Cart

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF. 5% OFF ON PREPAID ORDERS

Use Code VEDOFFER20 & Get 20% OFF.
5% OFF ON PREPAID ORDERS

No Extra Charges on Shipping & COD

पनीर के फायदे और नुकसान

Posted 13 December, 2021

पनीर के फायदे और नुकसान

पनीर के स्वास्थ्य लाभ प्रोटीन की आपूर्ति करने, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और स्तन कैंसर के खतरों कम करने के लिए जाने जाते हैं। पनीर कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम, फास्फोरस, जिंक और सेलेनियम के रूप में विभिन्न खनिजों का एक अच्छा स्रोत है। पनीर में पाए जाने वाले बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन शरीर में विभिन्न चयापचय गतिविधियों में सहायक होते हैं। 100 ग्राम पनीर में 98ग्राम कैलोरी ऊर्जा, 3.38 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 4.6 ग्राम वसा, 2.6 ग्राम चीनी, 11.12 ग्राम प्रोटीन पाई जाती है। इसके अलावा इसमें दूसरे विटामिन्स जैसे थियामिन, रिबॉफ्लेविन, नियासिन आदि भी पाए जाते हैं। साथ ही इसमें कैल्शियम, सोडियम, ज़िंक, फास्फोरस, पोटैशियम और लोहा आदि भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

 

पनीर के फायदे

कैंसर से बचाता है पनीर -

पनीर में काफी मात्रा में उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन डी मौजूद होते हैं। जो ब्रेस्ट कैंसर को होने से रोकते हैं। पनीर में संयुग्मित लिनॉलिक एसिड (Conjugated linoleic acid) होता है। जो कैंसर को रोकने में सहायक होता है। शिन एट अल द्वारा सार्वजनिक स्वास्थ्य के हार्वर्ड स्कूल में आयोजित अनुसंधान में पाया गया कि रजोनिवृत्ति महिलाओं के मामले में, कैल्शियम और विटामिन डी का स्तर स्तन कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, पनीर में एक सेलेनियम नामक तत्व पाया जाता है। सेलेनियम एक एंटीऑक्सीडेंट है। जो नुकसान से कोशिकाओं की रक्षा करता है और यह डीएनए के रूप में उपयोगी है। यह भी माना जाता है कि सेलेनियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करता है।

 

प्रोटीन के लिए फायदेमंद है कच्चा पनीर-

पनीर के सबसे बड़े लाभों में से एक हैं। पनीर में कैसिइन प्रोटीन की उच्च मात्रा का होती है। माना जाता है कि गाय के दूध में कैसिइन प्रोटीन उच्चतम मात्रा में होता है। वहीं, पनीर में मौजूद प्रोटीन की मात्रा शाकाहारियों के लिए बहुत अच्छी होती है। क्योंकि यह उन्हें दैनिक प्रोटीन के लिए आवश्यक मात्रा की आपूर्ति करता है। ज़रूरी नहीं है कि पनीर कोपकाकर ही खाया जाए, बिना पकाएं भी इसका सेवन किया जा सकता है। यह डीएनए और आरएनए के चयापचय में मदद करता है।

 

पनीर के गुण हैं गर्भवती महिलाओं के लिए लाभदायक -

गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम की ज़रूरत होती है और पनीर कैल्शियम का एक बहुत अच्छा स्रोत है। इसमें पाएं जाने वाला कैल्शियम और फास्फोरस गर्भवती महिलाओं के साथ-साथ बच्चे के संपूर्ण विकास के लिए भी लाभदायक होता है। इसलिए जो महिलाएं गर्भवती हैं,उनके लिए पनीर काफी लाभदायक होता है।

 

पनीर खाने के फायदे बनाए हड्डियों को मजबूत -

कैल्शियम दूध और उनके उत्पादों के साथ जुड़े प्रमुख तत्वों में से एक है। पनीर में मौजूद खनिज जैसे विटामिन ए, कैल्शियम, फास्फोरस और ज़िंग शरीर की हड्डियों के लिए काफी लाभदायक होते हैं। दूध और दूध के उत्पादों में पाएं जाने वाला कैल्शियम मजबूत हड्डियों के निर्माण में मदद करता है। पनीर में विटामिन बी होता है। जो शरीर को कैल्शियम प्रदान करता है। इसलिए हमें पनीर का सेवन करते रहना चाहिए। इसमें पाई जाने वाला ओमेगा -3 फैटी एसिड हड्डियों को न केवल मजबूत बनाता है। बल्कि गठिया से होने वाली बीमारी को भी रोकता है। पनीर में काफी मात्रा में कैल्शियम होता है। जो न केवल हड्डियों को मजबूत बनाता है, बल्कि उपयुक्त मात्रा में शरीर को कैलोरी भी देता है। जिससे वजन आसानी से बढ़ सकता है।

 

पनीर के लाभ करें रक्त में शर्करा के स्तर को कम-

पनीर मैग्नीशियम का एक अच्छा स्रोत है। मानव शरीर में, सबसे अधिक मैग्नीशियम हड्डियों में केंद्रित होता है। मैग्नीशियम भी एक उत्प्रेरक (catalyst) के रूप में कार्य करता है। जो जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं को बढ़ावा देता है। शरीर में विभिन्न एंजाइमों को सक्रिय करता है। मांसपेशियों और तंत्रिका कामकाज और प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाएं रखता है। यह रक्त में शर्करा के स्तर को बनाएं रखने में मदद करता है और दिल के दौरे, कब्ज, मानसिक विकारों, माइग्रेन और कोलेजन से बचाने में मदद करता है।

 

ब्लड प्रेशर को कॉटेज चीज से करें कम -

अन्य पोषक तत्वों के अलावा, पनीर में पोटेशियम होता है। पोटेशियम शरीर में तरल पदार्थ संतुलन तत्व के रूप में कार्य करता है। जो मांसपेशियों और मस्तिष्क की तंत्रिका गतिविधियों के लिए एक महत्वपूर्ण घटक है। यह रक्त परिसंचरण में भी मददगार साबित होता है। यह मांसपेशियों की ऐंठन से भी राहत दिलाता है। एक नियमित आधार पर पोटेशियम का सेवन, मस्तिष्क स्ट्रोक के खतरे को रोकता है।क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को कम करता है। पनीरतनाव और चिंता के स्तर को भी कम करने में मददगार है।

 

पाचन को बेहतर बनाने के लिए लाभदायक है पनीर-

पनीर का नियमित सेवन करने सेशरीर में प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ती है। यह शरीर की पाचन शक्ति को बढ़ाता है। पनीर में पाई जाने वाला फॉस्फोरस और फाइबर पाचन तंत्र को मजबूत करता है और पेट को हमेशा अच्छा रखता है।

 

पनीर के नुकसान -

  • पनीर खाना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। लेकिन पनीर का अधिक सेवन शरीर के लिए नुकसानदेह भी साबित हो सकता है।
  • पनीर में ज्यादा मात्रा में फैट मौजूद होता है।जो कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकता है।
  • कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना,दिल के लिए खतरा पैदा कर सकता है।
  • अगर आप वजन कम करने की सोच रहे हैं तो आपको पनीर नहीं खाना चाहिए।
  • कच्चा पनीर गर्भवती महिलाओं और उनके भ्रूण के विकास के लिए जोखिम भरा हो सकता है।
  • अधिक पनीर खाने से शरीर में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाती है जिससे दस्त की समस्या हो सकती है।
  • किडनी के रोगियों को पनीर का सेवन अपने चिकित्सक के परामर्श के अनुसार ही करना चाहिए। पनीर को आप किसी भी तरह खा सकते हैं।लेकिन सब्जी बनाते समय इसे अधिक नहीं पकाना चाहिए। क्योंकि इससे इसके पौषक तत्वों मेंकमी आ जाती है।
Read More
Amazing Benefits and Uses of Ghee

Posted 17 March, 2022

Amazing Benefits and Uses of Ghee

Ghee is one of the things easily available in every household consuming which is good for the body. Therefore, ghee is used to apply on chapatis and to enhance the taste of lentils and vegetables. In fact, many such nutrients are found in ghee, which works to give strength to the body. Therefore, ghee is used to make many types of dishes.

 

Elders often advise children to have ghee because they believe that consuming ghee turns physically strong and remains healthy for a long time. Apart from this, ghee is good for both physical and mental health. If the ghee is of cow, then it becomes even more beneficial.

 

What is Ghee?

Milk and many types of products made from it have been used in India since ancient times, among which curd, butter, paneer, rabri, khoya means mawa etc. One of these products is 'Ghee' which is made by cooking cream or butter extracted from milk. When butter is cooked properly, after a time the buttermilk portions get separated from it and a different kind of substance is obtained. This substance obtained is called ghee. Ghee is considered to be the best among all types of greasy and oily substances. This is the reason why it is used in many Ayurvedic medicines apart from food items.

 

Benefits of ghee

Ghee is beneficial for people of all ages. It works to provide strength to the body and increases immunity, which helps protect the body from many diseases. Let us discuss some of the major benefits of ghee-

 
For immunity-

According to a research report done on ghee, it contains a conjugated linolenic acid which helps increase the body’s immunity and cure physical weakness.

 
For digestion-

Poor digestion power of the body is the cause of many problems but according to Ayurveda, the digestive power of the body improves by consuming ghee. However, ghee should be consumed only in a limited quantity.

 
For cough-

There are many reasons for cough and if seen, coughing is a very common problem but cough for a long time is not good. Therefore, according to Ayurvedic experts, consuming ghee at the time of cough proves beneficial but keep in mind that at the time of cough with mucus (phlegm), the consumption of ghee should be minimized.

 
For eyes-

All the nutrients are present in ghee among which is Vitamin-A which is very important for the eyes. Since the lack of vitamin-A affects eyesight, therefore, the defects of the eyes can be cured by the consumption of ghee.

 
For heart health-

According to scientific research published by NCBI (National Center for Biotechnology Information), ghee works to control the cholesterol of the body. According to the report, adding ghee to different types of Ayurvedic herbs produces an antioxidant effect that helps in reducing harmful cholesterol and increasing good cholesterol in the body.

 
To remove weakness-

People who do physical work or go to the gym should consume ghee because it increases the strength of the body. Apart from this, children and infants should also be fed ghee as a diet because it develops their mental and physical health.

 
For the prevention of wounds, swelling and scars-

Ghee has healing properties that reduce bacteria. Therefore, when ghee is used with honey, it proves to be even more beneficial. Using ghee and honey together helps in wound healing, reduces inflammation and removes scars. Keep in mind that ghee with honey should be used only on the affected area in the form of a paste because consuming this mixture can prove to be harmful.

 
For Vata effect-

Consumption of ghee continuously helps in reducing the effect of Vata in the body. As a result, the diseases caused by the outbreak of Vata are not able to affect the body quickly.

 
For mental diseases-

According to Ayurveda, regular consumption of ghee increases memory and reasoning ability. It also provides relief from many mental diseases.

 
For sperm-

Fertility is affected when there is a decrease in the number and quality of sperm in the body which can also have an effect on the child to be born but for those who consume ghee, the chances of getting such problems are reduced as the consumption of ghee improve sperm count and quality but it is better to consume ghee for sperm only as per medical advice.

 

Uses of Ghee

  • Most of the ghee is consumed by applying it to chapatis.
  • Desi Ghee, mixed with various herbs, is used to cure many diseases.
  • Ghee is used for tempering many vegetables and lentils.
  • Ghee is an essential ingredient in South India to make delicious dishes like Idli, Dosa and Uttapam.
  • Ghee is used in the preparation of many sweets and dishes.
  • Drinking ghee mixed with black pepper, ginger and sugar tea is good for cough and throat problems.
  • The effect of heat can be reduced by eating a spoonful of ghee mixed with light sugar during summers.
  • Ghee can also be used in place of oil to make any food item.

Side effects of Ghee

  • Ghee contains a good amount of Vitamin A. Excessive intake of vitamin A can cause headaches, loss of appetite, vomiting and blockage of the airways.
  • Excess consumption of ghee can also cause indigestion and diarrhoea problems. Therefore, it should be consumed in limited quantity.
Read More
Benefits & Side effects of Cottage Cheese

Posted 13 December, 2021

Benefits & Side effects of Cottage Cheese

The health benefits of cottage cheese are known to supply protein, vitamin B complex and reduce the risk of breast cancer. Paneer is a good source of various minerals such as calcium, magnesium, potassium, phosphorus, zinc and selenium. The B-complex vitamins found in paneer are helpful in various metabolic activities in the body. 98 grams of energy, 3.38 grams of carbohydrates, 4.6 grams of fat, 2.6 grams of sugar, 11.12 grams of protein are found in 100 grams of paneer. Apart from this, other vitamins such as thiamin, riboflavin, niacin etc. are also found in it. Along with this, calcium, sodium, zinc, phosphorus, potassium and iron etc. are also found in abundance in it.

 

Benefits of Cheese

Cheese prevents cancer-

Paneer is rich in high-quality protein, calcium and vitamin D which prevent breast cancer. Cheese contains conjugated linoleic acid which helps in preventing cancer. Research conducted at the Harvard School of Public Health by Shin et al. found that in the case of menopausal women, calcium and vitamin D levels help reduce the risk of breast cancer. Apart from this, an element called selenium is found in paneer. Selenium is an antioxidant that protects cells from damage and is useful as DNA. It is also believed that consuming selenium-rich foods reduces the risk of prostate cancer.

 

Raw cheese is beneficial for protein-

One of the biggest benefits of paneer is that it contains a high amount of casein protein. Casein protein is believed to be the highest in cow's milk. At the same time, the amount of protein present in paneer is very good for vegetarians because it supplies them with the required amount of daily protein. It is not necessary that paneer should be eaten after cooking, it can be consumed without cooking it. It helps in the metabolism of DNA and RNA.

 

Beneficial for pregnant women-

Pregnant women need calcium and paneer is a very good source of calcium. The calcium and phosphorus found in it are beneficial for pregnant women as well as for the overall development of the child. Therefore, paneer is very beneficial for women who are pregnant.

 

Make bones strong-

Calcium is one of the key elements associated with milk and its products. The minerals present in paneer like vitamin A, calcium, phosphorus and zinc are very beneficial for the bones of the body. Calcium found in milk and milk products helps in building strong bones. Cheese contains vitamin B which provides calcium to the body that's why we should keep consuming cheese. Omega-3 fatty acids found in it not only strengthen bones, rather, it also prevents the disease caused by arthritis. Cheese contains a lot of calcium which not only makes the bones strong but also gives the body a suitable amount of calories due to which weight can easily increase.

 

Reduce the level of sugar in the blood-

Cheese is a good source of magnesium. In the human body, most magnesium is concentrated in the bones. It acts as a catalyst that promotes biochemical reactions and activates various enzymes in the body. It maintains muscle and nerve functioning and immune system. It helps maintain blood sugar levels and helps protect against heart attacks, constipation, mental disorders, migraines and collagen.

 

Reduce blood pressure with cottage cheese-

In addition to other nutrients, cottage cheese contains potassium. Potassium acts as a fluid balancing element in the body. It is an important component for the nervous activity of muscles and the brain. It also proves helpful in blood circulation. It also gives relief from muscle spasms. Consuming potassium on a regular basis prevents the risk of brain stroke because it lowers blood pressure. Paneer is also helpful in reducing stress and anxiety levels.

 

Paneer is beneficial to improve digestion-

Regular consumption of cottage cheese increases the immunity of the body. It enhances the digestive power of the body. The phosphorus and fibre found in paneer strengthen the digestive system and keeps the stomach always good.

 

Side effects of Cheese

  • Eating cheese is beneficial for health but excessive consumption of cottage cheese can also prove to be harmful to the body.
  • Cheese contains a high amount of fat which can increase cholesterol. High cholesterol can pose a risk to the heart.
  • If you are thinking of losing weight then you should not eat paneer.
  • Raw cheese can be risky for pregnant women and their developing fetuses.
  • Eating more cheese increases the amount of protein in the body which can cause diarrhoea.
  • Kidney patients should consume paneer according to the advice of their doctor. You can eat paneer in any way but while preparing the vegetable, it should not be overcooked because it reduces its nutrients.
 
