Causes and Home remedies of Dry cough

Posted 13 December, 2021

Know the Symptoms, Causes and Home remedies of Dry cough

It is common to have phlegm or cough due to changes in weather in which cough occurs with cold even when there is a mild cold. The nose, throat, etc., become closed when there is a cold in which many times the cold is cured but the cough did not leave the chase for long. As a result, there is shortness of breath and a strange sound while coughing. All these symptoms point towards dry cough. This cough is without phlegm which can happen to any person because having a cough or dry cough is a common infection. Therefore, it should not be ignored as a sign of changing weather. Doing so can have many side effects.

What is Dry cough?

Dry cough is called tickly cough in other words. It is a respiratory tract infection when infected with a dry cough, the amount of phlegm or mucus is very less. The effect of which is not immediately visible on the person but within a few days, the effects of this cough start showing. This disease can occur in people of any age.

 

Symptoms of Dry cough

Although the symptoms of dry cough are not visible immediately. It may take about 1 to 2 weeks for them to appear but in most cases, the symptoms of dry cough i.e. dry phlegm are similar to cold. Apart from this, dry cough also has some other symptoms which are the following-

 
  • No mucus when coughing.
  • Feeling of something stuck in the throat.
  • Mild or severe pain in the throat.
  • Difficulty in breathing
  • Wheezing sound in breathing.
  • Dry vomiting while coughing or after.
  • Mild difficulty in swallowing.
  • Persistent dry throat.
  • Having pain in the neck.
  • Mild fever

Causes of Dry cough

Dry cough can be caused by the following reasons which we should always keep in mind-

 
  • Having a viral infection.
  • Breathing cold, dry air.
  • By breathing in chemical fumes or air pollution.
  • Frequent exposure to dust and soil.
  • Loss of moisture in the throat.
  • Change in temperature.
  • Having a major disease like TB, asthma, lung cancer etc.

Take these Precautions in case of Dry cough

  • Do not smoke at all.
  • Avoid going in an infected and polluted environment.
  • Always wear a mask if a person is infected with it. By doing this, other members of the household will be protected from this infection.
  • Drink plenty of fluids.
  • Do not consume ice cream, curd, ice water at all.
  • If there is no problem with vomiting after coughing, eat light food.
  • Avoid the consumption of oily and fatty food.

Home remedies for Dry cough

Drink plenty of fluids-

Drink plenty of fluids like warm liquids like tea and soup to relieve sore throat and dry mucus.

 
Gargle with warm saltwater-

Gargle with warm saltwater. For this, mix a teaspoon of salt in 1 cup of warm water.

 
Tea mixed with honey-

Tea mixed with honey is one of the good home remedies for dry throat because it helps in reducing dry cough and other throat problems. Therefore, this tea (tea mixed with honey) proves to be effective when there is a cough. Apart from this, mix an equal quantity of honey, pomegranate juice and ginger juice and consume it 3-4 times daily. Doing this relieves dry cough.

 
Asafetida and ginger-

Taking asafetida and ginger also provides relief from cough. For this, roast a pinch of asafetida and mix it with half a teaspoon of ginger paste. Now lick this mixture. By doing this, there is relief in headaches associated with dry cough.

 
Apple cider vinegar-

Apple cider vinegar is one of the good medicines for dry cough because it contains acetic acid that has antimicrobial properties that help to fight against bacterial and virus infections.

 
Black pepper tea-

It is good to take tea made from black pepper for dry cough and sore throat because black pepper has antioxidant properties, is a natural pain reliever, and provides relief from sore throat and pain.

 
Tulsi-

Tulsi has antioxidant properties which work to protect the body from the problems caused by the changing seasons. Tulsi enhances immunity.

 
Turmeric-

Turmeric has antibacterial and antioxidant properties which work to relieve cough, sore throat and cold. In such a case, drink half a teaspoon of turmeric mixed with a glass of milk in case of dry cough.

 
Lemon and honey-

According to Ayurveda, both lemon and honey have immunity-boosting properties. The use of lemon and honey is recommended in case of dry cough because this mixture detoxifies the body and increases immunity. For this, take a glass of lukewarm water mixed with lemon juice and honey.

 
Coriander seeds-

Coriander seeds boost the body's immune system to fight bacteria. For this, make tea by adding a tablespoon of coriander powder, a little milk and sugar in a glass of water and consume it twice a day. In this way, coriander tea works as a very effective medicine in dry cough or other types of bacterial infections.

 
Garlic-

Garlic has anti-bacterial properties which help in reducing dry cough. Apart from this, garlic also has antimicrobial properties that activate the immune system and protect against infection. For this, sucking 2 to 3 cloves of garlic between your teeth is beneficial.

 
Onion-

In traditional medicine, onions have been used for asthma, bronchitis as well as dry cough because onions have anti-inflammatory, anti-allergic, anti-carcinogenic and antioxidant properties. All these properties destroy bacteria. For this, the roasted onion should be consumed with honey or by mixing one spoon of honey in onion juice.

Read More
What is Anal Fissure? Know its Causes and Home remedies

Posted 17 March, 2022

What is Anal Fissure? Know its Causes and Home remedies

When any kind of cut or crack is formed in the anus or anal canal, it is called fissure or anal fissures. This often happens when hard and large stools come during bowel movements due to which there is pain while passing stool and sometimes blood also comes with the stool. During a fissure, the patient feels a muscle spasm at the end of his anus. Fissures are a fairly common condition in young children but they can occur at any age. Most of the problems with fissures are cured by simple treatments, such as consuming high amounts of fibre in foods and taking sitz baths, etc. In severe cases of fissures, the patient may need medical help and sometimes surgery.
 

Types of Anal fissure

There are generally two types of fissures-

Acute-

A hole or crack on the upper surface of the skin is called an acute fissure.

 

Chronic-

When the holes or cracks on the surface of the skin are not healed, over time they develop into chronic fissures.
 

Symptoms of Anal fissure

  • Loss of pain during bowel movement which sometimes turns serious.
  • Pain after having a bowel movement which can last for several hours.
  • A dark red color appears on the stool after a bowel movement.
  • Itching or burning around the anus.
  • The appearance of cracks in the skin around the anus.
  • The appearance of a lump on the skin near the anal fissure.
    • Causes of Anal fissure

      The most common cause of fissures is damage to the skin of the anus and anal canal. In most cases, it happens to those people who have the problem of constipation, especially when hard and large stools pass inside the anus. It damages the lining of the anus and anal canal.
       

      Other possible causes of fissures-

      • Persistent diarrhoea.
      • Inflammatory bowel disease (IBD), such as Crohn's disease, ulcerative colitis.
      • Constipation for a long time.
      • Sometimes sexually transmitted infections (STIs), such as syphilis or herpes, which infect and damage the anus and anal canal.
      • Abnormal tightening of the anal sphincter muscles.
      • Many babies get anal fissures in their first year of life.
      • Blood circulation slows down in older people, which leads to a decrease in blood flow to their anal region due to which they may partially develop the problem of a fissure.
      • Pregnancy and childbirth.
      • Reducing intake of fibre rich diet.
      • Scratching in the anus.
      • Swelling in the anus and rectum.
      • Cancer in the rectum.
      • Wiping the anus with hard or excessive pressure after a bowel movement.
      • Prevention from Anal fissure
       

      For preventing anal fissure do the following-

      • Eat a balanced diet that includes a good amount of fibre, fruits and vegetables.
      • Drink a sufficient amount of fluids.
      • Keep exercising regularly.
      • Consume alcohol and caffeinated substances such as tea and coffee.
      • When the urge to go to the toilet is felt, it should not be ignored because not emptying the intestines can cause constipation. This is because the stool that accumulates in the intestines becomes hard which causes pain and cracks in the anus as it passes through the anus.
      • Do not sit in the toilet for a long time or exert too much pressure. Doing this increases the pressure in the anal canal. If you have any other health-related problem which increases the risk of getting fissures, then seek a doctor’s advice about it.
      •  

        Tests for Anal Fissure

        Endoscopy-Examine the anus, anal canal and lower rectum.

        Sigmoidoscopy-Examine the lower part of the large intestine.

        Biopsy-Removal of a sample of anal tissue for testing.

        Colonoscopy-Examining the colon.

         

        Home remedies for Anal fissure

        Eat fibre-rich food-
        Foods high in fibre, such as wheat bran, beans, peas, pumpkin seeds, soybeans, prevent stools from becoming too hard or too liquid. Thus, consuming fibre-rich food is one of the effective home remedies to prevent anal fissures.
         
        Sitz bath (hot bath)-
        Taking a hot bath is beneficial to reduce the problems caused by anal fissures. This helps in smoothing the blood flow to the anal area. It helps to heal minor cracks and splits of tissue. It also helps in reducing the pain, swelling and itching caused by anal fissures. To do this, fill a large bathtub with hot water and add a few drops of lavender essential oil to it. Now sit in the tub for about 15 to 20 minutes. Do this two to three times a day.
         
        Olive oil-
        Olive oil, a rich natural laxative helps make bowel movements easier due to the anti-inflammatory properties present in it, it helps in the easy passage of stool. To use it, mix equal amounts of olive oil, honey and beeswax in a bowl. Heat it in the microwave until the wax is completely melted. Then after it cools down, apply it to the affected area.
         
        Aloe vera-
        Aloe vera has pain-relieving properties which reduce the symptoms of anal fissure. It also helps in the repair of damaged skin tissue. To use them, take a leaf of the aloe vera plant and cut it out to extract the gel. Then apply this gel to the affected area.
         
        Stay away from junk food-
        Indigestion is caused by junk foods which worsens the condition of the anal fissure. Therefore, do not consume junk food.
         
        Consume high water fruits-
        Foods that have a high water content help in keeping the body hydrated. It also promotes bowel movement and improves the digestion process which results in less straining during the passage of stool.
         

        When to go to the Doctor?

        If there is pain during bowel movement.
        If blood appears in the stool after defecation.
Read More
What is Anal Fistula? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 17 March, 2022

What is Anal Fistula? Know its Causes, Symptoms and Home remedies

An anal fistula is also known as a fistula. It is like a small tube that connects the end of the intestine to the skin near the anus. This usually happens when an infection does not heal properly. Most fissures are caused by the accumulation of pus in the anal canal. This pus also comes out of the skin on its own and sometimes it may require an operation. A fistula occurs when the opening for pus to come out of the skin remains open or does not heal. Symptoms include pain, swelling, change in normal bowel movements and discharge from the anus. To check this, the doctor conducts a physical examination in which fissures are examined in the anus and surrounding area. Surgery can be done to treat fistulas in which pus is removed from the infected area.
 

Types of Anal Fistula

 
Simple or complex- 

Having one or more fistulas is classified as a common or complex fistula.

Low or High- 

It is classified more or less depending on the location of the fissure and its proximity to the sphincter muscles (two ring-like muscles that open and close the anus).

 

Symptoms of Anal Fistula

  • Frequent boils in the anus.
  • Pain and swelling around the anus.
  • Pain in passing stool.
  • Having bleeding.
  • Smelly and bloody pus coming out of a hole near the anus (the pain may subside after the pus is drained).
  • Burning of the skin around the anus due to frequent pus discharge.
  • Fever, body chills and feeling tired.
  • Constipation etc.

Causes of Anal Fistula

  • Most fissures occur after an abscess in the anus. This can happen when the pus from the boil does not heal after it is released. It is estimated that every two to four people who have an abscess in the anus develop a fistula problem.
  • Crohn's disease (a type of long-lasting disease in which the digestive system becomes inflamed).
  • Diverticulitis: In this, the sacs in the lining of the large intestine become inflamed.
  • Abscesses and scarring of the skin around the anus.
  • Being infected with TB or HIV.
  • Complications of any surgery near the anus.

Home Remedies for Anal Fistula

 
Fibre-rich food-

Constipation occurs in the fistula. Foods containing fibre should be consumed to cure constipation. During fissure disease, non-vegetarian food should be avoided while fruits, vegetables and whole grains etc. should be consumed more.

 
Hot compress-

In the case of fistula, compressing the anus with lukewarm water is beneficial. The compress provides relief during a fistula. For this, put betadine in hot water and compress the affected area.

 
Neem leaves-

Neem leaves are a panacea for the removal of fissures. These leaves are used in many ways. Boiling neem leaves and washing the fissures with that water helps to provide relief. Making a paste of boiled neem leaves and applying it to the fistula is also beneficial. The paste of neem and ghee in the anal fistula also proves to be very effective.

 
Pomegranate leaves-

Pomegranate is a fruit which along with increasing the amount of blood in the body works to protect against many diseases. Its leaves also have many healing properties. Therefore, after boiling pomegranate leaves in water, washing the fistula affected area with that water gives great benefit.

 
Black pepper-

The use of Lajwanti and black pepper gives relief in the fistula. Making a paste by grinding black pepper and Lajwanti and then applying that paste to the fistula area helps to provide relief.

 
Garlic-

Garlic has powerful antioxidant properties and is known for its taste, anti-biotic properties and health benefits. Therefore, it is eaten by putting in food items or even raw. Garlic is the best medicine to eliminate bacteria. Therefore, garlic should be first ground and roasted in ghee and then it should be applied in the place of a fissure.

Read More
जानिए क्या है मोच? इसके लक्षण और इलाज

Posted 24 May, 2022

जानिए क्या है मोच? इसके लक्षण और इलाज

मोच एक सामान्य समस्या है। लिगामेंट में किसी प्रकार की चोट आदि को मोच कहा जाता है। लिगामेंट्स कठोर, लचीले और रेशेदार ऊतक होते हैं। जो जोड़ों में दो हड्डियों को आपस में जोड़ने का काम करते हैं। मोच के दौरान लिगामेंट में थोड़ी बहुत चोट भी लग सकती है या यह पूरी तरह अलग भी हो सकते हैं। मोच आने पर व्यक्ति को अधिक पीड़ा का सामना करना पड़ता है। आमतौर पर मोच बहुत बड़ी समस्या नहीं है। लेकिन सही समय पर उपचार नहीं करने से यह समस्या और बढ़ जाती है। मोच की समस्या अक्सर लोगों को व्यायाम न करने, कैल्शियम की कमी, पोटेशियम की कमी या चोट लगने के कारण होती है। मोच आने पर व्यक्ति के मांसपेशियो में दर्द और ऐंठन उत्पन्न हो जाती है। इससे व्यक्ति कुछ दिनों तक अपने काम करने में असमर्थ रहता है। यह समस्या किसी को, कही भी, किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है। मोच आने की समस्या को अंग्रेजी में स्प्रेन (Sprain) कहते हैं।

 

मोच के लक्षण-

  • प्रभावित जोड़ के आस-पास दर्द होना।
  • सामान्य रूप से जोड़ का उपयोग करने या उस पर वजन डालने में असमर्थता।
  • सूजन व नीला पड़ना और छूने पर दर्द महसूस होना।
  • त्वचा जहां से लाल व सूजन ग्रस्त है, वहा से गर्म होना।

मोच के कारण-

  • क्षमता से ज्यादा काम करना।
  • अचानक से दिशा या गति बदल बदना। कहीं पर गिर जाना या गलत तरीके से उतरना।
  • आपकी किसी वस्तु या व्यक्ति के साथ टक्कर लगना।
  • अगर आप अचानक से अपने पैर के अगले हिस्से में वजन डालते हैं, तो आपके टखने में मोच आ सकती है। अगर पूरे शरीर का वजन अचानक से टखने पर आ जाता है, तो टखने में मोच आ सकती है। टखने में मोच अक्सर उबड़-खाबड़ या असमतल जगह पर चलने या दौड़ने से भी आ सकती है।
  • मोच स्पोर्ट्स खेलते समय भी आ जाती है। जिसमें अचानक से तेज और कम गति होना शामिल होता है।
  • जब कोई व्यक्ति पहली बार स्पोर्ट्स में हिस्सा लेता है, तो उसकी मोच आने की ज्यादा संभावनाएं होती हैं। क्योंकि उसकी मांसपेशियों नें पहले इतना तनाव महसूस नहीं किया होता।
  • अनुभवी एथलीटों को भी यह समस्या हो सकती है। जब वह अपनी मांसपेशियों को सीमा से अधिक इस्तेमाल करते हैं। क्योंकि उनकी मांसपेशियों के इस्तेमाल की बढ़ती मांग अचानक उनमें मोच का कारण बन सकती है।
  • जो बच्चे स्पोर्ट्स में हिस्सा ले रहे होते हैं। उनमें भी मोच आदि आने की संभावनाएं अधिक होती हैं। क्योंकि वह शारीरिक रूप से विकसित हो रहे होते हैं।

मोच की जांच-

मोच की जांच के लिए एक संक्षिप्त शारीरिक परिक्षण के बाद डॉक्टर एक्स-रे करवाने की सलाह देते हैं। एक्स-रे की मदद से शरीर में किसी भी प्रकार की टूट-फूट या फ्रैक्चर का पता लगाया जा सकता है। अगर एक्स-रे से निश्चित न हो, तो डॉक्टर एमआरआई (MRI) जैसे अन्य टेस्ट का अनुरोध करते हैं।

 

मोच के घरेलू उपाय-

 

सेंधा नमक का उपयोग ठीक करें मोच-

सेंधा नमक सूजन विरोधी होता है और मांसपेशियो के दर्द व ऐंठन को कम करने में मदद करता है। इसमें प्राकृतिक तौर पर मैग्नीशियम होता है। जो हड्डियों के दर्द को दूर करता है। यह नमक द्रव पदार्थ को बाहर निकाल देता है और सूजन से आराम दिलाता है। इसलिए मोच को ठीक करने के लिए दो कप सेंधा नमक ले उसे एक बाल्टी गुनगुने पानी में मिलाये। अब इस पानी से स्नान करें या पानी में प्रभावित अंग को डालकर बैठें। इस प्रक्रिया को तब तक करें। जब तक मोच की सूजन कम न हो जाये। इस बात का ध्यान रखें, जो लोग ह्रदय व बीपी की समस्या से पीड़ित हैं। उन्हें सेंधा नमक का उपयोग नहीं करना चाहिए।

 

मोच को ठीक करने में उपयोगी है अरंडी का तेल–

अरंडी के तेल में बहुत से औषधीय गुण होते हैं। जो हड्डियों के दर्द को कम करते हैं। गठिया रोग से पीड़ित लोगों के लिए अरंडी तेल से मालिश करना सूजन व ऐंठन के लिए अच्छा होता है। इसके अलावा मोच को ठीक करने के लिए अरंडी के तेल का उपयोग करना फायदेमंद होता है। अरंडी के तेल को साफ कपड़े में लगाकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं और किसी चीज से ढ़क दें। अब इसके ऊपर गर्म पानी की बोतल रखें और कुछ मिनटों में हटा दें। इसके बाद उस जगह पर हल्के हाथ से मालिश करें। इस प्रक्रिया को पुरे दिन में एक बार रोजाना करें जब तक आपकी मोच पूरी तरह से ठीक न हो जाये।

 

सेब के सिरके से ठीक करें-

सेब के सिरके में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट के साथ एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होता है। जो सूजन व दर्द को कम करता है। सेब का सिरका बहुत से रोगों के जोखिम को कम करता है। यह मोच से राहत पहुंचाता है। इसका उपयोग करने के लिए एक बाल्टी में गर्म पानी डालकर, उसमें दो चम्मच सेब का सिरका मिलाकर स्नान करें या प्रभावित हिस्से को इस पानी में थोड़ी देर के लिए डुबाकर रखें ताकि सूजन और दर्द कम हो सके। इस प्रक्रिया को दिन में एक बार करें।

 

जैतून के तेल के फायदे मोच के लिए-

जैतून के तेल में कुछ ऐसे कम्पाउंड होते हैं। जो सूजन विरोधी होते हैं। इसकी सहायता से पैरों की मोच को आसानी से ठीक हो जाती है। इस तेल का उपयोग बहुत से रोगों के लिए किया जाता है। क्योंकि यह सेहत के लिए लाभदायक होता है। जैतून के तेल का उपयोग करने के लिए सबसे पहले इस तेल को थोड़ा गर्म कर लें, फिर प्रभावित जगह पर हल्के हाथ से मालिश करें। जैतून के तेल से मालिश करने से मोच से जल्दी आराम मिलता है। इस प्रकिया को दिन में कम से कम चार से पांच बार करें।

 

लौंग के तेल का उपयोग-

जिस तरह लौंग के तेल को दांत से जुड़ी समस्या के लिए उपयोग में लाया जाता है। उसी तरह, यह तेल मोच की समस्या को ठीक करने में भी मदद करता है। क्योंकि इसमें कुछ एनेस्टेथिक गुण मौजूद हैं। जो सूजन और उसके दर्द को कम करने का काम करते हैं। इसके लिए एक या दो चम्मच लौंग के तेल को लें और इसे कुछ देर के लिए छोड़ दें। इसके बाद तेल को हल्के हाथों से प्रभावित जगह पर लगाकर कुछ देर मालिश करें। इस प्रक्रिया से मांसपेशियों के दर्द से आराम मिलता है।

 

टखने की चोट के लिए प्याज का उपयोग-

प्याज में प्राकृतिक तौर पर सूजन विरोधी गुण होता है। यह टखने की चोट, उंगलिया, गठिया के दर्द को कम करता है। प्याज का उपयोग करने के लिए इसको छोटे-छोटे टुकड़े में काट लें। अब इस कटे हुए प्याज को सूती कपडे में लगाकर, प्रभावित जगह पर लगाकर बांध लें और कम से कम दो घंटों के लिए इसे ऐसा ही रहने दें। इस प्रक्रिया को दिन में एक बार जरूर करें।

 

एलोवेरा जेल का उपयोग-

मोच ठीक करने के लिए एलोवेरा जेल का उपयोग किया जाता है। एलोवेरा जेल से मालिश करने पर मोच के दर्द से आराम मिलता है। इसके अलावा एलोवेरा की आयुर्वेदिक दवा खिलाड़ियों के पैरो में मोच आने पर दी जाती हैं। ताकि उन्हें जल्दी आराम मिल सके। यदि आप एलोवेरा की आयुर्वेदिक दवा लेना चाहते हैं तो चिकित्सक से सलाह जरूर लें।

 

मोच का इलाज:

 

आराम-

मोच आने पर अपने प्रभावित जोड़ को आराम दें। कोशिश करें की ठीक होने तक मोच पर दबाव न पड़े। ऐसे में जोड़ को ठीक होने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है।

 

बर्फ-

बर्फ की मदद से सूजन और जलन आदि को कम किया जा सकता है। बर्फ को कभी त्वचा पर सीधे न लगाएं। उसे पहले किसी पतले तौलिया या कपड़े में लपेट लें। फिर प्रभावित जगह पर इसे 20 मिनट तक पहले लगाकर रखें और फिर 20 मिनट तक हटा कर रखें। मोच आने के बाद पहले 24 से 48 घंटों के भीतर जितना हो सके इस प्रक्रिया को बार-बार दोहराते रहें।

 

दबाव-

दवाब की मदद से भी सूजन को कम किया जा सकता है। दरअसल प्रभावित जोड़ को किसी पट्टी के साथ अच्छे से कसकर लपेटने से सूजन को कम किया जा सकता है। लेकिन बहुत अधिक कसकर न लपेंटे। क्योंकि उससे शरीर में खून की सप्लाई भी बंद हो सकती है।

 

हृदय से ऊंचाई पर रखना-

मोच आने पर प्रभावित जोड़ को हृदय के स्तर से ऊंचाई में रखने की कोशिश करें। इसकी मदद से भी सूजन को कम किया जा सकता है। अगर चोट घुटने या टखने में लगी है, तो चोट लगने के 2 दिन बाद तक रोगी को बेड या सोफे पर लेटने की आवश्यकता होती है।

 

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • दर्द, सूजन या जकड़न को 2-3 दिन तक ठीक न होने पर
  • एक हड्डी के क्षतिग्रस्त होने से दूसरी हड्डी के साथ ठीक से काम न कर पाने पर।
  • हड्डियों को आपस में जोड़ने वाले लिगामेंट्स के फट या उखड़ जाने पर।
  • बार-बार मोच आने पर।
  • सीधा हड्डी या जोड़ में अधिक दर्द का अनुभव होने पर।
  • जोड़ के आसपास झुनझुनी या सुन्नपन महसूस होने पर।
  • क्षतिग्रस्त मांसपेशी को बिलकुल भी न हिला पाने पर। क्योंकि ऐसे में मांसपेशी अंदर से पूरी तरह से फट जाती है। जिसके बाद व्यक्ति को तुरंत मेडिकल देखभाल की जरूरत पड़ती है।
Read More
जानें, सूखी खांसी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

Posted 24 May, 2022

जानें, सूखी खांसी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

कफ या खांसी का होना एक आम बात है। जिसका मुख्य कारण मौसम में होने वाला बदलाव है। जिसमें हल्की सर्दी होने पर भी जुकाम के साथ खांसी आने लगती है। सर्दी-जुकाम होने पर नाक, गला आदि बंद हो जाते हैं। जिसमें कई बार सर्दी तो ठीक हो जाती है। लेकिन खांसी लंबे समय तक पीछा नहीं छोड़ती। परिणामस्वरूप खांसते वक्त सांस में तकलीफ और अजीब सी आवाज आने लगती है। यह सभी लक्षण सूखी खांसी (Dry Cough) की ओर संकेत करते हैं। यह खांसी बिना कफ वाली होती है। जो किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। क्योंकि खांसी या सूखी खांसी का होना एक सामान्य संक्रमण है। इसलिए इसे बदलते मौसम का संकेत मानकर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसा करने पर इसके कई दुष्परिणाम देखे जा सकते हैं।

 

सूखी खांसी क्या है?

सूखी खांसी को दूसरे शब्दो में टिकली कफ (Tickly Caugh) और इंग्लिश में ड्राई कफ (Dry Cough) कहा जाता है। यह एक श्वसन तंत्र से जुड़ा संक्रमण है। सूखी खांसी से संक्रमित होने पर कफ या बलगम की मात्रा बेहद कम होती है। जिसका असर व्यक्ति पर तुरंत नहीं दिखता है। लेकिन कुछ दिनों में ही इस खांसी के प्रभाव दिखने लगते हैं। यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्तियों हो सकती है।

 

सूखी खांसी के लक्षण-

यूं तो सूखी खांसी के लक्षण तुरंत नजर नहीं आतें। इन्हें नजर आने में करीब 1 से 2 हफ्ते लग सकते हैं। लेकिन ज्यादातर मामलों में सूखी खांसी यानी ड्राई कफ के लक्षण सर्दी एवं जुकाम जैसे ही होते हैं। इसके अलावा भी सूखी खांसी कुछ अन्य लक्षण हैं। जोकि निम्नलिखित हैं:

 
  • खांसने पर बलगम न आना।
  • गले में कुछ अटका हुआ महसूस करना।
  • गले में हल्का या तेज दर्द होना।
  • सांस लेने में तकलीफ होना।
  • सांस लेने में घरघराहट की आवाज आना।
  • खांसते वक्त या बाद में सूखी उल्टी आना।
  • निगलने में हल्की तकलीफ होना।
  • गले का लगातार सूखा रहना।
  • गर्दन में दर्द का होना।
  • हल्का बुखार आना।
  • सिर में दर्द होना।

क्या होते हैं सूखी खांसी के कारण?