Read More
ग्रीन कॉफी के अद्भुत फायदे

Posted 17 March, 2022

ग्रीन कॉफी के अद्भुत फायदे

आज चाय और कॉफी हमारी दिनचर्या का अहम हिस्सा बन गए हैं। जिसके बिना कई लोग खुद को फ्रेश तक फील नहीं कर पाते। इसलिए तमाम लोग खुद को फ्रेश महसूस करने के लिए अपने दिन की शुरुआत चाय और कॉफी के साथ करते हैं। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इन पेय पदार्थों के सेवन से शरीर में ताजगी और स्फूर्ति का संचार होता है।

 

लेकिन जहां लोग पहले इन्हें शरीर में ताजगी लाने और स्वाद के लिए पीते थे। वहीं आज ज्यादातर लोग इनका सेवन स्वास्थ्य के लिहाज से भी करते हैं। जिसके लिए हर्बल और ग्रीन-टी के रूप में कई विकल्प बाजार में उपलब्ध हैं। जिसमें एक नाम ग्रीन कॉफी (Green Coffee) का भी जुड़ गया है। क्योंकि ग्रीन कॉफी एक ऐसा उत्‍पाद है, जिसका सेवन करना अच्‍छे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बढ़िया रहता है। क्योंकि इसमें मौजूद पोषक तत्‍व और एंटीऑक्‍सीडेंट शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होते हैं। इसलिए तमाम लोग वजन घटाने और अन्य स्‍वास्‍थ्‍य उद्देश्‍यों की पूर्ति के लिए इसका सेवन करते हैं।

 

क्या है ग्रीन कॉफी?

ग्रीन कॉफी वास्तविक रूप में कॉफी का नेचुरल रूप है। क्योंकि कॉफी के बीजों का प्राकृतिक रूप हरा ही होता है। जिसे अलग-अलग तापमान पर भूनकर और फिर पीसकर सामान्य कॉफी बनाई जाती है। इस प्रक्रिया में कॉफी के बीजों से ऑयल बाहर निकल जाता है। परिणामस्वरूप कॉफी का रंग हरे से बदलकर हल्का या गहरा भूरा हो जाता है और थोड़ा स्वाद भी बढ़ जाता है। लेकिन इस प्रक्रिया से कॉफी के एंटी-ऑक्सिडेंट और प्राकृतिक औषधीय गुण खत्म हो जाते हैं। वहीं, जब कॉफी के बीजों को बिना भुने ही पीसकर पाउडर तैयार किया जाता है, तो इसे ग्रीन कॉफी कहते हैं।

 

ग्रीन कॉफी के फायदे:

 

ऊर्जा का स्तर बढ़ाने के लिए-

एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफार्मेशन) की साइट पर पब्लिश रिपोर्ट के अनुसार, ग्रीन कॉफी पीने से सतर्कता (अलर्टनेस) और दैनिक गतिविधियों के प्रदर्शन में सुधार होता है। इसके अलावा कैफीन युक्त पेय पदार्थों का सेवन करने से मस्तिष्क संबंधी (कॉगनेटिव) गतिविधियों में भी सकारात्मक परिवर्तन होता है। इसलिए ग्रीन कॉफी को ऊर्जा बढ़ाने वाला पेय पदार्थ माना जाता है।

 

हृदय के लिए-

हृदय स्वास्थ्य के लिए ग्रीन कॉफी का सेवन करना अच्छा होता है। ग्रीन कॉफी से संबंधित एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध के अनुसार ग्रीन कॉफी में एक क्लोरोजेनिक एसिड पाया है। जिसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। दरअसल यह एंटीऑक्सीडेंट गुण हृदय रोगों को दूर करने का काम करते है। इसके अलावा भी ग्रीन कॉफी में कुछ ऐसे घटक पाए जाते हैं। जो सेहत के लिए कई तरह से लाभदायक होते हैं।

 

डायबिटीज के लिए-

विशेषज्ञों के अनुसार ग्रीन कॉफी में क्विनिक एसिड, क्लोरोजेनिक एसिड, ट्राइगोनलाइन और लिग्नन सेकियोसोलेराइकिनसोल जैसे तत्व मौजूद होते हैं। जो शरीर में ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म में सुधार करके ब्लड शुगर को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा ग्रीन कॉफी का नियमित सेवन शरीर में इंसुलिन की सक्रियता को बढ़ाकर, टाइप 2 डायबिटीज के जोखिमों को कम करने में भी मदद करता है। इस तथ्य के आधार पर मधुमेह को कम करने के लिए ग्रीन कॉफी का सेवन करना एक अच्छा विकल्प है।

 

रक्तचाप के लिए-

ग्रीन कॉफी रक्तचाप की समस्या को कम करने में मददगार साबित होती है। एनसीबीआई की साइट पर प्रकाशित रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार, ग्रीन कॉफी में पाए जाने वाले उच्च पॉलीफोनिक पदार्थों में क्लोरोजेनिक एसिड का अहम स्थान है। क्योंकि एंटीऑक्सीडेंट गुणों से प्रचुर क्लोरोजेनिक एसिड, रक्तचाप की समस्या को कम करने में मददगार साबित होता है।

 

वजन कम करने के लिए-

ग्रीन कॉफी में कैफीन पाया जाता है। जो शरीर में भोजन से ऊर्जा बनने की क्रिया (मेटाबॉलिज्म) को बढ़ाता है। यह मेटाबॉलिज्म वजन को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा इन मेटाबॉलिज्म से पैदा होने वाली गर्मी भी मोटापे को नियंत्रित करने का काम करती है। इसलिए ग्रीन कॉफी को वजन कम करने के लिए एक अच्छा उपाय माना गया है।

 

तनाव के लिए-

विशेषज्ञों का मानना है कि ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन तनाव को कम करने में सकारात्मक भूमिका निभाता है। क्योंकि इसके सेवन से शरीर में अल्फा-एमिलेज नामक एंजाइम्स में बढ़ोत्तरी होती है। जो तनाव को दूर करने में सहायता करता है। इसके अलावा महिलाओं के लिए भी अवसाद में जाने का डर ग्रीन कॉफी के गुण से कम हो जाता है।

 

शरीर में एनर्जी लाने के लिए-

ग्रीन कॉफी में क्रोनॉलोजीकल एसिड पाया जाता है। जो शरीर के मेटाबॉलिज्म को सही रखने का काम करता है। मेटाबॉलिज्म रेट सही मात्रा में होने से शरीर की सकरात्मक ऊर्जा लंबे समय तक बनी रहती है। परिणामस्वरूप व्यक्ति का मन अच्छा रहता है।

 

त्वचा के लिए-

चूंकि ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन स्किन में अच्छी तरह समाकर कोशिका स्तर पर काम करने में सक्षम होता है। जिससे इसका मुख्य घटक त्वचा को अल्ट्रावायलेट रेडिएशन के दुष्प्रभाव से बचाने का काम करता है। इसके अलावा कैफीन त्वचा कोशिकाओं में फैट जमने से रोकने में भी मदद करता है। इस आधार पर ग्रीन कॉफी त्वचा के लिए फायदेमंद साबित होती है। इसलिए कई कॉस्मेटिक प्रोडक्ट में भी इसका उपयोग किया जाता है।

 

अल्जाइमर और डिमेंशिया के लिए-

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) की साइट पर प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार अल्जाइमर एक आम मानसिक बीमारी है। इसके अंतर्गत याद रखने और सोचने की क्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है। जिसके कारण डिमेंशिया नामक मनोविकार भी पैदा होने लगता है। चूंकि ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन, नर्वस सिस्टम (तन्त्रिका तन्त्र) को उत्तेजित कर, कॉगनेटिव (मानसिक) स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का काम करता है। यही वजह है कि अल्जाइमर और डिमेंशिया से सुरक्षा में ग्रीन कॉफी एक कारगर पेय पदार्थ है।

 

पार्किंसंस के लिए-                                     

पार्किंसंस एक प्रकार का दिमागी रोग है। जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है। जिससे मस्तिष्क में मौजूद तंत्रिका कोशिकाएं डोपामाइन नामक तत्व का पर्याप्त मात्रा में निर्माण नहीं कर पातीं। परिणामस्वरूप व्यक्ति को चलने-फिरने और संतुलन बनाने में बेहद कठिनाई होती है। इस अवस्था को ही पार्किंसंस रोग कहा जाता है।

 

एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की साइट पर पब्लिश रिपोर्ट के मुताबिक, ग्रीन कॉफी में तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करने वाले न्यूरोस्टिमुलेंट और इसको सुरक्षा देने वाले न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण मौजूद होते हैं। वहीं, कैफीन केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर भी सकारात्मक असर डालता है। इसी कारण ग्रीन कॉफी को पार्किंसंस रोग के उपचार के लिए अच्छा माना जाता है।

 

ग्रीन कॉफी के नुकसान-

  • चूंकि ग्रीन कॉफी में कैफीन की प्रचुर मात्रा होती है। इसलिए इसका अधिक सेवन अनिद्रा, बेचैनी, पेट खराब, मतली, उल्टी, हृदय रोग जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है।
  • ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन की मात्रा शरीर में बढ़ने पर तनाव, रक्तस्राव विकार, दस्त और उच्च रक्तचाप जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।
  • चूंकि ग्रीन कॉफी में अच्छी मात्रा में क्लोरोजेनिक एसिड पाया जाता है। इसलिए इसका अधिक सेवन हृदय रोग का कारण बन भी सकता है।
  • ग्रीन कॉफी का जरूरत से ज्यादा सेवन करने से धड़कन का तेज होना और सिरदर्द जैसी परेशानियां भी शुरू हो सकती हैं।
Read More
आयुर्वेद में हिमालय साल्ट (सेंधा नमक) का महत्व और फायदे

Posted 24 May, 2022

आयुर्वेद में हिमालय साल्ट (सेंधा नमक) का महत्व और फायदे

सभी रसोई घरों में खाने के लिए नमक का इस्तेमाल किया जाता है। उन्हीं में से एक हिमालय साल्ट भी है। जिसे हिंदी में सेंधा नमक और अंग्रेजी में रॉक साल्ट कहतें हैं। ज्यादातर लोग इसका इस्तेमाल व्रत में साधारण नमक की जगह करते हैं। इसके अलावा हिमालय साल्ट अर्थात सेंधा नमक का प्रयोग घरो में मसाले, चूर्ण, काढ़े और पानी के रूप में किया जाता है।

 

हिमालय साल्ट एक प्रकार का खनिज है। जिसे नमक का शुद्ध रूप माना जाता है। क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार का मिलावट या केमिकल नहीं होता। इसके अल या केमिकल नहीं होती र केवा इसे खाने योग्य बनाने के लिए भी किसी तरह के रासायनिक प्रक्रिया (Chemical Process) से नहीं गुजरना पड़ता है। यह नमक पहाड़ों में पाया जाता है। जिसके कारण इसे प्राकृतिक औषधि के रूप में देखा जाता है। हिमालय साल्ट को सेंधा नमक, सिन्धा नमक, सैन्धव नमक, लाहौरी नमक आदि नामों से भी जाना जाता है। 

 

चूंकि सेंधा नमक को चट्टानों से निकाला जाता है। इसलिए इसे रॉक सॉल्ट भी कहते हैं। और चूंकि इसे हिमालय क्षेत्रों से प्राप्त किया जाता है। इसलिए इसे हिमालय साल्ट भी कहा जाता है। सेंधा नमक का सेवन सफेद नमक की अपेक्षा ज्यादा उपयोगी होता है। क्योंकि सेंधा नमक कृत्रिम रूप से आयोडीनाइज नहीं किया जाता है। सेंधा नमक को मराठी में शेंडे लोन और रासायनिक रूप से मैग्नीशियम सल्फेट भी कहा जाता है।

 

आयुर्वेद में हिमालय साल्ट (सेंधा नमक) का महत्व-

हल्के गुलाबी रंग के इस नमक में ऐसे कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो साधारण नमक की तुलना में इसे ज्यादा सेहतमंद बनाते हैं। हिमालय साल्ट यानी सेंधा नमक में मिनरल्स अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए इसके सेवन से आंखों और शरीर में सूजन जैसे दुष्प्रभाव भी कम होते हैं। इसके अलावा सेंधा नमक में आयरन की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। जो सीने की जलन, सूजन और पेट फूलने की समस्या से निजात दिलाने में मदद करती है। साथ ही सेंधा नमक उच्च रक्तचाप एवं डायबिटीज के रोगियों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। क्योंकि इसमें मैग्नीशियम की अधिक मात्रा होती है। जिससे ब्लड शुगर एवं रक्तचाप बढ़ने का जोखिम कम हो जाता है। इसलिए आयुर्वेद में सेंधा नमक या हिमालय साल्ट को उत्तम दर्जे की औषधि माना गया है।

 

हिमालय साल्ट (सेंधा नमक) के फायदे-

 

मांसपेशियों के ऐंठन से राहत-

इलेक्ट्रोलाइट्स (कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटैशियम) की कमी मांसपेशियों में ऐंठन की वजह बनती है। लेकिन हिमालय साल्ट यानी सेंधा नमक में इलेक्ट्रोलाइट्स की भरपूर मात्रा होती है। जो ऐंठन की समस्या को कम करने में सहायता करते हैं।

 

हड्डियों के लिए फायदेमंद-

मैग्नीशियम और कैल्शियम हड्डियों के निर्माण और उनकी सेहत को बनाए रखने के लिए जरूरी होते हैं। चूंकि सेंधा नमक को कैल्शियम और मैग्नीशियम का अच्छा स्रोत माना जाता है। जो हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसके लिए सेंधा नमक के पानी में कुछ देर के लिए पैर भिगोकर रखने से हड्डियों में मजबूती आती है। साथ ही ऐसा करने से जोड़ों के दर्द में भी आराम पहुंचता है। इसलिए सेंधा नमक का सेवन करना हड्डियों के लिए अच्छा होता है।

 

सूजन के लिए-

सेंधा नमक एंटीऑक्सीडेंट, अल्कलॉइड, फ्लेवोनोइड, फेनोलिक एसिड और सैपोनिन्स जैसे तत्वों से भरपूर होता है। जो सूजन और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा सेंधा नमक में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी का प्रभाव भी सूजन को कम करने और रोकने में सहायता करता है।

 

उच्च रक्तचाप के लिए फायदेमंद-

जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या होती है। उन्हें डॉक्टर्स ज्यादा नमक न खाने की सलाह देते हैं। लेकिन हिमालय साल्ट बीपी में भी मदद करता है। क्योंकि इसमें आयरन की मात्रा प्रचुर पाई जाती है। जो ब्लड प्रेशर के लिए जरूरी होता है। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन को भी सही करता है। जिससे रक्तचाप नियंत्रित होता है। इसके अलावा खाने में सेंधा नमक का इस्तेमाल करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी कम होता है। जिससे हार्ट संबंधी तमाम परेशानियां दूर होती हैं।

 

मस्तिष्क विकास के लिए-

सेंधा नमक में मौजूद न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण दिमाग का विकास कर, उससे जुड़ी तमाम बीमारियों को दूर करने में मदद करते हैं। इसके अलावा सेंधा नमक के सेवन से ऑक्सीजन का संचारण बढ़ता है। जिससे ब्रेन एक्टिव होता है। साथ ही दिमाग की याददाश्त भी बढ़ती है और न्यूरोनल कोशिकाओं की रक्षा भी होती है।

 

तनाव और चिंता के लिए-

सेंधा नमक में न्यूरो प्रोटेक्शन गुण पाए जाते हैं। जो दिमाग को शांत कर, ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस से लड़ने का काम करते हैं। इसलिए इसका सेवन चिंता और तनाव को दूर करने में सक्षम होता है। इसके अलावा सेंधा नमक के पानी में पैर भिगोकर रखने से तनाव और दर्द की समस्या दूर होती है। परिणामस्वरूप रात को अच्छी नींद आती है।