सूखी खांसी निम्न कारणों से हो सकती है। जिसका हमें हमेशा ध्यान रखना चाहिए।

 
  • वायरल संक्रमण होना।
  • धूम्रपान करना।
  • ठंडी, शुष्क हवा में सांस लेना।
  • रासायनिक धुएं या वायु प्रदूषण में सांस लेने से।
  • बार-बार धूल मिट्टी के संपर्क में आना।
  • गले में नमी का कम होना।
  • तापमान में बदलाव होना।
  • किसी बड़े बीमारी जैसे टीबी, अस्थमा, फेफड़ों में कैंसर आदि का होना।

सूखी खांसी होने पर बरतें यह सावधानियां

  • धूम्रपान का सेवन कतई न करें।
  • संक्रमित एवं प्रदूषित वातावरण में जाने से बचें।
  • यदि कोई व्यक्ति इससे संक्रमित है तो वह हमेशा मास्क लगाएं। ऐसा करने से घर के अन्य सदस्यों का इस संक्रमण से बचाव होगा।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • आइसक्रीम, दही, बर्फ के पानी का कतई सेवन न करें।
  • खांसने के बाद उल्टी की समस्या न हो, इसलिए हल्का भोजन करें।
  • तैलीय एवं वसायुक्त भोजन के सेवन से बचें।

सूखी खांसी के घरेलू उपचार-

  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें। गले के दर्द और सूखे बलगम से राहत पाने के लिए चाय और सूप जैसे गर्म तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • नमक युक्त गर्म पानी से गरारे करें। इसके लिए 1 कप गर्म पानी में ½ चम्मच नमक मिलाकर गरारे करें।
  • शहद युक्त मिश्रित चाय शुष्क गले के लिए अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। क्योंकि यह सूखी खांसी एवं गले की अन्य परेशानियों को कम करने में मदद करती है। इसलिए खांसी होने पर यह चाय (शहद युक्त मिश्रित चाय) कारगर साबित होती है। इसके अलावा शहद, अनार का रस और अदरक का रस बराबर मात्रा में मिलाकर प्रतिदिन 3-4 बार सेवन करें। ऐसा करने से सूखी खांसी में आराम मिलता है।
  • हींग और अदरक का सेवन करने से भी खांसी से आराम मिलता है। इसके लिए एक चुटकी हींग को भूनकर आधा चम्मच अदरक के पेस्ट के साथ मिक्स करें। अब इस मिश्रण को चाटें। ऐसा करने से सूखी खांसी के साथ होने वाले सिरदर्द से में राहत मिलती है।
  • सेब का सिरका सूखी खांसी के लिए अच्छी दवाओं में से एक है। क्योंकि इसमें एसिटिक एसिड होता है। जिसमें एंटीमाइक्रोबियल होता है। जो बैक्टीरिया और वायरस संक्रमण से लड़ता है।
  • सूखी खांसी एवं गले में दर्द के लिए काली मिर्च से बनी चाय का सेवन करना अच्छा होता है। क्योंकि काली मिर्च में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है। जो एक प्राकृतिक दर्द निवारक होता है। जो गले की खराश और दर्द से राहत दिलाता है।
  • तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो बदलते मौसम में शरीर को होने वाली दिक्कतों से बचाने का काम करते हैं। तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को बढ़ाती है।
  • हल्दी में एंटीबैक्टीरियल और एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो खांसी, गले में दर्द और सर्दी-जुकाम से राहत दिलाने का काम करते हैं। ऐसे में सूखी खांसी होने पर एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पिएं।
  • आयुर्वेद के अनुसार नींबू और शहद दोनों में ही इम्यूनिटी बढ़ाने वाले गुण पाए जाते हैं। इसीलिए सूखी खांसी होने पर नींबू और शहद के उपयोग की सलाह दी जाती है। क्योंकि यह मिश्रण शरीर को डिटॉक्स करता है और इम्यूनिटी को बढ़ाता है। इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस और शहद मिलाकर सेवन करें।
  • धनिया के बीज बैक्टीरिया से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच धनिया पाउडर, थोड़ा-सा दूध और चीनी डालकर चाय बनाकर रोगी को दिन में दो बार पिलाएं। इस प्रकार सूखी खांसी या अन्य तरह के बैक्टीरियल इन्फेक्शन में धनिया चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है।
  • लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो सूखी खांसी को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा लहसुन में प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय और संक्रमण से बचाने वाले एंटीमाइक्रोबियल गुण भी पाए जाते हैं। इसके लिए लहसुन की 2 से 3 कलियों को अपने दांतों के बीच रखकर चूसने से फायदा होता है।
  • पारंपरिक चिकित्सा पद्धति में प्याज का उपयोग अस्थमा, ब्रोंकाइटिस के अलावा सूखी खांसी के लिए भी किया जाता रहा है। क्योंकि प्याज में एंटी-इन्फ्लामेट्री, एंटी-एलर्जिक, एंटी-कार्सिनोजेनिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह सभी गुण बैक्टीरिया को नष्ट करते हैं। इसके लिए प्याज को भूनकर शहद के साथ या प्याज के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर सेवन करना चाहिए।
Read More
क्रोन (क्रोहन) रोग क्या है? जानें, इसके लक्षण, कारण और उपचार

Posted 17 March, 2022

क्रोन (क्रोहन) रोग क्या है? जानें, इसके लक्षण, कारण और उपचार

जीवन में भागदौड़ और गलत लाइफ स्टाइल की वजह से हम और आप अपनी सेहत और खासकर खाने पीने की चीजों पर ध्यान नहीं दे पाते। जिससे शरीर में कई प्रकार के पेट संबंधी बीमारियां उत्पन्न  होती हैं। इन्हीं बीमारियों में से एक क्रोहन भी है। क्रोहन रोग पेट में दर्द, सूजन, जलन, दस्त या इस ब्लॉग में बताए गए अन्य लक्षणों के साथ शरीर में दाखिल हो सकता है। इसलिए यह अति आवश्यक है कि इस बीमारी के बारे में सही जानकारी रखी जाए। आइए, इस ब्लॉग के माध्यम से जानते है क्रोहन रोग के कारण, लक्षण और इससे बचने के लिए अपने जीवन शैली में क्या-क्या बदलाव किया जा सकता है। 

 

क्रोहन रोग क्या है?

क्रोहन रोग (Crohn’s disease) एक दीर्घकालिक (लंबे समय तक) चलने वाली आंत से जुड़ा इंफ्लामेटरी रोग (Inflammatory Bowel Disease) है। जिसकी गिनती क्रोनिक रोग की श्रेणी में होती है। इस रोग के कारण पाचन तंत्र की परत में सूजन और लालिमा हो जाती है। यह रोग सूजन और जलन के साथ व्यक्ति के डाइजेस्टिव ट्रैक्ट (Digestive Tract) को प्रभावित करता है। इसके अलावा यह सूजन पाचन तंत्र के किसी भी हिस्से (मुंह से लेकर मलद्वार तक) को प्रभावित कर सकती है। आमतौर पर यह छोटी आंत (इलियम) या बड़ी आंत (कोलन) को प्रभावित करती है।

 

पाचन तंत्र शरीर का वह भाग है, जो भोजन को पचाने का काम करता है। इसमें मुंह, पेट, और आंतें शामिल होती हैं। यदि पाचन तंत्र सामान्य रूप से काम कर रहा होता है। तो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कीटाणुओं और खराब कोशिकाओं को मार देती है। लेकिन कोशिकाओं को मारने के बजाय यदि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करना शुरू कर देती है। तो इसे स्वप्रतिरक्षी प्रतिक्रिया (autoimmune response) कहा जाता है। क्रोहन रोग इसी कारण होता है। इसमें खराब कोशिकाएं पाचन तंत्र की पतली परत पर हमला करती हैं। जिससे आंतरिक सूजन हो जाती है। साथ ही घाव यानी अल्सर (ulcers) और रक्तस्राव भी हो सकता है।

 

यह बीमारी कितनी सामान्य है?

क्रोहन रोग पुरुषों और महिलाओं या किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। यह बीमारी ज्यादातर 15 से 35 की उम्र के लोगों में देखने को मिलती है। लेकिन इसके कारणों को नियंत्रित करके इस बीमारी से छुटकारा पाया जा सकता है।

 

क्रोहन रोग के लक्षण-

क्रोहन रोग के बहुत से लक्षण होते हैं। लेकिन सभी लक्षण केवल एक ही व्यक्ति में देखने को नहीं मिलते हैं। यह लोगों में अलग-अलग नजर आते हैं जोकि निम्न हैं;

 
  • आंत में दर्द एवं सूजन होना।
  • आंतो में अल्सर होना।
  • भूख कम लगना।
  • सीने में जलन होना।
  • कब्ज होना।
  • मल में रक्त आना।
  • अधिक थकावट महसूस करना।
  • एनीमिया ( शरीर में खून की कमी) रोग होना।
  • वजन कम होना।
  • शौच के बाद भी पेट का साफ न होना।
  • पेट में भारीपन महसूस करना।
  • पेट में मरोड़ या दर्द होना।
  • मुंह में छाले पड़ना।
  • सिर में दर्द होना।
  • बदहजमी होना।
  • त्वचा में मुंहासे और फुंसियों का होना।
  • पेट फूलना या दस्त होना।
  • बच्चे का विकास न हो पाना।
  • पित्तनलिकाओं में सूजन आना।
  • गठिया, जोड़ों में दर्द होना।

क्रोहन रोग होने के कारण-

क्रोहन रोग होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। जिसका सटीक कारण अब तक ज्ञात नहीं हुआ हैं। लेकिन इम्यून सिस्टम, वायरस और बैक्टेरिया इसके मुख्य कारण माने जाते हैं। यह एक प्रकार का प्रतिरक्षित रोग होता है। जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली खुद की आंत पर हमला करती है। जिससे सूजन, दर्द आदि उत्पन्न होती है। इसके अलावा क्रोहन रोग होने की समस्या मुख्य रूप से हमारी जीवनशैली और खानपान से जुड़ी होती है। आइए चर्चा करते हैं इन्हीं कमियों के बारे में-

 
  • अधिक शराब एवं धूम्रपान का सेवन करना।
  • फाइबर युक्त भोजन का सेवन न करना।
  • तरल पदार्थों का कम सेवन करना।
  • ज्यादा मीठा और फैटी फ़ूड खाना।
  • सही समय पर भोजन न करना।
  • ज्यादा तेल एवं मिर्च मसाले का सेवन करना।
  • एस्पिरिन और एंटी इंफ्लेमेटरी दवाओं का अधिक उपयोग करना।
  • शारीरिक श्रम की कमी होना।
  • हेल्थ सप्लीमेंट्स दवाओं का अधिक सेवन करना।
  • आनुवंशिकता (पारिवारिक रोग संबंधी) कारक-  यदि माता-पिता, भाई-बहन या अन्य पारिवारिक सदस्य पहले से क्रोहन रोग से पीड़ित है। तो अन्य सदस्यों में भी यह रोग विकसित होने की संभावना काफी बढ़ जाती हैं।
 

क्रोहन रोग होने पर जीवन शैली में बदलाव और घरेलू उपाय-

  • ताजे फल एवं सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें।
  • अधिक फाइबर युक्त आहार जैसे फलियां और साबुत अनाज का सेवन करें।
  • दो या तीन बार अधिक मात्रा में भोजन करने की बजाय पांच या छः बार कम मात्रा में भोजन करें।
  • लक्षणों को बदतर करने वाले आहार के सेवन से बचें।
  • प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • चाय, कॉफी, धूम्रपान आदि का सेवन कम करें।
  • शराब के सेवन से बचें।
  • तले-भुने एवं जंक फूड के सेवन से बचें।
  • भोजन को चबाकर एवं धीरे-धीरे करें।
  • भोजन करते समय पानी न पिएं।
  • भोजन के उपरांत तुरंत न लेटें।
  • नियमित रूप से सुबह टहलें और व्यायाम करें।

क्रोहन रोग के परिक्षण-

  • ब्लड टेस्ट।
  • अल्ट्रासाउंड।
  • स्टूल टेस्ट।
  • एक्स-रे।
  • सिटी स्कैन एवं एमआरआई स्कैन।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण नजर आए, तो अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें;

  • पेट में लगातार दर्द बना रहने पर।
  • पॉटी से खून आने पर।
  • एक-दो दिन से अधिक समय तक बुखार बने रहने पर।
  • तेजी से वजन घटने पर आदि।
Read More
Amazing Benefits of Green coffee

Posted 17 March, 2022

Amazing Benefits of Green coffee

Today tea and coffee have become an important part of our daily routine without which many people cannot even feel fresh. This is the reason many people start their day with tea and coffee to make themselves feel fresh because it is believed that the consumption of these drinks brings freshness and energy to the body.

 

But where people earlier used to drink them to bring freshness to the body and to taste, today most people consume them for health benefits for which many options are available in the market in the form of herbal and green tea. One among these is Green Coffee as green coffee is a product, consumption of which is good for health because the nutrients and antioxidants present in it are beneficial for physical health, that is why many people consume it for weight loss and for other health purposes.

 

What is Green Coffee?

Green coffee is actually a natural form of coffee because the natural form of coffee beans is green which is roasted at different temperatures and then ground to make normal coffee. In this process, the oil comes out from the coffee beans, as a result, the colour of the coffee changes from green to light or dark brown and the taste is slightly enhanced but this process destroys the antioxidant and natural medicinal properties of coffee. When coffee seeds are ground and made into powder without roasting, it is called green coffee.

 

Benefits of Green Coffee

 
To increase the energy level-

According to the report published on the site of NCBI (National Center for Biotechnology Information), drinking green coffee improves alertness and performance of daily activities. Apart from this, consuming caffeinated beverages also causes positive changes in cognitive activities that's why green coffee is considered an energy-boosting beverage.

 
For the heart-

Green coffee is good for heart health. According to research published on the NCBI website related to green coffee, chlorogenic acid has been found in green coffee which contains antioxidant properties. These antioxidant properties work to remove heart diseases. Apart from this, some components are found in green coffee which is beneficial for health in many ways.

 
For diabetes-

According to experts, green coffee contains elements such as quinic acid, chlorogenic acid, trigonelline and lignan secoisolericinsol which help in reducing blood sugar by improving glucose metabolism in the body. Apart from this, regular consumption of green coffee also helps in reducing the risks of type 2 diabetes by increasing the activation of insulin in the body. Based on this fact, consuming green coffee is a good option to reduce diabetes.

 
For blood pressure-

Green coffee proves helpful in reducing the problem of blood pressure. According to the research report published on the NCBI site, chlorogenic acid has an important place among the high polyphonic substances found in green coffee because chlorogenic acid, rich in antioxidant properties, proves helpful in reducing the problem of blood pressure.

 
To lose weight-

Caffeine is found in green coffee which increases the process of making energy from food (metabolism) in the body. This metabolism helps in reducing weight. Apart from this, the heat generated from this metabolism also works to control obesity, that's why green coffee is considered a good way to lose weight.

 
For stress-

Experts believe that the caffeine present in green coffee plays a positive role in reducing stress because its consumption increases enzymes called alpha-amylase in the body which helps in relieving stress. Apart from this, the fear of going into depression for women is also reduced by the properties of green coffee.

 
To bring energy to the body-

Chronological acid is found in green coffee which works to keep the metabolism of the body right. Due to the right amount of metabolic rate, the body's positive energy remains for a long time. As a result, the mind of the person remains good.

 
For skin-

The caffeine present in green coffee is able to work at the cell level by absorbing well into the skin due to which its main component works to protect the skin from the ill effects of ultraviolet radiation. Apart from this, caffeine also helps in preventing the accumulation of fat in the skin cells. On this basis, green coffee proves beneficial for the skin. Therefore it is also used in many cosmetic products.

 
For Alzheimer's and Dementia-

According to the report published on the site of the National Institutes of Health (NIH), Alzheimer's is a common mental illness. Under this, the ability to remember and think gradually starts decreasing due to which a mental disorder called dementia also starts to arise. Since the caffeine present in green coffee works to improve cognitive (mental) health by stimulating the nervous system, green coffee is an effective beverage in protecting against Alzheimer's and dementia.

 
For Parkinson's-

Parkinson's is a type of brain disease that affects the central nervous system due to which the nerve cells present in the brain are not able to manufacture enough amount of an element called dopamine. As a result, the person has great difficulty in walking and balancing. This condition is called Parkinson's disease.

 

According to a report published on the site of NCBI (National Center for Biotechnology Information), green coffee has neurostimulator and neuroprotective properties that stimulate the nervous system. Caffeine also has a positive effect on the central nervous system due to which it is considered good for the treatment of Parkinson's disease.

 

Side effects of Green Coffee

  • Green coffee is rich in caffeine. Therefore, excessive consumption of it can cause problems like insomnia, restlessness, upset stomach, nausea, vomiting, heart disease.
  • If the amount of caffeine present in green coffee increases in the body, problems like stress, bleeding disorders, diarrhoea and high blood pressure can arise.
  • Since a good amount of chlorogenic acid is found in green coffee, excessive consumption of it can also cause heart disease.
  • Excessive consumption of green coffee can also cause problems like rapid heartbeat and headache.
Read More
What is Neutropenia? Know its Causes, Symptoms and Treatment

Posted 14 December, 2021

What is Neutropenia? Know its Causes, Symptoms and Treatment

It is common to have an infection but when the level of white blood cells (neutrophils) in the body becomes very low due to which the risk of getting infection increases. This condition of the blood is called neutropenia. Without enough neutrophils, the human body cannot fight bacteria due to which the body is surrounded by many diseases.

 

What is Neutrophils?

The main reason for any kind of infection in the body is the entry of some kind of bacteria or virus into the body. In this condition, the white blood cells present in the body protect the person from that virus or bacteria. Neutrophils are a type of white blood cell that protects the person from disease occurring in the body.

 

Neutrophils are a common type of white blood cell that plays an important role especially in fighting infections caused by bacteria. The abnormal form of neutrophils in the body is called neutropenia. On this basis, it would not be wrong to say that neutropenia is a disease that occurs in humans due to an abnormally low number of neutrophils. Also, patients suffering from it are susceptible to bacterial infection.

 

Causes of Neutropenia

Chemotherapy or radiation therapy-

Due to chemotherapy and radiation therapy during cancer treatment, neutropenia cells present in the blood begin to get damaged. As a result, the person suffers from neutropenia.

 

Infection by bacteria or virus-

Most of the cases are due to viral infection but apart from this, fungal and bacterial infections can also cause neutropenia. These mainly include malaria, tuberculosis, AIDS etc.

 

Congenital disease-

Some bone marrow diseases that occur from birth are also caused by a lack of neutrophils. These mainly include Kostmann syndrome etc.

 

Bone marrow diseases-

Many diseases related to bone marrow also cause neutropenia. These include leukemia, myelodysplastic syndrome, myelofibrosis and aplastic anemia, etc.

 

Hypersplenism-

As the spleen enlarges, it begins to damage neutrophil cells that cause neutropenia.

 

Autoimmune diseases-

Autoimmune diseases, by themselves or in combination with some other kind of problem, start damaging neutrophil cells. Apart from this, the consumption of some medicines also damages neutrophil cells.

 

Vitamin deficiency-

The lack of vitamin B12 or folate in the human body is also a cause of neutropenia because its deficiency causes megaloblastic anaemia.

 

Other causes of neutropenia-

  • Irregular diet.
  • Lack of nutrients in the body.
  • On taking more drugs.
  • Because of many medical conditions.

Symptoms of Neutropenia

In most cases, no symptoms develop from neutropenia. It is usually detected only after taking a blood test, especially for those who are being treated with chemotherapy. These people are at higher risk of getting this disease that's why they should keep getting their blood checked regularly. Apart from this, many harmful symptoms of neutropenia are seen due to exposure to infection. Let us discuss these symptoms-

 
  • Having a high fever.
  • Having pneumonia.
  • Sinus infection.
  • Ear infection.
  • Sores or swelling in the mouth and gums.
  • Skin deterioration.
  • Burning in urination.
  • Difficulty in breathing.
  • Deterioration of mental balance.
  • Abdominal pain, vomiting and diarrhoea etc.

Types of Neutropenia

Severe congenital neutropenia-

This type of neutropenia is called Kostmann syndrome. In this condition, the level of neutrophils is very low. In most cases, it is seen in infants and young children.

 

Cyclic neutropenia-

This is a type of neutropenia caused by a lack of neutrophils. The variation is found in its 21-day cycle. It counts below normal. The period of cyclic neutropenia lasts only a few days. After this, the cycle resets again.

 

Autoimmune neutropenia-

In this type of neutropenia, the human body makes antibodies that fight themselves with neutrophils (a type of white blood cell). These antibodies help kill neutrophils. This causes neutropenia.

 

Idiopathic Neutropenia-

It can develop and affect anyone at any point in life. The main cause of idiopathic neutropenia is not yet known.

 
  • Take these precautions in case of neutropenia-
  • Take special care of cleanliness.
  • Avoid the consumption of oily and fatty food.
  • Avoid going in infectious and polluted environments.
  • Wash hands thoroughly with soap before eating food.
  • After using the washroom, take special care of handwash.
  • Always cover the mouth and nose with a handkerchief or tissue when coughing or sneezing.
  • Eat only properly cooked hot food.
  • Avoid drinks and foods from outside stores.
  • Use boiled water daily.

Home remedies to increase White blood cells

Garlic is beneficial-

Garlic is hot and natural antibiotic with effect. Therefore, grind 5 to 7 cloves of garlic and fry it in ghee and eat it after mixing rock salt. By doing this, it removes the deficiency of hemoglobin due to which the number of neutrophils (white blood cells) remains normal. As a result, the body is able to fight bacteria and boosts immunity. Apart from this, the consumption of garlic also helps in lowering blood pressure and the hardening of blood arteries.

 

Eat Broccoli-

Elements like phytonutrients found in broccoli detox the body and prevent many diseases from occurring. Apart from this, broccoli is considered a good source of iron. Therefore, the consumption of broccoli works by making red blood cells in the body and delivering oxygen to different parts of the body. It also helps in purifying the blood due to which the number of neutrophils (white blood cells) is maintained in sufficient quantity in the body. Therefore, consuming broccoli is good for health.

 

Turmeric and dry ginger-

Sonth means dry ginger which has antibacterial properties. This property eliminates the bacteria that cause infection in the body. Apart from this, gingerol and capsaicin are found in ginger which provides better health to the body. Therefore, the consumption of dry ginger also provides protection from diseases like neutropenia.

 

Red capsicum-

Red capsicum is a good source of vitamin C and carotene. It increases the level of haemoglobin in the body and boosts the immune system. Apart from this, the vitamin C and carotene present in it help in keeping the eyes and skin healthy.

 

Basil decoction-

Tulsi has antioxidant properties, which work to protect the body from the problems caused by the changing season. Tulsi enhances immunity and also protects the body from infection-causing bacteria.

 

Consumption of foods rich in folic acid and vitamins-

The body needs folic acid to make healthy red blood cells. Also, vitamin 'A' protects the body from infection. In such a situation, a deficiency of both of these can cause neutropenia or white blood cell deficiency. Following are some sources that are rich in folic acid and vitamins which we should consume regularly-

 
  • Dark yellow fruits, green leafy vegetables and citrus fruits are good sources of vitamins A and C.
  • Groundnuts, mushrooms, bran flour, millets, pulses, dry fruits, jaggery etc. are good sources of folic acid.
  • Eggs, meat, fish etc. are good sources of folic acid.

Treatment of Neutropenia

The treatment of neutropenia depends on the cause. The infection should be treated on that basis. This leads to the development of neutropenia. Based on the severity and form of the disease, the doctor treats it. During the treatment, the doctor lays the main emphasis on strengthening the immune system of the patient. Along with this, medicines like antibiotics and vitamins are used to strengthen immunity from drugs. Using these tests the doctor treats neutropenia.

Read More
सिर में जूं होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

सिर में जूं होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

जूं छोटे व बिना पंखों वाले परजीवी कीट होते हैं। यह बालों के बीच रहते हुए, सिर की त्वचा से खून चूसते हैं। सिर में जूं होना एक आम समस्या है। यह दिक्कत विशेषकर 4-11 वर्ष के स्कूली बच्चों में ज्यादा पाई जाती हैं। यह नुकसानदेह नहीं होती किन्तु लंबे समय तक बालों में रह सकती है। इनका अगर इलाज न किया जाए तो इनसे निपटने में काफी परेशानी होती है। जूं संक्रामक होती हैं और एक से दूसरे में तेजी से फैलती हैं। कभी-कभी इनसे छुटकारा पाना बेहद ही मुश्किल होता है। लेकिन जूं खतरनाक नहीं होती हैं। बच्चों के सिर की त्वचा पर इनके काटने या खून चूसने से खुजली व संक्रमण हो सकता है। लेकिन यह किसी बीमारी का कारण नहीं बनती।

 

जूं परजीवी, मनुष्य के शरीर में पैदा होती हैं। आमतौर पर यह बालों में ही पाए जाती हैं। इनका शरीर लंबा और पंखहीन होता है। इनके एंटीना के चार भाग होते हैं। सिर छोटा और मुंह भेदक होता है। यह अपने मुंह से त्वचा में छेद करके खून पीती हैं। जब यह खून पीती हैं तो उस जगह पर खुजली होने लगती है। यह शरीर में छेद करते समय चेतनाशून्य पदार्थ (संवेदना शून्य) छोड़ती हैं। जिसके कारण जब यह काटती हैं तब दर्द महसूस नहीं होता है। यह ज्यादातर लम्बे बालों वाले लोगों में साफ-सफाई की कमी की वजह से हो जाती हैं। एक व्यस्क जूं का आयुकाल पोषक त्वचा के ऊपर 30 दिनों का होता है। इस समय मादा जूं करीब 90 अण्डे देती हैं तथा 7-10 दिन के अन्दर इन अण्डों में से और जूं निकल आती हैं। और अगले 10 दिनों में यह व्यस्क जूं के रूप में परिवर्तित हो जाती हैं। इसी तरह यह प्रक्रिया निरंतर चलती रहती हैं।

 

सिर में जूं होने के लक्षण:

 

सिर में खुजली होना -

सिर की त्वचा में खुजली होना, जूं होने का आम लक्षण माना जाता है। हालांकि केवल सिर में खुजली होने को इस समस्या से जोड़कर नहीं देखा जाता। इसके अलावा गर्दन और कान में होने वाली खुजली भी इसके आम लक्षण है। जुओं की लार से सिर की त्वचा पर होने वाली प्रतिक्रिया से एलर्जी व खुजली की समस्या होती है। जब किसी व्यक्ति को पहली बार संक्रमण होता है तो हो सकता है कि उन्हें शुरू के दो से छह सप्ताह तक खुजली हो ही न। कई बार जुओं को सर की त्वचा तक उतरने और खुजली पैदा करने में कुछ सप्ताह तक लग जाते हैं।

 

बालों में जूं के अंडे होना-

चिपचिपे बालों में जूं के अंडे चिपक जाते हैं। जूं के नए अंडों को देख पाना बेहद ही मुश्किल होता है। क्योंकि यह बहुत छोटे हैं। कान के आस-पास और गर्दन की हेयरलाइन में यह अंडें पाए जाते हैं। वहीं, जुओं के खाली अंडे को देख पाना आसन होता है। क्योंकि वह रंग में हल्के होते हैं और सिर की त्वचा में आसानी से दिख जाते हैं।

 

जुओं के चलने से होने वाली परेशानी-

लोग अक्सर बालों या सिर पर इनके चलने या रेंगने से काफी परेशानी महसूस करते हैं।

 

बालों में जूं होने के कारण

किसी व्यक्ति के बालों में कई तरह से जूं फैलती हैं। बालों में जूं होने के निम्न कारण होते हैं -

 
  • पहले से ही जूं वाले व्यक्ति के साथ संपर्क में आना (जैसे- स्कूल या खेल गतिविधियों में, घर या शिविर के दौरान व्यक्तिगत संपर्क होना सामान्य है)।
  • जुओं से पीड़ित व्यक्ति के कपड़े पहनना जैसे-टोपी, स्कार्फ, कोट, खेल की यूनिफॉर्म या हेयर रिबन।
  • पीड़ित व्यक्ति की कंघी, ब्रश या तौलिए का प्रयोग करना।
  • एक ही बिस्तर, सोफा, तकिया, कालीन का इस्तेमाल करना या जुओं वाले जानवरों के संपर्क में आना।
  • छोटे बच्चों में स्कूल के उनके साथियों से (3-11 वर्ष की आयु वाले) या परिवार के किसी सदस्य के संपर्क में आने से भी यह समस्या हो जाती है।
  • लड़कों के मुकाबले लड़कियों में व पुरूषों की तुलना में महिलाओं में जुओं की समस्या अधिक देखी जाती है।
  • सीधे संपर्क के माध्यम से जुएं फैलती हैं। यह एक से दूसरे के सिर में कूदकर या उड़ कर नहीं आती हैं। जुओं की समस्या से पीड़ित व्यक्ति के सिर के संपर्क में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप में आने से यह सिर में हो जाती हैं। जुएं कपड़ों, टोपी और हेयरब्रश में कम अवधि के लिए जीवित रहती हैं। लेकिन वस्तुओं से संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है।
  • जिन वयस्कों के घर में बच्चों को जुओं की समस्या होती है। ऐसे में घर के बड़ों को भी जूं होने का खतरा बना रहता है।

सिर की जुओं को दूर करने के घरेलू उपचार-

 

गीले बालों में जूं कंघी करना -

गीले बालों पर कम चौड़े दांतों वाली कंघी से बालों को ऊपर से नीचे की ओर लाकर जुओं को आसानी से दूर कर सकते हैं। इस प्रक्रिया में बाल पूरी तरह से गीले होने चाहिए। इस प्रक्रिया में पूरे बालों को कम से कम दो बार कंघी जरूर करें। इस तरीके को हर दो या तीन दिन में दोहराते रहें। ऐसा करने से करीब दो सप्ताह के अंदर सिर से सारी जूं दूर हो जाएंगी।

 

जूं निकालने में फायदेमंद है टीट्री ऑयल और सौंफ तेल-

प्राकृतिक पौधों से बने तेलों के इस्तेमाल से भी जुओं को नष्ट किया जाता है। जैसे- टीट्री ऑयल या सौंफ का तेल । इन्हें बालों पर लगाकर 7-8 घण्टे के लिए रहने दें। फिर बालों को धोकर कंघी करें।

 

जूं निकालने में लाभदायक है नीम-

नीम की पत्तियों का पेस्ट बनाकर बालों पर लगाएं और सूख जाने पर धो दें। इससे जुएं मर जाती हैं।

 

जूं निकालने में असरदार है नींबू और अदरक का पेस्ट-

दो चम्मच नींबू के रस में एक चम्मच अदरक का पेस्ट मिलाएं और इसको अपने सिर में 20 मिनट के लिए लगा रहने दें। सूख जाने पर ठण्डे पानी से धो लें। यह प्रक्रिया को हफ्ते में दो बार करने से बेहतर परिणाम मिलता है।

 

जूं निकालने में कारगर है नारियल का तेल और सेब का सिरका-

नारियल का तेल और सेब का सिरका इनको आपस में मिलाकर बालों में लगाएं। कुछ घंटे बाद बालों को धोकर कंघी करें। नारियल का तेल बालों के लिए अच्छा होता है। लेकिन जूं मारने के उपाय के रूप में इस तेल में सेब का सिरका मिलाकर बालों में लगाने से जूं आसानी से निकल जाती हैं।

 