 

त्वचा के लिए-

सेंधा नमक कई प्राकृतिक खनिजों से समृद्ध होता है। इसलिए इसे स्क्रब और स्पा की तरह उपयोग करने से मृत कोशिकाओं को हटाने में मदद मिलती है। सेंधा नमक त्वचा की कोशिकाओं को पुनर्जीवित (स्किन रिजुवनेशन) करने का काम करता है। साथ ही यह त्वचा की प्राकृतिक बनावट को सुरक्षित रखकर चमक प्रदान करता है। इसके अलावा सेंधा नमक में क्लींजिंग प्रॉपर्टीज भी होती हैं। जो त्वचा की गंदगी को साफ करने का काम करती हैं। इसके लिए सेंधा नमक को गुनगुने पानी में डालकर नहाने से त्वचा की गंदगी साफ हो जाती है।

 

मेटाबॉलिज्म को ठीक रखने में मददगार-

सेंधा नमक के पानी में पैर भिगोकर रखने से त्वचा की देखभाल के अलावा यह मेटाबॉलिज्म को सुचारू रूप से ठीक रखने में कारगर होता है। क्योंकि ऐसा करने से शरीर और मस्तिष्क दोनों को आराम मिलता है। जिसका मेटाबॉलिज्म पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

 

मौखिक स्वास्थ्य के लिए-

मुंह से जुड़ी तमाम परेशानियों को दूर करने में भी हिमालय साल्ट लाभकारी सिद्ध होता है। इसके लिए सेंधा नमक युक्त गुनगुने पानी से कुल्ला करने से मुंह की दुर्गंध खत्म हो जाती है। वहीं, ऐसा करने से बलगम की समस्या एवं गले की खराश भी दूर होती है।

 

बालों के लिए-

सेंधा नमक यानी हिमालय साल्ट में क्लींजिंग और एक्सफोलिएटिंग दोनों गुण मौजूद होते हैं। जो स्कैल्प और बालों को साफ करने का काम करते हैं। इसके अलावा सेंधा नमक युक्त पानी से बाल धोने पर बालों की कंडीशनिंग भी होती है।

 

हिमालय साल्ट का उपयोग-

  • हिमालय साल्ट को साधारण नमक की जगह पर सब्जी बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • नींबू पानी और शिकंजी बनाने के लिए भी सेंधा नमक का उपयोग किया जाता है।
  • दातों और मसूड़ों के लिए टूथपेस्ट या माउथवाश के रूप में हिमालय साल्ट का उपयोग किया जाता है।
  • नहाने या थेरेपी के दौरान इसका उपयोग किया जाता है।
  • दही वड़ा, रायता और पानी पुरी में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।
  • पुदीने की चटनी बनाने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।
  • चाट मसाला और पाव भाजी में भी सेंधा नमक का उपयोग किया जाता है।

हिमालय साल्ट के सेवन हेतु बरतें यह सावधानियां-

  • जिन लोगों की त्वचा संवेदनशील है या उन्हें किसी भी प्रकार का स्किन इन्फेक्शन है। तो उन्हें हिमालय साल्ट का उपयोग त्वचा पर नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से त्वचा पर सूजन या दाने हो सकते हैं।
  • अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से पेट से जुड़ी समस्याएं जैसे पेट में दर्द, दस्त, उल्टी आदि हो सकती है।
  • सेंधा नमक का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में मैग्नीशियम की मात्रा बढ़ जाती है। जिससे दिल को खतरा हो सकता है।
  • सेंधा नमक से स्नान करते समय ध्यान रखें कि शरीर पर कोई चोट या घाव न हो। अन्यथा परेशानी बढ़ सकती है।
  • गर्भवती महिलाओं को हिमालय साल्ट का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।
  • किडनी की बिमारियों से गुजर रहे लोग इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।
  • छोटे बच्चे को हिमालय साल्ट यानी सेंधा नमक का सेवन नहीं करवाना चाहिए।
Read More
घी के अद्भुत लाभ और उपयोग

Posted 17 March, 2022

घी के अद्भुत लाभ और उपयोग

घी हर घर में आसानी से मिलने वाली चीजों में एक है। जिसका सेवन करना शरीर के लिए बढ़िया रहता है। इसलिए रोटियों पर लगाने और दाल एवं सब्जी का स्वाद बढ़ाने के लिए घी का इस्तेमाल किया जाता है। दरअसल घी में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को ताकत देने का काम करते हैं। इसलिए कई तरह के व्यंजनों को बनाने के लिए घी का उपयोग किया जाता है।
 
अक्सर बड़े-बुजुर्ग भी बच्चों को घी खाने की सलाह देते हैं। क्योंकि उनका मानना है कि घी का सेवन करने से व्यक्ति शारीरिक रूप से मजबूत बनने के साथ लंबे समय तक स्वस्थ रहता है। इसके अलावा घी शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। वहीं, घी अगर गाय का हो तो यह और भी ज्यादा गुणकारी हो जाता है।
 

क्या होता है घी?

भारत में पुराने समय से ही दूध और इससे बने कई तरह के उत्पादों का उपयोग होता आया है। जिनमें दही, मक्खन, पनीर, रबड़ी, खोया अर्थात मावा आदि शामिल है। इन्हीं उत्पादों में से एक उत्पाद ‘घी’ भी है। जिसे दूध से निकाली गई मलाई या मक्खन को पकाकर बनाया जाता है। मक्खन को जब अच्छी तरह से पकाते हैं तो एक समय के बाद उससे छाछ के अंश अलग हो जाते हैं और एक अलग तरह का पदार्थ प्राप्त होता है। प्राप्त हुए इस पदार्थ को ही घी कहा जाता है। चिकने और तैलीय पदार्थों के सभी प्रकारों में घी को सबसे अच्छा पदार्थ माना जाता है। क्योंकि यह अन्य औषधियों एवं पदार्थों के साथ मिलकर उनकी ताकत को और बढ़ा देता है। यही कारण है कि इसका इस्तेमाल खाद्य पदार्थों के अलावा कई आयुर्वेदिक दवाओं में भी किया जाता है।
 

घी के फायदे-

घी हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होता है। यह शरीर को ताकत देने और इम्यूनिटी को बढ़ाने का काम करता है। जिससे शरीर को कई तरह के रोगों से बचाव करने में सहायता मिलती है। आइए चर्चा करते हैं घी के कुछ प्रमुख फायदों के बारे में-
 

प्रतिरोधक क्षमता के लिए-

घी पर की गई एक रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार, इसमें एक कंजगेटेड लिनोलेनिक एसिड (Conjugated Linolenic Acid) होता है। जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और शारीरिक कमजोरी को दूर करने में सहायता करता है।
 

पाचन के लिए-

शरीर की पाचन शक्ति का ठीक न होना, कई समस्याओं का कारण होता है। लेकिन आयुर्वेद के मुताबित घी के सेवन से शरीर की पाचन शक्ति में सुधार होता है। हालांकि घी का सेवन एक सीमित मात्रा में ही करना चाहिए।
 

खांसी के लिए-

खांसी होने के तमाम कारण होते हैं। और देखा जाए तो खांसी होना बेहद आम समस्या है। परंतु लम्बे समय तक खांसी रहना अच्छा नहीं होता। इसलिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के अनुसार खांसी के समय घी का सेवन करना लाभप्रद साबित होता है। लेकिन ध्यान रहे बलगम (कफ) वाली खांसी के समय घी का सेवन कम से कम करना चाहिए।
 

आंखों के लिए-

घी में तमाम पोषक तत्व मौजूद होते हैं। विटामिन-ए भी इन्हीं तत्वों में से एक है। जो आंखों के लिए बेहत जरूरी होता है। चूंकि विटामिन-ए की कमी से आंखों की रोशनी प्रभावित होती है। इसलिए घी के सेवन से आंखों के दोषों को दूर किया जा सकता है।
 

हृदय स्वास्थ्य के लिए-

एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) द्वारा प्रकाशित एक वैज्ञानिक रिसर्च के मुताबिक, घी शरीर के कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करता है। रिपोर्ट के अनुसार घी को विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों में मिलाने से उनमें एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव उत्पन्न होता है। जो शरीर में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करने और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है।
 

कमजोरी दूर करने के लिए-

जो लोग शारीरिक मेहनत करते हैं या जिम जाते हैं। उन्हें घी का सेवन जरूर करना चाहिए। क्योंकि घी के सेवन से शरीर की ताकत बढ़ती है। इनके अलावा छोटे बच्चों एवं शिशुओं को भी आहार के रूप में घी जरूर खिलाना चाहिए। क्योंकि इससे उनका मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का विकास होता है।
 

घाव, सूजन और निशान की रोकथाम के लिए-

घी में बैक्टीरिया को कम करने वाले हीलिंग गुण मौजूद होते हैं। इसलिए घी का उपयोग जब शहद के साथ किया जाता है तो यह और भी ज्यादा लाभप्रद साबित होता है। अत: घी और शहद का एक साथ इस्तेमाल करने से घाव भरने, सूजन को कम और घाव के निशानों को दूर करने में मदद मिलती है। ध्यान रहे शहद के साथ घी का उपयोग केवल लेप के रूप में प्रभावित हिस्से पर करना चाहिए। क्योंकि इस मिश्रण का सेवन करना हानिकारक साबित हो सकता है।
 

वात प्रभाव के लिए-

घी का लगातार सेवन करने से शरीर में वात के प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है। परिणामस्वरूप वात के प्रकोप से होने वाले रोग जल्दी से शरीर को नहीं लग पाते।
 

मानसिक रोगों के लिए-

आयुर्वेद के अनुसार घी का नियमित सेवन करने से याददाश्त और तार्किक क्षमता में बढ़ोतरी होती है। साथ ही कई मानसिक रोगों से छुटकारा भी मिलता है।
 

शुक्राणु के लिए-

शरीर में शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता में कमी होने पर प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है। जिसका असर जन्म लेने वाली बच्चे पर भी पड़ सकता है। लेकिन जो लोग घी का सेवन करने हैं, उन्हें इस तरह की परेशानी होने के चांस कम हो जाते हैं। क्योंकि घी के सेवन से शुक्राणुओं की संख्या एवं गुणवत्ता में सुधार होता है। लेकिन शुक्राणु हेतु घी का सेवन चिकित्सक सलाहानुसार करना ज्यादा बेहतर होता है।
 

घी के उपयोग-

  • सबसे ज्यादा घी का सेवन रोटी पर लगाकर किया जाता है।
  • देसी घी को तमाम जड़ी-बूटियों के साथ मिलाकर, कई रोगों को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  • घी का उपयोग दाल जैसी कई सब्जियों में तड़का लगाने के लिए किया जाता है।
  • दक्षिण भारत में घी का इस्तेमाल इडली, डोसा और उत्तपम जैसे स्वादिष्ट व्यंजनों को बनाने के लिए किया जाता है।
  • घी का उपयोग तमाम मिष्ठान और पकवान बनाने के लिए किया जाता है।
  • काली मिर्च, अदरक और चीनी वाली चाय में घी डालकर पीना खांसी और गले के लिए अच्छा होता है।
  • तेज गर्मी के समय एक चम्मच घी में हल्की शक्कर मिलाकर खाने से गर्मी के प्रभाव को कम किया जा सकता है।
  • किसी भी खाद्य पदार्थ को बनाने के लिए तेल के स्थान पर भी घी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

घी के नुकसान-

  • घी में विटामिन-ए की अच्छी मात्रा होती है। लेकिन विटामिन-ए का अधिक सेवन सिरदर्द, भूख में कमी, उल्टी और श्वास नली के जाम होने का कारण बन सकता है।
  • घी का अधिक सेवन अपच और दस्त की समस्या का कारण भी बन सकता है। इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए।
Read More
जानें, पादाभ्यंग के फायदे, विधि और सावधानियां

Posted 24 May, 2022

जानें, पादाभ्यंग के फायदे, विधि और सावधानियां

पादाभ्यंग थेरेपी एक ऐसी चमत्कारी विधि है। जिसमें पैरों की मालिश द्वारा शरीर के कई रोगों का इलाज किया जाता है। आयुर्वेद में पैरों का बहुत अधिक महत्व होता है और पैर शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग होते हैं। क्योंकि हमारे शरीर की सभी नसों का एंड पॉइंट हमारे पैरों में होता है। पैरों की मालिश करने का अर्थ है नसों की मालिश करना। जो तंत्रिकाओं को मजबूत करने के साथ ही शरीर के अन्य अंगों को भी स्वस्थ बनाता है। ऐसा प्रतिदिन करना कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। आयुर्वेद में 'पादाभ्यंग' को सभी वैकल्पिक उपचारों की जननी कहा जाता है। क्योंकि यह दोष-असंतुलन के इलाज की शक्ति रखती है। इसके अनुसार पैरों की मसाज मात्र से सम्पूर्ण स्वास्थ्य लाभ पाया जा सकता है। पादाभ्यंग थेरेपी से पैरों का खुरदरापन, रूखापन, शिथिलता, थकावट, सुन्न होना, पैरों का फटना, पैरों की रक्त वाहिकाओं और स्नायुओं की सिकुड़न, गृधसी (साइटिका) तथा अनेक वात रोग ठीक होते हैं। साथ ही इसकी मदद से आंखों की दृष्टि भी तेज होती है।

 
कब करें पादाभ्यंग?

हर रोज पादाभ्यंग करना लाभदायक होता है। यूं तो इसे सुबह नहाने से पहले या किसी भी फुर्सत के समय किया जा सकता है। लेकिन रात को बिस्तर पर जाने के पहले का समय पादाभ्यंग करने का सबसे अच्छा समय माना गया है। क्योंकि इस समय शरीर पूरे दिन के कामों से थका हुआ होता है। इसलिए अगर रात को सोने से पहले पादाभ्यंग किया जाए तो अच्छी नींद आने के साथ दिन भर की थकान भी दूर होती है।

 
पादाभ्यंग करने की विधि-

पादाभ्यंग के लिए सबसे पहले रोगी के पैरों के नीचे प्लास्टिक शीट बिछा कर उसको सीधा लिटाएं। इसके बाद उसके शरीर की प्रकृति के अनुसार तेल का चुनाव करें। वात प्रकृति के रोगी के लिए तिल का तैल, कफ प्रकृति के रोगी के लिए नारियल, सूरजमुखी या चंदन का तेल और कफ प्रकृति के लिए सरसों का तेल उपयुक्त रहता है। अब तेल को हल्का गुनगुना करके पैरों पर लगाए और पैरों, टखने, जोड़ों और तलवे पर अच्छी तरह से हलके हाथों से दबाते हुए मालिश करें। कम से कम 20 मिनट तक मालिश की जा सकती है। जिसमे शुरूआती 10 मिनट हाथों से फिर 10 मिनट कटोरी के निचले हिस्से से तलवों को रगड़ें। पादाभ्यंग के लिए तेल के अलावा घी का भी प्रयोग किया जा सकता है।

 
पादाभ्यंग के फायदे-
  • पादाभ्यंग फटी एड़ियों की दरारें भरकर उन्हें चिकना बनाता है।
  • यह थकान उतारने में सहायक है।
  • इससे आंखों की रौशनी बढ़ती है।
  • यह हाथ पैरों में सुन्न होने की समस्या को दूर करता है।
  • इससे त्वचा कांतिमय (ग्लोइंग) बनती है।
  • यह मानसिक बीमारियों से बचाने में मददगार है।
  • पादाभ्यंग नींद न आने की समस्या में सुधार लाता है।
  • स्ट्रेस, एंजाइटी, सिरदर्द, हाइपर टेंशन जैसी बीमारियों से पादाभ्यंग द्वारा बचा जा सकता है।
  • पादाभ्यंग ब्लड सर्क्युलेशन बढ़ाता है।
  • जोड़ों का दर्द, मांसपेशियों की अकड़न में सुधार लाता है।
  • डिप्रेशन या मानसिक/शारीरिक असंतुलन को दूर करने में पादाभ्यंग सहायक है।
  • यह श्रवण क्षमता तथा नेत्र ज्योति में सहायक है।
  • इससे साइटिका के दर्द में आराम दिलाता है।
कब नहीं करना चाहिए पादाभ्यंग?