जूं निकालने में फायदेमंद लहसुन और नींबू का पेस्ट-

लहसुन के पेस्ट में नींबू का रस मिलाकर बालों पर लगाएं और एक घण्टे बाद बालों को धोने लें। ऐसा करने से जूं आसानी से मरकर निकल जाती हैं। यानी लहसुन को जूं की दवा के रूप में प्रयोग किया जाता है।

 

 सिर में जूं का इलाज-

  • सिर की जुओं को दूर करने या इनका सफाया करने के लिए सिर की त्वचा पर लगाने वाली दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है। जुओं का इलाज करने के सबसे आम तरीकों में औषधीय क्रीम, लोशन या शैंपू का प्रयोग किया जाता है। जिससे जूं आसानी से मर जाती हैं।
  • ज्यादातर जुओं के अंडे आपके कपड़ों में रहते हैं। इसलिए इनको दूर करने के लिए पहने हुए कपड़ों को गर्म पानी में 5 से 10 मिनट तक भिगोकर साफ करना चाहिए। यह तरीका बड़ी जुओं को मार देता है और उनके अंडों को भी खत्म कर देता है। शरीर में जूं केवल उस जगह पर रह पाती हैं जहां पर इनको पोषण मिलता है। वहीं, यह शरीर की साफ-सफाई और कपड़ों को नियमित रूप से धोने से यह दूर हो जाती हैं।
  • स्कूल या डे केयर सेंटर जाने वाले बच्चों को यह समझाया जाना चाहिए कि आपस में एक दूसरे के साथ सर से सर न जोड़े (हेड टू हेड कॉन्टेक्ट) ताकि जुएं एक से दूसरे में न फैले।
  • सिर से सभी जूएं खत्म हो जाने के बाद भी खुजली रह सकती है। यह उनके काटने से हुई एलर्जी की प्रतिक्रिया होती है। इसको दूर करने के लिए कॉर्टिसोन (Corticosteroid) क्रीम या कैलामाइन (Calamine) लोशन को इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

जूं होने पर डॉक्टर से मिलने की आवश्यकता नहीं होती अपितु व्यक्तिगत साफ-सफाई का ध्यान रखना चाहिए। इसके साथ घरेलू उपचारों, औषधीय तेल, शैम्पू और जीवनशैली में बदलाव लाकर जुओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

 
Read More
Chickenpox- Causes, Symptoms and Home remedies

Posted 14 December, 2021

Chickenpox- Causes, Symptoms and Home remedies

Chickenpox is an infectious disease caused by a type of virus. In the initial stages, the symptoms of chickenpox are seen on the stomach, back and face of the body but after some time it spreads easily to all parts of the body. Another reason for this is also coming in contact with an infected object or infected person. When a person is infected with chickenpox, pimples-like rashes start appearing all over the body due to which there is a lot of itching and pain in the body. Generally, chickenpox can happen to a person of any age but most commonly young children are at higher risk of getting this disease. There is a vaccine available to prevent this disease but if some things are taken care of then this disease can be avoided. Let us know about it through this blog.

 

What is Chickenpox?

There are two types of pox. The first is called chickenpox and the second is called smallpox. This is a serious disease. When a person is infected with smallpox, the rash appears all over the body. These rashes also cause pain and itching. In this disease, the patient feels weakness and gets a fever.

 

Difference between smallpox and chickenpox

In both types of pox, the rash comes out in all parts of the body but the main difference between them is that the grains of the smallpox are bigger and those of the chickenpox are smaller. Apart from this, pus is filled in the pimples of smallpox which burst in the middle during treatment and then dry up. Along with this, the crust also starts coming off from the skin but the grains of the chickenpox is much smaller than that of the smallpox. There is no pus in its grains. As a result, it dries quickly. Even the crust does not come off of these. Smallpox is more common in children than adults. Therefore, whenever a person takes home treatment of chickenpox, they should first know the identity of the disease.

 

Symptoms of chickenpox

The most important identification of chickenpox is smallpox - it causes red coloured rash, itching, burning in the skin, pus that starts coming out of the rash on all parts of the body. Apart from this, there are some other symptoms of chickenpox as well. Let's talk about other symptoms of chickenpox-

 
  • High fever accompanied by severe pain in the back or joints.
  • Sharp shivering (cold) feeling.
  • Pain in muscles.
  • Having a headache
  • Frequent dry throat.
  • Frequent vomiting and nausea.
  • Sore throat, cough.
  • Runny nose, etc.

Causes of chickenpox

The primary cause of chickenpox is a virus called Varicella zoster (VZV). Apart from this, chickenpox is actually a contagious disease. If a healthy person comes in contact with an infected child or adult, then they also become infected with this infection. Apart from this, when an infected person shakes hands, coughs or sneezes on another person, droplets of variola zester virus (VZV) enter the body of the other person through indirect contact in the air or through direct contact. Apart from this, people who have not been vaccinated against chickenpox are most at risk of getting the infection.

 

Take these precautions if you have chickenpox

  • Avoid coming in contact with an infected person.
  • Keep yourself clean to avoid any kind of infection.
  • Keep skin dry and clean to avoid viral infection.
  • Use only cotton clothes.
  • If small children have chickenpox, tie a cloth in their hands. So that he could not scratch the body.
  • Drink a sufficient amount of water.
  • Eat nutritious food like pulses, gram, milk, green vegetables and fruits and flowers due to which the immunity of the body remains strong.
  • Do not consume potatoes, brinjal, lentils, red chillies, kachalu, spices etc.

Home remedies of Chickenpox

  • Sesame oil has a cooling effect. Thus, it acts as an antioxidant. This oil has anti-bacterial properties which protect against infection by removing bacteria. Sesame oil also helps in relieving pain because it has an anti-nociceptive (pain-reducing) effect. Therefore, applying this oil to the body provides relief in the case of chickenpox.
  • Taking bath by boiling neem leaves in water and grinding neem leaves with water and applying it to the infected areas reduces the chances of spreading chickenpox. Also, it gives relief from pain.
  • Carrot and coriander leaves both have a cooling effect. In such a situation, their mixture works as a good anti-oxidant. For this, cut some carrot pieces and coriander leaves and boil them in water. Boil it till it becomes half cooked, then drink it. Use this once a day. Doing so reduces the chances of spreading chickenpox. Also, the wounds start drying soon from the inside.
  • Grind 3-4 black peppercorns in a spoonful of onion juice. Now drink this mixture 2-3 times a day. By doing this, both smallpox and chickenpox are cured.
  • There is severe itching in the body due to chickenpox. To avoid this, boil oat flour mixed with water. Now put this water in the bathtub and take a bath. Doing this gives instant relief from itching.
  • Honey has antibiotic properties which help in getting rid of any kind of infection present in the body. Therefore, if there is smallpox, apply pure honey to the body. Do this process 2-3 times a day.
  • Baking soda helps to remove the infection by healing the wound because it has antibacterial properties. For this, mix half a teaspoon of baking soda in water, soak a clean cloth in it and apply it to the body. By doing this, itching and red rash caused by chickenpox end quickly.
  • Taking a bath by adding vinegar to the bathwater gets rid of itching caused by chickenpox.
  • Cook green peas in water. Now apply this water to the body. By doing this, itching and red rash caused by chickenpox end quickly.
Read More
निमोनिया के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

निमोनिया के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

निमोनिया फेफड़ों में होने वाला संक्रमण है। इसके अंतर्गत एक या दोनों फेफड़ों के वायु के थैलों (कूपिका) में द्रव या मवाद भर जाती है। जिससे बलग़म या मवाद वाली खांसी, बुखार, ठण्ड लगना और सांस लेने में तकलीफ होती है। निमोनिया मुख्य रूप से विषाणु या जीवाणु के संक्रमण के कारण होता है। यह बैक्टीरिया, वायरस अथवा पेरासाइट्स के कारण भी हो सकता है। इसके अलावा निमोनिया सूक्ष्म जीव, कुछ दवाओं, और अन्य रोगों के संक्रमण से भी होता है। निमोनिया एक गंभीर बीमारी है। सही समय पर लक्षणों की पहचान कर उनका उपचार शुरू नहीं करने पर यह बीमारी गंभीर रूप ले सकती है। यह शिशुओं, युवा, 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोग, स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए ज़्यादा हानिकारक होता है। अधिकांश प्रकार के निमोनिया संक्रामक होते हैं। दोनों वायरल और बैक्टीरियल निमोनिया छींकने या खांसने से अन्य लोगों में फैल सकते हैं। लेकिन कवक निमोनिया ऐसे नहीं फैलता।

 

12 नवंबर को पूरी दुनिया में वर्ल्ड निमोनिया डे (World Pneumonia Day) मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मकसद लोगों को निमोनिया के बीमारी के प्रति जागरुक करना है। 2016 में विश्व निमोनिया दिवस (नवम्बर 12) से पहले आई एक रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्व में निमोनिया से सबसे ज़्यादा भारत में शिशुओं और बच्चों की मौतें हुई हैं। भारत में हर साल करीब 1 लाख 90 हज़ार 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मौत निमोनिया के कारण होती है। विश्वीय टीकाकरण कार्यक्रम (Universal Immunization Program) के तहत इस वर्ष भारत में निमोनिया से बच्चों की रक्षा के लिए एक नया टीका पेश किया गया है। जिसे न्यूमोकोकल कॉन्जुगेट वैक्सीन (पीसीवी: PCV) कहा जाता है।

 

निमोनिया के प्रकार:

निमोनिया के पांच प्रकार हैं-

 

बैक्टीरियल निमोनिया (Bacterial pneumonia)

इस प्रकार का निमोनिया विभिन्न बैक्टीरिया के कारण होता है। इसमें सबसे सामान्य स्ट्रेप्टोकोकस निमोने (Streptococcus pneumoniae) है। यह आमतौर पर तब होता है। जब शरीर किसी तरह से कमजोर हो जाता है जैसे कि कोई छोटी बीमारी, पोषण की कमी, बुढ़ापा या शरीर की प्रतिरक्षा की समस्याएं आदि। इसमें बैक्टीरिया फेफड़ों में चला जाता है। बैक्टीरियल निमोनिया सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है।

 

वायरल निमोनिया (Viral pneumonia)

इस प्रकार का निमोनिया इन्फ्लूएंजा (फ्लू) सहित विभिन्न वायरस के कारण होता है। यदि व्यक्ति को वायरल निमोनिया है तो उसको बैक्टीरियल निमोनिया होने की अधिक संभावनाएं रहेंगी।

 

माइकोप्लाज्मा निमोनिया (Mycoplasma pneumonia)

इस प्रकार के निमोनिया के कुछ अलग लक्षण होते हैं और इसे एटिपिकल निमोनिया कहा जाता है। यह माइकोप्लाज्मा निमोने (Mycoplasma pneumoniae) नामक जीवाणु के कारण होता है। यह आमतौर पर हल्के परन्तु बड़े पैमाने पर निमोनिया का कारण बनता है। जो सभी आयु समूहों को प्रभावित करता है।

 

एस्पिरेशन निमोनिया (Aspiration pneumonia)

इस प्रकार का निमोनिया किसी भोजन, तरल, गैस या धूल से होता है। यह नेक्रोटाइज़िंग निमोनिया (Necrotizing Pneumonia), एनएरोबिक निमोनिया (Anaerobic Pneumonia), एस्पिरेशन निमोनाइटिज़ (Aspiration Pneumonitis) और एस्पिरेशन ऑफ़ वोमिटिस (Aspiration of Vomitus) के नाम से भी जाना जाता है। निमोनिया के इस प्रकार को कभी-कभी ठीक करना मुश्किल हो जाता है। क्योंकि जिन लोगों को एस्पिरेशन निमोनिया होता है वह पहले से ही बीमार होते हैं।

 

फंगल निमोनिया (Fungal pneumonia)

इस प्रकार का निमोनिया विभिन्न स्थानिक या अवसरवादी कवक (Fungus) से होता है। इससे फंगल संक्रमण, जैसे कि हिस्टोप्लाज्मोसिस (Histoplasmosis), कोक्सीडियोडोमाइकोसिस (Coccidioidomycosis) और ब्लास्टोमायकोसिस (Blastomycosis) होते हैं। फंगल निमोनिया के मामलों का निदान करना काफी कठिन होता है।

 

निमोनिया के लक्षण-

  • निमोनिया होने पर फ्लू जैसे लक्षण महसूस होते हैं। यह लक्षण धीरे-धीरे या फिर तेजी से विकसित हो सकते हैं।
  • निमोनिया का मुख्य लक्षण खांसी है।
  • इसमें रोगी कमजोर और थका हुआ महसूस करता है।
  • बलगम वाली खांसी से ग्रस्त होना।
  • रोगी को बुखार के साथ पसीना और कंपकंपी होती है।
  • इसमें रोगी को सांस लेने में कठिनाई होती है या फिर वो तेजी से सांस लेने लगता है।
  • सीने में दर्द होना।
  • बेचैनी महसूस होना।
  • भूख कम लगना आदि।

छोटे बच्चों में निमोनिया के लक्षण

  • छोटे बच्चों को बुखार के साथ पसीना व कंपकंपी होने लगती है।
  • जब बच्चों को बहुत ज्यादा खांसी हो रही हो।
  • वह अस्वस्थ दिख रहा हो।
  • उसे भूख न लग रही हो।

निमोनिया के कारण-

  • वायरस, बैक्टीरिया, फंगस या परजीवी जीवों या अन्य जीवों से निमोनिया हो सकता है।
  • कई प्रकार के जीवाणुओं से निमोनिया हो सकता है। ज्यादातर मामलों में निमोनिया करने वाले जीव (जैसे बैक्टीरिया या वायरस) का पता परीक्षण से भी नहीं लग पाता लेकिन आमतौर पर इसकी वजह स्ट्रेप्टोकोकस निमोने (Streptococcus Pneumoniae) होता है।
  • माइकोप्लाज्मा निमोने की वजह से होने वाले माइकोप्लाज्मा निमोनिया (Mycoplasma Pneumoniae) कभी-कभी हल्का होता है और इसे "वाकिंग निमोनिया" भी कहा जाता है।
  • इन्फ्लूएंजा ए (फ्लू वायरस) और रेस्पिरेटरी सिन्सिटीयल वायरस (आरएसवी) जैसे वाइरसों से भी निमोनिया हो सकता है।
  • जिन लोगों को प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्याएं हैं। उन्हें निमोनिया अन्य जीवों के कारण भी हो सकता है जैसे कि निमोकॉस्टिस जिरोवची (Pneumocystis Jiroveci)। यह फंगस अक्सर उन लोगों में निमोनिया का कारण बनता है, जिन्हें एड्स है। इसलिए कुछ डॉक्टर एचआईवी परीक्षण की सलाह सकते हैं। यदि उन्हें लगता है कि निमोनिया होने का कारण निमोकॉस्टिस जिरोवची है।