स्वास्थ से जुड़ी कुछ विशेष परिस्थितियों में पादाभ्यंग नहीं करना चाहिए जैसे- सर्दी, बुखार, ब्लड इन्फेक्शन, अपच, पेट की बिमारी या फिर त्वचा विकार में पादाभ्यंग नहीं करना चाहिए।

  • पादाभ्यंग करते समय रखें यह सावधानियां-
  • पादाभ्यंग हमेशा खाने के 1-2 घंटे बाद ही करना चाहिए।
  • इसे स्नान से पूर्व ही करें।
  • अधिक भूख या प्यास लगने पर पादाभ्यंग न करें।
  • पादाभ्यंग करने के 20 मिनट बाद ही स्नान करें।
  • पादाभ्यंग के बाद गुनगुने पानी से ही स्नान करें।
Read More
Nutrients and Benefits of Coffee

Posted 17 March, 2022

Nutrients and Benefits of Coffee

Coffee is a popularly used beverage in the modern world which is known for its unique taste and aroma. The popularity of this beverage is raised to such a level that many people start their day with coffee, while others prefer to have it in the evening. It is a popular belief that coffee infuses freshness and energy into the body. Apart from this, drinking coffee can also relieve physical fatigue and mental stress because coffee is very beneficial for the body. Diseases such as headaches, obesity, high blood pressure, and diabetes can be reduced with their intake.

 
What is coffee?

It is a popular beverage that is prepared from the fruit on the tree called Coffee Arabica. The powder is prepared after frying and grinding the Coffee beans (legumes) procured from this tree. This powder is called coffee in simple language. Many types of coffee can be made from this coffee powder among these, cappuccino, espresso, cold coffee, black coffee, etc. are very popular.

 
Nutrients in Coffee
  • Antioxidants
  • Phosphorus
  • Magnesium
  • Folate
  • Potassium
  • Manganese
  • Vitamin B1 (thiamine)
  • Vitamin B2 (riboflavin)
  • Vitamin B3 (niacin)
  • Vitamin B5 (pantothenic acid)
 
Benefits of drinking coffee

 

To lose weight-

Caffeine is present in coffee which increases the metabolism in the body. This metabolism helps in reducing weight. Apart from this, the heat generated by the metabolism also works to control obesity. Therefore, coffee has been considered a good way to lose weight.

 
To reduce stress-

Experts believe that the caffeine present in coffee plays a positive role in reducing stress because its intake increases the enzymes called alpha-amylase in the body which helps to relieve stress. Apart from this, for women, the fear of going into depression is reduced by coffee.

 
For skin-

Because the caffeine present in coffee is able to work well in the skin at the cell level, therefore, its main component works to protect the skin from the side effects of ultraviolet radiation. Apart from this, caffeine also helps in preventing the formation of fat in the skin cells. On this basis, coffee proves beneficial for the skin. Hence it is also used in many cosmetic products.

 
For diabetes-

According to experts, coffee contains ingredients such as quinic acid, chlorogenic acid, trigonelline, and lignin secosoleracinosol which help in reducing blood sugar by improving glucose metabolism in the body. In addition, regular intake of coffee helps reduce the risks of type 2 diabetes, increasing the activation of insulin in the body. Based on this fact, coffee intake is a good option to reduce diabetes.

 
To increase energy level-

According to a published report on NCBI (National Canter for Biotechnology Information), drinking coffee improves alertness and performance of daily activities. Apart from this, consuming caffeinated beverages also leads to positive changes in cognitive activities, therefore, coffee is considered an energy-enhancing beverage.

 
For Alzheimer's and dementia-

According to the report published on the site of the National Institutes of Health (NIH), Alzheimer's is a common mental illness. Under this, the ability to remember and think starts to decrease due to which dementia also starts developing. Since the caffeine present in coffee stimulates the nervous system, it works to improve cognitive health. This is why coffee is effective in protecting against Alzheimer's and dementia.

 
For Parkinson's disease-

Parkinson's is a type of brain disease that affects the central nervous system due to which the nerve cells present in the brain are not able to produce sufficient amounts of an element called dopamine. As a result, the person has a lot of difficulty in walking and balancing. This condition is called Parkinson's disease. According to a published report on National Center for Biotechnology Information (NCBI), coffee contains neurostimulators that stimulate the nervous system and its neuroprotective properties. For this reason, coffee is considered good for the treatment of Parkinson's disease.

 
Side effects of Coffee

According to the American Food and Drug Administration Association, sometimes an excess of caffeine-rich coffee can cause some health problems. These are as follows-

  • Insomnia problem.
  • Upset stomach.
  • Increased heartbeat.
  • Nauseated feeling.
  • Feeling of anxiety and nervousness.
  • Headache.
Read More
Benefits & Uses of Camphor

Posted 16 December, 2021

Benefits & Uses of Camphor

Camphor is a type of frozen white oily substance which has a very strong smell and is a highly flammable. There are different types of camphor depending on the manufacturing process and place. The camphor is colorless, white or transparent in shape, powdered or square in shape. Camphor is commonly used in pooja recitations etc.

Camphor is an evergreen tree that is about 60 feet high and grows very fast. The variants found in India are small and their leaves are two and a half to 4 inches tall. It has small white flowers and its round shaped fruit is purple to black in color. Camphor is known for its medicinal and antibacterial properties in traditional and western medicine systems. Likewise, oil derived from camphor is also helpful. It helps in getting relief from many problems like phlegm, pain and swelling. According to some studies, camphor is also effective in curing skin burns and fungal infections.

 
Types of Camphor

There are three types of camphors mentioned in many texts of Ayurveda, such as

 
  • Pakva (Artificial Camphor)
  • Pacha (Natural Camphor)
  • Bhimseni

Among these, mainly two types of camphor are used. One is derived from trees and the other is artificially made by chemical processes.

 
Benefits and Uses of Camphor

The many benefits of Camphor and Camphor oil are listed below-

 
Camphor is useful in healing burnt skin-

Camphor helps in healing burnt skin. It not only cures pain or burning sensation, but also frees the body from wounds because camphor oil stimulates the nerve, which cools the skin. For this, mix two cubes of camphor in one cup of coconut oil and apply the mixture on the affected area regularly.

 
Use camphor to kill mosquitoes-

Several studies have shown that camphor is a natural mosquito repellent. In addition, camphor has traditionally been used to get rid of moths. So, to avoid mosquitoes, burn a camphor tablet in the corner of your house.

 
Camphor oil relieves pimples-

Camphor is an effective way to tighten the skin. Camphor acts as an anti-infective agent by preventing bacterial infection. According to a study, camphor is particularly beneficial for people with oily skin, due to which it is very useful in the treatment of acne. For this, mix tea tree oil and camphor essential oil and apply it on the affected skin.

 
Camphor provides relief in itching and burning-

Camphor essential oil is also used for problems such as itching and burning. It is known to provide relief in itchy skin as it gets absorbed by the pores and cools the skin.

 
Camphor relieves joint pain-

Camphor is beneficial in pain around joints and muscles. According to a study, camphor oil produces a warming sensation in the body as a result of which there is desensitization in the nerves and pain is relieved. Using camphor oil even when there is a body cramp provides relief.

 
Other Benefits of Camphor-
  • Mixing camphor in the juice of basil leaves and pouring two drops into the ear relieves ear pain.
  • Mixing camphor in lemon juice and applying it on the temples relieves headache and heaviness.
  • Add equal amounts of camphor, nutmeg and turmeric and add some water to it. Applying this mixture on the stomach provides relief in pain.
  • Put 10-12 camphor cubes in a bucket filled with water and keep the ankles in water for 10-15 minutes. This will fill the cracks of the heels and make the feet soft.
  • Applying camphor oil on the temples and sniffing it relieves mental exhaustion.
Side effects of Camphor
  • Sometimes, using camphor oil directly on the skin can cause irritation.
  • Camphor should not be used on children under 2 years of age. This can prove extremely harmful for them.
  • Pregnant or lactating women should avoid the use of camphor.
  • Do not take camphor orally, it is highly toxic.
Read More
जानें, क्रोमोथेरेपी (कलर थेरेपी) का महत्व और फायदे

Posted 24 May, 2022

जानें, क्रोमोथेरेपी (कलर थेरेपी) का महत्व और फायदे

क्रोमोथेरेपी में मुख्य रूप से रंगों का इस्तेमाल किया जाता है। क्रोमो शब्द ग्रीक भाषा से लिया गया है, जिसका अर्थ होता है रंग। क्रोमोथेरेपी का मतलब है, रंगों के माध्यम से उपचार करना। इसे कलर थेरेपी, लाइट थेरेपी, कोलोरोलॉजी के नामों से भी जाना जाता है। वैसे तो कलर थेरेपी हजारों वर्षों से चलन में है, लेकिन पिछले कुछ समय में लोगों का झुकाव इस ओर अधिक बढ़ा है। इस थेरेपी की मदद से अवसाद, एक्जिमा, उच्च रक्तचाप, मासिक धर्म की समस्याएं आदि का इलाज सफलतापूर्वक किया जाता है।

 

क्या होती है कलर थेरेपी?

 

रंगों से बीमारियों का इलाज करना ही रंग चिकित्सा(color therapy) कहलाता है। यह वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति(Alternative medicine) का रूप है। यह एक ऐसा इलाज है, जिसमें दवा का प्रयोग नहीं किया जाता है। कलर थेरेपी शारीरिक ऊर्जा को संतुलन करने में मदद करती है।चिंता, तनाव, और भावनाओं से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में यह  चिकित्सा काफी लोकप्रिय है। कलर थेरेपी के अनुसार मनुष्यों में कई विकार और रोग, शरीर के ऊर्जा केंद्रों या चक्रों के असंतुलन के कारण होते हैं। प्रत्येक रंग शरीर के अलग-अलग हिस्सों से जुड़ा होता है। जो विभिन्न ऊर्जा केंद्रों के प्राकृतिक उपचार गुण होते हैं। इसलिए शरीर की प्रत्येक कोशिका को प्रकाश ऊर्जा की आवश्यकता होती है। जब रंग प्रकाश के माध्यम से शरीर में सही तरीके से प्रवेश करते हैं, तो वह शरीर के उपचार गुणों को सक्रिय करते हैं। जिससे हीलिंग प्रोसेस काफी तेज होता है।

 
 

आयुर्वेद में कलर थेरेपी का महत्व-

 

आयुर्वेद के अनुसार मानव शरीर के चारों ओर एक प्रकार का भूमंडल होता है। जो शरीर के अंदर होने वाली जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं के परिणामस्वरूप बनने वाला एक चुंबकीय क्षेत्र होता है। रंगों में एक प्रकार की कंपन ऊर्जा पाई जाती है, जो कई रोगों के इलाज के लिए इस चुंबकीय क्षेत्र के साथ अंतःक्रिया करती है। यह कंपन ऊर्जा शरीर के अंदर ऊर्जा- संचलन को पुनर्जीवित करने के लिए जैव रासायनिक प्रतिक्रियाएं करती है। आज कलर थेरेपी भावनात्मक, शारीरिक और मानसिक रोगियों को ठीक करने के लिए इलाज का एक लोकप्रिय विकल्प बनती जा रही है।

 
 

शरीर के चक्र और उनका रंगों से संबंध

 

लोगों के शरीर में अलग-अलग चक्र होते हैं। जिन्हें ऊर्जा का केंद्र माना जाता है। कलर थेरेपी में इस्तेमाल होने वाले रंग शरीर के इन चक्रों को प्रभावित करते हैं। जिससे शरीर को राहत मिलती है। भारतीय दर्शन के अनुसार शरीर में सात आध्यात्मिक ऊर्जा के केंद्र है। जिसका सम्बन्ध रंगों से माना जाता है। जोकि निम्नलिखित हैं-

 
 

मूल चक्र (Root chakra)

 

इसे आधार चक्र भी कहा जाता है। यह मानव शरीर का शुरुआती चक्र है। इसका संबंध लाल रंग से है।

 
 

स्वाधिष्ठान चक्र (sacral chakra)-

 

नाभि से 2 या 3 इंच नीचे स्थित त्रिक चक्र को नारंगी रंग द्वारा दर्शाया जाता है। इस चक्र को प्रजनन, गुर्दे, अधिवृक्क (Adrenal) और आनंद के साथ जोड़ा जाता है। अंग्रेजी में इसे Sacral चक्र के नाम से जानते हैं।

 
 

सूर्य प्रतान चक्र(solar plexus)-

 

इस चक्र का स्थान नाभि से ऊपर और दिल के पास माना जाता है। इसका संबंध पीले रंग से बताया जाता है। इस चक्र को मुख्य रूप से पाचन अंगों से जोड़ा जाता है। यह सकारात्मक और कल्याण से जुड़ा हुआ है।

 
 

हृदय चक्र (heart chakra)-

 

इसका स्थान दिल के पास होता है। इस चक्र के बारे में ऐसा माना जाता है कि यह दिल, फेफड़ों और इम्यूनिटी सिस्टम से जुड़ा होता है। यह चक्र हरे रंग से संबंध रखता है।

 
 

विशुद्धि चक्र (throat chakra)-

 

यह चक्र गले में स्थित होता है। इसका संबंध नीले रंग से माना जाता है। यह थाइरोइड से जुड़ा हुआ माना जाता है।

 
 

अजना चक्र (Ajna chakra) या आज्ञा चक्र-

 

इसका स्थान दोनों भौह के बीच माना जाता है। इसका संबंध गहरे नीले रंग (indigo) से होता है। इस चक्र को तीसरी आंखे के नाम से भी जानते हैं। यह पीनियल और पिट्यूटरी ग्रंथियों से संबंधित है। जो हमारी नींद और ज्ञान से जुड़ी होती है।

 

 सहस्रार चक्र (crown chakra)-

 

इसका स्थान सिर में होता है। इसका संबंध बैगनी रंग से माना जाता है। इसको दिमाग, सपने और आध्यात्मिकता से जुड़ा माना जाता है।

 
 

कलर थेरेपी के रंग और उनके फायदे

 

कलर थेरेपी में कुछ खास रंगों को ही शामिल किया जाता है। जिनका अपना एक अलग महत्व और ढेर सारे फायदे होते हैं।

 
 

लाल रंग-

 

लाल रंग नारंगी की तुलना में अधिक उत्तेजक माना जाता है। इसका उपयोग ज्यादातर शारीरिक उपचार के लिए किया जाता है। क्योंकि इसके भावनात्मक प्रभाव चरम पर होते हैं। कलर थेरेपी में लाल रंग ब्लड सेल्स का निर्माण करने और मानसिक रूप से पीड़ित व्यक्तियों के लिए किया जाता है।

 
 

पीला रंग-

 

इस थेरेपी में पीला कलर बुद्धि और समझ को बढ़ाने का काम करता है। इस रंग का प्रयोग मुख्य रूप से खांसी, जुकाम, पीलिया, सूजन, तंत्रिका तंत्र की कमजोरी और लीवर संबंधित बीमारियों के उपचार में किया जाता है।

 
 

नीला रंग-

 

नीला रंग सत्य, आशा, विस्तार, स्वच्छता व न्याय का प्रतीक है। कलर थेरेपी में नीले रंग का इस्तेमाल पित्त, बुखार, स्त्री रोग, पेट में जलन, गर्मी, महत्वपूर्ण बल की कमी आदि समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त नीला एक ठंडा रंग है, इसका उपयोग आपको अधिक शांत और आराम करने में मदद कर सकता है। पर गहरा नीला रंग अकेलेपन को बढ़ाता है।

 
 

बैंगनी रंग-

 

बैंगनी रंग लाल व नीले रंग के मिश्रण से बनता है। इस रंग का प्रयोग यश, प्रसिद्धि व उत्साह प्रदान करने में किया जाता है। यह रंग रक्त शोधन के लिए प्रयुक्त किया जाता है। दर्द, सूजन, बुखार व कार्य क्षमता की वृद्धि के लिए इस रंग का प्रयोग किया जाता है। बैंगनी रंग सुस्त मस्तिष्क को उत्सव व आशा प्रदान करता है।

 
 

हरा रंग-

 

हरा रंग सभी रंगों में सबसे संतुलित माना जाता है। कलर थेरेपी में भी इसको सबसे सुरक्षित रंग मानते हैं। जब मनुष्य उदास और निराश महसूस करता है तो हरा रंग आपकी मनोदशा में सुधार करता हैं। इसलिए चिकित्सा में हरे रंग का प्रयोग किया जाता है। लेकिन इस थेरेपी के लिए शुद्ध हरे रंग का होना जरूरी है। क्योंकि हल्का हरा आपको चिंता में डाल सकता है।

 
 

नारंगी रंग-

 

इस रंग का इस्तेमाल त्वचा की चमक बढ़ाने के लिए किया जाता है। इस रंग को साहस और ऊर्जा देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

 
 

इंडिगो रंग-

 

इस रंग को सेहत के लिहाज से काफी अच्छा माना जाता है। यह रंग आंख और नाक संबंधित रोगों के इलाज में कारगर सिद्ध होता है।

 
 

सफेद रंग-

 

यदि किसी भी व्यक्ति की रूचि किसी कलर में न हो तो वह इस चिकित्सा के लिए सफेद रंग का चयन कर सकता है। सफेद रंग हर बीमारी को जल्दी ठीक करने में सहायता करता है। सफेद रंग नेगेटिव सोच को दूर करने में सहायता करता है।

Read More
Learn the Importance and Benefits of Chromotherapy (Color Therapy)

Posted 20 December, 2021

Learn the Importance and Benefits of Chromotherapy (Color Therapy)

Chromotherapy, alternately known by the names of color therapy, light therapy, colorology is a form of alternative treatment done with the help of colours. The word 'chroma' is derived from the Greek language, which means 'color'.

 

Chromotherapy means healing through dyes. Although color therapy has been in practice for thousands of years, in the recent past, the inclination of people has increased more towards this. Depression, eczema, high blood pressure, menstrual problems, etc. are treated successfully with the help of this therapy.

 

What is Color therapy?

Treating diseases with colors is called color therapy. This is a treatment that does not involve the use of colours. The therapy helps balance physical energy. This therapy is quite popular in relieving anxiety, stress, and emotional problems.

 

According to color therapy, many disorders and diseases in humans are due to an imbalance of energy centers or chakras of the body. Each color is associated with different parts of the body. These are the natural healing properties of various energy centers. Therefore, every cell in the body requires light energy. When colors properly enter the body through light, they activate the healing properties of the body which makes the healing process much faster.

 

 Importance of Color Therapy in Ayurveda

According to Ayurveda, the human body is composed of seven chakras. A magnetic field created as a result of biochemical reactions occurring inside the body.

 

Colors have a type of vibrational energy, which interacts with this magnetic field to treat many diseases. This vibrational energy performs biochemical reactions to revive the energy circulation inside the body. Today color therapy is becoming a popular treatment option to cure emotional, physical, and mental patients.

 

Chakras of the body and their relation to colors

People have different chakras in their bodies. Those are considered to be the center of energy. The colors used in color therapy affect these cycles of the body which gives relief to the body.

 

According to Indian philosophy, the body has seven centers of spiritual energy. These are considered to be related to colors which are as follows:

 

Root Chakra-

 

It is also called the base cycle. This is the initial cycle of the human body. It is related to red color.

 

Swadisthan Chakra (Sacral Chakra)-

 

The sacral chakra, which is 2 or 3 inches below the navel, is represented by orange color. This cycle is associated with fertility, kidneys, adrenal, and pleasure.

 

Solar Plexus-

 

The location of this chakra is believed to be above the navel and near the heart. Its relation is stated in yellow color. This cycle is mainly associated with digestive organs. It is positive and associated with well-being.

 

Heart Chakra-

 

Its location is near the heart. This cycle is believed to be associated with the heart, lungs, and immunity system. This cycle is related to green color.

 

Throat Chakra-

 

This cycle is located in the throat. It is considered to be related to blue color. It is thought to be associated with the thyroid.

 

Ajna chakra or commandment cycle-

 

Its location is believed to be between the two eyebrows. It is related to dark blue color (indigo). This cycle is also known as the third eye. It is related to the pineal and pituitary glands which are associated with our sleep and knowledge.

 

Sahasrar Chakra (Crown chakra)-

 

Its location is in the head. It is believed to be related to purple color and considered to be associated with mind, dreams, and spirituality.

 

Colors and their advantages to Color Therapy

Color therapy involves only certain colors. These selective colors have their own importance and many advantages.

 

Red-

 

The red color is considered more stimulating than orange. It is mostly used for physical treatment. Because its emotional effects are extreme. Color therapy involves the preparation of red blood cells and for mentally challenged individuals.

 

Yellow-

 

Yellow color works to increase intelligence and understanding in this therapy. This color is mainly used in the treatment of cough, cold, jaundice, inflammation, nervous system weakness, and liver-related diseases.

 

Blue-

 

The blue color is a symbol of truth, hope, expansion, cleanliness, and justice. This color is used in color therapy to remove problems of bile, fever, gynecology, stomach irritation, heat, lack of vital force, etc. Additionally blue is a cool color, its use can help you become more calm and relaxed. But dark blue color increases loneliness.

 

Purple-

 

Purple color is formed by mixing red and blue. This color is used to provide fame, fame, and enthusiasm. This color is used for blood purification. This color is used for pain, swelling, fever and to increase work capacity. The purple color gives celebration and hopes to the dull brain.

 

Green-

 

Green is considered the most balanced of all colors. It is also considered the safest color in color therapy. When a man feels depressed, the green color improves the mood. Therefore, green is used in medicine. For this therapy, it is necessary for the color to be pure green. Light green can make you anxious.

 

Orange-

 

This color is used to enhance the glow of the skin. It is believed to give courage and energy.

 

Indigo Color-

 

This color is considered to be very good in terms of health. It proves effective in treating eye and nose related diseases.

 

White color-

 

White color helps in curing every disease quickly. It also helps to overcome negative thinking.

 
Read More
क्या है काइरोप्रैक्टिक चिकित्सा पद्धति?

Posted 24 May, 2022

क्या है काइरोप्रैक्टिक चिकित्सा पद्धति?

काइरोप्रैक्टिक एक वैकल्पिक उपचार पद्धति है। इसका उपयोग मांसपेशियों, हड्डियों, जोड़ों और इनसे जुड़े ऊतकों (Tissue) जैसे कि कार्टिलेज, टेंडन्स और लिगामेंट्स में होने वाले दर्द के इलाज के लिए किया जाता है। यह शरीर के तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम) और हड्डियों के तंत्र में आने वाले विकारों का, बिना ऑपरेशन किए जाने वाले उपचार का एक प्रकार है। काइरोप्रैक्टिक चिकित्सा में बिना किसी सर्जरी या दवा के हड्डी तंत्र को सही स्वरुप में लाने के लिए काइरोप्रैक्टर थेरेपिस्ट हाथों की मदद से रीढ़ की हड्डी पर दबाव डालते हैं। जिससे शरीर स्वयं दर्द को ठीक कर लेता है। यह दबाव इसलिए उपयोग किया जाता है ताकि टिश्यू में किसी दुर्घटना जैसे गिरने से चोट लगने या पीठ को बिना सहारा दिए बैठने आदि कारण से जोड़ों को हिलाने-डुलाने में होने वाली परेशानी को दूर किया जा सके।

 
काइरोप्रैक्टिक उपचार की विधि-

काइरोप्रैक्टिक उपचार को करने से पहले काइरोप्रैक्टर थेरेपिस्ट स्वास्थ्य संबंधित कुछ सवाल पूछते हैं और रीढ़ की हड्डी पर केंद्रित काइरोप्रैक्टर एक्स-रे, शारीरिक जांच भी करते हैं। इसके बाद कुछ काइरोप्रैक्टर इलाज के लिए ताकत लगाकर मरोड़ने की तकनीक उपयोग करते हैं तो कुछ इसके उलट अधिक सौम्य तरीका अपनाकर इलाज करते हैं। इसमें रीढ़ की हड्डी को हल्के से हिलाया डुलाया जाता है। इसके साथ ही काइरोप्रैक्टर थेरेपिस्ट इलाज के लिए ठंडा या गर्म सेक, इलेक्ट्रिक सिमुलेशन (बिजली के हल्के प्रवाह से कोशिकाओं में उत्तेजना पैदा करना), रीढ़ की हड्डी में खिंचाव पैदा करने वाले उपकरण और ऊतकों को गर्मी देने के लिए अल्ट्रासाउंड इत्यादि तरीकों का भी उपयोग करते हैं। इलाज के लिए अधिकांश तकनीकों का उपयोग एक गद्देदार और एडजस्ट की जा सकने वाली मेज पर किया जाता है। पीड़ित को आमतौर पर एक निश्चित स्थिति में बैठाकर या सुलाकर थेरेपिस्ट उपचार शुरू करते हैं। इसके बाद काइरोप्रैक्टर एक उचित सीमा में जोड़ों पर अचानक ताकत का प्रयोग करके जोड़ों को सामान्य से अधिक मोड़ने की कोशिश करते हैं। ऐसा करने पर कई बार हड्डियों के कड़कने की आवाज भी सुनाई देती है।

 
काइरोप्रैक्टिक उपचार से ठीक होने वाले रोग;
  • ब्रुक्सिज्म (दांतों का विकार)
  • बर्साइटिस
  • मासिक धर्म के कारण होने वाली ऐंठन
  • सायटिका
  • सिरदर्द
  • जोड़ों का दर्द
  • तनाव
  • हर्नियेटेड डिस्क
  • लैबिरिंथाइटिस
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • कठोर गर्दन
काइरोप्रैक्टिक उपचार के नुकसान;
  • कुछ लोगों को काइरोप्रैक्टिक उपचार के हल्के नुकसान जैसे सिरदर्द, थकान या इलाज करने वाली जगह पर दर्द हो सकता है।
  • जिन लोगों को ऑस्टियोपोरोसिस, रीढ़ की हड्डी में संपीड़न (spinal cord compression) या इंफ्लेमेटरी आर्थराइटिस है या जो लोग खून पतला करने की दवा ले रहें हैं, उन्हें काइरोप्रैक्टिक उपचार नहीं करवाना चाहिए।
  • जिनको सुन्न होना, झुनझुनी और हाथ या पांव में कमजोरी आने की परेशानी है, उन्हें भी यह उपचार नहीं कराना चाहिए।
  • कैंसर के मरीजों को यह थेरेपी लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए और उनकी अनुमति से ही इस थेरेपी का उपयोग करना चाहिए।
Read More
वायु थेरेपी और उसके फायदे

Posted 24 May, 2022

वायु थेरेपी और उसके फायदे

धरती पर जीवन के लिए वायु और पानी सबसे महत्वपूर्ण हैं। इन दोनों से ही पृथ्वी पर जीवन का अस्तित्व है। मनुष्य का शरीर पृथ्वी, आकाश, वायु, जल और अग्नि  इन पांचो तत्वों से मिलकर बना है। जिसमें वायु को दूसरा मूलभूत तत्व माना जाता है। जिस प्रकार जल जीवन है, उसी प्रकार वायु प्राणियों का प्राण हैं। अगर हमें कुछ सेकेंड़ हवा न मिले तो अफनाहट (सांस लेने में परेशानी) सा महसूस होने लगता हैं। उसपर यदि कुछ देर और हवा न मिले तो प्राण भी निकल सकते हैं। इसलिए हवा इंसान के जीने के लिए बहुत आवश्यक तत्व है। वायु थेरेपी के अंतर्गत शरीर के तमाम बीमारियों का इलाज वायु सेवन के माध्यम से किया जाता है।

 

एयर थेरेपी का लाभ वायु स्नान के माध्यम से मिलता है। ऐसा माना जाता है कि स्वच्छ और ताजी हवा अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। इसलिए प्रतिदिन 30 मिनट या उससे अधिक समय के लिए प्रत्येक मनुष्य को वायु स्नान करना चाहिए। वायु चिकित्सा की प्रक्रिया में, व्यक्ति को कपड़े निकालकर कर या हल्के कपड़े पहनकर एकांतयुक्त ऐसे साफ-सुथरे स्थान पर चलना चाहिए, जहां पर्याप्त ताजा हवा उपलब्ध हो। इससे रक्त का प्रवाह तेज होता है। यह थेरेपी गठिया, त्वचा, घबराहट, मानसिक और अन्य विकारों को दूर करने में सहायता करती है।

 

क्या है वायु सेवन?

 
  • वायु सेवन को अंग्रेजी में मॉर्निंग वॉक या एयर बाथ के नाम से जानते हैं। वहीं आम बोलचाल की भाषा में इसे हवा खाना या टहलना भी कहते हें। और शरीर को ताजी हवा खिलाना ही वायु स्नान कहलाता है। यह एक ऐसी क्रिया है, जिसके जरिए शरीर के आतंरिक और बाहरी दोनों हिस्सों की सफाई की जाती है। इस क्रिया का प्रयोग कपड़े निकालकर या हल्के कपड़े पहनकर किया जाए तो यह शरीर के लिए काफी फायदेमंद साबित होती है।।
  • हमारी तरह त्वचा के छिद्रों के लिए भी सांस लेना बहुत आवश्यक होता है। यह छिद्र भी हवा के माध्यम से ही सांस लेते हैं। इसलिए हर समय टाइट कपड़े पहनने से शरीर पीला पड़ जाता है। क्योंकि इस तरह के कपड़ों की वजह से त्वचा के छिद्र बंद हो जाते हैं। परिणामस्वरूप मनुष्य को कब्ज, सीने में दर्द, गैस और डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियां घेर लेती हैं।
  • इस रूप में वायु सेवन करना न केवल जीवन की एक जरूरत है बल्कि एक कला, पौष्टिक तत्व, खुशी, प्रकृति का वरदान और संसार का सबसे अच्छा व्यायाम है।
 

दिशाओं के मुताबिक वायु के गुण;

 

पूरब दिशा से बहने वाली हवा-

 

पूरब दिशा से चलने वाली हवा तासीर से गर्म, भारी, पित्त को ख़राब और शरीर में जलन पैदा करने वाली होती है। यह वायु शरीर की थकान, कफ को समाप्त करने और सूखे रोगों से ग्रस्त बिमारियों के लिए लाभकारी होती है।

 

दक्षिण दिशा से चलने वाली हवा-

 

दक्षिण दिशा से चलने वाली हवा शरीर को ठंडक पहुंचाती हैं। यह तासीर में ठंडी, हल्की, पित्त और खून के रोगों को दूर करने वाली और शरीर के ताकत को बढ़ाने में सहायक होती है। साथ ही यह आंखो के लिए उपयोगी होती है।

 

पश्चिम दिशा से चलने वाली हवा-

 

पश्चिम दिशा से चलने वाली हवा तेज, शरीर को सुखाने वाली और ताकत को कम करने वाली होती है। यह मोटापे, पित्त के रोग और बलगम को दूर करने वाली होती है।

 