निमोनिया से बचाव-

वैक्सीन लगवाएं-

कुछ प्रकार के निमोनिया और फ्लू को रोकने के लिए टीके उपलब्ध हैं। समय के साथ टीकाकरण बदल जाते हैं। इसीलिए निमोनिया का टीका लगवाने पर भी डॉक्टर से सलाह लें।

 

बच्चों का टीकाकरण-

डॉक्टर 2 साल से कम आयु के बच्चों और 2 से 5 साल के बच्चों के लिए अलग-अलग निमोनिया के टीकों की सलाह देते हैं। डॉक्टर 6 महीने से अधिक उम्र के बच्चों के लिए फ्लू शॉट्स की सलाह भी देते हैं।

 

स्वछता का ध्यान रखें-

अपने आप को श्वसन संक्रमणों से बचाने के लिए (जिनसे कभी-कभी निमोनिया होता है) अपने हाथों को नियमित रूप से धोएं।

 

धूम्रपान न करें-

धूम्रपान व्यक्ति के फेफड़ों को बहुत अधिक नुक्सान पहुंचता है। इसलिए धूम्रपान करने से भी निमोनिया होने का खतरा बढ़ जाता है।

 

कुछ अन्य बचाव-

  • अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ रखें।
  • पर्याप्त नींद लें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • स्वस्थ आहार खाएं।

निमोनिया का इलाज-

निमोनिया का उपचार निमोनिया के प्रकार, गंभीरता, उम्र और व्यक्ति के स्वास्थ पर निर्भर करता है। इसके उपचार के विकल्प निम्नलिखित हैं-

 

एंटीबायोटिक्स-

यह दवाइयां बैक्टीरिया से होने वाले निमोनिया का इलाज करने के लिए उपयोग की जाती हैं।

 

खांसी की दवाएं-

इस दवा का प्रयोग खांसी को कम करने के लिए किया जा सकता है। ताकि व्यक्ति आराम कर सकें। खांसी फेफड़ों के तरल पदार्थ को ढीला करके बाहर निकलने में मदद करती है।

 

निमोनिया का घरेलू उपचार-

भाप-

भाप लेने से संक्रमण में कमी आती है। इससे रोगी की सांस लेने की क्षमता भी बेहतर होती है। भाप से खांसी कम होती है और छाती की जकड़न भी दूर हो जाती है।

 

हल्दी-

हल्दी भी सांसों की तकलीफ को दूर करने में मददगार होती है। यह कफ को कम करती है। इसलिए दिन में 2 बार गर्म दूध में हल्दी पाउडर डालकर सेवन करना चाहिए।

 

सरसों का तेल-

सरसों के गुनगुने तेल में हल्दी का पाउडर मिलाएं। इससे अपनी छाती पर मसाज करें। इससे निमोनिया से बचाव होता है।

 

पुदीना-

पुदीना जलन और बलगम को कम करता है। इसलिए पुदीने की ताजी पत्तियों का इस्तेमाल करके चाय बनाकर पिएं। इस प्रकार पुदीने की चाय निमोनिया की दवा के रूप में काम करती है।

 

कुछ अन्य घरेलू उपाय-

  • निमोनिया के दौरान सब्जियों के जूस जैसे- गाजर का जूस, पालक का जूस, चुकंदर का जूस, खीरे का जूस और अन्य सब्जियों का जूस पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है।
  • खांसी ठीक करने के लिए एक गिलास पानी में आधा चम्मच नमक डालकर गरारे करें। इसकी मदद से गले में मौजूद बलगम और जलन कम होती है।
  • सामान्य आहार को बनाए रखने की कोशिश करें। क्योंकि ठीक होने के लिए संतुलित भोजन करना जरूरी होता है।
  • रोज 6 से 8 गिलास पानी पिएं।
  • रोज हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों का सेवन करें।
  • मीट, मछली, अण्डा और हल्के भोजन का सेवन करें।
  • अच्छे से पकी हुई सब्जियों का सेवन करें।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

  • जब रोगी 60 वर्ष की आयु से अधिक उम्र के हों।
  • जब रोगी का BP Systolic 140 से अधिक और Diastolic 90 mmhg से कम हो।
  • जब रोगी की सांस तेज चल रही हो।
  • जब रोगी को सांस लेने में सहायता की आवश्यकता पड़े।
  • जब रोगी का तापमान सामान्य से कम हो।
  • जब रोगी के हृदय की गति 50 से नीचे या फिर 100 से ऊपर हो।

बच्चों को निमोनिया होने पर कब ले जाएं डॉक्टर के पास?

कुछ बच्चों में निमोनिया गंभीर रूप ले लेता है। ऐसे में बच्चों को अस्पताल में उपचार की जरूरत होती है। इसलिए निम्न परिस्थितियों में बच्चों को तुरंत अस्पताल लेकर जाएं-

 
  • जब बच्चा तेज या गहरी सांस ले रहा हो।
  • जब बच्चे ने पिछले 24 घण्टों में सामान्य मात्रा से कम तरल पदार्थों का सेवन किया हो।
  • बच्चे सांस फूलने (सांस लेने पर मोटी, सीटी जैसी आवाज आना) पर।
  • जब बच्चे के होंठ और अंगुलियों के नाखून नीले होने लगे।
Read More
खर्राटों के कारण लक्षण और घरेलू उपाय

Posted 24 May, 2022

खर्राटों के कारण लक्षण और घरेलू उपाय

सोते समय खर्राटे आना एक आम समस्या है। सोते वक्त सांसों के साथ तेज आवाज और वाइब्रेशन आना खर्राटा (snoring) कहलाता है। यह नींद से संबंधित समस्या है। खर्राटों की आवाज नाक या मुंह किसी से भी आ सकती है। यह आवाज सोने के बाद किसी भी समय शुरू और बंद होती है। दरअसल खर्राटे एक तरह की ध्वनि होती है। यह ध्वनि तब पैदा होती है, जब व्यक्ति नींद के दौरान अपनी नाक और गले के माध्यम से स्वतंत्र रूप से सांस नहीं ले पाता है। जब हवा का बहाव गले की त्वचा में स्थित ऊतकों में कंपन पैदा कर देता है तो जो खर्राटे आने लगते हैं। इसलिए माना जाता है कि जो लोग अक्सर बहुत ज्यादा खर्राटे लेते हैं, उनके गले और नाक के ऊतक में बहुत ज्यादा कंपन होता है। खर्राटों से कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं। जिनमें नींद के दौरान सांस रुकना, दिन में बहुत नींद आना, ध्यान लगाने में मुश्किल, सुबह का सिरदर्द, जागने पर गले में खराश होना, नींद में बेचैनी होना, रात को हांफना और ब्लड प्रेशर का बढ़ना शामिल हैं।

 

खर्राटे आने के लक्षण-

  • तेज आवाज के साथ सांस लेना और छोड़ना।
  • थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ सेकेंड के लिए सांस का रुकना।
  • धीरे-धीरे सांस रुकने की रफ्तार और समय बढ़ना।
  • सोते-सोते सांस न आने पर हड़बड़ा कर जागना।
  • दिन भर सुस्ती और आलस्य से भरे रहना।
  • नींद पूरी होने पर भी दिनभर नींद आना।
  • थकान महसूस होना।

खर्राटे आने के कारण-

खर्राटे आने के अनेक कारण होते हैं, जिनमें मुख्य कारण निम्नलिखित हैंः-

 

मोटापा-

वजन बढ़ने के कारण भी खर्राटे आते हैं। जब किसी व्यक्ति का वजन बढ़ता है तो उसकी गर्दन पर ज्यादा मांस लटकने लगता है। लेटते समय इस मांस के कारण सांस की नली दब जाती है, और सांस लेने में दिक्कत होने लगती है।

 

अधिक शराब पीना-

कई दर्द निवारक दवाओं की तरह ही शराब भी शरीर की मांसपेशियों के खिंचाव को कम करती है। कई बार बहुत अधिक अल्कोहल के सेवन से गले की मांसपेशियां फैल जाती हैं। जिससे खर्राटे उत्पन्न हो सकते हैं।

 

साइनस-

खर्राटे आने की एक वजह साइनस है। साइनस के बढ़ने से नाक के छिद्र जाम हो जाते हैं। इतना ही नहीं, खर्राटे की ध्वनि बढ़ने पर भी नाक के रास्ते पर प्रभाव पड़ता है। ऐसे में साइनस के मरीज को खास सावधानियां रखने की जरूरत होती है।

 

सोने का गलत तरीका-

सोते समय गले का पिछला हिस्सा थोड़ा संकरा हो जाता है। ऐसे में ऑक्सीजन संकरी जगह से अंदर जाती है तो आस-पास के टिशू वायब्रेट होते हैं। जिससे खर्राटे आने लगते हैं।

 

सर्दी-

अधिक दिनों तक नाक बंद रहने पर डॉक्टर से जांच करवाएं। क्योंकि नींद की गोलियां, एलर्जी रोधक दवाइयां भी श्वसन मार्ग की मांसपेशियों को सुस्त बना देती हैं। जिनसे खर्राटे आने लगते हैं।

 

खर्राटे आने के अन्य कारण-

  • नीचे वाले जबड़े का छोटा होना भी खर्राटे आने का कारण है। जब व्यक्ति का जबड़ा सामान्य से छोटा होता है तो लेटने पर उसकी जीभ पीछे की तरफ हो जाती है। इससे सांस की नली ब्लॉक हो जाती है। ऐसे में सांस लेने और छोड़ने के लिए प्रेशर लगाना पड़ता है। जिससे वाइब्रेशन होता है और खर्राटे आते हैं।
  • वात एवं कफ दोष होने पर भी खर्राटे आते हैं।
  • यह बीमारी आनुवंशिक भी है। जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को होती है।
  • नाक के वायुमार्ग में रूकावट- नाक में विकृति होना जैसे सैप्टम (नाक के रास्ते को दो भागों में बांटने वाली दीवार) का टेढ़ापन या नाक के अंदर निकले छोटे-छोटे कणों के कारण भी वायुमार्ग में रुकावटें आ सकती हैं। इसके इसके अलावा कुछ लोगों को सर्दी के दिनों में खर्राटे आने लगते हैं।
  • व्यक्ति की गर्दन अगर ज्यादा छोटी हो तो भी सोते समय सांस के साथ आवाज आती है।

खर्राटों से होने वाली समस्याएं-

  • दिन में नींद आना।
  • किसी भी चीज में एकाग्रता न हो पाना अर्थात ध्यान न लगा पाना।
  • कभी भी नींद आ जाना।
  • उच्च रक्तचाप का शिकार हो जाना।
  • दिल की बीमारी होना।
  • हर्ट स्ट्रोक की संभावना का बढ़ना।

खर्राटे रोकने के घरेलू उपाय-

पेपरमिंट ऑयल-

खर्राटों को रोकने के लिए पेपरमिंट ऑयल फायदेमंद उपाय है। प्रतिदिन इस तेल को हथेली में लेकर दो से तीन बूंदें सूंघें। इसके अलावा गर्म पानी में इस ऑयल की कुछ बूंदे डालकर भाप लेने से भी बंद नाक खुल जाती है। जिससे खर्राटों की समस्या कम होती है।

 

विटामिन सी युक्त भोजन-

कम इम्यूनिटी के कारण भी खर्राटे संभव है। ऐसे में विटामिन सी युक्त फल और सब्जियां खाएं।

 

मेथी पाउडर-

मेथी में ऐंटीऑक्सीडेंट और ऐंटीवायरल गुण पाए जाते हैं। जो खर्राटों को ठीक करने में मददगार होते हैं। ऐसा माना जाता है कि पाचन तंत्र मजबूत नहीं होने के कारण भी खर्राटे आते हैं। ऐसे में रात में सोने से पूर्व आधा चम्मच मेथी पाउडर हल्के गुनगुने पानी के साथ पीने से खर्राटों से राहत मिलती है।

 

इलायची पाउडर-

आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर इलायची को भी खर्राटों के उपचार में सही माना गया है। आयुर्वेद विशेषज्ञों की मानें तो हल्के गुनगुने पानी के साथ इलायची पाउडर का सेवन सोने से पहले करना चाहिए। इससे खर्राटे की आवाज बंद हो जाती है।

 

हल्दी-

हल्दी में एंटी-सेप्ट‍िक और एंटी-बायोटिक गुण होते हैं। जिसके इस्तेमाल से नासा-द्वार साफ हो जाता है और सांस लेने में आसानी होती है। इसके लिए रोज रात को सोने से पहले दूध में हल्दी पकाकर पिएं।

 

भाप-

रोज रात में एक कटोरी में पानी को गर्म करके उसमें टी ट्री ऑयल मिला दें। इसके बाद 10 मिनट तक गहरी सांस लेकर भाप लेने की कोशिश करें। इससे नाक का जमाव दूर होता है और सांस लेने में आसानी होती है। इस प्रकार खर्राटों की समस्या को दूर करने के लिए रोज रात को भांप लें।

 
  • खर्राटों को कैसे रोका जा सकता है?
  • हर रात एक ही समय पर सोने जाएं।
  • बिस्तर पर जाने से पहले नाक अच्छी तरह साफ कर लें।
  • बहती नाक को रोकने का सही उपाय करें।
  • सोने से पहले शराब से परहेज करें।
  • सोने से पहले खाना न खाएं, इससे एक दो घंटे पूर्व ही भोजन कर लें।
  • तकिया पर करीब 4 इंच तक अपने सिर को ऊंचा करके सोएं।

कब जाएं डॉक्टर के पास?

जब आप खर्राटे के कारण निम्न परेशानी से पीड़ित हों तो डॉक्टर से सम्पर्क कर सकते हैं-

 
  • जब उदास मन हो।
  • जब चिड़चिड़ा व्यवहार हो।
  • जब एकाग्रता कम हो रही हो।
  • जब दिन के समय भी सुस्ती लगे।
  • जब नींद के दौरान सांस रोकने लगे।
  • यदि खर्राटों की समस्या अधिक हो।
  • जब सुबह उठने के बाद आराम न मिले।
  • जब सुबह उठने के साथ ही सिर में दर्द महसूस हो।
  • जब सोते समय आपकी सांस फूलती हो या जागने के बाद आप पसीने से भीगे हुए होते हों।
Read More
काली खांसी के लक्षण, कारण और घरेलू निदान

Posted 24 May, 2022

काली खांसी के लक्षण, कारण और घरेलू निदान

मौसम में बदलाव और हल्की सर्दी होने पर जुकाम के साथ खांसी आना आम बात है। जोकि सामान्य संक्रमण की वजह से होती है। लेकिन कई बार खांसी लगातार और लंबे समय तक रहती हैं और खांसते वक्त सांस में तकलीफ और अजीब सी आवाज आने लगती है। यह सभी लक्षण काली खांसी की ओर संकेत करते हैं। जो किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। लेकिन इसे बदलते मौसम का संकेत मानकर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसा करने पर इसके कई दुष्परिणाम हो सकते हैं।

 

काली खांसी क्या है?