उत्तर दिशा से चलने वाली हवा-

 
  • उत्तर दिशा से बहने वाली हवा ठंडी और नमी के कारण दोषों को बढ़ाने वाली, शरीर में चिपचिपाहट लाने वाली हल्की और सुहावनी होती है।
  • उपरोक्त बातों से कह सकते हैं कि दक्षिण दिशा को छोड़कर शेष दिशाओं से बहने वाली हवा से शरीर में कोई न कोई रोग पैदा होता है। जबकि दक्षिण दिशा से बहने वाली हवा हर तरह से लाभप्रद है। इसलिए दक्षिण दिशा से बहने वाली वायु का सेवन करना ठीक और रोगी दोनों व्यक्तियों के लिए बेहतर होता है। यह वायु सुबह 4 बजे से सूरज के उगने तक चलती है। जो लोग इस वायु का सेवन करना चाहते हैं, उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए।
 

सैर करने या टहलने के फायदे;

  • स्वस्थ्य व्यक्ति एक मिनट में लगभग 16 से 18 बार सांस लेता है। जबकि पूरे दिन में करीबन 2600 बार सांस लेता है। एक बार सांस लेने में शरीर की करीब 100 मांशपेशियां भाग लेती हैं। यह वायु फेफड़ों की कम से कम 15 वर्ग फुट की जगह में चक्कर लगाती है। इस वायु से ऑक्सीजन का अंश खींचकर रक्त में चला जाता है। साथ ही कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बाहर निकल जाती है। इस प्रकार शरीर के अंदर का रक्त स्वयं शुद्ध होता रहता हैं।
  • फेफड़ों के अंदर हमेशा 160 क्यूबिक इंच हवा भरी रहती है। जो बाहर की दूषित हवा से निरंतर बदलती रहती है। यह क्रिया सैर करने या टहलने से संभव होती है। इसके अतिरिक्त शरीर में पांच प्रकार की वायु होती हैं। जिनका कार्य बाहरी हवा के माध्यम से होता है। जोकि निम्नलिखित हैं-
 

व्यान वायु-

 

व्यान वायु शरीर के प्रत्येक भाग में चक्कर लगाने का कार्य है। यह हल्की, ठंडी और सुहावनी होती है। बाहरी हवा शरीर के त्वचा छिद्रों के माध्यम से शरीर के अंदर जाकर व्यान वायु को शुद्ध करती है। जिससे शरीर के अंदर रक्त बढ़ता है।

 

अपान वायु-

 

शरीर के अंदर से मल-मूत्र को बाहर निकालने का कार्य अपान वायु करती है। शौच के लिए बैठने पर साफ वायु की ओर मुंह करके बैठने से अपान वायु शुद्ध होती है।

 

समान वायु-

 

यह शरीर के अंदर भोजन को पचाने में मदद करती है। इसके साथ शरीर में उत्पन्न गर्मी को सामान्य रखने में सहायक होती है। प्रतिदिन सुबह के समय टहलने से समान वायु को इन कार्यों को करने में मदद मिलती है। सैर न करने से समान वायु बढ़कर पेट सम्बंधित रोगों को जन्म देती है।

 

प्राण वायु-

 

इसे जीवन की उर्जा को स्थिर रखने वाली वायु कहा भी जाता है। इस वायु को बल देने में पर्वतों का ऊंचा स्थान और खुला वातावरण जैसी जगह मुख्य रूप से सहायक होती हैं। इस कारण गंभीर रोगों से पीड़ित व्यक्तियों को डॉक्टर्स भी पहाड़ों और खुले स्थानों पर जाने को कहते हैं। सुबह के समय टहलने से शरीर में रक्त का संचार अच्छा होता और प्राण वायु को अधिक ताकत मिलती है। जिससे व्यक्ति का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है।

 

उदान वायु-

 

दिमाग के छोटे-बड़े अव्ययों तक रक्त को पहुंचाने में उदान वायु महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। ऊंचे स्थानों पर सैर करने से उदानवायु को शक्ति मिलती है। जिससे दिमाग की स्मरणशक्ति बढ़ जाती है।

 

सैर करने के अन्य फायदे;

  • सुबह के समय टहलने से स्नायु (Body Muscle) की कमजोरी, दिमागी रोग, नींद न आना, सर्दी, खांसी और कब्ज जैसी समस्या में राहत मिलती है।
  • सुबह के समय सैर करने से शरीर मजबूत बनाता है। जिससे जल्दी बुढ़ापा नहीं आता। ऐसा करने से आंखों की रोशनी और शरीर की चमक बढ़ जाती है।
  • सुबह के समय टहलने से व्यक्ति की सोचने और समझने की शक्ति में विकास होता है।
  • प्रतिदिन मॉर्निंग वाक करने से बड़े से बड़े रोगों से छुटकारा मिलता है। इसके साथ ही व्यक्ति की उम्र भी लंबी होती है।
 
Read More
मसाज थेरेपी की विधि, प्रकार और फायदे

Posted 24 May, 2022

मसाज थेरेपी की विधि, प्रकार और फायदे

आजकल लोगों को तनाव, असंतुलित लाइफस्टाइल और भागदौड़ भरी जिंदगी के चलते खुलकर सांस लेना मुश्किल हो गया है। बढ़ती स्पर्धा (competition) के कारण हर समय थकान का रहना रोजमर्रा की बात हो गयी है। दैनिक जीवन से जुड़ी इन समस्याओं के लिए लोग कई प्रकार के उपाय खोज रहे हैं। ऐसे में मसाज एक ऐसा उपाय है, जो व्यक्ति को राहत प्रदान करता है। यह शरीर में ऊर्जा का संचार करती है।

 

आयुर्वेदिक मसाज थेरेपी एक प्राचीन थेरेपी है। इसमें आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और तेल के माध्यम से शरीर की मालिश की जाती है। जो शरीर को तरोताजा रखती है। इसलिए थकान और तमाम बीमारियों के लिए यह एक बेहतर विकल्प है।

 

क्या है मसाज थेरेपी?

जितना महत्व आधुनिक दिनचर्या में किए जाने वाले कार्यों, व्यायाम और आहार का है। उतना ही महत्व मसाज का भी है। तेल, क्रीम या किसी अन्य चिकने पदार्थ (Greasy substance) को बॉडी पर हल्के हाथ से रगड़ना या मलना, मसाज (मालिश) कहलाता है। इस चिकित्सा में शरीर की मांशपेशियों और नरम ऊतकों को हाथों से आराम दिया जाता है। मालिश करने से मांशपेशियों के दर्द में आराम मिलता है और रक्त परिसंचरण में सुधार होता है। इसके अतिरिक्त मसाज करने से त्वचा और मस्तिष्क संबंधित बीमारियां कम होती हैं।

 

मसाज के प्रकार;

मसाज या मालिश के निम्नलिखित प्रकार हैं-

  • सिर की मालिश।
  • बालों की मालिश।
  • आंखों की मालिश।
  • गालों की मालिश।
  • कनपटी की मालिश।
  • ठोड़ी (chin) की मालिश।
  • हाथों की मालिश।
  • पैरों की मालिश।
  • बॉडी की मालिश।

मसाज करने की विधि;

  • सर्वप्रथम सिर में गुनगुना तेल लगाकर उंगलियों से धीरे-धीरे मालिश करें। मालिश करते समय कान के पीछे और ऊपरी भाग पर (कनपटी वाले स्थान) पर विशेष रूप से मालिश करें।
  • गर्दन की मालिश ऊपर से नीचे और पीछे से आगे की ओर करें।
  • चेहरे की मालिश करते समय विशेष ध्यान देना आवश्यक है। इसलिए पूरे चेहरे पर अच्छी तरह से तेल लगा लें। अब दोनों हाथों की तर्जनियों को नाक के आसपास रखकर दबाव के साथ धीरे-धीरे कान की ओर ले जाएं। कुछ समय बाद पुनः उंगलियों को घुमाते हुए कान के नीचे जबड़े की हड्डी (jaw bone) तक लाएं। इस क्रिया को दो से तीन बार दोहराएं।
  • गाल एवं ठोड़ी (chin) की मालिश हथेलियों के द्वारा नीचे से ऊपर की ओर करनी चाहिए। गाल और आंखों के चारों ओर पलकों पर गोलाकार मालिश करें।
  • इसके बाद छाती, पेट तथा पीठ की मालिश करें।
  • छाती एवं पेट की मालिश ऊपर से नीचे (अनुलोम दिशा) की ओर हल्के हाथों से मालिश करें।
  • दोनों भुजाओं (हाथों) पर ऊपर से नीचे समान गति से मालिश करें। साथ ही बाजुओं के विभिन्न भाग- जैसे कोहनी, कलाई इत्यादि परगोलाई में मालिश करें।
  • इसी तरह से पैरों की मालिश करें। तलवों और हथेलियों की मालिश करना शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

मसाज के फायदें;

मसाज करने से शरीर को मिलने वाले लाभ निम्नलिखित हैं-

 
  • मसाज थेरेपी से पूरे शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है।
  • इससेपाचन शक्ति तेज होती है और पेट साफ रहता है।
  • मालिश करने से शरीर के विभिन्न अंग जैसे दिल, आंते, फेफड़े और यकृत आदि शक्तिवान होते हैं।
  • इस चिकित्सा के प्रयोग से अपच, वायु, अनिद्रा, बवासीर, उच्च रक्तचाप और पित्त विकार जैसे रोगों में फायदा मिलता है।
  • मालिश करने से त्वचा के बंद रोम क्षिद्र (Hair follicle) खुलने लगतें है। साथ ही त्वचा के रक्त संचारमें भी सुधार होता है।
  • इस चिकित्सा से त्वचा की मृत कोशिकाएं स्वच्छ होती हैं और उन्हें जरूरी पोषण तत्व मिलता है। जिससे त्वचा में चमक आती है।
  • इस थेरेपी से शरीर में लचीलापन आता है। जिससे मूवमेंट बेहतर होता है।
  • मालिश करने से शरीर में रक्तचाप सामान्य रहता है और इंसुलिन रेजिस्टेंस अच्छा होने से मधुमेह में भी फायेदा मिलता है।
  • मसाज थेरेपी का प्रयोगकरने से मांसपेशियों की सिकुड़ने और फैलने की क्षमता बढ़ती है। साथ ही उनमें मेटाबॉलिज्म का कार्य निश्चित रूप से होने लगता है। जिससे शरीर में बन रहे मुक्त कण (free redicles) को भी हटाया जा सकता है।

मसाज करते वक्त ध्यान रखें यह सावधानियां;

  • मालिश के तुरंत बाद न नहाएं। हमेशा मालिश के कम से कम आधे घंटे बाद स्नान करें।
  • मालिश के तुरंत बाद भोजन न करें। भोजन और मसाज के बीच लगभग तीन घंटे का अंतर होना चाहिए। इसलिए सूर्योदय के समय मालिश कराना सबसे अच्छा होता है।
  • सर्दियों में खुली धूप में और गर्मियों के समय छाया में मालिश कराएं।
  • प्रत्येक अंग पर कम से कम पांच मिनट तक मालिश अवश्य कराएं।
  • जिस हिस्से पर मालिश करानी है, वह हिस्सा साफ होना चाहिए।
  • चोट, घाव, फ्रैक्चर जैसी समस्याओं में भूलकर भी मालिश न कराएं।
  • बुखार इत्यादि जैसे रोगों से पीड़ित लोगों को मालिश नहीं करानी चाहिए।
  • प्रतिदिन संपूर्ण शरीर पर कम से कम10-20 मिनट तक ही मालिश करनी चाहिए।
  • यदि मालिश से कोई तकलीफ महसूस हो तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श लें।
Read More
इस दिवाली कोरोना से बचने के लिए लोगों को ध्यान रखनी होंगी ये बातें

Posted 24 May, 2022

इस दिवाली कोरोना से बचने के लिए लोगों को ध्यान रखनी होंगी ये बातें

 

इस बार की दिवाली हर बार की दिवाली से थोड़ा अलग होगी। जिसके दो सबसे बड़े कारण हैं-“कोरोना और वायु प्रदूषण”। जिससे आज सभी लोग प्रभावित हो रहे हैं। वैसे तो इस साल सभी त्योहार को कुछ अलग ढंग से माना गया है, ताकि कोरोना से बचा जा सके। पर इस दिवाली न सिर्फ लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना जरूरी है बल्कि बाहर से आने वाली मिठाइयों से भी दूरी बनाने की जरूरत है। क्योंकि अक्सर बड़े लोगों को उम्र बढ़ने के साथ कई बीमारियां लगना शुरू हो जाती हैं। मधुमेह और बीपी इन बीमारियों में से सबसे आम बीमारियां हैं।

 

आधुनिक रहन-सहन के कारण लगातार बढ़ता प्रदूषण अब लोगों की सेहत को खराब कर रहा है। इस प्रदूषित हवा में नाइट्रोजन ऑक्साइड और ओजोन को प्रभावित करने वाले खतरनाक कण हैं। जो महानगरों में रहने वाले लोगों को कई तरह की बिमारियां दे रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, डॉक्टरों का मानना है कि महानगरों में रहने वाले लोगों के फेफड़ों में सबसे ज्यादा संक्रमण होने की संभावना रहती है। क्योंकि प्रदूषण के कारण फेफड़ों के अंदर वायु प्रवाह कम हो जाता है। जिस कारण फेफड़ों के अंदर मकस बढ़ जाता है। जो फेफड़ों को बैक्टीरिया और वायरस को फिल्टर करने से रोकता है। ये वायु प्रदूषण आने वाले समय में फेफड़ों के कैंसर का कारण भी बन सकता है। इसलिए दिवाली के इस मौके पर हमें अपना और अपनों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है।

 

त्योहारों के समय डायबिटिक लोग बरतें सावधानी-

 

जो लोग बीपी या डायबिटीज जैसी बीमारियों से ग्रस्त हैं उनके लिए दिवाली का ये समय थोड़ा घातक साबित हो सकता है। क्योंकि कोरोना वायरस इन बीमारियों से पीड़ित लोगों को बड़ी तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहा है। अक्सर लोग त्योहारों पर बाहर की चीजें खाना अधिक पसंद करते हैं। इसलिए इन लोगों को अपने खानपान के साथ थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत है। ताकि ब्लड शुगर को बढ़ने से रोका जा सके।

 
कोरोना काल में त्योहार मनाते वक्त रहे सतर्क-
 

आने वाला सप्ताह दिवाली और भाई दूज जैसे त्योहारों का है। इसलिए इस कोरोना काल में थोड़ा ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि बाहर कोरोना के साथ तेजी से बढ़ता हुआ वायु प्रदूषण भी आपका इंतज़ार कर रहा है। इसलिए जितना संभव हो सके घर पर ही रहें और यदि बाहर जाना हो तो हमेशा सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें और मुंह पर मास्क जरूर लगाएं।

 
आखिर क्यों बढ़ता है त्योहारों के समय ब्लड शुगर-
 

एक मीडिया रिसर्च के अनुसार कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल के चीफ डायटिशन “पवित्रा एन राज” बताते हैं, कि दिवाली के समय लोग मिठाई, पकवान और शराब का अधिक सेवन कर लेते हैं। वहीं घर की महिलाएं दिवाली की तैयारियों को पूरा करते करते थककर स्ट्रेस में आ जाती हैं और समय पर भोजन नहीं ले पातीं। इस वजह से इन लोगों में हाइपोग्लाइसीमिया और कमजोरी के चलते ब्लड शुगर बढ़ जाता है।

 
दिवाली या अन्य त्योहारों के समय कैसे करें डायबिटीज से बचाव?
 