काली खांसी को दूसरे शब्दो में कुकर खांसी कहा जाता है। जिसे इंग्लिश में पर्टुसिस और वूपिंग कफ के नाम से भी जाना जाता है। यह एक श्वसन तंत्र से जुड़ा संक्रमण है। काली खांसी से संक्रमित होने पर व्यक्ति को कफ या बलगम आने लगता है। इसके अलावा सांस लेने में वूप जैसी ध्वनि सुनाई देने लगती है। इसका असर व्यक्ति पर तुरंत नहीं दिखता है। लेकिन 2 से 3 हफ्तों में काली खांसी के प्रभाव पड़ने लगते हैं। यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्तियों में देखने को मिल सकती है। लेकिन सबसे ज्यादा यह नवजात शिशुओं एवं  छोटे बच्चों को प्रभावित करता हैं।

 

काली खांसी (कुकर खांसी) के चरण:

पहला चरण

कुकर खांसी का पहला चरण आम सर्दी की तरह होता है। यह चरण एक से दो हफ्ते तक रहता है। इस स्टेज को कैटर्रल (Catarrhal) भी कहा जाता है। इस दौरान लगातार नाक बहना, छीकें आना और लो-ग्रेड का बुखार एवं कभी-कभी खांसी आती हैं।

 

दूसरा चरण

दूसरे चरण को पेरोक्सिमल (Paroxysmal) कहा जाता है। इस दौरान खांसी अधिक आती है। साथ ही खांसते समय ज्यादा आवाज होने लगती है। इसके अलावा उल्टी और व्यक्ति के शरीर में थकावट महसूस होती है।

 

तीसरा चरण 

कुकर खांसी का तीसरा चरण गंभीर होता है। यह स्टेज 2 से 3 सप्ताह तक रहता है। इसे कान्वलेसन्ट (Convalescent) यानी रिकवरी चरण कहा जाता है। इस दौरान इस बीमारी का उपचार चिकित्सक की देख-रेख एवं एंटीबायोटिक दवाइयों की मदद से किया जाता है।

 

काली खांसी होने के कारण

काली खांसी (कुकर खांसी) एक संक्रामक बैक्टीरियल इंफेक्शन होता है। यह बोर्डेटेला पर्टुसिस (Bordetella pertussis) नामक बैक्टीरिया के कारण होती है। जो श्वसनतंत्र को प्रभावित करती है। इससे सिलिया (श्वसन तंत्र की ऊपरी हिस्सा) को नुकसान पहुंचता है और नाक की नली में सूजन पैदा होती है। यह संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है। क्योंकि जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है तो यह जीवाणु हवा में फ़ैल जाते हैं। इस दौरान यदि कोई स्वस्थ व्यक्ति इन बूंदो के संपर्क में आता है तो बैक्टीरिया व्यक्ति के फेफड़ो में जाकर बैठ जाता है और संक्रमण फ़ैलाने लगता है। इस प्रकार यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में काफी तेजी से फैलता है।

 

काली खांसी के लक्षण

वैसे काली खांसी के लक्षण तुरंत नजर नहीं आते हैं। इसे नजर आने में करीब 1 से 2 हफ्ते लग जाते हैं। लेकिन ज्यादातर मामलों काली खांसी यानी वूपिंग कफ की लक्षण सर्दी एवं जुकाम जैसे ही देखने को मिलते हैं। इसके अलावा कुछ अन्य लक्षण भी होते हैं। आइए चर्चा करते हैं इन्हीं अन्य लक्षणों के बारे में;

 
  • हल्के बुखार का आना।
  • बलगम आना।
  • गले में हल्का दर्द होना।
  • सांस लेने में तकलीफ होना।
  • सांस लेने में वूप का आवाज आना।
  • शरीर का रंग नीला पड़ना।
  • खांसी के दौरान या बाद में उल्टी आना।
  • निगलने में हल्की तकलीफ होना।
  • एपनिया- नवजात एवं छोटे बच्चों में सांस लेने में रुकावट होना।
  • गले का लगातार सूखना।
  • जबड़े एवं गर्दन में दर्द का होना।
  • सिर में दर्द होना।
  • सर्दी के सामान्य लक्षण जैसे नाक का बहना, आंख की लाली और साइनस के कारण नाक का बंद होना आदि।

काली खांसी होने पर बरतें यह सावधानियां-

  • ज्यादा से ज्यादा आराम करें।
  • धूम्रपान का सेवन बिल्कुल न करें।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • आइसक्रीम, दही, बर्फ के पानी का कतई सेवन न करें।
  • संक्रमित एवं प्रदूषित वातावरण में जाने से बचें।
  • यदि कोई व्यक्ति इससे संक्रमित है तो वह हमेशा मास्क लगाएं। ऐसा करने से घर के अन्य सदस्यों का इस संक्रमण से बचाव होगा।
  • खांसने के बाद उल्टी की समस्या न हो इसलिए हल्का भोजन करें।
  • तैलीय एवं वसायुक्त भोजन के सेवन से बचें।
  • किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचने के लिए भोजन करने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  • छींकने और खांसने के बाद या शौचालय से आने के बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं।

काली खांसी को कम करने के लिए घरेलू उपचार-

लहसुन है फायदेमंद-

लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। जो काली खांसी को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा लहसुन में प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय और संक्रमण से बचाने वाले एंटीमाइक्रोबियल गुण भी पाए जाते हैं। इसके लिए लहसुन की 2 से 3 कलियों को अपने दांतों के बीच रखकर चूसने से फायदा होता है।

 

अदरक

अदरक में एंटीबैक्टीरियल गुण पाया जाता है। जो काली खांसी के बैक्टीरिया से लड़ने का काम करता है। इसलिए किसी भी रूप में अदरक का इस्तेमाल करना जीवाणु संक्रमण हेतु फायदेमंद होता है।

 

काली खांसी के लिए तुलसी है फायदेमंद

खांसी, जुकाम, दस्त या अन्य वायरल एवं बैक्टीरियल इंफेक्शन होने पर तुलसी का उपयोग घरेलू उपचार के रूप में किया जाता है। दरअसल तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो बदलते मौसम में शरीर को होने वाली दिक्कतों से बचाने का काम करते हैं। तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को भी बढ़ाती है। इसके लिए एक चम्मच लौंग का चूर्ण, काली मिर्च और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को करीब एक लीटर पानी में डालकर उसे तब तक उबाले जब तक वह आधा न हो जाए। अब उसके काढ़े को छान ले और चाय की तरह पिएं। ऐसा करने से काली खांसी में आराम मिलता हैं। इसके अलावा जुकाम होने पर तुलसी को पानी में उबाल कर भाप लेने से भी फायदा होता है।

 

हल्दी और सोंठ

सोंठ यानी सूखी अदरक जिसमें जीवाणुरोधी गुण पाए जाते हैं। जो शरीर में संक्रमण फैलाने वाले जीवाणुओं का खात्मा करते हैं। इसके लिए एक चम्मच काली मिर्च के चूर्ण में एक छोटी चम्मच हल्दी, एक चम्मच सौंठ का चूर्ण और थोड़ी सी चीनी मिलाएं। अब इसे एक कप पानी में डालकर गर्म करें और ठंडा करके पिएं। इससे काली खांसी में राहत मिलती है।

 

नींबू और शहद से

आयुर्वेद के अनुसार नींबू और शहद दोनों में ही इम्यूनिटी बढ़ाने वाले गुण पाए जाते हैं। इसीलिए काली खांसी होने पर नींबू और शहद के उपयोग की सलाह दी जाती है। क्योंकि यह मिश्रण शरीर को डिटॉक्स करता है और साथ में इम्यूनिटी भी को बढ़ाता है। इसके लिए एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस और शहद मिलाकर सेवन करें।

 

अजवाइन

अजवाइन पानी का सेवन काली खांसी के घरेलू इलाज के तौर पर जाना जाता है। इससे जुड़े एक शोध से पता चलता है कि अजवाइन सामान्य कफ से लेकर काली खांसी में राहत पहुंचाने का काम करता है। वहीं, अजवाइन में एंटी बैक्टीरियल गुण पाया जाता है। जो काली खांसी के बैक्टीरिया से लड़ने का काम करता है। साथ ही गर्म पानी में अजवाइन के तेल को डालकर इसकी भाप लेने से शीघ्र आराम मिलता है।

 

धनिया की चाय

धनिया के बीज बैक्टीरिया से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच धनिया पाउडर, थोड़ा-सा दूध और चीनी डालकर चाय बनाकर रोगी को दिन में दो बार पिलाएं। इस प्रकार काली खांसी या अन्य तरह के बैक्टीरियल इन्फेक्शन में धनिया चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है।

 

कच्चा प्याज

पारंपरिक चिकित्सा पद्धति में प्याज का उपयोग अस्थमा, ब्रोंकाइटिस के अलावा काली खांसी के लिए भी किया जाता रहा है। क्योंकि प्याज में एंटी-इन्फ्लामेट्री, एंटी-एलर्जिक, एंटी-कार्सिनोजेनिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह सभी गुण बैक्टीरिया को नष्ट करते हैं। इसके लिए प्याज को भूनकर शहद के साथ या प्याज के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर सेवन करना चाहिए।

Read More
Osteoporosis and its Treatment methods

Posted 14 December, 2021

Osteoporosis and its Treatment methods

The problem of bone and joints has become common everywhere, be it the village or the city. With ageing, this problem starts developing on its own. One such disease is osteoporosis which is common in the elderly, but nowadays due to the changing environment, this disease is also taking its grip on the youth and its effect is more in women than in men, especially those who are overweight.

 

Osteoporosis literally means porous bones in which the quality and density of bones are reduced. The bones of the body are made up of calcium, phosphorous, protein and many types of minerals but with wrong eating habits, modern lifestyle and increasing age, these minerals start getting destroyed. As a result, the density of bones starts decreasing and weakening. Sometimes the bones become so weak that even a small injury becomes the cause of fracture.

 

Symptoms of Osteoporosis

There are no symptoms in the early stages of osteoporosis but when there is a lot of damage to the bones, then its symptoms start to be understood. These symptoms are:

 
  • Feeling weak or tired.
  • Fracture even in minor injuries.
  • Extreme pain in the joints, severe back pain.
  • Body bending.
  • Stiffness or swelling in the joints.
  • Difficulty in walking.

Causes of Osteoporosis

There are many reasons for getting osteoporosis, the main ones being the following-

 
Growing old-

One of the biggest causes of osteoporosis is ageing because, with age, the bones of the body keep breaking and new bones keep growing but after 40 to 50 years, the bones start breaking faster instead of growing back. As a result, the bones become more fragile. During the above age, this problem is more in women because during this time there occurs a major change in their hormones.

 
Having a genetics reason-

Some diseases are due to genetics which is passed on from generation to generation among the members of the family. These include osteoporosis that could be passed on if someone in the family has this disease.

 
Lack of calcium and vitamin D in the body-

The body needs all kinds of nutritious substances because these substances make the body healthy. These include calcium and vitamin D whose main function is to strengthen the bones but if a person does not consume calcium and vitamin-rich elements, then he may have to face many diseases including osteoporosis.

 
Side-effects of any medicine-

When we are sick, doctors prescribe some medicines that help us to recover but these medicines also have some side effects due to which the chances of getting many serious diseases like osteoporosis increases.

 
Weakening of immunity-

The main cause of osteoporosis is a weak immune system. Therefore, people should exercise regularly so that their immunity remains strong.

 

Other Causes of Osteoporosis are

  • Due to a lack of protein in the body.
  • Lack of exercising.
  • Smoking and excessive consumption of alcohol.
  • Having diabetes and thyroid.
  • Do not let sunlight fall on the body.
  • Polluted environment.
  • Low estrogen levels in women in menopause.
  • Cancer treatment therapy and rheumatoid arthritis.
  • Lack of physical activity.

How to prevent osteoporosis?

The number of patients suffering from osteoporosis is increasing rapidly due to which the patient has to face many problems but people can prevent osteoporosis if they take certain precautions-

 
  • Eat nutritious food rich in iron, calcium, protein etc.
  • Drink a sufficient amount of water.
  • Exercise regularly to remain healthy.
  • Everyone should control their weight so that they do not get any kind of serious disease.
  • Get your health checked regularly.

Home remedies for Osteoporosis

Apple cider vinegar-

The use of apple cider vinegar proves to be beneficial for health in many cases because they are rich in nutrients like calcium, potassium and magnesium. These nutrients help in maintaining healthy bones. Hence, apple cider vinegar is considered good for the treatment of osteoporosis and arthritis.

 
Consumption of foods rich in vitamins-

Vitamins play an important role in the treatment and prevention of osteoporosis. According to research published on the website of NCBI (National Center for Biotechnology Information), vitamin D increases the absorption of calcium in the intestines. Vitamin C increases the density of bones and strengthens them. Therefore, we should consume foods rich in vitamins like cheese, citrus fruits, green leafy vegetables etc. in our diet.

 
Essential oils are beneficial-

Consuming essential oils is a good way to avoid or reduce the symptoms of osteoporosis because they contain components like thymol, borneol, alpha-pinene, beta-pinene and menthol. All these elements are helpful in increasing bone health and reducing the problem of osteoporosis.

 
Triphala is beneficial-

According to Ayurveda, the consumption of Triphala is considered good to prevent bone problems. Triphala is made up of three Ayurvedic medicines Harad, Bahera and Amla which helps to protect the bones from damage and make them strong. It also has anti-arthritic and anti-inflammatory properties. Apart from increasing the collagen of the bones, it helps in preventing osteoporosis.

 
Dandelion tea-

Dandelion is also known as Singhparni and is used to cure many diseases as it contains an element called inulin, which is a type of carbohydrate. Apart from curing many diseases, this is also helpful in removing the weakness of bones.

 
Coriander-

Coriander is good for the strength of bones and the health of the tissues that make them up. According to a research paper, an element called silicon is found in coriander leaves which proves to be good for keeping bones healthy and preventing osteoporosis.

 
Broccoli is beneficial-

By eating broccoli, bones and body joints remain strong as it is rich in vitamin K, calcium and magnesium. These nutrients work to keep bones strong. Therefore, people who have weak bones and joints must include broccoli in their diet.

Read More
क्या है ऑस्टियोपोरोसिस, कैसे करे इसका उपचार?

Posted 24 May, 2022

क्या है ऑस्टियोपोरोसिस, कैसे करे इसका उपचार?