  • समय समय पर अपना ब्लड शुगर चेक करते रहें। क्योंकि त्योहारों के समय हम लोग रोजाना से हटकर थोड़ा अलग खाना पसंद करते हैं। इस वजह से ब्लड शुगर बढ़ने के  चांस अधिक होते हैं।
  • अनहेल्दी खाने से दूरी बनाए रखें।
  • ब्रेड- पकौड़ा जैसी चीजों को अपनी डाइट का हिस्सा न बनाएं।
  • केवल घर पर बनी मिठाइयों का सेवन करें। और इसमें चीनी की जगह गुड़ का इस्तेमाल करें।
  • एंजॉयमेंट के चक्कर में दवा लेना न भूलें।
  • इनके अतिरिक्त इन त्योहारों को खुशी के साथ मनाने के लिए हेल्दी नट्स जैसे अखरोट, काजू, बादाम आदि को अपने एंजॉयमेंट में शामिल करें।
  • दिवाली पर इन घरेलू उपायों को अपनाकर बचा जा सकता है प्रदूषण से;
 
तिल के तेल का प्रयोग करें-
 

लगभग 15 मिनट तक मुंह में एक चम्मच तिल का तेल डालकर कुछ समय बाद उसे उगल दें। ऐसा करके आप हानिकारक बैक्टीरिया को साफ कर सकते हैं। साथ ही मुंह के बाहर कई तरह की एलर्जी से लड़ने के लिए मौजूद श्लेष्म स्तर को भी मजबूत कर सकते हैं।

 
अभ्यंग तेल से मालिश करें-
 

अभ्यंग तेल से मालिश करने से हमारे त्वचा के अंदर मौजूद उन विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाया जा सकता है, जो त्वचा में चले जाते हैं। हमारे शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा दिलाने में अभ्यंग तेल रामबाण साबित होता है। अभ्यंग का तेल आपके शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है और आपको हमेशा ऊर्जावान रखने का काम करता है। आप ऑयल मसाज के लिए तिल के तेल या फिर किसी अन्य आयुर्वेदिक तेल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

 
धूपन का प्रयोग करें-
 

आप जड़ी-बूटियों को जलाकर उसका धुआं भी ले सकते हैं। इसके लिए आप गूगल, लोबान, शालाकी जैसी जड़ी-बूटीयों का इस्तेमाल कर सकते हैं। जड़ी-बूटियों को जलाकर इसके धुएं को सांस में लेने की प्रक्रिया को आयुर्वेद में धूपन कहा जाता है। इससे न केवल हवा शुद्ध होती है, बल्कि यह एक प्रभावी कीटाणुरोधक के रूप में भी काम करता है। गूगल और शालाकी जैसी जड़ी-बूटियां को कमरे में जलाकर रखने से आप अवसाद और चिंता जैसी समस्याओं से भी दूर हो सकते हैं।

 
स्वेदना-
 

शरीर से पसीना बहाने की प्रक्रिया को आयुर्वेद में स्वेदना कहा जाता है। सर्वांग (पूरा शरीर) को स्वेदना के माध्यम से जिसमें दशमूल जड़ी-बूटी (दस पौधों की जड़ें) का उपयोग किया जाता है। यह हमारे शरीर के अंदर मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर करने में मदद करता है। इसके अलावा आप फेशियल स्टीम का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप गर्म पानी में नीलगिरी ऑयल, तुलसी का तेल, चाय के पेड़ का तेल और कैरम के बीज को मिलाकर चेहरे पर भाप ले सकते हैं। 

 
नीम के पानी का प्रयोग करें-
 

नीम के पानी से त्वचा और बालों को धोकर त्वचा और श्लेष्म झिल्ली में फसे प्रदूषण को साफ किया जाता है।

 
लगाएं हरे पेड़-पौधे-
 

आयुर्वेद कहता है कि इस मौसम में हरे पेड़-पौधे सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। इसलिए हमें एलोवेरा, तुलसी, नीम, बांस, पीस लिली, अंग्रेजी आइवी, क्राइसेंथेमम, मनी-प्लांट जैसे पौधे अपने घरों में जरूर लगाने चाहिए। ये पौधे हवा को साफ करने में मदद करते हैं। इसके अलावा नीम और तुलसी जैसे पौधे कई बीमारियों में उपयोगी होते हैं।

 
डाइट का विशेष ध्यान रखे-
 

हमेशा ताजा पके हुए भोजन का सेवन करने की कोशिश करें। और अपने आहार (डाइट) में अदरक और कैरम के बीज को भी शामिल करें। श्वसन और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए तुलसी, पिप्पली, ट्रिफाला और घी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

 

इन बेसिक बातों को ध्यान में रखा जाए तो हम इस प्रदूषित कोरोना काल में भी खुशी-खुशी दिवाली और उसके साथ आने वाले त्योहारों को अच्छे से मना सकते हैं।

 
Read More
जानें क्यों मनाया जाता है धनतेरस, कौन है चार भुजाधारी भगवान धन्वंतरी

Posted 24 May, 2022

जानें क्यों मनाया जाता है धनतेरस, कौन है चार भुजाधारी भगवान धन्वंतरी

 

शास्त्रों के अनुसार धनतेरस का इतिहास है कि समुद्र मंथन के दौरान कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन भगवान धन्वंतरि अपने हाथों में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। माना जाता है कि भगवान धन्वंतरि विष्णु के अंशावतार हैं। संसार में चिकित्सा विज्ञान के विस्तार और प्रसार के लिए ही भगवान विष्णु ने धन्वंतरि का अवतार लिया था। भगवान धन्वंतरि के प्रकट होने के उपलक्ष्य में ही धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है।

 

मान्यता है कि उसके बाद से ही इस दिन धन्वंतरि ऋषि और यमराज का पूजने की प्रथा शुरू हुई। धनतेरस के दिन घर के टूटे-फूटे बर्तनों के बदले तांबे, पीतल या चांदी के नए बर्तन तथा आभूषण खरीदना शुभ माना जाता है। कुछ लोग नई झाड़ू खरीदकर उसकी पूजा करना भी इस दिन शुभ मानते हैं।

 

क्यों होती है धनतेरस पर भगवान धन्वंतरी की पूजा?

 

अच्छे स्वास्थ्य को ही सबसे बड़ा धन-संपदा माना जाता है। ऐसे में धनतेरस के पावन अवसर पर देवी लक्ष्मी और सोना-चांदी की पूजा करने के साथ भगवान धन्वंतरी की पूजा भी करनी चाहिए। क्योंकि भगवान धन्वंतरी को आयुर्वेद का जनक माना जाता है।

 

वर्तमान में धनतेरस को सिर्फ सोना-चांदी और बर्तन की खरीदारी तक ही सीमित कर दिया गया है। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि धनतेरस के दिन का स्वास्थ्य की दृष्टि से भी बड़ा महत्व है। क्योंकि इस दिन आयुर्वेद के जनक कहे जाने वाले भगवान धन्वन्तरी का जन्म हुआ था। इसलिए धनतेरस के दिन भगवान धन्वन्तरी की पूजा करके बेहतर स्वास्थ्य और निरोगी होने का आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है।

 

भगवान धन्वंतरि का जन्म;

 

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वंतरि का जन्म हुआ था। इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है। धन्वंतरि जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथों में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वंतरि चूंकि कलश लेकर प्रकट हुए थे, इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है। कहीं-कहीं लोकमान्यता के अनुसार यह भी कहा जाता है कि इस दिन धन (वस्तु) खरीदने से उसमें 13 गुणा वृद्धि होती है। इस अवसर पर धनिया के बीज खरीद कर भी लोग घर में रखते हैं। दीपावली के बाद इन बीजों को लोग अपने बाग-बगीचों में या खेतों में बोते हैं

 

चार भुजाधारी भगवान धन्वंतरि;

 

भगवान धन्वन्तरी चार भुजाधारी हैं। “इनके एक हाथ में आयुर्वेद ग्रंथ, एक हाथ में औषधि कलश, एक हाथ में जड़ी-बूटी और एक हाथ में शंख है।“ ये प्राणियों को आरोग्य प्रदान करते हैं, इसलिए धनतेरस पर सिर्फ धन प्राप्ति की कामना करने की बजाए, बेहतर स्वास्थ्य के लिए भगवान धन्वन्तरी की भी पूजा करनी चाहिए। आज इस महामारी और प्रदूषण के कारण तेजी से बढ़ रही बीमारियों को देखते हुए आधुनिक चिकित्सा पद्धति के साथ-साथ यदि आयुर्वेदिक प्रणाली को अपना लिया जाए तो बेहतर स्वास्थ्य हासिल किया जा सकता है।

 

मान्यता है भगवान धन्वंतरि की पूजा बढ़ाती है रोग प्रतिरोधक क्षमता;

 

धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा करने से न केवल अच्छा स्वास्थ्य मिलता है, बल्कि कई रोगों से छुटकारा भी पाया जा सकता है। इस दिन मन से भगवान धन्वंतरि की पूजा करें तो आयुर्वेद का लाभ मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि जिस व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो गई है और दवा का असर नहीं हो पाता, तो धन्वंतरि की विधिवत पूजा करने से लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

 

धनतेरस पर क्यों है ? बर्तन खरीदने की परंपरा;

 

शास्त्रों में, बर्तन खरीदने की परंपरा धनत्रयोदशी में धन शब्द को धन-संपत्ति और धन्वंतरि दोनों से जोड़कर देखा गया है। चूंकि उत्पत्ति के समय भगवान धन्वंतरि के हाथों में कलश था, इसलिए उनके प्राकट्य दिवस के मौके पर बर्तन खरीदने की परंपरा की शुरुआत हुई। इस दिन कुबेर की पूजा होने के अलावा सोने-चांदी के आभूषण भी खरीदे जाते हैं। और दीपावली की रात लक्ष्मी-गणेश की पूजा के लिए लोग उनकी मूर्तियां भी धनतेरस पर घर ले आते हैं।

 

आयुर्वेद है जीवन जीने की कला;

 

माना जाता है कि आयुर्वेद सिर्फ एक चिकित्सा पद्धति है। लेकिन असल में यह एक चिकित्सा पद्धति नहीं ही बल्कि स्वस्थ जीवन जीने की एक कला है। जिसे अच्छे से सीख-समझ लिया जाए तो ऐसा जीवन जीना भी संभव है, जिसमें न तो किसी डॉक्टर की जरूरत है और न ही किसी हॉस्पिटल की।

 

आयुर्वेद देता है खुशहाल और रोग मुक्त जीवन;

 

आयुर्वेद के अनुसार बताए गए खान-पान को अपनाने से एक खुशहाल और रोग मुक्त जीवन भी संभव है। आइए, जानते हैं कि आयुर्वेद के अनुसार, हमे किस तरह का भोजन करना चाहिए-

 
  • रात के समय हल्का भोजन करें। क्योंकि रात में ज्यादा भोजन करने से पेट भारी हो जाता है। इससे ऐसिडिटी और नींद न आने की समस्या हो जाती है। इसकी वजह से पाचन तंत्र के गड़बड़ होने की भी शिकायत सामने आती है। आयुर्वेद के अनुसार रात में हमें लो कार्बोहाईड्रेट वाला खाना ही खाना चाहिए, क्योंकि यह आसानी से पच जाता है।
  • आयुर्वेद के अनुसार रात में दही का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि रात में दही का सेवन शरीर में कफ की समस्या को बढ़ा सकता है, जिसकी वजह से नाक में बलगम के गठन की अधिकता पैदा हो सकती है।
  • यदि आप रात के वक्त दूध पीते हैं, तो हमेशा कम फैट वाला दूध ही पिएं। रात के वक्त कभी ठंडा दूध न पिएं, हमेशा दूध को उबाल कर पिएं। क्योंकि गरम और कम फैट वाला दूध जल्दी पचता है।
  • आयुर्वेद कहता है कि खाने में उन मसालों का प्रयोग करें जो सेहत के लिए अच्छे हों। ऐसा करने से शरीर में गर्माहट बढ़ेगी और भूख भी बनी रहेगी। भोजन में दालचीनी, सौंफ, मेथी और इलायची जैसे मसालों को शामिल कर सकते हैं। लेकिन रात के समय अधिक मिर्च-मसाले वाले स्पाइसी खाने से परहेज करें।
  • यदि  आप अपना वजन लूज करना चाहते हैं तो रात को हल्का खाना खाएं और अच्छे से चबा चबाकर खाएं। इससे आप हेल्दी भी रहेंगे और नींद भी अच्छी आएगी। आयुर्वेद बताता है रात में हमारा पाचन तंत्र थोड़ा निष्क्रिय होता है, जिससे शरीर के लिए भारी भोजन पचाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए ज्यादा खाने से अपच, गैस और कब्ज की समस्या हो सकती है।
  • आयुर्वेद में रात के समय प्रोटीन युक्त भोजन जैसे दाल, हरी सब्जियां, करी पत्ते और फल आदि को अच्छा बताया गया है। इससे शरीर का डाइजेशन सिस्टम काफी हल्का और हेल्दी रहता है।

वात-पित्त-कफ का न बिगड़े संतुलन-

 

आयुर्वेद के अनुसार, शरीर के तीन मुख्य तत्व वात (वायु), पित्त (यकृत में बनने वाला तरल पदार्थ) और कफ  होते हैं। शरीर में जब भी इन तत्वों का संतुलन बिगड़ता है तो व्यक्ति बीमार हो जाता है। इससे बचने के लिए हल्का और हेल्दी खाना खाने की सलाह दी जाती है। जो पोषक तत्वों से भरपूर होता है और जल्दी पचाता है। खाने में होने चाहिए सभी 6 रस

 

ओवरइटिंग से हमेशा बचें-

 

आयुर्वेद कहता है कि जब आपको भूख लगे तभी खाना खाना चाहिए। गैर जरूरी मंचिंग और ओवरइटिंग से हमेशा बचना चाहिए। तीनों समय का भोजन नियमित रूप से और नियत समय पर करना चाहिए। अगर इस बीच आपको भूख लगे तो फ्रूट्स और सलाद का सेवन करना चाहिए

 

भोजन में शामिल करें ये छ: रस-

 

आयुर्वेद के अनुसार, भोजन में छ: रस शामिल होने चाहिए। ये रस हैं- मधुर (मीठा), लवण (नमकीन), अम्ल (खट्टा), कटु (कड़वा), तिक्त (तीखा) और कषाय (कसैला)। आयुर्वेद कहता है हमें शरीर की प्रकृति के अनुसार ही भोजन करना चाहिए। इससे शरीर में पोषक तत्त्वों का असंतुलन नहीं होता।

 
Read More
क्या है गोवर्धन पूजा का त्योहार

Posted 24 May, 2022

क्या है गोवर्धन पूजा का त्योहार

दिवाली उत्सव के चौथे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है। पंचांग के अनुसार कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा करने का विधान है। इस दिन घर के आंगन में गोवर्धन को स्थापित करके विशेष रूप से गोवर्धन और गाय की पूजा की जाती है। इसके लिए पहले श्रद्धालुओं ने गोवर्धन की गोल आकृति निर्मित की थी। इसके बाद गोवर्धन भगवान का सिर व पैर निर्मित कर पूजन कार्य शुरू किया गया। आज आधुनिक युगकार शहरी क्षेत्र में यह प्रथा बेशक कम हो रही है। पर ग्रामीण क्षेत्रों में यह परंपरा आज भी कायम है।

 

क्यों की जाती है गोवर्धन पूजा?

 

गोवर्धन पूजा इसलिए की जाती है क्योंकि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने गोकुल वासियों को इंद्र के क्रोध से बचाया था। और उनके घमंड को दूर करने के लिए उन्होंने इंद्र की जगह पर गोवर्धन पर्वत की पूजा करने को कहा। क्योंकि श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी उंगली पर उठाकर गोकुल वासियों को मूसलाधार बारिश से बचाया था।

 

गोवर्धन पूजा की पौराणिक कथा-

 

इस पूजा के संबंध में जो कथा है उसमें पहले लोग बारिश के देवता इंद्र की पूजा करते थे। जिसपर भगवान श्रीकृष्ण ने लोगों से इंद्र की पूजा करने के बजाय गोवर्धन पर्वत की पूजा करने को कहा था।

 

भगवान कृष्ण ने लोगों को बताया कि गोवर्धन पर्वत से गोकुल वासियों को पशुओं के लिए चारा मिलता है। गोवर्धन पर्वत ही बादलों को रोककर वर्षा करवाता है, जिससे कृषि उन्नत होती है। इसलिए उन्हें गोवर्धन पर्वत की पूजा करनी चाहिए न कि इन्द्र देवता की।

 

इस बात को देवराज इन्द्र ने अपना अपमान समझा और गुस्से में आकर ब्रजवासियों पर मूसलाधार बारिश शुरू कर दी। तब भगवान श्री कृष्ण ने इंद्र का अभिमान चूर करने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी उंगली पर उठाकर संपूर्ण गोकुल वासियों की इंद्र के कोप (गुस्से) से रक्षा की थी।

 

आखिर क्यों होती है इस दिन गोबर की पूजा?