वर्तमान समय में गांव हो या शहर हड्डी और जोड़ों की समस्या हर जगह आम बात हो गई है। यह समस्या उम्र बढ़ने के साथ-साथ खुद पे खुद विकसित होने लगती है। इसी तरह की एक बीमारी है ऑस्टियोपोरोसिस। यह समस्या ज्यादातर बुजुर्गो में देखने को मिलती है। लेकिन आजकल बदलते परिवेश के कारण यह बीमारी युवाओं को भी अपनी चपेट में ले रही है। वहीं, इसका प्रभाव पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलता है। खासतौर पर उनमें जिनका वजन अधिक होता है।

 

ऑस्टियोपोरोसिस का शाब्दिक अर्थ पोरस बोन्स अर्थात जिसमें हड्डियों की गुणवत्ता और घनत्व कम हो जाता है। दरअसल शरीर की हड्डियां कैल्शियम, फॉस्फोरस प्रोटीन और कई प्रकार के मिनरल्स से बनी होती हैं। लेकिन गलत खान-पान, आधुनिक जीवनशैली और बढ़ती उम्र के साथ यह मिनरल नष्ट होने लगते हैं। परिणामस्वरूप  हड्डियों का घनत्व कम एवं कमजोर होने लगता है। कई बार हड्डियां इतनी कमजोर हो जाती हैं कि छोटी सी चोट भी फ्रैक्चर का कारण बन जाती है।

 

ऑस्टियोपोरोसिस के लक्षण

ऑस्टियोपोरोसिस के शुरुआती स्टेज में लक्षण सामने नहीं आते हैं। लेकिन जब हड्डियों को काफी नुकसान पहुंचने लगता है तो इसके लक्षण समझ में आने लगते हैं। आइए एक नजर डालते हैं इन्हीं लक्षणों के बारे में:

 
  • कमजोरी या थकान महसूस करना।
  • छोटी चोट में भी फ्रैक्चर होना।
  • शरीर की ऊंचाई का कम होना।
  • जोड़ों में अत्यधिक दर्द, पीठ में अधिक दर्द होना।
  • शरीर का झुकना।
  • जोड़ों में जकड़न या सूजन होना।
  • चलने-फिरने में तकलीफ होना।

ऑस्टियोपोरोसिस के कारण

ऑस्टियोपोरोसिस होने के कई कारण होते हैं, जिनमें प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं;

 

बढ़ती उम्र

ऑस्टियोपोरोसिस का सबसे बड़े कारणों में से एक है बढ़ती उम्र का होना। क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ शरीर की हड्डियां टूटती रहती हैं और नई हड्डियां बढ़ती रहती हैं। लेकिन 40 से 50 साल के बाद हड्डियां वापस बढ़ने के बजाय तेजी से टूटने लगती हैं। परिणामस्वरूप हड्डियां अधिक नाजुक हो जाती हैं। उपरोक्त आयु के दौरान यह समस्या महिलाओं में ज्यादा होती है। क्योंकि इस समय उनके हार्मोनल स्तर में बदलाव होता हैं। जिसके कारण शरीर से हड्डियां खत्म होने लगती हैं।

 

आनुवंशिकी कारण का होना

कुछ बीमारी आनुवंशिकी होती हैं। जो पीढ़ी-दर-पीढ़ी परिवार के सदस्यों में फैलती रहती हैं। इनमें ऑस्टियोपोरोसिस भी शामिल है। जो उन लोगों को हो सकती है। जिनके परिवार में कोई अन्य व्यक्ति पहले इससे पीड़ित रहा हो।

 

शरीर में कैल्शियम और विटामिन डी की कमी का होना

शरीर को सभी तरह के पौष्टिक पदार्थों की आवश्यकता होती है। क्योंकि यह पदार्थ शरीर को सेहतमंद बनाते हैं। इसमें कैल्शियम और विटामिन डी भी शामिल हैं। जिसका मुख्य काम हड्डियों को मजबूत करना होता है। लेकिन यदि कोई व्यक्ति कैल्शियम और विटामिन युक्त तत्वों का सेवन नहीं करता तो उसे ऑस्टियोपोरोसिस समेत अनेक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।

 

किसी दवाई का दुष्प्रभाव होना

बीमार होने पर डॉक्टर हमें कुछ दवाईयां देते हैं। जो हमें ठीक होने में सहायता करती हैं। लेकिन साथ में इन दवाईयों के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। जिसके कारण ऑस्टियोपोरोसिस जैसी कई गंभीर बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती हैं।

 

रोग-प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होना

ऑस्टियोपोरोसिस गठिया होने का प्रमुख कारण कमजोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता (Immune System) होता है। इसलिए लोगों को नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए ताकि उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहे।

 

ऑस्टियोपोरोसिस के अन्य कारण

  • शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर।
  • व्यायाम न करने पर।
  • धूम्रपान और अल्कोहल का अधिक सेवन करने पर।
  • डायबिटीज एवं थाइराइड होने पर।
  • सूर्य के प्रकाश का शरीर पर न पड़ना।
  • पर्यावरण का प्रदूषित होना।
  • मीनोपॉज में महिलाओं में कम एस्ट्रोजन का स्तर होना।
  • कैंसर ट्रीटमेंट थेरेपी और रूमेटाइड आर्थराइटिस।
  • बिना मूवमेंट की लाइफस्टाइल का होना।

कैसे करें ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम?

ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित मरीजों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है। जिससे रोगी को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन लोग कुछ सावधानियों को बरतें तो वह ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम कर सकते हैं;

 
  • आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन इत्यादि पौष्टिक युक्त भोजन का सेवन करें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें। ताकि वह लोग सेहतमंद रहें।
  • सभी लोगों को अपने वजन को नियंत्रित करना चाहिए। जिससे उन्हें किसी प्रकार की गंभीर बीमारी न हो सके।
  • अपने स्वास्थ्य को नियमित रूप से चेक करवाएं। जिससे पता चलता है कि हम पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं।

ऑस्टियोपोरोसिस के घरेलू उपाय

सेब का सिरका

सेब के सिरके का उपयोग कई मामलों में सेहत के लिए लाभप्रद साबित होता है। क्योंकि यह कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। यह पोषक तत्व हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं। इसलिए सेब का सिरका ऑस्टियोपोरोसिस और गठिया के उपचार के लिए अच्छा माना जाता है।

 

विटामिन युक्त खाद्य पदार्थो का सेवन

ऑस्टियोपोरोसिस के इलाज और रोकथाम में विटामिन्स का महत्वपूर्ण योगदान होता हैं। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफार्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार, विटामिन-डी आंतों में कैल्शियम के अवशोषण को बढ़ाता है। वहीं, विटामिन-सी हड्डियों के घनत्व को बढ़ाता है और उन्हें मजबूती प्रदान करता है। इसलिए हमें अपने भोजन में विटामिन से समृद्ध खाद्य पदार्थों जैसे पनीर, खट्टे फल, हरी पत्तेदार सब्जियों आदि का सेवन करना चाहिए।

 

एसेंशियल ऑयल फायदेमंद

ऑस्टियोपोरोसिस से बचने या लक्षणों को कम करने के लिए एसेंशियल ऑयल का सेवन अच्छा उपाय हैं। क्योंकि इनमें थाइमोल, बोर्नियोल,अल्फा-पिनीन, बीटा-पिनीन और मेन्थॉल जैसे घटक पाए जाते हैं। यह सभी तत्व हड्डियों के स्वास्थ्य को बढ़ाने और ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या को कम करने में सहायक होते हैं।

 

त्रिफला हैं फायदेमंद

आयुर्वेद के अनुसार हड्डियों की समस्याओं से बचाने के लिए त्रिफला का सेवन अच्छा माना जाता है। त्रिफला तीन आयुर्वेदिक औषधियों हरड़, बहेड़ा और आंवला से मिलकर बना होता है। जो हड्डियों को क्षतिग्रस्त होने से बचाने और उन्हें मजबूत बनाने में मदद करता है। साथ ही इसमें एंटी-अर्थराइटिक और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाया जाते हैं। जो हड्डियों के कोलेजन को बढ़ाने के अलावा ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव में मदद करते हैं।

 

डैंडिलियन चाय

डैंडेलियन को सिंघपर्णी के नाम से भी जाना जाता है। इससे कई बिमारियों का उपचार किया जाता हैं। क्योंकि इसमें इनुलिन नामक तत्व पाया जाता है, जो एक प्रकार कर कार्बोहाइड्रेट होता है। यह तत्व कई बीमारियों को दूर करने के अलावा हड्डियों की कमजोरी को दूर करने में भी सहायक होता है।

 

धनिया

 

धनिया हड्डियों की मजबूती और उन्हें बनाने वाले ऊतकों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। एक रिसर्च पेपर के अनुसार, धनिया पत्ते में सिलिकान नामक तत्व पाया जाता है। जो हड्डियों को स्वस्थ रखने और ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम के लिए अच्छा साबित होता है।

 

ब्रोकली हैं फायदेमंद                

ब्रोकली को खाने से हड्डियां एवं शरीर की जोड़े मजबूत रहती हैं। दरअसल ब्रोकली विटामिन-के, कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होती है। यह पौष्टिक तत्व हड्डियों को मजबूत रखने का काम करते हैं। इसलिए जिन लोगों की हड्डियां और जोड़े कमजोर हैं उन्हें अपने आहार में ब्रोकली को जरूर शामिल करना चाहिए।

Read More
Whooping Cough- Symptoms, Causes and Home remedies

Posted 17 March, 2022

Whooping Cough- Symptoms, Causes and Home remedies

Coughing with cold is common due to change in weather which is caused by a common infection but sometimes the cough is persistent and prolonged and while coughing, shortness of breath and strange sounds start coming. All these symptoms point towards whooping cough which can happen to any person but it should not be ignored as a sign of changing weather. Doing so can have many side effects.
 

What is Whooping cough? 

Whooping cough is also known as pertussis which is a respiratory tract infection. When infected with whooping cough, a person starts coughing or mucus starts pouring from the nose. Apart from this, a whoop-like sound is heard in breathing. Its effect is not immediately visible on the person but after 2 to 3 weeks, the effects start appearing. This disease can be seen in people of any age but most of all it affects new-borns and young children.
 

Stages of Whooping cough

 

First stage-

The first stage of pertussis is similar to that of the common cold. This phase lasts for one to two weeks. This stage is also called catarrhal. During this, there is a constant sneezing, runny nose, and low-grade fever and sometimes accompanied by cough.

 

Second stage-

The second stage is called paroxysmal. During this the cough is severe. Also, there is a loud noise while coughing. Apart from this, vomiting and tiredness are felt in the person's body.

 

Third stage-

The third stage of whooping cough is severe. This stage lasts for 2 to 3 weeks and is known as the convalescent i.e., the recovery phase. During this, the disease is treated under the supervision of a doctor and with the help of antibiotics.

 

Causes of Whooping cough

Whooping cough is a contagious bacterial infection which is caused by bacteria called Bordetella pertussis which affects the respiratory system. This damages the cilia (the upper part of the respiratory system) and causes swelling in the nasal canal. It spreads through contact with an infected person because when an infected person coughs or sneezes, these bacteria are spread in the air. During this, if a healthy person comes in contact with these droplets, then the bacteria settle in the person's lungs and spread the infection. Thus, it spreads very rapidly from one person to another.

 

Symptoms of Whooping cough

The symptoms of pertussis are not visible immediately, it takes about 1 to 2 weeks for it to be visible but in most cases, the symptoms of whooping cough are similar to those of cold and flu. Apart from this, there are some other symptoms as well, these are-

 
  • Mild fever.
  • Runny mucus.
  • Mild sore throat.
  • Difficulty in breathing
  • Whoop sound in breathing.
  • Body turning blue.
  • Vomiting during or after coughing.
  • Mild difficulty in swallowing.
  • Apnea- Interruption of breathing in new-borns and young children.
  • Persistent dry throat.
  • Pain in jaw and neck.
  • Common symptoms of cold like runny nose, redness of eyes and nasal congestion due to sinus etc.
 

Take these precautions in case of Whooping cough

  • Get maximum rest.
  • Don't smoke at all.
  • Drink plenty of fluids.
  • Do not consume ice cream, curd, or ice water at all.
  • Avoid going into an infected and polluted environment.
  • Always wear a mask if a person is infected with it. By doing this, other members of the house will be protected from this infection.
  • After coughing, there is no problem with vomiting, so take light food.
  • Avoid the consumption of oily and fatty food.
  • Wash hands thoroughly before eating to avoid any kind of infection.
  • Wash hands thoroughly after sneezing and coughing or after coming from the toilet.
 

Home remedies to reduce Whooping cough

 

Garlic is beneficial-

Garlic has antibacterial properties which help in reducing whooping cough. In addition, garlic has antimicrobial properties that activate the immune system and protect against infection. For this, sucking 2 to 3 cloves of garlic between your teeth is beneficial.

 

Ginger-

Antibacterial properties are found in ginger which works to fight the bacteria of whooping cough. Therefore, using ginger in any form is beneficial for bacterial infections.

 

Basil is beneficial for whooping cough-

Tulsi is used as a home remedy for cough, cold, diarrhoea or other viral and bacterial infections. Tulsi has antioxidant properties which work to protect the body from the problems caused by the changing seasons. Tulsi also enhances immunity. For this, put one teaspoon of clove powder, black pepper and ten to fifteen fresh basil leaves in about one litre of water and boil it until it becomes half. Now filter its decoction and drink it like tea, it provides relief in whooping cough. Apart from this, taking steam by boiling basil in water is also beneficial in case of cold.

 

Turmeric and dry ginger-

Sonth means dry ginger which has antibacterial properties which kill the bacteria that cause infection in the body. For this, mix one teaspoon of black pepper powder, one teaspoon turmeric, one teaspoon dry ginger powder and a little sugar. Now put it in a cup of water, heat it and drink it after cooling it. It gives relief to pertussis.

 

Lemon and honey-

According to Ayurveda, both lemon and honey have immunity-boosting properties, that is why the use of lemon and honey is recommended in case of whooping cough. This mixture detoxifies the body and also increases immunity. For this, take a glass of lukewarm water mixed with lemon juice and honey.

 

Ajwain-

Consuming Ajwain water is known as a home remedy for whooping cough. Research related to this shows that ajwain works to provide relief from common phlegm to whooping cough. Antibacterial properties are found in celery which works to fight the bacteria of whooping cough. Also, putting ajwain oil in hot water and taking its steam provides quick relief.

 

Coriander tea-

Coriander seeds boost the body's immune system to fight bacteria. For this, make tea by adding a tablespoon of coriander powder, a little milk and sugar in a glass of water and give it to the patient twice a day. In this way, coriander tea works as a very effective medicine in whooping cough or other types of bacterial infections.

 

Onion-

In traditional medicine, onions have been used for asthma, bronchitis as well as whooping cough because onions have anti-inflammatory, anti-allergic, anti-carcinogenic and antioxidant properties that destroy bacteria. For this, the roasted onion should be consumed with honey or by mixing one spoon of honey in onion juice.

Read More