 

गोवर्धन पूजन के समय अक्सर लोगों के मन में एक जिज्ञासा बनी रहती है, कि इस पूजन में गोबर का प्रयोग क्यों किया जाता हैं अथार्त गोबर से ही क्यों गोवर्धन पर्वत बनाया जाता है ? जो लोग भारतीय परंपरा को रूढ़िवादी परंपरा मानते हैं, उन्हें पर्वों के पीछे के वैज्ञानिक महत्वों को जानना चाहिए। क्योंकि भारतीय संस्कृति में पूजा-पाठ और त्योहारों के पीछे कई वैज्ञानिक महत्व भी छिपे हुए हैं। दरअसल, वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर गोवर्धन का मतलब होता है- “गो संवर्धन” यानी गाय का संवर्धन। इसलिए इस विधि में गोबर की पूजा की जाती है।

 

गोवर्धन (गोबर) का वैज्ञानिक महत्व-

 

बारिश के मौसम में या बारिश के बाद कई तरह के कीड़े-मकोड़े और बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं। जो विभिन्न तरह की बीमारियों के जन्म देते हैं। ऐसे में गोबर एक जबरदस्त एंटी-बैक्टीरियल तत्व है। जो इन कीड़े-मकोड़ों को मारने का काम करता है। और विभिनिन रोगों के बैक्टीरिया को खत्म करता है। पुराने समय से ही माना जाता है कि घर के आंगन में गोबर की लिपाई-पुताई से कई रोगों का खात्मा हो जाता है। साथ ही इसकी महक को सर दर्द के लिए भी अच्छा बताया जाता है।

 

गाय के गोबर से बैक्टीरिया मर जाते हैं और गोमूत्र को आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल किया जाता है। इनसब कारणों से भी गोवर्धन की पूजा की जाती है। इस दिन गोबर से गोवर्धन पर्वत और भगवान श्रीकृष्ण बनाए जाते हैं। इससे घर के आंगन में शुद्धता आती है और हानिकारक बैक्टीरिया का खात्मा होता है। इसलिए गोवर्धन पूजा गोबर से करने का प्रावधान है।

 

गाय का गोबर है लक्ष्मी और अमृत तुल्य-

 

सनातन काल से गाय के गोबर को गौर, गणेश व गोवर्धन के रूप में पूजा जाता है। वेदों व शास्त्रों में भी गाय के गोबर को लक्ष्मी व अमृत तुल्य बताया गया है। कहा जाता है कि गाय में 33 करोड देवी देवताओं का वास होता है। आयुर्वेद में गाय के गोबर से कई प्रकार की औषधियां भी निर्मित की जाती हैं।

 

 गाय के गोबर से नहीं निकल पातीं रेडियम की किरणें-

 

वैज्ञानिक तौर पर यह भी कहा जाता है, कि जहां पर गाय के गोबर से लिपाई-पुताई होती है। उस जगह से रेडियम की किरणें भी पार नहीं हो पातीं।

 

पुराने समय में ग्रामीण क्षेत्रों में ग्वालों को गोवर्धन पूजन के दिन विशेष सम्मान दिया जाता था। क्योंकि भारतीय संस्कृति में गोबर को कभी संजीवनी बूटी से कम नहीं माना गया। इसलिए हम लोगों को पुरातन भारतीय संस्कृति से अभी भी जुड़े रहने की जरूरत है।

Read More
जानें, क्या है छठ का त्योहार और आयुर्वेद में इसका महत्व

Posted 24 May, 2022

जानें, क्या है छठ का त्योहार और आयुर्वेद में इसका महत्व

 

छठ का त्योहार

 

आस्था का त्योहार छठ को सूर्य पूजन का व्रत कहा जाता है। छठ का व्रत जीवन में सुख-समृद्ध‍ि की प्राप्ती और संतान व पति की मंगलकामना के लिए रखा जाता है। इसदिन लोग छठी मैया की पूजा करने के लिए पूजन सामग्री को एकत्रित करते हैं। छठ का यह त्योहार चार दिनों तक चलता है। जिसमें चारों दिन सूर्य की उपासना की जाती है और उनकी कृपा का वरदान मांगा जाता है। अन्य व्रतों की तरह इस व्रत की भी अपनी एक विशेष पूजा और प्रक्रिया होती है।

 

क्यों जरूरी है छठ पर सूर्य की पूजा?

 

आयुर्वेद के अनुसार सूर्य हमारे जीवन का महत्वपूर्ण अंग है। माना जाता है सूर्य हमारे अस्तित्व का आधार है। छठ पूजा में सूर्य को अर्घ्य देना (सूरज को देखते हुए जल चढ़ाना) जरूरी होता है। जो केवल सुबह और शाम के समय ही संभव हो सकता है। इसलिए यह त्योहार सूर्य के प्रति कृतज्ञता दर्शाने का दिन है।

 

पूजा के दौरान कब तक देखें सूर्य को?

 

इस पूजा के समय जब आप अपने हाथों में जल लेते हैं और जल धीरे-धीरे उंगलियों से निकल जाता है, तब तक सूर्य को देखना जरूरी होता है। आयुर्वेद के अनुसार सूर्य को देखने से शरीर को ऊर्जा मिलती है। इसलिए, छठ पूजा मुख्य रूप से सूर्य के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए की जाती है।

 

कब मनाया जाता है छठ का त्योहार?

 

छठ पूजा का त्योहार चार दिनों तक मनाया जाता है। यह कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से सप्तमी तक मनाया जाता है। इसकी शुरुआत नहाय-खाय से होती है। इसके बाद दूसरे दिन खरना और तीसरे दिन सूर्य षष्ठी का मुख्य पर्व होता है। इस दिन डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। सूर्य षष्ठी के बाद अगले दिन उगते सूरज को अर्घ्य दिया जाता है। जोकि इस त्योहार का अंतिम दिन होता है।

 

क्यों कहा जाता है इस त्योहार को छठ?

 

छठ पूजा का त्योहार पूरे भारत में मनाया जाता है। छठ पूजा को हिंदुओं का सूर्य देव की उपासना का सबसे प्रसिद्ध त्‍योहार माना जाता है। क्योंकि यह त्‍योहार षष्ठी तिथि पर मनाया जाता है, इसलिए इसे छठ या सूर्य षष्ठी व्रत बोला जाता है। छठी मैया के इस त्योहार को साल में दो बार मनाया जाता है। पहली बार चैत्र महीने में और दूसरी बार कार्तिक महीने में। हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र शुक्लपक्ष की षष्ठी पर मनाए जाने वाले इस त्‍योहार को चैती छठ कहा जाता है और कार्तिक शुक्लपक्ष की षष्ठी पर मनाए जाने वाले छठ त्‍योहार को कार्तिकी छठ कहा जाता है।

 

छठ महोत्सव का इतिहास

 
  • मान्यता है कि एक बार पांडव जुए में अपना सारा राज-पाट हार गए थे। तब पांडवों की दशा को देखते हुए द्रौपदी ने छठ का व्रत रखा था। जिसके बाद दौपद्री की सभी मनोकामनाएं पूरी हुई थीं। तभी से इस व्रत को रखने की प्रथा चली आ रही है।
  • परंपरा के अनुसार छठ त्योहार के व्रत को स्त्री और पुरुष समान रूप से रख सकते हैं। छठ पूजा की परंपरा और उसके महत्व का प्रतिपादन करने वाली पौराणिक और लोककथाओं के अनुसार यह त्योहार सर्वाधिक शुद्धता और पवित्रता का त्योहार माना जाता है।
  • छठ मैया का व्रत रखने से सूर्य भगवान खुश होते हैं। मान्यता के अनुसार लंका पर विजय प्राप्‍त करने के बाद रामराज्य की स्थापना के दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी यानी छठ के दिन भगवान राम और माता सीता ने व्रत रखा था और सूर्यदेव की आराधना की थी और सप्तमी को सूर्योदय के समय फिर से अनुष्ठान करके सूर्यदेव से आशीर्वाद लिया था।
  • मान्यता है कि माता सीता से स्वयंवर बाद भगवान राम जब आयोध्या लौटे थे तो उनका राज्य अभिषेक हुआ था। जिसके बाद उन्होंने पूरे विधान के साथ कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी को परिवार के साथ पूजा था। तभी से छठ मैया का व्रत रखा जाने लगा।

आयुर्वेद में छठ पूजा का महत्व

 

यह समय ऋतु के संधिकाल का होता है लिहाजा इस मौसम में तमाम तरह की व्याधियां (बीमारियां) भी मनुष्य को घेरती हैं। आयुर्वेद के अनुसार छठ पूजा के प्रसाद के रूप में चढ़ने वाले फलों की औषधीय महत्ता है। यह फल सभी मौसमी व्याधियों को काबू में रखते हैं। इसके अतिरिक्त छठ पूजा के समय व्रत रहने से शरीर की कोशिकाओं को ऊर्जा मिलती है। ऋतु परिवर्तन के दौरान इस धार्मिक अनुष्ठान में चढ़ने वाले फलों से स्वास्थ्य को संबल (सहारा) मिलता है।

 

पूजा के लिए प्रयोग होने वाले फल और प्रसाद का आयुर्वेदिक महत्व

 

छठ प्रकृति पर्व है। इस दौरान सूर्य भगवान की उपासना की जाती है। जो हमारी सेहत के साथ प्रकृति संरक्षण और संपन्‍नता के लिए भी आवश्यक है। सूर्य की उपासना करते समय लोग सूप में कई तरह के फल और घर में तैयार किया गया प्रसाद रखते हैं। आयुर्वेद में छठ के प्रसाद में चढ़ाई जाने वाली चीजों का संबंध मौसम परिवर्तन से होने वाली बीमारियों के बचाव से है। आयुर्वेद में अच्छे स्वास्थ्य के लिए छ: रस (मधुर, अम्ल, लवण, कटु, तीखा (तिक्त) एवं कसैला (कषाय) के सेवन का उल्लेख है। अथार्त इस पूजा में चढ़ने वाले सभी फलों में उक्त रस मिलते हैं, जो हमारे शरीर के लिए अति आवश्यक हैं।

 

आईए जानते हैं, छठ का प्रसाद और फल कैसे हमारी सेहत के लिए फायदेमंद हैं-

 
गन्ना–
 

गन्ने में कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन और मैग्नेशियम आदि पाए जाते हैं। इसके मधुर रस से पित्त का शमन होता। यह पाचनतंत्र ठीक रखने के साथ-साथ पेट में संक्रमण होने से भी बचाता है। यह वजन कम करने में भी मदद करता है।

 
सिंघाड़ा–
 

इसमें विटामिन-ए, विटामिन-सी, मैंगनीज, कर्बोहाईड्रेट, सिट्रिक एसिड, एमिलोज, फास्फोराइलेज, प्रोटीन, फैट और निकोटेनिक एसिड जैसे कई पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। सिंघाड़ा अस्थमा के मरीजों के लिए एक लाभदायक औषधि है। इसके मधुर रस से वात विकार (वायु संबंधी रोग) दूर होता है।

 
संतरा व अमड़ा–
 

ये दोनों अम्ल प्रधान फल हैं, जो पाचन क्रिया में सहायक होते हैं। संधिकाल में यह तमाम व्याधियों (बीमारियों) को नियंत्रित करने का काम करते हैं। इसके अतिरिक्त यह रक्तदोष तथा दर्द को कम करने में सहायक होते हैं।

 
केला-
 

छठी मैया को फलों में केला बेहद पसंद है। केला विष्णु भगवान का भी प्रिय फल माना जाता है। आयुर्वेद के अनुसार केले के सेवन से शरीर में आयरन की कमी धीरे-धीरे कम होती है। इससे एनीमिया की समस्या में भी सुधार होता है। केला पेट में होने वाली कब्ज की परेशानी से भी राहत देता है।

 
नारियल-
 

छठ पूजा में नारियल का बड़ा महत्व है। क्योंकि नारियल को लक्ष्मी माता का स्वरूप माना जाता है। इसी वजह से छठ पूजा में नारियल को अर्पित करना शुभ माना जाता है। नारियल गर्मियों में नकसीर (नाक से खून आना) की समस्या को दूर करता है। इसके सेवन से स्किन ऐलर्जी, मुंहासे दूर होते हैं। यह पेट के कीड़े मारे का काम करता है। साथ ही शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने का भी काम करता है।

 
चकोतरा/डाभ नींबू-
 

डाभ नींबू सामान्य नींबू से आकार में बड़ा होता है। यह ऊपर से पीला और अंदर से लाल होता है। इसका स्वाद खाने में खट्टा-मीठा होता है। मान्यता अनुसार डाभ नींबू छठ मैया का प्रिय फल है। यह फल विटमिन-सी से भरपूर होता है, जिस कारण यह तमाम तरह के संक्रमण से शरीर को बचाता है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी को भी बेहतर करता है।

 
सुपारी-
 

देवी लक्ष्मी के प्रभाव से पूजा के लिए सुपारी को बेहद शुभ माना जाता है।आयुर्वेद में कई रोगों के उपचार के लिए सुपारी का इस्तेमाल किया जाता है। इसका उपयोग एनीमिया, पाचन, कब्ज, दांत संबंधित समस्याओं और दर्द से राहत पाने के लिए किया जाता है।

 
अदरक–
 

अदरक खांसी, जुकाम और श्वास संबंधी रोगों के लिए रामबाण औषधि है। यह पेट की बीमारियों को ठीक करता है। यह जोड़ों के दर्द और गठिया में लाभ पहुंचाता है।

 
मूली–
 

मूली में फॉलिक एसिड, विटामिन- सी और एंथोकाइनिन जैसे गुण पाए जाते हैं। जो डायबिटिज को ठीक करने में मदद करता है। मूली का कटु (तीखा) रस सर्दी-जुकाम के प्रभाव को कम करता है।

 
ठेकुआ-
 

आटे, गुड़ और घी से बना ठेकुआ सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके सेवन से सर्दियों में होने वाली समस्‍याओं से बचा जा सकता है। आटे, गुड़ और घी से तैयार होने के कारण ठेकुआ इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करता हैं। यह सर्दी-जुकाम और ठंड से भी शरीर की रक्षा करता है।

 
चावल के लड्डू-
 

चावल बॉडी को हाइड्रेट रखता है। आयुर्वेदिक के अनुसार, चावल तत्काल उर्जा प्राप्त करने, बुढ़ापे की प्रक्रिया को धीमा करने और ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का काम करता है। इसके सेवन से पीलिया, बवासीर, उल्टी और दस्त जैसे कई रोगों को कम किया जा सकता है। चावल पचने में आसान होता है। यह पेट को ठण्डा रखता है। इसलिए छठ के अवसर पर चावल से बने लड्डू को हेल्‍दी माना जाता है।

 
कच्ची हल्दी–
 

हल्दी को औषधीय गुणों की खान माना जाता है। हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। आयुर्वेद में हल्दी को रक्त शोधन के लिए महत्वपूर्ण औषधि बताया गया है। हल्दी में तीखा व कसैला मिश्रण होता है, जिसके सेवन से रक्त शोधित होता है।

 
पकवान–
 

छठ पूजा में प्रसाद के रूप में ठेकुआ, खीर आदि का सेवन किया जाता है। व्रत के पश्चात शरीर को त्वरित उर्जा की जरूरत होती है, जो इस प्रकार के पकवानों से पूरी होती है।

 
Read More